Follow my blog with BloglovinSex with Auntie 1 अनजान आंटी और उनकी सहेली के साथ चुदाई fun

Sex with Auntie 1 अनजान आंटी और उनकी सहेली के साथ चुदाई fun

अनजान आंटी और उनकी सहेली के साथ चुदाई Sex with Auntie

Sex with Auntie: मैंने एक आंटी की मदद की उनका सामान उनके घर पहुंचाने में. उन्होंने मुझे अंदर बुला लिया. उनके घर में जाकर मैंने आंटी की चूत चुदाई की. ये सब कैसे हुआ? उनकी सहेली कैसे आयी?

दोस्तो, मेरा नाम अयाज़ है, मैं राजस्थान के अलवर जिले से हूँ. मेरी उम्र 25 वर्ष है, मेरे लंड का साइज़ साढ़े सात इंच है.

आज मैं यहां अपने जीवन की एक सच्ची सेक्स कहानी सुनाने जा रहा हूँ. ये कहानी मेरी और दो अनजान आंटियों के बीच हुई चुदाई की कहानी है, जिनसे में अचानक से ही मिला था.

ये बात गर्मियों के दिनों की है, मेरे कॉलेज की छुट्टियां चल रही थीं, तो मैं बिल्कुल फ्री था.

मैं एक दिन में रेलवे स्टेशन गया था, मेरा कोई पार्सल आया हुआ था. मैं उसे लेने के लिए जब उधर गया, तो मुझे पता चला कि मेरा पार्सल अभी तक आया नहीं है. मैं वापस अपने घर की तरफ जाने लगा. मेरा घर स्टेशन से थोड़ा दूर है, तो मैं टेम्पो का इंतज़ार कर रहा था.

अचानक से मैंने देखा तो एक आंटी सामने से आ रही थीं. उनके पास दो पार्सल थे. मैंने उन्हें देखा, तो सोचा कि उनकी मदद कर दूं. आंटी के हाथ में एक पार्सल तो छोटा सा ही था. मगर दूसरा पार्सल कुछ ज्यादा बड़ा था. मुझे समझ आ गया कि उसमें शायद कोई बड़ा आइटम है.

मैं आंटी के पास गया और उनसे कहा- हैलो आंटी … क्या मैं आपकी कोई हेल्प कर दूं?

आंटी ने मेरी तरफ देखा और कहा- हां शायद मैं इन दोनों को एक साथ नहीं ले जा सकती हूँ … ये बहुत भारी हैं.
मैंने कहा- कोई बात नहीं आंटी … मैं आपकी मदद कर देता हूँ. चलिए कहां चलना है?
आंटी ने कहा- उधर पार्किंग में मेरी कार खड़ी है. उधर तक ले चलो प्लीज़.

मैंने वो बड़ा वाला पार्सल उठाया और आंटी के साथ चलने लगा. आंटी ने साड़ी पहन रखी थी. आंटी की उम्र करीब 34 साल की थी, वो देखने में बहुत ही खूबसूरत थीं. उनका बदन पूरा भरा हुआ था.
आंटी ने चलते हुए मुझसे पूछा- तुम्हारा नाम क्या है?
मैंने कहा- मेरा नाम अयाज़ है.
वो बोलीं- क्या करते हो?
मैंने कहा- मैं कॉलेज में पढ़ता हूँ.
वो मुझे देखते हुए बोलीं- अच्छा.

फिर मैंने उनसे पूछा- आंटी आप कहां रहती हैं?
तो आंटी बोलीं- मैं एमजी कॉलोनी में रहती हूँ.
मैंने कहा- अच्छा … आप क्या करती हैं?
वो बोलीं- मेरा खुद का बिज़नेस है … मैं वो करती हूँ.
मैंने पूछा- कैसा बिज़नेस आंटी?
वो बोलीं कि मैं सिलाई करती हूँ और ऑनलाइन अपने प्रोडक्ट्स की सेल करती हूँ.

मैं उनकी मेहनत की मन ही मन तारीफ़ करने लगा.

ऐसे ही बात करते करते हम पार्किंग में आ गए. वहां आंटी की कार खड़ी थी.

मैंने उनकी कार में वो सामान रखा और उनसे कहा- अच्छा आंटी अब मैं चलता हूँ.
तो आंटी बोलीं- अरे बेटा … तुम मेरे साथ ही चलो न … तुम्हारा घर किस तरफ है?
मैंने उन्हें मेरे घर का पता बताया.

वो बोलीं- हां मैं उसी तरफ से तो जा रही हूँ … चलो बैठो … मैं तुम्हें छोड़ दूंगी.
मैंने कहा- ठीक है आंटी.

फिर इस तरह मैं आंटी की कार में बैठकर अपने घर तरफ जाने लगा. मैंने आंटी से पूछा- आंटी आपके घर में और कौन कौन है?

आंटी बोलीं- मैं अपने घर में अकेली ही रहती हूँ.
मैंने कहा- क्यों … आपके पति कहां हैं?
वो बोलीं- मेरा डाइवोर्स हो चुका है.
मैंने कहा- सॉरी आंटी … मुझे नहीं पता था.
आंटी बोलीं- कोई बात नहीं, इसमें तुम्हारी कोई गलती नहीं है.

अब जैसे ही आंटी ने बोला कि उनका डाइवोर्स हो चुका है, तो मेरे मन में उनका मस्त बदन घूमने लगा. मुझे लगा कि क्यों न आज इस आंटी को चोदा जाए. किसी तरह से आज ये आंटी एक रात के लिए मिल जाए, तो मज़ा आ जाए.

तभी अचानक से मेरे दिमाग में एक आईडिया आया.
मैंने आंटी से कहा- आंटी यहां तो मैंने ये पार्सल रखवा दिए हैं. लेकिन आपके घर पर तो आप अकेले ही हो … तो आप इन्हें कार से निकाल कर अन्दर कैसे रखोगी?

मेरी ये बात सुनकर आंटी बोलीं- हां ये तो है … क्या तुम मेरे साथ मेरे घर तक चल चलोगे? मैं तुम्हें वापस छोड़ने आ जाऊँगी. तुम्हें बस थोड़ी तकलीफ और होगी.

मुझे क्या था, मैं तो खुद यही चाहता था. मैंने बिना रुके आंटी से कहा- क्यों नहीं आंटी … आप चलिए मैं ये पार्सल आपके घर में रखवा दूंगा.

फिर वो आंटी सीधा मुझे अपने घर ले गईं. मैंने देखा कि उन आंटी का घर तो बहुत बड़ा था.

मैंने तारीफ़ करते हुए कहा- आंटी, आपका घर तो बहुत ही बड़ा और अच्छा है.
आंटी बोलीं- थैंक्यू … अब अन्दर चलो.
मैंने कहा- जी आंटी, चलिए.

फिर मैंने कार से वो पार्सल निकाले और आंटी के साथ अन्दर उनके घर में आ गया. उस वक्त घर में सिर्फ मैं और वो ही थे. मेरे दिल में तो लड्डू फूटने लगे थे. बस आंटी के राजी होने की देर थी.

फिर आंटी ने मुझे पार्सल को एक जगह रखने को कहा- अयाज, आओ यहां सोफे आ जाओ.
उन्होंने मुझे सोफे पर बैठने को कहा, तो मैं सोफे पर जाकर बैठ गया.

फिर वो आंटी अन्दर गईं और पानी लेकर आईं. आंटी ने मुझे पानी दिया और वो भी वहीं बैठ गईं.

मैंने पानी पिया और उनसे पूछा- आंटी आपने इन पार्सलों में ऐसा क्या मंगवाया है, ये इतना भारी क्यों है?

आंटी एक मिनट के लिए चुप हो गईं और मेरी तरफ देखकर कुछ सोचने लगीं.

मैंने फिर कहा- आंटी ऐसा क्या है इन पार्सलों में, जो आप इतना सोच रही हो?

आंटी ने बड़े वाले पार्सल की तरफ इशारा करते हुए कहा- इसमें मैंने इसमें टोस्टर मंगवाए हैं. इसमें दो टोस्टर हैं. एक मैंने मेरी फ्रेंड के लिए मंगवाया है. बस वो अभी लेने आएगी.

मैंने कहा- अच्छा और वो दूसरे वाले पार्सल में क्या है?
आंटी ने कहा- उसमें तो मैंने कुछ किताबें मंगवाई हैं … वो हैं.

मैंने ओके में सर हिला दिया.

फिर आंटी अन्दर चली गई थीं, तो मैंने आंटी को आवाज़ देकर पूछा- आंटी, क्या मैं ये पार्सल खोल कर टोस्टर देख लूं, कैसे हैं?
आंटी ने कहा- हां देख लो.

मैंने टोस्टर वाले पार्सल को खोलने की कोशिश की, लेकिन वो पार्सल नहीं खुला. क्योंकि उस पर मोटी टेप लगी हुई थी. बिना कैंची के खुलना सम्भव नहीं था.

फिर मैंने सोचा कि तब तक ये किताबें ही देख लूं … काहे की किताबें हैं. मैं उस दूसरे पार्सल को खोलने लगा. फिर जैसे ही मैंने वो पार्सल खोला और ऊपर वाली किताब का नाम देखा. उसका नाम देखकर मेरे होश उड़ गए. उस बुक पर चुदाई की कहानियां लिखा था. मैंने जैसे ही ये नाम पढ़ा, मुझे सब समझ आ गया कि आंटी पूरी तरह से चुदाई की भूखी हैं. अब मुझे ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं थी.

मैंने वहीं टेबल पर रखे पानी के जग से पानी गिलास में भरा और जानबूझ कर मैंने अपने पजामे पर पानी गिरा दिया.
पानी गिरते ही मैंने अपने मुँह से जोर की आवाज निकाली- ओह शिट.

मेरी आवाज सुनकर अचानक से आंटी बाहर आईं. उन्होंने देखा कि मेरे पजामे पर पानी गिर गया है.

उन्होंने मुझसे पूछा- अरे ये कैसे हो गया, तुम्हारा तो पूरा पजामा गीला हो गया.
मैंने कहा- आंटी हां पानी गिर गया … मगर कोई बात नहीं, अभी तो वैसे भी गर्मी है. कुछ देर में सूख जाएगा.

आंटी बोलीं- गर्मी है तो क्या हुआ, गीला पजामा थोड़ी पहने रहोगे.
मैंने कहा- तो क्या करूं?
आंटी बोलीं- अभी तुम थोड़ी देर तौलिया पहन लो … तब तक तुम्हारा पजामा भी सूख जाएगा.
मैंने कहा- नहीं आंटी रहने दीजिए. इसकी कोई जरूरत नहीं है.
आंटी बोलीं- अरे जरूरत कैसे नहीं है … तुमने मेरी इतनी हेल्प की है. मैं तुम्हारे लिए इतना तो कर ही सकती हूँ.

मैं तो पहले से ही रेडी था … तो मैंने कहा- ठीक है आंटी … आप बताइए बाथरूम कहां है, मैं जाकर तौलिया पहन लेता हूँ.
आंटी बोलीं- तौलिया पहनने के लिए बाथरूम में जाने की क्या जरूरत है, यहीं चेंज कर लो. मेरे सामने करने में कोई प्रॉब्लम है क्या?
मैंने कहा- आंटी लेकिन आपके सामने कैसे!
आंटी बोलीं- क्यों क्या तुम मेरे सामने तौलिया नहीं पहन सकते?
मैंने कहा- पहन तो सकता हूँ … लेकिन मुझे शर्म आएगी.
आंटी हंस कर बोलीं- इसमें क्या शर्माना … तुम कोई लड़की हो … कर लो यहीं चेंज.

फिर मैंने हंसते हुए आंटी की तरफ देखा और अपने पजामे को नीचे खींचकर उतारने लगा. मैं ये देख रहा था कि आंटी की नज़रें मेरे पजामे पर मेरे लौड़े पर ही जमी थीं.

मैंने धीरे धीरे करके पूरा पजामा उतार दिया और अंडरवियर में खड़ा हो गया. आंटी के सामने होने की वजह से मैं कब से उनके बारे में सोच रहा था, इसीलिए मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था. उधर आंटी भी मेरे खड़े लंड को देख रही थीं.

फिर मैंने आंटी के हाथ से तौलिया लिया और उसे पहन कर बैठ गया. आंटी की नजर मेरे ऊपर ही जमी थीं.

आंटी मुझसे पूछने लगीं- क्या तुम जिम जाते हो?
मैंने कहा- हां.
आंटी बोलीं- तभी इतना मस्त शरीर है तुम्हारा.
मैंने कहा- हां जी.

फिर आंटी की नजर दूसरे वाले पार्सल पर जा पड़ी. आंटी ने कहा- तुमने ये पार्सल क्यों खोला?
मैंने कहा- आंटी मैं तो बड़ा वाला ही खोल रहा था, लेकिन इसमें टेप लगी हुई थी … तो मैंने सोचा ये छोटा वाला ही खोलकर देख लूं.

आंटी ने मेरी तरफ देखकर हंसते हुए कहा कि ये किताब बस मैं यूं ही ले आई थी.
मैंने भी आंटी से कहा- आंटी कोई बात नहीं … मुझे पता है आप अकेली रहती हैं … और आपको भी ख़ुशी चाहिए होती है … इसलिए आप ये सब कर लेती हैं.

आंटी मेरी बात सुनकर हंसने लगीं. मैं भी समझ गया कि अब मेरा काम हो जाएगा.

मैं धीरे से आंटी के पास गया और मैंने आंटी से कहा- आंटी अगर आपकी इजाजत हो, तो आज मैं आपको खुशी दे दूं.

आंटी ने अचानक से ही मेरे करीब आते हुए मुझसे अपना जिस्म सटा दिया. अगले ही पल उनके मुलायम से होंठ मेरे होंठों पर आ जमे. मैंने भी आंटी का सपोर्ट करते हुए आंटी के होंठों को अपने होंठों से पकड़ लिया और उनके नीचे वाले होंठ को अपने दोनों होंठों के बीच में दबाकर चूसने लगा. आंटी के होंठ चूसते हुए ही मैंने उनकी साड़ी के ऊपर से ही उनके मम्मों पर अपने हाथ जमा दिए और मसलने लगा.

उनके 34 नाप के मम्मों को दबाने में मुझे इतना मज़ा आ रहा था कि क्या बताऊं.

फिर मैंने उनके होंठों को चूसते चूसते कहा- आंटी मैं आपका पूरा बदन चूसना चाहता हूँ.
आंटी बोलीं- हां जरूर … तुम जो करना चाहो … कर लो.

मैंने आंटी को अपनी गोद में उठाया और उनसे पूछा- बेडरूम किधर है?
उन्होंने कहा- सामने है.

मैं उन्हें बेडरूम में ले गया और उनकी साड़ी हटा कर उनको बेड पर लेटा दिया.

फिर मैंने कमरे का दरवाजा बंद कर दिया और उनके पास बेड पर चला गया. मैं उनके होंठों को चूसने लगा और चाटने लगा. वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थीं.

मैं आंटी को चूमते हुए अपने हाथों से उनके ब्लाउज के बटन खोलने लगा. मैंने धीरे धीरे ब्लाउज के सारे बटन खोल दिए और ब्लाउज को खोल दिया. उन्होंने अन्दर रेड कलर की ब्रा पहन रखी थी. मैंने लाल ब्रा के ऊपर से ही आंटी के मम्मों पर किस किया और प्यार से चूमते हुए अपनी जीभ से चाट लिया.

मैंने उनके ब्लाउज को पूरा निकाल दिया. उसके बाद मैंने नीचे से पेटीकोट को निकालना शुरू किया और धीरे धीरे पूरा पेटीकोट उतार दिया.

आंटी ने नीचे ब्लैक कलर की पेंटी पहनी थी. मैंने आंटी की पेंटी को बड़े प्यार से अपने हाथों से छुआ, तो आंटी के मुँह से एक जोर की सिसकारी निकल गई. ‘अह्हा … अयाज … उम्म्म्म..’

मैंने आंटी के सीने पर अपने होंठों को सीने रखकर किस करना शुरू कर दिया. मैं उनके मम्मों की नोकों की तरफ बढ़ने लगा.

मैंने आंटी को अपनी बांहों में लिया और पीछे हाथ डालकर उनकी ब्रा का हुक खोल दिया. आंटी कुछ भी नहीं बोल रही थीं … वो बस आंह आह … करके बेड पर पड़े मज़े ले रही थीं. मैंने ब्रा को खोल दिया और आंटी के मम्मों को चूसने लगा.

Anjaan Aunty aur unki sehli ki chudai Sex with Auntie

मैंने एक एक करके दोनों मम्मों को खूब अच्छे से चूसा. करीब 5 मिनट तक मम्मों की चुसाई के बाद आंटी पूरी गर्म हो चुकी थीं.

तभी अचानक मेरा फ़ोन बजा. मैं फोन सुना तो मुझे उस वक़्त कहीं अर्जेंट जाना पड़ रहा था.

जब आंटी को ये पता चला कि मुझे जाना पड़ेगा, तो आंटी भी उदास हो गईं. लेकिन मैंने आंटी को वापस आकर उनके एक एक अंग को चूस चूस कर मज़ा देने का वायदा किया.

मैंने आंटी से कहा- मैं बस अभी दस मिनट में आता हूँ.

फिर मैं आंटी के पास बेमन से उठ कर चला गया और जल्दी ही वापस भी आ गया.

जब मैं वापस आया, तो उनका घर खुला था. मैं बिना आवाज दिए अन्दर चला गया और कमरे में जाकर देखा, तो आंटी बेडरूम में नहीं थीं.

मैंने इधर उधर देखा, तो बाथरूम से पानी गिरने की आवाज़ आ रही थी. बाथरूम का दरवाजा हल्का खुला था. मैं वहां जाकर देखने लगा.

अन्दर का नजारा दंग कर देने वाला था क्योंकि मैंने देखा कि बाथरूम में आंटी और उनकी एक फ्रेंड थीं. शायद ये उनकी वही सहेली थीं, जिनके लिए उन्होंने टोस्टर मंगवाया था. आंटी अपनी उन्हीं सहेली के साथ बाथरूम में नंगी खड़ी थीं और वे दोनों एक दूसरे को बांहों में लेकर शॉवर के नीचे नहा रही थीं.

जब मैंने ये सीन देखा, तो मेरे लंड का हाल बुरा हो गया. कुछ देर में जब मुझसे नहीं रुका गया, तो मैंने अपना पजामा और अंडरवियर उतारा और अन्दर बाथरूम में घुस गया.

मैंने आंटी को पीछे से पकड़ लिया. आंटी ने अचानक से मुझे देखा और हंसते हुए मुझे किस कर दिया.
आंटी ने अपनी फ्रेंड से कहा- यही है वो … जिसके आने का मुझे इन्तजार था.

उनकी फ्रेंड ने मुझे देखा और फिर मेरे लंड की तरफ देखते हुए मेरे पास आ गईं. उन्होंने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और सहलाते हुए मुझे वासना से देखने लगीं.

आंटी ने भी मेरा लंड अभी ही देखा था तो आंटी के मुँह में भी पानी आ गया.

मैंने आंटी से कहा- लगता खुशियां बांटने के लिए हमारे साथ आपकी फ्रेंड भी शामिल हो गई हैं.
उनकी सहेली मेरे लंड को पकड़ कर बोली- अगर अयाज को हम दोनों की एक साथ लेना मंजूर हो, तो मज़ा आ जाएगा.
मैंने कहा- मुझे और मेरे लौड़े को मंजूर है.

मैंने वहीं पर नीचे झुककर बैठते हुए आंटी की चूत पर अपनी जीभ को रख दिया और आंटी के चुत की फांकों को चौड़ा करके अपनी जीभ अन्दर डाल दी. मैं आंटी की चुत चाटने लगा. ये सब करने से आंटी को तो मानो जन्नत जैसी फीलिंग आने लगी.

Anjaan Aunty aur unki sehli ki chudai Sex with Auntie

अब आंटी मादक सिसकारियां भर रही थीं. मुझे वो सीन इतना अधिक कामुक लग रहा था कि मैं आपको लिख कर बता ही नहीं सकता. आप खुद अपनी आंखें बंद करके उस सीन की कल्पना कर सकते हो.

जो भी पाठिकाएं मेरी इस सेक्स कहानी को पढ़ रही होंगी, उन सभी को तो ये बात समझने की जरूरत ही नहीं है कि चुत चटवाने में कितना मज़ा आता है. जिस वक्त कोई चुत को चौड़ा करके उसमें जीभ घुसाता है, तब चुत की आग कितना मजा देती है.

आंटी की चुत चुसाई का सीन देखकर पास में खड़ी आंटी की सहेली ने तो अपना होश ही दिया और वो मेरे बदन को पीछे से चाटने लगीं. मेरी कमर पर अपनी जीभ फेरने लगीं.

मैंने आंटी की चुत को करीब तीन मिनट तक चाटा. फिर मैं खड़ा हो गया और आंटी के मम्मों को दबाने लगा. मेरे सामने आंटी की सहेली भी आ गई थीं. मैं उनकी फ्रेंड के मम्मों को भी दबाने लगा. उनकी चूचियां मसलते हुए मैंने आंटी की सहेली हो ध्यान से देखा तो उनकी उम्र भी करीब 32 साल की ही थी.

वो भी मस्त फिगर वाली थी … बल्कि वो आंटी से भी ज्यादा सेक्सी थीं. उन्होंने मेरे सर को अपने मम्मों पर दबाते हुए मेरे कान में कहा- मेरी चुत भी चूसो न!

उसी तरह से मैंने आंटी की फ्रेंड की चुत को भी चाटा और दोनों मज़ा दिया.

मैंने अपने लंड को आंटी के मुँह में घुसाया और उनसे लंड चुसवाया. एक बार आंटी लंड को चूसतीं और एक बार उनकी सहेली मेरे लंड को चूसने लगतीं.

use

फिर मैंने कमरे में चलने के लिए कहा, तो वो दोनों बिस्तर पर गईं. मैंने पोजीशन बनाई और आंटी की चुत में लंड घुसा कर चोदना शुरू कर दिया. कुछ देर बाद उनकी सहेली भी चुत खोल कर लेट गई. तो मैंने आंटी की चुत से लंड निकाला और उनकी सहेली की चुत में पेल दिया. ऐसे ही मैंने बारी बारी से उन दोनों को करीब 30 मिनट तक चोदा.

अब तक आंटी दो बार और उनकी फ्रेंड एक बार झड़ चुकी थीं. फिर मैंने भी लंड बाहर झाड़ा, तो उन दोनों ने अपने मम्मों पर मेरे लंड रस को गिरवाया और लंड चूस कर साफ़ कर दिया.

मैं घर पर रात को आने की पक्का नहीं है, ऐसा कह कर आया था. इसलिए मुझे घर जाने की कोई चिंता नहीं थी. मैंने ऐसे ही उन दोनों पूरी रात अलग अलग आसनों में धकापेल चोदा. उस रात वो दोनों ही बहुत खुश हो गई थीं. बाद में मालूम हुआ कि आंटी की सहेली का भी तलाक हो चुका था और वो भी लंड की प्यासी थीं.

अब वो दोनों मुझसे खूब चुदवाती हैं और खुशियां पाती हैं. आपको मेरी ये सच्ची सेक्स कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करके बताएं. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं. और सेक्स विडियो और new कहानी पढने के लिये telegram ग्रुप join कर सकते है.मेरी ईमेल आईडी है
[email protected]

Anjaan Aunty aur unki sehli ki chudai Sex with Auntie

Read in English

Anjaan Aunty aur unki sehli ki chudai Sex with Auntie

Sex with Auntie: I helped an aunt to take their goods to their home. They called me inside. Going to his house, I fuck aunty’s pussy. How did all this happen? How did his friends come?

Friends, my name is Ayaz, I am from Alwar district of Rajasthan. I am 25 years old, my penis size is seven and a half inches.

Today I am going to tell a true sex story of my life here. This story is the story of sex between me and two unknown aunts, whom I met suddenly on Sex with Auntie.

This is about summer, my college holidays were going on, so I was absolutely free.

I went to the railway station in one day, I had a parcel. When I went there to get it, I came to know that my parcel had not arrived yet. I started going back to my house. My house is a little far from the station, so I was waiting for the tempo like Sex with Auntie.

Suddenly I saw an aunt coming from the front. He had two parcels. When I saw them, I thought I would help them. The aunt had only a small parcel in her hand. But the second parcel was much larger. I understood that there is probably a big item in it.

I went to the aunt and said to them – Hello aunt… should I help you?

Aunt looked at me and said- yes maybe I cannot take these two together… they are very heavy.
I said – Never mind aunt… I help you. Let’s go where?
Aunt said – My car is standing there in the parking lot. Please take it there on Sex with Auntie.

I picked up that big parcel and started walking with the aunt. Aunt was wearing a sari. Aunty was around 34 years old, she was very beautiful to see. His body was full.
The aunt asked me while walking – what is your name?
I said- My name is Ayaz on Sex with Auntie.
She said – what do you do?
I said – I study in college.
She said while looking at me – Okay.

Then I asked him – aunt where do you live?
So Auntie Bolin- I live in MG Colony.
I said – well… what do you do?
She said – I have my own business… I do that in Sex with Auntie.
I asked – what kind of business aunt?
She said that I do sewing and sell my products online.

I started appreciating his hard work.

While talking like this, we came to the parking lot. Aunt’s car was standing there.

I kept that stuff in his car and told him – OK aunt, now I go.
Then aunt said – Hey son… you come with me, don’t you… on which side is your house?
I told them my home address in Sex with Auntie.

She said- Yes, I am going from the same side… Come sit… I will leave you.
I said okay aunt.

Then in this way I sat in aunt’s car and started going to my house. I asked the aunt – who else is in your house?

Auntie Bolin- I live alone in my house for Sex with Auntie.
I said – why… where is your husband?
She said – I have been divorced.
I said sorry Sorry… I did not know.
Aunt Bolin- Never mind, it is not your fault.

Now as soon as the aunt said that they had been divorced, my mind started to roam in my mind. I thought why not fuck this aunt today. Somehow today, if you get this aunt for one night, then enjoy it in Sex with Auntie.

Then suddenly an idea came to my mind.
I told the aunt – aunt here, I have kept these parcels. But you are alone at your house… so how will you remove them from the car and keep them inside?

Hearing this, my aunt said – yes it is… will you walk with me to my house? I will come to leave you back. All you need is a little more trouble for Sex with Auntie.

What was it for me, I wanted it myself. I told the non-stop aunt – why not aunt… you go, I will keep this parcel in your house.

Then that aunt took me straight to her house. I saw that the aunt’s house was very big.

I praised and said – Aunty, your house is very big and nice.
Auntie Bolin- Thank you… Now go inside like Sex with Auntie.
I said – Aunty, let’s go.

Then I took out the parcel from the car and came inside with the aunt to her house. At that time there was only me and him in the house. Laddoos started bursting in my heart. It was just late for the aunt to agree the Sex with Auntie.

Then aunt told me to keep the parcel in one place- Ayaz, come here come the couch.
They asked me to sit on the couch, so I sat on the couch.

Sex with Auntie: I helped an aunt to take their goods to their home. They called me inside. Going to his house, I fuck aunty’s pussy. How did all this happen? How did his friends come then Sex with Auntie.

Friends, my name is Ayaz, I am from Alwar district of Rajasthan. I am 25 years old, my penis size is seven and a half inches.

Today I am going to tell a true sex story of my life here. This story is the story of sex between me and two unknown aunts, whom I met suddenly the Sex with Auntie.

This is about summer, my college holidays were going on, so I was absolutely free.

I went to the railway station in one day, I had a parcel. When I went there to get it, I came to know that my parcel had not arrived yet. I started going back to my house. My house is a little far from the station, so I was waiting for the tempo and enjoy Sex with Auntie.

Suddenly I saw an aunt coming from the front. He had two parcels. When I saw them, I thought I would help them. The aunt had only a small parcel in her hand. But the second parcel was much larger. I understood that there is probably a big item in it for Sex with Auntie.

I went to the aunt and said to them – Hello aunt… should I help you?

Aunt looked at me and said- yes maybe I cannot take these two together… they are very heavy.
I said – Never mind aunt… I help you. Let’s go where?
Aunt said – My car is standing there in the parking lot. Please take it there then Sex with Auntie.

I picked up that big parcel and started walking with the aunt. Aunt was wearing a sari. Aunty was around 34 years old, she was very beautiful to see. His body was full.
The aunt asked me while walking – what is your name?
I said- My name is Ayaz then Sex with Auntie.
She said – what do you do?
I said – I study in college.
She said while looking at me – Okay.

Then I asked him – aunt where do you live?
So Auntie Bolin- I live in MG Colony.
I said – well… what do you do?
She said – I have my own business… I do that Sex with Auntie.
I asked – what kind of business aunt?
She said that I do sewing and sell my products online.

I started appreciating his hard work.

While talking like this, we came to the parking lot. Aunt’s car was standing there.

I kept that stuff in his car and told him – OK aunt, now I go Sex with Auntie.
Then aunt said – Hey son… you come with me, don’t you… on which side is your house?
I told them my home address.

She said- Yes, I am going from the same side… Come sit… I will leave you.
I said okay aunt.

Then in this way I sat in aunt’s car and started going to my house. I asked the aunt – who else is in your house?

Auntie Bolin- I live alone in my house Sex with Auntie.
I said – why… where is your husband?
She said – I have been divorced.
I said sorry Sorry… I did not know.
Aunt Bolin- Never mind, it is not your fault.

Now as soon as the aunt said that they had been divorced, my mind started to roam in my mind. I thought why not fuck this aunt today. Somehow today, if you get this aunt for one night, then enjoy it the Sex with Auntie.

Then suddenly an idea came to my mind.
I told the aunt – aunt here, I have kept these parcels. But you are alone at your house… so how will you remove them from the car and keep them inside on Sex with Auntie.

Hearing this, my aunt said – yes it is… will you walk with me to my house? I will come to leave you back. All you need is a little more trouble.

What was it for me, I wanted it myself. I told the non-stop aunt – why not aunt… you go, I will keep this parcel in your house like Sex with Auntie.

Then that aunt took me straight to her house. I saw that the aunt’s house was very big.

I praised and said – Aunty, your house is very big and nice.
Auntie Bolin- Thank you… Now go inside.
I said – Aunty, let’s go for Sex with Auntie.

Then I took out the parcel from the car and came inside with the aunt to her house. At that time there was only me and him in the house. Laddoos started bursting in my heart. It was just late for the aunt to agree the Sex with Auntie.

Then aunt told me to keep the parcel in one place- Ayaz, come here come the couch.
They asked me to sit on the couch, so I sat on the couch….

The aunt suddenly came close to me and stole her body from me. The very next moment his soft lips came to my lips. Supporting the aunt, I also grabbed the lips of the aunt with my lips and pressed her bottom lip between her two lips and started sucking. While sucking the lips of the aunt, I put my hands on her mummies from the top of her sari and started mashing the Sex with Auntie.

I was having so much pleasure in suppressing their 34 size mumms, what can I say.

Then I said while sucking their lips – aunt I want to suck your whole body.
Auntie said- yes definitely… whatever you want to do… do it.

I lifted the aunt in my lap and asked him – where is the bedroom?
He said – is in front Sex with Auntie.

I took them to the bedroom and removed their saris and laid them on the bed.

Then I closed the door of the room and went to bed near them. I started sucking and licking their lips. She was also supporting me.

Kissing the aunt, I started to open the button of her blouse with my hands. I slowly opened all the blouse buttons and opened the blouse. She was wearing a red color bra inside. I kissed the aunt’s mumma from above the red bra and licked it with my tongue, kissing with love on Sex with Auntie.

I completely removed her blouse. After that I started removing the petticoat from the bottom and slowly removed the entire petticoat.

Aunt wore black colored panties below. I touched the aunt’s panty with my hands with great love, then a loud snot came out of the aunt’s mouth. ‘Ahha… Ayaz… Ummmm Sex with Auntie.

I started kissing by placing my lips on the chest of the aunt. I started moving towards his mummies.

I took the aunt in my arms and put her hands behind her and opened the hook of her bra. Auntie was not saying anything… she was just having ah… and having fun on the bed. I opened the bra and started sucking aunt’s mummies for Sex with Auntie.

I sucked both mums very well one by one. After kissing the mums for about 5 minutes, the aunt was completely hot.

Then suddenly my phone rang. When I heard the call, I had to go somewhere urgent at that time.

When the aunt came to know that I had to go, the aunt also became depressed. But I promised the aunt to come back and give fun to every one of them on Sex with Auntie.

I told the aunt – I just come in ten minutes.

Then I got up from the aunt with impassion and went back soon.

When I came back, his house was open. I went inside without giving voice and looked at the room, then aunt was not in the bedroom like Sex with Auntie.

When I looked here and there, there was a sound of water falling from the bathroom. The bathroom door was lightly open. I started going there.

The view inside was staggering as I saw that aunt and she had a friend in the bathroom. Perhaps she was his friend for whom he had ordered a toaster. Aunt was standing naked in the bathroom with her friend and both of them were taking bath in the shower with each other in their arms for Sex with Auntie.

When I saw this scene, the condition of my cock got bad. When I was not stopped in a while, I took off my pajamas and underwear and entered the bathroom inside.

I caught the aunt from behind. Aunt suddenly saw me and made me laugh.
Aunt told his friend – this is the one… I was waiting for and enjoy Sex with Auntie.

His friend saw me and then came towards me looking at my cock. He grabbed my cock with his hand and started looking at me with lust while caressing.

The aunt had also seen my cock now, so the aunt also got water in her mouth.

I told the aunt – Your friend has also joined us to share happiness the Sex with Auntie.
His friend grabbed my cock and said- If Ayaz accepts to take both of us together, then it will be fun.
I said – I and my Alore are approved.

I kept my tongue on the aunt’s pussy while sitting down there and widened the aunt’s pussy and put my tongue in it. I started licking aunty’s pussy. By doing all this, the aunt started feeling like a paradise the Sex with Auntie.

Now the aunt was filling the intoxicating liquor. I found that scene so erotic that I could not tell you by writing it. You can imagine that scene with your eyes closed.

All the girls who are reading this sex story of mine, all of them need not understand how much fun it is to chat. The moment someone widens the tongue and inserts the tongue in it, then how much fun does the fire make for Sex with Auntie.

Seeing the scene of Aunty’s Chut Chusai, the friend of the aunt standing nearby gave her senses and she started licking my body from behind. I started turning my tongue on my waist.

I licked the auntie’s pussy for about three minutes. Then I stood up and started suppressing the aunt’s mother. Aunt’s friend had also come in front of me on Sex with Auntie. I also started suppressing his friend’s mother. While watching her aunts, I am a friend of the aunt carefully, her age was also about 32 years old.

She was also a cool figure… rather she was more sexy than aunt. He pressed my head on his mother and said in my ear – don’t suck my pussy too!

In the same way, I also licked Auntie’s friend’s pussy and gave both fun like Sex with Auntie.

I inserted my cock in the aunt’s mouth and licked them. Once aunt used to suck cocks and once her friends started sucking my cock.

Then I asked to walk in the room, so both of them went to bed. I made a position and started licking the aunt’s pussy. After some time, his friend also opened her pussy and lay down. So I took the cocks out of Auntie’s pussy and put them in her friend’s pussy. Like this, I alternately fuck both of them for about 30 minutes for Sex with Auntie.

By now, aunt had fallen twice and her friend once. Then I dusted the cocks out, so both of them put my cocks juice on their mothers and cleaned them by sucking cocks.

I was not sure of coming home at night. So I didn’t worry about going home. I like them both night and night in different rugs. Both of them became very happy that night. Later it was learned that Auntie’s friend was also divorced and she was also thirsty for cocks about Sex with Auntie.

Now both of them kiss me a lot and get happiness. How did you like my true sex story, please tell me by mail. Apart from this, you can also give your opinion by commenting on the story below. And to read sex videos and new story telegram group can join. My email id is
[email protected]

Read more chudai story-

Kamuk Stories दोस्त की माँ की चुदाई का पर्म सुख 1 fun sex

Hindi saxy kahani मसाज कर 1 दोस्त की मम्मी को चोदा best sex

xxx kahani 1 मकान मालिकन आंटी की चूत और गांड चुदाई Sex Fun

Leave a Comment