Sali hot story जीजू का प्यार और मेरी गांड का शिकार 1Nice Sex

प्यार और मेरी गांड का शिकार sali hot story

sali hot story: लेखिका- रीता शर्मा, सहयोगी- कामिनी सक्सेना, मैं अपनी दीदी के यहाँ कुछ दिनों के लिये गई थी। दीदी की नई-नई शादी हुई थी… अभी जीजू में और दीदी में नया-नया जोश भी था। दीदी और जीजू का कमरा ऊपर था। नीचे सिर्फ़ एक बैठक और बैठक थी। मैं बैठक में ही सोती थी।

शाम को हम तीनों ही झील के किनारे घूमने जाया करते थे। मेरे चूतड़ थोड़े से भारी हैं और कुछ पीछे उभरे हुए भी हैं… मेरे सफ़ेद टाईट पैन्ट में चूतड़ बड़े ही सेक्सी लगते हैं। मेरे चूतड़ों की दरार में घुसी पैन्ट देख कर किसी का भी लण्ड खड़ा हो सकता था… फिर जीजू तो मेरे साथ ही रहते थे और कभी-कभी मेरे चूतड़ों पर हाथ मार कर अपनी भड़ास भी निकाल लेते थे। उनकी ये हरकत मेरी शरीर को कँपकँपा देती थी।

झील के किनारे वहीं एक दुकान के बाहर कुर्सियाँ निकाल कर हम बैठ जाते थे और कोल्ड-ड्रिंक के साथ झील की ठंडी हवा का भी आनन्द लेते थे।

दीदी की अनुपस्थिति में जीजू मुझसे छेड़छाड़ भी कर लिया करते थे, और मैं भी जीजू को आँखों में इशारा करके मज़ा लेती थी। मुझे ये पता था कि जीजू मुझ पर भी अपनी नजर रखते हैं। मौका मिला तो शायद चोद भी दें। मैं उन्हें जान-बूझ कर के और छेड़ देती थी।

sali hot story

घर आ कर हम डिनर करते थे… फिर जीजू और दीदी जल्दी ही अपने कमरे में चले जाते थे। लगभग दस बजे मैं अकेली हो जाती थी… और कम्प्यूटर पर कुछ-कुछ खेलती रहती थी।

ऐसे ही एक रात को मैं अकेली रूम में बोर हो रही थी… नींद भी नहीं आ रही थी… तो मैं घर की छत पर चली आई। ठन्डी हवा में कुछ देर घूमती रही, फिर सोने के लिये नीचे आई। जैसे ही दीदी के कमरे के पास से निकली मुझे सिसकरियों की आवाज आई। ऐसी सिसकारियाँ मैं पहचानती थी… जाहिर था कि दीदी चुद रही थी… मेरी नज़र अचानक ही खिड़की पर पड़ी… वो थोड़ी सी खुली थी। जिज्ञासा जागने लगी। दबे कदमों से मैं खिड़की की ओर बढ़ गई … मेरा दिल धक से रह गया…

sali hot story

दीदी घोड़ी बनी हुई थी और जीजू पीछे से उसकी गाँड चोद रहे थे। मुझे सिरहन सी उठने लगी। जीजू ने अब दीदी के बोबे मसलने चालू कर दिये थे… मेरे हाथ स्वत: ही मेरे स्तनों पर आ गये… मेरे चेहरे पर पसीना आने लगा… जीजू को दीदी की चुदाई करते पहली बार देखा तो मेरी चूत भी गीली होने लगी थी। इतने में जीजू झड़ने लगे… उसके वीर्य की पिचकारी दीदी के सुन्दर गोल गोल चूतड़ों पर पड़ रही थी…

मैं दबे पाँव वहाँ से हट गई और नीचे की सीढ़ियां उतर गई। मेरी साँसें चढ़ी हुई थीं। धड़कनें भी बढ़ी हुई थीं। दिल के धड़कने की आवाज़ कानों तक आ रही थी।मैं बिस्तर पर आकर लेट गई… पर नींद ही नही आ रही थी। मुझे रह-रह कर चुदाई के सीन याद आ रहे थे। मैं बेचैन हो उठी और अपनी चूत में ऊँगली घुसा दी… और ज़ोर-ज़ोर से अन्दर घुमाने लगी। कुछ ही देर में मैं झड़ गई।

दिल कुछ शान्त हुआ। सुबह मैं उठी तो जीजू दरवाजा खटखटा रहे थे। मैं तुरन्त उठी और कहा,’ दरवाजा खुला है…।’

जीजू चाय ले कर अन्दर आ गये। उनके हाथ में दो प्याले थे। वो वहीं कुर्सी खींच कर बैठ गये।
‘मजा आया क्या…?’
मैं उछल पड़ी… क्या जीजू ने कल रात को देख लिया था
‘जी क्या… किसमें… मैं समझी नहीं…?’ मैं घबरा गई.

‘वो बाद में… आज तुम्हारी दीदी को दो दिन के लिए भोपाल हेड-क्वार्टर जाना है… अब आपको घर सँभालना है…’
‘हम लड़कियाँ यही तो करती हैं ना… फिर और क्या-क्या सँभालना पड़ेगा…?’ मैंने जीजू पर कटाक्ष किया।
‘बस यही है और मैं हूँ… सँभाल लेगी क्या…?’ जीजू भी दुहरी मार वाला मज़ाक कर रहे थे.

‘जीजू… मजाक अच्छा करते हो…!’ मैंने अपनी चाय पी कर प्याला मेज़ पर रख दिया। मैंने उठने के लिए बिस्तर पर से जैसे ही पाँव उठाए, मेरी स्कर्ट ऊपर उठ गई और मेरी नंगी चूत उन्हें नज़र आ गई।

मैंने जान-बूझ कर जीजू को एक झटका दे दिया। मुझे लगा कि आज ही इसकी ज़रूरत है। जीजू एकटक मुझे देखने लगे… मुझे एक नज़र में पता चल गया कि मेरा जादू चल गया। मैंने कहा,’जीजू… मुझे ऐसे क्या देख रहे हो…’
‘कुछ नही… सवेरे-सवेरे अच्छी चीजों के दर्शन करना शुभ होता है…!’ मैन तुरंत जीजू का इशारा समझ गई… और मन ही मन मुस्कुरा उठी।

sali hot story

‘आपने सवेरे-सवेरे किसके दर्शन किये थे?’ मैंने अंजान बनते हुए पूछा… लगा कि थोड़ी कोशिश से काम बन जायेगा। पर मुझे क्या पता था कि कोशिश तो जीजू खुद ही कर रहे थे।

दीदी दफ्तर से आकर दौरे पर जाने की तैयारी करने लगी… डिनर जल्दी ही कर लिया… फिर जीजू दीदी को छोड़ने स्टेशन चले गये। मैंने अपनी टाईट जीन्स पहन ली और मेक अप कर लिया। जीजू के आते ही मैंने झील के किनारे घूमने की फ़रमाईश कर दी।

वो फ़िर से कार में बैठ गये… मैं भी उनके साथ वाली सीट पर बैठ गई। जीजू मेरे साथ बहुत खुश लग रहे थे। कार उन्होंने उसी दुकान पर रोकी, जहाँ हम रोज़ कोल्ड-ड्रिंक लेते थे। आज कोल्ड-ड्रिंक जीजू ने कार में ही मंगा ली।

‘हाँ तो मैं कह रहा था कि मजा आया था क्या?’ मुझे अब तो यकीन हो गया था कि जीजू ने मुझे रात को देख लिया था।
‘हां… मुझे बहुत मज़ा आया था…’ मैंने प्रतिक्रिया जानने के लिए तीर मारा…
जीजू ने तिरछी निगाहों से देखा… और हँस पड़े- ‘अच्छा… फिर क्या किया…’
‘आप बताओ कि अच्छा लगने के बाद क्या करते हैं…’ जीजू का हाथ धीरे धीरे सरकता हुआ मेरे हाथों पर आ गया। मैंने कुछ नही कहा… लगा कि बात बन रही है।

‘मैं बताऊँगा तो कहोगी कि अच्छा लगने के बाद आईस-क्रीम खाते हैं…’ और हँस पड़े और मेरा हाथ पकड़ लिया। मैं जीजू को तिरछी नजरों से घूरती रही कि ये आगे क्या करेंगे। मैंने भी हाथ दबा कर इज़हार का इशारा किया।
हम दोनों मुस्कुरा पड़े। आँखों आँखों में हम दोनों सब समझ गये थे… पर एक झिझक अभी बाकी थी। हम घर वापस आ गये।

जीजू अपने कमरे में जा चुके थे… मैं निराश हो गई… सब मज़ाक में ही रह गया। मैं अनमने मन से बिस्तर पर लेट गई। रोज की तरह आज भी मैंने बिना पैन्टी के एक छोटी सी स्कर्ट पहन रखी थी… मैंने करवट ली और पता नही कब नींद आ गई… रात को अचानक मेरी नींद खुल गई… जीजू हौले से मेरे बोबे सहला रहे थे… मैं रोमांचित हो उठी… मन ने कहा… हाय! काम अपने आप ही बन गया… मैं चुपचाप अनजान बन कर लेटी रही…

sali hot story

जीजू ने मेरी स्कर्ट ऊंची कर दी और नीचे से नंगी कर दिया। पंखे की हवा मेरे चूतड़ों पर लग रही थी। जीजू के हाथ मेरे चिकने चूतड़ों पर फ़िसलने लगे… जीजू धीरे से मेरी पीठ से चिपक कर लेट गये… उनका लण्ड खड़ा था… उसका स्पर्श मेरी चूतड़ों की दरार पर लग रहा था… उसके सुपाड़े का चिकनापन मुझे बड़ा प्यारा लग रहा था।

उसने मेरे बोबे जोर से पकड़ लिए और लण्ड मेरी गाँड पर दबा दिया। मैंने लण्ड को गाँड ढीली कर के रास्ता दे दिया… और सुपाड़ा एक झटके में छेद के अन्दर था।

‘जीजू… हाय रे… मार दी ना… मेरी पिछाड़ी को…’ मेरे मुख से सिसकारी निकल पड़ी। उसका लण्ड गाँड़ की गहराईयों में मेरी सिसकारियों के साथ उतरता ही जा रहा था।
‘रीता… जो बात तुझमें है… तेरी दीदी में नहीं है…’ जीजू ने आह भरते हुए कहा।

लण्ड एक बार बाहर निकल कर फिर से अन्दर घुसा जा रहा था। हल्का सा दर्द हो रहा था। पर पहले भी मैं गाँड चुदवा चुकी थी। अब जीजू ने अपनी ऊँगली मेरी चूत में घुसा दी थी… और दाने के साथ मेरी चूत को भी मसल रहे थे… मैं आनन्द से सराबोर हो गई। मेरी मन की इच्छा पूरी हो रही थी… जीजू पर दिल था… और मुझे अब जीजू ही चोद रहे थे।

‘मत बोलो जीजू बस चोदे जाओ… हाय कितना चिकना सुपाड़ा है… चोद दो आपकी साली की गाँड को…’ मैं बेशर्मी पर उतर आई थी…

उसका मोटा लण्ड तेजी से मेरी गाँड में उतराता जा रहा था… अब जीजू ने बिना लण्ड बाहर निकाले मुझे उल्टी लेटा कर मेरी भारी चूतड़ों पर सवार हो गये। और हाथों के बल पर शरीर को ऊँचा उठा लिया और अपना लण्ड मेरी गाँड पर तेजी से मारने लगे… उनका ये फ्री-स्टाईल चोदना मुझे बहुत भाया।

‘राजू… मेरी चूत का भी तो ख्याल करो… या बस मेरी गाँड ही मारोगे…’ मैंने जीजू को घर के नाम से बुलाया।

‘रीता… मेरी तो शुरू से ही तुम्हारी गाँड पर नजर थी… इतनी प्यारी गाँड… उभरी हुई और इतनी गहरी… हाय मेरी जान…’

sali hot story

जीजू ने लण्ड बाहर निकाल लिया और चूत को अपना निशाना बनाया…

‘जान… चूत तैयार है ना… लो… ये गया… हाय इतनी चिकनी और गीली…’ और उसका लण्ड पीछे से ही मेरी चूत में घुस पड़ा… एक तेज मीठी सी टीस चूत में उठी… चूत की दीवारों पर रगड़ से मेरे मुख से आनन्द की सीत्कार निकल गई।

‘हाय रे… जीजू मर गई… मज़ा आ गया… और करो…।’ जीजू का लण्ड गाँड मारने से बहुत ही कड़ा हो रहा था… जीजू के चूतड़ खूब उछल-उछल कर मेरी चूत चोद रहे थे। मेरी चूचियाँ भी बहुत कठोर हो गईं थीं।

मैंने जीजू से कहा,’जीजू… मेरी चूचियाँ जोर से मसलो ना… खींच डालो…!’ जीजू तो चूचियाँ पहले से ही पकड़े हुए थे… पर हौले-हौले से दबा रहे थे… मेरे कहते ही उन्हें तो मज़ा आ गया… जीजू ने मेरी दोनो चूचियाँ मसल के, रगड़ के चोदना शुरू कर दिया। मेरी दोनों चूतड़ों की गोलाईयाँ उसके पेडू से टकरा रहीं थीं… लण्ड चूत में गहराई तक जा रहा था… घोड़े की तरह उसके चूतड़ धक्के मार-मार कर मुझे चोद रहे थे.

मेरे पूरे बदन में मीठी-मीठी लहरें उठ रहीं थीं… मैं अपनी आँखों को बन्द करके चुदाई का भरपूर आनन्द ले रही थी। मेरी उत्तेजना बढ़ती जा रही थी… जीजू के भी चोदने से लग रहा था कि मंज़िल अब दूर नहीं है। उसकी तेजी और आहें तेज होती जा रही थी… उसने मेरी चूचक जोर से खींचने चालू कर दिये थे…

मैं भी अब चरम सीमा पर पहुँच रही थी। मेरी चूत ने जवाब देना शुरू कर दिया था… मेरे शरीर में रह-रह कर झड़ने जैसी मिठास आने लगी थी। अब मैं अपने आप को रोक ना सकी और अपनी चूत और ऊपर दी… बस उसके दो भरपूर लण्ड के झटके पड़े कि चूत बोल उठी कि बस बस… हो गया।.

‘जीजूऽऽऽऽऽ बस…बस… मेरा माल निकला… मै गई… आऽऽईऽऽऽअऽ अऽऽऽआ…’ मैंने ज़ोर लगा कर अपनी चूचियाँ उससे छुड़ा ली… और बिस्तर पर अपना सर रख लिया… और झड़ने का मज़ा लेने लगी… उसका लण्ड भी आखिरी झटके लगा रहा था। फिर…… आह्… उसका कसाव मेरे शरीर पर बढ़ता गया और उन्होंने अपना लण्ड बाहर खींच लिया।

sali-hot-story-xxxhindistory-sali-ki-chudai
xxxhindistory

sali hot story

झड़ने के बाद मुझे चोट लगने लगी थी… थोड़ी राहत मिली… अचानक मेरे चूतड़ और मेरी पीठ उसके लण्ड की फ़ुहारों से भीग उठी… जीजू झड़ने लगे थे… रह-रह कर कभी पीठ पर वीर्य की पिचकारी पड़ रही थी और अब मेरे चूतड़ों पर पड़ रही थी। जीजू लण्ड को मसल-मसल कर अपना पूरा वीर्य निकाल रहे थे।

जब पूरा वीर्य निकल गया तो जीजू ने पास पड़ा तौलिया उठाया और मेरी पीठ को पौंछने लगे…’

रीता… तुमने तो आज मुझे मस्त कर दिया’ जीजू ने मेरे चेहरे को किस करते हुए कहा… मैं चुदने की खुशी में कुछ नहीं बोली… पर धन्यवाद के रूप में उन्हें फिर से बिस्तर पर खींच लिया… मुझे अभी और चुदना था…

इतनी जल्दी कैसे छोड़ देती… दो तीन दौर तो पूरा करती… सो जीजू के ऊपर चढ़ गई… जीजू को लगा कि पूरी रात मज़े करेंगे… जीजू अपना प्यार का इकरार करने लगे…

‘मेरी रानी… तुम प्यारी हो… मैं तो तुम पर मर मिटा हूँ… जी भर कर चुदवा लो… अब तो मैं तुम्हारा ही हूँ…’ और दुगुने जोश से उन्होंने मुझे अपनी बाँहों में कस लिया…
मैं आज तो रात-भर स्वर्ग की सैर करने वाली थी…
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

bhabhi Hindi sex story group sali hot story

Read in English

Sali ki chudai sali hot story

sali hot story: Writer- Rita Sharma, Associate- Kamini Saxena, I went to my sister’s house for a few days. Didi was newly married… Just now Jiju and Didi had a new passion. Didi and Jiju’s room was upstairs. Below was just a meeting and meeting. I used to sleep in the meeting itself.

In the evening, the three of us used to go for a walk along the lake. My butts are a little heavier and some are bulging in the back… Butts look very sexy in my white tit pant. Seeing the pain penetrated into the cracks of my fawns, anyone could stand LND… Then Jeeju used to live with me and sometimes he used to beat his hands on my cocks and take out his anger. His actions used to make my body shiver. sali hot story.

We used to sit outside by taking chairs out of a shop on the banks of the lake and also enjoy the cold air of the lake with cold drinks. In the absence of Didi, Jiju used to molest me, and I used to enjoy pointing at Jiju in the eyes. I knew that Jiju kept an eye on me too. If you get a chance, maybe even give Chod. I used to tease them deliberately. sali hot story
After coming home we used to have dinner… Then Jiju and Didi used to go to their rooms soon. Around ten o’clock I used to be alone… and kept playing something on the computer.

On one such night, I was getting bored in the room alone… I could not even sleep… So I went to the roof of the house. The cold kept moving in the air for some time, then came down to sleep. As soon as the sister came out of the room, I heard the sound of sobs. I knew such siskaris… It was obvious that Sister was fucking … My eyes suddenly fell on the window… It was a little open. Curiosity started waking up. I moved towards the window due to my small steps… I was shocked.

sali hot story
Sister was a mare and Jiju was fucking her Gand from behind. I started getting up. Jiju had started munching on Didi’s babes… My hands automatically came on my breasts… My face started sweating… When I saw Jiju fucking her sister for the first time, my pussy was getting wet too. In the meantime Jiju started falling… his semen was falling on the beautiful round and round asses of Sister…

I shook my feet and got down the stairs. I was breathless. The beats were also increased. The sound of heartbeat was coming to the ears. I came to bed and lay down… but could not sleep. I remembered the scenes of Chudai. I got restless and inserted a finger into my pussy… and started to thrust in and out. I collapsed in a while.

The heart was calm. When I woke up in the morning, Jiju was knocking at the door. I immediately got up and said, ‘The door is open….’

Jiju came inside after taking tea. He had two cups in his hand. He sat there pulling the chair.
‘Have you enjoyed…?’
I jumped… Did Jiju check it out last night
‘What… What… I do not understand…?’ I panicked. sali hot story.

‘That later… today your sister has to go to Bhopal head-quarters for two days… Now you have to take care of the house… ’
‘What we girls do is this… Then what else will have to be handled…?’ I snorted at Jiju.
‘This is it and I am… Will you handle…?’ Jiju was also joking.

‘Jiju… Jokes do good…! ’I drank my tea and put it on the cup. As soon as I woke up from the bed to get up, my skirt got up and I saw her naked pussy.

I deliberately gave a shock to Jiju. I felt that it was needed today. Jiju stood looking at me… I knew at a glance that my magic had gone. I said, ‘Jiju… what are you looking at me like…’
‘Nothing… It is auspicious to see good things in the morning…!’ Man immediately understood the gesture of Jiju… and smiled in his heart.

sali hot story
‘Whom did you visit early in the morning?’ I asked as I was unaware… I felt that with a little effort the work will be done. But what I knew was that Jiju himself was trying.

Didi came from the office and started preparing to go on a tour… she had dinner soon… Then Jiju went to the station leaving Didi. I put on my tight jeans and make up. As soon as Jiju came, I decided to roam the banks of the lake.sali hot story.

He sat in the car again… I also sat on the seat with him. Jiju looked very happy with me. He stopped the car at the same shop where we used to have cold drinks every day. Today, cold-drink Jiju ordered in the car itself.

‘Yes, I was saying what was fun?’ I was convinced that Jiju had seen me at night.
‘Yes… I had a lot of fun… ’I shot an arrow to get a response…
Jiju looked with a skewed eye… and laughed – “Okay… what did you do…”
‘You tell me what I do after I feel good…’ Jiju’s hand slowly moved on my hands. I did not say anything… I thought it was happening.

‘If I tell you, after eating good I eat ice-cream…’ and laughed and held my hand. I kept staring at Jiju with oblique eyes as to what he would do next. I also gave a gesture by pressing my hand.
We both smiled. We both understood everything in our eyes… but there was still a hesitation. We came back home. sali hot story.

Brother-in-law had gone to his room… I was disappointed… everyone remained in jokes. I lay on the bed with a heartless heart. Like everyday I was still wearing a short skirt without panty… I turned and did not know when I fell asleep… suddenly my sleep was open at night… Jiju was stroking my bobes with gusto… I was thrilled… Mana said… Hi! Work became on its own… I lay quietly, unaware…

sali hot story
Jiju made my skirt high and bare from below. The fan air was feeling on my fists. Jiju’s hands started slipping on my smooth fists … Jeeju slowly lay down with my back … His LND was standing … His touch seemed on the crack of my fists … The smoothness of his ponytail looked very cute to me.

He grabbed my boob hard and pressed LND on my Gand. I gave way to LND by loosening the Gand… and Supada was inside the hole in one stroke.

‘Jiju… Hi re… Mara di na… My aft ko… ’Siskari came out of my mouth. His LND was going down with my sister in the depths of the Gand.
“Rita… whatever is in you… is not in your sister…” Jiju said while sighing. sali hot story.

LND was once getting out and being entrenched again. There was a slight pain. But even before, I had got the fuck done. Now Jiju had inserted his finger into my pussy… and was also rubbing my pussy along with the rash… I got wet with joy. My heart’s desire was being fulfilled… Jiju had a heart… and I was now fucking Jiju. sali hot story.

‘Don’t tell me, Jiju, just go to Chode… Hi, how smooth is Supadha… Give it to your sister-in-law…’ I was shameless.

His fat LND was fast landing in my Gand… Now Jiju, without taking out LND, made me vomit and rode on my huge pussy. And on the strength of his hands lifted the body high and started hitting his Lund on my Gand fast… I liked his free-style fucking.

‘Raju… take care of my pussy too… or you will just kill my Gand…’ I called Jiju by name.

‘Rita… I had an eye on your Gand from the beginning… such a sweet Gand… bulging and so deep… Hi my darling… ’

sali hot story
Jiju took out LND and made pussy his target…

‘Jaan… pussy is ready right… lo… yeh gaya… hi so smooth and wet…’ and her LND entered my pussy from behind… a sharp sweet tease arose in the pussy… rubbing on the walls of the pussy from my mouth. The joy of joy went out.

‘Hi Re… Jiju died… I had fun… and do it….’ Jiju’s lund was getting very hard because of licking it… Jiju’s butts were bouncing my pussy very loudly. My Tits had also become very hard.

I said to brother-in-law, ‘brother-in-law … don’t force my cunt … pull it out …!’ Jiju was already holding the cucumber … but was pressing it softly … I used to say he enjoyed it … Both of my boobs got rubbed and started fucking. The balls of both my fists were hitting her pelvus… LND was going deep into her pussy… Like a horse, her butts were banging me. sali hot story.
Sweet waves were rising all over my body… I was enjoying my fuck with my eyes closed. My excitement was increasing… even with Jiju’s fucking, it seemed that the destination is not far away. His sighs and sighs were getting faster… he started pulling my nipples harder…

I was also reaching the climax now. My pussy had started answering… My body was starting to have sweetness like loss. Now I could not stop myself and gave my pussy up and up… just two lunds of her Lund jerked that pussy said that it was just…. sali hot story.
‘Jeeju ऽऽऽऽऽ just… just… my goods came out… I went… ऽऽऽ ऽऽऽ ऽ ऽऽऽ…… ‘I forcefully got my tits out of him… and put my head on the bed… and started enjoying the loss… his LND was also taking the last blow. . Then… sigh… His tightness grew on my body and he pulled his LND out.

sali hot story
After the loss, I started getting hurt… I got some relief… Suddenly my buttocks and my back got wet with the tears of his LND… Jeeju started falling… I was having a squeal of semen on my back and now on my pussy Was falling Jiju was extracting all his semen by mashing LND.

When all the semen came out, Jiju picked up the towel nearby and wiped my back… ‘

Rita… you have got me cool today ‘Jiju said while kissing my face… I did not say anything in the pleasure of fucking… but pulled him back to bed as a thank you… I still had to fuck…

How could she leave so soon… Completing two or three rounds… So she climbed on Jiju… Jiju thought that he would have fun the whole night… Jiju started accepting his love…

‘My queen… you are lovely… I am dead on you… I am full of love and now I am yours… ’And with double enthusiasm, they held me tight in their arms…
I was going to visit heaven all night long…
[email protected]

More Hot Sex Story-

छोटी साली की चूत की चटाई | jija sali hindi story – hindi sex story

साली के भीगे बदन को चोदा – jija sali chudai stories – real sex story

शादी में भाई की साली की सील तोड़ी | sali antarvasna – jija sali hindi story

.js">

Leave a Comment

isplay.js">