Sister ki chudai भाई ने बहन की चूत को जीभ से चोदा 1 Real Sex

भाई ने बहन की चूत को जीभ से चोदा Sister ki chudai

Sister ki chudai: रिश्तों में चुदाई की कहानी में पढ़ें कि कैसे एक भाई ने बहन की चुत मारी. हमउम्र मौसेरे भाई बहन माउंट आबू घूमने गए तो दोनों की वासना जाग उठी और …

मेरा नाम अतुल कुमार है। मैं झांसी का रहने वाला हूं। यह कहानी मेरे और मेरी मौसी की लड़की के बीच में हुई एक घटना की है.

एक बार हमारा बाहर घूमने का प्लान बना. मैं और मेरी माँ और मेरी छोटी बहन हम लोग माउंट आबू जा रहे थे। हम केवल तीन लोग थे तो माँ ने मौसी से पूछा चलने के लिए.
मेरी मां ने सोचा कि मौसी भी घूम आयेगी.

दोस्तो, मेरी मौसी के पास तीन बच्चे हैं. दो लड़कियां हैं और एक लड़का है. सबसे बड़ी वाली दीदी का नाम मिताली है और छोटी वाली का अन्नु है. वो मुझसे उम्र में छोटी है.

उनका बेटा और बड़ी दीदी मिताली तो जाने के लिए तैयार नहीं हुई जबकि मौसी और उनकी छोटी लड़की अन्नु हमारे साथ जाने के लिए तैयार हो गए. वो लोग हमें ग्वालियर के स्टेशन पर मिल गये.

जब मैंने अन्नु को देखा तो मेरी नजर उसके जिस्म पर फिसलने लगी. अन्नु की उम्र 21 साल के करीब थी. उसका जवान जिस्म देख कर मेरे तन बदन में आग लग गयी. उसके 34 साइज के बूब्स, 26 की कमर और 36 के चूतड़ देख कर मेरा लन्ड तन कर खड़ा हो गया था. मैंने इस किस्म की रिश्तों में चुदाई की कहानी पढ़ रखी थी कि एक भाई ने बहन की चुत मारी.

sister ki chudai

मौसी की लड़की को देख कर वासना ऐसी भड़की कि मन कर रहा था कि उसके दूधों को पकड़ कर अभी मसल दूं. लेकिन किसी तरह मैंने खुद को रोका. साथ में परिवार के लोग थे और रिश्ते में वो मेरी बहन लगती थी.

हमारी ट्रेन टाइम पर ही थी जिसमें पहले से ही सीट बुक कर ली गई थी. हम लोग घूमने के लिए निकल गये. ट्रेन चल पड़ी थी. अन्नु मेरी सामने वाली बर्थ पर लेटी हुई थी. मेरी नजर बार बार उसके जिस्म को निहार रही थी.

रात का टाइम हो गया था. सब लोग सो चुके थे. मेरी वासना मुझे चैन से लेटने भी नहीं दे रही थी. मैंने बाकी सदस्यों की तरफ देखा तो सब लोग गहरी नींद में सो रहे थे. अन्नु भी नींद में थी.
मैंने उसकी बर्थ की तरफ हाथ बढ़ाया.
उसके हाथ पर मेरा हाथ लगते ही मेरा लंड 8 इंच का हो गया. अब तो जिस्म की आग और भड़क गई. मैंने उसके होंठों को छू कर देखा. उसके होंठों को अपने अंगूठे से मसला. उसके नर्म गुलाबी होंठों को छू कर मेरी हवस और ज्यादा प्रबल हो गई थी.

जब मुझसे रहा न गया तो मैंने धीरे से उसके बूब्स पर हाथ रख दिया. उसके चूचों को छेड़ते हुए बहुत मजा आ रहा था. मैंने उसके बूब्स को धीरे धीरे दबाना शुरू कर दिया. बहुत ही सुखद अहसास था उसके बूब्स को दबाने का.

5-6 मिनट तक मैं उसके बूब्स को दबाता रहा. उनको सहलाता रहा. वो भी कुछ प्रतिक्रिया नहीं कर रही थी. फिर वो थोड़ा सा हिली तो मैं दूर हट गया. उसके हिलने से मैं थोड़ा हिचक गया और मैंने सोचा कि आज बस यहीं तक ठीक है.

उसके बाद मैं उसके ख्यालों में ही लेट गया. मेरा लंड तो अभी भी खड़ा हुआ था. मैंने अपनी पैंट की चेन को खोल कर उसके अंदर हाथ डाल दिया. मैं अपने लंड को सहलाने लगा. पहली बार उसके चूचों को छूने का अहसास बहुत ही प्रबल था.

ssister ki chudai

अपने लंड को अपने अंडरवियर के कट से बाहर निकाल लिया मैंने. एक चादर से जांघों को ढक लिया और उसके चूचों के बारे में साचते हुए लंड को हिलाने लगा.

काफी देर तक लंड हिलाते हुए मैंने वीर्य निकाल दिया. फिर अपने रुमाल से लंड को साफ किया और फिर चैन से सो गया. सुबह मेरी आंख देर से खुली. तब तक सारे लोग जाग चुके थे.

फिर हम माउंट आबू पहुंच गये. हमने वहां पर कई जगह देखी. अन्नु भी हमारे साथ काफी घुल मिल गई थी अब तक. वो कई बार मेरा हाथ पकड़ लेती थी चलते हुए. मुझे भी मजा आ रहा था. ऐसे ही मैं ट्रिप का मजा लेता रहा.

हम लोग जब साथ में खाना खाते थे तो कई बार अन्नु और मैं एक ही थाली में खाते थे. उस वक्त भी मैं मौके से नहीं चूकता था और उसके उरोजों को कुहनी से दबा देता था. उसको बुरा नहीं लगता था. मुझे नहीं पता कि वो मेरा इशारा समझ रही थी या नहीं. शायद वो सोच रही थी कि मेरा हाथ गलती से उसके बदन को छू लेता है.

वैसे भी हम दोनों भाई-बहन थे इसलिए उसको मेरे अंदर दबी वासना का आभास नहीं हो रहा होगा शायद.

एक दिन हम लोग कोई किला देखने के लिए जा रहे थे. वहां पर पहुंचे तो देखा कि किला देखने के लिए एंट्री प्वाइंट पर काफी लंबी लाइन लगी हुई थी. लाइन में अन्नु मेरे पीछे ही लगी हुई थी. उसके चूचे मेरी पीठ से टकरा रहे थे. मुझे मजा आ रहा था. नर्म नर्म चूचे मेरी पीठ को सहला रहे थे.

मैंने भी मौके का फायदा उठाने की सोची. अपने हाथों को मैं पीछे ले गया और बहाने से अपनी पीठ को खुजलाने लगा. अन्नु के चूचे मेरी पीठ से सटे हुए थे तो खुजलाते हुए मेरे हाथ उसके चूचों को भी छेड़ रहे थे. मैं काफी देर तक ऐसे ही अपनी पीठ को खुजलाता रहा और उसके चूचों को छेड़ता रहा.

sister ki chudai

अब उसको शायद समझ आ गया था कि मैं उसके चूचों को छेड़ने के लिए यह सब कर रहा हूं. लेकिन उसने कुछ नहीं कहा. वो आराम से खड़ी रही. उसने न तो मेरे हाथ को हटाने की कोशिश की और न ही खुद को पीछे करने की कोशिश की.

उसके नर्म और गद्देदार चूचों को सहलाते हुए काफी देर हो चुकी थी. उसे भी शायद मजा आने लगा था. इधर मेरा लंड भी बुरी तरीके से तना हुआ था. वो कुछ नहीं बोल रही थी. फिर तभी अचानक से मौसी ने आवाज दी तो उसने अपने हाथ से मेरे हाथ को हटा दिया.

अब यह बात साफ हो गई थी कि वासना उसके अंदर भी दबी हुई है. किले में अंदर जाकर हम लोग घूमने लगे. जितनी देर तक हम लोग किले के अंदर रहे उसने मेरे हाथ को नहीं छोड़ा. कई बार तो मैंने उसके हाथ को अपने तने हुए लंड पर लगाने की कोशिश की लेकिन मैं कामयाब नहीं हो पाया.

उसके बाद हम लोग वापस होटल में आ गये. हमने होटल में दो रूम बुक किये हुए थे. एक में मेरी मां और मौसी ठहरे हुए थे और दूसरे में मैं और मेरी बहन व अन्नु रुके हुए थे.

जब सोने का समय हुआ तो मैं, मेरी बहन और अन्नु एक साथ लेट गये. मेरी बहन बीच में थी. कुछ देर तक तो हम लोग आपस में बातें करते रहे और उसके बाद हम मेरी बहन बोली कि मुझे ऐसे बीच में नींद नहीं आयेगी.

मैं भी यही चाहता था कि मेरी बहन मेरे और अन्नु के बीच से हट जाये. जैसे ही मेरी बहन ने कहा कि वो बीच में नहीं सो सकती तो जैसे मेरी लॉटरी ही लग गई. मैं खुश हो गया लेकिन अपनी खुशी को अंदर ही छिपा कर रखा.

sister ki chudai

मेरी बहन उठ कर दूसरी तरफ चली गई दूसरे छोर पर. अन्नु बीच में आ गई. कुछ देर तक हम तीनों फिर बात करते रहे. उसके बाद मेरी बहन को नींद आ गयी शायद. मेरी बहन चुप हो गयी थी. अन्नु की आवाज भी कुछ देर के बाद आनी बंद हो गई थी.

हम तीनों के पास ही अलग अलग कम्बल थे. सर्दी का मौसम था तो सब अपने कम्बल में दुबके हुए थे लेकिन मेरे अंदर हवस की गर्मी बढ़ती जा रही थी. कुछ देर तक तो मैं चुपचाप लेटा रहा और उसके बाद मैंने धीरे से गर्दन को उठा कर देखा तो अन्नु भी कम्बल में मुंह अंदर करके सो चुकी थी शायद.

अब मुझसे और इंतजार करना मुश्किल हो रहा था. मैंने धीरे से अपने हाथ को अन्नु के कम्बल में डाल दिया. मेरा हाथ सीधा उसके पेट पर जाकर लगा. उसने एक टीशर्ट और केपरी पहन रखी थी. केफरी उसके घुटनों तक ही आ रही थी.

धीरे से मैंने उसके पेट के ऊपर से टीशर्ट को ऊपर कर दिया और उसके पेट पर हाथ चलाने लगा. उसके नर्म पेट पर हाथ चलाते हुए सहलाया. उसके बाद मैं उसकी जांघों पर अपने हाथ को ले गया.

मेरे सख्त से हाथ उसकी नर्म जांघों पर चल रहे थे. जैसे जैसे मेरे हाथ उसकी जांघों को सहला रहे थे उसकी सांसों की गति भी बढ़ती जा रही थी. वो लम्बी गहरी सांसें ले रही थी और धीरे धीरे उसकी सांसों की गति भी बढ़ने लगी थी.

मेरी सगी बहन तो सो ही चुकी थी इसलिए कोई डर वाली बात नहीं थी. दिन में जो घटना हुई थी उससे लग रहा था कि अन्नु भी वही चाहती है जो मैं चाहता हूं. इसलिए मैं अन्नु की तरफ से भी आश्वस्त था. अगर वो कुछ करेगी तो ज्यादा से ज्यादा मना ही कर सकती थी. इसलिए मैं धीरे धीरे अपनी हदें पार करने लगा था.

कुछ देर तक उसकी जांघों को सहलाने के बाद मैं उसके कम्बल में घुस गया. मैंने उसके टीशर्ट में हाथ डाल दिया. उसके टीशर्ट में हाथ डालते ही मेरे हाथ से उसके चूचे छू गये. उसने अन्दर से ब्रा भी नहीं पहनी हुई थी.

sister ki chudai

अब तो मेरा यकीन और पक्का हो गया था कि आग दोनों तरफ ही लगी हुई थी. अगर ऐसा नहीं होता तो अन्नु बिना ब्रा के नहीं लेटी होती. मैंने उसके चूचों को छुआ तो मेरे लंड ने झटके देना शुरू कर दिया. हवस भड़क गई.

मेरा हाथ उसके चूचों का नाप लेने लगा. मैं उसके चूचों को अच्छी तरह हाथ में भर कर देख रहा था. उसके नर्म मुलायम चूचे अब मेरे हाथ के छूने से कड़क होने लगे थे.

उसके निप्पल पर अब मेरी उंगलियां चल रही थी. मौसी की लड़की के निप्पल तन गये थे. उसके अंदर भी हवस जाग चुकी थी जिसके गवाह उसके तने हुए निप्पल थे. मैंने अब उसके चूचों को पूरा हाथ में भरना शुरू कर दिया था.

अन्नु के उरोजों को अब मैंने मसलना शुरू कर दिया. उसकी सांसें और तेजी के साथ चलने लगी. मेरा लंड अकड़ चुका था और मेरी लोअर को फाड़ कर बाहर निकलने को हो रहा था.

मैंने देर न करते हुए अन्नु के होंठों पर अपने होंठ रख दिये. जैसे ही मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू किया वो भी मेरा साथ देने लगी. वो मेरे बालों में हाथ फेरने लगी और मैं उसकी जीभ को चूसने लगा. मेरे हाथ उसके स्तनों को दबाते हुए उनका दूध निचोड़ने की कोशिश कर रहे थे.

काफी देर तक यूं ही हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसते रहे. उसके बाद मैंने उसकी केपरी में हाथ डाल दिया. उसकी चूत के दाने को कुरेदने लगा. वो और ज्यादा तड़पने लगी. अन्नु मेरे होंठों को काटने लगी. उसकी चूत गीली हो चुकी थी.

उसकी गीली चूत को मसलते हुए मुझे बहुत मजा आ रहा था. फिर मैंने कम्बल को भी हटा दिया. मैंने बहन की चूत को मुंह लगाकर चाटा तो वो मेरे सिर को अपनी चूत पर दबाने लगी. कमरे में अंधेरा था इसलिए कुछ दिखाई नहीं पड़ रहा था.

sister ki chudai

फिर मैंने अन्नु को उठने के लिए कहा. जब वो उठी तो मैंने उसकी टीशर्ट को उतार दिया. उसको ऊपर से बिल्कुल नंगी कर दिया था. मैं अपनी नंगी बहन के चूचों को पीने लगा. हम दोनों को ये पता था कि बगल में ही बहन सो रही है इसलिए सब कुछ बहुत आराम से और सावधानी से कर रहे थे.

काफी देर तक उसके चूचों को चूसने के बाद मैंने उसकी केपरी को भी निकलवा दिया. अब मौसी की लड़की की चूत भी नंगी हो चुकी थी. मुझे अंधेरे में कुछ दिखाई तो नहीं पड़ रहा था लेकिन उसके गोरे बदन के बीच में एक काला एरिया देख कर पता लग रहा था कि उसकी चूत यहीं पर है.

मैंने उसको लेटा दिया और उसकी टांगों को फैला कर उसकी चूत को चाटने लगा. मैंने उसकी चूत में जीभ को घुसा दिया.

sister ki chudai

वो मेरे सिर को अपनी चूत में दबाने लगी. वो सिसकारियां लेना चाह रही थी लेकिन जानती थी कि अगर जरा सी भी आवाज मुंह से बाहर निकली तो बहन उठ जायेगी और सारा मजा खराब हो जायेगा.

कुछ देर तक मैंने बहन की चूत को चाटा. मेरा लंड अब और ज्यादा इंतजार नहीं कर सकता था. मैंने उसकी टांगों को चौड़ी कर दिया और अपनी लोअर को निकाल दिया. मेरा लंड अंधेरे में भी डंडे के समान खड़ा हुआ दिख रहा था. अन्नु ने मेरे लंड को हाथ में भर लिया और उसको सहलाने लगी.

जब वो मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर सहला रही थी तो लगा कि जैसे मेरा वीर्य कुछ ही पल में निकल जायेगा. इसलिए मैंने उसके हाथ को हटा दिया. मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित हो चुका था. मैंने उसकी टांगों को फैला दिया और बहन की चूत में उंगली करने लगा.

कुछ देर तक उसकी चूत में उंगली करने के बाद उसकी चूत को चोदने का समय आ गया था. मैंने अपने तने हुए लंड को उसकी चूत पर रख दिया. उसकी चूत पर लंड को लगा कर धकेलने लगा तो लंड फिसल गया. उसके बाद उसने दोबारा से खुद ही मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर रख दिया.

sister-ki-chudai-real-sex-story-new-sex-story sister ki chudai

अब मैंने जोर लगाया तो मेरा लंड उसकी गीली चूत में उतरने लगा. आधा लंड उसकी चूत में उतरा तो उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया. उसके चूचे मेरी छाती से सट गये. अब मैंने उसको दोबारा से लेटाया और एक और धक्का मारा तो सात इंच तक लंड बहन की चूत में घुसा दिया. वो मुझे पीछे धकेलने लगी. शायद उसको दर्द हो रहा था.

sister ki chudai

मगर मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसना शुरू कर दिया. कुछ ही पल के बाद वो मेरी पीठ को सहलाने लगी. मैं समझ गया कि अब चुदाई करवाने के लिए वो तैयार हो गई है. मैंने धीरे धीरे मौसी की लड़की की चूत में अपने लंड से धक्के देने शुरू किये.

अन्नु भी अपनी चूत को चुदवाने लगी. बहन की चूत को चोदते हुए इतना मजा आ रहा था कि मैं उस अहसास को शब्दों में नहीं बता सकता. कुछ देर तक उसके ऊपर लेट कर मैं उसकी चुदाई करता रहा. अब मेरे लंड से भी वीर्य निकलने वाला था.

मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया. मैं थोड़ा और मजा लेना चाह रहा था. मैंने उसकी चूत को दोबारा से चाटना शुरू कर दिया. अब वो उठी और मुझे एक तरफ लेटा कर मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. मैं सातवें आसमान पर पहुंच गया. उसने दो मिनट तक मेरे लंड को चूसा और फिर मैंने दोबारा से उसको चुदाई के लिए नीचे लेटा दिया.

मेरी सगी बहन खर्राटे ले रही थी.

अब मैंने अन्नु की चूत में एक बार फिर से लंड को पेल दिया. उसके होंठों को चूसते हुए उसकी चूत की चुदाई करने लगा. उसकी चूत से पानी निकल गया और पच-पच की आवाज होने लगी. तीन चार धक्कों के बाद मेरे लंड से भी वीर्य निकलने को हो गया.

उसेक बाद मैंने पूरे लंड को उसकी चूत में घुसाते हुए धक्के मारे और सारा वीर्य उसकी चूत में निकाल दिया.

sister ki chudai

दोनों ही तेज सांसों से हांफ रहे थे. उसके बाद जल्दी से उठ कर मैं एक तरफ हो गया. मैंने अपने कपड़े पहन लिये और कम्बल ओढ़ कर लेट गया.

sister ki chudai

अन्नु ने भी कपड़े पहन कर कम्बल ओढ़ लिया था. कुछ देर के बाद मुझे नींद आ गयी. मगर फिर रात को अचानक आंख खुली. मैंने मोबाइल में टाइम देखा तो सुबह के तीन बजने वाले थे. वो दोनों गहरी नींद में सो रही थी. मैं एक बार फिर से अन्नु के कम्बल में घुस गया और उसकी चूत चोद डाली.

उस रात को एक भाई ने बहन की चुत मारी दो बार! यह मेरे जीवन की पहली चुदाई थी. इसके बाद जब तक हम ट्रिप में साथ रहे हमने चोरी छिपे बहुत मजे किये. इस ट्रिप में और भी बहुत कुछ हुआ था. वो सब मैं आपको फिर कभी अगली कहानियों के माध्यम से बताऊंगा.

आपको ‘भाई ने बहन की चुत मारी’ रिश्तों में चुदाई की कहानी में मजा आया होगा … इस पर अपनी प्रतिक्रिया दें और अपने मैसेज के जरिये भी अपनी राय देना न भूलें. मैंने अपना मेल आईडी नीचे दिया हुआ है. जल्दी ही मैं दूसरी कहानी लेकर वापस आऊंगा.
[email protected]

Join Telegram Group

sister ki chudai

Read in English

Sister ki chut ko chebh se choda – Sister ki chudai

Sister ki chudai: In the story of sex in relationships, read how a brother beat a sister. When my older siblings went to visit Mount Abu, both of them woke up and…sister ki chudai.

My name is Atul Kumar. I am from Jhansi. This story is about an incident between me and my aunt’s girl.

Once we had a plan to go out. Me and my mother and my younger sister, we were going to Mount Abu. We were only three people, so my mother asked my aunt to walk.
My mother thought that her aunt would also roam. sister ki chudai.

Friends, my aunt has three children. There are two girls and one boy. The eldest one is named Mithali and the younger one is Annu. She is younger than me.

His son and elder sister Mithali was not ready to go while aunt and her little girl Annu agreed to go with us. We met them at the station in Gwalior and sister ki chudai.

When I saw Annu, my eyes started sliding on her body. Annu was around 21 years of age. Seeing his young body caught fire in my body. Seeing her 34 size boobs, waist of 26 and butts of 36, I stood up tanned. I had read the story of Chudai in such a relationship that a brother beat a sister.

sister ki chudai
Seeing the aunt’s girl, the lust got so bad that I felt like grabbing her milk and mashing it now. But somehow I stopped myself. There were family members and she seemed to be my sister in the relationship.

Our train was on time in which seats had already been booked. We went out for a walk. The train was running. Annu was lying on my front berth. I was watching his body again and again but sister ki chudai.

It was night time. Everybody had slept. My lust was not even letting me lie down in peace. When I looked at the rest of the members, everyone was fast asleep. Annu was also asleep.
I extended my hand towards her berth and sister ki chudai.
My cock turned 8 inches as soon as my hand was placed on it. Now the fire of fire has erupted further. I touched her lips. He rubbed his lips with his thumb. By touching her soft pink lips, my lust became more powerful, sister ki chudai.

When I could not keep up, I slowly put my hands on her boobs. It was a lot of fun teasing her boobs. I started pressing her boobs slowly. It was a very pleasant feeling to press her boobs and sister ki chudai.

I kept pressing her boobs for 5-6 minutes. Stalked him. She too was not reacting. Then he moved a little bit, then I turned away. I was a little hesitant to move her and I thought that it is fine till today.

After that I lay down in his thoughts only. My cock was still standing. I opened my pants chain and put my hands inside it. I started caressing my cock. For the first time, the feeling of touching her boobs was very strong.

sister ki chudai
I took my cock out of the cut of my underwear. Covered the thighs with a sheet and started shaking the cocks while thinking about her nipples.

I removed the semen while shaking the cocks for a long time. Then cleaned the cocks with his handkerchief and then slept peacefully. My eyes opened late in the morning. By then all the people had woken to sister ki chudai.

Then we reached Mount Abu. We saw many places there. Annu too had mixed up with us so far. She used to hold my hand many times while walking. I was enjoying it too. I continued to enjoy trips like this but sister ki chudai.

When we used to eat together, many times Annu and I used to eat in the same plate. Even at that time, I did not miss the opportunity and used to nudge his energies. He did not feel bad. I do not know if she understood my gesture or not. Perhaps she was thinking that my hand accidentally touches her body, sister ki chudai.

Anyway, both of us were siblings, so he might not have the feeling of lust buried inside me.

One day we were going to see some fort. On reaching there, I saw that there was a very long line at the entry point to see the fort. Annu was following me in the line. His feet were hitting my back. I was enjoying The softest soft hands were rubbing my back and sister ki chudai.

I also thought of taking advantage of the opportunity. I moved my hands behind and started to scratch my back with excuses. If Annu’s cocks were adjacent to my back, my hands were scratching her nipples while itching. I kept scratching my back like this for a long time and teasing his feet.

sister ki chudai
Now he might have understood that I am doing all this to tease his feet. But he did not say anything. She stood up comfortably. He neither tried to remove my hand nor tried to back himself.

It was too late, caressing her soft and padded legs. He too was starting to enjoy it. Here my cock was also stretched badly. She was not saying anything. Then suddenly aunty gave voice then she removed my hand from her hand and sister ki chudai.

Now it was clear that the lust is buried in him. We started going inside the fort. He did not leave my hand as long as we stayed inside the fort. Many times I tried to put his hand on my trunk but I could not succeed in sister ki chudai.

After that we came back to the hotel. We had booked two rooms in the hotel. In one, my mother and aunt were staying and in the other, I and my sister and Annu were staying.

When it was time for bed, I, my sister and Annu lay down together. My sister was in the middle. For some time, we kept talking among ourselves and after that my sister said that I will not be able to sleep in the middle then sister ki chudai.

I also wanted my sister to move between me and Annu. As soon as my sister said that she could not sleep in the middle, then my lottery started. I was happy but kept my happiness hidden inside.

sister ki chudai
My sister got up and went to the other end. Annu came in the middle. The three of us kept talking for a while. After that my sister probably fell asleep. My sister was silent. Annu’s voice also stopped coming after a while I sister ki chudai.

All three of us had different blankets. When it was winter, everyone was sitting in their blankets, but the heat of lust was increasing inside me. For some time I kept lying quietly and after that I slowly lifted the neck and saw that Annu had also slept in a blanket with his mouth inside then sister ki chudai.

Now I was finding it difficult to wait. I gently put my hand in Annu’s blanket. My hand went straight to his stomach. He was wearing a t-shirt and capri. Kefri was coming up to her knees.

Slowly I turned the t-shirt over from her stomach and started running her hands on her stomach. Stung his hands on his soft stomach. After that I moved my hand over her thighs.

My hardest hands were walking on his soft thighs. As my hands were stroking her thighs, the speed of her breath was also increasing. She was taking long deep breaths and slowly the speed of her breath was also increasing to sister ki chudai.

My real sister had already slept, so there was no fear. From the incident that happened in the day, it seemed that Annu also wants what I want. So I was convinced from Annu’s side too. If she does something, she could have refused more. That’s why I slowly started to exceed my limits to sister ki chudai.

After caressing her thighs for a while, I entered her blanket. I put my hand in her t-shirt. As soon as I put my hand in her t-shirt, my hands touched her feet. She was not even wearing a bra from inside.

sister ki chudai
Now I was convinced that the fire was on both sides. If it was not so, Annu would not lie down without a bra. When I touched her boobs, my cock started jerking. Lust erupted.

My hand started measuring his feet. I was looking at her boobs well in my hand. His soft soft lips were now hardening with the touch of my hand in sister ki chudai.

Now my fingers were moving on her nipple. Aunt’s girl’s nipples were tanned. The lust had woken up inside him, whose witness was his taut nipple. I had started filling her boobs in full hand.

Now I started sprinkling Annu’s Urozas. His breath started moving faster. My cock was stuck and was tearing my lower to get out but sister ki chudai.

I put my lips on Annu’s lips without delay. As soon as I started sucking her lips, she also started supporting me. She started turning my hand and I started sucking her tongue. My hands were pressing her breasts, trying to squeeze her milk and sister ki chudai.

For a long time, both of us kept sucking each other’s lips. After that I put my hand in his capri. He began to scrape her pussy. She started to suffer more. Annu started biting my lips. Her pussy was wet the sister ki chudai.

I was having a lot of fun while rubbing her wet pussy. Then I also removed the blanket. When I licked my sister’s pussy, she licked my head on her pussy. The room was dark so nothing was visible.

sister ki chudai
Then I asked Annu to get up. When she woke up, I removed her t-shirt. He was completely naked from above. I started drinking my naked sister’s nipples. We both knew that the sister was sleeping next to her, so they were doing everything very comfortably and carefully in sister ki chudai.

After sucking her boobs for a long time, I also removed her capri. Now aunt’s girl’s pussy was also naked. I could not see anything in the dark, but seeing a black area in the middle of his white body, it was found that his pussy is right here, sister ki chudai.

I lay on her and spread her legs and started licking her pussy. I inserted the tongue in her pussy. She started pressing my head in her pussy. She wanted to take Siskaria, but knew that if even a slight voice came out of her mouth, the sister would wake up and all the fun would be spoiled.

For some time I licked my sister’s pussy. My cock could not wait any longer. I widened his legs and removed my lower. My cock looked like a stick even in the dark. Annu stuffed my cock in her hand and started caressing it sister ki chudai.

When she was rubbing my cock in her hand, it felt as if my semen would come out in a few moments. So I removed his hand. I was very excited. I spread her legs and started fingering her sister’s pussy.

After fingering her pussy for some time, it was time to fuck her pussy. I put my trunk cock on her pussy. If he started pushing his cock on the pussy, then the cock slipped. After that he again grabbed my cock and put it on his pussy hole in sister ki chudai.

Now I insisted, then my cock started landing in her wet pussy. When half the cock landed in her pussy, she filled me in her arms. His hands got close to my chest. Now I rolled it again and hit another push, then seven inches of cocks got into sister’s pussy. She started pushing me back. Maybe he was in pain.

sister ki chudai
But I started sucking her lips with my lips. After a few moments she started caressing my back. I understood that now she is ready to do sex. I slowly started pushing my cock in aunty’s girl’s pussy.

Annu also started to fuck her pussy. I was having so much fun while fucking my sister’s pussy that I could not tell that feeling in words. After lying on top of him for some time, I kept fucking him. Now semen was going to come out of my cock too big sister ki chudai.

I took my cock out. I wanted to have some more fun. I started licking her pussy again. Now she woke up and lay me aside and started sucking my cock with her mouth. I reached the seventh sky. He sucked my cock for two minutes and then I again laid him down for fucking.

My real sister was snoring.

Now I once again licked the cocks in Annu’s pussy. Sucking her lips began to fuck her pussy. Water came out of her pussy and there was a sound of pooch. After three to four bumps I also had semen from my cock and sister ki chudai.

After that, I pushed the whole cocks into her pussy and pushed all the semen into her pussy. Both were gasping with strong breaths. After that, I got up quickly and turned to one side. I put on my clothes and lay down with a blanket.

sister ki chudai
Annu too wore a blanket wearing clothes. After some time I got sleepy. But then suddenly the eye opened at night. When I saw the time in mobile, it was three o’clock in the morning. She was both fast asleep. I once again entered Annu’s blanket and put her pussy in sister ki chudai.

That night, a brother beat her sister twice! This was the first fuck of my life. After this, while we were together in the trip, we secretly had a lot of fun. Much more happened in this trip. I will tell you all that again through the next stories sister ki chudai.

You must have enjoyed the story of ‘Bhai Ne Bhai Behen Ki Chut Mari’ in relationships … Please give feedback on this and don’t forget to give your opinion through your message too. I have given my mail id below. Soon I will come back with another story.
[email protected]

Sister ki chudai ki new Story-

सोते हुए अपनी बहन की सील तोड़ी | sister ki chudai in hindi – hindi sex story –

छोटी बहन ने बड़े भाई से सील तुड़वाई | brother sister sex stories-sister hindi xxx

रातभर बहन की चूत में लंड रखा | Hot Sister Hindi Story – hindisistersex

1 thought on “Sister ki chudai भाई ने बहन की चूत को जीभ से चोदा 1 Real Sex”

Leave a Comment