Follow my blog with BloglovinAntarvasna hindi दीदी की ननद को ख़तरनाक तरीके से चोदा 1 Fun

Antarvasna hindi दीदी की ननद को ख़तरनाक तरीके से चोदा 1 Fun

दीदी की ननद को ख़तरनाक तरीके से चोदा Antarvasna hindi

Antarvasna hindi: मैं पढ़ाई के लिए अपनी दीदी के यहाँ रहता था. एक कार्यक्रम में मुझे दीदी की रिश्ते की शादीशुदा ननद भा गयी. वो भी मेरी निगाह को पहचान गयी. उसके बाद क्या हुआ?

सबसे पहले MastHindiStory के सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार!

मैं विक्की आप सबके सामने वो कहानी ले कर आया हूँ जहाँ से मेरे एक नए जीवन की शुरुआत हुई!

मैं इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए अपनी दीदी के यहाँ ग्वालियर आ गया था, मैंने एक अच्छे कॉलेज में दाखिला भी ले लिया था.
रिश्तेदारी की वजह से मैं बड़े ही सरल स्वभाव से अपनी जिंदगी व्यतीत कर रहा था.

एक बार दीदी के जेठानी के लड़के के जन्मदिन था जो कि मेरा भी भांजा ही लगा. तो बहुत सारे काम की जिम्मेदारी मुझ पर भी थी. घर में अच्छी खासी भीड़ थी.
तभी मेरी नज़र एक औरत पर पड़ी जो कि लगभग 30 साल की रही होगी. गदराया हुआ शरीर 34″ के उभार और मटका सी गांड! कुल मिलाकर ऐसी लगी कि मैं उसे देखता ही रह गया!

मैं थोड़ी देर बाद अपने काम में लग गया, सारे काम चलते रहे. लोग खाना खा रहे थे तभी मुझे उनको खाना खिलाने के लिए बोला गया.
तो जैसे सबको खिला रहा था, मैंने उन्हें भी खिलाया.

मेरी दीदी ने मेरा परिचय कराया तो पता चला कि उनका नाम रीमा था और वो रिश्ते में दीदी की ननद लगती थी.

सब अपने अपने घर चले गए.

यूं ही दिन बीतते चले गये. मेरा भी किसी न किसी काम से उनके घर आना जाना लगा रहा. देखते देखते में उस औरत के लिए पागल होता जा रहा था. लेकिन यह बात उसे नहीं पता थी. शायद मुझे खुद भी नहीं पता था कि ऐसा क्या हुआ था. लेकिन बस मैं उसे बहुत पसंद करने लगा था!

Antarvasna hindi

पता नहीं कब हम वक़्त के साथ एक दूसरे के करीब आते गए. फ़ोन पर बात करना, एक दूसरे को समय देना!
फाइनली एक दिन मैंने हिम्मत करके उससे अपने दिल की बात बोल दी थी और उसने भी सहमति जताई.

लेकिन इस बार में वाकयी उसे लेकर से काफी सीरियस था! उससे बात करना मेरी जिंदगी की एक जरूरत बन गयी थी.

फिर धीरे धीरे हम लोग फ़ोन पर सेक्स की बात करने लगे. वो जब भी अपने पति से चुदती तो मुझे बताती. फिर मैं भी उसे चोदने के लिए मनाने लगा. तो इस प्रयास को भी पूरा एक महीना लग गया, तब वो चुदाई की लाइन पर आई!

फिर वो दिन आ गया था जब हम एक होने वाले थे. उसे भी इस चीज का अहसास हो गया था कि मैं उसके लिए काफी गंभीर हूँ!

अब हम लोग एक दूजे के होने के लिये बेसबरी से तरस रहे थे. फिर मैंने उसे बताया कि आप बाजार का बहाना बना कर आ जाना, हम लोग तब साथ चल लेंगे.
लेकिन वो डरी हुई थी. वो बार बार एक ही बात दोहराये जा रही थी कि कहीं सेफ जगह ले चलना, कहीं कोई मुसीबत में ना पड़ जायें हम दोनों!

हमने बुधवार को 11 बजे जाने का पक्का किया. मैं भी दीदी से कॉलेज जाने की बोल कर घर से जीजा जी की बाइक लेकर निकल गया और दिए गए पते पर उसका इंतज़ार करने लगा.

कुछ देर बाद वो आ गयी. मैं तो उसे देखता ही रह गया. वो किसी परी से कम नहीं लग रही थी. मैंने उसे देखकर एक छोटी सी मुस्कुराहट दी. तो वो भी हंस दी और आकर मेरी पीछे बैठ गयी और में निकल पड़ा उसे लेकर!

Antarvasna hindi

मेरे एक दोस्त का होटल था, मैं उसे वहाँ ले गया.

सबसे पहले तो उसके मन में डर था कि होटलों में ब्ल्यू फिल्म बन जाती है. और उससे ज्यादा उसकी चिंता मुझे थी इसी बात की. सबसे पहले मैंने पूरे कमरे की छानबीन की. जब मैं संतुष्ट हो गया तो मैंने सेक्स की शुरुआत की.

मैं उसको अपनी बांहों में लेकर करीब पांच मिनट तक चूमता रहा, चाटता रहा. वो भी बराबर मेरा साथ दे रही थी!

फिर उसने मुझे थोड़ा रिलैक्स होने को कहा. तो मैं भी आराम से उसकी गोदी में लेट गया और वो मेरे बालों में हाथ फिरा रही थी.
तब उसने मुझसे एक वचन लिया, कहा- आज मैं आपको अपना सब कुछ दे रही हूँ. प्लीज् मुझे कभी धोखा नहीं देना!
और इतना बोल कर उसने अपने मखमली होंठ मेरे होंठों पर रख दिये. और हम बेतहाशा एक दूसरे को चूम रहे थे.

दीदी की ननद को ख़तरनाक तरीके से चोदा Antarvasna hindi

मैं साथ ही उसकी छाती पर हाथ रख कर उसे गर्म करने का काम कर रहा था!

फिर मैंने उसका कुर्ता उतारा तो नीचे उसने काली ब्रा पहन रखी थी. और उसमें उसके 34″ के चूचे कैद थे पर मेरी आँखों के सामने थे. आप फील करो कि वो माहौल मेरे लिए कैसा रहा होगा.
मेरे से रहा नहीं गया और मैंने उसके चूचों में अपना चेहरा चूसा दिया था. वो भी मुझे अपनी छाती में दबाये जा रही थी.

अगले 2 मिनट में ही मैंने उसके और अपने सारे कपड़े उतार दिए. और वो शर्म के मारे अपने ऊपर चादर खींचे जा रही थी. मैंने चूत तो पहले भी ली थी लेकिन उसको देख कर मुझे जन्नत जैसा फील हो रहा था.

Antarvasna hindi

मैं उसके ऊपर आकर उसके गर्दन पर किस करने लगा तो उसकी सिसकारियां की गूंज कमरे का माहौल ही अलग बना रही थी.
वो बोल रही थी- प्लीज विक्की … अब नहीं!
और बार बार मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत में घुसाने की कोशिश कर रही थी.

लेकिन मैं उसे और गर्म करना चाहता था.

जब मैंने देखा कि उसकी चूत से सोमरस की धार बह रही थी तो मैंने भी मौका सही समझा. और मैंने उसकी टांगें खोल के अपना लंड उसकी चूत की फांकों के बीच में छेद पर रख धीरे से अंदर डाल दिया.

दीदी की ननद को ख़तरनाक तरीके से चोदा Antarvasna hindi

तो उसकी एक तेज़ आह निकली. यह आह दर्द की आह कम और मज़े की आह ज्यादा थी. क्योंकि वो पहले से ही खूब चुदी चुदाई थी.

फिर उसने भी नीचे से एक तेज़ झटके से मेरा पूरा लंड अपनी चूत की गहराई में उतार लिया और मुझे तेजी से अपनी बांहों में जकड़ तेज़ झटके मारने को बोलने लगी!

उसकी चूत इतनी गीली हो चुकी थी कि मेरे झटकों के साथ फच्च फच्च की आवाज मुझमें और जोश पैदा कर रही थी. मैं उसके ऊपर लेट उसके एक निप्पल को चूस रहा था और नीचे उसकी चूत की चुदास भी मिटा रहा था.

वो अपनी आंखें बंद करके अपनी यौन तृप्ति का आनंद ले रही थी और मेरे सर को अपने निप्पलों पर जोर से दबाये जा रही थी.

इस चुदाई के मजेदार खेल के दौरान उसने फिर एक बार मुझसे वही बात बोली- प्लीज विकी, मुझे धोखा नहीं देना.
तो मैंने उसको किस कर वचन दिया- मैं हमेशा उसकी प्राइवेसी बना कर रखूँगा, इस बात को अपनी जिम्मेदारी समझूँगा.

Antarvasna hindi

चूत चोदन के तेज़ झटकों के साथ उसके चूचे भी हिल रहे थे. तो मुझे और ज्यादा मज़ा आ रहा था.

तभी मुझे जैसे महसूस हुआ कि उसकी चूत मेरे लंड को दबा के तोड़ देगी, निचोड़ देगी.
और उसके साथ ही उसकी चूत ने फिर से सोमरस की बौछार कर दी और वो एक बार फिर ठंडी पड़ गयी. उसने वासना के इस खेल में मुझसे पहले जीत प्राप्त कर ली थी, कामानन्द की चरम सीमा पर पहुँच गयी थी.

अब बारी मेरी थी तो मैंने उसकी टांगों को बेड ने नीचे लटका कर खुद नीचे खड़े होकर अपना लंड उसकी चूत में डाल धकापेल चुदाई चालू कर दी.
अब तक मेरी जान दो बार झड़ चुकी थी तो उसे ख़ास अच्छा नहीं लग रहा था.

लगातार 15 मिनट चोदने के बाद मुझे लगा कि जैसे मेरा होने वाला है तो मैंने अपना लंड बाहर निकाल कर पूरा पानी उसकी चूत के ऊपर निकाल दिया

दीदी की ननद को ख़तरनाक तरीके से चोदा Antarvasna hindi

और उसके ऊपर लेट कर तेज़ तेज़ साँसों के साथ उसे किस करने लगा.

मेरी जान भी मुझे आनन्द मिलते देख बहुत खुश थी और मुझे किस किये जा रही थी और बोल रही थी- मेरा बेटा थक गया!

थोड़ी देर हम दोनों साथ साथ लेटे रहे. हम कोई बात नहीं कर रहे थे. हम बस अभी जो बीता था, उसका आनन्द महसूस कर रहे थे.

कुछ देर लेटने के बाद हम दोनों एक साथ उठे और बाथरूम में साथ नहाये. और एक दूसरे को तौलिये से पौंछ कर कपड़े पहने.

बाथरूम से बाहर आकर हमने खाना मंगाया. और खाने के बाद एक दूसरे के साथ एक घण्टे लेट कर प्यार की बातें करने लगे!

Antarvasna hindi

फिर हम होटल से बाहर आये. मैंने उसे उसके घर के समीप छोड़ दिया. फिर अपनी दीदी के घर आकर उसे फ़ोन पर बात कर पूछा- आज का दिन कैसा बीता? आपको कैसा लगा?
तो उसने बताया- विकी, आज बहुत दिन के बाद ऐसा परम सुख मिला है. तो पूरा बदन दर्द कर रहा था.
और बोली- लेकिन आप बुरी तरह करते हो! पूरा बदना और बदन के सारे जोड़ हिला कर रख दिए.

मैंने उसे अगली बार आराम से करने का बोल कर फोन रख दिया!

आपको मेरे प्यार की कहानी जिसमें सेक्स भी शुमार है, कैसी लगी? मैं आप सबके प्यार का बेसब्री से इन्तजार करूँगा.
आप अपनी राय मुझे ईमेल कर सकते हैं और नई सेक्स स्टोरी और video को देखने के लिये Telegram ग्रुप को join कर सकते है.
धन्यवाद
[email protected]

दीदी की ननद को ख़तरनाक तरीके से चोदा Antarvasna hindi

Read in English

Didi ke nanad ko ktharnakh trike se choda Antarvasna hindi

Antarvasna Hindi: I used to stay here for my sister’s studies. In one program, I got married to sister-in-law’s sister-in-law. She too recognized my view. what happened after that?

First of all my love greetings to all the readers of MastHindiStory!

I have brought Vicky to you in front of that story from where my new life started!

I had come to my sister’s house in Gwalior to study engineering, I had also enrolled in a good college in Antarvasna Hindi.
Because of kinship, I was spending my life with a very simple nature.

Once was the birthday of the sister of Jethani’s daughter, which was my nephew. So a lot of work was also on me. There was a good crowd in the house for Antarvasna Hindi.
Then I saw a woman who must have been around 30 years old. The embossed body 34 ″ protuberance and matte ass! Overall, it felt like I kept looking at him!

I got into my work after a while, all the work went on. People were eating food when I was asked to feed them like Antarvasna Hindi.
So as I was feeding everyone, I also fed them.

When my sister introduced me, it came to know that her name was Reema and she seemed like a sister-in-law in the relationship for Antarvasna Hindi.

Everyone went to their respective homes.

Just as the days passed. I too started coming to his house for some work for Antarvasna Hindi. It was getting crazy for that woman. But he did not know this. Maybe I didn’t even know what had happened. But I just liked him a lot!

Antarvasna hindi
Don’t know when we got closer to each other with time. Talking on the phone, giving each other time!
Lastly, one day I dared to speak my heart to him and he also agreed.

But this time the sentence was quite serious from him. Talking to him had become a necessity of my life in Antarvasna Hindi.

Then slowly we started talking about sex on the phone. She would tell me whenever she would fuck with her husband. Then I also started to convince him to fuck. So this effort also took a full month, then she came on the line of Chudai!

Then the day had come when we were going to be one. He too had realized that I am very serious for him!

Now we were yearning to be a couple. Then I told him that you should come as an excuse for the market, then we will go together to the Antarvasna Hindi.
But she was scared. He was repeating the same thing again and again that somewhere, to take a safe place, we should not get into any trouble then Antarvasna Hindi.

We made sure to go at 11 o’clock on Wednesday. I also went with the sister-in-law’s bike from the house, asking Didi to go to college and started waiting for her at the given address then Antarvasna Hindi.

After some time she arrived. I just kept looking at him. She looked nothing less than an angel. I gave him a small smile upon seeing him. So she too laughed and came and sat behind me and I left with her!

Antarvasna hindi
I had a friend’s hotel, I took him there.

At first, he feared that a blue film was made in hotels. And I worried more than that. First I investigated the whole room. When I was satisfied, I started sex then Antarvasna Hindi.

I kept kissing him in my arms for about five minutes, licking him. She was also supporting me equally!

Then he asked me to relax a bit. So I lay down in her dock comfortably and she was turning her hand in my hair and got Antarvasna Hindi.
Then he took a promise from me, said- Today I am giving you everything. Please never betray me!
And speaking so, he put his velvet lips on my lips. And we were kissing each other wildly.
I was also working to warm her by placing a hand on her chest!

Then when I took off his shirt, he was wearing a black bra below. And he had 34 ″ of his cocks in it but was in front of my eyes. You feel what that atmosphere must have been like for me.
I could not keep up with him and I had sucked my face in his cocks. She was also pressing me in her chest for Antarvasna Hindi.

Within the next 2 minutes, I removed her and all my clothes and star Antarvasna Hindi. And she was being dragged over herself in shame. I had taken the pussy earlier too, but seeing it, I was feeling like Jannat.

Antarvasna hindi
When I started kissing her on her neck, the echo of her Siskariya was making the atmosphere of the room different.
She was speaking – please Vicky… not now!
And repeatedly trying to grab my cock and insert it in my pussy and enjoy Antarvasna Hindi.

But I wanted to warm him up.

When I saw that the edge of Somaras was flowing from her pussy, I also saw the opportunity right. And I opened his legs and put my cock on the hole between the slices of her pussy and put it in slowly and got the Antarvasna Hindi.

So he got a fast sigh. It was less of ah pain and ah of fun. Because she was already a lot of fucking and Antarvasna Hindi.

Then he also took all my cocks from the bottom of my pussy in the depths of his pussy and started speaking to me fast and fast in my arms!

His pussy had become so wet that the sound of a shriek with my shaking was causing more excitement in me. I was lying on top of her sucking a nipple and was also erasing her pussy.

She was enjoying her sexual fulfillment with her eyes closed and my head was being pressed hard on her nipples.

During this fun game of fun, he once again spoke the same thing to me – please Vicky, don’t cheat me.
So what did I promise to him – I will always keep his privacy, I will consider this as my responsibility.

Antarvasna hindi
Her legs were also shaking with strong jerking of pussy fuck. So I was having more fun.

Then I felt as if his pussy would break my cock and squeeze it.
And with that, her pussy again bombarded Somaras and she once again got cold. He had won before me in this game of lust, reached the height of Kamanand.

Now it was my turn, so I hung her legs down by the bed and stood down and put my cock in her pussy and started fucking her.
By now my life had fallen twice, so it did not look very good.

After fucking for 15 minutes continuously, I felt as if mine was going to happen, so I took out my cock and removed all the water over her pussy.

use
And lying on top of him, he started kissing her with a sharp breath.

My life was also very happy to see me enjoying and kissing me and speaking – my son was tired!

We both lay together for a while. We were not talking. We were just enjoying the past.

After lying down for some time, we both got up together and took bath together in the bathroom. And wiped each other with a towel and dressed.

We came out of the bathroom and asked for food. And after eating, lying with each other for an hour and started talking about love!

Antarvasna hindi
Then we came out of the hotel. I left her near her house. Then came to his sister’s house and talked to her on the phone and asked – how was the day today? How did you find it?
So he told- Vicky, today after so many days, I have got such absolute happiness. So the whole body was hurting.
And bid – but you do badly! Shook the whole body and all the joints of the body.

I called him up the next time to talk comfortably!

How did you like the story of my love, which also includes sex? I will eagerly wait for your love.
You can email me your opinion and join Telegram Group to see new sex story and video.
Thank you
[email protected]

Read more chudai story-

Hindisexstories मोसेरी बहन के साथ सेक्स का आनन्द 1 Free Sex

Antarvasna com in बहन की सील टूटी भाई के लंड से 1 fun sex

Cudai khaniya मेरी मामी की वासना और चुदाई 1 Free Sex Story

Leave a Comment