Sister chudai stories गाँव वाले भाई से चुदाई 1 Best SexStory

गाँव वाले भाई से चुदाई Sister chudai stories

Sister chudai stories: बॉयफ्रेंड से चुदाई न होने के कारण मेरी सेक्स की प्यासी चूत में बहुत खुजली हो रही थी. मुझे गांव भाई के घर जाना पड़ा तो मेरी चूत की भाई से चुदाई हुई. कैसे?

अपनी नई सेक्स कहानी लेकर मैं एक बार फिर से हाजिर हूं. मैं रात में अपनी चूत में उंगली भी करती हूं. मेरी कोशिश रहती है कि कोई लंड मेरी चूत को चोदने के लिए मुझे मिल जाये. मुझे चुदाई करवाने का बहुत शौक है. यह शौक मुझे काफी पहले से लग गया था. इसलिए मैंने छोटी उम्र में ही चूत को चुदवाना शुरू कर दिया था.

आज जो मैं कहानी आप लोगों को बताने जा रही हूं वह कहानी मेरे गांव की कहानी है. हम लोग वैसे तो गांव के रहने वाले हैं लेकिन पिछले कई सालों हम लोग शहर में रह रहे हैं. मेरे गांव वाले घर में हम कभी कभी जाते हैं. वहां पर जो हमारा पुराना मकान है उस मकान की देखभाल करने के लिए मेरे एक भैया गांव में ही रहते हैं.

कई बार जब उनको काम पड़ता है तो वो हमारे घर आते हैं. वैसे तो मेरे भैया उम्र में मुझसे बड़े हैं लेकिन हम दोनों के बीच में दोस्ती के जैसा रिश्ता रहता था. वो मेरे साथ हंसी मजाक करते थे. मैं भी उनके साथ मस्ती करने लगती थी.

मेरा एक बॉयफ्रेंड भी है लेकिन मुझे नए लंड लेना बहुत पसंद है. मैं ब्लू फिल्म भी देखती हूं. मुझे ब्लू फिल्म देखने की आदत अपनी सहेली से लगी थी. मैं उसके साथ ब्लू देखते हुए अपनी चूत में उंगली करती हूं. कई बार वो रात को मेरे घर पर आ जाती है. हम दोनों अक्सर रात में नंगी फिल्में देखते हुए मजे लेती हैं.

अपने बॉयफ्रेंड के साथ भी मैंने कई बार सेक्सी वीडियो देखते हुए मजा लिया है. वो अपने फोन में मुझे नंगी फिल्म दिखा कर मुझे गर्म कर देता है. मुझे भी उसके साथ मजा आता है. वो रात भर मेरी चूत को चोदता है. मुझे उसके लंड से चुदना बहुत पसंद है.

Sister chudai stories

मगर पिछले कुछ दिनों से मेरे और मेरे बॉयफ्रेंड के बीच चुदाई नहीं हो पा रही थी. मैं लंड लेने के लिए तरस रही थी. मुझे रात में उंगली करते हुए ही काम चलाना पड़ रहा था. मैंने अपने बॉयफ्रेंड को सेक्स करने के लिए कहा लेकिन वो नाराज था. मेरी चूत प्यासी थी. मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि मैं अपनी चूत की प्यास को कहां पर जाकर शांत करूं.

कुछ दिन ऐेसे ही निकल गये थे. गर्मियों का मौसम था तो घर में सारे लोग दिन के समय में भी घर में ही रहते थे. मुझे अकेली को टाइम नहीं मिल पाता था. मैं किसी को चूत चुदवाने के लिए नहीं बुला सकती थी. मैं परेशान रहने लगी थी. बहुत दिनों से मेरा मन लंड लेने के लिए कर रहा था. मैं रात को ऐसे ही अपनी चूत में उंगली से सहला कर सो जाती थी. मगर लंड का मजा तो लंड से ही आ सकता था. उंगली से केवल मन बहला कर ज्यादा दिन तक काम नहीं चल सकता था.

फिर एक दिन हम लोग अपने गांव में जा रहे थे. उस समय गर्मियों के दिन थे. पूरा परिवार गांव में जाने की तैयारी कर रहा था. लेकिन मैं गांव नहीं जाना चाह रही थी. मेरी चूत तो पहले से ही प्यासी थी. मैं जानती थी कि अगर मैं गांव में गई तो मेरी चूत को बहुत दिनों तक लंड नहीं मिलेगा. इसलिए मैं यहीं पर शहर में रहना चाहती थी. मगर मेरे घर वाले नहीं माने. उनके डर से मुझे भी गांव जाना पड़ा.

हम गांव में पहुंचे तो पहले दिन हम लोग काफी थके हुए थे. जाने के बाद मेरे गांव वाले भैया से मैं मिली. हम दोनों में काफी सारी बातें हुईं. रात को हम लोग सो गये.

Sister chudai stories

गांव में रात में कई बार लाइट नहीं रहती थी. सब लोग रात में छत पर सोने के लिए जाते थे. मैं अपने भैया की बगल में ही सोती थी. उनकी शादी हो चुकी थी लेकिन भाभी अपने मायके में चली गई थी.
जब भी हम लोग गांव में जाते थे हम लोग साथ में ही सोते थे.

उस दिन रात को सोते हुए मेरा मन लंड लेने के लिए करने लगा था. मैंने देखा कि मेरे भैया मेरी बगल में सो रहे थे. मैंने चुपके से अपनी चूत में उंगली करना शुरू कर दिया. फिर मेरा ध्यान भैया की धोती पर गया. उनकी धोती में उनका लंड देखने का मन करने लगा. मगर मैं डर रही थी. इससे पहले मैंने ऐसा कभी नहीं किया था.

फिर धीरे से मैंने अपने हाथ को भैया की धोती पर रख दिया. भैया गहरी नींद में थे. मैंने उनकी धोती पर हाथ रख दिया. उनका लंड भी सो रहा था. मैंने उनके लंड को छू कर देखा तो मेरी चूत में खुजली होने लगी. मैंने उनके लंड को दबा कर देखा. मगर वो कोई हरकत नहीं कर रहे थे. मैं ज्यादा आगे नहीं बढ़ना चाह रही थी इसलिए मैंने वापस से हाथ को हटा लिया.

मेरी चूत गीली होने लगी थी. मैंने फिर आंख बंद कर ली और अपने बॉयफ्रेंड के लंड के बारे में सोचते हुए अपनी चूत में उंगली करने लगी. उस दिन भी मैं चूत में उंगली करते हुए चूत को शांत करने की कोशिश कर रही थी. मगर मेरी चूत में बहुत पानी आ रहा था. मैं लेटी हुई कसमसा रही थी. कुछ देर तक चूत में उंगली करने के बाद मैंने चूत को शांत कर दिया और फिर सो गयी.

अगले दिन फिर मैं भैया के साथ खेत में चली गयी. गांव के घर में मेरा मन नहीं लगता था. वहां पर मेरा टाइम पास नहीं हो रहा था इसलिए मैं भैया के साथ ही खेत में चली गई थी.

Sister chudai stories

वहां पर जाकर दोपहर को मुझे काफी गर्मी लगने लगी. वहां पर पास में ही एक तालाब बना हुआ था. मुझे बहुत गर्मी लग रही थी. मैंने सोचा कि गर्मी से बचने के लिए तालाब में नहा लेती हूं.

मैंने सूट और सलवार पहनी हुई थी. मैं कपड़ों के समेत ही तालाब के किनारे पर पानी में जाकर नहाने लगी. उसके बाद मैं कुछ देर तक पानी में रही और गर्मी में मजे लेती रही. फिर जब मैं नहा कर बाहर आई तो मेरे सूट में मेरी चूची उभर कर अलग से दिखाई दे रही थी. मैं भैया के पास गई तो मैंने देखा कि वो मेरी चूची को ध्यान से देख रहे थे. मैं समझ गई कि भैया के मन में मेरे लिए हवस भर रही है.

मगर उस दिन मैंने कुछ नहीं कहा. फिर दो-चार दिन ऐसे ही निकल गये. कई बार मैंने इस बात पर ध्यान दिया था कि भैया अब मेरी चूचियों को घूरते रहते थे.

एक दिन मैं खेत में भैया के साथ काम में लगी हुई थी. झुकने के कारण मेरी चूची अंदर तक दिखाई दे रही थी. भैया भी मेरे सूट में लटक रही मेरी चूचियों को देख रहे थे.

वो नजर बचा कर मेरी चूचियों को घूर रहे थे. मैंने भी जान बूझ कर उनको अपनी चूची के दर्शन करवाये. मैंने देखा कि भैया की नजरों में हवस थी. ऐेसा लग रहा था कि वो मेरी चूत को चोदने के लिए तैयार हैं. उसके बाद हम दोनों घर आ गये.

उस दिन मैं काफी थक गई थी. रात को हम दोनों छत पर सो रहे थे. उस दिन लाइट तो लेकिन हम दोनों छत पर ही सोते थे. रात को छत पर मेरे और भैया के अलावा कोई नहीं था. घर वालों को हम दोनों के बारे में सब पता था कि हम दोनों भाई-बहन खूब मस्ती करते हैं इसलिए किसी हम दोनों के एक साथ सोने से कोई दिक्कत नहीं होती थी.

Sister chudai stories

उस दिन मैंने भाभी की नाईटी पहनी हुई थी. मेरी नाईटी के अंदर से मैंने ब्रा और पैंटी भी नहीं पहनी हुई थी. गर्मी के कारण अक्सर मैं ब्रा और पैंटी नहीं पहनती थी. मुझे ऐसे ही सोने में ज्यादा आराम मिलता था. मैं थकी हुई थी तो जल्दी ही मुझे नींद भी आ गई.

मुझे नींद में कुछ महसूस हुआ. मुझे ऐसा लगा कि जैसे कोई मेरे चूचों पर हाथ रख कर उनको छेड़ने की कोशिश कर रहा है. मेरी नींद खुल गई लेकिन मैंने आंख नहीं खोली. मैंने पाया कि भैया का हाथ मेरी चूची पर था. मैं भी ऐसे ही सोने का नाटक करती रही. जब भैया को यकीन हो गया कि मैं गहरी नींद में हूं तो उन्होंने मेरी चूची को जोर से दबाना शुरू कर दिया.

Sister chudai stories

काफी देर तक वो मेरी चूची को दबाते रहे. फिर उनके हाथ मेरे निप्पल पर आकर उनको कचोटने लगे. वो अपनी उंगलियों के बीच में लेकर मेरे निप्पलों को मसलने लगे.

मैं भी गर्म होने लगी. निप्पल दबाने के कारण मुझे मजा आने लगा था. मगर खुद को किसी तरह कंट्रोल किये हुए थी. मेरी चूत में भी गीलापन आना शुरू हो गया था.

कुछ देर तक भैया मेरी चूची के निप्पलों को मसलते रहे. मेरे निप्पल तन कर कड़क हो गये. फिर भैया ने मेरी नाइटी में ऊपर से हाथ डाल दिया. उनके हाथ मेरी चूचियों पर पहुंच गये. भैया के हाथ काफी सख्त थे. उनके हाथ मेरी नर्म चूचियों को दबा रहे थे. मैं भी मजा ले रही थी. अब मुझे पहले से ज्यादा आनंद आ रहा था.

भैया ने मेरी बिना ब्रा वाली चूचियों को हाथ में भर कर कई मिनट तक दबाया उसके बाद भैया ने मेरी चूची को छोड़ दिया. मगर मैंने आंखें बंद ही रखीं.

Sister chudai stories

फिर भैया ने नीचे से मेरी नाइटी को उठा दिया. मेरी जांघें नंगी हो गईं. मैंने नीचे से पैंटी भी नहीं पहनी हुई थी. भैया के हाथ सीधा मेरी चूत पर जा लगे. मैं एकदम से सिहर गई और मैंने आंखें खोल दीं.

जब भैया ने देखा कि मैं जाग गई हूं तो उन्होंने अपना हाथ एकदम से हटाना चाहा लेकिन मैंने बीच में ही भैया का हाथ पकड़ लिया. उनके हाथ को पकड़ कर फिर से अपनी गीली चूत पर रखवा दिया और मुस्करा दी. भैया भी मेरा इशारा समझ गये. बस उसके बाद तो भैया जैसे मेरे ऊपर टूट ही पड़े.

वो जोर से मेरे होंठों को चूसने लगे. उनका पूरा शरीर मेरे शरीर के ऊपर था. मैं उनके भार से दबी जा रही थी. मगर मैं उनका पूरा साथ दे रही थी. उनके होंठों के रस को पी रही थी. भैया ने शायद रात में हुक्का पीया था जिसकी गंध उनके मुंह से आ रही थी.

काफी देर तक हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसते रहे. उसके बाद उन्होंने मेरी चूत को अपनी हथेली से रगड़ना शुरू कर दिया. मैं कसमसाने लगी. उनकी हथेली मेरी चूत पर ऊपर नीचे हो रही थी. कुछ पलों तक मेरी गीली चूत को मसलने के बाद भैया ने मेरी चूत में मुंह दे दिया. मैं पागल सी होने लगी.

वो जोर से मेरी चूत को चाटने लगे. मेरी टांगें अपने आप ही फैलने लगीं. उनकी जीभ तेजी से मेरी चूत पर चल रही थी. मैं मदहोश हुई जा रही थी. फिर भैया ने मेरी चूत में पूरी जीभ घुसा दी.

उनकी जीभ मेरी चूत में अंदर तक लगती हुई महसूस हो रही थी. जीभ काफी गर्म और गीली थी जो मुझे काफी मजा दे रही थी. मैंने भैया के मुंह को अपनी टांगों के बीच में भींच लिया था.

Sister chudai stories

कुछ देर तक वो मेरी चूत में जीभ लगा कर तेजी के साथ चूसते रहे. मैं तड़पती रही और वो मेरी चूत को चूसते रहे. जब मुझसे रहा न गया तो मैं बोली- बस करो भैया, अब रहा नहीं जा रहा.
भैया ने मेरी चूत से जीभ को निकाल लिया और अपनी धोती खोलने लगे. जैसे ही उन्होंने धोती खोली तो उनका लम्बा और काला सा लंड मेरी आंखों के सामने था.

मैंने नीचे झुक कर भैया के लंड को मुंह में ले लिया. उनके लंड को मैं मजा लेकर चूसने लगी. भैया के मुंह से सिसकारियां निकलने लगीं.

Sister chudai stories - xxx desi kahani - hindi saxy story

आह्ह सुनीता… तुम तो बहुत अच्छे तरीके से लंड को चूस रही हो. आह्ह … उफ्फ्फ … और जोर से चूसो मेरी चुदक्कड़ बहन.

मुझे बहुत दिनों के बाद लंड नसीब हुआ था, इसलिए मैं भी पूरी तबियत के साथ उनके लंड पर मुंह चला रही थीं. मैंने पांच मिनट तक भैया के लंड को चूसा और उनका लंड मेरी लार में एकदम गीला और चिकना हो गया. चांदनी रात की रौशनी में भैया का लंड चमकने लगा.

उसके बाद उन्होंने मुझे नीचे गिरा लिया. मेरी मैक्सी को ऊपर उठा दिया और मेरी चूचियों को पीने लगे. उनका लंड अब मेरी चूत के आस-पास भटक रहा था. कभी मेरी जांघ पर लग रहा था तो कभी मेरे पेट पर. मैंने भी भैया को बांहों में भर लिया. वो मेरे निप्पलों को दांतों से काटने लगे तो मैं जैसे पागल ही हो उठी.

मैंने भैया की गर्दन पर काट लिया. उनकी नंगी गांड को अपने हाथ से दबाने लगी. भैया समझ गये कि मैं अब कुछ ज्यादा ही गर्म हो गई हूं.

Sister chudai stories

उन्होंने अपने लंड पर थूक लगाया और मेरी टांगों को फैला दिया. अपना लंड मेरी चूत पर लगा दिया और मेरे ऊपर लेटते हुए मेरी चूत में लंड घुसाने लगे. उनका लंड मेरी चूत में उतरने लगा.

Sister chudai stories

धीरे धीरे करके भैया ने पूरा लंड मेरी चूत में उतार दिया. उनका मोटा लंड मेरी चूत में फंस गया. फिर उनसे भी रुका न गया और वो गचागच मेरी चूत को चोदने लगे. उन्होंने मेरी टांगों को उठा दिया और मेरी चूत में अपना लंड पेलने लगे.

मैं बोली- भैया, आप तो बहुत मस्त मजा देते हो. चूत चाट कर भी और अपने लंड से चुदाई का भी. आपने ये सब कहां से सीखा?
वो बोले- ये सब मैंने तेरी भाभी के कारण सीखा है. वो शहर की रहने वाली है. तेरी भाभी फोन में सेक्स वीडियो देखती है. मैं भी उसकी चुदाई सेक्स वीडियो देख कर ही करता हूं. मैंने ये सब वहीं से सीखा है.

फिर वो तेजी के साथ मेरी चूत में धक्के लगाने लगे. मैं दो मिनट के अंदर ही झड़ने लगी. मगर भैया अभी नहीं रुके. उन्होंने अगले पन्द्रह मिनट तक मेरी चूत को रगड़ा.

और फिर उनका वीर्य निकलने को हुआ तो उन्होंने पूछा कि कहां गिराना है.
मैंने कह दिया- आह्ह .. भैया, मेरी चूत में ही गिरा दो.

उसके बाद भैया ने तीन-चार जोर के धक्के मारे और मेरी चूत में झड़ने लगे. उन्होंने सारा वीर्य मेरी चूत में गिरा दिया. मुझे भैया का लंड लेकर बहुत मजा आया. उस रात भैया ने मेरी चूत दो बार चोदी. फिर अगली सुबह हम दोनों उठे तो मैं काफी फ्रेश फील कर रही थी.

Sister chudai stories

अगले दिन हम दोनों खेत में चले गये. अब तो हमारे बीच में कुछ भी छिपा न रह गया था. भैया ने खेत की कोठरी में जाकर भी मेरी चूत चोदी. उन्होंने वहां पर मेर चूत को चोदा तो मैं जोर जोर से चिल्लाते हुए मजे लेने लगी. जितना मजा खेत में चुदाई करवाने में आया वो घर में नहीं आया.

खेत में चुदाई के दौरान कोई भी आसपास नहीं था. किसी को आवाज भी सुनाई नहीं दे रही थी. मैं जोर से चिल्लाते हुए चूत में लंड को लेती रही. वहां पर भैया ने मेरी गांड भी चोदी. इससे पहले मुझे गांड चुदाई में भी इतना मजा नहीं आया था. मेरा बॉयफ्रेंड भी मेरी गांड चुदाई करने की कोशिश करता है मगर उसके साथ मुझे कभी मजा नहीं आया. भैया ने मेरी भाभी की गांड चुदाई भी बहुत की हुई थी. उनको लड़की की गांड चुदाई का अच्छा अनुभव था. मुझे भैया ने पूरा मजा दिया.

उसके बाद तो जितने दिन तक मैं गांव में रही, भैया के साथ खेत में जाकर अपनी चूत चुदवाती रही. एक बार तो हमने भरी दोपहरी में खुले में चुदाई भी की. उस दिन तो मैं पसीना पसीना हो गई. मगर मजा भी बहुत आया. अब भैया का लंड लेने की आदत सी हो गई थी मुझे. मगर उसके बाद हम लोग अपने घर शहर में आ गये. उसके बाद मुझे भैया का लंड लेने का दोबारा मौका नहीं मिल पाया है.

अगर मुझे भैया के साथ चुदाई का दोबारा मौका मिला तो मैं आप लोगों को जरूर बताऊंगी. अगर आपको मेरी कहानी के बारे में कुछ पूछना है तो मैंने अपनी मेल आइडी नीचे दी हुई है.

Sister chudai stories

आप मुझे मैसेज करके पूछ सकते हैं. मुझे इससे अपनी कहानी बताने में भी आसानी होती है. इसलिए मैं आप सब पाठकों से निवेदन करती हूं कि अपना कीमती फीडबैक जरूर दें.

मुझे आप सब की प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा. जल्दी ही मैं अपनी अगली कहानी लेकर लौटूंगी. तब तक के लिए आप सब Masthindistory पर सेक्स कहानियों का मजा लेते रहें.
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगी. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

Sister chudai stories

Read in English

Gaav wale bhai se chudai – Sister chudai stories

Sister chudai stories: I was very itchy in my thirsty pussy due to lack of sex with boyfriend. When I had to go to the village brother’s house, my pussy got fuck by my brother. how?

I am once again present with my new sex story. I also finger my pussy at night. I try to get some cocks to fuck my pussy. I am very fond of getting fuck. This hobby was started long back. That’s why I started fucking pussy at a young age then Sister chudai stories.

The story that I am going to tell you today is the story of my village. Although we are residents of the village, but for the last several years, we are living in the city. We go to my village house sometimes. One of my brothers lives in the village to take care of that old house there.

Many times when they have to work, they come to our house. Although my brother is older than me, but there was a kind of friendship between us. He used to laugh with me. I also used to have fun with him and Sister chudai stories.

I also have a boyfriend but I like to get new cocks. I also watch blue films. I used to watch blue film with my friend. I finger my pussy while watching blue with her. Many times she comes to my house at night. Both of us often enjoy watching naked movies at night the Sister chudai stories.

Sister chudai stories Along with my boyfriend, I have enjoyed watching sexy videos many times. He makes me hot by showing me a naked movie in his phone. I enjoy it too. He fuck my pussy overnight. I like to fuck with his cock.

Sister chudai stories
But for the last few days, there was no sex between me and my boyfriend. I was longing to get cocks. I had to work while doing finger work in the night. I asked my boyfriend to have sex but he was angry. My pussy was thirsty. I could not understand anything where I could calm my pussy thirst.

Some days had passed like this. It was the summer season, so all the people in the house used to stay in the house even during the day time. I alone could not get time. I could not call anyone to fuck me. I started getting worried. For a long time, my mind was trying to get cocks. I used to sleep like this with a finger in my pussy at night. But the fun of cocks could only come from cocks. With the help of a finger, work could not go on for long but Sister chudai stories.

Then one day we were going to our village. Those days were summer days. The whole family was preparing to go to the village. But I did not want to go to the village. My pussy was already thirsty. I knew that if I went to the village, my pussy would not get cocks for a long time. That’s why I wanted to live here in the city. But my family members do not agree. Due to their fear I also had to go to the village then Sister chudai stories.

When we reached the village, we were very tired on the first day. After leaving, I met my brother in law. A lot of things happened in both of us. We slept at night.

Sister chudai stories
There were no lights in the village many times during the night. Everybody used to go to sleep on the terrace at night. I used to sleep next to my brother. They were married, but sister-in-law had gone to her maternal home then Sister chudai stories.
Whenever we used to go to the village, we used to sleep together.

Sleeping at night that day, I started to feel like taking cocks. I saw my brother sleeping next to me. I secretly started fingering my pussy. Then my attention went to brother’s dhoti. Wanted to see his cock in his dhoti. But I was afraid. I had never done this before Sister chudai stories.

Then slowly I put my hand on the brother’s dhoti. Brother was fast asleep. I laid my hand on his dhoti. His cock was also sleeping. When I touched his cock, my pussy started itching. I tried to press his cock. But he was not doing any action. I did not want to move much, so I removed the hand from back and Sister chudai stories.

My pussy was getting wet. I then closed my eyes and began to finger my pussy while thinking about my boyfriend’s cock. That day too, I was trying to calm the pussy while finger in pussy. But there was a lot of water in my pussy. I was swearing lying down. After finger for some time in the pussy, I calmed the pussy and then fell asleep and Sister chudai stories.

The next day again I went to the farm with my brother. I did not feel like in the village house. My time was not passing there, so I went to the field with my brother.

Sister chudai stories
Going there I started feeling very hot in the afternoon. A pond was built nearby. I was feeling very hot. I thought that I would take a bath in the pond to escape the heat.

I was wearing a suit and a salwar. I started bathing in water on the banks of the pond along with clothes. After that I stayed in the water for a while and kept enjoying in the summer. Then when I came out taking a shower, my teat in my suit emerged and was seen separately. When I went to brother, I saw that he was watching my nipple carefully. I understood that brother’s heart is filling me with lust for Sister chudai stories.

But I did not say anything that day. Then two or four days passed like this. Many times I had noticed that brother now used to stare at my pussy and enjoy Sister chudai stories.

One day I was working with my brother in the field. My teat was visible inside due to bending. Brother too was looking at my Tits in my suit.

He was staring at my Tits after saving eyes. I deliberately got them to see my nipple. I saw that brother was in the eyes. It seemed that she was ready to fuck my pussy. After that we both came home and enjoy Sister chudai stories.

I was very tired that day. We were both sleeping on the terrace at night. Light that day but both of us used to sleep on the terrace. There was no one but me and brother on the terrace at night. The family members knew all about both of us that both of us brothers and sisters have a lot of fun, so there was no problem in sleeping with both of us.

Sister chudai stories
That day, I was wearing a sister-in-law. I was not even wearing a bra or panty from inside my night. Often I did not wear bra and panty due to the heat. I used to get more rest in sleeping like this. When I was tired, I soon fell asleep.

I felt something in my sleep. I felt as if someone is trying to tease them by placing their hands on my tits. I woke up but I did not open my eyes. I found that brother’s hand was on my nipple. I kept pretending to sleep like this. When Bhaiya became convinced that I was fast asleep, she started pressing my nipple hard like Sister chudai stories.

He kept pressing my tit for a long time. Then his hands came on my nipple and started to squeeze them. He started rubbing my nipples between his fingers.

I started getting hot too. I started having fun due to pressing the nipple. But somehow she was controlled. Wetting started in my pussy too but Sister chudai stories.

Brother for some time kept rubbing my nipple nipples. My nipples tightened up. Then brother put my hand in my night. His hands reached my pussy. Brother’s hands were very tough. His hands were pressing my soft pussy. I was also enjoying it. Now I was enjoying it more than before.

Bhaiya pressed my unbuttoned Tits in her hand for several minutes, after which Bhaiya released my nipple. But I kept my eyes closed.

Sister chudai stories
Then brother lifted my nightie from below. My thighs were bare. I was not even wearing panties from below. Brother’s hands started going directly to my pussy. I shuddered and opened my eyes.

When the brother saw that I had woken up, he wanted to remove his hand completely, but I caught his brother in the middle. Holding his hand again, put it on his wet pussy and smiled. Brother also understood my gesture. Just after that, brother like me just broke on me Sister chudai stories.

He started sucking my lips vigorously. His whole body was above my body. I was getting buried under his weight. But I was giving them full support. Was drinking the juice of his lips. Brother may have drunk a hookah at night, the smell of which was coming from his mouth and Sister chudai stories.

We both sucked each other’s lips for a long time. After that, he started rubbing my pussy with his palm. I started swearing. His palm was getting up and down on my pussy. After rubbing my wet pussy for a few moments, Bhaiya gave her mouth to my pussy. I started getting mad for Sister chudai stories.

He started licking my pussy loudly. My legs started spreading on their own. His tongue was moving fast on my pussy. I was getting drunk. Then brother entered my tongue in my pussy then Sister chudai stories.

His tongue was feeling deep inside my pussy. The tongue was very hot and wet which was giving me a lot of fun. I also squeezed Bhaiya’s mouth in between my legs.

Sister chudai stories
For some time, he kept sucking on my pussy with a fast tongue. I kept on torturing and they kept sucking my pussy. When I could not keep up with me, I said – just do it brother, now I am not going.
Brother took the tongue out of my pussy and started opening his dhoti. As soon as he opened the dhoti, his long and black cock was in front of my eyes on Sister chudai stories.

I bent down and took Brother’s cock in my mouth. Sister chudai stories I enjoyed sucking his cock. Siskaris started coming out of brother’s mouth.

Sister chudai stories – xxx desi kahani – hindi saxy story
Ahh Sunita… you are sucking cocks in a very good way. Ahh… ugh… and suck hard my cocky sister.

After a long time, I was destined to get cocks, so I was also feeling well on my cock. I sucked Bhaiya’s cock for five minutes and his cock became very wet and smooth in my saliva. Brother’s cock started shining in the light of moonlight night and Sister chudai stories.

After that they knocked me down. Picked up my maxi and started drinking my Tits. His cock was now wandering around my pussy. Sister chudai stories Sometimes I felt on my thigh and sometimes on my stomach. I also took brother in arms. When she started biting my nipples with teeth, I got mad like she was Sister chudai stories.

I took a bite on the brother’s neck. His naked ass was pressed with his hand. Brother, I understand that I have become very hot now.

Sister chudai stories
They spit on their cocks and spread my legs. Put my cock on my pussy and while lying on top of me, I started inserting cocks into my pussy. His cock started landing in my pussy.

Slowly, brother removed the entire cock in my pussy. His fat cock got stuck in my pussy. Then he did not stop even that and that giggling started fucking my pussy. He lifted my legs and started sucking his cock in my pussy on Sister chudai stories.

I said – Brother, you are very fun. Even by licking pussy and fucking with his cock. Where did you learn all this? Sister chudai stories.
He said – I have learned all this because of your sister-in-law. She is a resident of the city. Teri bhabhi watches sex videos on phone. I also do it by watching her sex videos. I learned all this from there.

Then he started banging in my pussy with speed. I started falling within two minutes. But brother still did not stop. He rubbed my pussy for the next fifteen minutes and Sister chudai stories.

And then when he had to get his semen, he asked where to drop it.
I said – Ahhh .. brother, drop me in my pussy.

After that, Bhaiya hit three to four thrusts and started falling in my pussy. He dropped all the semen in my pussy. I had a lot of fun with brother’s cocks. That night, brother, my pussy twice. Then the next morning when we both woke up, I was feeling very fresh.

Sister chudai stories
The next day we both went to the farm. Now nothing was hidden among us. Brother also went to the closet of the farm to fuck me. They fuck my pussy there, so I started having fun screaming loudly. The fun that came in getting the chudai in the field did not come at home and Sister chudai stories.

No one was around during sex in the farm. No one was able to hear any voice. I kept taking cocks in the pussy while screaming loudly. Brother there too fuck my ass. Earlier, I had not enjoyed this much in Gand Chudai. My boyfriend also tries to fuck my ass but I never had fun with him. Brother, my sister’s ass fuck was also done a lot. He had a good experience of assfucking of the girl. Brother I enjoyed Sister chudai stories.

After that, for the number of days I stayed in the village, I went to the farm with my brother and kept my pussy chudwati. Once, we also did open sex in a full afternoon. I sweated profusely that day. But I also enjoyed a lot. Now I had become habit of taking cocks of brother. But after that we came to our home city. After that I have not got a chance to take the cocks of brother then Sister chudai stories.

If I get a chance to fuck with my brother, I will definitely tell you. If you have any question about my story, I have given my mail id below.

Sister chudai stories
You can message me and ask. It also helps me to tell my story. Therefore, I request all of you readers to give your valuable feedback on Sister chudai stories.

I look forward to all of your responses. Soon I will return with my next story. Till then, all of you keep on enjoying sex stories on Masthindistory.
[email protected]

Read more hot sex story-

रातभर बहन की चूत में लंड रखा | Hot Sister Hindi Story – hindisistersex

छोटी बहन ने बड़े भाई से सील तुड़वाई | brother sister sex stories-sister hindi xxx

सगी मौसी की बेटी की चूत की चुदाई | sex sister story – sistersexstories

2 thoughts on “Sister chudai stories गाँव वाले भाई से चुदाई 1 Best SexStory”

Leave a Comment