Follow my blog with BloglovinBhabhi ki chudai दोस्त की भाभी की ताबड़तोड़ चुदाई 1 Best story

Bhabhi ki chudai दोस्त की भाभी की ताबड़तोड़ चुदाई 1 Best story

दोस्त की भाभी की ताबड़तोड़ चुदाई Bhabhi ki chudai

Bhabhi ki chudai: मेरी मदद से मेरा दोस्त ने अपनी भाभी को भगा कर किराए के कमरे में रखा. मैंने दोस्त की भाभी की चुदाई कैसे की? पढ़ें इस हॉट रियल सेक्स स्टोरी में और मजा लें!

आज मैं आपको अपनी रियल सेक्स कहानी बताने जा रहा हूं. मेरा नाम तुषार है और मैं उत्तर प्रदेश के शामली का रहने वाला हूं.

मैं जो कहानी आपको बताने जा रहा हूं यह काल्पनिक नहीं है, यह मेरे जीवन से जुड़ी सत्य घटना है.

बात आज से 15 दिन पहले की है. मेरा दोस्त जिसका नाम रवीश जो एक कंपनी में ठेके पर कैंटीन चलाता है. मेरी और उसकी दोस्ती को लगभग 6 माह हो चुके हैं.
उसने मुझे बताया कि वह अपनी भाभी यानि अपने बड़े भाई की पत्नी को बहुत प्यार करता है और वह भी उससे बहुत प्यार करती है. हम दोनों के बीच कॉफी बार सेक्स भी हो चुका है.

परंतु यह बात उसके बड़े भाई को पता चल चुकी थी जिसकी वजह से उसके बड़े भाई और उसमें उसकी पत्नी को लेकर काफी झगड़ा भी हो चुका था.

माफ करना जिसकी यह कहानी है उसका नाम बताना तो मैं भूल ही गया. दोस्तो उस कमसिन हसीना का नाम मृदुला है. मृदुला देखने में बहुत खूबसूरत और जीरो फिगर … यूं कहिए कि धरती पर अप्सरा उतर कर आ गई हो. मैंने उसका फोटो अपने दोस्त रवीश के फोन में देखा था. मैं तब से ही उसका दीवाना हो गया था.

रवीश ने अपने और अपने भाई के झगड़े के बारे में मुझसे बताया. तब मैंने उनका फायदा उठाने की सोची. मैंने उसे राय दी कि वह अपने भाई की पत्नी को भगाकर ले आए, मैं उसकी पूरी सहायता करूंगा.
उसे यह नहीं पता था कि मैं उस सेक्स की देवी को खुद चोदना चाहता हूं.

मैंने उसे भरोसा दिलाया कि उसे घर से भगा कर ले आए और मैं उसे रूम दिला दूंगा.

bhabhi ki chudai

सब कुछ तैयारी होने के बाद वह अपने भाई की पत्नी को लेकर मेरे शहर शामली पहुंचा. मैंने उसे उसकी पत्नी हमारे लिए हुए कमरे पर छोड़कर वापस कंपनी जाने की सलाह दी ताकि कोई उस पर शक भी ना कर सके.

उसने ऐसा ही किया, वह अपने भाई की पत्नी को मेरे द्वारा लिए हुए कमरे पर छोड़ कर वापस अपनी कंपनी चला गया. मैंने उनकी जरूरतों का सारा सामान कमरे पर रखवा दिया था. मुझे रात को किसी प्रोग्राम में जाना था.

तभी मेरे पास रवीश का फोन आया कि मृदुला की तबीयत खराब है, तुम एक बार जाकर उसे देख लेना कि क्या दिक्कत है.

मुझे जिस प्रोग्राम में जाना था, वहां पर मैं बहाना बनाकर जल्दी से निकला.
तभी मैंने मृदुला को फोन किया- तबीयत कैसी है?
मृदुला ने कहा- मेरी तबीयत ठीक है. पर मुझे भूख लगी है.

मैंने रास्ते में उसके लिए खाने का कुछ सामान लिया और उसके घर की ओर चल दिया.

मैंने जाकर देखा तो मृदुला बहुत परेशान थी. लगभग 10:00 बज चुके थे मैंने उसे दिलासा दिलाई कि रवीश सुबह तक आ जाएगा, किसी तरह रात काट लो.

उसने मुझे अपने पास रुकने के लिए बोला. मैंने उसे कहा- घर पर मेरी वाइफ इंतजार कर रही है.
उसके काफी रिक्वेस्ट करने पर मैंने उसे कहा- 11:00 तक रुक सकता हूं.

उसने मुझे बताया कि उसके सर में काफी दर्द हो रहा है.
मैंने कहा- चलो मैं तुम्हारा सर दबा देता हूं.

मैंने धीरे-धीरे उसका सर दबाना शुरू किया. पर मैं भी मर्द था वह मेरे आगे लेटी हुई थी. जैसे-जैसे मैं उसका सर दबा रहा था वैसे वैसे मेरे लंड में तनाव आता जा रहा था.
मैं उसके बदन को घूर रहा था.

उसने इसका अहसास होते ही मुझसे बोला- क्यों घूर रहे हो मुझे? कभी कोई लड़की नहीं देखी क्या लेटी हुई?
मैंने कहा- लेटी हुई तो बहुत देखी हैं लेकिन रात में इतनी खूबसूरत और हसीन … वह भी अकेले में इतने पास से आज तक ना देखी, ना छुई!

bhabhi ki chudai

इतना सुनते ही जैसे उसने अपने यौवन पर इतराते हुए मेरी तरफ को अंगड़ाई ली. मेरी तरफ को अंगड़ाई लेने से उसकी गोरी गोरी चूचियां अब मेरे हाथों पर टच हो रही थी. ऐसा लग रहा था जैसे वह मुझे अपनी और आकर्षित कर रही थी.

उसके सांस लेने के साथ-साथ उसकी चुचियों का ऊपर नीचे होने का दृश्य मेरे अंदर वासना का सैलाब ला रहा था.

अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था. मैंने महसूस किया कि आग दोनों तरफ लगी थी.

यही देखने के लिए मैंने उसकी चुचियों पर अपना थोड़ा सा हाथ लगा दिया. उसने गुस्से में मेरा हाथ वहां से हटा दिया.
मैं गुस्से में उससे बोला- मैं जा रहा हूं.
और खड़ा होने लगा.

तभी उसने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी ओर खींच लिया. मैंने गिरने का बहाना कर सीधे ही उसके गोल गोल बूब्स को दबा दिया. उसका साइज 34-30-34 था. मैं उसके होंठों के काफी करीब था और अपने हाथ उसकी चुचियों पर रखे हुए थे.
मैं उसे बोला- अब टाइम ज्यादा हो गया है, मुझे चलना चाहिए. वैसे भी मुझे बहुत देर हो गई है, घर पर मेरी वाइफ मेरा इंतजार कर रही होगी. उसके बिना मुझे भी नींद नहीं आती और वह भी मेरे बिना करवटें बदलती रहती है.

मृदुला बोली- मैं तो बस कुछ देर और रुकने के लिए बोल रही हूं. मुझे अकेले में डर लगेगा. तुम्हारे साथ मेरा कुछ टाइम कट जाएगा.
मैंने मृदुला से कहा- तुम्हारा टाइम तो कट जाएगा पर मैं बैठे-बैठे थक गया हूं.
उसने मुझे इशारों में लेटने के लिए कहा और खुद भी पलंग पर पीछे नहीं हुई.

मैंने लेटते हुए उसकी चुचियों पर अनजान बनते हुए फिर से हाथ फेरा.
उसने मजाक में कहा- क्या करने का इरादा है आज? बार-बार दूसरे की पत्नी के बदन को छू रहे हो? और फिर अनजान बन जाते हो?

मैंने मजाक में कहा- तुम्हें किस करना चाहता हूं.
उसने भी मजाक में कह दिया- तो करो!
इतना कहते ही मैंने उसके होंठों को चूसना आरंभ कर दिया.

शायद उसे अंदाजा नहीं था कि मैं सच में उसे चूम लूंगा. मैं उसके होंठों को चूस रहा था अब वह भी मेरे होंठों को अपने होंठों के बीच में दबाने लगी और मुझे किस करने लगी. चूमने के साथ साथ अपने हाथ से मैं उसकी चूचियों को भी दबाने लगा जिससे वो और गर्म होकर मुझे बांहों में भरने लगी थी.

bhabhi ki chudai

अब मैं पूरे जोर से उसकी चुचियों को रगड़ रहा था. मेरा लंड पूरे तनाव में था.

मैंने दूसरे हाथ से उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया. उसने जरा सी भी आपत्ति नहीं की.

मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से ही हाथ फेर कर उसकी योनि का मुआयना किया. उसके कोई प्रतिक्रिया ना करने पर मेरे हिम्मत अब बढ़ चुकी थी. मैंने धीरे धीरे उसकी पैंटी को नीचे सरकाना शुरू किया.

अब मैं समझ चुका था कि यह मुझसे चुदवाना चाहती है.

मैंने उसकी योनि पर हाथ फेर कर देखा. उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था, ऐसा लग रहा था जैसे उसने मेरे लिए ही अभी-अभी शेव की हो.

उसकी चूत में मैंने अपनी एक अंगुली डाल दी. अंदर से वह भी गर्म होकर पानी छोड़ रही थी.

मेरे आगे सेक्सी माल पड़ा था वह भी अर्धनग्न हालत में … मैंने उसे इशारों में उठने को कहा और मैंने उसका शर्ट निकाल दिया. मेरे सामने अब वो सफेद ब्रा में थी.

उत्तेजना के कारण उसके दोनों दूध ब्रा को फाड़कर बाहर आने को बेताब हो रहे थे. मैंने देर न करते हुए जल्दी से पीछे से उसके दोनों ब्रा के हुक को खोलकर उसके दोनों दूधों को आजाद किया. उसकी दोनों चूचियां रात के अंधेरे में दूध की तरह चमक रही थी.

अब मैं उन्हें मुंह में लेकर जोर से चूसने लगा था. वह भी जोर जोर से सिसकारियां भरने लगी थी.

bhabhi ki chudai

उसकी सिसकारियों से मेरा लन्ड तन कर पैंट फाड़कर बाहर आने को बेताब था. मैं भी कब तक कंट्रोल करता … मैंने तुरंत अपनी पैंट निकाली.

मेरा 7 इंच लंबा लंड पूरे जोश में था. मैं उसे उसके होंठों के पास ले गया और इशारों से उसे मुंह में लेने के लिए बोला.
उसने मुंह में लेने से मना कर दिया. उसने कहा- आज तक मैंने रवीश का लंड भी मुंह में नहीं लिया है.

bhabhi ki chudai

मेरे कहने पर उसने मेरा लंड थोड़ा सा अपने मुंह में ले लिया. उधर मैं उसकी योनि में उंगली किए जा रहा था जिससे जोश में आकर अब वह मेरे लंड को आइसक्रीम की तरह चूसने लगी थी.

वासना उसके अंदर भी भर गई थी, अब सहन करना उसके भी बस में नहीं रह गया था. उसने मुझे खींच कर अपने ऊपर लेटा लिया और अपने हाथों से मेरा लंड अपनी चूत के अंदर डालने का प्रयास करने लगी.

मैं उसे अभी और तड़पाना चाहता था. मैं उठकर उसके दोनों मखमली जांघों के बीच में बैठकर उसकी जांघों पर हाथ फेरने लगा. मैंने उसके नीचे तकिया लगाकर उसकी योनि को और ऊपर किया जिससे मैं उसकी योनि का मुख्य पान कर सकूं.

ऐसा लग रहा था मेरे सामने 18 साल की लड़की गुलाब की पंखुड़ियों के जैसी अपनी योनि को खोले पड़ी हो. उसकी योनि का दाना गुलाबी रंग का था.

जैसे ही मैंने उस पर अपना मुंह रखा तो वह अपना दोनों हाथों से मेरा सिर पकड़ कर अपनी दोनों जांघों के बीच में दबाने लगी. मैं जैसे-जैसे उसकी योनि को चूस रहा था, वैसे वैसे वो और गर्म होकर अपनी योनि से सफेद पानी छोड़ रही थी.
वह अब तक एक बार झड़ चुकी थी.

अब मैं उसे तसल्ली से चोदना चाहता था. मैंने अपने लंड को अपने हाथ में रख कर उसके योनि के मुंह पर सटा कर धीरे धीरे अंदर करना शुरू किया. अंदर डालते समय मुझे ऐसा लगा जैसे मैं कुंवारी लड़की को चोद रहा हूं.

शायद उसका पति और देवर रवीश उसकी चोदाई ठीक से नहीं कर पाते थे. उसकी योनि बहुत टाइट थी. ऐसा लग ही नहीं रहा था कि मैं किसी के वाइफ को चोद रहा हूं. लंड अंदर डालते हुए उसको दर्द हो रहा था.

मैं उसके दोनों हाथों को साइड में अपने दोनों हाथों से पकड़कर उसके ऊपर लेट कर उसके होंठों को चूमने लगा. वह भी मेरा साथ दे रही थी. मैंने अपने होंठों में उसके होंठ दबाकर अपने लंड का आगे का हिस्सा उसकी योनि पर सेट कर एक जोर से धक्का मारा.

bhabhi ki chudai

अगर मेरे होंठ उसके होंठों ना होते तो वह बहुत जोर से चीखती जिससे उसकी आवाज मकान मालिक तक भी जा सकती थी.

मेरा लगभग 4 इंच लंड उसकी योनि में अंदर तक जा चुका था. उसकी आंखों में दर्द के मारे आंसू आ गए थे.

bhabhi-ki-chudai-real-sex-story-desi-bhabhi-sex bhabhi ki chudai

मैं धीरे-धीरे उसकी चूचियां दबाता रहा और साथ ही साथ उसके होंठों को भी चूसता रहा जिससे उसे कुछ राहत महसूस हुई. फिर मैंने अपने लंड को धीरे से अंदर बाहर करना शुरू किया.

अब उसकी योनि भी गर्म होकर धीरे-धीरे खुलने लगी थी. अब मैंने अपना पूरा लंड उसकी योनि में डालने का निश्चय किया. मैंने फिर से एक जोरदार धक्का मारा मेरा 7 इंच लंबा लंड अब उसकी चूत के अंदर था. उसका दर्द के मारे बुरा हाल था.

मैंने उसे बांहों में कस रखा था जिससे वह छुटने की पूरी कोशिश कर रही थी ताकि लंड को बाहर निकाल सके. मैंने उसे कसे हुए धीरे धीरे अपने लंड को अंदर बाहर करना जारी रखा जिससे कुछ ही देर में अब उस पर भी चुदाई का का नशा चढ़ने लगा था. वह भी मेरे धक्कों का जवाब धक्कों से दे रही थी.

मैंने उसे अलग-अलग पोजीशन में जमकर चोदा. लगभग आधे घंटे की चुदाई के बाद अब उसका शरीर जवाब देने लगा था. वह काफी थक गई थी, अब उससे सहन कर पाना मुश्किल हो रहा था.
लगभग 15 मिनट के चुदाई के बाद मैं भी झड़ कर उसी के ऊपर नग्न अवस्था में लेट गया.

मैंने उसका चेहरा देखा तो वह बहुत खुश और संतुष्ट थी. शायद उसकी ऐसी चुदाई आज तक उसके पति और रवीश ने भी नहीं की थी.

bhabhi ki chudai

तो दोस्तो, कैसे लगी मेरी पहली रियल सेक्स कहानी कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं.
और अगर किसी को अपनी कहानी लिखवानी है वह भी मुझे भेज सकता है.
आपका अपना तुषार
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा.

bhabhi ki chudai

Read in English

Dost ki Bhabhi ki chudai

Bhabhi ki chudai: With my help, my friend banished her sister-in-law and kept her in a rented room. How did I fuck a friend’s sister-in-law? Read and enjoy this Hot Real Sex Story!

Today I am going to tell you my real sex story. My name is Tushar and I am a resident of Shamli, Uttar Pradesh.

The story I am going to tell you is not imaginary, it is a true incident related to my life and bhabhi ki chudai.

It is 15 days before today. My friend named Ravish who runs a canteen on contract in a company. It has been almost 6 months since my friendship.
He told me that he loves his sister-in-law, his elder brother’s wife very much and she also loves him very much. We have also had coffee bar sex between us bhabhi ki chudai.

But this fact was known to his elder brother, due to which there was a lot of quarrel about his elder brother and his wife.

Sorry, I forgot to tell the name of the person who has this story. Friends, the name of that Kamsin Hasina is Mridula. Mridula is very beautiful and zero figure in view… Just say that the nymph has come down on earth. I saw her photo in my friend Ravish’s phone. I had become obsessed with him since then bhabhi ki chudai.

Ravish told me about his and his brother’s quarrel. Then I thought of taking advantage of them. I advised him to drive his brother’s wife away, I will help him fully and bhabhi ki chudai.
He did not know that I want to fuck the goddess of that sex myself.

I assured him to drive him away from home and I would give him room.

bhabhi ki chudai
After all the preparations, he took his brother’s wife to my city Shamli. I advised him to leave the room for his wife for us and go back to the company so that no one can doubt her.

He did the same, he left his brother’s wife in the room I took and went back to his company. I had kept all the needs of their needs on the room. I had to go to a program at night and bhabhi ki chudai.

Then I got a call from Ravish that Mridula’s health is bad, you should go once and see what is the problem.

I quickly got out of the program where I wanted to go.
That’s when I called Mridula – how is your health?
Mridula said – my health is fine. But I am hungry but bhabhi ki chudai.

On the way, I took some food items for her and walked towards her house.

I saw Mridula very upset. It was almost 10:00, I comforted him that Ravish would come by morning, somehow cut the night then bhabhi ki chudai.

He asked me to stay with him. I told him – my wife is waiting at home.
After requesting him a lot, I told him – I can stay till 11:00.

He told me that his head is aching.
I said – Let me press your head.

I slowly started pressing her head. But I was also a man, she was lying in front of me. As I was pressing his head, in the same way, tension was coming in my cock and bhabhi ki chudai.
I was staring at his body.

As soon as he realized this, he said to me – Why are you staring at me? Never seen any girl lying down?
I said – I have seen a lot lying down, but so beautiful and beautiful at night… I have not seen anyone so close to this day, nor touched!

bhabhi ki chudai
As soon as he heard this, he shook his face and stroked me. By taking my fingers, her white blondes were now touching my hands. It seemed like she was attracting me more.

Along with his breathing, the scene of his fingers being up and down was bringing a surge of lust in me like bhabhi ki chudai.

Now I was not going to stay I realized that the fire was on both sides.

To see this, I put my little hand on his fingers. He angrily removed my hand from there.
I said to him in anger – I am going.
And started standing up for bhabhi ki chudai.

Then he grabbed my hand and pulled it towards me. I pretended to fall and directly pressed her round bobs. His size was 34-30-34. I was very close to her lips and kept my hands on her fingers.
I told him – it is too much time, I should go. Anyway, it’s too late, my wife must be waiting for me at home. Without him, I also do not sleep and he also keeps turning to the bhabhi ki chudai.

Mridula said- I am just speaking for a while and stopping. I would be scared to be alone. I will spend some time with you, bhabhi ki chudai.
I told Mridula – your time will be cut, but I am tired of sitting.
He asked me to lie in the gestures and did not back down on the bed itself.

While lying down, I turned my hand again, becoming oblivious to her fingers, bhabhi ki chudai.
He jokingly said – what do you intend to do today? Are you repeatedly touching the body of another’s wife? And then you become ignorant?

I jokingly said- I want to kiss you.
He also joked – so do it!
As soon as I said this, I started sucking her lips, bhabhi ki chudai.

Perhaps he had no idea that I would really kiss him. I was sucking her lips, now she also started pressing my lips between her lips and started kissing me. Along with kissing, I started pressing her cunts with my hand, so that she was getting hot and filling me in the arms.

bhabhi ki chudai
Now I was rubbing her pussy very vigorously. My cock was in complete tension.

I opened the pulse of his salwar with the other hand. He did not object at all, bhabhi ki chudai.

I inspected her vagina by turning her hand over her panty. My courage was now increased when he did not react. I slowly moved her panties down, bhabhi ki chudai.

Now I understood that it wants to fuck me.

I looked at her vagina by turning her hand. There was not a single hair on her pussy, it seemed as if she had just shaved for me.

I put my finger in her pussy. From inside she was also getting hot and leaving water and bhabhi ki chudai.

I had sexy goods in front of me, even in half-baked condition… I asked him to get up in gestures and I removed his shirt. Now she was in white bra in front of me.

Due to the excitement, both her milk were desperate to tear the bra and come out. Without delay, I quickly opened the hook of both her bra from behind and liberated both her milk. Both her nipples were shining like milk in the dark of night to the bhabhi ki chudai.

Now I was sucking them vigorously with my mouth. She also started filling up with loud whispers. I was desperate to come out after tearing my pants from his sister. How long would I control… I immediately removed my pants and bhabhi ki chudai.

My 7 inch long cock was in full swing. I took her to her lips and gestured to take her in the mouth.
He refused to take it in his mouth. He said – till date I have not even taken Ravish’s cock in the mouth.

bhabhi ki chudai
At my behest, he took my cock in his mouth a little bit. On the other hand, I was being fingered in her vagina, due to which she was now sucking my cock like ice cream after getting excited.

Lust was also filled in him, now he was not able to bear it. He dragged me and lied on top of me and started trying to put my cock inside his pussy with his hands to the bhabhi ki chudai.

I just wanted to torture him more. I got up and sat between his two velvety thighs and started turning my hands on his thighs. I put a pillow under her and made her vagina up so that I can make her vagina’s main drink.

It seemed like an 18-year-old girl in front of me had opened her vagina like rose petals. Her vagina was pink in color in the bhabhi ki chudai.

As soon as I put my mouth on her, she grabbed my head with her two hands and started pressing between her two thighs. As I was sucking her vagina, she was getting hot and leaving white water from her vagina to the bhabhi ki chudai.
She had already fallen once.

Now I wanted to fuck her in peace. I kept my cock in my hand and started slowly inside it, with it on the mouth of her vagina. While putting in, I felt as if I am fucking a virgin girl and bhabhi ki chudai.

Perhaps her husband and brother-in-law Ravish could not properly fuck her. Her vagina was very tight. It did not seem that I am fucking anyone’s wife. He was in pain while putting cocks inside.

I grabbed both his hands in the side with my both hands and lay on top of him and started kissing his lips. She was also supporting me. I pressed her lips in my lips and set the front of my cock on her vagina and hit it with a loud push.

bhabhi ki chudai
Had my lips not been her lips, she would have screamed very loudly so that her voice could have reached the landlord as well.

About 4 inches of my cock had gone inside her vagina. He had tears in his eyes to the bhabhi ki chudai.

bhabhi-ki-chudai-real-sex-story-desi-bhabhi-sex
I kept pressing her boobs slowly as well as sucking her lips, which gave her some relief. Then I slowly started to lick my cock inside.

Now her vagina too started to open slowly. Now I decided to put all my cocks in her vagina. I again hit a vigorous push, my 7 inch long cock was now inside her pussy. He was in bad condition due to pain in bhabhi ki chudai.

I had kept her tight in my arms, so that she was trying her best to get rid of the cocks. I continued to tighten my cock inside her tightly, so that in a short time, the addiction of sex was starting to fall on her. She was also responding to my bumps with bumps.

I fuck her fiercely in different positions. After half an hour of fucking, his body was now responding. She was quite tired, now it was getting difficult to bear it.
After about 15 minutes of fucking, I also fell and lay naked on top of it.

When I saw her face, she was very happy and satisfied. Perhaps her husband and Ravish had not made such a fuck till date.

bhabhi ki chudai
So friends, how did you tell my first real sex story in the comment box.
And if someone wants to write his story, he can also send it to me.
Your own frost
[email protected]

Read More Chudai ki story-

सगी भाभी को चोदने का एहसास | devar bhabhi ki chudai – family sex story

नयी भाभी की गांड की सील तोड़ी | bhabhi ki sex story in hindi,bhabhi hindi story

भाभीजान की गांड मारकर गांड की खुजली दूर की | bhabhi ki xxx story

1 thought on “Bhabhi ki chudai दोस्त की भाभी की ताबड़तोड़ चुदाई 1 Best story”

Leave a Comment