Antarvasna2 पापा ने की अपनी बेटी की गर्म चूत की चुदाई fun

पापा ने की अपनी बेटी की गर्म चूत की चुदाई Antarvasna2

Antarvasna2: मैं अपनी माँ के साथ बुआ के यहां शादी में गया. हम शादी से लौटे तो मुझे लगा कि मेरे पापा और मेरी बहन का व्यवहार आपस में बदल गया है. क्या हुआ था बाप बेटी के बीच?

दोस्तो, मेरा नाम विवेक (बदला हुआ) है और मैं दिल्ली के पॉश इलाके रोहिणी में रहता हूं. मेरे घर में मेरे मां-पापा, मेरी बहन और मैं रहते हैं. हमारी जिन्दगी बहुत आराम से चल रही थी क्योंकि मेरे पापा का बिजनेस सही चल रहा था.

कहानी को आगे बढ़ाने से पहले मैं अपने परिवार से आपका परिचय करवा देता हूं. यहां पर मैंने गोपनीयता के कारण कहानी के पात्रों के नाम बदल दिये हैं. मेरी उम्र 23 साल है और मेरी बहन 21 साल की है. मेरे पापा 50 वर्ष के हैं और मां की आयु 45 साल है. मैं अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी कर चुका हूं और अब मास्टर्स कर रहा हूं. मेरी बहन अपनी ग्रेजुएशन के आखिरी वर्ष में है.

मैं अपने पाठकों को बताना चाहूंगा कि ये मेरी फर्स्ट स्टोरी राइटिंग है. इसमें कुछ कमी भी रह सकती है. इसलिए आप स्टोरी का आनंद लें और कुछ कमी हो तो मुझे बाद में बता सकते हैं.

बात उन दिनों की है जब मेरी बुआ के घर पर शादी थी. जून महीने की बात है. हम लोग शादी में जाने की तैयारी कर रहे थे. मगर बिजनेस में कोई दिक्कत आ गयी थी इसलिए पापा का जाना कैंसिल हो गया था.

अब मैं, मां और बहन जाने वाले थे. फिर मां ने फैसला किया कि बहन घर पर ही रुकेगी. पापा के साथ रहने के लिए कोई नहीं था. ये बात सुनकर मेरी बहन थोड़ी उदास हो गयी थी. मगर मां ने कहा कि शादी में मैं (मॉम) और विवेक ही जाएंगे.

मैं और मां शादी में बुआ के घर चले गये. एक सप्ताह के बाद हम घर लौट आये. घर आने के बाद फिर से वही रुटीन शुरू हो गया था. मैं अपनी पढ़ाई में बिजी था और बहन भी अपनी स्टडी में. पापा बिजनेस में व्यस्त रहते थे.

एक बात जो मैं नोटिस कर रहा था वो ये कि मेरे पापा और मेरी बहन का आपसी व्यवहार अब कुछ बदल गया था. वो लोग पहले से कुछ अलग बर्ताव करने लगे थे.

जब मैंने इस ओर ध्यान देना शुरू किया तो मुझे मालूम हुआ कि वो अब पहले से ज्यादा नजदीक आ गये थे. मैंने सोचा कि पापा और बेटी का प्यार तो होता ही है, मगर उन दोनों के बर्ताव में बहुत कुछ अलग था की दिनों से जो मैं देख रहा था.

मेरे पापा अक्सर मेरी बहन को कार में लेकर बाहर जाने लगे थे. न चाहते हुए मेरे मन में शक होने लगा. मैंने इस बात की पूरी पड़ताल करने की सोची. मैंने उन दोनों पर पहले से ज्यादा ध्यान देना शुरू कर दिया.

एक दिन वो लोग बाहर जा रहे थे. पापा और बहन गाड़ी में साथ में निकले. मैं भी उनका पीछे करने के लिए निकल गया. पीछा करते करते मैंने देखा कि वो एक होटल में गये. मैं देख कर हैरान था कि ये दोनों होटल में क्या करने के लिए गये हैं!

मेरा शक गहरा हुआ तो मैं वहीं बाहर उनका इंतजार करने लगा. वो लोग लगभग दो घंटे के बाद बाहर निकले. अब मुझे बात कुछ समझ में आने लगी थी. मैं घर में होता था तो पापा और बेटी की हरकतों पर ही नजर रखता था.

एक दिन मैंने देखा कि मेरे पापा मेरी बहन की गांड पर हाथ से सहला रहे थे. वो किचन में थी और पापा पीछे से उसके पिछवाड़े पर हाथ से सहला रहे थे. मैंने चुपके से उन दोनों की वो फोटो क्लिक कर ली. मैंने तीन चार फोटो ले ली ताकि मेरे पास एक पुख्ता सुबूत हो.

अगली सुबह मैं अपनी बहन के रूम में गया. वो उस टाइम पर सो रही थी. मैंने उसको जगा दिया.
वो बोली- इतनी सुबह क्यों जगा रहे हो मुझे.
मैंने कहा- मुझे कुछ बात करनी है तुमसे.
वो बोली- अभी सोने दो, बाद में कर लेना.

अपनी जेब से मैंने फोन निकाला और उसके चेहरे के सामने करते हुए उसको आंखें खोल कर देखने के लिये कहा. उसने फोटो देखी तो उसकी आंखों में से सारी नींद गायब हो गयी. वो मेरे फोन की वह फोटो देख कर सहम सी गयी.

मैंने कहा- डरो नहीं, मैं बस इस बारे में कुछ पूछने आया हूं.
इससे पहले मैं कुछ और कहता मेरी बहन की आंखों में पानी आ गया और वो रोने लगी.
मैंने उसके कंधे पर हाथ रखा तो वो मुझसे लिपट गयी. मैंने उसको शांत किया और आराम से पूछा- श्वेता, बस मुझे इतना बता दो कि ये सब कब से शुरू हुआ है और कैसे शुरू हुआ?

दोस्तो, मेरी बहन का साइज बहुत ही मस्त है. वो 32-28-30 के साइज के साथ एकदम से हुस्न की परी के जैसी लगती थी. उसके बदन को छूकर इरादे तो मेरे भी कुछ बदल से गये थे लेकिन उससे पहले मुझे पूरी बात का पता करना था.

फिर उसने बताना शुरू किया:

भैया, उस दिन आप तो मां के साथ शादी में चले गये थे. मेरा मूड बहुत खराब था क्योंकि मैं शादी में नहीं जा पाई. अपना मूड ठीक करने के लिए मैंने अपने फोन में पोर्न सेक्स देखना शुरू किया और अपनी चूत को सहलाने लगी. चूत को उंगली से सहलाते हुए मैं उत्तेजित हो गयी, फिर तेजी के साथ अपनी चूत पर उंगली चलाने लगी. उसके बाद जाकर मैं शांत हुई. फिर मेरा मूड कुछ ठीक हो गया था लेकिन रोज की तरह खुश नहीं थी.

शाम को फिर पापा आ गये. मैंने उनको चाय बना कर दी. मेरा उदास सा चेहरा देख कर पापा ने मुझे अपने पास बैठाया और बोले- तुम्हारा मुंह क्यों लटका हुआ है? हम दोनों कहीं बाहर घूमने के लिए चले जायेंगे.

पापा का हाथ मेरी जांघ पर था. मुझे उनके हाथ से अजीब सा लगा. कुछ मजा सा आया. मैंने पापा के हाथ पर रख लिया और उनका सख्त हाथ छूकर मेरी चूत में कुछ अच्छा लगने लगा.

वो मेरे जांघ को सहलाते हुए बोले- कहां चलना चाहती हो घूमने के लिए? हम अभी चल पड़ते हैं. तुम बताओ कहां जाना चाहती हो?
मैंने कहा- एन.एस.पी के किसी पब में चलेंगे.
पापा ने कुछ पल के लिए सोचा और फिर हां कर दी. मैं खुश हो गयी.

उन्होंने मुझे अपनी जांघ पर बैठा लिया. मेरे चूतड़ उनकी जांघों के बीच में टिक गये थे. मुझे नीचे से उनका वो महसूस हुआ.
मैं (विवेक) बोला- वो क्या… मतलब?
श्वेता ने कहा- उनका वो.
मैंने कहा- क्या वो वो लगा रखा है, साफ साफ बोल, मुझे समझ नहीं आ रहा.

श्वेता बोली- पापा का पेनिस मेरी एैस्स (गांड) पर टच हो रहा था. मुझे उनके पेनिस का टच अच्छा लग रहा था. मैंने सोचा कि पापा के साथ ही थोड़ी मस्ती कर लेती हूं.

मैं अंदर गयी और अपनी रेड वाली ड्रेस पहन ली. मेरी ड्रेस पीछे से बैकलेस थी. वो काफी छोटी थी. जब मैं वो ड्रेस पहन कर आई तो पापा मुझे देखते ही रह गये.

उसके बाद हम दोनों पब में जाने के लिए तैयार हो गये. जब हम पब में गये तो वहां वेटर और कई लोग मुझे ही देख रहे थे.
एक वेटर ने तो पापा से ये भी बोला- वाह, क्या किस्मत वाले हो सर आप, आपकी गर्लफ्रेंड तो बहुत हॉट है. इस उम्र में भी आपकी ऐसी गर्लफ्रेंड तो बहुत आश्चर्यजनक बात लगती है.

पापा को ये सुन कर गुस्सा आ गया. वो वेटर को कुछ बोलने वाले थे लेकिन मैंने उनका हाथ खींच लिया और बोला- पापा चिल करो, आज की रात मुझे कुछ देर के लिए मम्मी ही समझ लो. हम यहां पर अपनी पार्टी को खराब करने के लिए नहीं आये हैं.

मेरे कहने पर पापा मान गये. उसके बाद हम अंदर गये. वहां पर मैंने दो ड्रिंक ले ली.
हम दोनों ने साथ में ड्रिंक की. उसके बाद हम डांस करने लगे. पापा अभी ज्यादा खुल नहीं रहे थे.

मैंने उनका हाथ पकड़ कर अपनी कमर पर रखवा लिया.
वो बोले- क्या कर रही हो श्वेता, अगर किसी को पता लग गया तो बहुत बदनामी होगी.
मैंने कहा- पापा, हम लोग डांस ही तो कर रहे हैं इसमें क्या बदनामी का डर है … वैसे भी हमें यहां पर कौन जानता है!

पापा के साथ मैं डांस करने लगी. मुझे पता था कि पापा कोई पहल नहीं करेंगे. इसलिए मैंने ही पहल करने की सोची.
मैंने पापा से आंखें बंद करने के लिए कहा. जैसे ही पापा ने अपनी आंखें बंद की तो मैंने उनको होंठों पर किस कर दिया.

वो पीछे होने लगे. मगर मेरे अंदर जैसे मस्ती भर रही थी. पापा के लंड को छूने के बाद से मुझे कुछ हो गया था.
पापा ने कहा- यहां सब देख रहे हैं श्वेता, ये क्या कर रही हो.
मैंने कहा- कुछ नहीं होता पापा, इंजॉय करो.

एक दो बार मना करने के बाद पापा भी मस्ती के मूड में हो गये थे. उनको धीरे धीरे सुरूर होने लगा था. अब पापा खुद ही मेरे होंठों को किस करने लगे थे. मैं भी उनका पूरा साथ दे रही थी.

Papa ne ki apni beti ki Gram chut ki chudai - Antarvasna2

मैंने देखा कि पापा का लंड उनकी पैंट में उठ चुका था. मुझे ये देख कर और ज्यादा मस्ती होने लगी. मैंने पापा के लंड पर हाथ से सहला दिया. उन्होंने कुछ नहीं बोला और मेरी गांड पर हाथ से दबाने लगे.

फिर हम लोगों से रुका नहीं जा रहा था. हम लोग पब से निकल गये और जल्दी से गाड़ी में बैठ कर घर वापस आ गये. अंदर आते ही पापा ने मुझे गोद में उठा लिया और मुझे बेड पर ले जाकर पटक दिया.

पापा मेरे बूब्स को हवस भरी नजरों से घूर रहे थे. मैंने उनको अपने ऊपर लिटा लिया और उनके होंठों को चूसने लगी. वो भी अपने लंड को मेरी जांघों पर रगड़ते हुए मुझे किस करने लगे. मुझे मजा आ रहा था और पापा भी एकदम से गर्म हो गये.

मेरे होंठों को सक करने के बाद वो मेरे बूब्स को कपड़ों के ऊपर से ही दबाने लगे. मुझे उनके सख्त हाथों से अपने बूब्स दबवाने में बहुत अच्छा लगा. मैंने अपनी ड्रेस को नीचे खींच दिया और मेरे बूब्स आधे नंगे हो गये.

आधे नंगे बूब्स देख कर पापा ने उनको किस करना शुरू कर दिया. मैंने उनके सिर को हाथ से सहलाना शुरू कर दिया. मैं पापा की पीठ को भी हाथ से सहला रही थी.

फिर वो नीचे की ओर बढे़. उन्होंने मेरी ड्रेस को ऊपर कर दिया और मेरी पैंटी दिखने लगी. उन्होंने मेरी पैंटी पर अपने होंठों से किस करना चालू कर दिया. मुझे मजा आने लगा. ऐसा लग रहा था जैसे कोई मेरी चूत को कोमलता से प्यार कर रहा है.

मैं मस्ती में होने लगी. पापा भी मेरी चूत को जोर से किस करने लगे थे. उन्होंने अपने थूक से मेरी पैंटी को गीली कर दिया था. पापा ने मेरी पैंटी को निकाल दिया और मेरी चूत को चाटने लगे. पापा ने मेरी चूत चाटना शुरू किया तो मेरे मुंह से सिसकारी शुरू हो गयी.

Papa ne ki apni beti ki Gram chut ki chudai - Antarvasna2

चूत चटवाने में जो मजा आता है वो किसी और में नहीं आता है. मेरे एक्स बॉयफ्रेंड से भी मैं बहुत देर तक अपनी चूत को चटवाती थी. वो मेरी चूत का पानी अपने मुंह में ही निकाल देता था. मुझे बहुत मजा आता था.

फिर पापा ने मेरा ड्रेस निकाल दिया. मैंने पापा को जकड़ लिया. मैं पापा के लिप्स को किस करने लगी जोर से. मेरे बूब्स पापा जोर से दबा रहे थे. पापा ने मेरा हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रखवा लिया. मैंने पापा के लंड को हाथ में पकड़ लिया पैंट के ऊपर से ही. उनका लंड मेरे एक्स बॉयफ्रेंड से बड़ा था.

मेरे एक्स बॉयफ्रेंड का लंड 6 इंच का था और पापा का लंड 7 इंच के करीब था. इतना बड़ा लंड मैंने पहली बार टच किया था. पापा ने पैंट की जिप खोल दी और मैंने अपना हाथ पापा की पैंट की जिप में दे दिया. मैंने हाथ अंदर देकर पापा के लंड को पकड़ लिया.

पापा से रुका न गया और उन्होंने अपनी पैंट को पूरा उतार दिया. वो नीचे से नंगे हो गये. मैंने पापा का लंड देखा तो मेरे मुंह में पानी आ गया. पापा का लंड बहुत मोटा और अच्छा दिख रहा था. उनके लंड का सुपाड़ा बहुत मस्त लग रहा था.

मैंने पापा के लंड को मुंह में ले लिया और चूसने लगी. मैं पापा का लंड देख कर बहुत खुश हो गयी थी. मुझे पता था कि आज रात को मुझे बहुत मजा आने वाला है. मैं एक्साइटेड होकर पापा के लंड को चूस रही थी.

पापा के मुंह से सिसकारी निकल रही थी- आह्ह … ओह्ह … माय डार्लिंग डॉटर… सक माय कॉक (मेरी प्यारी बेटी… मेरे लंड को ऐसे ही चूसो… आह्ह।) तुम्हारी मॉम ने भी इतने प्यार से मेरा लंड कभी नहीं चूसा जैसे तुम चूस रही हो… आह्ह … चाटो इसको … ओह्ह।

दस मिनट तक मैं पापा के लंड को चूसती रही और पापा मेरे मुंह में झड़ गये. मैंने पापा के लंड को मुंह से निकाला और नैपकिन से साफ किया. फिर मैंने दोबारा से पापा के लंड को चूसना शुरू किया.

Papa ne ki apni beti ki Gram chut ki chudai - Antarvasna2

कुछ देर में पापा का लंड फिर से टाइट हो गया. पापा ने मुझे अपने ऊपर लेटा लिया और मेरी चूत में लंड दे दिया. उनका लंड काफी बड़ा था इसलिए थोड़ी मशक्कत करने के बाद लंड अंदर गया. लंड को लेने के बाद मैं धीरे धीरे उछलने लगी.

मुझको बहुत मजा आ रहा था. पापा भी अलग ही मस्ती में खो गये थे. वो मेरी चूचियों को किस कर रहे थे और कभी हाथ में लेकर रगड़ रहे थे. इस सब में मुझे बहुत मजा आ रहा था. बॉयफ्रेंड से चुदाई में भी मुझे इतना मजा नहीं मिला जितना पापा से मिल रहा था.

दस मिनट तक मैं पापा के लंड पर ऊपर नीचे होती रही. फिर पापा मेरे ऊपर आ गये. ऊपर आकर पापा ने मुझे जोर से चोदना शुरू कर दिया. अब मेरी चूत में दर्द होने लगा. मगर मजा भी बहुत दे रहा था पापा का लंड.

वो हर पांच मिनट में पोजीशन बदल ले रहे थे. हमने आधे घंटे तक ऐसे ही मस्ती में चुदाई की. मेरी चूत पहले भी चुदी थी लेकिन पापा से चुद कर अलग ही मजा मिला.

जब पापा मेरी चूत में झड़े तो मेरी चूत में उनका सीमन मुझे बहुत गर्म लगा. मुझे पापा से लव हो गया. उनका लंड बहुत मस्त है. उसके बाद पापा और मैं रोज रात को चुदाई करने लगे.

जब तक तुम (विवेक) और मॉम शादी से वापस नहीं आये हमने घर में रह कर चुदाई के बहुत मजे लिये. तुम्हारे आने के बाद फिर हमें चुदाई करने का चान्स नहीं मिल रहा था. इसलिए पापा कभी किचन में तो कभी बाथरूम में मेरा पीछा किया करते थे.

उस दिन जब मैं किचन में थी तो पापा ने पीछे से मेरी गांड को मसलना शुरू कर दिया. मेरी चूत में उसी टाइम पानी आना शुरू हो गया. मुझे नहीं पता कि तुमने ये फोटो कब ली लेकिन अब पापा और मैं एक दूसरे को बहुत पसंद करने लगे हैं.

दोस्तो, मेरी सगी बहन श्वेता के मुंह से ये सारी बातें सुनकर मेरा लंड एकदम से अकड़ गया था. मेरा मन कर रहा था कि अपनी चुदक्कड़ बहन की चूत को अभी चोद दूं. जब वो पापा के लंड से चुद कर इतना मजा ले सकती है तो मैं भी उसकी चूत चोद कर मजा ले सकता हूं.

मगर तभी मॉम कमरे में आ गयी. उसके बाद मैं बाहर आ गया. अब मुझे पापा और दीदी की चुदाई के बारे में पता लग गया था और मैं भी अपनी बहन की चुदाई की प्लानिंग करने लगा था. उसका गोरा बदन देख कर मेरा लंड भी मचल जाता था.

दीदी ने तो अपनी कहानी बता कर बात को खत्म कर दिया लेकिन यहां से बात शुरू हुई थी. मुझे भी अपनी बहन की चूत की गर्मी के बारे में पता लग गया था. पापा उसकी चूत के मजे खूब ले रहे थे.

आपको बाप बेटी सेक्स की यह कहानी पसंद आई या नहीं? मुझे बतायें. इस कहानी पर अपना फीडबैक देने के लिए नीचे दी गयी ईमेल पर अपना मैसेज करें और कमेंट बॉक्स में भी बतायें. और सेक्स विडियो और new कहानी पढने के लिये telegram ग्रुप join कर सकते है.
[email protected]

Papa ne ki apni beti ki Gram chut ki chudai - Antarvasna2

Read in English

Papa ne ki apni beti ki Gram chut ki chudai – Antarvasna2

Antarvasna2: I went to the wedding of my aunt with my mother. When we returned from marriage, I felt that my father and my sister’s behavior had changed among themselves. What happened between father and daughter?

Friends, my name is Vivek (changed) and I live in Rohini, a posh area of ​​Delhi. My mother and father, my sister and I live in my house. Our life was going very smoothly because my father’s business was going well on Antarvasna2.

Before proceeding with the story, let me introduce you to my family. Here I have changed the names of the characters of the story due to confidentiality the Antarvasna2. I am 23 years old and my sister is 21 years old. My father is 50 years old and my mother is 45 years old. I have completed my graduation and am now doing my masters. My sister is in the last year of her graduation.

I would like to tell my readers that this is my first story writing. There may also be some deficiency in it. So you can enjoy the story and if there is something missing then you can tell me later on Antarvasna2.

It is about those days when I had a wedding at my aunt’s house. It is a matter of June. We were preparing to go to the wedding the Antarvasna2. But there was a problem in business, so father’s departure was canceled.

Now I, mother and sister were about to leave. Then the mother decided that the sister would stay at home. There was no one to be with Dad. My sister was a little sad after hearing this. But the mother said that I (mom) and Vivek will go to the wedding then Antarvasna2.

My mother and I went to Bua’s house for marriage. We returned home after a week. The same routine was started again after coming home and enjoy Antarvasna2. I was busy in my studies and my sister also in my studies. Father was busy in business.

Antarvasna2
One thing that I was noticing was that the mutual behavior of my father and my sister had changed now. Those people were already behaving differently.

When I started paying attention to this, I came to know that they had come closer now than before. I thought that father and daughter are in love, but their behavior was very different from the days that I was watching the Antarvasna2.

My father often took my sister in the car and started going out. Without thinking, I started having doubts. I thought of investigating it fully on Antarvasna2. I started paying more attention to both of them than before.

One day those people were going out. Papa and sister got together in the car. I also set out to follow them. While chasing, I saw that he went to a hotel and Antarvasna2. I was surprised to see what these two have gone to do in the hotel!

When my suspicions deepened, I started waiting for them outside there. Those people came out after about two hours. Now I started to understand something. When I was at home, I would keep an eye on the antics of my father and daughter then Antarvasna2.

One day I saw that my father was caressing my sister’s ass on Antarvasna2. She was in the kitchen and father was caressing her hand from behind. I secretly clicked that photo of both of them. I took three to four photos so that I had a strong proof.

Antarvasna2
The next morning I went to my sister’s room. She was sleeping at that time. I woke him up.
She said – why are you waking me up this morning.
I said – I want to talk to you like Antarvasna2.
She said – let me sleep now, do it later.

I took out the phone from my pocket and asked him to open it with eyes in front of his face. When he saw the photo, all the sleep in his eyes disappeared. After seeing that photo of my phone, she was stunned the Antarvasna2.

I said- Do not be afraid, I have just come to ask something about it then Antarvasna2.
Before that, I would say something else, my sister’s eyes got watery and she started crying.
When I put my hand on her shoulder, she hugged me. I calmed her down and asked her comfortably- Shweta, just tell me how long it all started and how it started?

Friends, my sister’s size is very cool. She looked like a fairy of beauty with a size of 32-28-30. By touching his body, my intentions were also changed, but before that I had to know the whole thing then start Antarvasna2.

Then he started telling:

Brother, that day you had gone to the wedding with your mother. My mood was very bad because I could not go to the wedding like Antarvasna2. To fix my mood, I started watching porn sex in my phone and started caressing my pussy. I got excited by caressing her pussy, then started to run finger on her pussy with speed. After that, I calmed down. Then my mood was fixed but not as happy as usual.

Antarvasna2 Father came again in the evening. I made them tea. Seeing my sad face, Dad made me sit near him and said – why is your mouth hanging? Both of us will go for a walk outside like Antarvasna2.

Father’s hand was on my thigh. I felt strange with his hand. Enjoyed something. I put it on my father’s hand and after touching his hard hand, I felt something good in my pussy and Antarvasna2.

He rubbed my thigh and said – Where do you want to go for walking? We start now. Where do you want to go?
I said – will walk in any pub of NSP on Antarvasna2.
Father thought for a moment and then said yes. I was happy.

He made me sit on his thigh. My butts stayed between his thighs. I felt that from below.
I (Vivek) said – what does that mean?
Shweta said – theirs like Antarvasna2.
I said – has he kept it, speak clearly, I do not understand.

Shweta said- Papa’s penis was touching my ass (ass). I loved the touch of his penis. I thought I would have some fun with my father and he enjoy Antarvasna2.

cript>

I went in and put on my red dress. My dress was backless from the back on Antarvasna2. She was very young. When I came wearing that dress, my father stopped looking at me.

Antarvasna2
After that we both agreed to go to the pub. When we went to the pub, the waiter and many people were watching me there.
A waiter even said this to his father- Wow, what luck are you sir, your girlfriend is very hot. Even at this age, your girlfriend looks so amazing.

Dad got angry after hearing this. He was about to say something to the waiter, but I pulled his hand and said – Chill papa, tonight, consider me as a mother for a while. We have not come here to spoil our party in Antarvasna2.

Dad agreed to my request. After that we went inside. I took two drinks there.
We both had a drink together. After that we started dancing. Father was not opening much yet.

I held his hand and got it placed on my waist.
He said – Shweta, what are you doing, if anyone comes to know then it would be very infamous.
I said- Papa, we are only dancing, what is the fear of slander in this… Who knows us here anyway!

I started dancing with my father. I knew that my father would not take any initiative. That’s why I thought of taking the initiative the Antarvasna2.
I asked my father to close his eyes. As soon as Papa closed his eyes, I kissed him on the lips.

They started following. But I was having fun like that. Something had happened to me after touching Papa’s cock and suck Antarvasna2.
Papa said- Shweta, everyone is watching here, what are you doing.
I said – nothing happens dad, enjoy it.

Antarvasna2
After refusing a couple of times, the father too became in a mood of fun. He was slowly growing. Now father himself started kissing my lips. I was also giving her full support.

I saw that Papa’s cock was up in his pants. Seeing this, I started having more fun. I put my hand on my father’s cock. He did not say anything and started pressing on my ass then Antarvasna2.

Then we were not being held back. We left the pub and came back home sitting in the car in a hurry. As soon as I came in, Papa picked me up in the lap and took me to bed and slammed him like Antarvasna2.

Dad was staring at my boob with lustful eyes. I rolled them over myself and started sucking her lips. They also started rubbing their cocks on my thighs and kissing me. I was enjoying and my father also got very hot for Antarvasna2.

After making my lips able to press my boobs on top of clothes. I liked to press my boobs with their hard hands. I pulled my dress down and my boobs were half naked.

Antarvasna2
After seeing half-naked boob, father started kissing them. I started caressing his head with his hands. I was also rubbing my father’s back with my hands.

Then they move downwards. He put my dress up and started showing my panties. He started kissing my panties with his lips. I started having fun. It seemed like someone is loving my pussy tenderly the Antarvasna2.

I started having fun. Dad also started kissing my pussy loudly. He had wet my panties with his spit. Papa removed my panty and started licking my pussy. When my father started licking my pussy, my mouth started sobbing the Antarvasna2.

The pleasure that comes in licking the pussy does not come in anyone else. Even with my ex boyfriend, I used to lick my pussy for a long time. He used to remove my pussy water in his mouth. I used to enjoy it very much on Antarvasna2.

Then father removed my dress. I grabbed my father. I started kissing my father’s lips very loudly. My boob father was pressing hard. Dad held my hand and got it placed on his cock. I grabbed my father’s cock from the top of my pants. His cock was bigger than my ex-boyfriend like Antarvasna2.

My ex boyfriend’s cock was 6 inches and father’s cock was close to 7 inches. The first time I touched such a big cock. Papa opened the zip of the pants and I gave my hand to the zip of the pants. I put my hand in and grabbed my father’s cock.

Antarvasna2 Dad did not stop and he removed his pants completely. He got naked from below. When I saw my father’s cock, my mouth became watery. Papa’s cock looked very thick and good. The supra of his cock seemed very cool in Antarvasna2.

I took Dad’s cock in my mouth and started sucking. I was very happy to see my father’s cock. I knew I was going to have a lot of fun tonight. I was excited to suck Papa’s cock.

Siski was coming out of Papa’s mouth- Ahhh… Ohhh… My darling doctor… Suck my cock (My dear daughter… Suck my cock like that… Ahhh.) Your mom also never sucked my cock with so much love like you sucked. Are you… Ahh… Lick it… Ohhh.

For ten minutes I kept sucking Papa’s cock and Papa fell in my mouth. I took Dad’s cock out of my mouth and cleaned it with a napkin. Then I started sucking Dad’s cock again in Antarvasna2.

After some time, father’s cock got tight again. Papa laid me on top of me and gave me cocks in my pussy. His cock was very big, so after a little effort, the cock went inside. After taking the cocks, I started bouncing slowly.

I was enjoying it very much. Father was also lost in fun. He was kissing my pussy and was rubbing it in his hand. I was enjoying it very much. I did not get as much fun from my boyfriend as I was getting from my father.

For ten minutes I kept going up and down on Papa’s cock. Then father came over me. After coming up, Papa started fucking me hard. Now I started having pain in my pussy. But father was giving lots of fun too.

He was changing positions every five minutes. We cuddled for half an hour in such fun. My pussy was fucking before too, but got different fun by fucking with my father.

Antarvasna2
When father fell in my pussy, I felt his semen in my pussy very hot. I fell in love with my father. His cock is very cool. After that Papa and I started fucking every night.

Till you (Vivek) and Mom did not come back from the wedding, we enjoyed a lot of sex by staying at home. After your arrival we were not getting the chance to fuck again. That’s why my father sometimes followed me in the kitchen and sometimes in the bathroom.

That day when I was in the kitchen, my father started rubbing my ass from behind. Water started coming in my pussy at the same time. I don’t know when you took this photo but now Papa and I have started liking each other a lot.

Friends, after hearing all these things from the mouth of my real sister Shweta, my cock was absolutely swollen. I was thinking that I will give Chudkad sister’s pussy now. When she can get so much fun by fucking her father’s cock, then I too can enjoy it by fucking her pussy.

But then Mom came into the room. After that I came out. Now I came to know about the father and sister’s fuck and I was also planning to fuck my sister. Seeing his blonde body, I used to get cocky too.

Didi ended the talk by telling her story but the talk started from here. I also came to know about the heat of my sister’s pussy. Dad was enjoying his pussy a lot.

Did you like this father daughter sex story or not? Let me know To give your feedback on this story, send your message on the email given below and also tell in the comment box. And to read sex videos and new story, telegram group can join.
[email protected]

Read more chudai story-

Antarvasna Hindi me मुंह बोली बेटी की सील तोड़ी 1 Best sex

New Antarvasna ससुर बहू की चुदाई की 1 Best Sex Story

Baap beti xxx story बाप बेटी की चुदाई 1 lovely Sex stories

Leave a Comment

org/tools/popad.js">