Bua xxx story खेत में बुआ ने मेरा लंड चूसा 1 Bua Sex Story

खेत में बुआ ने मेरा लंड चूसा Bua xxx story

Bua xxx story: मेरे पड़ोस में हमारी काफी रिश्तेदार हैं. उनमें एक लगाकी जो मेरी हमउम्र थी और मेरी बुआ लगती थी, उसे मैंने चोदा. आप भी मजा लें मेरी बुआ की चुदाई कहानी का!

दोस्तो, MastHindiStory पर ये मेरी पहली सेक्स कहानी है बुआ की चुदाई की, इसलिए हो सकता है कि मुझसे कोई गलती हो जाए, प्लीज़ आप गलती को नजरअंदाज कर देना.

मेरा नाम रवि है और मेरी उम्र इसी साल 19 की हुई है. मैं लखनऊ का रहने वाला हूँ. मेरी किराने की दुकान है.

ये बात कुछ महीने पुरानी है. मेरे पड़ोस में एक लड़की रहती थी. उसका नाम हर्षी (बदला हुआ नाम) था. उसकी उम्र 22-23 साल की थी. वो दूर के रिश्ते में मेरी बुआ लगती थी. वो मुझसे बहुत मजाक करती थी.

एक दिन मैं अपनी पढ़ाई कर रहा था. वो मेरे घर पर आई और मेरे सामने वाली दीवार के पास आकर खड़ी हो गई. हर्षी दीवार के पास से मुझे देखने लगी.

दूसरे दिन वो मेरी दुकान पर आई और उसने मुझसे नमकीन मांगा. मैं उसे नमकीन देने लगा, तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और मजाक करने लगी.

मैंने सोचा कि इसके दिमाग में कुछ तो चल रहा है. मैं दुकान पर बैठ गया और सोचने लगा कि कहीं ये मुझसे चुदवाना तो नहीं चाहती है. ये सोचते ही मेरी सोच बदल गई और मेरा लंड खड़ा हो गया.

bua xxx story

कुछ दिन तक उससे होने वाले हंसी-मजाक को मैं अब दूसरे नजरिए से देखने लगा और जब मुझे लगा कि हां इसके दिमाग में कुछ चल रहा है, तब मैंने उसे एक लव लेटर लिख कर दे दिया.

जिस समय मैंने उसे लव लेटर दिया, उस समय वो मुस्कुराई. मुझे लगा कि ये राजी है. पर पता नहीं क्यों उसने उसका जवाब नहीं दिया और ना ही मुझसे दो तीन दिन तक मिली.

इससे मुझे कुछ घबराहट होने लगी कि कहीं मैंने गलत समझ कर तो उसे लव लेटर दे दिया. उस दिन काफी देर तक मुझे नींद ही नहीं आई. मैं उसके साथ हुए हर हंसी मजाक को फिर से अपने दिमाग में ध्यान करते हुए आकलन करने लगा. उसका हाथ से स्पर्श करना और कभी धीरे से अपने अंगूठे से मेरी हथेली को कुरेद देना. ये सब ऐसी बाते थीं जिससे मुझे उसकी चाहत समझ आ रही थी और उसी वजह से मैंने उसे चिट्ठी लिखी थी. फिर जैसे तैसे मैं सो गया.

दूसरे दिन मैं अपनी दुकान पर बैठा था कि उसके चाचा की बेटी रीमा (बदला हुआ नाम) मेरे दुकान में आई. रीमा और हर्षी दोनों की ही उम्र बराबर सी ही थी.

रीमा ने मेरी दुकान में आकर मुझे एक कागज दिया और कहा- ये सब क्या है? तुमने हर्षी को लेटर कैसे दिया? मैं उसके पापा से तुम्हारी शिकायत करूंगी.
उसकी बात सुनकर मेरी तो गांड फट कर हाथ में आ गई. मैं एकदम से बुत बना उसकी डांट सुनता रहा. मैं उससे अपनी गलती भी नहीं मना पाया.
वो पैर पटकते हुए चली गई.

फिर तीन दिन बाद की बात है. मैं अपने घर के पास खड़ा था कि मेरी ताई की लड़की यानि मेरी चचेरी बहन आई और उसने मुझे एक लेटर दिया.
मैंने उससे पूछा- ये क्या है?
उसने कहा- जो तुमने हर्षी को दिया था.

मैंने उससे वो लेने से मना कर दिया, पर वो मुझे जबरदस्ती दे कर चली गई.

एक मिनट के लिए तो मैं फिर से डर गया था. मगर बाद में मेरा दिल नहीं माना, तो मैंने उसे खोल कर देखा.

bua xxx story

उसे पढ़ कर मेरा दिमाग घूम गया. वो लेटर मुझे रीमा ने लिखा था कि मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं.

मैंने रीमा का लेटर देखा, तो मेरी खोपड़ी घूम गई. वैसे तो एक लड़की की चिट्ठी देख कर किसी भी लड़के का दिल पिघल जाना साधारण सी बात है, मगर उस दिन वाले रीमा के गुस्से से मेरी झांटें फ्यूज थीं, इसलिए मैंने गुस्से में रीमा का वो लेटर जला दिया.

फिर दूसरे दिन मेरी बहन आई और उसने रीमा के लेटर का मुझसे जवाब मांगा. तो मैंने कुछ भी कहने से मना कर दिया.
उसने कहा- ओके वो लेटर मुझे वापस दे दो.
पता नहीं क्यों … उस समय मेरे मुँह से निकल गया कि वो कहीं रख दिया है.
ये सुनकर वो चली गई.

बाद में मैंने सोचा कि चलो हर्षी ना सही, रीमा की तो चुत चोदने को मिलेगी.

फिर मैंने अपनी चचेरी बहन को बुलाया और उससे कहा कि ठीक है, मैं रीमा से दोस्ती करने के लिए राजी हूँ.
ये सुनकर वो मुस्कुरा कर चली गई.

शाम को मैं अपनी दुकान में बैठा पढ़ रहा था क्योंकि मेरे बोर्ड के एग्जाम चल रहे थे. तभी सामने से रीमा आई और उसने मुझसे घर की जरूरत का कुछ सामान मांगा.

मैंने उसे देखते हुए उसे सामान दे दिया. मैंने उससे कुछ कहा नहीं. क्योंकि मुझे अभी भी कुछ शक था.

वो मुस्कुराते हुए सामान लेने के लिए झुकी और मुझे अपने मम्मों दिखाते हुई बोली- क्या बात है … आजकल दिख नहीं रहे हो.
मैंने भी अपने लंड पर हाथ फेर कर कहा- तुम भी तो मिलने नहीं आ रही हो.
इस पर वो हंसने लगी … और चली गई.

उसके जाने के बाद मैंने दिमाग को झटका और मैं फिर से पढ़ने लगा.

थोड़ी देर बाद मेरी बहन आई और कहने लगी कि रीमा ने तुम्हें पीछे खेत में बुलाया है.

मैं खुश हो गया … मैंने अपनी बहन से ओके बोल दिया. तभी मेरा दोस्त मुकेश आ गया, तो मैंने उससे ये बात बताई. पर उससे रीमा का नाम नहीं बताया.

मुकेश ने कहा- साले अकेले अकेले मलाई खा रहा है.

bua xxx story


मैं हंसने लगा.

उसने कहा- चल जा … पर जाते समय अपनी दुकान से कंडोम लेकर जाना.
मैंने कहा- अबे पहली बार है … ऐसे ही डालूंगा.

ये कह कर मैं अपने खेत तरफ चला गया और मैं वहां उसका इंतजार करने लगा. मैं काफी देर तक खड़ा रहा. मगर वो साली आई ही नहीं. इससे मुझे बड़ा गुस्सा आया और मैं जाने लगा.
तभी मैंने देखा कि अपने घर के पास वो दोनों खड़ी खड़ी हंस रही थीं.
मैंने रीमा से डपटते हुए कहा कि मेरे एग्जाम चल रहे हैं … और तुम्हें मज़ाक की पड़ी है.
वो रुआंसी सी हो गई.

फिर अगले दिन मेरी बहन आई, उसने कहा- रात को 8 बजे उसने तुम्हें बुलाया है.
मैंने कहा- मेरे पास टाइम नहीं है.
उसने कहा- उसने अपनी कसम दी है. तुम जरूर आना.

ये सुनकर मैं खुश हो गया कि आज तो कि साली की चुत चोद कर ही रहूंगा. मैंने कहा कि ठीक है … कहां आना है?
वो कहने लगी कि उसके घर के पास पीछे वाले प्लाट में.

वो कह कर चली गई. मैं रात को 8 बजे तैयार हो गया और उसके घर के पास आ गया. आज वो समय से आ गई और मेरे पास खड़ी हो गई.

वो लेट्रिन जाने के बहाने आई थी, तो उसने मुझसे कहा कि क्यों बुलाया है?
मैंने कहा कि मैंने कहां बुलाया है? तुमने ही तो आने के लिए कहलवाया था.
इस पर वो कहने लगी- नहीं मैंने बुलाया था. मैं जा रही हूं.

ये कह कर वो जाने लगी. मेरा पहली बार का आमना सामना था, तो मुझे झिझक लग रही थी.

पर मैंने हिम्मत करके उसे रोका और कहा कि मेरे साथ चल … दो मिनट बाद चली जाना.
वो कहने लगी- कहा चलूँ?
मैंने दीवार की तरफ इशारा करके कहा कि उस तरफ.
इस पर वो समझ गई और हंसने लगी. फिर उसने कहा कि चलो.

bua xxx story

मैंने उसकी कमर पकड़ी और उसे उठाने लगा. इस कोशिश में मेरा लंड उसकी गांड में टच होने लगा. उसने जैसे ही मेरे लंड को महसूस किया, तो उसकी सिसकारियां निकलने लगीं.

मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?
वो बोली- तुम्हारा वो गड़ रहा था.
मैंने पूछा- क्या?
वो हंस दी और बोली- अब इतने भी भोले न बनो.

मैं उसे दीवार के उस पार किया और मैं भी जल्दी से उसी तरफ कूद गया.

मैंने उसे अपनी बांहों में भरा और चूमने लगा. वो भी गर्म थी और चुदने के मूड में ही दिख रही थी.

मैंने सलवार की तरफ हाथ बढ़ाया और कहा कि नाड़ा खोलो.
वो बोली- बड़ी तेज लगी है क्या?
मैंने कहा- तुझे न लगी हो, तो मत खोल.

वो हंस दी और मुझे आंख मारते हुए सलवार खोलने लगी. तब तक मैं उसके मम्मों को दबाने लगा. उसको मज़ा आने लगा था क्योंकि वो कामुक सिसकारियां लेने लगी थी. अब तक उसने अपना नाड़ा खोल दिया था और वो सलवार पकड़े खड़ी थी.

वो मुझसे कहने लगी- मेरा तो नाड़ा खुलवा दिया … अपना कब खोलोगे?
मैंने कहा- मैं क्या खोल दूँ?
वो कहने लगी- अपना वो दिखाओ.
मैं- क्या दिखाऊं?
मैं उसके मुँह से सुनना चाहता था … तो वो अपनी आंखों में वासना भरते हुए धीरे से बोली- अपना लंड निकालो.

मैंने भी उसकी चुत में हाथ लगाते हुए कहा- क्या करोगी मेरे लंड से?
वो बोली- साले जिधर हाथ लगा रहा है, उधर घुसवाना है.
मैंने कहा- मैं किधर हाथ लगा रहा हूँ. साफ़ साफ़ बोल न!
वो बोली- साले सता मत, अब जल्दी से मेरी चुत में अपना लंड पेल दे.

bua xxx story

मैंने हंस कर उसको चूमा और मैं अपना लंड निकालने लगा. उसने भी अपनी सलवार उतार कर एक तरफ रख दी थी.

मैं वहीं नीचे बैठ गया और उससे कहा- चल आ जा … लंड चूस दे मेरा.
वो लंड चूसने से मना करने लगी.
मैंने फिर से कहा- लंड चूसने में मजा आ जाएगा … चूस कर तो देख.

इस बार वो मान गई और मेरा लंड चूसने लगी. वो मेरे लंड को ऐसे चूस रही थी कि मुझे इससे ज्यादा आनन्द तो कभी मिला ही नहीं था.

kamvasna-story- Bua xxx story

मैंने उससे कहा- अब चित लेट जाओ.

वो घास पर ही लेटने लगी. मैं उसके मम्मों को दबाने लगा और साथ में उसके होंठ चूसने लगा. मैं उसके कुरते को उतारने लगा, वो मेरी टी-शर्ट उतारने लगी. कपड़े उतारते समय हम दोनों किस भी कर रहे थे. मैं धीरे धीरे अपने हाथ को उसके मम्मों से नीचे ले जा रहा था. मेरा हाथ जब उसकी चुत पर पहुंच गया, तो उसकी सीत्कार निकल गई.

मैंने अपनी दो उंगलियां उसकी चुत में डाल दीं, तो उसने कसमसा कर मेरा लंड पकड़ लिया और उसे दबाने लगी. उसकी चुत बड़ी गीली थी. फिर मैंने चुदाई की पोजीशन बनाई और उसकी टांगों के बीच में बैठ गया. मैंने अपना लंड पकड़ा और उसकी चुत में डालने लगा. मेरा लंड आराम से जाने लगा, तो मैं समझ गया कि ये मादरचोद खेली खाई लड़की है.

अब साली चुदी चुदाई हो या कुंवारी चुत हो … अपने को क्या करना था. अपने को तो सिर्फ चुत मारने से मतलब था.

bua xxx story

मैं चुत में लंड से धक्का लगाने लगा, तो उसने कहा- आराम से कर … जल्दी क्या है?
मैंने कहा- ठीक है … ले साली मजा ले. सोचा तो हर्षी को चोदूंगा, पर तू मिल गई.
वो मुझसे बोली- साले पहले मुझे तो ठंडा कर दे … हर्षी को बाद में खोल दियो.

मैंने कहा- हां तू तो साली खुली खुलाई मिली … जब तक खूनाखच्ची न हो तब तक चुदाई का मजा ही नहीं आता.
वो गांड उठाते हुए बोली- तो ठीक है, तुम हर्षी की में से खून निकाल लेना.
मैं उठा उठा कर लंड के धक्के देने लगा. मैंने उससे पूछा- तेरा खून किसने निकाला था?
वो हंस दी और बोली- तेरे दोस्त मुकेश ने!

उसका नाम सुनकर मेरी झांटें सुलग गईं. मेरी बुआ की चुदाई कर गया और अभी साला खुद ही मुझसे अकेले अकेले मलाई खाने की बात कह रहा था. वो तो अच्छा हुआ कि मैंने उसके सामने रीमा का नाम नहीं लिया था.
रीमा अपनी गांड उठा उठा कर मेरा साथ देने लगी.

पांच मिनट बाद ही रीमा कहने लगी- आह रवि … तेज कर … और तेज चोद..

मैं तेज रफ्तार से धक्के मारने लगा. थोड़ी ही देर में वो अकड़ने लगी और मुझे अपने लंड पर कुछ गीला गीला सा लगने लगा. मैं समझ गया कि इसकी मोमबत्ती पिघल गई है.

मैं उसकी चुत में धक्के देता रहा. मैंने कम से कम 20 मिनट तक उसको हचक कर चोदा. हमारी चुदाई ताबड़तोड़ चली थी. इस दौरान वो दो बार झड़ चुकी थी. अब मेरा भी काम होने वाला था. मैंने धक्के थोड़े तेज लगाने चालू कर दिए.

वो समझ गई और खुद भी गांड उठा कर मजे लेने लगी.
मैंने उससे कहा- मैं भी आने वाला हूँ.
उसने मेरी कमर को अपनी टांगों से कसते हुए कहा- हां … आजा … मेरे अन्दर ही बारिश कर दे.
मैंने चोट देते हुए कहा- अगर तुम्हें कुछ हो गया तो?
उसने कहा- तुम दवा मंगवा देना.
मैंने हंस कर कहा कि ठीक है.

bua xxx story

मैं आठ दस तेज धक्के मारता हुआ उसकी चुत के अन्दर ही झड़ गया. झड़ने के बाद मैं थोड़ी देर उसके ऊपर पड़ा रहा.

Bua xxx story

फिर मैंने उठते हुए उससे कहा- अब तुम जाओ … नहीं तो तुम्हारी मम्मी डांटेगी कि इतनी देर से कहां थी.

वह उठ चुकी थी. अपने कपड़े पहनते हुए कहने लगी- ठीक है. मैं जा रही हूं … तुम कल फिर से मिलना.
मैंने कहा- क्यों आज मुझसे ज्यादा मज़ा आ गया क्या … मुकेश का कमजोर था क्या?
उसने मेरी बात समझते हुए कहा कि हां … मैंने मुकेश से बहुत बार चुदवाया है … पर उसके साथ तुम्हारे जितना मज़ा कभी नहीं आया … आज से मैं तुम्हारी और तुम्हारे लंड की हो गई. जब चाहे चोदने को बुला लेना … जब चाहे चोद लेना … दौड़ती हुई आ जाउंगी.

उसकी इस बात से मुझे बहुत ज्यादा खुशी हुई. मैंने कहा कि ठीक है … अब जाओ जल्दी. साथ ही हर्षी की भी दिलाने की बात याद रखना.
उसने हंस कर हामी भर दी.

उसके बाद मैंने बहुत बार बुआ की चुदाई की … अब उसकी शादी हो गई.
मैं दूसरी बुआ की चुदाई की कहानी फिर कभी लिखूँगा.

आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी, आप मेरी ईमेल आईडी पर मेल करके जरूर बताना. मुझे अब इजाजत दें.
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

bua xxx story

Read in English

Bua xxx story: I have many relatives in my neighborhood. One of them was an attachment which was my age and seemed to be my aunt, I got it. You too enjoy my aunt’s story!

Friends, this is my first sex story on MastHindiStory to fuck aunt, so maybe I make a mistake, please ignore the mistake, bua xxx story.

My name is Ravi and I am 19 this year. I am a resident of Lucknow. I own a grocery store.

This thing is a few months old. There used to be a girl in my neighborhood. His name was Harshi (changed name). He was aged 22–23 years. She used to be my aunt in a distant relationship. She used to joke with me a lot.

One day I was doing my studies. She came to my house and stood near the wall in front of me. Harshi started looking at me from near the wall.

The next day she came to my shop and asked for salty from me. I started giving him salty, so he grabbed my hand and started joking.

I thought something was going on in his mind. I sat at the shop and started thinking that it does not want to fuck me. As soon as thinking this my thinking changed and my cock stood up.

bua xxx story
For a few days, I started to see the laughter and joke from him now, and when I felt that there was something going on in his mind, then I gave him a love letter.

The moment I gave her the love letter, she smiled. I thought it was agreeable. But do not know why he did not answer it and neither met me for two to three days, bua xxx story.

This made me nervous that if I misunderstood, I gave him the love letter. I could not sleep for long that day. I started assessing every laugh joke I had with him by meditating in my mind again. Touching it with his hand and ever gently rubbing my palm with my thumb. These things were such that I understood his desire and for that reason I wrote him a letter. Then somehow I fell asleep and bua xxx story.

The next day I was sitting at my shop that my uncle’s daughter Reema (name changed) came to my shop. Both Reema and Harshi were of the same age.

Reema came to my shop and gave me a paper and said – what is all this? How did you give letter to Harshi? I will complain to your father.
After listening to him, my ass burst and came in my hand. I kept listening to his scolding. I could not even convince him of my mistake.
She went on banging her feet.

Then it is three days later. I was standing near my house that my Tai girl i.e. my cousin sister came and gave me a letter.
I asked him – what is this?
He said – what you gave to Harshi.

I refused to take her from her, but she went away by forcing me, bua xxx story.

Then I was scared again for a minute. But later my heart did not agree, so I opened it.

bua xxx story
My mind wandered after reading it. That letter was written to me by Reema that I love you very much.

When I saw Reema’s letter, my skull turned around. Although it is normal for any boy to melt his heart after seeing a letter from a girl, but my flames were fused with Reema’s anger that day, so I burned Reema’s letter in anger.

Then the next day my sister came and asked for my reply to Reema’s letter. So I refused to say anything.
He said – Okay give me that letter back.
Don’t know why… at that time it came out of my mouth that it was kept somewhere.
Hearing this, she left, bua xxx story.

Later I thought that let’s not be happy, Reema will get Chodane.

Then I called my cousin and told her that okay, I agree to befriend Reema.
Hearing this, she smiled and went away.

In the evening I was sitting in my shop reading because my board examinations were going on. Then Reema came from the front and she asked me for some things needed for the house.

On seeing him, I gave him the goods. I did not say anything to him. Because I still had some doubts and bua xxx story.

She leaned over to get the smiling goods and said to me showing her Mmmm – what is the matter… do not see nowadays.
I also turned my hand on my cock and said – you are not coming to meet me.
At this she started laughing… and went away.

After that, I shocked my mind and I started reading again, bua xxx story.

After a while my sister came and started saying that Reema has called you back to the field.

I was happy… I said okay to my sister. Then my friend Mukesh came, so I told him this. But he did not tell Reema’s name.

Mukesh said- brother-in-law is eating cream alone.

bua xxx story

I started laughing

He said, “Chal ja …” While going to go take a condom from your shop.
I said – Abe is the first time… I will put it like this, bua xxx story.

After saying this, I went to my farm and I started waiting there. I stood there for a long time. But that sister did not come. This made me very angry and I started going.
Then I saw that both of them were laughing standing near their house.
I told Rima that my exams were going on… and you had to joke.
She became like a rouge and bua xxx story.

Then the next day my sister came, she said- she has called you at 8 o’clock at night.
I said – I do not have time.
He said- he has given his oath. You must come.

I was happy to hear that today, I will be able to fuck my sister in law. I said okay… where to come?
She started saying that in the back plot near her house.

She went away saying I got ready at 8 o’clock at night and came near her house. Today she came in time and stood up to me.

She came on the pretext of going to Letrin, so she asked me why have you called?
I said where have I called? You were the one who asked me to come.
On this she started to say – no, I had called. I am going and bua xxx story.

She started going after saying this. My first time was face to face, then I was hesitant.

But I dared to stop him and said that walk with me… leave after two minutes.
She started to say – Shall I go?
I pointed to the wall and said that on that side.
She understood this and started laughing. Then he said come on.

bua xxx story
I caught her waist and started lifting her. In this effort, my cock started touching her ass. As soon as he felt my cock, his henchmen started coming out, bua xxx story.

I asked him what happened?
She said – Yours was going wrong.
I asked what?
She laughed and said- Do not be so naive now.

I crossed it across the wall and I too quickly jumped on the same side.

I filled him in my arms and started kissing him. She was also hot and was looking in the mood for sex.

I extended my hand towards Salwar and said open the pulse.
That quote – Is it very fast?
I said – if you are not engaged, do not open.

She laughed and started opening the salwar, making me wink. By then, I started suppressing her mother. She was starting to enjoy it because she started taking erotic Siskaris. By now she had opened her pulse and she was standing holding salwar and bua xxx story.

She started to tell me – I got my pulse opened… When will you open mine?
I said – what should I open?
She started saying – Show yourself that.
What should I show?
I wanted to hear from his mouth… So while filling the lust in his eyes, he said softly – Take out your cock.

I too put my hand in her pussy and said – what will you do with my cock?
He said – Where is the brother-in-law putting his hand, he has to get there.
I said – where am I putting my hand? Speak clearly!
He said, “Don’t bother”, now quickly give your cock in my pussy.

bua xxx story
I smiled and kissed him and I started removing my cock. He too had removed his salwar and kept it aside.

I sat down there and said to him, come on… suck my cock.
She started sucking cocks.
I said again – I will enjoy sucking cocks…. bua xxx story.

This time she agreed and started sucking my cock. She was sucking my cock in such a way that I had never enjoyed more than this and bua xxx story.

I told him – now lie down.

She started lying on the grass. I started pressing her mums and sucking her lips together. I started removing her shirt, she started taking off my T-shirt. What were we both doing while taking clothes off. I was slowly taking my hand down from her mummies. When my hand reached her pussy, she was shocked.

I put my two fingers in her pussy, then she swore, grabbed my cock and started pressing it. His pussy was very wet. Then I made a position for fuck and sat in the middle of his legs. I grabbed my cock and started putting it in her pussy. My cock started going comfortably, so I understood that this madarchod is a girl, bua xxx story.

Now be it fuckin sister-in-law or virgin pussy… What was one to do? I only meant by licking.

bua xxx story
I started pushing with cocks in the pussy, so he said – do it easy… what is the hurry?
I said – Okay… take the fun. Thought I would fuck Harshi, but you got it.
She said to me – First let me cool down… Open Harshi later.

I said – yes, you got open openly… Unless you are very open, you do not enjoy sex.
She said while picking up the ass- Well, you take the blood out of Harshi’s.
I got up and started banging cocks. I asked him- who had extracted your blood?
She laughed and said – Your friend Mukesh!

Hearing his name, my flags were smoldered. Fucked my aunt and now brother-in-law himself was telling me to eat cream alone. It was good that I had not taken Reema’s name in front of her.
Reema lifted her ass and started supporting me, bua xxx story.

Five minutes later, Reema started saying – Ah Ravi… speeding up… and speeding up ..

I started pushing at high speed. In a short time, it started strutting and I felt something wet on my cock. I understood that its candle has melted.

I kept pushing into her pussy. I shook him for at least 20 minutes. Our fuck was gone. During this time, she had fallen twice. Now I was going to work too. I started to push a little faster.

She understood and also started enjoying herself by picking up her ass.
I told him – I am going to come too.
He tightened my waist with his legs and said- Yes… come… let me rain inside.
I said hurting- if anything happened to you?
He said- you get the medicine.
I laughed and said that’s fine.

bua xxx story
I got hit by eight ten sharp blows within his pussy. After the loss I lay on it for a while.

Then I got up and told him – now you go… otherwise your mother will scold you where she was for so long.

She was up She started wearing her clothes and said – Okay. I am going… see you again tomorrow.
I said – why did I have more fun today… Was Mukesh weak?
He understood my point and said that yes… I have fuck with Mukesh a lot of times… but I have never had as much fun with him… From today onwards, I became you and your cock. Whenever you want to call Chodane… whenever you want Chodane… I will come running, bua xxx story.

I was very happy with his talk. I said okay… now go soon. Also remember to talk about getting Harshi as well.
He agreed with a laugh, bua xxx story.

After that I kissed aunt many times… now she got married.
I will write the story of the second aunt’s fuck again.

How did you like my sex story, you must tell by mailing it to my email id. Allow me now
[email protected]

How did you like my true sex incident, tell me on Telegram, I will wait for your comment and message. Apart from this, you can also give your opinion by commenting on the story below.

Read More Hot Story-

छोटी बहन ने बड़े भाई से सील तुड़वाई | brother sister sex stories-sister hindi xxx

Mom fuck son story स्टेप मॉम की चुदाई xxx story Hindi me

sex stories bhai behan दीदी की चुदाई की तमन्ना भाई ने पूरी की

Leave a Comment