Antarvasna 2 बुआ की चुदाई बिस्तर में Chudai का Sex Fun

बुआ की चुदाई बिस्तर में Antarvasna 2

Antarvasna 2: हेलो फ़्रेंडज़, कैसे हैं आप सब लोग! आज जो कहानी मैं लिखने जा रहा हूँ, वो मेरे और मेरी बुआ के बीच की चुदाई कहानी है। यह कहानी आज से 3 साल पहले की है। मेरी बुआ का नाम हर्षिता है, उनकी उम्र 51 साल है लेकिन उन्हें देख कर कोई नहीं कह सकता कि वो 50 पार हो गई है। उनका फिगर साइज 40 38 42 है।

चलो अब ज्यादा बोर नहीं करते हुए कहानी पर आता हूं।

बात उस समय की जब बुआ के बेटे की शादी हुई. मैं भी शादी में गया. ठंड का मौसम था, मैं सुबह 6 बजे बुआ के घर पहुँचा और बेल बजाई.

थोड़ी देर बाद बुआ ने गेट खोला और मुझे देख के ख़ुश हो गई. बुआ उस समय नाइटी में थी और अंदर कुछ नहीं पहना हुआ था। मैं तो बुआ को ऐसे रूप में देख के देखता ही रह गया।
फिर मैंने बुआ को गले लगा लिया और पूछा- कैसी हो बुआ जी आप?
बुआ- मैं ठीक हूँ तुम कैसे हो मेरे बेटे?
में-में ठीक हूँ बुआ।
बुआ-अच्छा हुआ तू जल्दी आ गया. मैं तो परेशान हो गयी भागते भागते! अब तुम आ गए तो थोड़ा आराम मिलेगा मुझे।

मैंने बुआ को और कस के गले लगा लिया. बुआ की चुचियाँ बिना ब्रा के मुझे मेरे सीने पर महसूस हुई और मेरा लंड पैंट के अंदर खड़ा होने लगा और बुआ के पेट के निचले हिस्से पर टच होने लगा।
बुआ को जैसे ही मेरा लंड अपने पेट पर हुआ तो उन्होंने मुझे दूर करके कहा- जा बेटा, ऊपर रूम में जाकर थोड़ा आराम कर ले।
मैं- ठीक है बुआ!

और बुआ के सामने अपने लंड को पैंट में एडजस्ट करते हुए ऊपर रूम में चला गया.
मैं अपनी अंडरवियर उतार कर लोअर पहन के सो गया।

2 घण्टे बाद बुआ मुझे उठाने आई. उस समय मेरा लंड पूरा खड़ा था और मैं सीधा लेटा हुआ था।
बुआ- मनीष … उठ बेटा, बहुत देर हो गई है. जा जाकर नाश्ता कर ले और फ्रेश हो जा।

Antarvasna 2

मैंने एक आंख खोल कर बुआ की तरफ देखा तो बुआ मेरे खड़े लंड को घूर रही थी. मैं सोने का नाटक करता रहा।
बुआ मेरे पास आई और फिर बोली- मनीष, उठ बेटे!
और मुझे छूकर उठाने लगी।

उस समय मेरा शरीर थोड़ा गर्म था कुछ ठंड की वजह से और कुछ सेक्स की वजह से!
बुआ ने जैसे ही मुझे छुआ है … वो वहीं बिस्तर पर बैठ गयी मेरे सिरहाने- ओह्ह मनीष, तुम्हें तो बुखार है. रुको मैं डॉक्टर को बुलाती हूँ।
मैं- रहने दो बुआ जी, कुछ नहीं हुआ मुझे … मैं अभी थोड़ी देर मैं ठीक हो जाऊंगा। बस कोई बुखार की दवाई है तो दे दो मुझे।
बुआ- रुक … मैं अभी लाती हूँ दवा देख के।

फिर बुआ दवा लेने नीचे चली गयी और 5 मिनट बाद फिर आई खाली हाथ और कहने लगी- बेटे बुखार की दवा तो खत्म हो गई है. और अभी तक कोई दुकान भी नहीं खुली है कि तुम्हें मैं दवा मंगा के दे सकूं. अब कैसे ठीक होगा तेरा बुखार?
मैं- एक आईडिया है मेरे पास बुखार ठीक करने का … पर वो करेगा कौन मेरे साथ?
बुआ- बोल बेटे क्या करना है? मैं करूँगी तुम्हारे साथ. करना क्या है बोलो बेटा?

मैं- आप नहीं कर पाओगी मेरे साथ बुआ जी।
बुआ- तुम बोलो तो सही क्या करना है? मैं सब कुछ करूँगी तुम्हें ठीक करने के लिए।

मैं- तो ठीक है बता देता हूँ. मुझे किसी औरत के शरीर की गर्मी चाहिए। मुझे ये बीमारी 3 साल से है। हर ठंडी के मौसम में मुझे ये बीमारी 2 या 3 बार होती है। अगर किसी औरत की गर्मी मुझसे मिल जाये तो ये बीमारी 1 घण्टे में खत्म हो जाती है और गर्मी ना मिले तो 5 6 दिन तक बुखार रहता है।
बुआ- बाप रे … आजकल क्या क्या बीमारी होती है?
मैं- मैंने पहले ही बोला था कि आप नहीं करोगी मेरे साथ।

Antarvasna 2

बुआ को चोदने की ट्रिक काम कर गई थी.
बुआ- ठीक है, रुक मैं अभी आती हूँ।
मैं- कहाँ जा रही हो आप बुआ जी?
बुआ-गेट बंद करके आती हूँ।

फिर बुआ गेट बन्द कर के सीधी मेरी रजाई के अन्दर घुस गयी। बुआ का मुंह मेरी तरफ और मेरा मुंह बुआ की तरफ था. मैंने बुआ को अपने से चिपका लिया और उनकी गर्दन पर अपनी गर्म साँसें छोड़ने लगा।

मेरा लंड तो पहले से ही खड़ा था। फिर मैंने बुआ की दायीं जांघ को उठा के अपनी बायीं जांघ पर रख दिया और मैं बुआ से और ज्यादा चिपक गया।
अब हालत यह थी कि मेरा लंड सीधा बुआ की चुत को दस्तक दे रहा था नाइटी के ऊपर से और मेरे होंठ बुआ की गर्दन को चूम रहे थे।

मैं धीरे धीरे अपने लंड को बुआ की चुत पर रगड़ने लगा कपड़ों के ऊपर से।

Bua ki chudai bister me Antarvasna 2

बुआ कुछ नहीं बोल रही थी और उनकी सांस तेज होने लगी। अब मैं थोड़ी देर लंड हिलाना बंद कर बुआ की गर्दन पर जीभ फिराने लगा।

Antarvasna 2

बुआ अब भी कुछ नहीं बोल रही थी बस अपनी साँसें तेज तेज ले रहीं थी। अब मैं नाइटी के ऊपर से ही बुआ की चुचियाँ पकड़ के दबाने लगा और अपने होंठ बुआ के होंठो पर लगा के किस करने लगा। बुआ भी मेरी किस का अच्छा रेस्पोंस दे रही थी।

अब बुआ किस करते करते अपनी चुत को मेरे लंड पर रगड़ने लगी धीरे धीरे। बुआ की चूत इतनी पानी छोड़ रही थी कि उनकी नाइटी में ऊपर से पानी बह कर मेरे लोअर को भिगो रहा था जहाँ मेरा लंड था उनकी चुत में ऊपर।

मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मैंने अपना लोअर उतार दिया और बुआ की नाइटी भी उतार कर बुआ भतीजा दोनों नंगे हो गए। अब मैं बुआ की एक चूची को मुँह में लेकर चूसने लगा और दूसरी को हाथ से जोर जोर से दबाने लगा।

Bua ki chudai bister me Antarvasna 2

बुआ- आह आह आह … बेटे धीरे कर दर्द होता है।
मैं- ओह्ह बुआ जी, क्या मस्त दूध है आपके!
औउम्म … आऊम्म्म … मैं और जोर से चूसने लगा।
बुआ- आह आह पी जा पूरे दूध … आह आह!

अब मैं पहले वाले को पीना छोड़ दूसरा वाला चूसने लगा और पहले वाले को हाथों में लेकर दबाने लगा। इस बीच बुआ एक बार झड़ गयी।

Antarvasna 2

मैं बुआ के दूध चूस रहा था और बुआ मेरे लंड को पकड़ के अपनी चुत पर रगड़ रही थी और सिसकार रही थी। अब बुआ की चूत लंड लेने को तैयार थी, मैं बुआ को सीधा लेटा कर उनके ऊपर आ गया और अपने लंड को बुआ की चूत के ऊपर सेट करके एक जोर का झटका मारा.

chachi xxx story Bua ki chudai bister me Antarvasna 2

बुआ की चीख निकल गयी और उन्होंने जैसे ही चिल्लाने के लिए मुख खोला, मैंने उनके होंठों पर अपने होंठ रख कर उनकी चीख को दबा दिया। फिर थोड़ी देर रुक कर मैंने बुआ को किश करना शुरू किया।

5 मिनट बाद बुआ का दर्द कम हुआ और वो अपनी गांड हिला हिला के लंड को अपनी चुत में लेने लगी। अब मैं भी बुआ को जोर जोर से चोदने लगा.
बुआ सिर्फ ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… बेटे धीरे धीरे कर!’ करती रही पर मैं कहाँ सुनने वाला था, मैं अपनी बुआ को 120 की रफ्तार से चोद रहा था।

अब बुआ फिर से झड़ने वाली थी, वो चिल्ला रही थी- आह हहह ओह … ईई ओह्ह … चोद बेटे चोद … अपनी बुआ की वासना को मिटा दे … अपनी बुआ की बरसो की प्यास बुझा ड़े!

और बुआ ने मुझे अपने ऊपर गिरा लिया, अपने पैरों की कैंची बना कर मेरी पीठ पर लगा दी.
अब मेरा भी होने वाला था, मैं पिछले 25-30 मिनट से बुआ की चूत को चोद रहा था. मैं भी जोश में आकर उनको बहुत जोर जोर से चोद रहा था और बक रहा था- ओह … आह्ह्ह उम्म्ह बुआ क्या मस्त चुत है आपकी! एकदम टाइट कुंवारी लड़की की चूत की तरह! अओह हह बुआ … मैं गया … मैं गया!

Antarvasna 2

और मेरा माल बुआ की चूत में निकल गया और बुआ भी अपनी गांड हवा में लहरा के झड़ने लगी।
हम दोनों अपनी साँसें काबू में कर रहे थे।

फिर थोड़ी देर बाद बुआ उठी, अपनी नाइटी पहन के मेरे माथे पर हाथ लगा के देखा. अब तक मेरा शरीर भी नार्मल हो चुका था.

मेरा शरीर का तापमान सामान्य देख के बुआ थोड़ी सी मुस्कराई लेकिन बोली कुछ नहीं और चुपचाप नीचे चली गई।

दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी कहानी जरूर बताना।

[email protected]

आपको मेरी यह सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

Bua ki chudai bister me Antarvasna 2

Read in English

Bua ki chudai bister me Antarvasna 2

Antarvasna 2: Hello friends, how are you all! The story that I am going to write today is the story between me and my aunt. This story is from 3 years ago. My aunt’s name is Harshita, she is 51 years old, but looking at her, no one can say that she has crossed 50. His figure size is 40 38 42.

Let’s not get bored anymore, let me come to the story, Antarvasna 2.

The time when Bua’s son got married. I also went to the wedding. It was cold, I reached Bua’s house at 6 in the morning and rang the bell.

After a while Bua opened the gate and was happy to see me. Aunt was at night at that time and was not wearing anything inside. I was able to see Bua in such a way and Antarvasna 2.
Then I hugged aunt and asked – how are you aunt?
Aunt – I’m fine, how are you my son?
I’m fine, aunt.
Auntie, you came well. I was upset and ran while running! If you come now, I will get some rest.

I hugged the aunt more tightly. Aunt’s pussy felt without bra I felt on my chest and my cock began to stand inside the pants and touch on the lower abdomen of aunt.
As soon as my cock was on my stomach, he told me away and said, “Son, go upstairs and take some rest.”
Me- Okay aunt!

And went in the room upstairs, adjusting his cock in pants in front of aunt.
I took off my underwear and slept wearing lower for Antarvasna 2.

After 2 hours the aunt came to pick me up. At that time my cock was fully erect and I was lying straight.
Aunt- Manish… wake up son, it’s too late. Go and have breakfast and be fresh.

Antarvasna 2
When I opened my eyes and looked towards the aunt, the aunt was staring at my erect penis. I kept pretending to sleep.
Aunt came to me and then said- Manish, wake up son!
And started touching me the Antarvasna 2.

My body was a little hot at the time, some due to cold and some due to sex!
As soon as the aunt has touched me… she sat on the bed right there at my head – oh manish, you have a fever. Wait, I call the doctor for Antarvasna 2.
Me – let it be aunt, nothing happened to me… I will be fine for a while now. If you have any fever medicine then give it to me.
Aunt- Stop… I just bring the medicine.

Then aunt went down to take medicine and after 5 minutes came again empty-handed and started saying – son fever medicine is over. And so far no shop has opened so that I can give you medicine. How will your fever be cured now?
I – I have an idea to cure fever… but who will do it with me?
Aunt-son, what to do? I will with you Tell me what to do, son?

Me- You will not be able to make aunt with me then Antarvasna 2.
Aunt – if you say what to do right? I will do everything to fix you.

I will tell you. I want the body heat of a woman. I have had this disease for 3 years. I have this disease 2 or 3 times in every cold season. If a woman gets heat from me, then this disease ends in 1 hour and if the heat is not received, there is fever for 5 to 6 days.
Aunt, father… what is the disease nowadays?
Me- I had already said that you will not accompany me.

Antarvasna 2
The trick of fucking aunt was done.
Aunt- Okay, wait I come now.
Where are you going, my aunt?
I close the aunt’s gate and come.

Then closed the aunt gate and entered directly into my quilt. Aunt’s mouth was on my side and my mouth was on aunt’s side. I clung my aunt to me and started giving up my hot breaths on her neck in Antarvasna 2.

My cock was already standing. Then I lifted the right thigh of the aunt and put it on my left thigh and I clung more to the aunt like Antarvasna 2.
Now the condition was that my cock was directly knocking the aunt’s pussy over the night and my lips were kissing the aunt’s neck.

I slowly started rubbing my cock on the aunt’s pussy over the clothes in the Antarvasna 2.

Aunt was not saying anything and her breath started intensifying. Now I stopped shaking the cocks for a while and started waving tongue on aunt’s neck.

Antarvasna 2
Aunt was still not saying anything, just taking her breath fast. Now I started pressing hold of aunt’s aunt on top of knight and kissing my lips on aunt’s lips. Aunt was also giving good response to my kiss.

Now aunt used to rub her pussy on my cock slowly. Aunt’s pussy was leaving so much water that the water was soaking my lower by flowing water in her night where my cock was above her pussy for Antarvasna 2.

I was no longer able to bear it, I removed my lower and after removing the aunt of aunt, both aunt and nephew got naked. Now I started sucking a aunt’s aunt in the mouth and pressing the other hand very hard in the Antarvasna 2.

Bua-ah ah ah… son slowly hurts.
I – ohhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh, what is your good milk!
Awmm… Awmm… I started sucking harder.
Aunt-ah-ah, drink whole milk… ah-ah!

Now I quit drinking the first one and started sucking the second one and pressing the first one into my hands. In the meantime, the aunt once fell.

Antarvasna 2
I was sucking aunt’s milk and aunt was grabbing my cock and rubbing it on her pussy and sobbing. Now aunt’s pussy was ready to take cocks, I lay down on her aunt directly and hit her with a loud blow by setting my cock on aunt’s pussy.

Aunt’s scream came out and as she opened her mouth to shout, I put her lips on her lips and suppressed her scream. Then after waiting for a while, I started kissing the aunt in Antarvasna 2.

After 5 minutes the aunt’s pain subsided and she started taking her ass in her pussy. Now I too started fucking aunt.
The aunt only kept doing ‘Ummh… Ahhh… Hahh… Yah… son slowly! ’But where was I going to listen, I was fucking my aunt at the speed of 120 in Antarvasna 2.

Now aunt was going to fall again, she was screaming – Ahhhhh oh… Ei ohhh… Chod son chod… Erase your aunt’s lust… quench your aunt’s thirst for thirst!

And aunt took me up on her, made scissors of her feet and put it on my back.
Now I was going to be too, I was fucking aunt’s pussy for the last 25-30 minutes. I was also excitedly fucking them very hard and was bouncing – Oh… Ahhhh Ummh bua kya mast chut hai! Just like a tight virgin girl’s pussy! Aoah huh bua… I went… I went!

Antarvasna 2
And my goods went out in aunt’s pussy and aunt also started fluttering her ass in the air.
We were both in control of our breath.

Then after a while aunt woke up, wearing her nightie and put her hand on my forehead and saw. By now my body was also normal.

Seeing my normal body temperature, Bua smiled a little but said nothing and went down quietly.

Friends, how was it like you must tell my story

[email protected]

Read more chudai stories-

Chachi ki chudai चाची से करवाई लंड की मसाज 1 sachi sex story

Chachi xxx story नाईटी खोल चाची की गांड को चाटा100% real sex

Antarvasna 2 भतीजे ने चाची की चूत की प्यास बुझाई Best Sex

Dost ki maa ki chudai दोस्त की मम्मी को लंड चुसवाया 1 Sex

Leave a Comment

org/tools/popad.js">