माँ की मालिश कर 1 बेटे ने की चूत चुदाई Antarvasna Story Fun

Antarvasna Story Fun माँ की मालिश कर 1 बेटे ने की चूत चुदाई

हाय, मेरा नाम सुमित है। मुझे अभी तक यकीन नहीं होता जो मैं लिखने जा रहा हूं। 3 दिन पहले मेरे साथ ऐसा एक्सपेरिएंस हुआ जो मैं सोच भी नहीं सकता था।
हुआ यूं कि मेरी पूरी फ़ेमिली (मेरा संयुक्त परिवार है) किसी शादी पे दो दिन के लिये चली गयी। घर सिर्फ़ पापा, मम्मी और मैं था। सुबह पापा भी ओफ़िस चले गये।

मम्मी कामवाली के साथ काम करने लगी और मैं अपने कमरे मैं स्टडी करने चला गया। दोपहर करीब एक बजे कामवाली चली गयी। मैं स्टडी कर रहा था के मुझे मम्मी की आवाज़ आयी।

मैं कमरे के बाहर गया तो देखा कि मम्मी फ़र्श पर गिरी पड़ी थी। मैंने फ़ौरन जाकर मम्मी को उठाया और पूछा- क्या हुआ?
“फ़र्श पर पानी पड़ा था, मैंने देखा नहीं और गिर गयी!”
“चोट तो नहीं लगी?”
“टांग मुड़ गयी।”
“हल्दी वाला दूध पी लो!”

“नहीं, उसकी ज़रूरत नहीं। बस टांग में दर्द हो रहा है, लगता है नस पे नस चढ़ गयी है!”
“थोड़ी देर लेट जाओ!”
“मुझसे चला नहीं जा रहा, मुझे बस मेरे कमरे तक छोड़ आ!”
“आराम से लेट जाओ और अब कोई काम करने की ज़रूरत नहीं है।”

“हाय रे, टांग हिलाई भी नहीं जा रही।”
“मैं कुछ देर दबा दूं क्या?”
“दबा दे।”
मैंने टांग दबानी शुरू की। मैं पूरी टांग दबा रहा था, पैर से लेकर जांघ तक!

Antarvasna Story Fun

“कुछ आराम मिल रहा है?”
“हाँ”
“मेरे ख्याल से तो आप थोड़ा तेल लगा लो, जल्दी आराम मिल जायेगा।”
“कौन सा तेल लगाऊँ?”
“वो ही, जो बोडी ओयल मेरे पास है।”
“चल ले आ”

मैं अपने कमरे से जाकर तेल ले आया। मम्मी ने अपनी शलवार ऊपर उठा ली लेकिन वो घुटने से ऊपर नहीं उठ पायी। मैंने कहा “अगर आपको ऐतराज़ न हो तो मैं ही लगा दूं?”

इतने में फोन की बेल बजी। फोन पे पापा ने कहा कि वो आज खाना खाने नहीं आयेंगे।

“किसका फोन था?”
“पापा का था कि वो खाना खाने नहीं आ रहे!”
“अच्छा!”
“तेल लगा दूं?”
“लगा दे!”

फिर मैंने मम्मी के पैर से लेकर घुटने तक तेल लगाना शुरू कर दिया कुछ देर बाद मम्मी बोली “पर दर्द तो मेरे घुटने के ऊपर हो रहा है।”
“एक काम करते हैं। आप तांग के ऊपर कम्बल कर लो, मैं कम्बल के अन्दर हाथ डाल के आपके जांघ की मालिश कर दूंगा।”
“मैं खुद ही कर लूंगी।”
“मैं एक बार कर देता हूं आपको आराम जल्दी मिल जायेगा।”
“अलमारी से कम्बल निकाल के मेरे ऊपर कर दे।”

मैंने मम्मी के ऊपर कम्बल कर दिया। फिर मैंने कम्बल के अन्दर हाथ डाल के मम्मी की शलवार का नाड़ा खोला और शलवार घुटनों के नीचे सरका दी, मम्मी ने अपनी आंखें बंद कर ली। मैंने मम्मी की जांघ पर तेल लगाना शुरु किया।
“ऊऊओह…” मम्मी की जांघ का अनुभव बहुत ही मादक था।

Antarvasna Story Fun

“मम्मी कहाँ तक लगाऊँ तेल?”
“बेटे थोड़ा तेल जांघ पर!”

मैंने मम्मी की जांघ पर अंदर की तरफ़ तेल लगाना शुरु किया तब मम्मी ने अपनी टांगें थोड़ी फ़ैला ली। मैं तेल मलते हुए कभी कभी अपना हाथ मम्मी की पेंटी और चूत के पास फेरता रहा। मैं कम्बल में खिसक गया और मम्मी की टांगें अपनी कमर की साइड पे रख के तेल लगाता रहा।

“मम्मी, अगर आप उलटी लेट जाओ तो मैं पीछे से भी तेल लगा दूंगा।”
“अच्छा!”
“मम्मी शलवार का कोई काम नहीं है, इसे उतार दो!”
“नहीं, खोल के घुटनों तक सरका दे।”
“अच्छा।”

फिर मम्मी पेट के बल लेट गयी, अब मैं मम्मी की दोनों टांगों के बीच में बैठा हुआ था- मम्मी कुछ आराम मिल रहा है?
“हम्म!”
“मम्मी एक बात बोलूं?”
“हम?”
“आपकी जांघें सोफ़्टी की तरह मुलायम हैं.”
मम्मी इस पर कुछ नहीं बोली।

मैंने तेल मम्मी की हिप्स पर लगाना शुरु कर दिया- मम्मी आपकी हिप्स को छू के…
“छू के क्या?”
“कुछ नहीं!”
“बता न छू के क्या?”
“आपके हिप्स को छू के दिल करता है कि इन्हें छूता और मसलता जाऊँ।

माँ की मालिश कर 1 बेटे ने की चूत चुदाई Antarvasna Story Fun maan kee maalish kar 1 bete ne kee choot chudaee

आपकी जांघें और हिप्स बहुत चिकनी हैं। तेल से भी ज़्यादा चिकनी। मम्मी क्या आपकी कमर भी इतनी ही चिकनी है?”
“तुझे नहीं पता? खुद ही देख ले!”
“मम्मी आप पहले के जैसे पीठ के बल लेट जाओ!”
“ठीक है।”

Antarvasna Story Fun

फिर मैं मम्मी के पेट और कमर पर हाथ फेरने लगा।
“बेटे अब मैं बहुत मोटी होती जा रही हूं, है न?”
“नहीं मम्मी, आप पहले से ज्यादा सेक्सी लगने लगी हो?”
“क्या लगने लगी हूं?”
“सेक्सी।”

“बेटे सेक्सी का क्या मतलब होता है?”
“सेक्सी का मतलब होता है कामुक!”
“सच्ची, मैं तुझे कामुक लगती हूं?”
“हाँ, मम्मी मैंने आज तक इतनी चिकनी हिप्स नहीं देखी… क्या मैं आपकी हिप्स पे किस कर सकता हूं?”
“क्या?”
“प्लीज़ मम्मी, बस एक बार!”
“पर किसी को बताना मत!”
“बिल्कुल नहीं बताऊँगा!”

मैं मम्मी की हिप्स पे किस करने लगा और जीभ से चाटने भी लगा।
“बेटे कम्बल निकाल दे।”
मैंने कम्बल निकाल दिया।
“मम्मी आपकी हिप्स के सामने तो अमूल बटर भी बेकार है।”
“अच्छा।”

“मम्मी मैं एक बार आपकी नाभि पे किस करना चाहता हूं।”
“नहीं, तूने हिप्स पे कहा था और वो मैंने करने दिया और तूने तो उसे चाटा भी है, अब और नहीं।”
“प्लीज़ मम्मी, जब हिप्स पे कर लिया तो नाभि से क्या फ़र्क पड़ता है?”
“तो आखिर करना क्या चाहता है?”
“मैं तो आपकी जांघों को भी चूमना चाहता हूं, आपकी जांघों की शेप किसी को भी ललचा सकती है, आपकी कच्छी (पेंटी) आपकी कमर पे इतनी अच्छी तरह फ़िट हो रही है कि मैं बता नहीं सकता, आपकी जांघें देख कर तो मेरे मुँह में पानी आ रहा है, क्या मैं आपकी जांघों पे भी किस कर सकता हूं?”

Antarvasna Story Fun

“पता नहीं तूने मुझ में ऐसा क्या देख लिया है, हम दोनों जो भी करेंगे सिर्फ़ आज करेंगे और आज के बाद कभी इसको डिस्कस भी नहीं करेंगे, प्रोमिस?”
“प्रोमिस… मम्मी मैं आपकी शलवार निकाल दूं?”
“हम्मम्मम… निकाल दे!”

अब मम्मी बिना शलवार के थी। फिर मैं मम्मी की नाभि को चाटने लगा। मम्मी ने अपनी आंखें बंद कर ली। फिर मैं मम्मी की जांघों को दबाने, चूमने और चाटने लगा।फिर मैंने एक चुम्मा पेंटी के ऊपर से ही मम्मी की चूत का लिया।
“अह्हह, बेटा… ऊउस्स शहह्हह… यह क्या… अच्छा लग रहा है!”
“मम्मी मैं आपकी चूत चखना चाहता हूं।”
“क्या चखना चाहता है?”
“चूत”
“चूत क्या होती है?”
“चूम के बताऊँ?”
“बता”
मैंने फिर से पेंटी के ऊपर से मम्मी की चूत को चूमा। मम्मी ने कहा “आआहह्हह…ईईएस्स…बेटा मेरी चूत को थोड़ा और चूम”
“कच्छी के ऊपर से ही?”
“नहीं, कच्छी निकाल दे।”

मम्मी के इतना कहने की देर थी कि मैंने कच्छी निकाल दी और मम्मी की चूत को चाटना शुरु कर दिया।

माँ की मालिश कर 1 बेटे ने की चूत चुदाई Antarvasna Story Fun maan kee maalish kar 1 bete ne kee choot chudaee

मम्मी सिसकने लगी- ईईएस्स शहह्ह… आआहह… बेटा बहुत आनन्द आ रहा है। मेरी चूत पे तेरी जीभ का स्पर्श कमाल का मजा दे रहा है।

मैं कुछ देर तक मम्मी की चूत चाटता रहा। इतने सब होने के बाद तो मेरा लौड़ा भी तैयार था- मम्मी, अब मेरा लौड़ा बेचैन हो रहा है।
“लौड़ा क्या होता है?”

Antarvasna Story Fun

मैंने अपना पैंट उतार कर अपना लौड़ा मम्मी के सामने रख दिया और बोला- मम्मी इसे कहते हैं लौड़ा!
“हाय माँ… तू इतना गंदा कब से बन गया कि अपना यह… क्या नाम बताया तूने इसका?”
“लौड़ा!”
“हाँ, लौड़ा, की अपना लौड़ा अपनी ही माँ के सामने रख दे।”
“माँ मेरा लौड़ा मेरी माँ की चूत के लिये मचल रहा है।”

“लेकिन बेटे माँ की चूत में उसके अपने बेटे का लौड़ा नहीं घुस सकता।”
“लेकिन क्यों माँ?”
“क्योंकि यह पाप है।”
“माँ तू क्या है?”
“मैं तेरी मा हूं।”

“मेरी माँ होने से पहले तू क्या है”
“इंसान…”
“और उसके बाद?”
“एक औरत।”
“बस, सबसे पहले तू एक औरत है और मैं एक मर्द, और एक मर्द का लौड़ा औरत की चूत में नहीं घुसेगा तो कहाँ घुसेगा?”
“लेकिन…”

“क्या माँ, जब मैंने तेरी चूत तक चाट ली तो क्या तुझे चोद नहीं सकता?”
“चोद मतलब?”
“मतलब अपना लौड़ा तेरी चूत में!”
“तू मेरी चूत चाहे कितनी ही चाट ले, मुझे चटवाने में ही मजा आ रहा है”

“माँ चुदाई में जो आनन्द है वो और किसी चीज़ में नहीं”
“तू जानता नहीं मेरी चूत इस वक्त लौड़े की भूखी है। पर कहीं बच्चा न हो जाये?”
“नहीं माँ, मैं अपना माल तेरी चूत में नहीं गिराऊँगा”
“प्रोमिस?”
“प्रोमिस।”

Antarvasna Story Fun

“तो अपनी माँ की बेकरार चूत को ठंडा कर दे न, बेटे मेरी चूत की आग बुझा दे न!”
“पहले तू बैठ जा।”
“ले बैठ गयी।”
“अब तू मेरे लौड़े पे बैठ जा!”

फिर माँ मेरे लौड़े पर बैठ गयी और मैंने धक्के मारने शुरु कर दिये।

माँ की मालिश कर 1 बेटे ने की चूत चुदाई Antarvasna Story Fun maan kee maalish kar 1 bete ne kee choot chudaee

“ऊऊओ… बेटे… अहह…”
“ओह, ओह, मा तेरी चूत तो टाइट है!”
“ऊऊओहह्हह… अपने बेटे के लिये ही रखी है।”

“हाँ…माँ की चूत बेटे के काम नहीं आयेगी तो किसके काम आयेगी”
“ऊऊओ… मेरा प्यारा बेटा… मेरा अच्छा बेटा… और ज़ोर लगा।”
“ऊह्ह…मेरी माँ कितनी अच्छी है।”

फिर मैं और मम्मी चुदाई के साथ फ़्रेंच किस भी करते रहे।
“ऊऊ माँ मेरा माल निकलने वाला है।”
“मेरा भी।”
“करूं अपने लौड़े को तेरी चूत से अलग?”
“नहीं…नहीं, प्लीज़, चोदता रह तेरे लौड़े में मेरी चूत की जान है।”
“और तेरी चूत में मेरे लौड़े की जान है।”
“आआहह… ऊऊ…”

Antarvasna Story Fun

अब मैंने अपना लण्ड माँ की मुँह में दे दिया. वो उसे भी मज़े से चूसे जा रही थी.

माँ की मालिश कर 1 बेटे ने की चूत चुदाई Antarvasna Story Fun maan kee maalish kar 1 bete ne kee choot chudaee

कुछ देर बाद वो बोली- चल आ जा! और चोद मुझे!

और मैंने इशारा पा कर उसकी बुर में अपना लण्ड फंसा दिया.
वो बोल रही थी- धीरे! आह्ह्ह्ह्ह्! अव्वो! आराम से!
कुछ देर बाद वो छूटने वाली थी और मैं भी.

मैंने अपना पानी उसके बुर के उपर डाल दिया.

माँ की मालिश कर 1 बेटे ने की चूत चुदाई Antarvasna Story Fun maan kee maalish kar 1 bete ne kee choot chudaee

फिर उसके ऊपर ही निढाल हो कर गिर गया- आआ आआ आ आ आअ!
सुबह हुई तो मेरे सामने मेरी माँ मुस्कराते हुए कहने लगी- कैसी कटी रात?
अब जब भी हमें मौका मिलता है तो मैं उसे चोदता हूँ.

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं. और सेक्स विडियो और new कहानी पढने के लिये telegram ग्रुप join कर सकते है.

Read in English

haay, mera naam sumit hai. mujhe abhee tak yakeen nahin hota jo main likhane ja raha hoon. 3 din pahale mere saath aisa eksaperiens hua jo main soch bhee nahin sakata tha.
hua yoon ki meree pooree femilee (mera sanyukt parivaar hai) kisee shaadee pe do din ke liye chalee gayee. ghar sirf paapa, mammee aur main tha. subah paapa bhee ofis chale gaye Antarvasna Story Fun.

mammee kaamavaalee ke saath kaam karane lagee aur main apane kamare main stadee karane chala gaya. dopahar kareeb ek baje kaamavaalee chalee gayee. main stadee kar raha tha ke mujhe mammee kee aavaaz aayee Antarvasna Story Fun.

main kamare ke baahar gaya to dekha ki mammee farsh par giree padee thee. mainne fauran jaakar mammee ko uthaaya aur poochha- kya hua?
“farsh par paanee pada tha, mainne dekha nahin aur gir gayee!”
“chot to nahin lagee?”
“taang mud gayee.”
“haldee vaala doodh pee lo! Antarvasna Story Fun.

“nahin, usakee zaroorat nahin. bas taang mein dard ho raha hai, lagata hai nas pe nas chadh gayee hai!”
“thodee der let jao!”
“mujhase chala nahin ja raha, mujhe bas mere kamare tak chhod aa!”
“aaraam se let jao aur ab koee kaam karane kee zaroorat nahin hai.” Antarvasna Story Fun.

“haay re, taang hilaee bhee nahin ja rahee.”
“main kuchh der daba doon kya?”
“daba de.”
mainne taang dabaanee shuroo kee. main pooree taang daba raha tha, pair se lekar jaangh tak Antarvasna Story Fun.

“kuchh aaraam mil raha hai?”
“haan”
“mere khyaal se to aap thoda tel laga lo, jaldee aaraam mil jaayega.”
“kaun sa tel lagaoon?”
“vo hee, jo bodee oyal mere paas hai.”
“chal le aa” Antarvasna Story Fun.

main apane kamare se jaakar tel le aaya. mammee ne apanee shalavaar oopar utha lee lekin vo ghutane se oopar nahin uth paayee. mainne kaha “agar aapako aitaraaz na ho to main hee laga doon?”

itane mein phon kee bel bajee. phon pe paapa ne kaha ki vo aaj khaana khaane nahin aayenge.

“kisaka phon tha?”
“paapa ka tha ki vo khaana khaane nahin aa rahe!”
“achchha!”
“tel laga doon?”
“laga de!” Antarvasna Story Fun.

phir mainne mammee ke pair se lekar ghutane tak tel lagaana shuroo kar diya kuchh der baad mammee bolee “par dard to mere ghutane ke oopar ho raha hai.”
“ek kaam karate hain. aap taang ke oopar kambal kar lo, main kambal ke andar haath daal ke aapake jaangh kee maalish kar doonga.”
“main khud hee kar loongee.” Antarvasna Story Fun.
“main ek baar kar deta hoon aapako aaraam jaldee mil jaayega.”
“alamaaree se kambal nikaal ke mere oopar kar de.”

mainne mammee ke oopar kambal kar diya. phir mainne kambal ke andar haath daal ke mammee kee shalavaar ka naada khola aur shalavaar ghutanon ke neeche saraka dee, mammee ne apanee aankhen band kar lee. mainne mammee kee jaangh par tel lagaana shuru kiya.
“oooooh…” mammee kee jaangh ka anubhav bahut hee maadak tha Antarvasna Story Fun.

“mammee kahaan tak lagaoon tel?”
“bete thoda tel jaangh par!”

mainne mammee kee jaangh par andar kee taraf tel lagaana shuru kiya tab mammee ne apanee taangen thodee faila lee. main tel malate hue kabhee kabhee apana haath mammee kee pentee aur choot ke paas pherata raha. main kambal mein khisak gaya aur mammee kee taangen apanee kamar kee said pe rakh ke tel lagaata raha Antarvasna Story Fun.

“mammee, agar aap ulatee let jao to main peechhe se bhee tel laga doonga.”
“achchha!”
“mammee shalavaar ka koee kaam nahin hai, ise utaar do!”
“nahin, khol ke ghutanon tak saraka de.”
“achchha.” Antarvasna Story Fun.

phir mammee pet ke bal let gayee, ab main mammee kee donon taangon ke beech mein baitha hua tha- mammee kuchh aaraam mil raha hai?
“hamm!”
“mammee ek baat boloon?”
“ham?”
“aapakee jaanghen softee kee tarah mulaayam hain.”
mammee is par kuchh nahin bolee Antarvasna Story Fun.

mainne tel mammee kee hips par lagaana shuru kar diya- mammee aapakee hips ko chhoo ke…
“chhoo ke kya?”
“kuchh nahin!”
“bata na chhoo ke kya?”
“aapake hips ko chhoo ke dil karata hai ki inhen chhoota aur masalata jaoon Antarvasna Story Fun.

usai
aapakee jaanghen aur hips bahut chikanee hain. tel se bhee zyaada chikanee. mammee kya aapakee kamar bhee itanee hee chikanee hai?”
“tujhe nahin pata? khud hee dekh le!”
“mammee aap pahale ke jaise peeth ke bal let jao!”
“theek hai.” Antarvasna Story Fun.

phir main mammee ke pet aur kamar par haath pherane laga.
“bete ab main bahut motee hotee ja rahee hoon, hai na?”
“nahin mammee, aap pahale se jyaada seksee lagane lagee ho?”
“kya lagane lagee hoon?”
“seksee.” Antarvasna Story Fun.

“bete seksee ka kya matalab hota hai?”
“seksee ka matalab hota hai kaamuk!”
“sachchee, main tujhe kaamuk lagatee hoon?”
“haan, mammee mainne aaj tak itanee chikanee hips nahin dekhee… kya main aapakee hips pe kis kar sakata hoon?” Antarvasna Story Fun.
“kya?”
“pleez mammee, bas ek baar!”
“par kisee ko bataana mat!”
“bilkul nahin bataoonga!”

main mammee kee hips pe kis karane laga aur jeebh se chaatane bhee laga.
“bete kambal nikaal de.”
mainne kambal nikaal diya.
“mammee aapakee hips ke saamane to amool batar bhee bekaar hai.”
“achchha.” Antarvasna Story Fun.

“mammee main ek baar aapakee naabhi pe kis karana chaahata hoon.”
“nahin, toone hips pe kaha tha aur vo mainne karane diya aur toone to use chaata bhee hai, ab aur nahin.”
“pleez mammee, jab hips pe kar liya to naabhi se kya fark padata hai?”
“to aakhir karana kya chaahata hai?” Antarvasna Story Fun.
“main to aapakee jaanghon ko bhee choomana chaahata hoon, aapakee jaanghon kee shep kisee ko bhee lalacha sakatee hai, aapakee kachchhee (pentee) aapakee kamar pe itanee achchhee tarah fit ho rahee hai ki main bata nahin sakata, aapakee jaanghen dekh kar to mere munh mein paanee aa raha hai, kya main aapakee jaanghon pe bhee kis kar sakata hoon?” Antarvasna Story Fun.

“pata nahin toone mujh mein aisa kya dekh liya hai, ham donon jo bhee karenge sirf aaj karenge aur aaj ke baad kabhee isako diskas bhee nahin karenge, promis?”
“promis… mammee main aapakee shalavaar nikaal doon?”
“hammammam… nikaal de!” Antarvasna Story Fun.

ab mammee bina shalavaar ke thee. phir main mammee kee naabhi ko chaatane laga. mammee ne apanee aankhen band kar lee. phir main mammee kee jaanghon ko dabaane, choomane aur chaatane laga.phir mainne ek chumma pentee ke oopar se hee mammee kee choot ka liya.
“ahhah, beta… oouss shahahhah… yah kya… achchha lag raha hai!”
“mammee main aapakee choot chakhana chaahata hoon.”
“kya chakhana chaahata hai?”Antarvasna Story Fun.
“choot”
“choot kya hotee hai?”
“choom ke bataoon?”
“bata”
mainne phir se pentee ke oopar se mammee kee choot ko chooma. mammee ne kaha “aaaahahhah…eeeeess…beta meree choot ko thoda aur choom”
“kachchhee ke oopar se hee?”
“nahin, kachchhee nikaal de.” Antarvasna Story Fun.

mammee ke itana kahane kee der thee ki mainne kachchhee nikaal dee aur mammee kee choot ko chaatana shuru kar diya.

usai
mammee sisakane lagee- eeeeess shahahh… aaaahah… beta bahut aanand aa raha hai. meree choot pe teree jeebh ka sparsh kamaal ka maja de raha hai.

main kuchh der tak mammee kee choot chaatata raha. itane sab hone ke baad to mera lauda bhee taiyaar tha- mammee, ab mera lauda bechain ho raha hai. Antarvasna Story Fun.
“lauda kya hota hai?”

mainne apana paint utaar kar apana lauda mammee ke saamane rakh diya aur bola- mammee ise kahate hain lauda!
“haay maan… too itana ganda kab se ban gaya ki apana yah… kya naam bataaya toone isaka?”
“lauda!”
“haan, lauda, kee apana lauda apanee hee maan ke saamane rakh de.”
“maan mera lauda meree maan kee choot ke liye machal raha hai.” Antarvasna Story Fun.

“lekin bete maan kee choot mein usake apane bete ka lauda nahin ghus sakata.”
“lekin kyon maan?”
“kyonki yah paap hai.”
“maan too kya hai?”
“main teree ma hoon.”

“meree maan hone se pahale too kya hai”
“insaan…”
“aur usake baad?”
“ek aurat.” Antarvasna Story Fun.
“bas, sabase pahale too ek aurat hai aur main ek mard, aur ek mard ka lauda aurat kee choot mein nahin ghusega to kahaan ghusega?”
“lekin…”

“kya maan, jab mainne teree choot tak chaat lee to kya tujhe chod nahin sakata?”
“chod matalab?”
“matalab apana lauda teree choot mein!”
“too meree choot chaahe kitanee hee chaat le, mujhe chatavaane mein hee maja aa raha hai” Antarvasna Story Fun.

“maan chudaee mein jo aanand hai vo aur kisee cheez mein nahin”
“too jaanata nahin meree choot is vakt laude kee bhookhee hai. par kaheen bachcha na ho jaaye?”
“nahin maan, main apana maal teree choot mein nahin giraoonga”
“promis?”
“promis.” Antarvasna Story Fun.

“to apanee maan kee bekaraar choot ko thanda kar de na, bete meree choot kee aag bujha de na!”
“pahale too baith ja.”
“le baith gayee.”
“ab too mere laude pe baith ja!”

phir maan mere laude par baith gayee aur mainne dhakke maarane shuru kar diye.

usai
“ooooo… bete… ahah…”
“oh, oh, ma teree choot to tait hai!”
“ooooohahhah… apane bete ke liye hee rakhee hai.” Antarvasna Story Fun.

“haan…maan kee choot bete ke kaam nahin aayegee to kisake kaam aayegee”
“ooooo… mera pyaara beta… mera achchha beta… aur zor laga.”
“oohh…meree maan kitanee achchhee hai.”

phir main aur mammee chudaee ke saath french kis bhee karate rahe.
“oooo maan mera maal nikalane vaala hai.”
“mera bhee.”
“karoon apane laude ko teree choot se alag?”
“nahin…nahin, pleez, chodata rah tere laude mein meree choot kee jaan hai.”
“aur teree choot mein mere laude kee jaan hai.” Antarvasna Story Fun.
“aaaahah… oooo…”

ab mainne apana land maan kee munh mein de diya. vo use bhee maze se choose ja rahee thee.

kuchh der baad vo bolee- chal aa ja! aur chod mujhe!

aur mainne ishaara pa kar usakee bur mein apana land phansa diya.
vo bol rahee thee- dheere! aahhhhh! avvo! aaraam se!
kuchh der baad vo chhootane vaalee thee aur main bhee.

mainne apana paanee usake bur ke upar daal diya. Antarvasna Story Fun.

phir usake oopar hee nidhaal ho kar gir gaya- aaa aaa aa aa aa!
subah huee to mere saamane meree maan muskaraate hue kahane lagee- kaisee katee raat?
ab jab bhee hamen mauka milata hai to main use chodata hoon.

aapako meree yah sachchee seks ghatana kaisee lagee mujhe tailaigram par zaroor bataaye mein aapake chommaint aur maissagai ka intazaar karooga. isake alaava aap kahaanee par neeche kament karake bhee apanee raay de sakate hain. aur seks vidiyo aur naiw kahaanee padhane ke liye tailaigram grup join kar sakate hai.
Show less.

Read more Maa Beta Sex Stoies-

माँ बेटे का चुदाई वाला प्यार 1 best xxx story ma beta

Mom sex story माँ की चूत की सफाई के बाद चुदाई 1 Best Sex

Maa aur bete ki chudai मॉम की चुदाई की 1 सच्ची Sex स्टोरी

Leave a Comment