Follow my blog with BloglovinGroup chudai stories पति के 5 दोस्तों ने की मेरी चुदाई Fun

Group chudai stories पति के 5 दोस्तों ने की मेरी चुदाई Fun

पति के पांच दोस्तों ने की मेरी चुदाई की Group chudai stories

group chudai stories: दोस्तो, मैंने पिछले दिनों MastHindiStory की कहानियाँ पढ़ीं तो मेरा भी मन हुआ कि मैं भी अपने अनुभव आपके साथ बाटूँ। मैं आपको अपने बारे में बताती हूँ.

मेरा नाम फाल्गुनी है. मैं 34 साल की शादीशुदा औरत हूँ. मेरे पति बिज़नस के सिलसिले में अक्सर बाहर रहते हैं.

कुछ दिन पहले की बात है मेरे पति दो दिन के लिए घर से बाहर गए हुए थे और मैं घर में अकेली टीवी पर ब्लू फ़िल्म देख रही थी. ब्लू फ़िल्म देख देख कर मेरी चूत में से पानी आने लगा था. मेरा मन कर रहा था कि कोई मज़ेदार लंड मिल जाए तो जी भर के चुदाई करवाऊं.

वो कहते हैं ना कि सच्चे दिल से मांगो तो सब कुछ मिलता है. घर की बेल बजी तो मुझे लगा कि भगवान् ने मेरी सुन ली. मैंने दरवाजा खोला तो देखा कि मेरे पति के ख़ास दोस्तों वर्मा और गुप्ता बाहर खड़े थे.

अचानक उनको देख कर मैं चौंक गई. मैंने उनसे कहा कि ‘ये’ तो बाहर गए हैं दो दिन बाद आयेंगे. यह बात सुन कर वो दोनों भी उदास हो गए और बाहर से ही वापस जाने लगे.

मैंने सोचा कि अगर इन लोगों को अन्दर नहीं बुलाऊंगी तो ये लोग बुरा मान जायेंगे, मैंने उनसे कहा कि आप लोग अन्दर आ जाईये.

ये सुन कर मेरे पति के खास दोस्त वर्मा ने कहा कि नहीं भाभी हम लोग चलते हैं. हम लोग तो ये सोच कर आए थे कि पाटिल घर में होगा तो बैठ कर दो दो पैग लगायेंगे.

मैं आप लोगों को बता दूँ कि पाटिल मेरे पति का नाम है और ये सारे दोस्त हमारे घर में अक्सर दारू पार्टी करते हैं. क्योंकि इन लोगों के घरों मैं दारू पीना मना है.

मेने एक अच्छे मेजबान का फ़र्ज़ निभाते हुए कहा कि कोई बात नहीं आप लोग अन्दर बैठ कर पैग लगा लीजिये मुझे कोई परेशानी नहीं है. मेरी बात सुन कर दोनों खुश होते हुए बोले ‘क्या सचमुच हम लोग अन्दर बैठ कर पी सकते हैं.’

group chudai stories

मैंने कहा- क्यों नहीं आप का ही घर है आप लोग अन्दर आ जाईए, मैं आप लोगों के लिए पानी और सोडा का इंतजाम कर देती हूँ.
ये सुन कर गुप्ता ने कहा कि एक शर्त है ‘आपको भी हमारा साथ देना होगा !’

मैं पहले भी कई बार अपने पति के सामने इन लोगों के साथ दारू पी चुकी थी इसलिए इन लोगों को पता था कि मैं भी दारू पीती हूँ. मैंने तुंरत हाँ भर दी और वो दोनों अन्दर आ गए.
अन्दर आते ही उनकी निगाह टीवी पर चल रही ब्लू फ़िल्म पर गई जिसे मैं बंद करना भूल गई थी. मैंने जल्दी से शरमा कर टीवी बंद कर दिया. लेकिन वो दोनों ये सब देख कर मुस्करा रहे थे. मैं किचेन मैं पानी और सोडा लेने चली गई.

किचन में जाकर मैंने सोचा कि मैं तो एक लंड के इंतज़ार मैं थी और भगवान् ने मुझे दो दो लंड गिफ्ट में भेज दिए. क्यों ना इस मौके का फायदा उठाया जाए और ये सोच कर मैंने सोडा और पानी की बोतल फ्रीज़ में से निकली और तीन गिलास साथ में ले कर वापस कमरे में आ गई.

वर्मा ने अपनी जेब से व्हिस्की कि बोतल निकाल कर मुझे दी और मैं तीन पैग बनाने लगी. वो लोग साथ मैं खाने के लिए स्नेक्स भी लाये थे. हम लोग बातें करते हुए पैग लगा रहे थे. कुछ ही देर में हम सभी पर थोड़ा थोड़ा सुरूर छाने लगा.

उन दोनों ने आंखों ही आंखों में इशारा किया और फ़िर गुप्ता ने मुझसे पूछा ‘भाभी आप टीवी पर ब्लू फ़िल्म देख रहीं थीं तो फिर आपने टीवी बंद क्यों कर दिया. टीवी चलाओ ना हम लोग भी फ़िल्म देखना चाहते हैं. ‘

xgroup chudai stories

अब तक मुझ पर भी शराब नशा चढ़ने लगा था. मैंने सोचा कि यही मौका है चुदाई का माहौल बनाने का. ये सोच कर मैं उठी और टीवी चालू करने लगी.
टीवी चालू करते हुए मेरी साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया जिसे मैंने जानबूझ कर ठीक नहीं किया. मेरे कसे हुए ब्लाउज में से बड़े बड़े बूब्स आधे बाहर निकल आए थे.
मैंने तिरछी नज़र से देखा कि वो दोनों मेरे बूब्स पर निगाह गड़ाये हुए मुस्करा रहे हैं.

मैंने टीवी पर ब्लू फ़िल्म चालू कर दी और उसी सोफे पर जा कर बैठ गई जिस पर वो दोनों बैठे हुए थे. अब मैं उन दोनों के बीच में बैठी थी. टीवी पर चल रही फ़िल्म मैं भी एक औरत को दो आदमी चोद रहे थे.

ये सीन देख कर हम तीनो ही गर्म हो गए. मैंने जान बूझ कर अपना पल्लू नीचे सरका दिया और सोफे पर आधी लेट गई. मेरे बगल में बैठे वर्मा ने पहल की और धीरे से मेरे बूब्स के ऊपर हाथ फिराने लगा.

मैंने कोई विरोध नहीं किया और आँखे बंद कर लीं. थोडी ही देर में उन दोनों ने मिल कर मेरे ब्लाउज के हुक खोल दिए और मेरे बड़े बड़े फलों का रस चूसने लगे.
अब हम लोग खुल चुके थे इसलिए मैंने भी हाथ बढ़ा कर पैंट के ऊपर से ही उनके लंड को टटोलना शुरू कर दिया था. वर्मा मेरे होटों को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा और गुप्ता मेरी एक चूची को मुंह में भर कर पीने लगा.

अभी हमारा खेल चालू हुआ ही था कि अचानक घर कि कॉल बेल फ़िर से बज गई. हम तीनो चौंक गए. मैंने कहा कि अब कौन हो सकता है.

तभी गुप्ता ने कहा- अरे यार में समझ गया, शर्मा और ठाकर होंगे हमने उन लोगों को भी बुलाया था.

group chudai stories

मैंने जल्दी से टीवी बंद कर दिया और अपने कपडे ठीक करने लगी तो वर्मा ने मेरे हाथ पकड़ कर मुझे रोक लिया और कहा- रहने दो भाभी ये लोग भी अपने ही दोस्त हैं इनसे क्या शरमाना?

जब तक मैं कुछ कहती तब तक गुप्ता ने दरवाजा खोल दिया था और मेरे सामने तीन नए लोग खड़े थे. जिनका नाम शर्मा, ठाकर और नारंग था.

अब घर में पॉँच मर्द थे और मैं अकेली औरत. शराब का दौर चल रहा था सब लोग नशे में थे. मेरे मन में लड्डू फूट रहे थे. मेरी बरसों की इच्छा आज पूरी होने जा रही थी. मेरी इच्छा थी की मैं एक साथ पॉँच मर्दों के साथ चुदाई का खेल खेलूं और आज ये सपना सच होने वाला था.

किसी ने मेरे बदन से ब्लाऊज़ उतार दिया था.
वर्मा और गुप्ता मेरी एक एक चूची को मुंह में लेकर चूस रहे थे.

ठाकर जो बाद में आया था उसने अपना लंड निकाल कर मेरे मुंह में डाल दिया और नारंग और शर्मा मेरे नीचे के कपडे हटाने की कोशिश कर रहे थे.

मैंने उन सब को रोक कर कहा कि चलो अन्दर बेड रूम मैं चलते हैं. ये सुन कर उन पांचों ने मुझे गोदी में उठा लिया और ले जा कर बेड पर डाल दिया. अब मेरे बदन पर कोई कपडा नहीं था.

ठाकर जिसका लंड काला और ज्यादा ही लंबा था उसने मेरे मुंह में अपना पूरा लंड डाल दिया. मैं उसके लंड को लेमनचूस की तरह चूसने लगी.

नारंग और वर्मा ने मेरे बोबे मसलने और चूसने चालू कर दिए.

group chudai stories

वर्मा ने मेरी दायीं तरफ़ आ कर मेरे हाथ में अपना मोटा लंड पकड़ा दिया. जिसे मैंने आगे पीछे करना चालू कर दिया.

गुप्ता पलंग के नीचे बैठ कर मेरी चूत को चाटने लगा. मुझे जन्नत का मज़ा मिल रहा था.

मेरे चारों तरफ़ अलग अलग तरह के लंड थे. मैं किसी भी लंड को हाथ में लेकर खेलने लगती. मेरे मुंह में भी अलग अलग साइज़ के लंड डाले जा रहे थे और मैं सभी लंड बड़े प्यार से चाट और चूस रही थी. तभी उनमे में से किसी ने मेरी चूत में अपनी जीभ डाल दी. खुशी के मारे मेरे मुंह से चीख निकल गई.

मैं जोर से चिल्लाई ‘वैरी गुड… ऐसे ही चूसो मादरचोदों चाटो मेरी चूत को…’. मैं पूरे नशे में थी और उछाल उछाल कर चूत चुसवा रही थी.

ठाकर ने मेरे मुंह में लंड डालकर मुंह की ही चुदाई शुरू कर दी. दो लोग मेरे हाथ में लंड पकड़ा कर मुठ मरवा रहे थे. एक जन अभी खाली था इसलिए मैंने कहा- मेरे यारो… अभी तो एक छेद बाकी है उसमे भी तो कुछ डालो!

मेरी बात सुनते ही वर्मा ने सब को रोक कर कहा कि रुको पहले आसन लगा लेते हैं. सब ने अपनी अपनी पोसिशन ले ली.

नीचे वर्मा सीधा लेट गया और मुझसे कहा- आओ भाभीजान मेरे ऊपर आओ मैं तुम्हारी गांड में अपना लंड डाल कर मज़ा देता हूँ.

मैं तुंरत अपनी गांड चौड़ी करके उसके लंड पर बैठ गई. वर्मा का लंड मेरे पति के लंड से ज्यादा मोटा नहीं था इसलिए आराम से मेरी गांड में चला गया.

group chudai stories

दोस्तों मैं आपको बता दूँ कि मेरे पति भी काफी माहिर चुद्दकड़ हैं और मुझे बहुत मज़ेदार ढंग से चोदते हैं लेकिन मेरी प्यास उतनी ही बढ़ जाती है जितना मैं चुदवाती हूँ. यही कारण है कि आज मैं अपने पति के पाँच दोस्तों से एक साथ चुदवाने को तैयार हूँ.

हाँ तो दोस्तों वर्मा का लंड मैंने अपनी गांड में डाल लिया और सीधी होकर अपनी चूत ऊपर की तरफ करते हुए बोली ‘ चलो कौन मेरी चूत का बाजा बजाना चाहता है वो आगे आ जाए.’

नारंग जिसका लंड थोडी देर मैंने मुंह में डाल कर चूसा था वो मेरे ऊपर आ गया और निशाना लगाते हुए बोला ‘मेरी जान सबसे पहले मेरा स्वाद चखो.’

गुप्ता भी मेरे सर कि तरफ़ आते हुए बोला ‘मेरी प्यारी भाभी मुझे अपने मुंह में डालने दो प्लीज़.’

अब शर्मा और ठाकर बच गए थे, मैंने उनसे कहा कि आओ मेरे यारो, अभी तो मेरे दोनों हाथ खाली हैं.

इस तरह पोसिशन लेने के बाद घमासान चुदाई चालू हो गई. मेरी गांड और चूत में एक साथ लंड अन्दर बाहर हो रहे थे. मुझे जम कर मज़ा आ रहा था.
मैं बीच बीच में अपने मुंह से लंड निकाल कर सिस्कारियाँ लेने लगी ‘आआ… और जोर से… चोद… ओऊऊ… फाड़ डालोऊऊओ… मेरी चूत… बहनचोदों एक भी छेद मत छोड़ना… सब जगह डाल दोऊऊओ… फाड़ डाल मेरी गांड… वर्मा…के बच्चे… और जोर से नारंग… अन्दर तक डाल अपना हथियार…यार… आर आर अअअ आ आ आ…मज़ा आ गया.’

xxxhindistory - group chudai stories - desi xxx kahani

काफी देर तक पोसिशन बदल बदल कर ये चुदाई का कार्यक्रम चलता रहा. कभी किसी ने मेरे मुंह में लंड डाला कभी किसी ने. अलग अलग लंडों का स्वाद मेरे मुंह में आता रहा. करीब एक घंटे तक चले इस खेल में मैं पॉँच बार झड़ चुकी थी. अब मेरी चुदाई की आग शांत होने लगी थी.

group chudai stories

मैंने उन सबसे कहा- मेरे यारों… एक बात ध्यान रखना कोई भी अपना पानी इधर उधर नहीं डालेगा…सबको मेरे मुंह में ही अपना पानी डालना है… मैं बहुत प्यासी हूँ…मेरी प्यास तुम्हारे पानी से ही बुझेगी. कम से कम पचास ग्राम पानी पिलाना मुझे.’

वो सब लोग भी अब अपनी मंजिल पर पहुँच चुके थे.

गुप्ता ने कहा- चल भोसड़ी की अब नीचे लेट जा और पानी पी… आज नहला देंगे तुझे मेरी जान.

मैं पलंग पर सीधी लेट गई और उन पांचों ने मेरे मुंह के चारों तरफ़ घेरा डाल लिया. मैंने एक एक करके सबके लंड को मुंह में ले कर पानी निगलना चालू कर दिया.

xxxhindistory - group chudai stories - desi xxx kahani

मेरा पूरा मुंह और गला लिसलिसे वीर्य से भर गया. सबका मिलाजुला स्वाद मुझे कॉकटेल का मज़ा दे रहा था और मैं स्वाद ले ले कर उन सबका पानी पीती चली गई और सबके लंडों को चाट चाट कर साफ़ कर दिया.
मेरी बरसों की तम्न्ना आज पूरी हो गई थी.

दोस्तों मेरी चुदाई के और भी मज़ेदार किस्से मैं आप को बताऊंगी पहले आप मुझे जरूर बताएं कि ये किस्सा आप को कैसा लगा.
[email protected]

Story Read in English

group chudai stories

dosto, mainne pichhale dinon masthindistory kee kahaaniyaan padheen to mera bhee man hua ki main bhee apane anubhav aapake saath baatoon. main aapako apane baare mein bataatee hoon.

mera naam phaalgunee hai. main 34 saal kee shaadeeshuda aurat hoon. mere pati bizanas ke silasile mein aksar baahar rahate hain group chudai stories.

kuchh din pahale kee baat hai mere pati do din ke lie ghar se baahar gae hue the aur main ghar mein akelee teevee par bloo film dekh rahee thee. bloo film dekh dekh kar meree choot mein se paanee aane laga tha. mera man kar raha tha ki koee mazedaar land mil jae to jee bhar ke chudaee karavaoon group chudai stories.

vo kahate hain na ki sachche dil se maango to sab kuchh milata hai. ghar kee bel bajee to mujhe laga ki bhagavaan ne meree sun lee group chudai stories. mainne daravaaja khola to dekha ki mere pati ke khaas doston varma aur gupta baahar khade the.

achaanak unako dekh kar main chaunk gaee. mainne unase kaha ki ‘ye’ to baahar gae hain do din baad aayenge group chudai stories. yah baat sun kar vo donon bhee udaas ho gae aur baahar se hee vaapas jaane lage.

mainne socha ki agar in logon ko andar nahin bulaoongee to ye log bura maan jaayenge, mainne unase kaha ki aap log andar aa jaeeye group chudai stories.

ye sun kar mere pati ke khaas dost varma ne kaha ki nahin bhaabhee ham log chalate hain. ham log to ye soch kar aae the ki paatil ghar mein hoga to baith kar do do paig lagaayenge group chudai stories.

group chudai stories

main aap logon ko bata doon ki paatil mere pati ka naam hai aur ye saare dost hamaare ghar mein aksar daaroo paartee karate hain. kyonki in logon ke gharon main daaroo peena mana hai group chudai stories.

mene ek achchhe mejabaan ka farz nibhaate hue kaha ki koee baat nahin aap log andar baith kar paig laga leejiye mujhe koee pareshaanee nahin hai group chudai stories. meree baat sun kar donon khush hote hue bole ‘kya sachamuch ham log andar baith kar pee sakate hain.

mainne kaha- kyon nahin aap ka hee ghar hai aap log andar aa jaeee, main aap logon ke lie paanee aur soda ka intajaam kar detee hoon group chudai stories.
ye sun kar gupta ne kaha ki ek shart hai ‘aapako bhee hamaara saath dena hoga !’

main pahale bhee kaee baar apane pati ke saamane in logon ke saath daaroo pee chukee thee isalie in logon ko pata tha ki main bhee daaroo peetee hoon. mainne tunrat haan bhar dee aur vo donon andar aa gae group chudai stories.
andar aate hee unakee nigaah teevee par chal rahee bloo film par gaee jise main band karana bhool gaee thee. mainne jaldee se sharama kar teevee band kar diya. lekin vo donon ye sab dekh kar muskara rahe the. main kichen main paanee aur soda lene chalee gaee.

kichan mein jaakar mainne socha ki main to ek land ke intazaar main thee aur bhagavaan ne mujhe do do land gipht mein bhej die. kyon na is mauke ka phaayada uthaaya jae aur ye soch kar mainne soda aur paanee kee botal phreez mein se nikalee aur teen gilaas saath mein le kar vaapas kamare mein aa gaee group chudai stories.

varma ne apanee jeb se vhiskee ki botal nikaal kar mujhe dee aur main teen paig banaane lagee. vo log saath main khaane ke lie sneks bhee laaye the. ham log baaten karate hue paig laga rahe the. kuchh hee der mein ham sabhee par thoda thoda suroor chhaane laga.

group chudai stories

un donon ne aankhon hee aankhon mein ishaara kiya aur fir gupta ne mujhase poochha ‘bhaabhee aap teevee par bloo film dekh raheen theen to phir aapane teevee band kyon kar diya. teevee chalao na ham log bhee film dekhana chaahate hain. ‘

ab tak mujh par bhee sharaab nasha chadhane laga tha. mainne socha ki yahee mauka hai chudaee ka maahaul banaane ka. ye soch kar main uthee aur teevee chaaloo karane lagee group chudai stories.
teevee chaaloo karate hue meree sari ka palloo neeche gir gaya jise mainne jaanaboojh kar theek nahin kiya. mere kase hue blauj mein se bade bade boobs aadhe baahar nikal aae the.
mainne tirachhee nazar se dekha ki vo donon mere boobs par nigaah gadaaye hue muskara rahe hain.

mainne teevee par bloo film chaaloo kar dee aur usee sophe par ja kar baith gaee jis par vo donon baithe hue the. ab main un donon ke beech mein baithee thee. teevee par chal rahee film main bhee ek aurat ko do aadamee chod rahe the group chudai stories.

ye seen dekh kar ham teeno hee garm ho gae. mainne jaan boojh kar apana palloo neeche saraka diya aur sophe par aadhee let gaee group chudai stories. mere bagal mein baithe varma ne pahal kee aur dheere se mere boobs ke oopar haath phiraane laga.

mainne koee virodh nahin kiya aur aankhe band kar leen. thodee hee der mein un donon ne mil kar mere blauj ke huk khol die aur mere bade bade phalon ka ras choosane lage group chudai stories.
ab ham log khul chuke the isalie mainne bhee haath badha kar paint ke oopar se hee unake land ko tatolana shuroo kar diya tha. varma mere hoton ko apane munh mein lekar choosane laga aur gupta meree ek choochee ko munh mein bhar kar peene laga.

group chudai stories

abhee hamaara khel chaaloo hua hee tha ki achaanak ghar ki kol bel fir se baj gaee. ham teeno chaunk gae. mainne kaha ki ab kaun ho sakata hai group chudai stories.

tabhee gupta ne kaha- are yaar mein samajh gaya, sharma aur thaakar honge hamane un logon ko bhee bulaaya tha.

mainne jaldee se teevee band kar diya aur apane kapade theek karane lagee to varma ne mere haath pakad kar mujhe rok liya aur kaha- rahane do bhaabhee ye log bhee apane hee dost hain inase kya sharamaana?

jab tak main kuchh kahatee tab tak gupta ne daravaaja khol diya tha aur mere saamane teen nae log khade the. jinaka naam sharma, thaakar aur naarang tha group chudai stories.

ab ghar mein ponch mard the aur main akelee aurat. sharaab ka daur chal raha tha sab log nashe mein the. mere man mein laddoo phoot rahe the. meree barason kee ichchha aaj pooree hone ja rahee thee. meree ichchha thee kee main ek saath ponch mardon ke saath chudaee ka khel kheloon aur aaj ye sapana sach hone vaala tha group chudai stories.

kisee ne mere badan se blaooz utaar diya tha.
varma aur gupta meree ek ek choochee ko munh mein lekar choos rahe the group chudai stories.

thaakar jo baad mein aaya tha usane apana land nikaal kar mere munh mein daal diya aur naarang aur sharma mere neeche ke kapade hataane kee koshish kar rahe the.

group chudai stories

mainne un sab ko rok kar kaha ki chalo andar bed room main chalate hain. ye sun kar un paanchon ne mujhe godee mein utha liya aur le ja kar bed par daal diya. ab mere badan par koee kapada nahin tha group chudai stories.

thaakar jisaka land kaala aur jyaada hee lamba tha usane mere munh mein apana poora land daal diya. main usake land ko lemanachoos kee tarah choosane lagee.

naarang aur varma ne mere bobe masalane aur choosane chaaloo kar die group chudai stories.

varma ne meree daayeen taraf aa kar mere haath mein apana mota land pakada diya. jise mainne aage peechhe karana chaaloo kar diya.

gupta palang ke neeche baith kar meree choot ko chaatane laga. mujhe jannat ka maza mil raha tha.

mere chaaron taraf alag alag tarah ke land the. main kisee bhee land ko haath mein lekar khelane lagatee. mere munh mein bhee alag alag saiz ke land daale ja rahe the aur main sabhee land bade pyaar se chaat aur choos rahee thee. tabhee uname mein se kisee ne meree choot mein apanee jeebh daal dee. khushee ke maare mere munh se cheekh nikal gaee group chudai stories.

main jor se chillaee ‘vairee gud… aise hee chooso maadarachodon chaato meree choot ko…’. main poore nashe mein thee aur uchhaal uchhaal kar choot chusava rahee thee.

group chudai stories

thaakar ne mere munh mein land daalakar munh kee hee chudaee shuroo kar dee. do log mere haath mein land pakada kar muth marava rahe the. ek jan abhee khaalee tha isalie mainne kaha- mere yaaro… abhee to ek chhed baakee hai usame bhee to kuchh daalo!

meree baat sunate hee varma ne sab ko rok kar kaha ki ruko pahale aasan laga lete hain. sab ne apanee apanee posishan le lee group chudai stories.

neeche varma seedha let gaya aur mujhase kaha- aao bhaabheejaan mere oopar aao main tumhaaree gaand mein apana land daal kar maza deta hoon.

main tunrat apanee gaand chaudee karake usake land par baith gaee. varma ka land mere pati ke land se jyaada mota nahin tha isalie aaraam se meree gaand mein chala gaya.

doston main aapako bata doon ki mere pati bhee kaaphee maahir chuddakad hain aur mujhe bahut mazedaar dhang se chodate hain lekin meree pyaas utanee hee badh jaatee hai jitana main chudavaatee hoon. yahee kaaran hai ki aaj main apane pati ke paanch doston se ek saath chudavaane ko taiyaar hoon group chudai stories.

haan to doston varma ka land mainne apanee gaand mein daal liya aur seedhee hokar apanee choot oopar kee taraph karate hue bolee ‘ chalo kaun meree choot ka baaja bajaana chaahata hai vo aage aa jae.’

naarang jisaka land thodee der mainne munh mein daal kar choosa tha vo mere oopar aa gaya aur nishaana lagaate hue bola ‘meree jaan sabase pahale mera svaad chakho.’

group chudai stories

gupta bhee mere sar ki taraf aate hue bola ‘meree pyaaree bhaabhee mujhe apane munh mein daalane do pleez.’

ab sharma aur thaakar bach gae the, mainne unase kaha ki aao mere yaaro, abhee to mere donon haath khaalee hain.

is tarah posishan lene ke baad ghamaasaan chudaee chaaloo ho gaee. meree gaand aur choot mein ek saath land andar baahar ho rahe the. mujhe jam kar maza aa raha tha.
main beech beech mein apane munh se land nikaal kar siskaariyaan lene lagee ‘aaa… aur jor se… chod… ooooo… phaad daaloooooo… meree choot… bahanachodon ek bhee chhed mat chhodana… sab jagah daal doooooo… phaad daal meree gaand… varma…ke bachche… aur jor se naarang… andar tak daal apana hathiyaar…yaar… aar aar aa aa aa aa…maza aa gaya.’ xxxhindistory

kaaphee der tak posishan badal badal kar ye chudaee ka kaaryakram chalata raha. kabhee kisee ne mere munh mein land daala kabhee kisee ne. alag alag landon ka svaad mere munh mein aata raha. kareeb ek ghante tak chale is khel mein main ponch baar jhad chukee thee. ab meree chudaee kee aag shaant hone lagee thee.

mainne un sabase kaha- mere yaaron… ek baat dhyaan rakhana koee bhee apana paanee idhar udhar nahin daalega…sabako mere munh mein hee apana paanee daalana hai… main bahut pyaasee hoon…meree pyaas tumhaare paanee se hee bujhegee. kam se kam pachaas graam paanee pilaana mujhe.’

xgroup chudai stories

vo sab log bhee ab apanee manjil par pahunch chuke the.

gupta ne kaha- chal bhosadee kee ab neeche let ja aur paanee pee… aaj nahala denge tujhe meree jaan.

main palang par seedhee let gaee aur un paanchon ne mere munh ke chaaron taraf ghera daal liya. mainne ek ek karake sabake land ko munh mein le kar paanee nigalana chaaloo kar diya.
mera poora munh aur gala lisalise veery se bhar gaya. sabaka milaajula svaad mujhe kokatel ka maza de raha tha aur main svaad le le kar un sabaka paanee peetee chalee gaee aur sabake landon ko chaat chaat kar saaf kar diya.
meree barason kee tamnna aaj pooree ho gaee thee.

doston meree chudaee ke aur bhee mazedaar kisse main aap ko bataoongee pahale aap mujhe jaroor bataen ki ye kissa aap ko kaisa laga.
[email protected]
0459

Join Telegram Group-

group chudai stories

Read More Sex Story-

family ki chudai मुझे और मेरी मम्मी को अंकल ने चोदा hindi saxy story

group chudai stories भाभी की गांड मराई तीन लौड़ों से bhabhi xxx story

family ki chudai मुझे और मेरी मम्मी को अंकल ने चोदा hindi saxy story

Leave a Comment