Follow my blog with Bloglovinxxx desi kahani भांजी को दुल्हन बनाकर चोदा 1 Best Sex Fun

xxx desi kahani भांजी को दुल्हन बनाकर चोदा 1 Best Sex Fun

भांजी को दुल्हन बनाकर चोदा xxx desi kahani

xxx desi kahani: मेरी बहन की बेटी बहुत सेक्सी थी, मैं उसकी जवानी देखकर मुठ मारता था लेकिन कुछ कर नहीं सकता था. लेकिन हालात ऐसे बने कि मैंने अपनी भांजी को जीभर के चोदा. कैसे?

मेरी दीदी का घर और मेरा घर ज्यादा दूर नहीं है. मेरा बेटा और दीदी का बेटा बंगलौर में एक ही कम्पनी में काम करते हैं. दीदी की एक बेटी अवनीत भी है जिसने एम कॉम किया है और आजकल इसकी शादी के लिए लड़के की तलाश हो रही है.

एक दिन जीजा जी ने बताया कि एक विकट समस्या आ गई है. अवनीत ने बताया है कि वो रोहित गुप्ता नाम के किसी लड़के से प्यार करती है और उसी से शादी करेगी.
मैंने पूछा- कौन रोहित गुप्ता? वो मूल चन्द्र गुप्ता का बेटा तो नहीं?
जीजा जी ने बताया- हाँ वही!

मैंने कहा- लड़का, उसका परिवार और व्यापार ये सब तो ठीक है लेकिन गुप्ता है. बस यही एक दिक्कत है.
जीजा जी ने कहा- मैं मर जाऊंगा लेकिन इस शादी के लिए हां नहीं करूंगा.
मैंने उनको तसल्ली दी- जीजा जी, मैं अवनीत को समझाने की कोशिश करता हूँ. शायद मान जाए!

जीजा जी से हुई बातचीत के बाद से मेरा दिमाग स्थिर नहीं हो पा रहा था क्योंकि जिस अवनीत को मैं सीधी सादी लड़की समझता था, बहुत बड़ी खिलाड़ी निकली.

पिछले दो सालों में मेरी बहन की बेटी अवनीत बहुत सेक्कासी हो गयी थी, उसका शरीर काफी भर गया था, जांघें मांसल हो गई थीं, चूतड़ और चूचियां भी भारी भरकम हो गये थे, मुझे यकीन हो गया कि अवनीत जरूर अपने यार का लण्ड खा रही थी.
अब तो मुझे खुद पर ही झुंझलाहट हो रही थी कि मैं तो अवनीत को देख देखकर मुठ मारता रहा और वो साला मूल चन्द्र का लड़का मेरी भानजी को चोद कर मजा ले रहा था.

xxx desi kahani

खैर जो बीत गई सो बीत गई, मेरे सामने अब भी बहुत मौके थे.

दो दिन के बाद मैं दीदी के घर गया तो अवनीत ने कहा- मामा जी, आप डैडी को समझाइये कि हमारी शादी हो जाने दें. रोहित बहुत अच्छा लड़का है.
मैंने अपनी भानजी से कहा- बेटा, मैं जीजा जी को मना लूंगा लेकिन पहले तुमसे पूरा मामला समझना पड़ेगा. तुम एक हफ्ते के लिए मेरे घर चलो, वहीं बात होगी. बोलो क्या तुम मेरे साथ चलोगी?
अवनीत मेरे साथ मेरे घर चलने को एकदम तैयार हो गयी.

तब दीदी जीजा जी से मैंने कहा- इसको एक हफ्ते के लिए मेरे घर भेजो, समझाने की कोशिश करता हूँ.

शाम को अवनीत हमारे घर आ गई. हम लोग रात का खाना 8 बजे तक खा लेते हैं, फिर मेरी पत्नी नींद की दवा खाकर 10 बजे तक सो जाती है.

आज भी वैसा ही हुआ, मेरी पत्नी सो गई तो मैं अवनीत के कमरे में पहुंचा, वो टीवी देख रही थी.
मैंने पूछा- तुम्हारा जो भी मैटर है, सच सच बताओ, मैं तुम्हारी मदद करूंगा.

अवनीत के बताने और मेरे सवाल जवाब के बाद कहानी का निचोड़ यह निकला कि इन दोनों का चार साल से अफेयर चल रहा था और पिछले तीन साल से इनमें शारीरिक सम्बन्ध भी थे.
सारी बातचीत के बाद मैंने अवनीत से कहा- मैं तुम्हारी पूरी मदद करूंगा जीजा जी को राजी करने से लेकर शादी के कार्यक्रम सम्पन्न कराने तक … लेकिन मेरी एक शर्त है.
“आप बताइये मामाजी, मुझे हर शर्त मंजूर है. मैं रोहित को पाने के लिए कुछ भी करने को तैयार हूँ.”

xxx desi kahani

“तुम्हें मुझको खुश करना होगा.”
“आपको खुश करना होगा? कैसे खुश करना होगा?”
“वैसे ही, जैसे एक औरत एक मर्द को करती है.”
“मामू, आप मेरे साथ???”
“हाँ बेटा, तुम ठीक समझ रही हो, अब तुम्हें फैसला करना है कि तुम रोहित को पाने के लिए ये सब करोगी या नहीं.”
“करूंगी मामू, मैं यह भी करूंगी. लेकिन वादा करो कि आप मेरी शादी रोहित से करायेंगे?”
“मैं कराऊंगा, यह मर्द की जबान है.”

अवनीत उठी, उसने कमरे का दरवाजा बंद किया और अपना सलवार सूट उतार दिया, अब वो ब्रा और पैन्टी में थी.
मेरी सगी भांजी मुझसे बोली- आओ मामू, जो करना है कर लो.
मैंने कहा- यह डील मामा और भांजी के बीच नहीं बल्कि एक मर्द और और एक औरत के बीच हो रही है.

इतना कहकर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिये और अवनीत से अपना लण्ड चूसने को कहा.

अवनीत मेरा लण्ड चूसती जा रही थी और उसके बढ़ते आकार से हैरान होकर बोली- मामू, आपका तो बहुत बड़ा है,

xxx desi kahani

रोहित का ऐसा नहीं है, इससे लम्बाई में भी कम है और पतला है.
मैंने कहा- बेटा, हम लोग पंजाबी हैं, पंजाबियों की हर चीज बड़ी होती है, तुम्हारी चूत इसी साइज के लण्ड से संतुष्ट होगी.

तब मैंने अवनीत की ब्रा और पैन्टी उतार दी और उसे अपनी गोद में बैठाकर उसके होठों का रसपान करने लगा. अपने लण्ड का सुपारा मैंने अवनीत की बुर के द्वार से सटा दिया था और उसकी चूचियां मेरे सीने से सटी हुई थीं.

होठों के रसपान में अवनीत भी मेरा साथ दे रही थी. साथ ही साथ वो अपने चूतड़ आगे खिसका कर लण्ड चूत के अन्दर लेने की कोशिश कर रही थी.
मैंने अवनीत को बेड पर लिटाकर उसकी गांड के नीचे दो तकिये रखे जिससे अवनीत की चूत पूरी तरह से खुल गई.

xxx desi kahani

अपने लण्ड पर कॉण्डोम चढ़ाकर अवनीत की बुर पर क्रीम चुपड़कर मैंने अवनीत की बुर में अपना लण्ड पेला तो चिल्ला पड़ी.

xxx desi kahani

मैंने कहा- चार साल से चुदवा रही हो और चिल्ला ऐसे रही हो, जैसे पहली बार चुदवा रही हो.
“मेरी बुर केला खाने की आदी है, लौकी पेलोगे तो चिल्लायेगी ही!”

इस बीच मैंने धक्के मारना शुरू कर दिया था, जब डिस्चार्ज किया तो अवनीत ने कहा- मामू, मैं तो रोहित की दीवानी हूँ और उसके बिना रह नहीं सकती लेकिन मेरी चूत आज से तुम्हारे लण्ड की दीवानी हो गई. मैं शादी रोहित से करूंगी लेकिन चुदवाने तुम्हारे पास ही आया करूंगी.

इस एक हफ्ते में चुदवा चुदवा कर अवनीत मस्त हो गई, हफ्ते भर में उसकी चूचियों और चूतड़ों का साइज दो इंच बढ़ गया था.

अवनीत के वापस जाने के दो दिन बाद मैंने दीदी और जीजा जी को अपने घर बुलाया और जमाने की ऊंच नीच, मना करने पर होने वाली सम्भावित घटनाओं का जिक्र करके अन्ततः उन्हें इस शादी के लिए राजी कर लिया.

अवनीत के सामने मैंने एक शर्त रखी कि अब शादी से पहले तुम लोग मिलोगे नहीं!
इस शर्त से दीदी, जीजा जी, अवनीत, रोहित सब सहमत थे. इस शर्त के पीछे मेरा एक ही उद्देश्य था कि मैं इस अवधि में ज्यादा से ज्यादा समय अवनीत को अपने पास रखना चाहता था.

शादी के कार्यक्रम शुरू हो चुके थे और आज शाम को बारात आने वाली थी. अवनीत को ब्यूटी पार्लर लेकर जाना मेरे जिम्मे था क्योंकि पार्लर मालिक मेरा दोस्त था. उसने बताया था कि मैनीक्योर, पैडीक्योर, फुल वैक्सिंग, मेकअप और जूड़ा इतने काम में चार घंटे लगते हैं. जयमाल का समय 9 बजे का था लेकिन मैंने पार्लर में 7 बजे बताया था.
इस हिसाब से मैं अवनीत को लेकर 3 बजे पार्लर पहुंच गया.

xxx desi kahani

फुल वैक्सिंग का मतलब पूछने पर मुझे मेरे दोस्त ने बताया था कि इसमें चूत की भी वैक्सिंग करते हैं, यह काफी पेनफुल और टाइम टेकिंग जॉब है.

3 बजे से पहुंचा हुआ मैं 7 बजे तक इन्तजार करता रहा, सवा 7 बजे अवनीत बाहर आई तो मुझे लगा कि माधुरी दीक्षित आ गई है.

अवनीत कार में बैठी तो मैंने कार कार्यक्रम स्थल के बदले अपने घर की ओर मोड़ दी. जब घर पहुंचे तो अवनीत ने कहा- मामू, आप तो घर ले आये?
मैंने घड़ी देखते हुए कहा- वहां 9 बजे का समय है और अभी साढ़े सात बजे हैं.

घर के अन्दर पहुंच कर मैंने अवनीत से कहा कि तुम्हारा मेकअप या कपड़े खराब न हों, इसलिये आराम आराम से मैं जो करूँ, करने दो.

अवनीत का लहंगा ऊपर उठाकर मैंने उसे पकड़ा दिया और उसकी पैन्टी उतार दी. वैक्सिंग के बाद उसकी चूत उसके गालों जैसी चिकनी हो गई थी. मैंने अवनीत की टांगें फैला दीं और जमीन पर बैठकर अवनीत की चूत और जांघें चाटने लगा.

जांघों से लेकर नाभि तक सारी स्किन एक जैसी थी. जांघें चाटते चाटते उसकी चूत के छेद तक जाता और जीभ बढ़ाकर उसकी गांड के छेद तक चाट आता.

अवनीत की चूत काफी गीली हो चुकी थी और मेरा लण्ड भी फनफना रहा था.

xxx desi kahani

मैं खड़ा हुआ और अवनीत के हाथ डाइनिंग टेबल पर रखते हुए कहा- झुक जाओ.
अवनीत झुक गई तो मैंने उसका लहंगा पीछे से उठा दिया और अपने लण्ड पर क्रीम मलकर उसकी बुर में डाल दिया और धीरे धीरे पेलने लगा.

xxx desi kahani

इस पोजीशन में झुके झुके अवनीत को दिक्कत होने लगी तो उसने अपने हाथ मेज से हटाकर कुर्सी पर रख दिये जिसके कारण वो और ज्यादा झुक गई.
लण्ड के अन्दर बाहर होने के दौरान अवनीत बोली- मामू आज आपने कॉण्डोम भी नहीं लगाया है?
“वो तो आज लगाना भी नहीं है बेटा. मैं चाहता हूँ कि तुम्हारी बुर में वीर्य की जो पहली धार गिरे, वो मेरे लण्ड से निकले.”

“लेकिन मामू, कुछ गड़बड़ हो गई तो?”
“गड़बड़ क्या होगी? कल तो रोहित भी बिना कॉण्डोम के चोदेगा.”

इतना कहकर मैंने अवनीत की कमर कसकर पकड़ ली और शताब्दी एक्सप्रेस की रफ्तार से अपनी दुल्हन बनी भानजी की चूत को चोदने लगा. जब मेरे डिस्चार्ज का समय करीब आया तो लण्ड का सुपारा फूलकर मोटा हो गया जिससे मेरी भानजी की बुर और टाइट लगने लगी.
लेकिन मैंने अपनी भांजी की चूत में धक्के मारना जारी रखा और अन्ततः अवनीत की चूत मेरे वीर्य से भर गई.
इस चुदाई में मुझे हमेशा से ज्यादा मजा आया क्योंकि मेरे मन में था कि मैं किसी दूसरे की दुल्हन को चोद रहा हूँ जो अगली रात को सुहागरात मना रही होगी.

मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला और अवनीत की चूत पर अपना रूमाल रख दिया. अवनीत ने रुमाल दबा लिया और कुर्सी पर बैठ गई.

xxx desi kahani

मैं बाथरूम गया, अपना लण्ड धोकर कपड़े पहन लिये. फिर अवनीत बाथरूम गई, पेशाब करके आई, पैन्टी पहनी और अपने चेहरे पर छलकी पसीने की बूंदें टिश्यू पेपर से पोंछी.
सवा नौ बज चुके थे, हम लोग कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे और राजी खुशी शादी हो गई.

शादी के बाद रोहित और अवनीत हनीमून पर चले गये और लौटने के बाद जब मैं उससे मिला तो उससे हनीमून की चुदाई की कहानी पूरे विस्तार से सुनी.
उसकी बातों से मुझे लगा कि मेरी भांजी अवनीत को हनीमून पर अपने पति के छोटे लंड से चुदा कर कुछ भी मजा नहीं आया लेकिन उसने अपने मुँह से सीधे सीधे कुछ नहीं कहा.

मौक़ा मिलते ही मैंने उसे चूमना शुरू कर दिया तो वो बड़ी खुशी खुशी मुझसे चुदाई करवाने को तैयार हो गयी. मैंने उसे चोद चोद कर पूरा मजा दिया.
तब से लेकर अब तक से हफ्ते दस दिन में कोई न कोई मौका ढूंढकर मेरी भांजी अवनीत आ जाती है और बेझिझक चुदवाती है, हमारे बीच मामा भांजी जैसा कोई रिश्ता नहीं है.

मेरे प्यारे पाठको, आपको मेरी फैमिली सेक्स स्टोरी कैसी लगी?
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

xxx desi kahani

xxx desi kahani

Read in English

Bhanji ki chut ki chudai dulhan ban kar xxx desi kahani

xxx desi kahani: My sister’s daughter was very sexy, I used to beat my face after seeing her youth but could not do anything. But the situation became such that I chose my niece for life. how?

My sister’s house and my house are not far away. My son and sister’s son work in the same company in Bangalore. Didi also has a daughter Avneet who has done M.Com and nowadays a boy is being searched for his marriage and xxx desi kahani.

One day brother-in-law told that a formidable problem has occurred. Avneet has told that she loves a boy named Rohit Gupta and will marry him and xxx desi kahani.
I asked- Who is Rohit Gupta? Is he the son of the original Chandra Gupta?
Brother-in-law told- yes that!

I said – boy, his family and business are all fine but Gupta. This is the only problem.
Brother-in-law said- I will die but will not say yes to this marriage like xxx desi kahani.
I comforted him – brother-in-law, I try to convince Avneet. Maybe agree!

After the conversation with brother-in-law, my mind could not get stable because the Avneet, which I considered a straightforward girl, turned out to be a very big player then xxx desi Kahani.

In the last two years, my sister’s daughter Avneet had become very confident, her body was quite full, her thighs were fleshy, butts and nipples had become too heavy, I was convinced that Avneet must surely eat her friend’s lund Was living xxx desi Kahani.
Now I was getting annoyed at myself that I kept on looking at Avneet and kept fisting and the boy of the original moon was enjoying by fucking my niece.

xxx desi kahani
Well, whatever has passed has passed, I still had many opportunities.

After two days, when I went to Didi’s house, Avneet said – Mama ji, you explain to Daddy that let us get married. Rohit is a very good boy and xxx desi Kahani.
I told my sister- son, I will convince brother-in-law, but first you have to understand the whole matter. If you come to my house for a week, the same thing will happen. Say will you come with me?
Avneet agreed to go to my house with me and xxx desi Kahani.

Then I said to sister-in-law, send it to my house for a week, I try to explain.

In the evening, Avneet came to our house. We eat dinner till 8 o’clock, then my wife goes to sleep by 10 o’clock after taking sleeping medicine for xxx desi Kahani.

The same thing happened today, my wife fell asleep so I reached Avneet’s room, she was watching TV and xxx desi Kahani.
I asked – Whatever your matter, tell the truth, I will help you.

After Avneet told me and answered my question, the conclusion of the story came out that both of them were having an affair for four years and they had physical relations for the last three years.
After all the conversation I told Avneet – I will help you all the way from persuading brother-in-law to the completion of marriage programs… but I have a condition xxx desi Kahani.
“You tell me uncle, I accept every condition. I am ready to do anything to get Rohit. “

xxx desi kahani
“You have to make me happy.”
“You have to make me happy?” How to please? “
“Just like a woman does to a man.”
“Mamu, are you with me ???”
“Yes son, you are getting it right, now you have to decide whether you will do all this to get Rohit or not.”
“I will do it, Mamu, I will also do this. But promise that you will marry me with Rohit? “
“I will get it, this is man’s tongue.”

Avneet woke up, she closed the door of the room and removed her salwar suit, now she was in bra and panty then xxx desi Kahani.
My real niece said to me – Come Mamu, do what you have to do.
I said – this deal is not being done between uncle and niece, but between a man and a woman.

Having said this much, I took off all my clothes and asked Avneet to suck my LND for xxx desi Kahani.

Avneet was sucking my LND and being surprised by its increasing size, she said – Mamu, you are very big, it is not like Rohit, it is less in length and is thinner in xxx desi Kahani.
I said- Son, we are Punjabis, everything of Punjabis is big, your pussy will be satisfied with this size of LND.

Then I took off Avneet’s bra and panty and sat on her lap and started sucking her lips. I had tied the supine lund to the door of Avneet’s bur and her cunt was close to my chest and xxx desi Kahani.

Avneet was also supporting me on the lips. Simultaneously, she was trying to take her butts forward and take them inside Lund pussy then xxx desi Kahani.
I put Avneet on the bed and put two pillows under her ass, which opened Avneet’s pussy completely.

xxx desi kahani
After offering condom on my LND and rubbing cream on Avneet’s bur, I screamed my Lund paella in Avneet’s bur.
I said- have been fucking and screaming for four years, as if getting it for the first time.
“My bur is addicted to eating bananas, if you gourd, you will scream!”

In the meantime, I had started banging, when discharged, Avneet said – Mamu, I am Rohit’s addict and cannot live without him, but my pussy has become crazy for your LND from today. I will marry Rohit but Chudwane will come to you, xxx desi Kahani.

In this week, Avneet became cool after Chudwa Chudwa, within a week, the size of her Tits and Cuckoos had increased by two inches and xxx desi Kahani.

Two days after Avneet’s return, I called Didi and brother-in-law to my house and finally convinced them of this marriage by mentioning the possible events of refusal for xxx desi Kahani.

I put a condition in front of Avneet that now you will not meet before marriage!
Didi, brother-in-law, Avneet, Rohit all agreed with this condition. My only aim behind this condition was that I wanted to keep Avneet with me for the maximum time during this period the xxx desi Kahani.

The wedding programs had started and the wedding procession was going to take place this evening. I was responsible for taking Avneet to the beauty parlor because the parlor owner was my friend and xxx desi Kahani. He had told that manicure, pedicure, full waxing, makeup and combing takes four hours to do so much work. Jaimal’s time was at 9 o’clock but I told in the parlor at 7 o’clock.
According to this, I reached the parlor with Avneet at 3 o’clock.

xxx desi kahani
When asked about the meaning of full waxing, my friend told me that we do waxing of the pussy in this as well, it is quite a penful and time taking job.

Arrived from 3 o’clock, I kept waiting till 7 o’clock, Avneet came out at 7 o’clock, so I felt that Madhuri Dixit has arrived.

While sitting in Avneet’s car, I turned the car towards my house instead of the venue. When he reached home, Avneet said – Mamu, did you bring home?
I said while looking at the clock – it’s 9 o’clock and it’s half past seven.

After reaching inside the house, I told Avneet that your makeup or clothes should not go bad, so let me do what I do comfortably.

Taking up Avneet’s lehenga, I caught her and removed her panty. After waxing, her pussy became smooth like her cheeks. I spread Avneet’s legs and sat on the ground and started licking Avneet’s pussy and thighs.

The entire skin from the thighs to the navel was the same. Licking thighs goes to her pussy hole and stretched her tongue and licking her ass hole.

Avneet’s pussy was quite wet and my LND was also puffing.

xxx desi kahani
I stood up and kept Avneet’s hand on the dining table and said- Bend down.
When Avneet bowed, I lifted her lehenga from behind and rubbed cream on her LND and put it in her bur, and started slowly.

In this position, Avneet, who bowed down, started having problems, she removed her hands from the table and put them on the chair, due to which she became more inclined.
Avneet bid while outside in LND- Mamu, you have not even installed condom today?
“He does not even have to apply today son. I want that the first edge of semen that falls in your burp, comes out of my LND. “

“But Mamu, if something goes wrong?”
“What’s wrong?” Tomorrow Rohit will also fuck without condom. “

Having said this, I caught Avneet’s waist tightly and started fucking Bhanji’s pussy at the speed of Shatabdi Express. When the time for my discharge came to a close, the betel nut of the Lond became thick and thick, which caused my sister-in-law to feel bad and tight.
But I continued to bang my niece’s pussy and finally Avneet’s pussy was filled with my semen.
I always enjoyed this fuck more because I had in mind that I am fucking another bride who will be celebrating honeymoon the next night.

I took my LND out and put my handkerchief on Avneet’s pussy. Avneet suppressed the handkerchief and sat in the chair.

xxx desi kahani
I went to the bathroom, washed my LND and put on clothes. Then Avneet went to the bathroom, came urinating, wore panties and wiped a drop of sweat on her face with tissue paper.
It was a quarter past nine, we reached the venue and agreed to get married happily.

After marriage, Rohit and Avneet went on honeymoon and after returning when I met her I heard the story of honeymoon fuck in full detail.
From her words I felt that my niece Avneet did not enjoy anything on honeymoon by kissing her husband with small cocks but he did not say anything directly from his mouth.

As soon as I got the chance, I started kissing her, then she was very happy that I was ready to fuck her. I enjoyed her by fucking her.
From then till now, my niece comes to Avneet by looking for some opportunity in ten days of the week and feel free to fuck, we do not have any relation like uncle uncle.

My dear readers, how did you like my family sex story?
[email protected]

Read more chudai Story-

Hindisexstoris मौसेरी दीदी की चूत चुदाई Real Sex 1 Fun Story

Hindisexstoris मोसी की मोटी रसीली चूत की चुदाई 1 Best Sex

Hindi saxy story मेरी चूत का उदघाटन समारोह 1 fresh Sex Story

1 thought on “xxx desi kahani भांजी को दुल्हन बनाकर चोदा 1 Best Sex Fun”

Leave a Comment