Follow my blog with BloglovinGroup chudai stories भाभी ने गांड मराई 3 लौड़ों से fun sex

Group chudai stories भाभी ने गांड मराई 3 लौड़ों से fun sex

भाभी ने गांड मराई group chudai stories

Group chudai stories: मेरी पड़ोसन भाभी पटाखा माल लगती थी मुझे. हॉट भाभी की गांड को देख कर अक्सर मैं उसकी गांड चुदाई करना चाहता था. मैंने कैसे भाभी की सेक्सी गांड मारी?

सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार.
मैं पड़ोसन भाभी की गांड चुदाई की कहनी आपने सामने ला रहा हूँ. एक लेखक के रूप में MastHindiStory पर यह मेरी पहली कहानी है लेकिन मैं काफी समय से इसकी कहानियों को पढ़ कर ही मजा ले रहा था. इसलिए मैंने सोचा कि आप लोगों के साथ आज मैं अपनी कहानी बताऊं.

अब मैं आपका ज्यादा समय न लेकर आपको सीधे कहानी की तरफ लेकर चलता हूं. उससे पहले मैं अपना संक्षिप्त परिचय देना चाहूंगा ताकि कहानी को समझने में आपको कोई दिक्कत न हो.

मेरा नाम विकी सेठ है और मैं जयपुर से हूं. मेरी उम्र 24 साल है. यह कहानी पड़ोस में रहने वाली मेरी भाभी की है. भाभी के साथ उसका पति ही उस मकान में रह रहा था जिसको मैं भैया कह कर बुलाता था. भैया एक निजी कंपनी में काम करते हैं जबकि भाभी परीक्षा की तैयारी कर रही थी उस समय.

भाभी का फिगर बहुत ही कातिलाना है. उनके बूब्स का साइज 34B और उसका पिछवाड़ा 36 का है. उनकी कमर बिल्कुल पतली सी है. ज्यादा से ज्यादा 28 ही होगा भाभी की कमर का माप.

मेरी भाभी की गांड इतनी सेक्सी है कि जब वो चलती है तो उसको हर कोई देखने लग जाता है. मैं भी उसको देख कर ऐसे मचल जाता था कि अगर इसकी गांड चोदने के लिए मिल जाये तो बस मजा ही आ जाये.

मैं रोज भगवान से यही दुआ मांगता था कि एक बार बस भाभी को चोदने का मौका मिल जाये. एक दिन मेरी यह प्रार्थना स्वीकार भी हो गयी जब मुझे भाभी की चुदाई करने का मौका मिल गया.

group chudai stories

उस दिन भाभी का कोई एग्जाम था. एग्जाम का सेंटर घर से 15-20 किलोमीटर की दूरी पर था. चूंकि भाभी के घर में मेरे भैया यानि कि उनके पति के अलावा कोई नहीं था तो इसलिए उन्होंने मुझे भाभी को एग्जाम सेंटर तक छोड़ने के लिए कह दिया. भैया को उस दिन किसी मीटिंग में जाना था.

जब उन्होंने मुझे यह बात बताई कि मुझे ही भाभी को एग्जाम के लिए लेकर जाना है तो मेरे मन में तो जैसे लड्डू फूटने लगे थे. मैं तो बहुत दिनों से इस मौके की तलाश में था कि भाभी के साथ कुछ करने का मौका मिल जाये. आज वह मौका मेरे पास आता हुआ मुझे दिखाई दे रहा था.

मैं जल्दी से तैयार होकर भाभी के घर चला गया. भैया ने मुझे कार की चाबी दे दी. उन्हीं की कार में मैं भाभी को लेकर एग्जाम सेंटर के लिए लेकर चल पड़ा. चलते हुए मेरे और भाभी के बीच में बातें होना शुरू हो गईं.

रास्ते में बातें करते हुए मैंने बहाने से भाभी से उनकी सेक्स लाइफ के बारे में पूछने की कोशिश की. भाभी की बातों से मुझे पता लग रहा था कि भाभी को अपनी सेक्स लाइफ में कुछ संतुष्टि नहीं मिल पा रही है. इस वजह से मेरा काम मुझे और आसानी से होता हुआ दिखाई दे रहा था.

कुछ टाइम के बाद हम एग्जाम सेंटर में पहुंच गये. भाभी परीक्षा देने के लिए चली गई. दो घंटे की परीक्षा थी तो मैं गाड़ी में बैठा हुआ बोर होने लगा. मैंने सोचा कि बाहर उतर कर थोड़ा टहल लेता हूं. फिर कुछ देर के बाद मुझे पेशाब लगा तो मैंने यहां-वहां देखा कि कोई जगह मिल जाये.

सामने ही एक दूसरा स्कूल था. वहां पर टॉयलेट बना हुआ था. मैं वहां पर चला गया. अंदर जाकर देखा तो वहां पर दो लड़के पहले से ही मौजूद थे. उस दिन छुट्टी का दिन था और वो लोग वहां पर आये हुए थे क्योंकि स्कूल उन्हीं के पिताजी का था.

मेरी उनसे बात हुई तो पता चला कि उनका नाम सोनू और मोनू है और वो स्कूल के मालिक के बेटे हैं. दोनों की उम्र मेरे बराबर यानि कि 25-26 के करीब थी. थोड़ी ही देर में उनके साथ हंसी मजाक होने लगा और हम तीनों की आपस में अच्छी जमने लगी. वो लोग भी मेरे ही टाइप के थे. काफी मजाकिया और दिल खोल कर बात करने वाले.

group chudai stories

जल्दी हम तीनों में दोस्ती हो गई. फिर ऐसे ही करते-करते हमारे बीच में सेक्स की बातें भी होने लगीं. वो कहने लगे कि रंडी की चुदाई करके तो मन भर गया है. अब तो लंड किसी देसी माल के लिए भूखा है जो घरेलू हो. मैं उनका मकसद समझ गया. वो किसी भाभी या आंटी की चूत चुदाई की फिराक में थे.

मेरे दिमाग ने वहीं पर काम करना शुरू कर दिया. मैं कहने लगा कि मैं तुम लोगों के लिए एक जुगाड़ करवा सकता हूं लेकिन उसमें थोड़े पैसे लगेंगे. मेरे पूछने पर वो कहने लगे कि यार तू जितना कहेगा हम देने के लिए तैयार हैं लेकिन माल मस्त होना चाहिए.

मैंने कहा- ठीक है, दस हजार में ऐसी चूत दिलवा दूंगा कि तुम हमेशा मेरा अहसान नहीं भूलोगे.
वो दोनों बोले- सच में? दिलवा यार, अब देर किस बात की है?
उनके अंदर चूत चुदाई की प्यास ऐेसी लगी थी कि वो आराम से दस हजार रूपये देने के लिए तैयार हो गये.

तब तक एग्जाम भी खत्म हो गया था और मैं भाभी को लेने के लिए चला गया. मैंने सोनू और मोनू को बोल दिया था कि वो लोग कुछ देर मेरा इंतजार करें. इतना कह कर मैं भाभी को लेने के लिए चला गया. एग्जाम देने के बाद भाभी बाहर आ गयी.

बाहर आने के बाद मैंने भाभी को जूस पिलाया. भाभी से पूछा कि उनका एग्जाम कैसा गया?
तो भाभी बोली- ठीक ही गया है.

फिर हम दोनों गाड़ी में बैठ गये. गाड़ी में बैठने के बाद मैंने भाभी के हाथ पर हाथ रखा और बोला- भाभी, अगर बुरा न मानो तो मैं कुछ कहना चाहता हूं.

group chudai stories

वो बोली- क्या बात है? कहो.
मैंने कहा- मैं जानता हूं कि आपकी और भैया की सेक्स लाइफ कुछ ठीक नहीं चल रही है. लेकिन आप इस तरह से कब तक अपनी फीलिंग्स को मारती रहोगी.
अगर आप बुरा न मानो तो मैं आपके लिए इंजॉय करने का जुगाड़ कर सकता हूं. आपको उसमें पैसे भी बहुत मिल जायेंगे.

भाभी बोली- पागल हो गये हो क्या तुम? मैं तुम्हें धंधे वाली लग रही हूं?
भाभी ने गुस्से से कहा.

लेकिन मैंने बात को संभालने की कोशिश की और भाभी को अपने झांसे में लेने की कोशिश करने लगा.
मैंने कहा- नहीं भाभी, मैंने ऐसा कब कहा! मैं तो बस आपको खुश देखना चाहता हूं. अगर आपको खुशी के साथ ही पैसा भी मिल जाये तो क्या बुरी बात है.
भाभी ने मेरी बात का कोई जवाब नहीं दिया.

मैंने फिर से कोशिश करते हुए कहा- देखो, औरत की इच्छाएं अगर पूरी न हों तो फिर ऐसे रिश्ते के बारे में ज्यादा क्या सोचना. मैं तो आपको यही कहूंगा कि अगर आपको मौका मिल रहा है मजे लेने का तो उसको हाथ से क्यों जाने दे रही हो. साथ ही साथ आपको पैसा भी मिल रहा है. वो भी पूरे दस हजार!

जब मैंने पैसे की बात बताई तो भाभी ने मेरी तरफ हैरानी से देखा.
फिर कुछ सोच कर बोली- लेकिन किसी को पता चल गया तो?
मैंने कहा- किसी को पता नहीं चलेगा. ये बात आप मुझ पर छोड़ दो.
वो बोली- ठीक है, लेकिन कुछ गड़बड़ नहीं होनी चाहिए.
मैंने कहा- आप बिल्कुल चिंता मत करो.

group chudai stories

फिर भाभी बोली- लेकिन इतने पैसे देगा कौन?
मैंने कहा- वो सब बात मैंने कर ली है. लेकिन आपको मुझे भी खुश करना होगा.
वो बोली- तुम तो घर जैसे ही हो. तुम्हारे साथ मुझे कोई दिक्कत नहीं है लेकिन जो बाहर वाले हैं वो कौन हैं?
मैंने कहा- मेरे दोस्त हैं. अभी वो यहीं पर हैं. अगर आपकी मर्जी तो हम चलें अभी?

वो बोली- ठीक है.
इतना सुनने के बाद मैंने भाभी को कार से नीचे उतरने के लिए कहा और कार को लॉक कर दिया. फिर हम दोनों स्कूल में चले गये जहां पर सोनू और मोनू मेरा इंतजार कर रहे थे.

जब सोनू और मोनू ने भाभी को मेरे साथ देखा तो उनकी आंखों में हवस की एक चमक सी आ गई. दोनों के मुंह से लार टपक रही थी जैसे. उसके बाद मैं अपने दोस्तों के पास गया और एक तरफ जाकर हमने कुछ बात की.

उसके बाद मैं भाभी के पास वापस आ गया. भाभी को लेकर हम तीनों ही स्कूल के वेटिंग हॉल की तरफ चल दिये. वहां पर जाकर देखा कि छोटे-छोटे दो बेड डाले गये थे. उस हॉल में सेफ्टी भी थी और किसी को कुछ पता नहीं चलने वाला था कि अदंर क्या हो रहा है.

अंदर जाने के बाद हमने मेन डोर को बंद कर दिया और उसके बाद दोनों छोटे बेड को मिला कर एक कर दिया. अब एक बड़ा बेड बन गया था. हम चारों वहां पर बैठ कर बातें करने लगे. कुछ देर यहां-वहां की बातें हुईं.

मैं देख रहा था कि सोनू और मोनू भाभी को ऐसी निगाहों से देख रहे थे जैसे उसको अभी कच्ची ही चबा लेंगे. फिर उन्होंने भाभी के कन्धे पर हाथ रख दिया. यह इस बात का इशारा था कि अब उनसे और इंतजार नहीं हो रहा है. भाभी मेरी तरफ देख कर मुस्कराने लगी.

उसके बाद हमने भाभी को बेड के बीच में बैठा दिया. वो दोनों भाभी के चूचों पर टूट पड़े. उनको कमीज के ऊपर से दबाने और मसलने लगे. ऐसा लग रहा था जैसे भूखे शेरों के सामने कोई मांस का टुकड़ा डाल दिया गया हो. कभी भाभी की गर्दन को चूम रहे थे तो कभी उसको बांहों में भर रहे थे.

यह देख कर मेरा लंड भी टनटना गया. अब सोनू ने भाभी के होंठों को चूसना शुरू कर दिया. तब तक मोनू ने उसकी कमीज को ऊपर कर दिया. भाभी ने उनका साथ देते हुए अपनी कमीज को हाथ ऊपर करते हुए निकलवा दिया.

group chudai stories

लाल रंग की ब्रा में भाभी का गोरा जिस्म अब हम तीनों के सामने था. उनकी ब्रा से उनके चूचे बाहर ही गिरने वाले थे. बहुत बड़े चूचे थे मेरी सेक्सी भाभी के.

group chudai stories

उनको देख कर ऐसा लग रहा था कि इनको जबरदस्ती ब्रा में ठूंसा गया है. वो दोनों बाहर निकलने के लिए बेताब नजर आ रहे थे.

तभी सोनू ने भाभी की ब्रा को जोर से खींच दिया. चट्ट की आवाज के साथ गर्म भाभी की ब्रा के हुक टूट गये और मोनू ने उसकी ब्रा को उसके चूचों के ऊपर से हटा दिया. भाभी ऊपर से नंगी हो गई और उसके चूचे हवा में झूल गये.

चूचे बाहर आते ही वो दोनों उन पर टूट पड़े और उसको दबाने और चूसने लगे. एक चूचे को सोनू ने मुंह में ले लिया और दूसरे को मोनू ने. वो नजारा देख कर ऐसा लग रहा था कि वो दोनों मेरी भाभी के बोबों का दूध पीने में लगे हुए हैं जैसे कोई बच्चा अपनी मां के चूचों से लिपटा हुआ होता है.

मेरी हालत खराब हो रही थी. मैं एक तरफ बैठ कर ये सब देख रहा था और अपनी बारी आने का इंतजार कर रहा था. मेरा लंड मेरी पैंट में उधम मचा रहा था. मैंने उसको तब तक अपनी पैंट के ऊपर से ही सहलाना शुरू कर दिया था क्योंकि सामने का नजारा इतना कामुक था कि मुझसे भी रुकना मुश्किल हो रहा था.

कुछ देर तक भाभी के चूचों को चूसने के बाद उन्होंने भाभी को लिटा दिया और भाभी की सलवार का नाड़ा खोल दिया. सलवार को निकाला तो भाभी की गोरी जांघों में फंसी हुई नीले रंग की पैंटी दिखाई देने लगी. उन लोगों ने पैंटी को अगले दो पल में खींच कर भाभी को पूरी नंगी कर दिया.

अब हॉट भाभी उन दोनों के बीच में पूरी तरह से नंगी लेटी हुई थी. फिर उन्होंने भाभी को बेड से नीचे उतार लिया और खड़ी कर लिया. वो दोनों भाभी के जिस्म से लिपटने लगे. मोनू ने भाभी के चूचों को हाथों में भर लिया और सोनू ने पीछे भाभी की गांड को दबाना शुरू कर दिया.

group chudai stories

उन दोनों के बीच में खड़ी हुई नंगी भाभी सेंडविच के जैसे लग रही थी. फिर उन दोनों ने अपने कपड़े उतार और पूरे के पूरे नंगे हो गये. अब तीनों के तीनों नंगे होकर एक दूसरे के जिस्म से लिपटने लगे. उन दोनों के लंड एकदम से तन कर भाभी के जिस्म में जैसे घुसने को बेताब लग रहे थे.

अब उन्होंने दोबारा से भाभी को बेड पर लिटा दिया और मोनू भाभी की चूत को चाटने लगा. जबकि सोनू ऊपर की तरफ जाकर भाभी के मुंह पर अपना लौड़ा मसलने लगा. फिर उसने भाभी के मुंह को खुलवाकर अपना लंड भाभी के मुंह में दे दिया और सिसकारियां लेते हुए अपना लंड चुसवाने लगा.

भाभी भी हॉट हो चुकी थी और उसके लंड को मजे से चूस रही थी क्योंकि नीचे से भाभी को चूत चटवाने का मजा भी साथ में ही मिल रहा था. उसके बाद दोनों ने पोजीशन बदल ली. अब पहले वाला लंड चुसवाने लगा और ऊपर वाला नीचे आकर भाभी की चूत को चाटने लगा. भाभी बेड पर तड़प रही थी.

मैं भी भाभी की गांड मारने के लिए उस सुनहरे पल का इंतजार कर रहा था. लेकिन अभी पहले सोनू और मोनू को फारिग होना था. इसलिए मैं बड़ी मुश्किल से अपने आपको रोक कर रखे हुए था.

कुछ देर तक दोनों ने भाभी के नंगे जिस्म को खूब चूसा चाटा और अपना लंड भी चुसवाया. फिर मोनू ने भाभी को नीचे लेटते हुए अपने लंड पर बैठने के लिए कहा. मोनू नीचे आ गया और भाभी ने अपनी टांगों को फैलाते हुए मोनू के लौड़े को अपने हाथ में लिया और उसके लंड पर बैठती चली गई.

group-chudai-stories-bhabhi-xxx-story-kamvasna-story

इधर सोनू ने भाभी के मुंह में लंड को ठूंस दिया. एक तरफ गर्दन घुमा कर भाभी सोनू के लंड को चूसती हुई मोनू के लंड पर कूदने लगी. अब मैं भी नंगा होना शुरू हो गया क्योंकि अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था.

group chudai stories

मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिये और अपने लंड को हिलाने लगा. फिर मैं भी बेड पर चढ़ गया. अब मोनू ने भाभी को अपने ऊपर लेटा लिया. भाभी के बड़े-बड़े नंगे चूचे मोनू की छाती से जा सटे. मोनू के सिर के पास सोनू चला गया और उसने वहां बैठ कर भाभी को लंड चुसवाना शुरू कर दिया.

अब भाभी की मोटी गांड मेरे सामने ऊपर की तरफ उठ गई थी. मुझे इसी पल का इंतजार था. मैंने भाभी की गांड अपने हाथों से मसला और कस कर तीन-चार बार दबाया. फिर अपने लंड पर थूक लगा कर भाभी की गांड के छेद पर भी थूक मल दिया.

भाभी समझ गई कि उनकी गांड को चोदने की तैयारी हो चुकी है इसलिए वो उठने लगी लेकिन सोनू ने भाभी के सिर को पकड़ लिया और अपने लंड पर दबाते हुए उसको लंड चुसवाता रहा. मैंने पीछे भाभी की गांड के छेद पर लंड लगाया और उसकी गांड में लंड को धकेल दिया.

Group chudai stories

भाभी ने दर्द के मारे सोनू के लंड पर दांत गड़ा दिये लेकिन सोनू ने लंड नहीं निकाला मैंने पूरा जोर लगा कर भाभी की गांड में लंड को उतार दिया.

आह्ह … भाभी की गुदाज गांड में लंड गया तो मजा आ गया. इतना मजा मुझे कभी महसूस नहीं हुआ था. मैंने धीरे-धीरे अब भाभी की गांड को मसलते हुए उसकी गांड में लंड को चलाना शुरू किया. नीचे से मोनू का लंड भाभी की चूत में जा रहा था. आगे से भाभी के मुंह में सोनू का लंड था.

तीन लंड अपने तीनों छेदों में लेकर भाभी शायद गांड चुदाई के दर्द को भी भूल गई थी. अब वह भी तीनों लंडों का मजा लेने लगी. कुछ ही देर में मोनू का वीर्य भाभी की चूत में निकल गया और वो नीचे से हट गया. अब उसकी जगह सोनू लेट गया और उसकी चूत चुदाई करने लगा.

मुझे भाभी की गांड चोदते हुए काफी देर हो चुकी थी और अब मेरा माल भी निकलने वाला था. मैंने तीन-चार जबरदस्त झटके भाभी की गांड में देते हुए अपना माल उसकी गांड में छोड़ दिया. फिर दो मिनट के बाद सोनू ने भी भाभी की चूत को उछल-उछल कर चोदते हुए उसकी चूत को अपने वीर्य से भर दिया.

group chudai stories

तीनों ने ही भाभी के छेदों में अपना वीर्य निकाल दिया था. जब भाभी उठी तो उसकी चूत और गांड से वीर्य टपक रहा था. हम तीनों अभी भी हांफ रहे थे. मैं पीछे सोफे पर जाकर गिर गया. वो दोनों भाभी के साथ वहीं बेड पर पड़े हुए थे.

कुछ देर के बाद सब कुछ जब सामान्य हो गया तो हम लोग उठे और अपने अपने कपड़े पहनने लगे. कपड़े पहनने के बाद सोनू और मोनू ने अपने वादे के मुताबिक हमें दस हजार रूपये दे दिये. हम पैसे लेकर बाहर आ गये. भाभी के चेहरे पर एक संतुष्टि और खुशी दिख रही थी.

मैं भी हॉट भाभी की गांड चोद कर खुश हो गया था. उसके बाद हम गाड़ी में आकर बैठ गये. भाभी और मैं फिर वहां से निकल गये. फिर रास्ते में मैंने भाभी को फिर से अपना लंड चुसवाया और गाड़ी में ही उसकी चूत चोदी. भाभी को बुरी तरीके से थका दिया था उस दिन तीन लौड़ों की चुदाई ने.

उसके बाद कई बार भाभी ने मौका पाकर मुझसे अपनी चूत मरवाई और मैंने भी भाभी के पूरे मजे लिये. जब भी भैया घर पर नहीं होते थे या फिर भाभी और मुझे बाहर जाने का अवसर मिलता तो हम पूरे मजे लेने लगे थे.

दोस्तो, मेरी इस हॉट भाभी की गांड चुदाई कहानी में आपको मजा आया या नहीं … मुझे बतायें. कहानी के बारे में अपनी राय भी भेजें.
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा.

group chudai stories

Read in English

Bhabhi ki gaand mari 3 ladko ne group chudai stories

group chudai stories: My neighbor bhabhi cracker goods seemed to me. Seeing hot ass of hot bhabhi, I often wanted to fuck her ass. How I killed sexy ass of sister-in-law?

Hello to all friends
I am bringing you the story of the neighbor’s sister-in-law. This is my first story on MastHindiStory as a writer, but I was enjoying reading its stories for a long time. So I thought that with you guys today, I will tell my group chudai stories.

Now I do not take much of your time and take you directly towards the story. Before that I would like to give my brief introduction so that you do not have any problem in understanding the story.

My name is Vicky Seth and I am from Jaipur. I am 24 years old This story is of my sister-in-law living in the neighborhood. Her husband was staying in the house with sister-in-law, whom I used to call as brother. Bhaiya works in a private company while sister-in-law was preparing for the exam at that time for group chudai stories.

The figure of sister-in-law is very murderous. The size of his boobs is 34B and his backyard is 36. His waist is very thin. At most 28 will be the measurement of the law’s waist at group chudai stories.

My sister-in-law’s ass is so sexy that when she walks, everyone starts seeing her. I also used to get so upset by seeing him that if his ass is found for fucking, then it is just fun like group chudai stories.

I used to pray to God every day that once the bus law gets a chance to fuck. One day my prayer was also accepted when I got a chance to fuck her.

Group chudai stories
Sister-in-law had an exam that day. The center of the exam was 15–20 km from home. Since there was no one in the house of her brother-in-law, that is, her husband, so she asked me to leave her sister-in-law to the exam center. Brother had to go to a meeting that day.

When they told me that I had to take my sister-in-law for the exam, then laddus started bursting in my mind. I was looking for this opportunity for a long time to get a chance to do something with my sister-in-law. Today I could see that opportunity coming to me to the group chudai stories.

I quickly got ready and went to sister-in-law’s house. Brother gave me the key to the car. In his car, I took a sister-in-law to the exam center. While walking, things started to happen between me and sister-in-law, Group chudai stories.

While talking on the way, I tried to ask sister-in-law about her sex life. I was finding out from the words of sister-in-law that she is not getting any satisfaction in her sex life. Because of this, I could see my work happening more easily to group chudai stories.

After some time we reached the exam center. Sister-in-law went to take the exam. There was a two-hour exam, so I started getting bored sitting in the car. I thought I would go out and take a walk. Then after some time I started urinating, then I saw here and there to find some place like group chudai stories.

There was another school in front. There was a toilet made there. I went there Going inside, two boys were already present there. That day was a holiday and those people came there because the school belonged to their father.

group chudai stories When I spoke to him, it came to know that his name is Sonu and Monu and he is the son of the owner of the school. Both were close to my age i.e. 25-26. In a short while, laughter started being fun with them and the three of us started getting solidly together. Those people were also of my type. Very funny and open-hearted.

group chudai stories
Soon the three of us became friends. Then while doing this, talking about sex also started happening in our midst. They started saying that after filling the mortal, the mind is full. Now cocks are hungry for some domestic goods which are domestic. I understood his motive. He was looking for a sister-in-law or aunt’s pussy fuck.

My brain started working right there. I started saying that I can make a jugaad for you but it will take some money. On asking me, he started saying that, man, as much as you will say, we are ready to give but the goods should be cool for group chudai stories.

I said – okay, I will get such a pussy in ten thousand that you will not always forget my favor.
Both of them said – really? Dear man, what is the delay now?
There was such a thirst for fuck pussy in him that he agreed to give ten thousand rupees comfortably group chudai stories.

By then the exam was over and I went to pick her up. I told Sonu and Monu that those people would wait for me for some time. After saying this, I went to pick up her sister-in-law. After giving exams, sister-in-law came out.

After coming out, I gave juice to her sister-in-law. Asked her sister-in-law, how was her exam?
So sister-in-law said – it is right now group chudai stories.

Then both of us sat in the car. After sitting in the car, I put my hand on her sister-in-law and said- sister-in-law, if I do not mind, I want to say something.

group chudai stories
She said – what’s the matter? Say.
I said- I know that your and brother’s sex life is not going well. But how long you will keep beating your feelings like this.
If you do not mind, I can make fun of you. You will also get a lot of money in it.

Sister-in-law said – have you gone mad? I look like a businessman to you?
Sister-in-law said angrily like group chudai stories.

But I tried to handle the matter and started trying to take the sister-in-law in my deception.
I said no – sister-in-law, when did I say that! I just want to see you happy. If you get money with happiness, then what a bad thing to the group chudai stories.
Sister-in-law did not respond to my words.

I tried again and said- Look, if the wishes of the woman are not fulfilled, then think more about such a relationship. I will tell you that if you are getting a chance to have fun then why are you letting it go by hand. At the same time, you are also getting money. That too ten thousand! about group chudai stories.

When I told about the money, sister-in-law looked at me with surprise.
Then he thought and said something – but if anyone comes to know?
I said – no one will know. Leave this to me group chudai stories.
That quote is fine, but there should be nothing wrong.
I said- you don’t worry at all.

group chudai stories
Then sister-in-law said – but who will pay so much money?
I said – I have done all that. But you have to make me happy too.
She said – you are just like home. I have no problem with you but who are the outsiders?
I said – I have friends. He is here right now. If we wish, shall we go now about group chudai stories.

She said – okay.
After listening to this, I told her to get down from the car and locked the car. Then both of us went to school where Sonu and Monu were waiting for me.

When Sonu and Monu saw her sister-in-law with me, there was a glow of lust in their eyes. Saliva was dripping from both the mouths as if. After that I went to my friends and we went aside and talked about group chudai stories.

After that I came back to sister-in-law. All three of us walked towards the waiting hall of the school with respect to sister-in-law. Going there, saw that two small beds were put. There was also safety in that hall and no one was going to know what was going on then group chudai stories.

After going inside, we closed the main door and after that, merged the two small beds into one. Now a big bed was formed. All four of us started sitting there and talking. group chudai stories Things happened here and there for a while.

I was seeing that Sonu and Monu were looking at sister-in-law as if they would chew them raw. Then he laid his hands on the shoulder of the sister-in-law. This was a sign that they are no longer waiting. Sister-in-law looked at me and smiled and start group chudai stories.

After that we put her sister-in-law in the middle of the bed. They both broke down on her sister-in-law. He was pressed and mashed on top of the shirt. It seemed as if a piece of meat had been put in front of the hungry lions. Sometimes he was kissing her sister’s neck and sometimes she was filling him in the arms like group chudai stories.

Seeing this, my cock also went tingling. Now Sonu started sucking her lips. Till then, Monu put her shirt up. While supporting her, sister-in-law removed her shirt while raising her hand.

group chudai stories
Bhabi’s blonde body in red bra was now in front of the three of us. group chudai stories His boobs were about to fall out of his bra. My sexy sister-in-law was very big Looking at them, it seemed that they were forced into bra. Both of them looked desperate to get out.

Then Sonu pulled her sister’s bra vigorously. With the voice of Chatt, the hooks of the hot sister-in-law’s bra were broken and Monu removed her bra from the top of her nipples. Sister-in-law became naked from above and her feet swinged in the air then group chudai stories.

As soon as he came out, both of them broke on him and started pressing and sucking him. Sonu took one hand in her mouth and the other by Monu. Seeing that view, it seemed that both of them are engaged in drinking the milk of my sister-in-law’s bobs, like a child is wrapped in her mother’s tits in the group chudai stories.

My condition was getting worse. I was sitting on one side watching all this and waiting for my turn to come. My cock was fussy in my pants. By then I had started caressing him from the top of my pants because the front view was so erotic that I was finding it difficult to stop in group chudai stories.

After sucking sister-in-law for some time, she laid down her sister-in-law and opened the pulse of sister-in-law’s salwar. When Salwar was removed, the blue panties stuck in the white thighs of the law began to appear. They pulled the panties in the next two moments and made her sister naked then group chudai stories.

Now hot sister-in-law was lying completely naked between them. Then they took the sister-in-law down from the bed and made her stand. then group chudai stories Both of them started to embrace the law of the law. Monu stuffed her sister’s pussy and Sonu started pressing her sister’s ass behind.

group chudai stories
The naked sister-in-law standing between them looked like Sandwich. Then both of them took off their clothes and all went naked. Now all three of them got naked and started clinging to each other’s body. The cocks of both of them were completely tanned and looked desperate to enter the law.

Now he again laid the sister-in-law on the bed and started licking Monu’s sister-in-law. While Sonu went upwards, she started rubbing her Aloda on the law. Then he opened the mouth of the sister-in-law and gave his cock in the mouth of her sister-in-law and started smiling his cock while taking Siskaris for group chudai stories.

Sister-in-law was also hot and was sucking her cocks with fun because she was also getting the fun of licking pussy from below. After that both of them changed positions. Now the first one started licking the cocks and the top one came down and started licking her sister’s pussy. Bhabhi was suffering on the bed then group chudai stories.

I too was waiting for that golden moment to kill sister-in-law’s ass. But just before Sonu and Monu had to be Farig. That’s why I was holding myself back with great difficulty in group chudai stories.

For some time both of them sucked on the naked body of the sister-in-law and licked her cock too. Then Monu asked her sister-in-law to lie down and sit on his cock. Monu came down and sister-in-law spread her legs, took Monu’s Alore in her hand and went to sit on her cock group chudai stories.

group-chudai-stories-bhabhi-xxx-story-kamvasna-story
Here Sonu pops cocks into her mouth. Turning the neck to one side, sister-in-law started sucking on Monu’s cock while sucking Sonu’s cock. Now I too started getting naked because I was not able to bear anymore.

group chudai stories
I removed all my clothes and started moving my cock. Then I also climbed on the bed. Now Monu laid the sister-in-law on her. Bhabhi’s big bare hands went close to Monu’s chest. Sonu went near Monu’s head and started sitting there and kissing her in law.

Now sister-in-law’s thick ass got up in front of me. I was waiting for this moment. I pressed the ass of sister-in-law with my hands and pressed it tightly three to four times. Then spit on his cock and put spit on her ass hole then group chudai stories.

Sister-in-law understood that her ass was ready to fuck, so she started to get up but Sonu grabbed her head and pressed her on his cock and kept licking her. I put cocks on the back of sister-in-law’s ass hole and pushed the cocks in her ass. Sister-in-law bared her teeth on Sonu’s cocks, but Sonu did not remove cocks in group chudai stories.

Ahh… Bhabhi’s analj got ass in ass then enjoyed it. I had never felt so much fun. I slowly started rubbing the ass of her sister’s cock in her ass. Monu’s cock was going in the pussy of the law from below. Sonu had cocks in her mouth from the front.

With three cocks in her three holes, the sister-in-law might have forgotten the pain of ass fucking too. Now she too started enjoying all the three cocks. Shortly Monu’s semen came out in the sister-in-law’s pussy and he moved down. Now Sonu lay down in her place and started fucking her pussy on group chudai stories.

It was too late for me to fuck ass of sister-in-law and now my goods were also going to come out. While giving three to four tremendous shock in the ass of sister-in-law, I left my goods in her ass. After two minutes, Sonu also filled her pussy with her semen while fucking her sister’s pussy.

group chudai stories
All three had removed their semen in the law’s holes. When sister-in-law arose, semen was dripping from her pussy and ass. The three of us were still panting. I fell on the couch behind. Both of them were lying on the bed with their sister-in-law.

After some time when everything became normal, we got up and started wearing our own clothes. After wearing clothes, Sonu and Monu gave us ten thousand rupees as promised. We came out with money. A satisfaction and happiness was seen on her face.

I too was delighted with Hot Bhabhi’s ass Chod. After that we came and sat in the car. Sister-in-law and I left again. Then on the way, I got my sister-in-law again and licked her cock and fuck her pussy in the car itself. The sister-in-law had been fatally fatigued that day by the fucking of three laundries and group chudai stories.

After that many times, sister-in-law got her chance and killed her pussy from me and I also enjoyed her sister-in-law. Whenever Bhaiya was not at home or I would get an opportunity to go out, then we started having fun group chudai stories.

Friends, did you enjoy this hot bhabhi of my hot sister-in-law or not… tell me. Send your opinion about the story as well.
[email protected]

How did you like my true sex incident, tell me on Telegram, I will wait for your comment and message like group chudai stories.

Read More Hot Sex Story-

देवर भाभी की प्यार भरी चुदाई | real sex story -xxx bhabhi kahani

भाभीजान की गांड मारकर गांड की खुजली दूर की | bhabhi ki xxx story

TV देखने के बहाने भाभी को चोदा | Hot Bhabhi Hindi story-indian Bhabhi stories