Follow my blog with BloglovinGroup sex stories 4 फौजी ने जमकर मेरी चूत मारी Best Story

Group sex stories 4 फौजी ने जमकर मेरी चूत मारी Best Story

4 फौजी ने जमकर मेरी चूत मारी Group sex stories

Group sex stories: नमस्ते दोस्तो, आपने मेरी पहले आ चुकी कहानियों को बहुत पसंद किया जिसके लिए मैं आपकी आभारी हूँ।
अब मैं आपको अपनी चुदाई का एक और गर्मागर्म किस्सा सुनाती हूँ।

सर्दियों के दिन थे, मैं अपने मायके गई हुई थी, मेरे भैया भाभी के साथ ससुराल गये थे और घर में मैं, मम्मी और पापा थे। उस दिन ठण्ड बहुत थी, मेरा दिल कर रहा था कि आज कोई मेरी गर्मागर्म चुदाई कर दे। मैं दिल ही दिल में सोच रही थी कि कोई आये और मेरी चुदाई करे.. कि अचानक दरवाजे की घण्टी बजी।

मैंने दरवाजा खोला तो सामने चार आदमी खड़े थे, एकदम तंदरुस्त और चौड़ी छातियाँ !
फिर पीछे से पापा की आवाज आई- ओये मेरे जिगरी यारो, आज कैसे रास्ता भूल गये?
वो भी हंसते हुए अन्दर आ गये और पापा को मिलने लगे…

पापा ने बताया कि हम सब आर्मी में इकट्ठे ही थे.. एक राठौड़ अंकल, दूसरे शर्मा अंकल, तीसरे सिंह अंकल और चौथे राणा अंकल ! सभी एक्स आर्मी मैन हैं।
वो सभी मुझे मिले और सभी ने मुझे गले से लगाया.. गले से क्या लगाया, सबने अपनी छाती से मेरे चूचों को दबाया…
मैं समझ गई कि ये सभी ठरकी हैं, अगर किसी को भी लाइन दूँगी तो झट से मुझे चोद देगा।

मैं खुश हो गई कि कहाँ एक लौड़ा मांग रही थी और कहाँ चार-चार लौड़े आ गये…
पापा उनके साथ अन्दर बैठे थे और मैं चाय लेकर गई… जैसे ही मैं चाय रखने के लिए झुकी तो साथ ही बैठे राठौड़ अंकल ने मेरी पीठ पर हाथ फेरते हुए कहा- कोमल बेटी.. तुम बताओ क्या करती हो…?

मैं चाय रख कर राठौड़ अंकल के पास ही सोफे के हत्थे पर बैठ गई और अपने बारे में बताने लगी…
साथ ही राठौड़ अंकल मेरी पीठ पर हाथ चलाते रहे और फिर बातों बातों में उनका हाथ मेरी कमर से होता हुआ मेरे कूल्हों तक पहुँच गया…
यह बात बाकी फौजियों ने भी नोट कर ली सिवाए मेरे पापा के…
फिर मम्मी की आवाज आई तो मैं बाहर चली गई और फिर कुछ खाने के लिए लेकर आ गई…
फिर रात को जब मैं झुक कर नाश्ता परोस रही थी तो उन चारों का ध्यान मेरे वक्ष की तरफ ही था और मैं भी उनकी पैंट में हलचल होती देख रही थी।

group sex stories

अब फिर मैं राठौड़ अंकल के पास ही बैठ गई ताकि वो भी मेरे दिल की बात समझ सकें.. मगर वो ही क्या उनके सारे दोस्त मेरे दिल की बात समझ गये…
वो सारे मेरे गहरे गले में से दिख रहे मेरे कबूतर, मेरी गाण्ड और मेरी मदमस्त जवानी को बेचैन निगाहों से देख रहे थे और राठौड़ अंकल तो मेरी पीठ से हाथ ही नहीं हटा रहे थे।

फिर उनके लिए खाना बनाने के लिए मैं रसोई में आ गई..
हमने उनके पीने का इंतजाम ऊपर के कमरे में कर दिया। शराब के एक दौर के बाद सबने खाना खा लिया।

फिर मैंने और मम्मी ने भी खाना खाया और लेट गई। मम्मी ने तो नींद की गोली खाई और सो गई पर मुझे कहाँ नींद आने वाली थी, घर में चार लौड़े हों और मैं बिना चुदे सो जाऊँ ! ऐसा कैसे हो सकता है..
मैं ऊपर के कमरे में चली गई, वहाँ पर फ़िर शराब का दौर चल रहा था…

मुझे देख कर पापा ने तो मुझे नीचे जाने के लिए बोला, मगर सिंह अंकल ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने साथ सटा कर बिठा लिया, बोले- अरे यार, बच्ची को हमारे पास बैठने दे, हम इसके अंकल ही तो हैं…
तो पापा मान गये और सारे अंकल मुझे फ़ौज की बातें सुनाने लगे।

फिर वो सभी शराब पीते रहे, मगर वो सभी पापा को बड़े बड़े पैग दे रहे थे और खुद छोटे छोटे पैग ले रहे थे।
मैं समझ गई कि वो चारों पापा को जल्दी लुढ़काने के चक्कर में हैं।

फिर सिंह अंकल ने भी अपना कमाल दिखाना शुरू कर दिया, वो मेरी पीठ पर बिखरे मेरे बालों में हाथ घुमाने लगे…
जब मेरी तरफ से कोई विरोध नहीं देखा तो वो मेरी गाण्ड पर भी हाथ घुमाने लगे। पापा का चेहरा हमारी तरफ सीधा नहीं था मगर फिर भी अंकल सावधानी से अपना काम कर रहे थे।

group sex stories

फिर वो मेरी बगल में से हाथ घुसा कर मेरी चूची को टटोलने लगे मगर अपना हाथ मेरी चूची पर नहीं ला सकते थे क्योंकि पापा देख लेते तो सारा काम बिगड़ सकता था।
उधर मेरा भी बुरा हाल हो रहा था.. मेरा भी मन कर रहा था कि अंकल मेरे चूचों को कस कर दबा दें।

फिर मैंने अपनी पीठ पर बिखड़े बाल कंधे के ऊपर से आगे को लटका दिए जिससे मेरा एक उरोज मेरे बालों से ढक गया।
सिंह अंकल तो मेरे इस कारनामे से खुश हो गये, उन्होंने अपना हाथ मेरी बगल में से आगे निकाला और बालों के नीचे से मेरी चूची को मसल दिया।
मेरी आह निकल गई… मगर मेरे होंठो में ही दब गई।

हमारी हरकतें पापा के दूसरे दोस्त भी देख रहे थे मगर उनको पता था कि आज रात उनका नंबर भी आएगा।
अब मेरा मन दोनों स्तन एक साथ मसलवाने का कर रहा था, मैं बेचैन हो रही थी मगर पापा तो इतनी शराब पी कर भी नहीं लुढ़क रहे थे।

मैं उठी और बाहर आ गई और साथ ही सिंह अंकल को बाहर आने का इशारा कर दिया… और पापा को बोल दिया- मैं सोने जा रही हूँ।
मैं बाहर आई और अँधेरे की तरफ खड़ी हो गई। थोड़ी देर में ही सिंह अंकल भी फ़ोन पर बात करने के बहाने बाहर आ गये। मैंने उनको धीमी सी आवाज दी, वो मेरी तरफ आ गये और आते ही मुझको अपनी बाँहों में भर लिया

और मेरे होंठ अपने मुँह में लेकर जोर जोर से चूसने लगे। फिर मेरे बड़े बड़े चूचे अपने हाथों में लेकर मसल कर रख दिए, मैं भी उनका लौड़ा अपनी चूत से टकराता हुआ महसूस कर रही थी और फिर मैंने भी उनका लौड़ा पैंट के ऊपर से हाथ में पकड़ लिया।

अभी पांच मिनट ही हुए थे कि पापा बाहर आ गये और सिंह अंकल को आवाज दी- ओये सिंह, यार कहाँ बात कर रहा है इतनी लम्बी.. जल्दी अन्दर आ..
तो सिंह अंकल जल्दी से पापा की ओर चले गये, अँधेरा होने की वजह से वो मुझे नहीं देख सके।

group sex stories

मैं वहीं खड़ी रही कि शायद अंकल फिर आयेंगे मगर थोड़ी देर में ही राणा अंकल बाहर आ गये और सीधे अँधेरे की तरफ आ गये जैसे उनको पता हो कि मैं कहाँ खड़ी हूँ। शायद सिंह अंकल ने उनको बता दिया होगा..

आते ही वो भी मुझ पर टूट पड़े और मेरी गाण्ड, चूचियाँ, जांघों को जोर जोर से मसलने लगे और मेरे होंठों का रसपान करने लगे, वो मेरी कमीज़ को ऊपर उठा कर मेरे दोनों निप्पल को मुँह में डाल कर चूसने लगे।
मैं भी उनके सर के बालों को सहलाने लगी..

तभी शर्मा अंकल की आवाज आई- अरे राणा तू चल अब अन्दर, मेरी बारी आ गई।
अचानक आई आवाज से हम लोग डर गये, हमें पता ही नहीं चला था कि कोई आ रहा है।Real sex story

फिर राणा अंकल चले गये और शर्मा अंकल मेरे होंठ चूसने लगे.. मेरे स्तन, गाण्ड, चूत और मेरे सारे बदन को मसलते हुए वो भी मुझे पूरा मजा देने लगे।

शर्मा अंकल ने पजामा पहना था, मैंने पजामे में हाथ डाल कर उनके लण्ड को पकड़ लिया। खूब कड़क और लम्बा लण्ड हाथ में आते ही मैंने उसको बाहर निकाल लिया और नीचे बैठ कर मुँह में ले लिया।

शर्मा अंकल भी मेरे बालों को पकड़ कर मेरा सर अपने लण्ड पर दबाने लगे। मैं उनका लण्ड अपने होंठों और जीभ से खूब चूस रही थी, वो भी मेरे मुँह में अपने लण्ड के धक्के लगा रहे थे। फिर अंकल ने अपना पूरा लावा मेरे मुँह में छोड़ दिया और मेरा सर कस के अपने लण्ड पर दबा दिया।
मैंने भी उनका सारा माल पी लिया, उनका लण्ड ढीला हो गया तो उन्होंने अपना लण्ड मेरे मुँह से निकाल लिया और फिर मेरे होंठों को चूसने लगे और फिर बोले- मैं राठौड़ को भेजता हूँ..
और अन्दर चले गये…

group sex stories

फिर राठौड़ अंकल आ गये, वो भी आते ही मुझे बेतहाशा चूमने लगे..
मगर मैंने कहा- अंकल ऐसा कब तक करोगे?
वो रुक गये और बोलो- क्या मतलब?

मैंने कहा- अंकल, मैं सारी रात यहाँ पर खड़ी रहूँगी क्या? इससे अच्छा है कि मैं चूत में ऊँगली डाल कर सो जाती हूँ।
तो वो बोले- अरे क्या करें, तेरा बाप लुढ़क ही नहीं रहा ! हम तो कब से तेरी चूत में लौड़ा घुसाने के लिए हाथ में पकड़ कर बैठे हैं !
मैंने कहा- तो कोई बात नहीं मैं जाकर सोती हूँ।
मैंने आगे बढ़ते हुए कहा।

अंकल ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोले- बस तू पांच मिनट रुक.. मैं देखता हूँ वो कैसे नहीं लुढ़कता !
और अन्दर चले गये।
फिर पांच मिनट में ही राणा और राठौड़ अंकल बाहर आये और बोले- चल छमकछल्लो, तुझे उठा कर अन्दर लेकर जाएँ जा खुद चलेगी?
मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि पापा इतनी जल्दी लुढ़क गये..

फिर राणा अंकल ने मुझे गोद में उठा लिया और मुझे अन्दर ले गये।
पापा सच में कुर्सी पर ही लुढ़के पड़े थे।
मैंने कहा- पहले पापा को दूसरे कमरे में छोड़ कर आओ।

तो राणा और राठौड़ अंकल ने पापा को पकड़ा और दूसरे कमरे में ले गये।
फिर शर्मा और सिंह अंकल ने मुझे आगे पीछे से अपनी बाँहों में ले लिया और मुझे उठा कर बिस्तर पर लिटा दिया।
शर्मा अंकल मेरे होंठो को चूसने लगे और सिंह अंकल मेरे ऊपर बैठ गये…

group sex stories

तभी राणा और राठौड़ अंकल अन्दर आये और बोले- अरे सालो, रुक जाओ, सारी रात पड़ी है। इतने बेसबरे क्यों होते हो, पहले थोड़ा मज़ा तो कर लें।
वो मेरे ऊपर से उठ गये और मैं भी बिस्तर पर बैठ गई, मैंने कहा- थैंक्स अंकल, आपने मुझे बचा लिया,

नहीं तो ये मुझे कोई मजा नहीं लेने देते.. फिर राणा अंकल ने पांच पैग बनाये और सभ को उठाने के लिए कहा मगर मैंने नहीं उठाया तो अंकल बोले- अरे अब शर्म छोड़ो और पैग उठा लो। चार चार फौजी तुमको चोदेंगे। नहीं तो झेल नहीं पाओगी…

मुझे भी यह बात अच्छी लगी, मैंने पैग उठा लिया और पूरा पी लिया…
राणा अंकल ने फिर से मुझे पैग बनाने को कहा तो मैंने सिर्फ चार ही पैग बनाए।
राणा अंकल बोले- बस एक ही पैग लेना था।

तो मैंने कहा- नहीं, मुझे तो अभी चार पैग और लेने हैं !
मैं राणा अंकल के सामने जाकर नीचे बैठ गई, अंकल की पैंट खोल दी और उतार दी..
वो सभी मेरी ओर देख रहे थे।

फिर मैंने अंकल का कच्छा नीचे किया और उनका 6-7 इंच का लौड़ा मेरे सामने तन गया।
फिर मैंने अंकल के हाथ से पैग लिया और उनके लण्ड को पैग में डुबो दिया और फिर लण्ड अपने मुँह में ले लिया…
मैं बार बार ऐसा कर रही थी।

राणा अंकल तो मेरी इस हरकत से बुरी तरह आहें भर रहे थे। मैं जब भी उनका लण्ड मुँह में लेती तो वो अपने चूतड़ उठा कर अपना लण्ड मेरे मुँह में धकेलने की कोशिश करते।
मैंने जोर जोर से उनके लण्ड को हाथों और होठों से सहलाना जारी रखा और फिर उनके लण्ड से वीर्य निकल कर मेरे मुँह पर आ गिरा..

group sex stories

मैंने अपने हाथ से सारा माल इक्कठा किया और पैग में डाल दिया और उनका पूरा जाम खुद ही पी लिया।
फिर मैं राठौड़ अंकल के सामने चली गई, वो लुंगी पहन कर बैठे थे। यह कहानी आप MastHindiStory डॉट कॉंम पर पढ़ रहे हैं।
मैंने उनकी लुंगी खींच कर उतार दी और फिर उनका लण्ड भी शराब में डाल डाल कर चूसने लगी, उनका वीर्य भी मैंने मुँह में ही निगल लिया।

फिर सिंह अंकल जो कब से अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे का लण्ड भी मैंने अपने हाथों में ले लिया और उन्होंने मेरी कमीज को उतार दिया.. अब मैं सलवार और ब्रा में थी.. फिर उन्होंने मेरी ब्रा को भी खोल दिया और मेरे दोनों स्तन आजाद हो गये। उन्होंने अपना लण्ड दोनों स्तनों के बीच में नीचे से घुसा दिया। उनका लण्ड शायद सबसे लम्बा लग रहा था मुझे.. उनका लण्ड मेरे स्तनों के बीचोंबीच ऊपर मेरे मुँह के सामने निकल आया था.

मैंने फिर से अपना मुँह खोला और उनका लण्ड अपने मुँह में ले लिया.. वो अपने लण्ड और मेरे चूचों के ऊपर शराब गिरा रहे थे जिसको मैं साथ साथ ही चाटे जा रही थी..
मैं अपने दोनों स्तनों को साथ में जोड़ कर उनके सामने बैठी थी और वो अपनी गाण्ड को ऊपर नीचे करके मेरे स्तनों को ऐसे चोद रहे थे जैसे चूत में लण्ड अन्दर-बाहर करते हैं..
और जब उनका लण्ड ऊपर निकल आता तो वो मेरे गुलाब जैसे लाल होंठों घुस जाता और उसके साथ लगी हुई शराब भी मैं चख लेती..

group sex stories

आखिर वो भी जोर जोर से धक्के मारने लगे, मैं समझ गई कि वो भी झड़ने वाले हैं.. मैंने उनके लण्ड को हाथों में लेकर सीधा मुँह में डाल लिया। अब उनका लण्ड मेरे गले तक पहुँच रहा था.. और फिर उनका भी लावा मेरे मुँह में फ़ूट गया.. वीर्य गले में से सीधा नीचे उतर गया।

अब शर्मा अंकल ने मुझे उठा लिया और मुझे बैड पर बिठा कर मेरी सलवार उतार दीम वो मेरी जांघों को मसलने लगे, फिर राठौड़ अंकल ने मेरी पेंटी उतार दी.. सिंह अंकल भी मेरे सर की तरफ बैठ गये और मेरे मुँह में शराब डाल कर खुद पीने लगे..
मैंने सभी के लण्ड देखे, सारे तने हुए थे।

शर्मा अंकल का नंबर पहला था, मैं उठी और शर्मा अंकल को नीचे लिटा कर उनके लण्ड पर अपनी चूत टिका दी और धीरे धीरे उस पर बैठने लगी..
शर्मा अंकल का पूरा लण्ड मेरी चूत में घुस गया। मैं उनके लण्ड को अपनी चूत में चारों ओर घुमाने लगी, फिर मैं ऊपर नीचे होकर शर्मा अंकल को चोदने लगी, शर्मा अंकल भी मेरी गाण्ड को पकड़ कर मुझे ऊपर नीचे कर रहे थे और अपनी गाण्ड भी नीचे से उछाल उछाल कर मुझे चोद रहे थे।
मेरे उछलने से मेरे चूचे भी उछल रहे थे जो राणा अंकल ने पकड़ लिए और उनके साथ खेलने लगे।

group-sex-stories-real-sex-story-chudai-ki-hot-story

फिर राणा अंकल ने मुझे आगे की तरफ झुका दिया और खुद मेरे पीछे आ गये जिससे मेरी गाण्ड उनके सामने आ गई और वो अपना लण्ड मेरी गाण्ड में घुसाने लगे..
मगर उनका लौड़ा मेरी कसी गाण्ड में आसानी से नहीं घुसने वाला था..

फिर उन्होंने और जोर से धक्का मारा तो मुझे बहुत दर्द हुआ जैसे मेरी गाण्ड फट गई हो.. मैं उनका लण्ड बाहर निकालना चाहती थी मगर उन्होंने नहीं निकालने दिया और फिर मुझे भी पता था कि दर्द तो कुछ देर का ही है। वैसा ही हुआ, थोड़ी देर में ही उनका पूरा लण्ड मेरी गाण्ड में था। दोनों तरफ से लग रहे धक्कों से मेरे मुँह से आह आह की आवाजें निकल रही थी…

group sex stories

फिर राठौड़ अंकल ने मेरे सामने आकर अपना तना हुआ लण्ड मेरे मुँह के सामने कर दिया.. मैंने उनका लण्ड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी..

group sex stories

जब अंकल राणा मेरी गाण्ड में अपना लण्ड पेलने के लिए धक्का मारते तो सामने खड़े अंकल राठौड़ का लण्ड मेरे मुँह के अन्दर तक घुस जाता।

मेरी आह आह की आवाजें कमरे में गूंजने लगी.. मेरा बुरा हाल हो रहा था.. उनका लण्ड और भी अन्दर तक चोट कर रहा था..फिर उनका आखरी धका तो मेरे होश उड़ा गया..उनका लण्ड मेरी गाण्ड के सबसे अन्दर तक पहुँच गया था.. मुझ में और घोड़ी बने रहनेके ताकत नहीं बची थी.. मैं नीचे गिर गई मगर राणा अंकल ने मेरी गाण्ड को तब तक नहीं छोड़ा जब तक उनके वीर्य का एक एक कतरा मेरी गाण्ड में ना उतर गया..

मैं बहुत थक गई थी… हम सभी ने एक एक पैग और लगाया। मेरी गाण्ड अभी भी दर्द कर रही थी… मगर पैग के बाद मुझे फिर से सरूर होने लगा था..
मैं अंकल राठौड़ के आगे उनकी जांघों पर सर रख के लेट गई और उनके लण्ड से खेलने लगी..
सिंह अंकल मेरी टांगो की तरफ आकर बैठ गये.

मैंने अपनी टांगे सिंह अंकल के आगे खोल दी और अपना सर राठौड़ अंकल के आगे रख दिया..
सिंह अंकल मेरे ऊपर आ गये और अपना लण्ड मेरी चूत के ऊपर रख कर धीरे धीरे से अन्दर डाल दिया और फिर अन्दर बाहर करने लगे और झड़ गए।

फ़िर राठौड़ अंकल ने मुझे अपने नीचे लिटा दिया और खुद मेरे ऊपर आकर मेरी चूत चोदने लगे.. मेरी टांगों को उठा कर उन्होंने ने भी मुझे पूरे जोर से चोदा.. फिर उन्होंने ने मेरी
गाण्ड को भी चोदा और मेरी गाण्ड में ही झड़ गये। मैं कितनी बार झड़ चुकी थी, मुझे याद भी नहीं था..

group sex stories

मेरा इतना बुरा हाल था कि अब मुझसे खड़ा होना भी मुशकिल लग रहा था। मैं वहीं पर लेट गई। हम सभी नंगे ही एक ही बिस्तर में सो गये। फिर अचानक मेरी आँख खुली और मैंने समय देखा तो 3 बजे थे..

मैंने कपड़े पहने और नीचे आने लगी, मगर सीढ़ियाँ उतरते वक्त मेरी टांगें कांप रही थी और चूत और गाण्ड में भी दर्द हो रहा था।
सुबह मैं काफी देर से उठी और मुझ से चला भी नहीं जा रहा था, इसलिए मैं बुखार का बहाना करके बिस्तर पर ही लेटी रही।
जब अंकल जाने लगे तो वो मुझसे मिलने आये..
पापा और मम्मी भी साथ थे, इसलिए उन्होंने मेरे सर को चूमा और फिर जल्दी आने को बोल कर चलेगये।
मगर मैं पूरा दिन और पूरी रात बिस्तर पर ही अपनी चूत और गाण्ड को पलोसती रही..
आपको मेरी यह सच्ची कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताना।
bhabi.koma[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगी.

group sex stories

Read in English

Chaar Fojiyo ne maari chut Group sex stories

Group sex stories: Hello friends, you liked my earlier stories so much for which I am grateful to you.
Now let me tell you another hot story of my fuck.

It was winter, I went to my maternal grandfather, my brother-in-law went with her in-laws and I, my mother and father were at home. It was cold that day, my heart was trying to make someone hot today. I was thinking in my heart that someone should come and fuck me .. that suddenly the door bell rang and group sex stories.

When I opened the door, four men were standing in front of me, very healthy and wide breasts!
Then came the voice of the father from behind – Oye my family, how have you forgotten the way today?
He also came inside laughing and started getting Papa…group sex stories.

Papa told that we were all gathered in the army .. One Rathore Uncle, the second Sharma Uncle, the third Singh Uncle and the fourth Rana Uncle! All X are army men like group sex stories.
They all met me and they all hugged me .. What did I hug, everyone pressed my nipples from their chest…group sex stories.
I understood that all these are stalkers, if I give the line to anyone, then will quickly fuck me.

I was happy that where I was asking for a Aloda and where all four came back…
Papa was sitting inside with him and I went to get tea… As soon as I bowed down to have tea, Rathore Uncle sitting with me shook my back and said, gentle daughter .. You tell me what do you do…?

I sat down on the hand of the sofa near Rathore Uncle having tea and started telling about myself…
Along with this, Rathore uncle kept running his hand on my back and then his hand reached my hips while talking through my waist…group sex stories.
The rest of the soldiers also noted this except for my father…
Then came the voice of the mother, then I went out and then brought something to eat…group sex stories.
Then at night when I was bowing down and serving breakfast, the attention of all four was towards my chest and I was also seeing the movement in their pants.

group sex stories
Now again I sat down with Rathore Uncle so that he too could understand what my heart was saying .. But did all his friends understand my heart…
All of them were looking at my pigeon, my Gand and my drunk youth from my deep throat with restless eyes and Rathore Uncle was not removing his hand from my back.

Then I came to the kitchen to cook for them ..group sex stories.
We arranged for his drinking in the upstairs room. After a round of wine everyone ate their food.

Then I and my mother also ate food and lay down. The mother ate a sleeping pill and fell asleep, but where was I going to sleep, there should be four lords in the house and I should go to sleep without sleep! how could it be..
I went to the upstairs room, then there was a round of alcohol…group sex stories.

On seeing me, my father told me to go down, but Singh Uncle took hold of my hand and made me sit with him, said, “Hey man, let the baby sit with us, we are his uncle…
So Dad agreed and all the uncles started telling me about the army.

Then all of them continued to drink alcohol, but they were all giving big pagas to their father and were taking small pags.
I understood that they are in a hurry to roll the four dads quickly like group sex stories.

Then Singh Uncle also started showing his awesome, he started twisting his hands in my hair scattered on my back…group sex stories.
When I did not see any opposition from my side, he started turning his hand on my Gand too. Papa’s face was not straight towards us but still uncle was doing his work carefully.

group sex stories
Then he inserted his hand from my armpit and began to grope my nipple but could not bring his hand to my nipple because the father could see all the work going bad.
On the other hand, I was also feeling bad .. I also felt that Uncle would press my breasts tightly.

Then I hung the hair scattered on my back from above the shoulder, so that one of my Uros covered my hair.
Singh Uncle was happy with my exploits, he took his hand forward from my armpit and crushed my nipple from under my hair.
I lost my sigh… but got buried in my lips the group sex stories.

Papa’s other friends were also watching our actions but they knew that their number will also come tonight.
Now my mind was trying to rub both the breasts together, I was getting restless but the father was not even rolling after drinking so much alcohol.

I got up and came out and at the same time gave a hint to Singh Uncle to come out… and said to my father – I am going to sleep then group sex stories.
I came out and stood in the dark. In a short while, Singh Uncle also came out on the pretext of talking on the phone.

I gave them a slow voice, they came towards me and filled me in their arms as soon as they came and took my lips in their mouth and started sucking them vigorously. Then, with my big big hands in my hands, I kept mashing, I also felt his Aloda colliding with my pussy and then I also caught his Aloda in the hand over the pants form group sex stories.

It was only five minutes before the father came out and gave a voice to Singh Uncle- Oye Singh, where is the man talking so long .. Come in soon ..group sex stories.
So, Uncle Singh quickly went towards Papa, because of being blind he could not see me.

group sex stories I stood there thinking that maybe Uncle would come again, but in a while, Rana Uncle came out and came straight towards the darkness as if he knew where I was standing. Perhaps Singh Uncle would have told them…group sex stories.

As soon as he came, he too broke down on me and started rubbing my ass, nipples and thighs very hard and sucking my lips, he lifted my shirt up and started sucking both my nipples in the mouth.
I also started caressing his hair ..group sex stories.

Then came the voice of Sharma Uncle – Hey Rana, you are now inside, my turn has come.
We were frightened by the sudden voice, we did not know that someone was coming. Real sex story
Then Rana went to Uncle and Sharma Uncle started sucking my lips .. He started giving me full fun while rubbing my boobs, Gand, pussy and all my body, group sex stories.

Uncle Sharma wore pajamas, I put my hands in pajamas and caught his LND. As soon as I got a lot of hard and long hand in hand, I took it out and sat down and took it in the mouth.

Sharma uncle also grabbed my hair and started pressing my head on his LND. I was sucking her Lund a lot with my lips and tongue, she was also pushing my LND in my mouth. Then Uncle left all his lava in my mouth and pressed my head tightly on his LND.
I also drank all their goods, their LND became loose, then they took their LND out of my mouth and then started sucking my lips and then said – I send it to Rathore…group sex stories.
And went in…group sex stories.

group sex stories Then Uncle Rathore came, he too started kissing me wildly as soon as he came ..
But I said – how long will Uncle do this?
He stopped and said – what do you mean?

I said Uncle, will I stay here all night? It is better that I fall asleep by putting a finger in my pussy.
So he said – oh what to do, your father is not rolling! Since when have we been sitting in your hand holding the aloda in your pussy!
I said, so no problem, I go and sleep.
I said moving forward and group sex stories.

Uncle grabbed my hand and said- Just wait five minutes .. I see how he does not roll!
And went inside.
Then in five minutes, Rana and Rathore Uncle came out and said – Come on, let’s go and take you inside and go yourself.
I could not believe that my father rolled so fast…group sex stories.

Then Rana uncle lifted me in the lap and took me inside.
Papa really rolled on the chair.
I said – first leave your father in another room and group sex stories.

So Rana and Rathore Uncle caught Papa and took him to another room.
Then Sharma and Uncle took me back and forth in their arms and lifted me and laid me on the bed.
Sharma uncle started sucking my lips and Singh uncle sat on me…group sex stories.

group sex stories That are when Rana and Rathore Uncle came in and said – Hey Salo, stop, all night is lying. Why are you so eager, first have some fun?

He got up from me and I also sat on the bed, I said – Thanks Uncle, you saved me, otherwise it does not let me have any fun…group sex stories.
Then Rana Uncle made five pegs and asked everyone to lift it, but I did not lift it. All four soldiers will fuck you. Otherwise, you will not be able to withstand…group sex stories.

I also liked this thing, I lifted the peg and drank the whole…
Rana uncle again asked me to make pegs, so I made only four pegs.
Rana Uncle said – Only one peg was to be taken.

So I said – no, I have to take four more pegs now!
I sat down in front of Uncle Rana, opened Uncle’s pants, and took off…group sex stories.
They were all looking at me.

Then I downed Uncle’s briefs and his 6-7 inch Aloda got stretched in front of me.
Then I took the peg from Uncle’s hand and dipped his LND in the peg and then took LND in his mouth…group sex stories.
I was doing this again and again.

Rana Uncle was giving a bad sigh to my actions. Whenever I took his LND in the mouth, he would try to push his Lund in my mouth by lifting his butts.
I continued to caress his LND with hands and lips and then the semen came out of my LND and fell on my mouth ..

group sex stories
I collected all the goods with my hand and put it in the peg and drank the whole jam by myself.
Then I went in front of Rathore Uncle, he was sitting in lungi. You are reading this story at MastHindiStory.com.
I pulled her lungi and then started sucking her LND by putting it in alcohol, I also swallowed her semen in the mouth.

Then I took the Lund of Singh Uncle who had been waiting for his turn since then and he removed my shirt…group sex stories.
Now I was in salwar and bra .. Then they also opened my bra and both my breasts got free. He inserted his LND down between the two breasts. His LND seemed to be probably the longest for me .. His LND came out in front of my mouth in the middle of my breasts.

I opened my mouth again and took his LND in his mouth .. He was pouring alcohol on his LND and my hips, which I was being licked along with ..
I was sitting in front of them by connecting both my breasts together and they were fucking my breasts up and down in such a way as LND in and out of pussy…group sex stories.
And when his LND would come out, he would penetrate my rose like red lips and I would taste the liquor that was with him ..

group sex stories
After all, they also started banging loudly, I understood that they are also going to fall .. I took his LND in his hands and put it straight in the mouth. Now their LND was reaching my throat .. And then also their lava burst in my mouth .. Semen came down directly from the throat.

Now Sharma Uncle picked me up and made me sit on the bed, my salwar was removed, he started rubbing my thighs, then Rathore Uncle removed my panty .. Singh Uncle also sat on my head and put liquor in my mouth. He started drinking himself…group sex stories.
I saw everyone’s legs, all the trunks were there.

Sharma Uncle’s number was the first, I got up and lied down to Uncle Sharma and put my pussy on her LND and slowly started sitting on it ..
Sharma Uncle’s entire LND entered my pussy. I started to roll his LND around in my pussy, then I started fucking him up and down…group sex stories.
Due to my bouncing, my feet were also jumping which Rana uncle grabbed and started playing with them.

group-sex-stories-real-sex-story-chudai-ki-hot-story
Then Rana Uncle bowed me forward and himself came behind me, so that my Gand came in front of him and he started putting his LND in my Gand ..
But his Aloda was not going to enter my tight ass easily ..

Then they pushed harder and I felt very pain as if my Gand had burst .. I wanted to take out their LND but they did not let it out and then I also knew that the pain is only for a while. That is what happened, in a short while their whole Lund was in my Gand. Balls from both sides were coming out of my mouth.

group sex stories
Then Uncle Rathore came in front of me and put his trunk LND in front of my mouth .. I took his LND in my mouth and started sucking ..
When Uncle Rana used to push my LND into my Gand, Uncle Rathore’s LND standing in front of me would penetrate to the inside of my mouth.

The sound of my ah ah started echoing in the room .. I was feeling bad .. His LND was hurting even more .. Then his last blow blew my senses .. His LND to the deepest part of my Gand Had reached .. I had no strength left to remain a mare .. I fell down but Rana uncle did not leave my Gand until every single piece of his semen landed in my Gand…group sex stories.

I was so tired… We all put on one peg. My Gand was still hurting… but after the peg, I started feeling dizzy again…group sex stories.
I lay down before Uncle Rathore with his head on his thighs and started playing with his LND ..
Singh’s uncle came and sat towards my legs.
I opened my legs in front of Singh Uncle and put my head in front of Rathore Uncle ..
Uncle Singh came on top of me and put his Lund on top of my pussy and put it in slowly and then started to get in and fall out.

Then Uncle Rathore lied me under himself and started fucking me on top of me…group sex stories. He lifted my legs and he also fuck me very hard .. Then he gave me
Chod and Gand also fell in Gand. I could not remember the number of times I had fallen ..

group sex stories
I was in such a bad condition that now it seemed difficult for me to stand up. I lay there. We all slept naked in the same bed. Then suddenly my eyes opened and I saw the time then it was 3 o’clock ..

I got dressed and started coming down, but while descending the stairs my legs were trembling and there was pain in pussy and Gand also.
I woke up too late in the morning and could not even walk from me, so I lay on the bed with the excuse of fever.
When Uncle started going, he came to see me…group sex stories.
Papa and mother were also together, so they kissed my head and then would leave soon.
But I kept my pussy and Gand in bed all day and all night…group sex stories.
Tell me how you liked this true story of mine.
[email protected]


More Hot chudai ki story

मां की चुदाई की प्यास बेटे ने बुझाई | maa xxx story – maa beta hot story

सुंदर लड़की की गुलाबी चूत और गांड मारी | Hindi xx story – Desi hot kahani

भाभी के चूचों और रसीली चुत का दीवाना | bhabhi story in hindi – devar bhabi x

Leave a Comment