Maa xxx kahani दोस्त की माँ को चोदने का मजा 1 nice sex stori

दोस्त की माँ को चोदने का मजा Maa xxx kahani

Maa xxx kahani: यह हिंदी सेक्स स्टोरी मुझे मेरे एक प्रिय पाठक ने भेजी है, उसी की लिखी हुई हिंदी सेक्स कहानी को आपके सामने शेयर कर रही हूं.

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम नवीन है और मैं 25 साल का बड़ा ही हॉट और सेक्सी लड़का हूं. मेरा गठीला बदन है. मेरे लंड का साइज 4 साल पहले 6 इंच लम्बा और दो इंच मोटा था, मगर मेरी एक आंटी या कहूँ कि मेरे दोस्त की माँ ने मेरे लंड का साइज ही बदल दिया है. आज मेरा लंड नौ इंच लम्बा और तीन इंच मोटा हो चुका है. मेरा लंड भी दिखने में एकदम हॉट और सेक्सी है. ये सब मेरे दोस्त की माँ और मेरी हॉट, सेक्सी मोनिषा आंटी के कारण हुआ.

आप यही सोच रहे होंगे कि मेरी आंटी के कारण मेरे लंड का साइज कैसे बढ़ सकता है. मगर मैं आपको बता दूं कि मेरी पहली चुदाई मैंने अपने दोस्त की माँ के साथ ही की थी. आज भी जब भी मुझे टाइम मिलता है और वो घर पर अकेली होती हैं, तब मैं उनकी भरपूर चुदाई करता हूं.

सच बताऊं … तो मोनिषा आंटी बहुत बड़ी चुदक्कड़ हैं. अगर उन्हें किसी का लंड मिल जाए, तो वे उसके लंड का रस पिए बिना उसे अपने हाथों से दूर नहीं जाने देती हैं. मोनिषा आंटी के जिस्म की कामुकता इतनी ज्यादा है कि कोई भी मर्द उनको एक बार देख ले, तो वो अपना आपा खो दे और उसे अपने ही हाथों से अपने लंड की मुठ मारनी पड़ जाए.

अब मैं आपको उनके फिगर के बारे में बताता हूं. मोनिषा आंटी की उम्र उस समय करीब 36 साल होगी और उनका फिगर 36-30-38 का था. उनके बहुत बड़े बड़े दूध थे, सेक्सी कमर और बहुत ही मोटी गांड थी … जिसकी चुदाई के लिए आपका भी मन मचल जाएगा. मोनिषा आंटी का बदन एकदम सफ़ेद … जैसे वो दूध में नहाई हुई हों.

Maa xxx kahani

आंटी के जिस्म पर एक भी दाग नहीं था … ऊपर से नीचे तक एकदम मस्त थीं. उनके निप्पल थोड़े से बड़े … मगर एकदम पिंक कलर के, जिन्हें चूसने में बहुत मजा आता था.

आंटी की नाभि एकदम गहरी, जिसमें आपका खो जाने का मन करे. आंटी अपनी चुत को एकदम साफ रखने वाली थीं. वो हमेशा अपनी चुत की टाइम टाइम पर सफाई करके रखती थीं.

आपको उनकी फैमिली के बारे में बता दूं उनकी फैमिली में पांच लोग हैं. मेरे दोस्त के पापा, उसकी माँ, उसकी दादी, उसकी एक बहन और खुद मेरा दोस्त. दोस्त की दादी उसकी बहन और वो शहर में पढ़ाई करने के लिए रहते हैं. वो घूमने के लिए कभी कभी गांव आ जाता है.

ये बात आज से दो साल पहले की है. वैसे मैंने कभी अपने दोस्त की माँ के बारे में ऐसे विचार नहीं सोचे थे … मगर एक दिन मैं अपने दोस्त के घर गया और मैंने घर पर मेरे दोस्त को आवाज दी.

मगर मोनिषा आंटी की आवाज बाथरूम से आई- वो यहां नहीं है. बाजार कुछ सामान लेने गया है, वो थोड़ी देर में आ जायेगा.
मैंने कहा- ठीक है.

इतना कह कर मैं चला गया. उस वक्त तक मुझे नहीं पता था कि वो नहाने बाथरूम में गयी थीं.

थोड़ी देर बाद मैं फिर से उनके घर आया और संयोग से ऐसी जगह खड़ा था, जहां से बाथरूम का नजारा साफ दिखाई दे रहा था.

Maa xxx kahani

मैं दोस्त को आवाज देने ही वाला था कि इतने में बाथरूम का दरवाजा खुला, मैंने देखा कि मेरे दोस्त की माँ मोनिषा मेरी आंखों के सामने सिर्फ टॉवेल लपेटे हुए थीं और वो टॉवेल भी बस मोनिषा आंटी को नाम मात्र ही ढक रहा था. ऊपर से पूरा खुला हुआ बदन, सिर्फ आधे मम्मों को ही ढक पा रहा था और नीचे से भी सिर्फ थोड़ी सी चूत को ही ढक पा रहा था. अगर टॉवेल थोड़ी ऊपर और हो जाती, तो मुझे मोनिषा आंटी की चूत भी साफ दिखाई दे जाती.

उनकी नजर मुझ पर पड़ी, वो जल्दी से मेरे सामने से भागती हुई गईं और अपने कमरे की तरफ भागीं, मगर ये क्या भागते हुए रास्ते में उनका टॉवेल खुल गया और मेरे सामने मोनिषा आंटी एकदम नंगी हो गई थीं. वो अपने बदन को छुपाने की नाकाम कोशिश करती हुई दिख रही थीं.

मुझे जो देखना था, वो मुझे दिख गया था. मैंने मोनिषा आंटी को ऊपर से नीचे तक पूरा नंगी देख लिया था. मैंने अपनी लाइफ में पहली बार किसी औरत को अपनी आंखों के सामने नंगी देखा था. उस समय मेरा लंड एकदम तन गया था.

वो मुझे देखकर जल्दी से हंसती हुई भागीं और अपने कमरे में चली गईं.

करीब बीस मिनट बाद वो कपड़े पहन कर बाहर आईं. वो इस वक्त एक सेक्सी सी साड़ी पहन कर आई थीं. साड़ी तो उनके बदन लिपटी हुई थी, मगर पता नहीं क्यों अब आंटी मुझे सेक्सी सी दिखने लगी थीं. शायद मैंने उन्हें नंगी देख लिया था इसलिए मुझे ऐसा लगने लगा था.

आंटी ने मुझे हंस कर देखा और अपनी झेंप खत्म करने की कोशिश की. मगर अब मेरी निगाह उनके मम्मों पर ही टिकी हुई थी. आंटी ने शायद मेरी वासना को पढ़ लिया था.

Maa xxx kahani

फिर मैंने आंटी से दोस्त के लिए कहा, तो आंटी ने कहा- वो अभी नहीं आया है.

मैं वहां से चुपचाप घर आ गया. घर आ कर मेरा मन बिल्कुल भी शांत नहीं था क्योंकि मैंने उनके जिस्म का वो हिस्सा देख लिया था, जो नहीं देखना चाहिए था. उसके बाद से मेरे दिल में मेरे ही दोस्त की माँ के प्रति गलत भावना बनने लगी.

मैं मोनिषा आंटी के नाम की दिन में चार से पांच बार मुठ मारने लगा. इतना सेक्सी जिस्म देख कर किस मर्द का लंड खड़ा नहीं होगा.

इसी बीच में आंटी के घर जाता रहा और उनको देखता रहा. उनकी आँखों ने मेरी कामपिपासा को पढ़ लिया था, मगर उन्होंने हर बार हंस कर ही मुझे सिड्यूस किया.

पांच दिन बीत गए थे, लेकिन जब भी मैं मोनिषा आंटी के बारे में सोचता … मेरा लंड एकदम तन जाता और फिर लंड को मोनिषा आंटी के नाम की मुठ मारके ही शांत करना पड़ता था.

मैंने सोच लिया था कि चाहे जो भी हो, मुझे मोनिषा आंटी की चुदाई करनी ही है.

अगले दिन मैं फिर से उनके घर गया. घर पर कोई नहीं था, अंकल भी खेत गए हुए थे. मोनिषा आंटी घर पर अकेली ही थीं. मैंने सोच लिया था कि मैं आज मोनिषा आंटी को चोद कर ही उनके घर से बाहर निकलूंगा, चाहे कुछ भी हो जाए.

मोनिषा आंटी शायद घर का काम कर रही थीं, तो मैं खुद घर के अन्दर ही चला गया. आंटी ने मुझे देखा और हंस कर पास आने को कहा. मैंने देखा कि वो अपने बेडरूम में बिस्तर ठीक कर रही थीं. मैंने जैसे ही उन्हें देखा, मेरा लंड एकदम तन गया.

Maa xxx kahani

मैंने मोनिषा आंटी को पीछे से पकड़ लिया. मैंने सीधे ही उनके दोनों मम्मों अपने हाथ में ले लिए और जोर जोर से उन्हें मसलने लगा.

Maa xxx kahani

आंटी की आह निकलने लगी. उन्होंने पीछे मुड़ कर मुझे देखा और एकदम से सकपका गईं. उन्होंने कहा- ये क्या कर रहे हो नवीन?
मैंने कहा- कुछ नहीं आंटी … वही कर रहा हूं, जो मुझे बहुत पहले कर लेना चाहिए था.
वो समझ गईं कि मैं क्या करने की बात कर रहा हूं.

उन्होंने कहा- ये सब गलत है नवीन … मैं तुम्हारे दोस्त की माँ हूं … और तुम्हारी भी माँ जैसी ही हूं.
मैंने कहा- माँ जैसी हो … माँ तो नहीं हो ना …

बस मैं अपने काम में लग गया. मैंने मोनिषा आंटी के मम्मों को जोर जोर से मसलना शुरू कर दिया और उनकी आहें तेज़ हो गईं. शायद आंटी के दिल में भी मुझसे चुदने की इच्छा थी, पर वो कह नहीं पा रही थीं.

मैंने उनके गले पर भी किस करना शुरू कर दिया. मैंने उन्हें अपनी तरफ घुमाया और उन्हें दीवार की तरफ ले गया. मैंने आंटी को दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और मैं मोनिषा आंटी को जोर जोर से किस करने लगा.

उन्होंने मुझे फिर से प्यार से कहा- नवीन प्लीज़ ये सब गलत है … ऐसा मत करो.
मगर मैं नहीं माना, मैं मेरे काम में लगा रहा.

मैंने उनके होंठों को फिर से मेरे होंठों के बीच में ले लिया और जोरों से किस करने लगा. उनके मम्मों को बहुत ही जोरो से मसलने लगा.

Maa xxx kahani

उनकी आहें निकलने को हो रही थीं, मगर मेरे मुँह में ही दबी जा रही थीं. उनकी सांसें तेज़ हो चुकी थीं और मेरी भी सांसें तेज़ होने लगी थीं. मैं लगातार उन्हें किस किए जा रहा था.

वो धीरे धीरे मेरा साथ देने भी लगीं मगर कभी कभी मुझे रोकने का प्रयास भी करती रहीं. मुझे न रुकना था और न मैं रुका. मैं बस अपने काम में लगा रहा.

थोड़ी देर बाद उन्होंने बोलना ही बंद कर दिया और मेरा साथ देने लगीं. अब वो भी मुझे किस करने लगीं. मैं समझ गया कि मोनिषा आंटी भी अब मेरे लंड का स्वाद चखना चाहती हैं.

उन्होंने धीरे से बुदबुदाते हुए कहा- मैं तुमसे कह ही नहीं पा रही थी लेकिन तुमने मेरा मन पढ़ लिया.

यह सुनकर मैंने बिना देर किये अपने एक हाथ को मोनिषा आंटी की चूत के ऊपर पहुंचा दिया और साड़ी के ऊपर से ही मैं उनकी चूत को सहलाने लगा. अपने एक हाथ से उनके मिल्की मम्मों को मसलता रहा.

मोनिषा आंटी की आहें बहुत तेज़ हो गयी थीं और उनकी सांसें भी बहुत तेज़ चलने लगी थीं. वो अब अपने पूरे जोश में आ गयी थीं.

मैंने बिना देर किये धीरे धीरे उनके सारे जिस्म पर किस करना शुरू कर दिया. गले पर, सीने पर और फिर उनके पेट पर किस करने लगा. जैसे ही मैं किस करते हुए उनकी नाभि के पास पहुंचा और जैसे ही मैंने उनकी नाभि पर किस किया, वो सिहर उठीं. उनकी इस सीत्कार से मेरे अन्दर एक ऊर्जा सी दौड़ गयी.

Maa xxx kahani

मैंने अपनी जीभ से उनकी नाभि को खूब चूमा. मैं ये बार बार करने लगा. हर बार मोनिषा आंटी आहें लेतीं, जिससे मुझे बहुत मजा आता.

उनकी मस्त आहें सुन कर मेरे लंड का हाल भी बहुत बुरा हो चुका था. वो एकदम तन कर फटने की कगार पर पहुंच चुका था.

तभी मोनिषा आंटी ने मेरे लंड को मेरी पैंट के ऊपर से ही पकड़ा और कहा- ओ माय गॉड … तुम्हारा लंड इतना मोटा और इतना लम्बा है. मुझे मालूम ही नहीं था कि ये इतना बड़ा भी हो सकता है.
मैंने कहा- हां मोनिषा आंटी …
मोनिषा आंटी ने कहा- इतना लम्बा और मोटा लंड तो तुम्हारे अंकल का भी नहीं है.
मैंने कहा- मोनिषा आंटी, हर किसी के पास ऐसा लंड नहीं होता, ऐसा बनाने के लिए मेहनत करनी पड़ती है.
मोनिषा आंटी ने कहा- कैसी मेहनत?

मैंने कहा- आंटी अब आप अनजान बनने की कोशिश मत करो, आप जैसी हॉट सेक्सी औरत के नाम की मुठ मारने के बाद ही लंड इतना बड़ा हो सकता है … ये बात तो आप भी जानती हैं.
मोनिषा आंटी ने हंसते हुए कहा- अब तक तुमने कितनी बार मुठ मारी है?
मैंने कहा- मोनिषा आंटी, पिछले पांच दिन में आपके नाम की करीब पच्चीस बार मुठ मार चुका हूं.

मेरे इतना बोलते ही मोनिषा चाची ने मेरे होंठों पर किस कर दिया. ये पहली बार था कि मोनिषा आंटी ने खुद आगे रहकर मुझे किस किया था.

Maa xxx kahani

किस करने के थोड़ी देर बाद मोनिषा आंटी ने कहा- ओह नवीन, क्या सच में तुम मुझे इतना चाहते हो?
मैंने कहा- हां मोनिषा आंटी, मैंने जब से आपके नंगे जिस्म को देखा है … मेरे लंड को चैन नहीं मिल रहा है. मुझे बार बार आपके नाम की मुठ मारनी पड़ती है.
मोनिषा आंटी ने कहा- ठीक है … आज के बाद तुम्हें मुठ नहीं मारनी पड़ेगी.

मैंने इतना सुनते ही मोनिषा आंटी की साड़ी उतार दी और उनका ब्लाउज़ और पेटीकोट भी उतार दिया. मोनिषा आंटी मेरे सामने ब्रा और पेंटी में थीं. क्या गजब लग रही थीं.

मैंने उन्हें धक्का दे कर बिस्तर पर लेटा दिया और मैं उनके ऊपर चढ़ गया. मैं उन्हें जोर जोर से किस करने लगा. अब तो मोनिषा आंटी भी मेरा पूरा साथ दे रही थीं. वो मेरे सर को सहलाने लगीं.
मुझे लग रहा था कि जैसे आंटी मेरा सर सहलाकर वो मुझसे बोल रही हों कि नवीन आज अपनी आंटी की भरपूर चुदाई कर दो.

अब मोनिषा आंटी मेरा साथ देने लगी थीं. मुझे बहुत मजा आने लगा. मैं अपनी सारी भड़ास मोनिषा आंटी पर निकलना चाहता था, तो मैंने वैसा ही किया.

मैंने मोनिषा आंटी के मुँह की जबरदस्त चुदाई करने की सोची. मैंने अपना लंड मोनिषा आंटी के मुँह में लंड दे दिया. आंटी ने मेरा लंड बड़ी शिद्दत से चूसना शुरू कर दिया.

Maa xxx kahani

मैं मस्ती से लंड को आंटी के गले गले तक पेलने लगा. मैं उनके मुँह की खूब चुदाई करने लगा.

Maa xxx kahani

यह पहली बार था कि मैं किसी औरत के मुँह को चोद रहा था. मैंने भी मोनिषा आंटी के सर को पकड़ा और जोर जोर से उनके मुँह में अपना लंड डाल कर चोदने लगा. मुझे बहुत मजा आ रहा था और मोनिषा आंटी भी मुँह चुदाई के मजे ले रही थीं.

कोई दस मिनट बाद मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया. मैंने अपने लंड का रस मोनिषा आंटी के मुँह में ही छोड़ा था. उनका पूरा मुँह मेरे लंड के रस से भर गया था और कुछ नीचे भी गिर गया था. बाकी का सारा रस मोनिषा आंटी पी गयी थीं. वो लंड का रस ऐसे चूस रही थीं कि जन्मों की प्यासी हों, उन्हें ये रस कभी मिला ही न हो.

लंडरस पीने के बाद मैंने बैठी हुई मोनिषा आंटी को बेड पर धक्का मारा और उनके सारे कपड़े उतार कर उनको नंगी कर दिया.

आंटी नंगी हो चुकी थीं और बिस्तर पर चित लेटी थीं. मैं उनकी चूत को अपनी जीभ से सहलाते हुए चूसने लगा. मोनिषा आंटी पागल हो गईं और मेरे सर को पकड़ कर अपनी चूत की तरफ दबाने लगीं.

आंटी बोलने लगीं- नवीन चूस लो मेरी चूत को … पी जाओ इसका रस और मेरी चूत की आग को शांत कर दो.
मैं भी पहली बार ही किसी की चूत चूस रहा था, तो मैं भी मजे से चूसता रहा.

मोनिषा आंटी की चूत को दस मिनट के भीतर ही मोनिषा आंटी जोर जोर से आहें लेने लगीं. वे बोलने लगीं- आह नवीन और जोर से चूसो और जोर से चूसो मेरी चूत को. मैं और भी जोश में आ गया और जोर जोर से मोनिषा आंटी की चूत को चूसने लगा.

Maa xxx kahani

थोड़ी ही देर में मोनिषा आंटी की चूत ने अपना रस छोड़ दिया और वो सारा रस मेरे मुँह में आ गया. मोनिषा आंटी ने लंबी सांस लेते हुए कहा- बहुत दिनों बाद किसी ने मेरी चूत को चूसा है.

अब उन्होंने मुझे धक्का दिया और मेरे ऊपर आकर मुझसे कहने लगीं- अब मेरी चूत की चुदाई की बारी है … मुझे लंड खड़ा करने दो.

आंटी ये कह कर मेरे लंड को फिर से अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं.

आह … क्या लंड चुसाई थी. दो मिनट में ही मेरा लंड पूरी तरह से एक कड़क हो गया.

मोनिषा आंटी ने कहा- नवीन मेरी चूत में जल्दी से अपने इस मूसल लंड को उतार दो … मैं चाहती हूं कि तुम्हारा लंड मेरी चूत की गहराई को नापे.
मैंने भी आंटी के दूध दबाते हुए कहा- क्यों नहीं मोनिषा आंटी … अभी लो.

मैं मोनिषा आंटी के ऊपर चढ़ कर अपने लंड को उनकी चूत के ऊपर रख कर उनकी चूत में डालने लगा. बहुत दिन से चुदाई न होने के कारण मोनिषा आंटी की चूत का छेद सिकुड़ गया था. इसलिए मेरे लंड को उनकी चूत में जाने में दिक्कत हो रही थी. लेकिन मैं भी कहां मानने वाला था. मैंने भी लंड को मोनिषा आंटी की चूत में उतार ही दिया.

Maa xxx kahani - kamvasna story - desi kahani mom
Maa xxx kahani

आंटी की चीख निकली- उम्म्ह … अहह … हय … ओह …
दर्द मुझे भी हुआ क्योंकि मैंने भी पहली ही किसी की चूत में अपने लंड डाला था. हम दोनों ही दर्द से कराह उठे लेकिन जब मेरा लंड मोनिषा आंटी की चूत की गहराई में पहुंचा तो मुझे और मोनिषा आंटी को आनन्द आने लगा. हम दोनों ने पहले धीरे धीरे शुरूआत की.

Maa xxx kahani

थोड़ी देर बाद मोनिषा आंटी मुझे उकसाने लगीं. आंटी कहने लगीं- नवीन और जोर जोर से चोदो … न जाने कितने दिनों बाद मुझे ऐसा सुख मिल रहा है.
मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी और मोनिषा आंटी जोर जोर से चीखने लगीं- आह आह आह और जोर से और जोर से चोदो नवीन अपनी आंटी को आज मस्त कर दो.

मैंने और स्पीड बढ़ा दी. थोड़ी देर में ही मोनिषा आंटी चीखते हुए ढीली पड़ गईं. उनकी चूत रस छोड़ चुकी थी … मगर मेरा लंड अभी भी खड़ा हुआ था. मैंने भी अपनी स्पीड और तेज़ करते हुए अपने लंड का रस मोनिषा आंटी की चूत में ही छोड़ दिया.

जैसे ही मेरे लंड का रस निकला, मोनिषा आंटी भी शांत हो गईं.

झड़ने के बाद उनके मुँह पर हल्की सी मुस्कान थी, जैसे वो बोल रही हों कि बहुत दिन बाद चुदाई करके उनको संतुष्टि मिल गयी हो. मगर मेरा मन एक बार की चुदाई से कहां मानने वाला था. मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

मैंने मोनिषा आंटी को कहा- एक बार और आप की चुदाई करनी है.

ये बोल कर मैं आंटी के ऊपर चढ़ गया और फिर से आंटी की चुदाई करने लगा. कोई 25 मिनट मोनिषा आंटी की खूब चुदाई करने के बाद मोनिषा आंटी की चूत ने दो बार रस छोड़ा, मैंने भी अपने लंड का रस मोनिषा आंटी की चूत में ही छोड़ दिया.

हम दोनों नंगे एक दूसरे से चिपक कर लेटे रहे और बातें करते रहे.
फिर कुछ देर बाद मोनिषा आंटी ने मेरे लंड को खूब चूसना शुरू किया और करीब 20 मिनट लंड चूसने के बाद मेरे लंड का रस एक बार फिर निकल गया. इस बार मोनिषा आंटी ने अपने मुँह में ही मेरे लंड का रस निकाल लिया. वो सारा का सारा रस पी गईं.

Maa xxx kahani

लंड रस पीने के बाद मोनिषा आंटी और भी नशीली लगने लगी थीं.

मैंने आंटी से कहा- अब तो मुझे रोज ही आपकी जरूरत लगेगी.
मोनिषा आंटी ने कहा- हां नवीन, मुझे भी तुम्हारी जरूरत रहेगी.
मैंने कहा- आंटी, मैं तो आपके लिए हमेशा तैयार हूं.

उसके बाद मैंने हर रोज मोनिषा आंटी को 6 महीनों तक खूब चोदा और उनकी जवानी में फिर से बहार ले आया. अब आंटी और भी ज्यादा हॉट और सेक्सी हो गयी थी. मेरे मुहल्ले के बहुत से लड़के मोनिषा आंटी के नाम की मुठ भी मारने लगे थे.

सभी यही बोलते थे कि मोनिषा आंटी को जवानी अब चढ़ रही है.

इसके बाद क्या हुआ ये मैं आपको अगली हिंदी सेक्स स्टोरी में बताऊंगा. कैसे मैंने अपने दोस्त के साथ मिल कर मोनिषा आंटी के मजे लिए.

मेरे दोस्त की ये हिंदी सेक्स स्टोरी आपको कैसी लगी … मेरी इस सेक्स कहानी के लिए आप मुझे मेल करके बताएं.
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

Maa xxx kahani

Read in English

Dost ki maa ko chodne ka majaa Maa xxx kahani

Maa xxx Kahani: This Hindi sex story has been sent to me by a dear reader of mine, sharing the Hindi sex story written by you in front of you.

Hi Friends, My name is Naveen and I am a very hot and sexy boy of 25 years. My body is body. The size of my penis 4 years ago was 6 inches long and two inches thick, but one of my aunts or my friend’s mother has changed the size of my penis. Today my cock is nine inches long and three inches thick. My cock is also very hot and sexy in appearance. It all happened because of my friend’s mother and my hot, sexy Monisha aunty on Maa xxx Kahani.

You must be thinking that how can my penis size increase due to my aunt. But let me tell you that I made my first fuck with my friend’s mother. Even today whenever I get time and she is alone at home, then I fuck her in full on Maa xxx Kahani.

To tell the truth… Monisha aunty is very big cock. If they find someone’s cocks, then they do not let them get away from their hands without drinking the juice of their cocks. The sexuality of Monisha Aunty’s body is so much that if any man sees her once, she loses her temper and has to beat her cocks with her own hands the Maa xxx Kahani.

Now let me tell you about his figure like Maa xxx Kahani. Monisha Aunty would be around 36 years old at that time and her figure was 36-30-38. He had very big milk, sexy waist and very thick ass… for whose fuck you will also feel guilty. Monisha aunt’s body is completely white… like she is bathed in milk.

Maa xxx kahani
There was not a single stain on aunt’s body… she was very cool from top to bottom. His nipples were slightly bigger… but of the pink color, which was very enjoyable to suck.

The navel of the aunt is very deep, in which you feel lost. Aunty was going to keep her pussy very clean. She always kept cleaning her pussy from time to time Maa xxx Kahani.

Let me tell you about his family, there are five people in his family. My friend’s father, his mother, his grandmother, his one sister and myself my friend. The friend’s grandmother is his sister and he lives in the city to study. He sometimes comes to the village to roam on the Maa xxx Kahani.

This is two years ago. By the way, I never thought about my friend’s mother… but one day I went to my friend’s house and I gave voice to my friend at home then Maa xxx Kahani.

But Monisha Aunty’s voice came from the bathroom – she is not here. The market has gone to get some goods, it will come in a while.
I said – okay.

After saying this, I left. At that time, I did not know that she had gone to the bathroom to bathe on Maa xxx Kahani.

After a while I again came to his house and incidentally stood in such a place from where the view of the bathroom was clearly visible.

Maa xxx kahani
I was about to give a voice to the friend that the bathroom door was opened in this way, I saw that my friend’s mother Monisha was just toweling in front of my eyes and that towel too was just covering the name Monisha aunty.

The body was completely uncovered from the top, was able to cover only half the mummies and was able to cover only a little pussy from below. If the towels were up a little more, I would have seen Monisha Aunty’s pussy as well Maa xxx Kahani.

Her eyes fell on me, she quickly ran in front of me and ran towards her room, but what a rushing way, her towel opened and Monisha aunt was naked in front of me. She was seen trying unsuccessfully to hide her body like Maa xxx Kahani.

I could see what I wanted to see. I saw Monisha aunt from top to bottom naked. For the first time in my life, I had seen a woman naked before my eyes. At that time my cock was absolutely tan on Maa xxx Kahani.

Seeing me, she quickly ran away laughing and went to her room.

After twenty minutes she came out wearing clothes. She was wearing a sexy saree at this time. The sari was draped over her body, but I do not know why the aunt was now looking sexy to me. Maybe I had seen them naked so I started feeling like this Maa xxx Kahani.

The aunt saw me laughing and tried to end her blush. But now my eyes were fixed on his mother. The aunt had probably read my lust.

Maa xxx kahani
Then I asked the aunt for a friend, then the aunt said – he has not come yet.

I came home quietly from there. After coming home, my mind was not calm at all because I had seen that part of his body, which should not have been seen. From then onwards, a wrong feeling started in my heart towards my friend’s mother and Maa xxx Kahani.

I started beating Muth in the name of Monisha’s aunt four to five times a day. Which man’s cock will not stand on seeing such a sexy body like Maa xxx Kahani.

In the meantime, he went to aunt’s house and kept looking at them. His eyes had read my Kampipasa, but he made me laugh every time then Maa xxx Kahani.

Five days had passed, but whenever I used to think of Monisha aunty… my cock would get absolutely tan and then the cock had to be pacified by hitting the mouth of Monisha aunty’s name.

I thought that no matter what happens, I have to fuck Monisha aunty the Maa xxx Kahani.

The next day I went to his house again. There was no one at home, even uncle had gone to the farm. Monisha aunt was alone at home. I had thought that I will come out of his house today only by fucking Monisha aunty, whatever happens on Maa xxx Kahani.

Monisha aunt was probably doing housework, so I went inside myself. Aunt saw me and laughed and asked to come closer. I saw that she was fixing the bed in her bedroom. As soon as I saw them, my cock was absolutely tan.

Maa xxx kahani
I caught Monisha aunt from behind. I directly took both his mums in my hand and started mashing them loudly.

The aunt started sighing. He looked back and looked at me and was absolutely stunned. He said- what are you doing, Naveen? then Maa xxx Kahani.
I said nothing aunt… I am doing what I should have done long ago.
She understood what I was talking about.

He said- All this is wrong Naveen… I am the mother of your friend… and I am the same as your mother.
I said – be like mother… you are not mother…Maa xxx Kahani.

I just got into my work. I started munching on Monisha aunty’s mums and her sighs intensified. Perhaps the aunt’s heart also wanted to fuck me, but she was unable to say the Maa xxx Kahani.

I started kissing on his neck too. I turned them towards me and took them towards the wall. I made the aunt stand on the wall and I started kissing Monisha aunt loudly.

He again told me affectionately – Naveen please this is all wrong… Do not do this.
But I did not agree, I was busy in my work on Maa xxx Kahani.

I took his lips again between my lips and began to kiss with great emphasis. His mummies started to get very angry.

Maa xxx kahani
His sighs were about to come out, but I was getting buried in my mouth. His breath was fast and my breath was also getting faster. I was constantly kissing them.

She slowly started to support me, but sometimes she tried to stop me. I neither had to stop nor did I stop. I just kept on working on the Maa xxx Kahani.

After a while he stopped speaking and started supporting me. Now she also started kissing me. I understood that Monisha aunty also wants to taste my cock Maa xxx Kahani.

He muttered softly and said- I could not tell you but you have read my mind.

Hearing this, without delay, I moved one hand over Monisha aunty’s pussy and I started caressing her pussy from the top of the sari. With his one hand, his milky mamma continued to crush.

Monisha aunt’s sighs had become very fast and her breath also started moving very fast. She was now in full swing the Maa xxx Kahani.

I started kissing slowly on all his body without delay. Kissed on the neck, chest and then on his stomach. As soon as I kissed, reached her navel and as soon as I kissed her navel, she shivered. Due to this behavior, an energy ran inside me.

Maa xxx kahani
I kissed her navel a lot with my tongue. I started doing this again and again. Every time Monisha aunty would take a sigh, which made me very happy.

Hearing their cool sighs, the condition of my cock was also very bad. He had reached the verge of breaking his body completely like Maa xxx Kahani.

Then Monisha aunt grabbed my cock from the top of my pants and said – O my God… your cock is so thick and so long. I did not know that it could be so big.
I said yes Monisha aunt…Maa xxx Kahani.
Monisha aunt said – Your uncle is not even so long and fat.
I said- Monisha aunt, everyone does not have such cocks, hard work has to be done to make this.
Monisha aunt said – how hard?

I said, aunt, do not try to be ignorant now, only after hitting the mouth of a hot sexy woman like you, cocks can become so big… you know this thing too the Maa xxx Kahani.
Monisha aunt said with a laugh – how many times have you killed so far?
I said- Monisha aunt, I have killed your name about twenty five times in the last five days.

As soon as I spoke, Monisha aunty kissed me on my lips. This was the first time that Monisha aunt had kissed me by staying ahead of herself.

Maa xxx kahani
After a while, Monisha aunt said – oh Naveen, do you really want me so much?
I said- Yes Monisha aunty, I have seen your naked body ever since… My cock is not getting rest. I have to beat your name again and again.
Monisha aunt said – okay… after today you will not have to kill the muth.

On hearing this, I removed the saris of Monisha aunty and also removed her blouse and petticoat. Monisha aunty was in bra and panty in front of me. What an amazing feeling like Maa xxx Kahani.

I pushed them down on the bed and I climbed on top of them. I started kissing them loudly. Now Monisha aunty was also supporting me. She started caressing my head on the Maa xxx Kahani.
I felt as if the aunt was talking to me by stroking my head that Naveen should give full fuck to her aunt today.

Now Monisha aunty started supporting me. I started enjoying a lot. I wanted to get all my anger out on Monisha aunty, so I did that.

I thought of doing a tremendous fuck in Monisha aunty’s mouth. I put my cock in the mouth of Monisha aunty. Aunty started sucking my cock very vigorously.

I started sucking cocks from throat to throat with fun. I started fucking his mouth a lot.

Maa xxx kahani
This was the first time that I was fucking a woman’s mouth. I also grabbed Monisha aunty’s head and started to fuck me by putting my cock in her mouth. I was having a lot of fun and Monisha aunty was also enjoying mouth fucking.

Some ten minutes later my cock left the water. I left the juice of my cock in Monisha aunty’s mouth. His whole mouth was filled with the juice of my cock and some fell down. The rest of the juice was consumed by Monisha aunt. She was sucking the juice of cocks in such a way that she is thirsty for births, she never got this juice in Maa xxx Kahani.

After drinking the launders, I hit the sitting Monisha aunt on the bed and stripped them of all their clothes.

Aunt was naked and lying on the bed. I started sucking her pussy with my tongue. Monisha aunty went crazy and grabbed my head and started pressing her pussy then Maa xxx Kahani.

Aunt started talking – Naveen suck my pussy… drink it and calm my pussy fire.
I was also sucking someone’s pussy for the first time, so I also sucked with fun.

Within ten minutes of Monisha aunty’s pussy, Monisha aunt started sighing loudly. She started speaking – ah naveen and suck harder and suck my pussy harder. I got more excited and started sucking Monisha aunty’s pussy loudly.

Maa xxx kahani
In a short time, Monisha aunty’s pussy left its juice and all that juice came in my mouth. Monisha aunt took a long breath and said – after a long time someone has sucked my pussy.

Now he pushed me and started coming over me and said to me – now it is my turn to fuck my pussy… Let me make a cock Maa xxx Kahani.

After saying this, aunt started sucking my cock again in her mouth.

Ah… what was the cock. Within two minutes my cock was completely cracked.

Monisha aunt said – Naveen take off your pestle in my pussy quickly… I want your cock to measure the depth of my pussy on the Maa xxx Kahani.
I also said while pressing the milk of the aunt – why not Monisha aunt… take it now.

I climbed on top of Monisha aunty and put my cock on her pussy and started putting it in her pussy. Monisha aunty’s pussy hole had shrunk due to lack of fuck for a long time. That’s why my cock was having trouble going to her pussy. But where was I going to believe that. I also removed the cock in Monisha aunty’s pussy.

Maa xxx kahani
Aunt screamed – Ummh… Ahhh… Hahh… Oh…
I also felt pain because I had also put my cock in someone’s pussy for the first time. We both groaned with pain, but when my cock reached the depth of Monisha aunty’s pussy, I and Monisha aunt started enjoying. We both started slowly at first.

Maa xxx kahani
After a while Monisha aunt started provoking me. Aunt started saying – new and loud Chodo… Do not know how many days I am getting such happiness.
I also increased my speed and Monisha aunt started screaming loudly – ah ah ah and louder and louder Chodo Naveen make your aunt today.

I increased the speed further. Within a short time, Monisha came loose screaming aunt. His pussy had left juice… but my cock was still standing. I too, while speeding up my speed, left the juice of my cock in Monisha aunty’s pussy.

As soon as the juice of my cock came out, Monisha Aunty also became calm.

After the loss, there was a slight smile on their face, as if they were saying that after a long time they had got satisfaction by fucking them. But where was my mind going to accept from a one-time fuck. My cock was erect again.

I told Monisha aunt – I want to fuck you once more in Maa xxx Kahani.

Saying this, I climbed on top of the aunt and started fucking aunt again. After fucking a lot of Monisha aunty for 25 minutes, Monisha aunty’s pussy left juice twice, I also left the juice of my cock in Monisha aunty’s pussy.

We both lay naked and cling to each other and kept talking.
Then after some time, Monisha aunt started sucking my cock very much and after sucking for 20 minutes, the juice of my cock once again came out. This time, Monisha aunt took the juice out of my cock in her mouth. She drank all the juice.

Maa xxx kahani
After drinking cock juice, Monisha aunt started to get more intoxicated.

I told the aunt – now I will need you every day.
Monisha Aunty said- Yes Naveen, I will also need you.
I said – aunt, I am always ready for you.

After that, I brought Monisha aunt every day for 6 months, and again in her youth. Now aunt had become even more hot and sexy. Many of the boys in my neighborhood were also starting to kill the name of Monisha aunty.

Everyone used to say that Monisha aunt is now getting younger.

What happened after this, I will tell you in the next Hindi sex story. How I enjoyed Monisha aunty together with my friend.

How did you like this Hindi sex story of my friend… For this sex story of mine, please mail me and tell me.
[email protected]

Read More Chudai Story-

kamvasna story – दोस्त की मम्मी को लंड चुसवाया | Dost ki maa ki chudai

गर्लफ्रैंड की माँ की फुदी चोदी | aunty ki chudai – xxx desi stories

Aunty ki chudai in hindi | सुंदर आंटी ने मेरी वासना जगायी 0

2 thoughts on “Maa xxx kahani दोस्त की माँ को चोदने का मजा 1 nice sex stori”

Leave a Comment