Follow my blog with BloglovinHindi saxy story मेरी चूत का उदघाटन समारोह 1 fresh Sex Story

Hindi saxy story मेरी चूत का उदघाटन समारोह 1 fresh Sex Story

मेरी चूत का उदघाटन समारोह hindi saxy story

Hindi saxy story: एक शानदार वेबसाइट लॉन्च करने पर MastHindiStory के सभी कर्ता-धर्ता, समूचे स्टाफ व गुरु जी को सबसे ज्यादा प्यार और बधाई!

जबसे मेरी दीदी गीता मेहरा के ज़रिये मुझे इस वेबसाइट का पता चला, मैंने उनकी बताई साईट खोली. जब कहानियाँ पढ़ी तो मेरी तो चूत गीली हो गई थी. मैं भी अपनी जिन्दगी का पहला सेक्स आपके सामने लाकर शुरुआत करने जा रही हूँ, मुझे आशा है कि मेरी यह चुदाई जल्द ही आप सबके सामने MastHindiStory के ज़रिये आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगी.

मेरा नाम वैशाली, 5 फुट 5 इंच कद, गुन्दाज़ बदन, गोरे-चिट्टे मखमल जैसे वक्ष! मैं बारहवीं जमात की छात्रा हूँ. पहले हम एक संयुक्त परिवार में रहते थे, चाचू-चाची, बुआजी, ताया-ताई, घर इतना बड़ा नहीं था, इसलिए मैं चुदाई के लाइव सीन देख देख बड़ी हुई.

एक दिन चाचू-चाची अकेले थे. मैं तबीयत ठीक न होने की वजह से पहले घर आ गई. चाचू के कमरे से सिसकी की आवाज़ सुन मैं पिछली खिड़की की ओर बढ़ी. मैं जब मॉम-डैड के बीच सोती थी तो कई बार डैड को मॉम पर सवार होते देखा था, लेकिन अच्छी तरह से नहीं देख पाई. आज मौका था, अन्दर चाचू बेड के किनारे बैठे थे नंगे, चाची फर्श पर घुटनों के बल बैठी चाचू के लौड़े को मजे ले ले कर चूस रहीं थी. फिर चाची बिस्तर पर आई. नंगी चाची को चाचू ने लिटा अपना लौड़ा चाची की चूत में घुसा दिया. यह देख मेरी पेंटी भी गीली हो गई.

फिर डैड ने शहर में आकर अपना बढ़िया मकान बनाया और हम शहर आकर बस गए. गाँव में पंजाबी मीडियम से सातवीं जमात तक पढ़ी, वो एक कन्या-विद्यालय था. यहाँ आकर मैंने एक प्राइवेट और अंग्रेजी मीडियम लड़के-लड़कियों के स्कूल में मैंने आठवीं में दाखला लिया और मेरी सहेलियाँ भी बन गई. हमारा चार लड़कियों का ग्रुप बन गया. श्वेता, मरियम, नूरी और मैं!

उनका अभी से लड़कों में ध्यान था, नूरी का तो अफेअर भी चल निकला था. हमारे ग्रुप की चर्चा चालू लड़कियों में होती थी. अब मेरी जवानी भी अंगड़ाई लेने लगी. सबमें से मेरी जवानी की बातें लड़कों में ज्यादा होने लगी.

hindi saxy story

सब जब घर से निकलती तो लड़कों की निगाहें मेरी छातियों पर रहने लगी. देख देख मुझे मजा आने लगा. तभी मुझे मेरे ही स्कूल में पढ़ने वाले अमृत नाम के एक लड़के ने मुझे परपोज़ किया. उसको मैंने कोई जवाब नहीं दिया.

जब मैं स्कूल से घर जाती तो मेरे पीछे होंडा सिटी कार में एक दूसरा लड़का आने लगा हर रोज़ सुबह और स्कूल के बाद! बहुत हैण्डसम था, बड़े घर का लड़का था. उसने मुझे एक दो बार कार पास लाकर अपना मोबाइल नंबर दिया, मेरे साथ नूरी भी रहती थी, उसने नंबर पकड़ के रख लिया और मुझे कहने लगी- पटा ले मेरी जान! और क्या चाहिए!

मैंने कहा- जो अमृत ने परपोज़ किया उसका क्या?
उसको स्कूल तक सीमित रख!
मैंने नूरी से नंबर लिया, दोनों पास की एस.टी.डी पर गई और कॉल की. उसने अपना नाम करण बताया और मुझे कहा- मैं आप पर फ़िदा हूँ प्लीज़!
मैंने उसको हाँ कर दी.
वो बोला- मैं इसी मार्केट में ही हूँ! चलिए मैं आपको घर छोड़ देता हूँ, प्लीज़ मना मत करना! मुड़ कर देखो!

मैंने केबिन से देखा, उसने हाथ हिलाया. नूरी का घर पास था, वो पैदल चली गई. मैं उसकी कार में बैठ गई. कुछ देर ऐसे ही घूमते रहे. उसने मेरा हाथ पकड़ा- आप बहुत सेक्सी हो, बहुत सुन्दर हो!
उसने हाथ पर किस किया- आई लव यू सो मच!
मैंने कहा- आई लव यू टू!

उसने पास खींचते हुए मेरे होंठों पे किस कर दी, मुझे करंट सा लगा. उसने कार साइड पर कर मेरे होंठ चूसने शुरु किये.
मैंने कहा- प्लीज़ छोड़ो न!
वो बोला- कितने दिन से आपके इन होंठों का रसपान करने का दिल था! आप कहती हैं छोड़ो!

hindi saxy story

मुझे भी कुछ होने सा लगा- मैं भी लिप-किस में उसका साथ देने लगी. पता ही नहीं चला कब उसका हाथ मेरी शर्ट में घुसता हुआ मेरे मम्मों तक पहुँच गया. उसने सीट पीछे कर दी और मेरे ऊपर बैठ गया. एक हाथ उसने मेरी स्कर्ट में डाल मेरी जांघें सहलाने लगा. मैं इतनी गरम हो गई कि सब भूल गई. बस दोनों जवानी के जोश में एक दूसरे में खोने लगे.उसने बटन खोल मेरा मम्मा ब्रा से निकाल लिया और उसको मसलने लगा. मुझे तब होश आया जब मैंने उसका हाथ अपनी पेंटी पर महसूस किया. एकदम से अलग होकर हाँफने लगी.

वो बोला- क्या हुआ?
“प्लीज़! हम सड़क पर हैं, कोई पकड़ लेगा तो आफत आ जायेगी!”
बोला- इसको तो छोड़ो!

एकदम से मैं चौंक गई, मेरा हाथ उसके लौड़े पर था. मैं शरमा सी गई.
उसने कहा- कोई नहीं आयेगा! इतनी कड़ी गर्मी में कौन आएगा!

फिर भी उसने मुझे घर छोड़ दिया. बाथरूम में जाकर अपनी पेंटी देखी जो गीली हो गई थी. अपने मम्मे पर जब उसके दांत का निशान देखा तो मुझे अजीब सी हलचल हुई. उसके बाद कुछ दिन ऐसे ही कार में मिलते रहे. घूमने के बहाने चूमा-चाटी चलती रही.

एक रोज़ जब मैंने शाम को उसको कॉल किया. उसने कहा- आज ट्यूशन मिस कर दो, एअरपोर्ट रोड की तरफ घूमने जायेंगे. वहाँ सुनसान सी एक सड़क है.
मैंने कहा- ठीक है! मुझे पिक कर लो!

हम निकल पड़े. वहाँ एक रेस्तराँ था, बिल्कुल एअरपोर्ट के कार्नर पर था, वहाँ कई लोग अपनी अपनी कार में ही बैठे थे. आज वो अपनी बड़ी कार लाया था. उसने पार्किंग की बजाये वो साथ वाली खाली सड़क पर कार मोड़ ली और रेस्तराँ के पीछे ले गया. वहीं वेटर आया. उसने अपने लिए चिल्ड बियर ली, मैंने कोल्ड काफी आर्डर की.

hindi saxy story

उसने मुझे बाँहों में लिया. अब तो हम दोनों घुल मिल चुके थे, उसने फोर्ड एंडवर की सीट फ्लैट की. लग्ज़री कार किसी फाइव स्टार होटल से कम नहीं थी. मैंने उसका साथ देते हुए खुद ही उसके होंठ चूसने शुरु किये. वो मेरे मम्मों को बेरहमी से मगर मजा आने वाले अंदाज़ में मसल रहा था. मैं गरम होने लगी और उसने मेरा टॉप उतार दिया.

मैंने अपनी ब्रा की स्ट्रिप खोल दी जिससे मेरे दोनों कबूतर आज़ाद हो गए. उसने उड़ते कबूतर पकड़ने में वक्त न लगाया और टूट पड़ा मुझे पर. मैं भी पूरी गर्म हो चुकी थी, मैं लगातार उसके लौड़े को मसल रही थी. उसने मेरी जींस खोल कर घुटनों तक सरका दी और आज खुल कर मेरी जांघें सहलाने लगा.

उसने स्पोर्ट्स ड्रेस डाली थी, मैंने भी लोअर खींच के नीचे करके उसके लौड़े को हाथ में पकड़ लिया, पहली बार इतना खुलकर पकड़ा था. मेरे हाथ लगते ही फनफ़ना उठा उसका लौड़ा! इतने में वेटर आया. उसने कहा- खुद पी ले और बिल ले जाना! वेटर बोला- जी साहिब!

स्टार्ट कार, ए.सी ओन किया हुआ था, फिल्मिंग वाले शीशे थे, उसने सीट पूरी फ्लैट कर दी, बिस्तर सा बन गया. खींच कर मेरी जींस उतार दी और अपना लौड़ा मेरे होंठों पर रगड़ने लगा. मैंने झट से उसके लौड़े को मुँह में डाल लिया और अच्छी तरह चूसने लगी.

hindi saxy story

मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. उसने थोड़ा चुसवाने के बाद मुझे पीछे लिटाते हुए बीच में बैठ अपना लौड़ा मेरी सील बंद चूत पे रखा. एक बार सोचा कि पता नहीं कैसे यह घुसेगा?

कार के आस पास दूर तक कोई न दिख रहा था. उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया था खुद नीचे घुटनों तक!
मैंने सोचा- चल वैशाली! आज तेरी लाडो रानी का उदघाटन समारोह कैसा रहेगा?!

उसने झटका दिया और लौड़े का सर मेरी चूत में फंस गया. उसको भी तकलीफ हो रही थी. मैंने कस के सीट के कपड़े को पकड़ रखा था. उसने दूसरे झटके में आधा लौड़ा अन्दर डाल दिया.

hindi saxy story

मेरी जान निकल गई- निकाल लो प्लीज़! यहाँ अच्छे से नहीं होगा! जगह कम है, बहुत तकलीफ होगी! दोनों का ही पहली बार है. लेकिन उसने तीसरा ऐसा झटका मारा कि लौड़ा पूरा घुस गया. मेरी चीख निकल गई. खून टपकने लगा! आँखों में आंसू आ गए!

hindi saxy story - story of chudai - first time chudai ki story

उसने मेरे होंठ अपने होंठो में ले रखे थे ताकि चीख न निकले. उसने फिर सारा निकाल के डाला ऐसे तीन चार बार जब किया तो दर्द की जगह मजे ने ले ली. आंखें खुद ब खुद बंद होने लगीं. उसके एक एक झटके का मुझे इतना मजा आया कि सिसकारी ले ले कर मैं चुदवाने लगी- हाय और करो! और करो!

अचानक मुझे अपने अन्दर से कुछ गरम गरम सा पानी महसूस हुआ, मैं झड़ गई और मेरी चूत की गर्मी में तीन चार मिनट बाद ही करण भी झड़ गया. दोनों हाँफने लगे. उसने कार में पड़ा एक कपड़ा मुझे दिया, जिससे मैंने अपनी चूत को साफ़ कर लिया, खून साफ़ किया!

दोनों ने कपड़े पहन लिए और सामान्य होकर एक दूसरे की बाँहों में लिपट गए. उसने मेरे होंठ चूमते हुए कहा- कैसा लगा?
बहुत अच्छा लगा!

सुबह उठने पर चूत पर सूजन सी थी, चलने में थोड़ी सी अजीब लग रही थी. नूरी इन कामों में से कई बार निकली थी, उसने मुझसे सब कुछ बकवा लिया.
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

hindi saxy story

hindi saxy story

Read in English

First time sex chudai story – Seal todi hindi saxy story

ek shaanadaar vebasait lonch karane par masthindistory ke sabhee karta-dharta, samooche staaph va guru jee ko sabase jyaada pyaar aur badhaee!

jabase meree deedee geeta mehara ke zariye mujhe is vebasait ka pata chala, mainne unakee bataee saeet kholee. jab kahaaniyaan padhee to logon kee bistar kee baaten isamen dekh meree to choot geelee ho gaee thee. main bhee apanee jindagee ka pahala seks aapake saamane laakar shuruaat karane ja rahee hoon, ummeed se duniya kaayam hai, mujhe aasha hai ki meree yah chudaee jald hee aap sabake saamane antarvaasana ke zariye aapakee kampyootar skreen par hogee Hindi saxy story.

mera naam vaishaalee, 5 phut 5 inch kad, gundaaz badan, gore-chitte makhamal jaise vaksh! main baarahaveen jamaat kee chhaatra hoon. pahale ham ek sanyukt parivaar mein rahate the, Hindi saxy story. chaachoo-chaachee, buaajee, taaya-taee, ghar itana bada nahin tha, isalie main chudaee ke laiv seen dekh dekh badee huee.

ek din chaachoo-chaachee akele the. main tabeeyat theek na hone kee vajah se pahale ghar aa gaee. chaachoo ke kamare se sisakee kee aavaaz sun main pichhalee khidakee kee or badhee Hindi saxy story. main jab mom-daid ke beech sotee thee to kaee baar daid ko mom par savaar hote dekha tha, lekin achchhee tarah se nahin dekh paee.

aaj mauka tha, andar chaachoo bed ke kinaare baithe the nange, chaachee pharsh par ghutanon ke bal baithee chaachoo ke laude ko maje le le kar choos raheen thee. phir chaachee bistar par aaee. nangee chaachee ko chaachoo ne lita apana lauda chaachee kee choot mein ghusa diya. yah dekh meree pentee bhee geelee ho gaee.

hindi saxy story – story of chudai – first time chudai ki story

phir daid ne shahar mein aakar apana badhiya makaan banaaya aur ham shahar aakar bas gae. gaanv mein panjaabee meediyam se saataveen jamaat tak padhee, vo ek kanya-vidyaalay tha. Hindi saxy story. yahaan aakar mainne ek praivet aur angrejee meediyam ladake-ladakiyon ke skool mein mainne aathaveen mein daakhala liya aur meree saheliyaan bhee ban gaee. hamaara chaar ladakiyon ka grup ban gaya. shveta, mariyam, nooree aur main!

unaka abhee se ladakon mein dhyaan tha, nooree ka to aphear bhee chal nikala tha. hamaare grup kee charcha chaaloo ladakiyon mein hotee thee. ab meree javaanee bhee angadaee lene lagee. sabamen se meree javaanee kee baaten ladakon mein jyaada hone lagee. Hindi saxy story.

sab jab ghar se nikalatee to ladakon kee nigaahen meree chhaatiyon par rahane lagee. dekh dekh mujhe maja aane laga. tabhee mujhe mere hee skool mein padhane vaale amrt naam ke ek ladake ne mujhe parapoz kiya. usako mainne koee javaab nahin diya Hindi saxy story.

jab main skool se ghar jaatee to mere peechhe honda sitee kaar mein ek doosara ladaka aane laga har roz subah aur skool ke baad! bahut haindasam tha, bade ghar ka ladaka tha. usane mujhe ek do baar kaar paas laakar apana mobail nambar diya, Hindi saxy story. mere saath nooree bhee rahatee thee, usane nambar pakad ke rakh liya aur mujhe kahane lagee- pata le meree jaan! aur kya chaahie!

hindi saxy story – story of chudai – first time chudai ki story

mainne kaha- jo amrt ne parapoz kiya usaka kya?
usako skool tak seemit rakh! Hindi saxy story.
mainne nooree se nambar liya, donon paas kee es.tee.dee par gaee aur kol kee. usane apana naam karan bataaya aur mujhe kaha- main aap par fida hoon pleez!
mainne usako haan kar dee Hindi saxy story.
vo bola- main isee maarket mein hee hoon! chalie main aapako ghar chhod deta hoon, pleez mana mat karana! mud kar dekho!

mainne kebin se dekha, usane haath hilaaya. nooree ka ghar paas tha, vo paidal chalee gaee. main usakee kaar mein baith gaee. kuchh der aise hee ghoomate rahe. usane mera haath pakada- aap bahut seksee ho, bahut sundar ho! Hindi saxy story.
usane haath par kis kiya- aaee lav yoo so mach!
mainne kaha- aaee lav yoo too!

usane paas kheenchate hue mere honthon pe kis kar dee, mujhe karant sa laga. usane kaar said par kar mere honth choosane shuru kiye Hindi saxy story.
mainne kaha- pleez chhodo na!
vo bola- kitane din se aapake in honthon ka rasapaan karane ka dil tha! aap kahatee hain chhodo!

mujhe bhee kuchh hone sa laga- main bhee lip-kis mein usaka saath dene lagee. pata hee nahin chala kab usaka haath meree shart mein ghusata hua mere mammon tak pahunch gaya. usane seet peechhe kar dee aur mere oopar baith gaya. ek haath usane meree skart mein daal meree Hindi saxy story jaanghen sahalaane laga. main itanee garam ho gaee ki sab bhool gaee.

bas donon javaanee ke josh mein ek doosare mein khone lage.usane batan khol mera mamma bra se nikaal liya aur usako masalane laga Hindi saxy story. mujhe tab hosh aaya jab mainne usaka haath apanee pentee par mahasoos kiya. ekadam se alag hokar haanphane lagee.

hindi saxy story – story of chudai – first time chudai ki story

vo bola- kya hua?
“pleez! ham sadak par hain, koee pakad lega to aaphat aa jaayegee!”
bola- isako to chhodo!

ekadam se main chaunk gaee, mera haath usake laude par tha. main sharama see gaee.
usane kaha- koee nahin aayega! itanee kadee garmee mein kaun aaega! Hindi saxy story.

phir bhee usane mujhe ghar chhod diya. baatharoom mein jaakar apanee pentee dekhee jo geelee ho gaee thee. apane mamme par jab usake daant ka nishaan dekha to mujhe ajeeb see halachal huee. usake baad kuchh din aise hee kaar mein milate rahe. ghoomane ke bahaane chooma-chaatee chalatee rahee Hindi saxy story.

ek roz jab mainne shaam ko usako kol kiya. usane kaha- aaj tyooshan mis kar do, earaport rod kee taraph ghoomane jaayenge. vahaan sunasaan see ek sadak hai.
mainne kaha- theek hai! mujhe pik kar lo! Hindi saxy story.

ham nikal pade. vahaan ek restaraan tha, bilkul earaport ke kaarnar par tha, vahaan kaee log apanee apanee kaar mein hee baithe the. aaj vo apanee badee kaar laaya tha. usane paarking kee bajaaye vo saath vaalee khaalee sadak par kaar mod lee aur restaraan ke peechhe le gaya. vaheen vetar aaya. usane apane lie child biyar lee, mainne kold kaaphee aardar kee Hindi saxy story.

usane mujhe baanhon mein liya. ab to ham donon ghul mil chuke the, usane phord endavar kee seet phlait kee. lagzaree kaar kisee phaiv staar hotal se kam nahin thee. mainne usaka saath dete hue khud hee usake honth choosane shuru kiye. vo mere mammon ko berahamee se magar maja aane vaale andaaz mein masal raha tha. main garam hone lagee aur usane mera top utaar diya Hindi saxy story.

mainne apanee bra kee strip khol dee jisase mere donon kabootar aazaad ho gae. usane udate kabootar pakadane mein vakt na lagaaya aur toot pada mujhe par. main bhee pooree garm ho chukee thee, main lagaataar usake laude ko masal rahee thee. usane meree jeens khol kar ghutanon tak saraka dee aur aaj khul kar meree jaanghen sahalaane laga Hindi saxy story.

usane sports dres daalee thee, mainne bhee loar kheench ke neeche karake usake laude ko haath mein pakad liya, pahalee baar itana khulakar pakada tha. mere haath lagate hee phanafana utha usaka lauda! itane mein vetar aaya Hindi saxy story. usane kaha- khud pee le aur bil le jaana! vetar bola- jee saahib!

staart kaar, e.see on kiya hua tha, philming vaale sheeshe the, usane seet pooree phlait kar dee, bistar sa ban gaya. kheench kar meree jeens utaar dee aur apana lauda mere honthon par ragadane laga. mainne jhat se usake laude ko munh mein daal liya aur achchhee tarah choosane lagee. mujhe bahut achchha lag raha tha Hindi saxy story. usane thoda chusavaane ke baad mujhe peechhe litaate hue beech mein baith apana lauda meree seel band choot pe rakha. ek baar socha ki pata nahin kaise yah ghusega?

hindi saxy story – story of chudai – first time chudai ki story

kaar ke aas paas door tak koee na dikh raha tha. usane mujhe pooree nangee kar diya tha khud neeche ghutanon tak!
mainne socha- chal vaishaalee! aaj teree laado raanee ka udaghaatan samaaroh kaisa rahega?!

hindi saxy story – story of chudai – first time chudai ki story

usane jhataka diya aur laude ka sar meree choot mein phans gaya. usako bhee takaleeph ho rahee thee. mainne kas ke seet ke kapade ko pakad rakha tha. usane doosare jhatake mein aadha lauda andar daal diya. meree jaan nikal gaee- nikaal lo pleez! yahaan achchhe se nahin hoga! jagah kam hai, bahut takaleeph hogee! donon ka hee pahalee baar hai Hindi saxy story. lekin usane teesara aisa jhataka maara ki lauda poora ghus gaya. meree cheekh nikal gaee. khoon tapakane laga! aankhon mein aansoo aa gae!

usane mere honth apane hontho mein le rakhe the taaki cheekh na nikale. usane phir saara nikaal ke daala aise teen chaar baar jab kiya to dard kee jagah maje ne le lee. aankhen khud ba khud band hone lageen. usake ek ek jhatake ka mujhe itana maja aaya ki sisakaaree le le kar main chudavaane lagee- haay aur karo! aur karo! Hindi saxy story.

achaanak mujhe apane andar se kuchh garam garam sa paanee mahasoos hua, main jhad gaee aur meree choot kee garmee mein teen chaar minat baad hee karan bhee jhad gaya. donon haanphane lage. usane kaar mein pada ek kapada mujhe diya, jisase mainne apanee choot ko saaf kar liya, khoon saaf kiya Hindi saxy story.

donon ne kapade pahan lie aur saamaany hokar ek doosare kee baanhon mein lipat gae. usane mere honth choomate hue kaha- kaisa laga?
bahut achchha laga!

subah uthane par choot par soojan see thee, chalane mein thodee see ajeeb lag rahee thee. nooree in kaamon mein se kaee baar nikalee thee, usane mujhase sab kuchh bakava liya.
[email protected]

Join Telegram Group-

bhabhi Hindi sex story group

Read More Chudai Story-

Mast aunty ki chudai भाभी की मम्मी ने मुझे चोदना सिखाया

hindisexstoris मोसी की मोटी रसीली चूत की चुदाई mausi stories

Mother sex stories मैने मेरी स्टेप माँ की चूत का पानी पिया

1 thought on “Hindi saxy story मेरी चूत का उदघाटन समारोह 1 fresh Sex Story”

Leave a Comment