Lesbian hindi sex story 1 सहेली के साथ पहला Best लेस्बियनSex

सहेली के साथ पहला लेस्बियन Sex – Lesbian hindi sex story

Lesbian hindi sex story: हेल्लो दोस्तों! मेरा नाम सोनिया है। मैं पंजाब में रहती हूँ। मैं काफी लंबे समय से अपनी बात, अपना अनुभव आपसे बाँटना चाहती थी। अब मैं शादीशुदा हूँ, पिछले महीने मेरी शादी हुई। लेकिन ये अनुभव जो आपके साथ बाँटना चाहती हूँ ये शादी से कुछ महीने पहले का है। दोस्तो, मुझे सेक्स के बारे में पता तो था पर यह नहीं पता था कि लड़कियां आपस में भी सेक्स को एन्जॉय कर सकती हैं।

मेरी एक खास सहेली जिसका नाम साक्षी है, मेरे साथ कॉलेज में पढ़ती थी। हम अक्सर इकट्ठे पढ़ाई किया करते। और अगर वो मेरे घर ज्यादा देर तक रूकती तो मैं उसे रात को वापिस नहीं जाने देती थी। मेरा कमरा अलग है। और हम दोनों साथ सो जाया करते।

दोस्तो, एक रात हम यूँ ही देर रात तक पढाई करते रहे। पापा ने मुझे खाना बनाने को कहा। पर मैं अपने नोट्स समय पर बना लेना चाहती थी तो मैंने पापा को मना कर दिया। पापा ने मुझे अपने पास बुलाया और खूब बुरा भला कहा। माँ ने भी पापा का पक्ष लिया। इस बात से मुझे बहुत गुस्सा आया और मैं रोते रोते अपने कमरे में आ गई। मुझे बहुत बुरा लगा था। साक्षी ने मुझे बहुत समझाया पर मैं रोते रोते सो गई। कुछ देर बाद साक्षी भी सो गई। बत्ती बंद थी सिर्फ़ डिम लाइट बल्ब जल रहा था।

करीब आधे घंटे के बाद अचानक मेरी आंख खुली। मैंने देखा साक्षी मेरे पास सो रही थी। पर इतनी पास?? उफ़!! उसका चेहरा मेरे चेहरे से मुश्किल से एक या दो इंच दूर होगा। पता नहीं क्यूँ पर एक अजीब सी सिहरन से मेरी सांसें भारी हो गई। उसके गुलाबी होंठ मेरे होंठों से सिर्फ़ एक या दो इंच दूर थे। शायद एक उतेजना मेरे शरीर में भर रही थी। पता नहीं क्यूँ मेरा सारा ध्यान उसके गुलाबी होंठों पर हो गया और में लगातार उन्हें देखे जा रही थी।

lesbian hindi sex story

अचानक मेरे हाथ उसके होंठों को सहलाने लगे। अजीब सी उतेजना से मेरा जिस्म कांप रहा था। और मैं अपने आप को रोक नहीं पा रही थी। अचानक मेरा ध्यान साक्षी की आँखों की तरफ़ गया। उफ़!! वो मुझे देख रही थी। मैं उसके होंठों को सहलाने में इतनी व्यस्त थी कि वो कब जाग गई पता नहीं चला। हम दोनों एक दूसरे की आँखों में झाँक रही थी। शायद साक्षी भी उसी उत्तेजना को महसूस कर रही थी जो आग मेरे बदन को जला रही थी। मेरे जिस्म से एक अजीब से भीनी भीनी महक उठ रही थी। और उत्तेजना से मुझे अपने नीचे कुछ गीलापन लग रहा था। मेरे होंठ कांप रहे थे।

और अचानक जाने क्या हुआ। साक्षी ने मेरे होंठों को ऊपर से चूम लिया। और मैं अपने आप को रोक न पाई और साक्षी के सुंदर गोरे चेहरे को अपने हाथों से पकड़ कर उसके होंठों में अपने होंठ डाल दिए। हाय!! क्या अजीब स्वाद था उसके गुलाबी होंठों का।मैं जैसे पागल हो गई और उसके होंठों में अपने होंठ डाल कर नशे में खो गई। उसके होंठों को चूसते हुए मुझे महसूस हो रहा था जैसे एक आग मेरे जिस्म में भर रही हो।

lesbian hindi sex story

अचानक उसने मेरे मुंह में अपनी जीभ डाल दी। मैं धीरे धीरे उसे चूसने लगी। करीब पॉँच मिनट तक चूसने के बाद मेरी हालत क्या हो गई थी मैं बता नहीं सकती पर उस समय सब कुछ अच्छा लग रहा था। हम दोनों को आँखों में एक नशा सा भर गया था।

अब साक्षी ने मेरे कपड़े उतारने शुरू किए। मेरा सूट उतार देने के बाद वो मेरी अंगवस्त्र उतार रही थी, मुझे शर्म भी आ रही थी पर एक अजीब सा नशा हो चुका था। उसके बाद उसके अपने सारे कपड़े उतार दिए। मैं इतनी ज्यादा गीली थी शायद उससे बेड की चादर भी ख़राब हो रही थी।

और अब साक्षी ने फिर से मेरी होंठों को चुसना शुरू किया। मेरी ऊपर लेट कर मेरी नंगे जिस्म से अपना जिस्म रगड़ कर मुझे पागल कर रही थी। उसके नितंब मेरी नितम्बों से रगड़ कर मुझे पागल कर रहे थे। साक्षी ने अपनी जीभ पर थोड़ा थूक रख कर मेरी होंठों पर लगाया फिर मेरी होंठों को चूसा।

lesbian hindi sex story

फिर थोड़ा थूक अपनी जीभ पर रख कर मेरी मुंह में अपनी जीभ डाल दी। मुझे कुछ अजीब लगा पर उसके थूक का स्वाद मुझे अच्छा लगा और मैं सारा चूस गई।

उसके बाद उसके मेरी नितंब अपने गर्म होंठों में ले कर चूसना शुरू किया। और उसके हाथ नीचे की तरफ़ जाने लगे। मेरी जिस्म में एक चिंगारी सी भर रही थी। और अब वो मेरी गीली चूत तक पहुँच चुकी थी। उसके मेरी गुलाबी चूत को अपने हाथ से मसलना शुरू किया। मैं जैसे इस दुनिया में नहीं थी।

उसने एकदम अपनी दो उंगलियाँ मेरी चूत में घुसा दी। शायद ज्यादा गीली होने की वजह से दोनों उँगलियाँ अपना रास्ता बनते हुए अन्दर चली गई।

lesbian Hindi sex story.

मैं जैसे आसमान में थी। मेरा नशा बढ़ रहा था। साक्षी ने अब अपनी उँगलियाँ अन्दर बाहर करनी शुरू कर दी थी। मुझे मजा आ रहा था और मैं एक लय में उसका साथ देने लगी।

सच उस वक्त साक्षी से चुदवाने में मजा आ रहा था। एक तरफ़ साक्षी मुझे अपनी उँगलियों से चोद रही थी तो दूसरी तरफ़ मैं उसकी जीभ को चूस रही थी। वो बार बार उँगलियों को निकालती और कभी मेरे और कभी अपने मुंह में दे देती। मुझे अपनी चूत का स्वाद अच्छा लग रहा था।

तभी उसने मुझे उल्टा कर दिया और वो गीली उँगलियाँ मेरे पीछे डाल दी। एकदम से डालने पर मुझे कुछ दर्द महसूस हुआ पर मैं हर मजा लेना चाहती थी। कुछ देर अन्दर बाहर करने के बाद अब अच्छा लगने लगा। अब मुझ से रहा नहीं जा रहा था। साक्षी मुझे पागल कर रही थी।

कुछ देर के बाद साक्षी ने अपनी चूत मेरे मुंह की तरफ़ कर दी और अपना मुंह मेरी चूत की तरफ़, यानि ६९ की पोसीशन में आ गई। उसकी चूत से एक अजीब सी महक आ रही थी। उफ़!! वो भी गीली थी, बुरी तरह से।

अचानक मैंने साक्षी की गरम जीभ अपने अन्दर महसूस की। और पता नहीं कब मैं भी उसकी चूत को चाटने लगी। शायद मैं वो सारा रस चाट लेना चाहती थी जो उसके अन्दर से निकल रहा था।

lesbian-hindi-sex-story-xnxx-kahani-xxx-ki-kahani

lesbian hindi sex story

साक्षी कभी मेरी चूत चाट रही थी कभी मेरे पीछे अपनी जीभ डाल रही थी। मैंने भी पागलों की तरंह उसकी चूत में अपनी जीभ डाल अन्दर बाहर करने लगी। अचानक मुझे लगा कुछ निकलने वाला है। और आह … आह! मेरे अन्दर से पानी निकला आह आह साक्षी चूस ले चाट दे मेरी चूत चाट जोर जोर से चाट आह आह! पता नहीं क्या क्या बकने लगी मैं।

और पानी की तेज धारा के बाद मेरा पूरा जिस्म कांपा और शांत हो गया। उसके बाद मैंने साक्षी की चूत को चाट कर उसे भी शांत किया।

हम कुछ देर ऐसे ही लेटी रही। उसके बाद हमने अपने कपड़े पहने और एक जोरदार किस करने के बाद सो गयी। मेरे मन में अजीब सी खुशी थी। दोस्तो, उसके बाद हमने बहुत बार एन्जॉय किया। मैं वो सब भी आपके साथ शेयर करुँगी। अब मैं शादीशुदा हूँ। मैंने अपने हसबंड को सब कुछ बता दिया है और वो भी चाहते हैं कि मैं उनके सामने किसी लड़की के साथ सेक्स करूँ।

मुझे बताना मत भूलना कैसा लगा मेरा अनुभव।
मेरा मेल आईडी है
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगी.

lesbian Hindi sex story.

Read in English

Sahli ke saath sex Lesbian – Lesbian hindi sex story

Lesbian hindi sex story: Hello guys! My name is Sonia. I live in Punjab I have wanted to share my talk, my experience with you for a long time. Now I am married, I got married last month. But this experience that I want to share with you is from a few months before marriage. Friends, I knew about sex but did not know that girls can enjoy sex among themselves as well.

My special friend named Sakshi used to study with me in college. We often did assembled studies. And if she stayed at my house for a long time, I would not let her return at night. My room is different. And we both slept together, lesbian Hindi sex story.

Friends, one night we continued studying till late in the night. Papa asked me to cook. But I wanted to make my notes on time, so I refused. Dad called me to him and said very good and good. Mother also took father’s side. This made me very angry and I came to my room crying. I felt very bad. The witness explained to me a lot but I fell asleep crying. After some time Sakshi also fell asleep. The light was off only the dim light bulb was on the lesbian Hindi sex story.

After about half an hour, my eye suddenly opened. I saw Sakshi sleeping with me. But so close ?? Oops!! His face would be barely an inch or two away from my face and lesbian Hindi sex story. I don’t know why but a strange shudder made my breath heavy. Her pink lips were only an inch or two away from my lips. Probably a fast was filling my body. I do not know why all my attention was on her pink lips and I was constantly watching her.

lesbian hindi sex story
Suddenly my hands started caressing her lips. My body was shivering with strange excitement. And I could not resist myself. Suddenly my attention went towards Sakshi’s eyes. Oops!! She was watching me. I was so busy caressing her lips that she didn’t know when she woke up. We were looking into each other’s eyes on lesbian Hindi sex story. Perhaps the witness was also feeling the same excitement that the fire was burning my body. My body was getting a strange smell from a strange person. And from the excitement, I felt some wetness beneath me. My lips were shivering.

And suddenly what happened Sakshi kissed my lips from above. And I could not resist myself and held the beautiful blonde face of Sakshi with my hands and put my lips in her lips then lesbian Hindi sex story. Oh!! What a strange taste she had of her pink lips. I went crazy and got drunk by putting my lips on her lips. Sucking her lips, I felt like a fire was filling my body.

lesbian hindi sex story
Suddenly he put his tongue in my mouth. I slowly started sucking her. After sucking for about five minutes, I could not tell what my condition was but everything seemed good at that time. Both of us were filled with a bit of addiction.

Now Sakshi started taking off my clothes. After taking off my suit, she was taking off my corsets, I was feeling ashamed but had a strange intoxication. After that he took off all his clothes. I was so wet, maybe the bed sheet was getting worse about lesbian Hindi sex story.

And now Sakshi started kissing my lips again. By lying on top of me, rubbing my body with my bare body was driving me crazy like lesbian Hindi sex story. Her buttocks were rubbing my buttocks and driving me crazy. The witness put a little spit on her tongue and applied it on my lips, then sucked my lips.

lesbian hindi sex story
Then put a little spit on my tongue and put my tongue in my mouth. I felt something strange but I liked the taste of her spit and I sucked it all.

After that, he started sucking me by taking my ass in his hot lips. And his hands started going down. There was a spark in my body. And now she had reached my wet pussy. He started rubbing my pink pussy with his hand. Like I was not in this world in a lesbian Hindi sex story.

He absolutely inserted his two fingers into my pussy. Probably due to being too wet, both the fingers went inside making their way. Like I was in the sky. My intoxication was increasing. The witness had now started to put his fingers in and out. I was having fun and I started supporting her in a rhythm on lesbian Hindi sex story.

Truth was enjoying at that time with Chudwana. On one hand the witness was fucking me with my fingers, on the other hand I was sucking her tongue. She would repeatedly take out fingers and sometimes give me and sometimes in her mouth. I liked the taste of my pussy like lesbian Hindi sex story.

Then he turned me upside down and put those wet fingers behind me. I felt some pain after putting it straight away, but I wanted to have fun. After some time inside out, now it started to look good. I was no longer going. The witness was driving me crazy in the lesbian Hindi sex story.

After some time, Sakshi turned her pussy towards my mouth and got her mouth towards my pussy, ie the position of 49. A strange smell was coming from her pussy. Oops!! She was also wet, badly.

Suddenly I felt the witness’s hot tongue inside me. And do not know when I also started licking her pussy. Maybe I wanted to lick all the juice that was coming out of her.

lesbian hindi sex story
Sakshi was licking my pussy sometimes, was putting her tongue behind me. I also put my tongue in the pussy of crazy people, started to come in and out. Suddenly I thought something was going to happen. And ah…lesbian Hindi sex story. ah! Water came out from my mouth ah ah Sakshi suck licking my pussy licking loud licking ah ah! I do not know what started to blab.

And after a strong stream of water, my whole body shivered and became calm. After that I licked Sakshi’s pussy and pacified her too, lesbian Hindi sex story.

We lay like this for a while. After that we put on our clothes and slept after a loud kiss. I had strange happiness. Friends, after that we enjoyed many times. I will share all that with you too. Now I am married. I have told my husband everything and he also wants me to have sex with a girl in front of him.

More Hot sex story-

सहलीयों ने करवाई डिल्डो से चुदाई | lesbian sex story – Dildos se chuai

दीदी का राज़ | lesbian story Hindi – mallu lesbian stories

1 thought on “Lesbian hindi sex story 1 सहेली के साथ पहला Best लेस्बियनSex”

Leave a Comment