Bhabhi story in hindi भाभी की रसीली चुत का दीवाना 1 Good Sex

भाभी की रसीली चुत का दीवाना Bhabhi story in hindi

bhabhi story in hindi: मेरे प्रिय दोस्तो, मेरा नाम अजय है, मेरी उम्र 28 साल की है. मेरा लंड बहुत मस्त है, इसकी तारीफ़ मैं नहीं इसका शिकार हुई लौंडियों और भाभियों ने की है. ये मेरी और मेरी एक मदमस्त भाभी की चुदाई की कहानी है.

मैं आपको कहानी विस्तार से बताता हूं. मेरा स्कूल खत्म हो चुका था, अब मुझे कॉलेज जाना था. इस वजह से मुझे दूर शहर में भेज दिया गया. मेरी पड़ोस की एक आंटी की बहू और बेटा वहां रहते थे. पापा ने मुझे उनका पता आदि देकर मुझे भेज दिया.

मैं जब वहां गया और उनके घर जाकर मैंने उनका दरवाजा खटखटाया, तो भाभी ने दरवाजा खोला. मैं तो बस भाभी को देखता ही रह गया. उफ्फ्फ क्या मादक जिस्म था. खुले काले लंबे बाल, गोरे गाल, लाल होंठ, बड़े बड़े दूध … सपाट पेट, चौड़ी गांड. मैं तो मदहोश हो गया था.

तभी भाभी ने प्यारी सी आवाज़ में कहा- अरे अजय … तुम आ गए मम्मी जी का फ़ोन आया था कि अजय आ रहा है.
मैं- हां भाभी, मैं आ गया.
भाभी- चलो अन्दर आ जाओ.

यह कह कर भाभी मुड़ीं, तो मुझे उनकी गांड देखी … उफ्फ्फ हिलती हुई गांड बड़ी मस्त लग रही थी. उनके दोनों चूतड़ जब थिरक रहे थे, तो ऐसा लग रहा था … मानो एक दूसरे से बातें कर रहे हों. उनके दोनों चूतड़ों के बीच में छुपा हुआ मज़े से भरा हुआ गांड का छेद कैसा होगा … मैं तो बस इस कल्पना को लेकर सोचता ही रह गया. मैं उनके लावण्यमयी शरीर की मदहोशी में सोफे पर जाकर बैठ गया.

भाभी मेरे लिए पानी लाईं. फिर भाभी बैठ कर मुझसे बातें करने लगीं. भाभी ने बताया कि भैया तो ऑफिस के काम से दस दिन के लिए टूर पर गए हैं, मैं अकेली ही घर में हूँ. उनकी इस बात को सुनते ही मेरे दिल में भाभी को चोदने का ख्याल आने लगा.

इससे पहले मैं आगे बढूं, पहले आप सभी को भाभी के बारे में बता दूँ कि भाभी का फिगर 38-34-36 का है और उनकी उम्र 35 साल की है. भाभी इतनी सेक्सी दिखती हैं कि उनको जो भी बंदा एक बार देख ले, बस वो उसी पल से भाभी को अपने बिस्तर की रानी बनाने की सोचने लगेगा.

bhabhi story in hindi

चूंकि पिता जी का फोन आ चुका था कि मुझे भाभी भैया के घर ही रहना है, तो भाभी ने मुझे मेरा कमरा दिखा दिया. मैंने अपना सामान रूम में सैट कर दिया और भाभी के साथ बातें करता रहा.

रात में भाभी ने खाना लगाया, तो मैं टेबल पर बैठा था. इस वक्त भाभी ने एक नीले रंग की झीनी सी नाइटी डाली हुई थी, जिसमें से उनका गोरा बदन चमक रहा था. नाइटी जरा चुस्त थी, तो भाभी के मोटे चुचे मानो जैसे अभी बाहर फट पड़ेंगे … ऐसा साफ़ दिख रहा था.

नाइटी में चूचों के निप्पलों के ऊपर वाली जगह में एक स्टार जैसा कुछ चमकदार नग सा लगा था, जोकि उनके चूचों को और भी पूरा दिखाते हुए भी ढक रहा था. एक इस गहरे गले वाली नाइटी में से भाभी मुझे झुक कर खाना दे रही थीं. जिससे मुझे न केवल ऊपर से बल्कि अन्दर से भी उनके पूरे हिमालय के दर्शन हो रहे थे. मैं उनके हाव भाव से समझ गया कि भाभी आज मुझसे चुदने को राजी हैं.

मैंने और भाभी ने खाना खाया और रूम में आ गए. कुछ देर मैं भाभी के रूम में ही रहा.
उसी वक्त भाभी बोलीं- अब तुम सो जाओ … मैं नहा लूं.

मैंने आश्चर्य जताया कि भाभी ये कौन सा वक्त है नहाने का?
भाभी बोलीं- मैं रात में नहा कर ही सोती हूँ. ये कहते हुए भाभी ने दोनों हाथ ऊपर करके अपने चुचे हिला दिए.

मैं तो उनकी इस अदा से पागल ही हो गया. मुझे दीवाना सा देख कर भाभी मुस्कुरा कर नहाने चली गईं. मैं अपने कमरे में आ गया, लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी. बस बार बार भाभी के चुचे आंखों में आ रहे थे.

कुछ देर बाद मैं भाभी के पास आया, तो भाभी बिस्तर में लेटी थीं.
मैं बोला- भाभी मुझे नींद नहीं आ रही है … क्या मैं आपके पास सो सकता हूँ?
भाभी ने हां कर दी.

bhabhi story in hindi

मैं बस अगले ही एक पल भाभी के पास लेट गया और बिना कुछ सोचे उनसे लिपट गया. मुझे उम्मीद थी कि भाभी कुछ विरोध करेंगी. मगर भाभी ने मुझे अपनी बांहों में समा लिया.
मैंने सबसे पहले भाभी की चुचियों में मुँह लगा दिया. उफ्फ्फ … कितने नर्म चुचे थे.

भाभी पहले तो ना ना करने लगीं- क्या कर रहे हो अजय … छोड़ भी दो उफ्फ्फ्फ बदमाश!

मैं भाभी की कुछ नहीं सुन रहा था और भाभी के चूचों से पूरा लिपट गया था. मेरे लगातार चूचे चूसने के बाद भाभी ने मुझे रोकना बंद कर दिया और मुझे अपनी उफनती जवानी में डुबकी लगाने दिया.

bhabhi-story-in-hindi-devar-bhabi-x-bhabhi-ki-chudai-stories Bhabhi story in hindi

काफी देर बाद मैंने भाभी के चूचों को छोड़ा. इसके तुरंत बाद मैंने उनकी नाइटी को निकाल कर फेंक दिया और खुद भी नंगा हो गया. भाभी भी मेरे लंड को देखकर एकदम से मोहित हो गईं. उनकी चुदास भड़क उठी और वो मेरे लंड को पकड़ कर हिलाने लगीं.

मैंने कहा- भाभी जी सब्र करो, आज मेरा केला आपको ही मिलने वाला है.
भाभी बोलीं- इसे देख कर तो सब्र ही नहीं होता, पहले एक बार प्यास बुझा दो, फिर बाद में बाकी का खेल कर लेंगे.

मैंने उनकी बात से सहमति जताते हुए उनकी टांगें फैला दीं और दोनों टांगों के बीच में आकर अपने लंड को निशाना दिखाने लगा. भाभी ने लंड को चूत की फांकों में फंसाया और गांड उठा कर सुपारा फंसा लिया. इधर सुपारे का फंसना हुआ और उधर मैंने ठोकर मार दी.

भाभी की माँ चुद गई … उनके मुँह से दर्द भरी आह निकल गई ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’ भाभी की आंखें फ़ैल गईं और उनकी मुट्ठियों ने बिस्तर की चादर को भींच लिया.

Bhabhi story in hindi

bhabhi story in hindi

मैं बिना कोई परवाह किये पूरा का पूरा लंड भाभी की रसीली चुत में डालने लगा. पूरा लंड पेलने के बाद मैं एक पल के लिए रुका और उनकी चूचियों को पकड़ कर दबादब चोदने लगा. एक मिनट में ही भाभी की चूत मस्त हो गई और मेरे लंड का उछल उछल कर स्वागत करने लगी.

मैं काफी देर तक भाभी को चोदता रहा. उनकी गांड को सहलाते हुए चुचे चूसते और काटते हुए चुदाई की गति को तेज से तेज करने लगा.

भाभी भी मेरे मोटे लंड से चुद कर जन्नत का मजा ले रही थीं. भाभी ने मुझे अपनी चूचियों से चिपका लिया और मेरे बालों में हाथ फेरते हुए लंड की ठोकरों का मजा लेने लगीं. सच में भाभी की चुदाई में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

कुछ ही देर में भाभी की तेज आह निकलने लगीं और वे झड़ गईं. उनके झड़ने के कुछ पल बाद मैंने भी अपने लंड का पूरा रस भाभी की चूत में ही भर दिया. स्खलन के आनन्द से हम दोनों की आंखें मुंद गई थीं.

एक मिनट बाद जब सैलाब बह गया, तो हम दोनों भाभी देवर सेक्सी बातें करने लगे. मुझे भाभी की नंगी गांड बहुत मस्त माल लगी थी. मैं बार बार भाभी की गांड पर हाथ फेर रहा था और उंगली भी कर रहा था. उंगली के स्पर्श से भाभी अपनी गांड को उचका रही थीं.

कुछ देर बाद एक और दौर चुदाई का चला और हम दोनों नंगे ही लिपट कर सो गए.

मैं सुबह उठा, तो भाभी से चिपका हुआ था. मैंने उनकी चूचियों को चूसना शुरू किया और अपने खड़े लंड को एक बार फिर से भाभी की चुत में पेल दिया. चुदाई का जलजला फिर से अपनी छटाएं बिखेरने लगा. मैंने भाभी की चूत चोद दी और फिर से सो गया.

काफी देर बाद जब मैं उठा, तो भाभी रसोई में चली गई थीं. मैं उठ कर रसोई में गया. भाभी को पीछे से पकड़ लिया और मस्ती करने लगा.

bhabhi story in hindi

भाभी बोलीं- अभी तक मन नहीं भरा तुम्हारा?
मैं- नहीं भाभी … जब आप जैसी सेक्सी माल भाभी हो … तो किस देवर का मन भरेगा.
भाभी- तुम बहुत शैतान हो … यू नॉटी.

तभी दरवाज़े पर दस्तक की आवाज़ हुई. मैं भाग कर कमरे में जाकर अपना बरमूडा पहनने लगा. उधर भाभी ने भाग कर दरवाज़ा खोला और उनको अन्दर बुला लिया.

मैंने वापस आ कर देखा कि ड्राइंग रूम में भाभी की दो सहेलियां अपने 4 बच्चों के साथ आई हुई थीं. सब लोग आपस में मिल कर बात करने लगे. उनकी बातचीत से मालूम हुआ कि उन तीनों को मार्किट जाना था.

भाभी ने मुझसे उन बालकों को शाम तक घर रहने की बोला और वो चली गईं.

इधर मुझे भाभी को चोदने की आग लगी थी. मेरी चाहत जैसी चाहत ही शायद भाभी की भी थी. इसलिए वो अपनी सहेलियों से पीछा छुड़ा कर एक घंटे में ही बाजार से वापस घर आ गईं.

वे अपनी सहेलियों के बच्चों को बाहर वाले कमरे में बिठा कर कमरे में चली गईं. भाभी ने अपने कमरे में जाकर ड्रेस बदल ली. अब भाभी फिर से नाईट ड्रेस में आ गई थीं. मैंने भाभी को पकड़ा और अलग ले जाकर चुम्मी लेने लगा.

उधर भाभी की सहेलियों के बच्चे आवाज देने लगे- आप कहां हो आंटी?
तो भाभी भाग कर उनके पास चली गईं. मैंने भाभी को इशारा किया कि अब नहीं रहा जाता, बस जल्दी से चुदवा लो.

उधर वे चार बच्चे जान की आफत बनाए हुए थे. भाभी से उन सब बच्चों को लुका छुपी खेलने को कहा.
मैंने कहा- सिर्फ बच्चे ही क्यों हम सभी लुका छिपी खेलते हैं न.
मेरी बात सुनकर सब तैयार हो गए. मैं भी साथ में खेलने लगा.

फिर एक जना बारी देने जाता, तो सब छिप जाते. दो बार का खेल तो सामान्य हुआ. तीसरी बार में मैं भाभी को लेकर रूम में ही छिप गया. भाभी इस वक्त मेरे आगे खड़ी थीं. मैंने पीछे से उनकी नाइटी उठाई और पेंटी नीचे करके उनकी चूत में लंड पेल दिया. भाभी बड़ी मुश्किल में अपनी आवाज दबा सकी थीं. मैं भाभी को पकड़ कर चोदने लगा. भाभी मुझे मना कर रही थीं और वे मुझसे छूटने की कोशिश कर रही थीं.

bhabhi story in hindi

तभी मेरी पकड़ ढीली हुई और भाभी उठ कर भागने लगीं. मैंने फिर से उनको पकड़ लिया और एक कोने में ले जाकर पीछे से अपना तन्नाया हुआ लंड उनकी चुत में घुसा दिया. भाभी के चूचों को दबाते हुए मैंने चुदाई के बहुत मज़े लिए. चुदाई पूरी करके मैंने लंड को उनकी नाइटी से ही पौंछा और बरमूडा ऊपर कर लिया. मैं अभी उनको छोड़ना नहीं चाहता था. पर भाभी बाहर भागने को हो गई थीं.

तभी कुछ ही देर में हमारे वाले इस कमरे के बाहर सब बच्चे एक साथ खड़े हो कर आवाज लगाने लगे थे.

भाभी- अजय, अभी इतना ही रहने दो, सब आ गए हैं.
इतना कह कर वे अपनी गांड मटका कर चलते हुए दरवाजा खोलने चली गईं. मैं बेड पर आ गया थ और उधर से ही भाभी की मटकती हुई गांड को देख रहा था.

भाभी दरवाजा खोल कर अपनी सहेलियों के बच्चों से बात करने लगीं.
एक बच्चा बोला- आंटी आप मिल गईं … आपने कितनी देर में दरवाजा खोला … वो भैया कहां हैं?

तभी मैंने पीछे से आकर भाभी की गांड पर दांत से काट लिया. भाभी चिहुँक गईं और मुझे दूर करने लगीं.

भाभी- जाओ अपने अजय भैया को कहीं और ढूंढ लो. वे इधर नहीं हैं.

इतना बोल कर भाभी ने दरवाजा बन्द कर लिया. मैंने करीब आकर भाभी को अपनी गोद में उठा लिया और ले जाकर बिस्तर पर पटक दिया. फिर मैं उनकी चूत खोल कर उनको चोदने लगा. में फिर से भाभी की चुचियों से लिपट गया और उनकी मोटी चुचियों को मुँह में भर कर चूसते हुए भाभी को चोदने लगा. कुछ देर में फिर से दरवाज़ा बजने लगा, पर इस बार मैं नहीं रुका. मैं भाभी को ज़ोर से चोद रहा था.

कुछ देर में लंड की पिचकारी पर पिचकारी निकलीं और मैंने भाभी के चूचों को ज़ोर से मुँह में भर कर कस कर माल निकाल दिया.

Bhabhi story in hindi

मुझे बहुत मज़ा आया. भाभी की चुचियों पर दांतों के निशान हो गए थे. मुझे भाभी से अलग होने का मन नहीं था, पर होना पड़ा क्योंकि बच्चे परेशान करने लगे थे.

bhabhi story in hindi

भाभी ने दरवाज़ा खोल दिया. वे नाइटी डाल कर बच्चों के साथ बाहर जाकर बैठ गईं और उनसे बातें करने लगीं. इधर मैं भी कपड़े पहन कर बाहर आ गया और बैठ गया.

शाम होने को थी, बच्चे अपने घर जाने वाले थे. मेरा मन तो भाभी की गांड में अटका हुआ था. मैं बार बार जब भी मौका मिलता, भाभी की चूचियों को और गांड को दबा देता था.

फिर उनकी सहेलियां आकर बच्चों को ले गईं. हम भाभी देवर फिर से एक हो गए.

जब तक भैया टूर से वापस नहीं आ गए हम दोनों ने जी भरके चुदाई का मजा लिया. मैंने भाभी की गांड भी मार ली थी. उसकी कहानी मैं अगली बार लिखूंगा. मेरे दिन मज़े से निकलने लगे थे.

इसी बीच मुझे पता लगा कि भाभी अपनी सहेली के भांजे से भी चुद चुकी हैं. ये सुनकर मुझे बहुत जलन हुई कि इतनी सेक्सी सुन्दर भाभी को किसी और ने भी लूट लिया है.

ये कहानी मैं आपको बाद में बताऊंगा. इस बारे में मैंने भाभी को चोदते हुए एक दिन पूछ लिया था और भाभी ने भी मज़े से बता दिया था कि कैसे वो सहेली के भांजे से चुद गयी थीं.

फिर मैंने भी भाभी की सहेली को चोद दिया था. आप अपना प्यार देते रहना, मैं ऐसे ही चुदाई की कहानी लिखता रहूंगा.
मेरा ईमेल है [email protected]m

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

Bhabhi story in hindi

Read in English

Bhabhi ki Rasili Chut – Bhabhi story in hindi

bhabhi story in hindi: My dear friends, my name is Ajay, I am 28 years old. My cocks are very cool, I am not praised by laundries and sisters-in-law. This is the story of Chudai of mine and my madam sister-in-law.

Let me tell you the story in detail. My school was over, now I had to go to college. Because of this, I was sent to a distant city. My aunt’s daughter-in-law and son used to live there. Father gave me his address etc. and sent it to me and bhabhi story in hindi.

When I went there and knocked on their door, I opened the door. I just kept looking at her sister-in-law. Uffff what was an alcoholic body. Open black long hair, blond cheeks, red lips, big milk… flat stomach, wide ass. I was drunk but bhabhi story in hindi.

Then sister-in-law said in a cute voice- Hey Ajay… You have come to call my mother that Ajay is coming.
I – yes sister-in-law, I have come.
Sister-in-law come in.

After saying this, sister-in-law turned, so I saw her ass… Uffff shaking ass was looking very cool. When both their butts were twitching, it seemed… as if they were talking to each other. What would it be like to have an ass hole full of fun hidden between their two cocks… I just kept thinking about this fantasy. I sat on the couch in a trance of his lavanayamayi body then bhabhi story in hindi.

Sister-in-law brought water for me. Then sister-in-law started talking to me. Sister-in-law said that brother, he has gone on a tour for ten days from office work, I am the only one at home. As soon as I heard this thing, I started thinking about fucking my sister-in-law and bhabhi story in hindi.

Before I go ahead, let me tell you about the sister-in-law that the figure of the sister-in-law is 38-34-36 and her age is 35 years. Sister-in-law looks so sexy that whoever sees her once, just from that moment he will start thinking of making her sister queen of his bed.

bhabhi story in hindi
Since father’s phone call had come that I have to stay at brother-in-law’s house, then sister-in-law showed me my room. I set my luggage in the room and kept talking with sister-in-law.

Sister-in-law put food in the night, so I was sitting at the table. At this time, the sister-in-law had a navy blue color, out of which her blonde body was shining. Nighty was a bit tight, so as if her sister’s thick nipples would just burst out… it looked clear in bhabhi story in hindi.

In the space above the nipples of the nipple, there was a bright star like a star, which was covering even more, showing her boobs. In this deep-throat nightie, sister-in-law was giving me food. Due to which, I was seeing his entire Himalayas not only from above but also from inside. I understood from his gesture that sister-in-law is ready to fuck me today bhabhi story in hindi.

Me and sister-in-law ate food and came into the room. For a while I stayed in the sister-in-law’s room.
At the same time, sister-in-law said – Now you go to sleep… I will take a shower and bhabhi story in hindi.

I wondered what time is it in law?
Sister-in-law said- I sleep at night only after taking a bath. Saying this, sister-in-law shook her hands with both hands up.

I was mad at his performance. On seeing me crazy, sister-in-law smiled and went to take bath. I came to my room, but I could not sleep. Bhabhi’s eyes were coming in her eyes again and again bhabhi story in hindi.

After some time I came to her sister-in-law, then sister-in-law was lying in bed.
I said – sister-in-law I am not able to sleep… can I sleep with you?
Sister-in-law said yes.

bhabhi story in hindi
For the next moment I lay down with my sister-in-law and hugged her without thinking anything. I expected her to protest. But sister-in-law took me in her arms.
I first put my mouth in her sister’s pussy. Uffff… how soft was it bhabhi story in hindi.

Sister-in-law did not start at first – what are you doing, Ajay… Leave it alone

I was not listening to anything of sister-in-law and I was completely wrapped up by her sister-in-law. After sucking my cock continuously, the sister-in-law stopped taking me and let me dive into my swollen youth then bhabhi story in hindi.

After a long time, I left her sister’s pussy. Soon after, I threw out his nightie and got naked too. Sister-in-law too became fascinated by seeing my cock. His fuck erupted and she grabbed my cock and started shaking.

I said – sister-in-law, be patient, today you are going to get my banana.
Sister-in-law said, seeing this, there is no patience, first quench the thirst, then later you will do the rest of the game and bhabhi story in hindi.

I agreed with her and spread her legs and came in between the two legs and started targeting my cock. Sister-in-law licked the cocks and picked up the ass and stuck supra. The betel nut got stuck here and there I stumbled.

bhabhi-story-in-hindi-devar-bhabi-x-bhabhi-ki-chudai-stories
Sister-in-law’s mother went to bed… Painful sigh came out of her mouth ‘Ummh… Ahhh… Hah… Oh…’ Sister-in-law’s eyes spread and her fists touched the bed sheet.

bhabhi story in hindi
Without any care, I started putting the entire cock in the succulent pussy of the law. After drinking all the cocks, I stopped for a moment and grabbed his cunt and started squeezing. Within a minute, the sister-in-law’s pussy got hot and my cock started bouncing and bouncing and bhabhi story in hindi.

I kept fucking my sister for a long time. Sucking his ass while sucking and biting the speed of fuck began to accelerate.

Sister-in-law was enjoying Jannat by fucking me with thick cocks. Sister-in-law got me glued to her nipples and started enjoying the licking of cocks, turning my hand in my hair. I was really enjoying the fuck of sister-in-law, bhabhi story in hindi.

In a short time, her sister-in-law started coming and she collapsed. After a few moments of his loss, I also filled the entire juice of my cock in her sister’s pussy. The eyes of both of us were closed with the joy of ejaculation and bhabhi story in hindi.

After one minute when the flood was over, we both started talking sexy. I felt very proud of sister-in-law’s naked ass. I was repeatedly turning my hand on the ass of the sister-in-law and also finger. With the touch of a finger, sister-in-law was shoving her ass and bhabhi story in hindi.

After some time another round of sex went on and we both slept nakedly.

When I woke up in the morning, my sister was clinging to her. I started sucking her pussy and put my standing cocks in the sister-in-law once again. Chudai’s fury again started spreading its hues. I gave her pussy pussy and slept again to bhabhi story in hindi.

After a long time when I woke up, the sister-in-law had gone to the kitchen. I got up and went to the kitchen. Bhabhi caught her from behind and started having fun.

bhabhi story in hindi
Sister-in-law said – your heart is not full yet?
Me- No sister-in-law… when you have sexy goods like law… then which brother-in-law will fill your mind.
Sister-in-law, you are very devil… U naughty for bhabhi story in hindi.

Then there was a knock on the door. I ran into the room and started wearing my Bermuda. On the other hand, sister-in-law opened the door and called them inside.

I came back and saw that two of her sisters-in-law had come with their 4 children in the drawing room. Everyone started talking together. Their conversation revealed that all three of them had to go to the market in bhabhi story in hindi.

Sister-in-law told me to keep those children home till evening and she left.

Here I was on fire to fuck my sister-in-law. Probably my wish was also that of sister-in-law. So she came back home from the market within an hour after getting rid of her friends.

She made her friends sit in the outside room and went to the room. The sister-in-law changed the dress by going to her room. Now sister-in-law came in night dress again. I caught the sister-in-law and took her away and started kissing and bhabhi story in hindi.

On the other hand, the children of her sisters-in-law started giving voice- where are you aunt?
So sister ran away and went to them. I indicated to the sister-in-law that it is no more, just take a quick fuck and bhabhi story in hindi.

On the other hand, those four children were in danger of life. Bhabhi asked all those children to play hide and seek.
I said – why only children, we all play hide and seek.
Everyone agreed to listen to me. I also started playing together in bhabhi story in hindi.

If one went to give Jana Bari, everyone would hide. Twice the game was normal. In the third time I hid in the room with sister-in-law. Bhabhi was standing in front of me at this time. I lifted his nightie from behind and put the panty down and licked his pussy. Sister-in-law could press her voice in great difficulty. I grabbed sister-in-law and started fucking. Sister-in-law was refusing me and she was trying to get me out.

bhabhi story in hindi
Then my grip loosened and sister-in-law got up and started running away. I again caught him and took him to a corner and inserted his strapped cocks from behind into his pussy. I enjoyed a lot of chudai while pressing her pussy. After completing the fuck, I licked the cocks from their nighties and lifted Bermuda up. I did not want to leave them yet. But sister-in-law had to run out to bhabhi story in hindi.

Shortly thereafter, all the children stood outside this room and started making voices.

Sister-in-law Ajay, just let it be so, everyone has come.
After saying this, she went to open the door while walking away with her ass. I came to the bed and from there I was looking at the slapping ass of her sister-in-law.

Sister-in-law opened the door and started talking to the children of her friends.
A child said – Aunt you have found… How long have you opened the door… Where are those brothers?

That is when I came from behind and bitten my sister-in-law with a tooth. Sister-in-law chirped and started removing me to bhabhi story in hindi.

Sister-in-law, find your brother Ajay elsewhere. They are not here.

After speaking so much, sister-in-law closed the door. I came close and lifted the sister-in-law on my lap and took her and slammed her on the bed. Then I opened his pussy and started fucking him. I again got wrapped up in her pussy and started sucking her thick nipples in the mouth. After some time the door started ringing again, but this time I did not stop. I was fucking loud in law and bhabhi story in hindi.

In a while, the squirrel came out on the cock at the cocks and I removed the goods tightly by filling her pussy’s pussy in the mouth. I enjoyed a lot. There were teeth marks on her sister’s pussy. I did not feel like being separated from sister-in-law, but had to be because the children started bothering.

bhabhi story in hindi
Sister-in-law opened the door. She sat outside with the children after putting on nighty and started talking to them. Here I too came out wearing clothes and sat down to bhabhi story in hindi.

It was about to be evening, the children were about to go home. My mind was stuck in sister-in-law’s ass. Whenever I would get a chance, I used to suppress the sister’s pussy and ass, bhabhi story in hindi.

Then his friends came and took the children. We brother-in-law became one again.

Both of us enjoyed our sex till the time Bhaiya returned from the tour. I also killed sister-in-law’s ass. I will write his story next time. My days were starting to get fun in bhabhi story in hindi.

Meanwhile, I came to know that the sister-in-law has also been sucked by her friend’s nephew. I was very jealous to hear that such a beautiful beautiful sister has been robbed by someone else too the bhabhi story in hindi.

I will tell you this story later. I had asked her about it one day while fucking her and sister-in-law had also told me how she had been fuck with her nephew and bhabhi story in hindi.

Then I also gave Chod to her sister-in-law. You keep on giving your love, I will keep writing the story of chudai.
My email is [email protected]

More Bhabhi Sex Story-

नयी भाभी की गांड की सील तोड़ी | bhabhi ki sex story in hindi,bhabhi hindi story

भाभीजान की गांड मारकर गांड की खुजली दूर की | bhabhi ki xxx story

पड़ोसन भाभी ने मुझे सेक्स करना सिखाया – bhabhi xxx kahani – bhabhi ki stories

Leave a Comment