Follow my blog with BloglovinDesi hot kahani सुंदर लड़की की गुलाबी चूत और गांड मारी 69 Sex

Desi hot kahani सुंदर लड़की की गुलाबी चूत और गांड मारी 69 Sex

गुलाबी चूत और गांड मारी Desi hot kahani

Desi hot kahani: तो दोस्तो एक बार फ़िर हाजिर है आपका दोस्त जतन गाँव जुलाना जिला जीन्द हरियाणा से आप सब के सामने अपनी जिन्दगी का एक और पन्ना लेकर। मैं थोड़ा देर से आप लोगों के साथ रु-ब-रु हो पाया उसके लिये मैं माफ़ी चाहूँगा।तो दोस्तो मुझे आप सबके मेल तो बहुत मिले पर जितनी मैं उम्मीद करता था उतने नहीं।

सबसे बडी बात, मैं आप लोगों से एक वादा करता हूँ कि मैं जो कुछ भी लिखूँगा वो मेरी जिन्दगी की सच्चाई होगी। हो सकता है जो हालात और नाम मैं लिखूं, वो काल्पनिक हों क्योंकि

जिसने मुझे इतने विश्वास के साथ अपना सब कुछ सौपं दिया उसका नाम आप लोगों के सामने बताकर मैं उसे बदनाम नहीं कर सकता पर उसमें जो लड़की होगी, वो सच्ची होगी और मैंने जो कुछ उसके साथ किया वो भी सच होगा।

तो आज की कहानी शुरु करते हैं !

अभी कुछ दिन पहले की बात है मैं कुछ काम से नरवाना गया हुआ था तो मैं अपने एक दोस्त के घर पे रुका हुआ था। मेरे दोस्त का घर जिस कालोनी में था, वहां महिला आयोग वालों का प्रोग्राम हो रहा था वो सब महिलाओं के अधिकारों पर भाषण दे रहे थे तो जैसा कि मैं प्रवृति से थोड़ा जिज्ञासु हूँ तो मैं भी वहां पर चला गया संयोग से मुझे सबसे आगे वाली सीट मिल गई।

Desi hot kahani

स्टेज पर एक अधेड़ उम्र की महिला भाषण दे रही थी। उसके पीछे कुर्सियों पर कुछ और अधेड़ महिलाएँ बैठी थी और उनके पीछे कुछ सुन्दर बालाएं खड़ी थी। उन लड़कियों के बीच में एक लड़की ख़डी थी बिल्कुल गोरी चिट्टी।

उसकी लम्बाई तकरीबन ५.५” होगी और फ़िगर तो एकदम बार्बी डोल के जैसी। उसने सफ़ेद रंग की साड़ी पहनी हुई थी और उसमें वो स्वर्ग की किसी अप्सरा से कम नहीं लग रही थी।

उसे देखते ही मेरी नियत बदलने लगी और मैं उन महिला उद्धार वालों की उस लड़की का उद्धार करने के बारे में सोचने लगा। मैं एक टक उसे ही देखने लगा।

उसके उभरे हुये उरोज मुझे आमंत्रित कर रहे थे कि मैं जाऊं और उन्हें जी-जान लगाकर मसलूं। उसकी नजरें सामने बैठे सब लोगों में घूम रही थी।

Desi hot kahani

जैसे ही उसकी नजर मुझसे टकराई, मेरे शरीर में ४४० वोल्ट का करंट सा लगा और शायद कुछ फ़र्क उसे भी पड़ा था क्योंकि उसने एक बैचेनी के साथ बहुत जल्दी से अपना मुँह दूसरी तरफ़ घुमा लिया, पर मैं अपनी नजर उसके सेब जैसे गालों से न हटा सका।

अबकी बार मुझे काफ़ी देर हो गई थी कि वो कब मेरी आँखों में देखे। वो शायद जानबूझ कर ऐसा कर रही थी। लेकिन उसके चेहरे की बैचनी साफ़ देखी जा सकती थी।

काफ़ी देर के बाद फ़िर उसने कुछ पल के लिये मेरी तरफ़ देखा लेकिन अबकी बार वो कुछ सामान्य थी और इस तरह हमारी एक दूसरे से लगातार नजरें मिलने लगी और हम अब एक दूसरे को स्माईल भी दे रहे थे।

अब मुझसे बर्दाशत करना मुश्किल होता जा रहा था। लण्ड पैंट को फ़ाड़कर बाहर आने के लिये बेताब था। तो इतनी देर में ही वो कहीं चली गई तो मैंने भी सोचा जब तक शो दोबारा शुरु हो तब तक मैं भी जाकर सूसू करके आऊं

और मैं उठ कर पंडाल से बाहर आ गया जहां पे सामने ही जेन्ट्स और लेडिज बाथरुम साथ साथ बने हुए थे मैं सीधा जेन्टस बाथरुम में गया और अपने खड़े हुए लण्ड को पकड़ कर दीवारों पे धार मारते हुए सूसू करने का मजा लेने लगा……………

Desi hot kahani

मैं जैसे ही बाहर निकला वही लड़की जो अन्दर स्टेज पर थी, बिल्कुल मेरे सामने दरवाजे के साथ कूश्ती कर रही थी, शायद उससे बाथरुम का दरवाजा नहीं खुल रहा था।

उसे मैंने पहली बार इतनी नजदीक से देखा था उसका रंग धूप में समुन्दर के किनारे पड़ी रेत की तरह चमक रहा था, उसकी कमर मेरी तरफ़ थी वो दरवाजे की कुण्डी को पकड़ के थोड़ा झुकी हुई थी जिससे उसके चूतड़ों के उभार बाहर की ओर निकले हुए थे।

उसके कूल्हों की गोलाईयां कमाल की थी। उसकी कमर से लेकर कूल्हों तक देखने में वो ऐसी लग रही थी जैसे अजन्ता की गुफ़ाओं में मूर्तियां बनाने वाले मूर्तिकार ने उसे अपने हाथों से बनाया हो।

उसकी नंगी दिख रही कमर पे कुछ पसीने की बूंदें जो उसके गोरे बदन पे मोतियों की तरह चमक रही थी। दिल कर रहा था कि उसे अभी दबोच लूँ।

लेकिन मैं एक शरीफ़ आदमी हूँ। मैंने ना तो कभी किसी लड़की के साथ कोई जबरदस्ती की है और ना ही किसी लड़की का कभी फ़ायदा उठाने की कोशिश की है। अगर वो खुश है तो मैं अपने लण्ड का प्रयोग करता हूँ नहीं तो चक्षु चोदन करके ही खुश रहता हूँ।

Desi hot kahani

तो मैं उसे देख ही रहा था कि वो कुण्डी छोड़ कर वापस मुड़ी। मैं उसके कुछ ज्यादा ही नजदीक खड़ा था जिससे वो मुड़ते ही एकदम मुझसे टकरा गई और उसकी छातियां मेरे सीने से आ चिपकी।

जिससे मेरे शरीर में सनसनाहट सी दौड़ गई। वो जल्दी से मुझसे दूर हटी और मुझे बार बार सॉरी कहने लगी। मैंने जब ओ के कहा तो उसने थोड़ा सामान्य होते हुये मुझसे कहा- दरअसल दरवाजा नहीं खुल रहा है। क्या आप जरा !

मैंने उसकी बात खत्म होने से पहले ही ‘ हां जरुर ‘ कहा और दरवाजे को जोर से झटका मारा दरवाजा बहुत धीरे से बंद था और जरुरत से ज्यादा जोर लगाने के कारण एक झट्के में ही खुल गया जिससे मैं उस लड़की के उपर जा गिरा वैसे तो लड़की की तरफ़ मेरी पीठ थी

लेकिन जैसे ही मुझे लगा कि मैं गिरने वाला हूँ मैंने एकदम से अपना मुँह घुमा लिया और अपनी दोनों हथेलियां सीधी करके इसलिए आगे निकाल ली कि अगर मैं गिरुँ तो हाथों को जमीन पर लगा कर खुद को गिरने से रोक सकूँ जिससे मेरे मुँह पर चोट लगने से बच सके, जैसा कि आमतौर पर मनुष्य करता है।

Hindi xx story – Desi hot kahani – besthindisexstory

वो एकदम मेरे पीछे खड़ी थी जिससे मैं उसी के उपर जा गिरा और जो मेरे हाथ आगे की ओर निकले हुये थे वो उसके सीने पे जा टिके और हम दोनों जमीन पर जा गिरे। शायद उसे जमीन पर गिरने से ज्यादा चोट नहीं आई थी क्योंकि उसके चेहरे पर कोई दर्द के भाव नहीं थे। वो मेरे बिल्कुल नीचे पड़ी थी और मैं उसके गुदाज बदन के ऊपर लेटा हुआ था।

उसके सीने के दोनों मोटे-२ उभार जिनका साईज एक बड़े अनार के जितना था, मेरे दोनों हाथों में कैद थे जो कुछ ज्यादा ही सख्त लग रहे थे। मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं किसी मखमल के गद्दे के उपर लेटा हुआ हूँ और मेरे हाथों में दो मुलायम पत्थर पकड़ा दिये गये हैं। हम दोनों एक दूसरे की आँखों में देख रहे थे।

ना तो वो मुझे उठने के लिये कह रही थी और ना ही उसके चेहरे पे कोई नाराजगी नजर आई और मुझे तो होश ही नहीं था।

फ़िर भी मैंने अपने आप को संभाला और उसके उपर से उठते हुये सॉरी बोला तो उसने मुझे ओ के कहते हुए कहा- वैसे आपको जगह देख के गिरना नहीं आता अगर आप बाथरुम के अन्दर मेरे ऊपर गिरते तो आप को सॉरी नहीं कहना पड़ता। वैसे मेरा नाम मुस्कान है।

Desi hot kahani

यह सब कहते हुए उसके चेहरे पर एक शरारती मुस्कान थी, एक तो ये सब उसने बहुत तेजी से कहा और दूसरे उसकी आवाज कुछ ज्यादा ही मीठी थी, जिससे मैं कुछ बोल ही नहीं पाया

लेकिन फ़िर भी मैंने अपने आप को सम्भालते हुये कहा- गिरना तो सीख लेते लेकिन कोई सिखाने वाला भी तो हो ! वैसे मेरा नाम जतन है !

मैंने भी उसकी दोनों बातों का जवाब एक साथ देते हुए कहा।

वो कुछ ज्यादा ही फ़्रेंक थी, उसने जल्दी से मुझसे हाथ मिलाते हुये हाय कहा।

मैंने कहा- तो चले फ़िर?

कहां ?

गिरना सीखने के लिये !

अभी ?

कल करे सो आज कर आज करे सो अब !

तुम बहुत शरारती हो वो हसंते हुये बोली जिससे उसके सफ़ेद दांत दिखाई दिये जो अनार के दानों के जैसे थे।

और मैंने उसका हाथ पकड़ कर उसे उसी लेडीज बाथरुम के अन्दर खींच लिया और वो भी बिना कोई जोर जबरदस्ती किये अन्दर आ गई।

मैंने अन्दर जाते ही बाथरुम का दरवाजा अन्दर से बदं कर लिया और उसको अपनी बाहों में भरते हुये उसके चेहरे पे पागलों की तरह किस करने लगा,

Desi hot kahani

उसके नरम गुलाबी होठों को बेदर्दी से चूसने लगा तो उसने मुझे थोड़ा पीछे धकेलतेहुये कहा- इतनी बेसब्री क्यों दिखा रहे हो ? मैं कहीं भागी थोड़े ही जा रही हूँ !

और मेरे दोनो हाथों की अगुंलियों को अपने हाथों की उंगलियों में फ़ंसाते हुये कहा- अब तुम अपने हाथ पैर नहीं चलाओगे, आराम से खड़े रहो !

मैं सीधे होकर खड़ा हो गया। उसने बहुत ही प्यार से मेरे होठों पर अपने होंठ टिकाते हुये मुझे धीरे-२ किस करना शुरु कर दिया।

वो कभी ऊपर वाले होंठ को चूस रही थी तो कभी नीचे वाले होंठ को ! उसके चूमने का अदांज इतना मादक था कि मेरे तो होश ही उड़ रहे थे।

मैंने अपने हाथ उसकी नाजुक उंगलियों से आजाद करके उसकी पतली कमर थाम ली जिसे छूने की मैं कब से कल्पना कर रहा था।

Hindi xx story – Desi hot kahani – besthindisexstory

मेरे हाथ उसके दोनों कूल्हों की तरफ़ से उसके बदन को सहलाते हुए उसके कंधों तक आ रहे थे। उसके कूल्हों की गोलाईयां बहुत ही मुलायम मगर सख्त थी। मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं दो तरबूजों पर हाथ फ़िरा रहा हूँ।

उसके ब्लाउज का पीछे का कट बहुत बड़ा था, उसकी पूरी पीठ नंगी थी जो उसने अब तक अपनी साड़ी से छुपा रखी थी। ब्लाउज को संभालने के लिये बस एक पतली सी स्ट्रीप थी जो पीछे पीठ पर बंधी हुई थी।

मैंने उसकी पीठ पर हाथ फ़िराते हुए वो स्ट्रीप खोल दी जिसके बाद उसके ब्लाउज में खोलने के लिये कुछ बाकी नहीं रहा।

वो अब भी मुझे किस करने में मगन थी पर मेरा पूरा का पूरा ध्यान मुस्कान के कपड़े उतारने में लगा हुआ था। मैंने उसके ब्लाउज को उतार कर एक तरफ़ फ़ैंक दिया, उसने कुछ नहीं कहा।

मुझे तो जैसे स्वर्ग का आनन्द आ रहा था। उसने काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी जो उसके बदन के गोरे रगं को और भी कातिल बना रही थी।

Desi hot kahani

मैं उसकी सीने के उभारों को दबाने लगा, मुझे बहुत ज्यादा आनन्द आ रहा था। उसके बड़े-२ चुचे मेरे हाथों में नहीं समा रहे थे। मैं अपने होश खोता जा रहा था। मैंने उसकी ब्रा भी उतार कर एक तरफ़ उछाल दी।

वो अब भी किस करने मैं मगन थी। मैं उसके नंगे चुचों को बेदर्दी से मसल रहा था, वो सिसकियां ले रही थी।

मैंने अपने होठों को उसके होठों से आजाद करवाया और एक नजर उसकी नंगी छाती पर डाली क्या खतरनाक नजारा था मेरे आँखों के सामने उसके दो सफ़ेद उभार झूल रहे थे जिन्हें देख कर मेरा हलक सूख रहा था।

वो कतिल नजारा किसी भी जवान मर्द की जान लेने के लिये काफ़ी था। उसके हल्के गुलाबी रंग के निप्पल सुई की नोक की तरह तने हुए थे।

अब ज्यादा देर तक मुझसे उसे इस हालत मैं नहीं देखा जा रहा था। मैंने उसे अपने सीने से लगाकर जोर से भींच लिया जिससे उसके चुचे मेरे सीने में दब गये। वो इतने सख्त थे कि मुझे ऐसा लग रहा था कि वो मेरे सीने के पार ही ना निकल जायें। वो बहुत जोर-२ से सिसक रही थी। शायद वो भी अब बेकाबू होती जा रही थी।

उसने मेरी पीठ पर जहां उसके हाथ थे, अपने नाखूनों से जोर से नोच दिया, मुझे बहुत ज्यादा दर्द का अहसास हुआ पर मैं जाने क्या सोचकर सब बर्दाश्त कर गया।

मैंने उसे अपने आप से अलग किया और दीवार के साथ खड़ा करके उसके मस्त उभारों पर टूट पड़ा। उसके चुचों को जोर से मसलते उए उसके निप्पलों को चूसने लगा।

Desi hot kahani

ऐसा करते हुए मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था। वो सेक्स में मस्त होते हुये मेरे बालों को नोच रही थी मैंने उसकी छाती को चूस-२ कर और ज्यादा लाल और बड़ा बना दिया। अब मैं दोबारा जैसे ही उसके होठों के पास होंठ ले गया, वो मुझ पर पागल की तरह टूट पड़ी और वो मेरी शर्ट के बटन खोलने की कोशिश करने लगी लेकिन उसकी बौखलाहट के कारण वो बटन नहीं खोल पा रही थी

जिससे उसने गुस्से में शर्ट को ही फ़ाड़ डाला। मुझे शर्ट फ़टने के कारण गुस्सा तो आया लेकिन उस वक्त गुस्से पे उन्माद हावी हो चुका था जिस कारण मैं कुछ बोलने की हालत में नहीं था। उसने मेरी फ़टी हुई शर्ट को उतारकर एक तरफ़ फ़ैंक दिया।

इससे पहले कि वो बनियान भी फ़ाड़ डाले, मैंने खुद बनियान उतारकर एक तरफ़ रख दी। अब हमारे ऊपर से नंगे बदन एक दूसरे से चिपके हुए थे और हम दोनों ही एक दूसरे के बदन को बेदर्दी से मसल रहे थे जिससे दर्द तो हो रहा था पर दर्द से ज्यादा मजा आ रहा था। उसके हाथ जैसे ही मेरी पैंट के ऊपर गये, मुझे डर था कि कहीं ये मेरी पैंट भी ना फ़ाड़ दे और मुझे नंगे ही घर जाना पड़े।

Desi hot kahani

मैंने फ़ट से पैंट शरीर से अलग कर दी। उसने लपक कर अडंरवियर में हाथ डाल कर मेरे खड़े लण्ड को पकड़ लिया और अपने घुटनों के बल बैठ कर लिंग को मुँह में डाल लिया और लॉलिपोप की तरह चूसने लगी। वो लंड को जड़ से लेकर टोपी तक आईस्क्रीम की तरह चाट रही थी।

मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था लेकिन जब भी वो टोपी की खाल पीछे खींचकर अपनी जीभ वहां फ़िरा रही थी तो मुझे अपनी जान निकलने का अहसास हो रहा था।

उसका इस तरह से लंड और अंडकोश को चाटना असहनीय था, जिससे जल्दी ही स्खलन तक पहुँच गया। मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ, मैंने अपने लण्ड को पकड़ा और पीछे से उसके बाल पकड़ कर एक झटके में ही जड़ तक लंड उसके मुँह में डाल दिया। वो उसके गले में जाकर अटक गया।

Real-chudai-stories-Sister-brother-sex-story-xxx-khaniya Desi hot kahani

मुस्कान के मुँह से घूं घूं की आवाज आ रही थी जिससे मुझे लगा कि उसे सांस लेने में तकलीफ़ हो रही है, पर मैं झड़ने वाला था और खुद को रोक नहीं सकता था,

Desi hot kahani

मैं लंड को पूरी गति से आगे पीछे करने लगा जिससे लंड ने जल्दी ही पिचकारियां छोड़नी शुरु कर दी। मैंने उसके मुँह को जोर से पकड़ रखा था और पूरा लंड उसके मुँह के अन्दर था जो उसके गले में चिपका हुआ था, लंड से वीर्य निकल कर उसके गले की दीवारों पर बह रहा था, उसकी आँखों में आँसू छलक आये थे।

लेकिन शायद उसे मजा भी आ रहा था क्योंकि उसने एक बार भी मुँह को पीछे खींचंने की कोशिश नहीं की थी। जब मैं पूरी तरह से झड़ चुका तो मैंने अपना लण्ड बाहर निकाल लिया और उससे सॉरी बोला पर उसने मेरी बात पर कोई प्रतिक्रिया करने की बजाय वापस लंड को पकड़ा और उस पर लगे वीर्य को चाट-२ कर साफ़ करने लगी।

उस वक्त वो मुझे इतनी प्यारी लगी कि दिल कर रहा था अपनी पूरी जिन्दगी उस पर वार दूं मैंने उसे बहुत ही प्यार से खड़ा किया और उसकी साड़ी को उससे अलग़ कर दिया उसका पेटिकोट उतार कर चड्डी भी उतार दी।

अब मेरे सामने पहले से भी भयानक नजारा था। आपने कभी संगमरमर की बनी हुई एक निर्वस्त्र लड़की की मूर्ति देखी होगी ! कितना मस्त फ़िगर होता है उसका ! अब कल्पना कीजिये कि वो लड़की आपके सामने जिन्दा बनकर आ जाये तो क्या हालत होगी आपकी !

Desi hot kahani

कुछ ऐसी ही हालत मेरी भी थी, उसकी गोरी-२ सुडौल जांघों पर हाथ फ़िराते हुए मैंने जैसे ही उसकी बिना बालों वाली चूत पर अपना हाथ रखा उसने हल्की सी सिसकी ली।

मैंने उसकी चूत की फ़ाड़ों को अपने हाथ की दो उंगलियों से अलग करके देखा तो उसकी चूत का मुँह थोड़ा सा खुल गया लेकिन छेद ज्यादा बड़ा नहीं था। उसके छेद का रंग गहरा गुलाबी था।

Desi hot kahani

मैंने अपनी एक अगुंली को अपने मुँह में डालकर थूक में गीला किया और धीरे से उसकी चूत में सरका दिया और अन्दर बाहर करने लगा। मैं जिस स्पीड से उंगली को चला रहा था उसी स्पीड से उसका शरीर थिरक रहा था।

मैंने अपनी रफ़्तार तेज कर दी तो उसके शरीर की रफ़्तार भी बढ गई। शायद मेरी ये हरकत उसे कुछ ज्यादा ही आनन्दित कर रही थी क्योंकि उसके मुँह की सिसकियां चीखों में बदल रही थी।

Desi hot kahani

मैंने अपने हाथ को चलाना बदं कर दिया ताकि बाहर कोई आवाज ना सुन ले। तो वो खुद मेरी उंगली पर उपर नीचे होने लगी। मैंने जल्दी से उंगली बाहर निकाली और खड़े होकर उसे नीचे बिठाया और अपना लंड दोबारा उसके मुँह में डाल दिया।

वो नरम पड़े लंड को रबड़ की तरह खींच-२ कर ऐसे चूसने लगी जैसे कोई बछ्ड़ा गाय के थन को खींचता है और गाँव के लोगों ने बछ्ड़े को ऐसा करते हुये जरुर देखा होगा।

जल्दी ही उसने लंड को दोबारा खड़ा करके पत्थर की तरह सख्त कर दिया। मैंने खड़े होकर उसका मुँह दीवार की तरफ़ घुमाया और सामने लगे वाश बेशिन पर उसके हाथ रखवाकर उसे झुका दिया। अब उसकी गाण्ड उभर कर सामने आ गई और गाण्ड के नीचे टागों के बीच से उसकी चूत बाहर झांक रही थी।

मैंने अपने लंड पर वाश बेशिन के उपर पड़ा साबुन लगा कर बहुत सारे झाग बनाये और और उसकी चूत के मुँह पर रख कर धीरे से अदंर सरका दिया। वो उसकी चूत की दिवारों को खोलता हुआ आराम से अन्दर समा गया।

अन्दर से उसकी चूत काफ़ी चिकनी और नरम थी। मेरा लंड उसकी चूत में कुछ इस तरह से फ़िट था कि जैसे उसकी चूत को स्पेशल मेरे लंड के लिये ही बनाया हो।

Desi hot kahani

मैंने उसे जोर से वाश बेशिन को पकड़ने के लिये कहा और खुद उसके चूतड़ पकड़ कर जोर जोर से उसे चोदना शुरु कर दिया। वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी।

जैसे ही मैं लंड को आगे की तरफ़ धकेलता, वो अपने चूतड़ों को पीछे की तरफ़ धकेलती और जैसे ही मैं लंड को पीछे की तरफ़ खींचंता वो खुद को आगे की तरफ़ खींचंती।

मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था। जब भी मेरा लंड उसकी चूत में जड़ तक घुसता और उसके कूल्हे मेरी जाघों से टकराते तो बहुत ज्यादा पट-पट की आवाज आ रही थी और मैं इसी पट पटा पट के साथ उसे चोदे जा रहा था।

मैंने अपने दांत बहुत जोर से भींच रखे थे और सांस रोक कर शॉट पर शॉट लगा रहा था और मुस्कान, अब की बार वो अपनी चीखों को नहीं रोक पा रही थी

और मस्त हो कर बड़बड़ा रही थी- ओ ह ह ह आ ह ह ह हाँऽऽ अं आ ह ह ह कर ! आह ह ह ह ओह यस और जोर से !

Desi hot kahani

मुझे डर था कि कहीं कोई उसकी चीखों को न सुन ले, पर मैं अभी उसको चुप कराने की हालत में नहीं था। एक दम से उसका शरीर अकड़ने लगा और अपनी चूत में मेरे लंड को भींच कर जोर से चिल्लाई और उसकी चूत ने फ़ूलना पिचकना शरू कर दिया।

उसकी चूत से उसका पानी निकलकर उसकी जांघों पर और मेरे लंड से होते हुये मेरी टांगों पर बह रहा था।

मैं अब अपने लंड को नहीं हिला पा रहा था क्योंकि जैसे ही उसकी चूत थोड़ी ढीली पड़ती तो मैं लंड को हिलाने की कोशिश करता तो दोबारा वो चूत को भीच कर लंड को जकड़ लेती।

उसका पूरा पानी निकल चुका था लेकिन मेरा दूसरा रांउड होने के कारण अभी नहीं हुआ था तो मैंने दोबारा अपने धक्के लगाने शरू कर दिये पर उसने मुझे रुकने के लिये कहा।

जैसे ही मैं रुका तो उसने सीधे खड़े होकर लंड बाहर निकाल दिया जिससे मुझे बहुत ज्यादा गुस्सा आया और मैंने उसे डाटंते हुए दोबारा

झुकने के लिये कहा पर उसने प्यार से मेरी आँखों में देखते हुये कहा- प्लीज डीयर ! अब मैं दर्द बर्दाशत नहीं कर पा रही हूँ ! मैं तुम्हारा हाथ से हिलाकर या मुँह से चूसकर निकाल देती हूँ !

पर मैं अन्दर डालना चाहता था लेकिन मैंने उसकी बात मानते हुए उसकी चूत में डालने का विचार त्याग दिया पर अन्दर डालने का नहीं। तो मैंने उसे दोबारा झुकने के लिये कहा- मुझे तुम्हारी गाण्ड मारनी है !

तो उसने कहा- मैंने कभी मरवाई नहीं है लेकिन तुमने मुझे आज इतना मजा दिया है कि मैं मना नहीं कर सकती, पर कोशिश करना कि दर्द कम से कम हो !

तो मैंने प्रोमिस कर दिया और उसे वापस झुका दिया और साबुन उठा कर अच्छी तरह से उसकी गाण्ड के छेद पर घिसाया और बहुत सारे झाग उठने के बाद उसकी गाण्ड के छेद पर लण्ड को रख कर एक जोर का धक्का लगाया।

Desi hot kahani

लण्ड सट से आधा उसकी गाण्ड में जा घुसा वो जोर से चिल्लाई और बाहर निकलवाने की कोशिश करने लगी। पर मैंने उसे जोर से पकड़ रखा था वो जिस कारण हिल नहीं पाई तो उसने कहा- तुमने वादा किया था कि तुम ज्यादा दर्द नहीं करोगे ?

तो मैंने कहा- अगर मैं धीरे धीरे अन्दर डालता तो तुम मुझे कभी डालने ही नहीं देती। इसलिये मुझे ऐसा करना पड़ा लेकिन अब ज्यादा दर्द नहीं होने दूंगा और लण्ड को धीरे से बाहर खींचा और धीरे-२ ही वापस अन्दर डाल दिया।

मैं ऐसे ही धीरे-२ करने लगा थोड़ी देर में ही वो नार्मल गई तो मैंने अपनी स्पीड बढा दी और हर धक्के के साथ थोड़ा-२ लंड अन्दर बढ़ाता रहा। थोड़ी ही देर में मेरा पूरा लंड उसकी गाण्ड में था जो बहुत ज्यादा टाईट थी।

मेरा लंड बिल्कुल फ़ंसा हुआ था लेकिन मुझे बहुत मजा आ रहा था। मैंने तूफ़ानी गति से धक्के लगाने शुरु कर दिये जिससे कभी-२ उसका सर वास बेशिन के ऊपर लगे आईने से टकरा जाता था लेकिन कुल मिलाकर उसे भी मजा आ रहा था।

मेरे धक्कों के कारण उसके बड़े-२ चूचे आईने में हिलते हुए ऐसे लग रहे थे जैसे उनमें जलजला आ गया हो। वो आँखें बंद करके मेरे धक्कों को सह रही थी और मैं आँखें खोले उसे आईने में देखते हुए चोदने का आनन्द ले रहा था। मुझे लगा कि मैं अब झड़ने वाला हूँ तो मैंने अपने धक्कों की स्पीड और बढ़ा दी

Desi hot kahani

जिससे उसका सर लगातार दीवार से टकराने लगा तो उसने अपनी छाती को वाश बेसिन पर टिकाते हुए सर को दीवार के साथ सटा लिया ताकि उसका सर फ़ूटने से बच जाये।

मेरा पानी बस अभी निकलने ही वाला था। मेरे शरीर की नसें खिंच गई और मैंने सबसे ज्यादा जोर के धक्के लगाते हुए लंड उसकी गाण्ड पर पटकना जारी रखा।

उसी वक्त मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया और मेरे मुँह से अजीब सी आवाज निकली और मैंने अपने शरीर का पूरा जोर लगाते हुए उसके अन्दर झड़ना शुरू कर दिया। लण्ड से जैसे ज्वालामुखी फ़ट पड़ा था, आज पता नहीं इतना वीर्य कहां से आ गया था कि निकलता ही जा रहा था

और मेरा आनन्द उसकी तो बस पूछो मत जिन्दगी में ऐसा पहली बार महसूस हो रहा था।

मैंने अपना लंड बाहर निकाला और हम दोनों एक दूसरे की तरफ़ देख कर मुस्कराये। हम दोनो ही एक दूसरे से पूरी तरह संतुष्ट थे। हमने एक दूसरे को गले से लगा कर छोटा सा किस किया और अलग होकर कपड़े पहनने लगे।

जब मैं सब कपड़े पहन चुका तो मैंने बनावटी गुस्सा दिखाते हुए उसकी तरफ़ आखें निकाल के देखा और उसे अपनी शर्ट दिखाई जिसे देखकर वो थोड़ा सा मुस्कराई और गले से लगकर सॉरी कहा।

Desi hot kahani

अब तक वो भी अपने कपड़े पहन चुकी थी। जब हम बाहर निकलने लगे तो उसने अपने पर्स से ५०० रू निकालकर मेरी तरफ़ बढ़ाये- तुम्हारी शर्ट के लिये !

मैंने लेने से मना कर दिया तो उसने कहा- जानू अगर मैं शर्ट खरीद कर तुम्हें गिफ़्ट करती तो क्या तुम नहीं लेते?

मुझे उसके जानू कहने के स्टाईल में कुछ ज्यादा ही अपनापन लगा और मैंने वो पैसे ले लिये। उसने दोबारा मेरे होठों पर किस किया और बाथरुम का दरवाजा खोला तो हम दोनों ही सहम गये क्योंकि बाहर एक लड़की खड़ी थी जो शायद काफ़ी देर से हमारी बातें सुन रही थी।

यह वही लड़की थी जो स्टेज पर मुस्कान के साथ ही खड़ी थी, जो काफ़ी सुन्दर भी थी लेकिन मुस्कान जितनी नहीं। उसने हमारी तरफ़ देख कर आखें नचाते हुए कहा- लगता है प्रोग्राम काफ़ी अच्छा रहा !

Desi hot kahani

मैं तो वैसे ही तुम्हें देखने चली आइ थी, मुझे क्या पता था कि यहां ये सब चल रहा है !

उसकी बात सुन कर मेरे चेहरे पर आये असमंजस के भाव की जगह एक अर्थपूर्ण मुस्कान ने ले ली। जबकि मुस्कान ने शरमाते हुए सिर नीचे झुका लिया।

तो उसने मुस्कान की तरफ़ आँख मारते हुए कहा- घबराओ नहीं, मैं किसी से नहीं कहूंगी। बस तुम्हें मेरा आज से ऐसे मौकों पर मेरा भी ध्यान रखना पड़ेगा।

यह सुन कर मुस्कान की जान में जान आई और उसने मेरी तरफ़ देखते हुए मुझे इशारा किया। जब मैं कुछ नहीं बोला तो उस लड़की ने कहा- क्यों मिस्टर? मेरे बारे में क्या ख्याल है? मेरा नाम शालू है और मैं भी मुस्कान से कम नहीं हूँ !

तो मैंने कहा- जब आप कहे, जहां आप कहे !

तो उसने कहा- तुम दोनों की चूदाई की बातें सुनकर दिल तो अभी करने का कर रहा है पर अभी फ़ंकशन खत्म हो चुका है और हम दोनों को ही वहां पहुँचना पड़ेगा।

लेकिन हम लोग कुछ दिन और यहां रहेंगे, मेरा नम्बर ले लो और रात को नौ बजे के बाद फ़ोन करना, हम तब मिलेंगे।

और शालू मुझे अपना नम्बर देकर चल पड़ी। मुस्कान ने भी मुझे गालों पर किस किया और शालू के साथ चल दी

और आपके यार अपनी फ़टी हुई शर्ट से बदन छिपाते हुए अपने दोस्त के घर की तरफ़ चल दिये शालू की चूत के बारे में सोचते हुए जो रात को मारनी थी।

Desi hot kahani

जिसके बारे में फ़िर कभी ……………. ?

तो दोस्तो कैसी लगी मेरी कहानी ! मुझे जरुर बताएँ !

Read in English

chudai ki story hindi me Desi hot kahani

Desi hot Kahani: So friends once again are your friends from Jatan village Julana district Jind Haryana which is another page of your life in front of you. I apologize for being able to chat with you for a while. So guys, I got a lot of mail from all of you but not as many as I expected.

Best of all, I make a promise to you that whatever I write will be the truth of my life. May be the situations and names I wrote were imaginary Desi hot kahani.

The person who gave me everything with so much confidence, I cannot discredit her by telling her name in front of you, but the girl will be true in this and whatever I did to her will also be true.

So let’s start the story today!

Just a few days ago I went to Narwana for some work, so I stayed at a friend’s house. In the colony at my friend’s house, there was a program of women commissioners, they were all giving speeches on women’s rights, so as I am a bit curious about the trend, I also accidentally went there which gave me a seat .

Desi hot kahani

A middle-aged woman was giving a speech on stage. Some more middle-aged women were sitting on chairs behind her and some beautiful women were standing behind them. Among those girls was a girl who was completely white , Desi hot kahani.

Her length will be about 5.5 by 5.5 and the figure is exactly like Barbie doll. She was wearing a white colored sari and looked nothing less than a nymph.

As soon as I saw her, my luck started changing and I started thinking about the women who saved her. I started to see a tuck.

Her bulging Uroz was inviting me to go and mash her up wholeheartedly. His eyes were rolling in everyone sitting in front.

Desi hot kahani
As soon as his eyes caught me, my body felt like a 60 volt current and maybe he too made a difference as he quickly turned his face to the other side with a restlessness, but I could not see my eyes with my apple cheeks. Found. Could remove Desi hot Kahani.

This time when I saw it in my eyes, I was quite late. She was probably doing it deliberately. But the batchiness of his face could be seen clearly.

After a while, then she looked at me for a few moments, but this time she was normal and thus we started looking at each other constantly and we were giving each other a smile.

Now I was finding it difficult to deal with. Lund was desperate to come out after tearing his pants. So at such a time she went somewhere, so I thought that till the show starts again, I should also go and listen

And I got up and came out of the pandal where the gents and ladies’ bathrooms were built together in front of me. I went straight to the Gent’s bathroom and started to enjoy holding my standing lund and stroking the walls, Susu ………

Desi hot kahani
As soon as I got out, the same girl inside the stage was trashing me with the door in front of her, maybe she wasn’t opening the bathroom door.

The first time I saw her so closely, her complexion was glowing as the sand was laying in the sea in the sun, her waist was on my side, she was leaning slightly on the door latch so that the bulge of her pussy came out. . Were. Desi hot Kahani.

The roundness of her hips was amazing. From the waist to his hips, he looked as if the sculptor in the caves of Ajanta had made with his own hands.

There were a few drops of sweat on her bare-looking waist that shone like pearls on her white body. He was thinking that he should be caught now.

But I am a decent person. I have never done any coercion with any girl nor have I ever tried to take advantage of any girl. If she is happy, I use my LND or I am happy just by touching my eyes.

Desi hot kahani
So I was watching her leave the latch and go back. I was standing very close to him so that he would hit me as soon as he turned and his breasts stick to my chest.

Because of which my body ran like a pimp. She quickly got away from me and started calling me sorry again. When I said OK, they asked me to be a little normal – not really opening the door. Are you

I said ‘yes’ before his talk was over and the door closed with a very hard jerk and the door closed very slowly and it opened in a hurry due to excessive force that I broke down on the girl. I had my back on the girl Desi hot Kahani.

But as soon as I felt that I was about to fall, I immediately bend my mouth and straighten both my palms so that if I fell, I could keep myself from falling on the ground, placing my hands on it. Mouth hurt. Can survive, as humans usually do.

Desi hot Kahani.
She was standing behind me with which I fell on her and my hands were facing forward and she was standing on her chest and we both fell on the ground. Perhaps he did not get hurt more than falling on the ground because there was no painful expression on his face. She was lying right below me and I was lying on her anus.

Two thick canopies of his chest, which resembled the shape of a large pomegranate, were held in my two hands, which looked very stiff. It seemed that I lay on a velvet mattress and two soft stones were placed in my hands. We both looked into each other’s eyes. Desi hot Kahani.

Neither she was telling me to get up nor there was any resentment on her face and I was not conscious.

However, I controlled myself and said sorry while getting up from her, she said to me, ‘Oh, by the way, if you fall inside me in the bathroom, you don’t see the place, you don’t have to say sorry. By the way my name is Muskan.

Desi hot kahani
Saying all this, he had a mischievous smile on his face, one he said that it is very loud and second his voice was very sweet, due to which I could not speak anything.

But still I managed myself and said – I have learned to fall, but there must be someone to teach! By the way my name is Jatan! Desi hot Kahani.

I also said answering both of his things simultaneously.

She was very frank, she quickly shook hands and said hi.

I said – then go away?

Where?

Learn to fall

now?

If you do it tomorrow, you will do it today, you will do it today.

You are very naughty, she said smiling that she had white teeth which looked like pomegranate seeds.

And I grabbed her hand and pulled her inside the same ladies bathroom and she too came inside without any strength. Desi hot Kahani.

As I walked in, I closed the bathroom door from inside and kissed her face like a maniac, filling her in my arms.

Desi hot kahani
He started sucking her soft pink lips mercilessly, so he pushed me back a little – why are you showing such impatience? I’m not going to run anywhere!

And keeping the fingers of both my hands in the fingers of his hands, he said – Now you will not move your hands and feet, stand comfortably!

I stood up straight. He lovingly slowly started kissing me with his lips on my lips.

Sometimes she was sucking the top lip, sometimes she was sucking the bottom lip! The idea of ​​kissing was intoxicating that my senses flew away.

I released my hand from her delicate fingers and grabbed her thin waist, which I was imagining to touch.

Hindi xx story – desi hot story – besthindisexstory
My hands were coming from both her hips to her shoulders, caressing her body. The roundness of his hips was very soft but hard. It seemed that I was turning two watermelons.

The back cut of her blouse was huge, her entire back was bare which she hid from her sari till now. To handle the blouse there was only a thin bandage tied at the back. Desi hot Kahani.

I opened the bandage with my hands on her back, then there was nothing left to open in her blouse.

He was still happy to kiss me, but all my attention was in removing the clothes of a smile. I took off her blouse and threw it aside, she did not say anything.

I was enjoying heaven. She was wearing a black bra which was making her body white hair even more deadly.

Desi hot kahani
I started pressing her nipples, I was enjoying it very much. His big cock was not catching me. I was losing my consciousness. I also took off her bra and bounced on one side.

She was still happy to kiss. I was brutally rubbing her naked pussy, she was taking sobs.

I freed my lips from her lips and put one eye on her naked chest. What a dangerous sight, his two white fingers were swinging in front of my eyes, seeing that my circles were drying up.

That murderous scene was enough to kill any young man. Her pale pink colored nipples were taut like a needle tip.

Now I was not going to see him in this condition for a long time. I tightly attached it to my chest, which made her nipple buried in my chest. He was so strict that I felt that he should not go beyond my chest. She was sobbing very loudly. Perhaps she was becoming uncontrollable as well.

He scratched my back with his fingernails, where his hands were, I was in a lot of pain, but I was able to get an idea of ​​what happened.

I separated him from myself and stood on the wall and smashed at his quiet protrusions. He started sucking her nipples harder.

Desi hot kahani
I was enjoying it so much. She was scratching my hair while having sex, I sucked her chest and made it more red and bigger. Now as I rolled my lips near her lips, she cracked madly on me and she started to unbutton the button of my shirt but due to her anger she could not open the button.

Due to which he tore the shirt in anger. Tearing the shirt made me angry but at the time the frenzy had ended with anger, due to which I was in no condition to speak anything. He took off my torn shirt and threw it aside, Desi hot Kahani.

Before tearing off the vest as well, I removed the vest and put it aside. Now bare body was clinging to each other on top of both of us and both of us were rubbing each other’s body mercilessly, which was hurting but was more fun than pain. As his hands went over my pants, I was afraid that he might tear my pants too and I would have to go home naked.

Desi hot kahani
I separated the pants from the body. He put his hand in my underwear and grabbed my standing LND and sat on my knees, put the penis in my mouth and started sucking like a lollipop. She was licking cocks like ice cream from root to cap.

I was having a lot of fun but whenever I was pulling my skin back and flapping my tongue there, I was feeling my life.

His licking of cocks and testicles in this way was unbearable, which caused ejaculation soon. I thought I was going to fall, I grabbed my LND and grabbed her hair from behind and put cocks in her mouth in one stroke. He got stuck in his throat.

There was a smile coming from the mouth of the smoke, which made me feel that he was having trouble breathing, but I was going to suffer and I couldn’t stop myself,

Desi hot kahani
I started moving the cock back and forth at full speed, which soon started leaving the squirrel. I held her mouth vigorously and all her cocks were inside her mouth which was sticking in her throat, semen was coming out of the cocks on the walls of her throat, tears came out in her eyes.

But maybe he was enjoying it too because he had not tried to pull his face back even once. When I was completely dead, I took my LND out and was sorry to say, but instead of reacting to me, he grabbed the cocks back and started licking the semen on her, Desi hot Kahani.

At that time, he loved me so much that he was doing his whole life, I should stand on him very lovingly, I separated him from his sari and took off his pants and removed the tights too.

Now I had a terrible view even before me. Have you ever seen a nude girl idol made of marble! What a great figure he has! Now imagine that if that girl comes in front of you, then what will be your condition!

Desi hot kahani
I was in a similar situation, while flicking my hands on her fairy-2 shapely thighs, as soon as I put my hand on her hairless pussy, she took a slight sob.

When I saw the tearing of her pussy with two fingers of her hand, then the mouth of her pussy opened slightly but the hole was not very big. The color of his hole was dark pink.

I put one of my fingers in my mouth and wet it in a spit and slowly shoved it in her pussy and started going in and out. His body was trembling at the same speed with which I was moving the finger, Desi hot Kahani.

When I accelerated my speed, the speed of his body also increased. Perhaps this action of mine was making her very much happy because the sobs of her mouth were turning into screams.

Desi hot kahani
I stopped moving my hand so that no one could hear the sound outside. So she herself started going up and down on my finger. I quickly took out the finger and made him stand down and put his cock in her mouth again.

She started sucking soft cocks like rubber – 2 like a calf pulls the cow’s udder and the people of the village must have seen the calf doing so.

Soon he made the cocks erect again and hardened like stone. I stood up and turned my face towards the wall and placed my hands on the front wash Beshin and bowed it down. Now his Gand came out in front and his pussy was peeping out from under the legs under the Gand, Desi hot Kahani.

 I made a lot of foam by applying soap on Wash Lashin on my cock and put it on the mouth of her pussy and gently shuffled it. Opening the walls of her pussy, he got inside comfortably.

Her pussy was very smooth and soft inside. My cock was fit in her pussy in such a way that her pussy was specially made for my cock.

Desi hot kahani
I told him to hold Washin loudly and started to fuck him very hard by holding his butts himself. She too was supporting me.

As soon as I pushed the cocks towards the front, she would push her cocks towards the back and as soon as I pulled the cocks towards the back, she pulled herself towards the front.

I was enjoying it very much. Whenever my cock penetrated to the root of her pussy and her hips hit my thighs, there was a lot of patting and I was going to fuck her with this pat pata pat.

I held my teeth very tightly and was holding my breath and shot shot and smile, now this time she was not able to stop her screams, Desi hot Kahani.

 And she was mumbling happily – Oh, she is coming, she is yes, she is doing it! Ahhhhhhh oh yes and loud!

Desi hot kahani
I was afraid that no one would listen to his screams, but I was not in a condition to silence him yet. Suddenly his body started to stiffen and shouted my cock in my pussy and shouted loudly and his pussy started twitching.

Her water was coming out of her pussy on her thighs and flowing through my cock on my legs.

I could no longer shake my cocks because as soon as her pussy was loose, if I tried to move the cocks, then she would grab the cocks by begging her pussy again.

All his water had gone out, but I had not yet been due to my second round, so I started my bumps again but he told me to stop.

As soon as I stopped, he stood up straight and removed the cocks which made me very angry and I scolded him again, Desi hot Kahani.

Asked to bow down, but looking at my eyes with love, he said – please deer! Now I am not able to bear the pain! I shake you out of your hand or suck it out of your mouth!

But I wanted to put in, but I obeyed her and gave up the idea of ​​putting it in her pussy but not putting it in. So I asked him to bow down again- I want to kill your Gand!

So he said – I have never killed, but you have given me so much fun today that I cannot refuse, but try to minimize the pain! Desi hot Kahani.

So I promised and leaned her back and picked up the soap and rubbed it well on her Gand hole and after getting a lot of foam, she put a loud push on her Gand hole by placing it.

Desi hot kahani
She entered her Gand half from Lund, she screamed loudly and started trying to get out. But I was holding her vigorously because of which she could not move, she said- you promised that you will not hurt much?

So I said – if I put in slowly, you would never let me enter. That is why I had to do this, but now I will not let too much pain and pulled LND out slowly and slowly put it back inside.

I started doing like this slowly, in a short period of time she went to normal, so I increased my speed and kept increasing a little – 2 cocks with each blow. In a short while my whole cock was in his Gand which was very tight.

My cock was absolutely trapped but I was enjoying it a lot. I started banging at a hurricane speed so that sometimes his head was hit by a mirror on the top of Beshin, but overall he was also enjoying it. Desi hot Kahani.

Due to my bumps, his big-2 cocks looked like moving in the mirror as if there was water in them. She was closing my eyes and tolerating my bumps and I opened my eyes looking at her in the mirror and was enjoying Chodne. I felt that I am going to fall now, so I increased the speed of my bumps

Desi hot kahani
So that his head started hitting the wall continuously, he kept his chest on the wash basin and kept the head close to the wall so that his head would avoid bursting.

My water was just about to drain. The veins of my body were pulled and I kept banging the cocks on his ass with the loudest bang.

At the same time, my cock left the water and a strange sound came out of my mouth and I started thrusting into it, putting the full force of my body. As the volcano was torn from LND, today it is not known from where so much semen had come that it was going to leave.

And my joy was that, just don’t ask, I was feeling it for the first time in my life.

I took my cock out and we both smiled looking at each other. We were completely satisfied with each other. We hugged each other and did a small kiss and started wearing different clothes.

When I had finished all the clothes, I took a look towards him, showing my angry anger and showed him my shirt, seeing that he smiled a little and said sorry with a hug.

Desi hot kahani
By now she too had put on her clothes. When we started going out, he took 500 rupees out of his purse and increased towards me – for your shirt!

When I refused to take it, he said, “Janu, if I had bought you a shirt and gift, would you not have taken it?”

I felt too much in the style of saying his darling and I took that money. When he kissed my lips again and opened the bathroom door, both of us were stunned because there was a girl standing outside who had been listening to us for a while.

 It was the same girl who stood on the stage with a smile, who was also quite beautiful but not as smile. Looking at us, he said while dancing and said- Looks like the program was very good!

Desi hot kahani
I had come to see you in the same way, what did I know that all this is going on here!

A meaningful smile took the place of confusion on my face after listening to him. While the smile bowed his head down while blushing.

So he said with an eye towards a smile – Do not panic, I will not tell anyone. Just you have to take care of me on such occasions from today also.

Hearing this, she came to know about the smile and she pointed towards me looking at me. When I did not say anything, the girl said – Why Mr. what about me? My name is Shalu and I am nothing short of a smile!

So I said – when you say, where you say!

So he said – listening to the chatter of both of you, the heart is still trying to do it, but the function is over now and both of us will have to get there.

But we will stay here for a few days, take my number and call after nine o’clock at night, we will meet then.

And Shalu started giving me her number. Smile also kissed me on the cheeks and walked with Shalu

And your friend, hiding his body from his torn shirt, walked towards his friend’s house thinking about Shalu’s pussy which was to be killed at night.

Desi hot kahani
About whom ever ……………. The

So friends, how was my story! Do tell me!

Follow on Telegram

Desi hot kahani

Read More Hot Story:

सेक्सी भाभी की गरम चूत | bhabhi story in hindi – xxx bhabhi story

Aunty ki chudai in hindi | सुंदर आंटी ने मेरी वासना जगायी 0

antarvasna 2 भाई ने बहन को लंड दिखा कर की मजेदार चुदाई

3 thoughts on “Desi hot kahani सुंदर लड़की की गुलाबी चूत और गांड मारी 69 Sex”

Leave a Comment