Mast aunty ki chudai भाभी की मम्मी ने मुझे चोदना सिखाया1 fun

भाभी की मम्मी ने मुझे चोदना सिखाया Mast aunty ki chudai

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani: भाभी की प्रसव देखभाल के लिये उनकी मम्मी हमारे घर आयी. आंटी की मोटी गांड और चूचियां देख मेरा लंड खड़ा हो जाता था. मुझे औरत की चूत चुदाई नहीं आती थी तो आंटी ने मुझे चुदाई की ट्रेनिंग कैसे दी?

दोस्तो, मेरा नाम विजय कपूर है और मैं कानपुर के एक छोटे से गांव का रहने वाला हूं. बात आज से काफी पुरानी है. उन दिनों मैंने अपनी बाहरवीं की पढ़ाई पूरी की थी.

घर में मेरा एक बड़ा भाई भी है जिसका नाम रमेश है. उन दिनों में रमेश भैया की शादी की बात चल रही थी. मेरे भैया लखनऊ में एक सरकारी महकमे में अफसर हैं. जब उनकी जॉब लगी थी तो उन दिनों में ही उनके ऑफिस में काम करने वाली एक लड़की के साथ उनका टांका फिट हो गया था.

उस लड़की का नाम रेखा था. मेरे भैया उसी से शादी करना चाह रहे थे और मेरे घर वालों को भी इस बात से कोई आपत्ति नहीं थी. कुछ ही दिनों के बाद उन दोनों का रिश्ता पक्का हो गया और वो दोनों प्रेम विवाह के बंधन में बंध गये. शादी होने के बाद वो लोग लखनऊ में ही रहने लगे.

आगे की पढ़ाई करने के लिये मुझे भी मेरे घरवालों ने लखनऊ जाने के लिये कहा. उनके कहने पर मैं भी तैयार हो गया था क्योंकि भैया और भाभी पहले से ही वहां पर रह रहे थे.

लखनऊ में भैया-भाभी के साथ रहकर मैं पढ़ने लगा. मैंने बीएससी में दाखिला करा लिया. इसी समय रेखा भाभी के पहले प्रसव का समय नजदीक आ गया तो मदद के लिए भाभी की मम्मी को बुला लिया गया.

उनका नाम निशा था और वो लखनऊ में अकेली ही रहती थीं क्योंकि उनके पति यानि कि मेरे भैया के ससुर का देहान्त हो चुका था और उनका बेटा यानि कि भैया का साला बंगलौर में पढ़ रहा था. आंटी घर पर अकेली ही थीं और इस वजह से उन्हें भाभी की देखभाल करने में कोई दिक्कत नहीं थी.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

निशा आंटी की उम्र करीब 45 साल थी, कद पांच फीट चार इंच, रंग गोरा, छाती 42 इंच, कमर 36 इंच व चूतड़ 44 इंच के थे. जब चलती थी तो ऐसा लगता जैसे कोई हथिनी अपनी मस्ती में जा रही हो. कहीं जाना होता था तो आंटी साड़ी पहनती थीं वरना घर में पेटीकोट-ब्लाउज या गाउन में रहती थीं.

उनके पहनावे के कारण मैं यह जान गया था कि आंटी नीचे से पैन्टी नहीं पहनती हैं. कई बार मैंने इस बात को नोटिस किया था कि उनकी पैंटी का इम्प्रेशन मेरी नजर में नहीं आया था. आप तो जानते ही हो कि जवानी में लड़कों की नजर औरतों की ब्रा और पैंटी पर ही टिकी रहती है. इसलिए मैं भी आंटी की मोटी सी गांड को ताड़ता रहता था.

भैया भाभी कहीं जाते तो मैं व आंटी ही घर पर होते थे जिस कारण हम लोग आपस में काफी खुल गये थे. मैं धीरे धीरे आंटी की तरफ आकर्षित होने लगा था और उनके ख्यालों में खोकर मुठ मार लेता था. अब धीरे धीरे मेरा मन आंटी की चुदाई करने के लिए करने लगा था.

कई बार आंटी को चोदने की इच्छा हुई. मगर मुझे समझ नहीं आ रहा था कि आंटी को उकसाऊं कैसे. इसके लिए मैंने आंटी को चेक करने के लिए आंटी को अपना लण्ड खड़ा करके दिखा कर गर्म करने का प्लान बनाया.

एक दिन घर पर कोई नहीं था. उस दिन मैंने गर्मी का बहाना बनाने की सोची. मैंने अपनी टी शर्ट उतारते हुए आंटी से कहा- आंटी, आज मौसम कुछ ज्यादा ही गर्म है.
आंटी ने मेरी तरफ देखा तो बॉक्सर के अन्दर से मेरे तने हुए लण्ड पर उनकी नजर पड़ गई.

मेरा लंड तो पहले से ही तना हुआ था, उसके ऊपर से मैंने लंड में एक झटका भी दे दिया. इससे आंटी को यकीन हो गया कि मेरी जवानी का जोश जोरों पर है. आंटी मेरे लंड को चोर नजर से ताड़ रही थी. मैं अपने मकसद में कामयाब हो गया था.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

अब मैं अक्सर ऐसा करने लगा और बहाने बना बनाकर आंटी का ध्यान अपने लण्ड की तरफ खींच लेता. आंटी के हाव-भाव से कभी कभी मुझे ऐसा लगता कि शायद आंटी मेरी मंशा को समझ गई हैं और उनके अंदर भी सेक्स की आग जल उठी है.

हमारे घर के मेन डोर की दो चाबियां थीं जिनमें से एक मेरे पास रहती थी और दूसरी भैया के पास. जो भी घर आता था मेन डोर को खोल लेता था. इसका एक लाभ यह होता था कि भाभी को भी बार बार दरवाजा खोलने के लिए नहीं आना पड़ता था. भाभी पेट से थीं इसलिए उनकी सुविधा का पूरा ख्याल रखा जा रहा था.

एक दिन भैया मेरी भाभी को चेक-अप के लिए अस्पताल लेकर जाने वाले थे. मुझे कॉलेज जाना था. भैया भाभी के निकलने के कुछ देर बाद मैं कॉलेज के लिए निकला और करीब दो घंटे बाद वापस लौट आया व चाबी से मेन डोर खोलकर अन्दर आ गया.

आंटी बेडरूम में आराम कर रही थीं. बाईं करवट लेटी हुई आंटी ने पेटीकोट व ब्लाउज पहना हुआ था. आंटी का पेटीकोट घुटनों तक उठा हुआ था. मैंने थोड़ा सा झुककर देखा तो आंटी की गोरी गोरी जांघें दिखने लगीं.

उनको इस हालत में देख कर मुझसे कंट्रोल करना मुश्किल हो रहा था और आज कुछ कर गुजरने की ठान कर मैंने अपने सारे कपड़े उतारे और बॉक्सर पहनकर आंटी के साथ ही बेड पर चढ़ गया. आंटी आंखें बंद करके लेटी हुई थीं.

मैंने आंटी का पेटीकोट धीरे धीरे ऊपर खिसका कर कमर तक कर दिया तो आंटी की गांड का छेद और चूत दिखने लगी. आंटी की नंगी गांड और नंगी चूत देख कर मेरा लण्ड बेकाबू हो रहा था. मैंने बॉक्सर से बाहर निकाल कर अपने लण्ड का सुपारा आंटी की चूत पर रख दिया और हल्के हल्के से रगड़ने लगा.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

तभी अचानक आंटी ने करवट ली और सीधी हो गई. मैं डर गया और चुपचाप लेट गया. मगर अब तो लौड़ा तन चुका था. मैं कब तक बर्दाश्त करता. कुछ देर चुपचाप रहने के बाद मुझसे रहा न गया और मैं उठ गया.

मैं उठा और आंटी की टांगों के बीच आ गया. मैंने आंटी की टांगें फैलाकर चौड़ी कीं तो उनकी चूत का रास्ता खुल गया और चूत के अन्दर का गुलाबीपन चमकने लगा. अपने लण्ड पर थूक लगाकर मैंने अपना लण्ड आंटी की चूत पर रखा और अन्दर पेल दिया.

जैसे ही मेरा लण्ड आंटी की चूत के अन्दर गया तो पता नहीं एकदम से क्या हुआ कि उत्तेजना में मेरे लंड से वीर्य का फव्वारा सा फूट पड़ा और पचर-पचर करके मैंने आंटी की चूत में वीर्य भर दिया.

Mast aunty ki chudai - kamvasna hindi story - desi xxx kahani

जब आंटी को इस बात का अहसास हुआ कि मेरी तोप गोला दागने से पहले ही फुस्स हो गयी है तो वो उठ कर बैठ गयीं.
आंटी ने मेरी ओर देखा और बोलीं- पहली बार कर रहे हो क्या?
मैंने डरते डरते कहा- हाँ आंटी.

वो बोली- कोई बात नहीं, अभी तुम नये-नये जवान हुए हो. जवानी के जोश में अक्सर ऐसा हो जाता है. दूसरी बार करोगे तो सही से सीख जाओगे.
आंटी की बात सुन कर मुझे थोड़ी राहत मिली वरना मेरा तो दिमाग ही खराब हो गया था.

फिर आंटी बोली- चलो, पहले खाना खा लेते हैं.

हमने खाना खाया ही था कि भैया मेरी भाभी को लेकर वापस आ गये. उस दिन हमें कुछ और करने का मौका नहीं मिला. भाभी के रहते हुए कुछ कर पाना बहुत मुश्किल हो गया था क्योंकि आंटी भी भाभी की देखभाल में ही लगी रहती थीं.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

चार दिन ऐसे ही निकल गये. चौथे दिन फिर से हमें एक बार दूसरा मौका मिला. उस दिन आंटी खुद मुझे लेकर बेडरूम में आ गईं और अपने हाथों से मेरे बदन को सहलाने लगीं. क्या बताऊं दोस्तो, कितना मजा आ रहा था.

फिर आंटी ने मेरे कपड़े उतारे और फिर खुद नंगी हो गईं. आंटी ने मेरा लण्ड मुंह में ले लिया और मेरे लंड को मुंह में लेकर लॉलीपोप के जैसे चूसने लगी. मैं तो हवा में उड़ने लगा. मैंने आंटी को रोक दिया क्योंकि मेरा स्खलन करीब आ गया था. आंटी उठी और फिर उन्होंने मेरे हाथ अपनी चूचियों पर रख दिये. थोड़़ी देर में आंटी गर्म हो गईं.

गर्म होने के बाद वो बेड पर लेट गईं और अपने चूतड़ उचका कर गांड के नीचे एक तकिया रख लिया. आंटी ने अपनी टांगें फैला लीं और मुझसे कहा- अब मेरी गर्म भट्टी में अपना लंड डालो.

मैंने आंटी की चूत पर लंड को सेट किया और उनकी चूत में लण्ड डाला तो आंटी अपने चूतड़ चलाने लगी और मुझसे कहा- अब अपने लण्ड को अन्दर बाहर करो.

मुझे भी मजा आने लगा. मैं धीरे धीरे आंटी की चूत में लंड को अंदर बाहर करने लगा. पहली बार चुदाई का मजा मिल रहा था. उस अनुभव को मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता हूं.

एक दो मिनट तक मैंने आंटी की चूत में लंड को अंदर बाहर किया और आंटी ने मेरा साथ दिया. वो जानती थी कि कहां पर मुझे रोकना है. जब उनको लगा कि मैं इससे ज्यादा बर्दाश्त नहीं कर पाऊंगा तो आंटी ने मुझे कुछ पल रुकने के लिए कहा. मैंने वैसा ही किया.

कुछ देर तक मैं रुका रहा और आंटी की चूचियों के साथ खेलता रहा. आंटी ने मुझे चूत में उंगली करने के लिए कहा. मैंने आंटी की चूत में उंगली डाल दी. आंटी की चूत अंदर से गीली हो गयी थी.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

मैं आंटी की चूत में उंगली चलाने लगा. आंटी की चूत से पच-पच की आवाज आने लगी. एकदम से मैंने उंगली बाहर निकाली और आंटी की चूत में मुंह लगा दिया. मैं आंटी की चूत को चाटने लगा.

Mast aunty ki chudai - kamvasna hindi story - desi xxx kahani

आंटी जोर जोर से सिसकारने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और तेज … आह्ह मजा आ रहा है… तुम तो बहुत जल्दी सीख रहे हो औरत को खुश करना. आह्ह जोर से… अंदर तक जीभ डालो बेटा.

मैं जोर जोर से आंटी की चूत में जीभ को चला रहा था. मुझे पहली बार चूत के रस का स्वाद मिल रहा था. स्वाद थोड़ा अटपटा था लेकिन फिर भी मजा आ रहा था. मैं चूत को तेजी के साथ चाटता रहा.

जब आंटी से रुका नहीं गया तो इसके बाद आंटी ने मुझे रोका और पलट कर घोड़ी बनते हुए बोलीं- अब पीछे से आकर मेरी चूत में लंड को डालो और पूरा घुसेड़ दो.

मैंने आंटी की चूत पर लंड का सुपारा लगा दिया. आंटी की चूत काफी गीली हो गयी थी. मेरा थूक भी उस पर लगा हुआ था. जैसे ही मैंने दबाव बनाते हुए चूत में लंड घुसाने की कोशिश की तो लंड ऊपर की ओर फिसल कर गांड के छेद में जा घुसा.

आंटी एकदम से चिल्लाते हुए बोली- कहां डाल रहा है नालायक! मेरी गांड को फाड़ेगा क्या? मैंने चूत में लंड डालने के लिए कहा था. चूत में डाल इसको.
मैंने कहा- सॉरी आंटी, गलती से चला गया.

मैंने एक बार फिर से आंटी की चूत के छेद पर लंड को सेट कर दिया और आंटी की चूत में लंड को धकेल दिया. अबकी बार लंड अंदर चूत में फिसल गया. मैं एक बार फिर से आनंद में पहुंच गया.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

आंटी की गर्म और गीली चूत में लंड जाने के बाद मैंने तेजी से आंटी की चूत में धक्के लगाने शुरू कर दिये. वो भी मस्ती में अपनी गांड को हिलाते हुए चुदने लगी.

फिर वो बोली- मेरी पीठ पर झुक जा और मेरी चूचियों को दबाते हुए मेरी चूत को चोद.
मैंने वैसा ही किया. मैंने आंटी की चूचियों को पकड़ लिया और उसकी चूचियों को दबाते हुए चूत में लंड का धक्का पेल करने लगा.

इस पोजीशन में चोदते हुए मुझे दोगुना मजा आ रहा था. इसलिए ज्यादा देर तक मैं टिक नहीं पाया और मैंने पांच-छह धक्के लगाने के बाद ही अपने लंड पर नियंत्रण खो दिया और आंटी की चूत में वीर्य उड़ेल दिया.

फिर मैं थक कर आंटी की के ऊपर ही लेट गया. आंटी की चूचियों पर सिर रख कर मैं अपनी सांस को सामान्य करने लगा. आंटी ने मेरे सोये हुए लंड को एक बार फिर से सहलाना शुरू कर दिया.

दो-तीन मिनट तक सहलाने के बाद आंटी उठ कर मेरी टांगों की ओर आ गयी. उसने मेरे लंड को मसला और उसका टोपा खोल कर मेरे लंड के सुपारे को चाटना शुरू कर दिया. मेरे लंड में मजा सा आने लगा. आंटी की गर्म जीभ का स्पर्श काफी आनंद और आराम दे रहा था.

फिर आंटी ने मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया. तीन-चार मिनट में ही मेरे लंड में तनाव आ गया और एक बार फिर से मेरा लंड खड़ा हो गया. आंटी तेजी के साथ लंड पर हाथ चलाते हुए मेरे लंड की मुठ मारने लगी.

आंटी के होंठ तेजी के साथ मेरे लंड पर ऊपर नीचे हो रहे थे. जब मुझसे रुका न गया तो मैंने आंटी को नीचे बेड पर पटक दिया और उसकी टांगों को फैला कर उसकी चूत में लंड को सेट कर दिया.

Mast aunty ki chudai - kamvasna hindi story - desi xxx kahani

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

धक्का लगाते ही आंटी की चिकनी चूत में लंड घुस गया और मैंने एक बार फिर से आंटी की चूत की चुदाई शुरू कर दी. अबकी बार का राउंड पंद्रह मिनट तक चला. आंटी इस बीच में झड़ गयी.

उसके चेहरे पर अब संतुष्टि के भाव अलग से दिख रहे थे. कुछ देर के बाद मेरा वीर्य भी निकल गया. फिर हम दोनों शांत हो गये. उसके बाद हम दोनों उठे और हमने खुद को साफ किया.

उस दिन के बाद से आंटी मेरी ट्रेनर बन गयी. जब भी हमें मौका मिलता तो हम दोनों चुदाई करने में लग जाते थे. आंटी ने मुझे चुदाई के कई आसन सिखाये. मुझे भी आंटी के साथ चुदाई का पूरा मजा मिला और इस तरह से मैं औरतों को खुश करना सीख गया.

अब जब भी मौका मिलता था आंटी मेरे लंड को मसल कर तुरंत खड़ा कर देती थी और हमारी चुदाई शुरू हो जाती थी. हम दोनों जब भी मिलते हैं तो आंटी नये नये आसनों में मुझसे अपनी चूत चुदवाती है.

दोस्तो, आपको मेरी ये आपबीती कैसी लगी मुझे इसके बारे में अपने विचारों से अवगत जरूर करवायें. मुझे आप लोगों की प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा.

आप मुझे नीचे दी गयी मेल आई पर अपना मैसेज भेज सकते हैं. इसके अलावा आप कहानी पर कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं. जल्दी मैं किसी और आपबीती को लेकर आऊंगा. धन्यवाद.
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

Read in English

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

bhaabhee kee mammee ne mujhe chodana sikhaaya desi xxx kahani

desi xxx kahani: bhaabhee kee prasav dekhabhaal ke liye unakee mammee hamaare ghar aayee. aantee kee motee gaand aur choochiyaan dekh mera land khada ho jaata tha. mujhe aurat kee choot chudaee nahin aatee thee to aantee ne mujhe chudaee kee trening kaise dee?

dosto, mera naam vijay kapoor hai aur main kaanapur ke ek chhote se gaanv ka rahane vaala hoon. baat aaj se kaaphee puraanee hai. un dinon mainne apanee baaharaveen kee padhaee pooree kee thee Mast aunty ki chudai.

ghar mein mera ek bada bhaee bhee hai jisaka naam ramesh hai. un dinon mein ramesh bhaiya kee shaadee kee baat chal rahee thee. mere bhaiya lakhanoo mein ek sarakaaree mahakame mein aphasar hain. jab unakee job lagee thee to un dinon mein hee unake ophis mein kaam karane vaalee ek ladakee ke saath unaka taanka phit ho gaya tha.

us ladakee ka naam rekha tha. mere bhaiya usee se shaadee karana chaah rahe the aur mere ghar vaalon ko bhee is baat se koee aapatti nahin thee. kuchh hee dinon ke baad un donon ka rishta pakka ho gaya aur vo donon prem vivaah ke bandhan mein bandh gaye. shaadee hone ke baad vo log lakhanoo mein hee rahane lage Mast aunty ki chudai.

aage kee padhaee karane ke liye mujhe bhee mere gharavaalon ne lakhanoo jaane ke liye kaha. unake kahane par main bhee taiyaar ho gaya tha kyonki bhaiya aur bhaabhee pahale se hee vahaan par rah rahe the.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

lakhanoo mein bhaiya-bhaabhee ke saath rahakar main padhane laga. mainne beeesasee mein daakhila kara liya. isee samay rekha bhaabhee ke pahale prasav ka samay najadeek aa gaya to madad ke lie bhaabhee kee mammee ko bula liya gaya Mast aunty ki chudai.

unaka naam nisha tha aur vo lakhanoo mein akelee hee rahatee theen kyonki unake pati yaani ki mere bhaiya ke sasur ka dehaant ho chuka tha aur unaka beta yaani ki bhaiya ka saala bangalaur mein padh raha tha. aantee ghar par akelee hee theen aur is vajah se unhen bhaabhee kee dekhabhaal karane mein koee dikkat nahin thee Mast aunty ki chudai.

nisha aantee kee umr kareeb 45 saal thee, kad paanch pheet chaar inch, rang gora, chhaatee 42 inch, kamar 36 inch va chootad 44 inch ke the. jab chalatee thee to aisa lagata jaise koee hathinee apanee mastee mein ja rahee ho. kaheen jaana hota tha to aantee sari pahanatee theen varana ghar mein peteekot-blauj ya gaun mein rahatee theen.

Mast aunty ki chudai unake pahanaave ke kaaran main yah jaan gaya tha ki aantee neeche se paintee nahin pahanatee hain. kaee baar mainne is baat ko notis kiya tha ki unakee paintee ka impreshan meree najar mein nahin aaya tha. aap to jaanate hee ho ki javaanee mein ladakon kee najar auraton kee bra aur paintee par hee tikee rahatee hai. isalie main bhee aantee kee motee see gaand ko taadata rahata tha Mast aunty ki chudai.

bhaiya bhaabhee kaheen jaate to main va aantee hee ghar par hote the jis kaaran ham log aapas mein kaaphee khul gaye the Mast aunty ki chudai. main dheere dheere aantee kee taraph aakarshit hone laga tha aur unake khyaalon mein khokar muth maar leta tha. ab dheere dheere mera man aantee kee chudaee karane ke lie karane laga tha.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

kaee baar aantee ko chodane kee ichchha huee. magar mujhe samajh nahin aa raha tha ki aantee ko ukasaoon kaise. isake lie mainne aantee ko chek karane ke lie aantee ko apana land khada karake dikha kar garm karane ka plaan banaaya.

ek din ghar par koee nahin tha. us din mainne garmee ka bahaana banaane kee sochee. mainne apanee tee shart utaarate hue aantee se kaha- aantee, aaj mausam kuchh jyaada hee garm hai.
aantee ne meree taraph dekha to boksar ke andar se mere tane hue land par unakee najar pad gaee Mast aunty ki chudai.

mera land to pahale se hee tana hua tha, usake oopar se mainne land mein ek jhataka bhee de diya. isase aantee ko yakeen ho gaya ki meree javaanee ka josh joron par hai. aantee mere land ko chor najar se taad rahee thee. main apane makasad mein kaamayaab ho gaya tha Mast aunty ki chudai.

ab main aksar aisa karane laga aur bahaane bana banaakar aantee ka dhyaan apane land kee taraph kheench leta. aantee ke haav-bhaav se kabhee kabhee mujhe aisa lagata ki shaayad aantee meree mansha ko samajh gaee hain aur unake andar bhee seks kee aag jal uthee hai Mast aunty ki chudai.

hamaare ghar ke men dor kee do chaabiyaan theen jinamen se ek mere paas rahatee thee aur doosaree bhaiya ke paas. jo bhee ghar aata tha men dor ko khol leta tha. isaka ek laabh yah hota tha ki bhaabhee ko bhee baar baar daravaaja kholane ke lie nahin aana padata tha. bhaabhee pet se theen isalie unakee suvidha ka poora khyaal rakha ja raha tha Mast aunty ki chudai.

ek din bhaiya meree bhaabhee ko chek-ap ke lie aspataal lekar jaane vaale the. mujhe kolej jaana tha Mast aunty ki chudai. bhaiya bhaabhee ke nikalane ke kuchh der baad main kolej ke lie nikala aur kareeb do ghante baad vaapas laut aaya va chaabee se men dor kholakar andar aa gaya.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

aantee bedaroom mein aaraam kar rahee theen. baeen karavat letee huee aantee ne peteekot va blauj pahana hua tha. aantee ka peteekot ghutanon tak utha hua tha. mainne thoda sa jhukakar dekha to aantee kee goree goree jaanghen dikhane lageen Mast aunty ki chudai.

unako is haalat mein dekh kar mujhase kantrol karana mushkil ho raha tha aur aaj kuchh kar gujarane kee thaan kar mainne apane saare kapade utaare aur boksar pahanakar aantee ke saath hee bed par chadh gaya. aantee aankhen band karake letee huee theen Mast aunty ki chudai.

Mast aunty ki chudai mainne aantee ka peteekot dheere dheere oopar khisaka kar kamar tak kar diya to aantee kee gaand ka chhed aur choot dikhane lagee. aantee kee nangee gaand aur nangee choot dekh kar mera land bekaaboo ho raha tha. mainne boksar se baahar nikaal kar apane land ka supaara aantee kee choot par rakh diya aur halke halke se ragadane laga.

tabhee achaanak aantee ne karavat lee aur seedhee ho gaee. main dar gaya aur chupachaap let gaya. magar ab to lauda tan chuka tha. main kab tak bardaasht karata. kuchh der chupachaap rahane ke baad mujhase raha na gaya aur main uth gaya Mast aunty ki chudai.

main utha aur aantee kee taangon ke beech aa gaya. mainne aantee kee taangen phailaakar chaudee keen to unakee choot ka raasta khul gaya aur choot ke andar ka gulaabeepan chamakane laga. apane land par thook lagaakar mainne apana land aantee kee choot par rakha aur andar pel diya Mast aunty ki chudai.

jaise hee mera land aantee kee choot ke andar gaya to pata nahin ekadam se kya hua ki uttejana mein mere land se veery ka phavvaara sa phoot pada aur pachar-pachar karake mainne aantee kee choot mein veery bhar diya.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

jab aantee ko is baat ka ahasaas hua ki meree top gola daagane se pahale hee phuss ho gayee hai to vo uth kar baith gayeen.
aantee ne meree or dekha aur boleen- pahalee baar kar rahe ho kya?
mainne darate darate kaha- haan aantee.

vo bolee- koee baat nahin, abhee tum naye-naye javaan hue ho. javaanee ke josh mein aksar aisa ho jaata hai. doosaree baar karoge to sahee se seekh jaoge Mast aunty ki chudai.
aantee kee baat sun kar mujhe thodee raahat milee varana mera to dimaag hee kharaab ho gaya tha.

phir aantee bolee- chalo, pahale khaana kha lete hain.

hamane khaana khaaya hee tha ki bhaiya meree bhaabhee ko lekar vaapas aa gaye. us din hamen kuchh aur karane ka mauka nahin mila. bhaabhee ke rahate hue kuchh kar paana bahut mushkil ho gaya tha kyonki aantee bhee bhaabhee kee dekhabhaal mein hee lagee rahatee theen Mast aunty ki chudai.

chaar din aise hee nikal gaye. chauthe din phir se hamen ek baar doosara mauka mila. us din aantee khud mujhe lekar bedaroom mein aa gaeen aur apane haathon se mere badan ko sahalaane lageen. kya bataoon dosto, kitana maja aa raha tha Mast aunty ki chudai.

phir aantee ne mere kapade utaare aur phir khud nangee ho gaeen. aantee ne mera land munh mein le liya aur mere land ko munh mein lekar loleepop ke jaise choosane lagee. main to hava mein udane laga. mainne aantee ko rok diya kyonki mera skhalan kareeb aa gaya tha. aantee uthee aur phir unhonne mere haath apanee choochiyon par rakh diye. thodee der mein aantee garm ho gaeen.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

garm hone ke baad vo bed par let gaeen aur apane chootad uchaka kar gaand ke neeche ek takiya rakh liya. aantee ne apanee taangen phaila leen aur mujhase kaha- ab meree garm bhattee mein apana land daalo Mast aunty ki chudai.

mainne aantee kee choot par land ko set kiya aur unakee choot mein land daala to aantee apane chootad chalaane lagee aur mujhase kaha- ab apane land ko andar baahar karo Mast aunty ki chudai.

mujhe bhee maja aane laga. main dheere dheere aantee kee choot mein land ko andar baahar karane laga. pahalee baar chudaee ka maja mil raha tha. us anubhav ko main shabdon mein bayaan nahin kar sakata hoon.

ek do minat tak mainne aantee kee choot mein land ko andar baahar kiya aur aantee ne mera saath diya. vo jaanatee thee ki kahaan par mujhe rokana hai. jab unako laga ki main isase jyaada bardaasht nahin kar paoonga to aantee ne mujhe kuchh pal rukane ke lie kaha. mainne vaisa hee kiya Mast aunty ki chudai.

kuchh der tak main ruka raha aur aantee kee choochiyon ke saath khelata raha. aantee ne mujhe choot mein ungalee karane ke lie kaha. mainne aantee kee choot mein ungalee daal dee. aantee kee choot andar se geelee ho gayee thee.

main aantee kee choot mein ungalee chalaane laga Mast aunty ki chudai. aantee kee choot se pach-pach kee aavaaj aane lagee. ekadam se mainne ungalee baahar nikaalee aur aantee kee choot mein munh laga diya. main aantee kee choot ko chaatane laga.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

aantee jor jor se sisakaarane lagee- ummh… ahah… hay… yaah… aur tej … aahh maja aa raha hai… tum to bahut jaldee seekh rahe ho aurat ko khush karana. aahh jor se… andar tak jeebh daalo beta.

main jor jor se aantee kee choot mein jeebh ko chala raha tha. mujhe pahalee baar choot ke ras ka svaad mil raha tha. svaad thoda atapata tha lekin phir bhee maja aa raha tha. main choot ko tejee ke saath chaatata raha Mast aunty ki chudai.

jab aantee se ruka nahin gaya to isake baad aantee ne mujhe roka aur palat kar ghodee banate hue boleen- ab peechhe se aakar meree choot mein land ko daalo aur poora ghused do Mast aunty ki chudai.

mainne aantee kee choot par land ka supaara laga diya. aantee kee choot kaaphee geelee ho gayee thee. mera thook bhee us par laga hua tha. jaise hee mainne dabaav banaate hue choot mein land ghusaane kee koshish kee to land oopar kee or phisal kar gaand ke chhed mein ja ghusa Mast aunty ki chudai.

aantee ekadam se chillaate hue bolee- kahaan daal raha hai naalaayak! meree gaand ko phaadega kya? mainne choot mein land daalane ke lie kaha tha. choot mein daal isako.
mainne kaha- soree aantee, galatee se chala gaya.

mainne ek baar phir se aantee kee choot ke chhed par land ko set kar diya aur aantee kee choot mein land ko dhakel diya. abakee baar land andar choot mein phisal gaya. main ek baar phir se aanand mein pahunch gaya Mast aunty ki chudai.

aantee kee garm aur geelee choot mein land jaane ke baad mainne tejee se aantee kee choot mein dhakke lagaane shuroo kar diye. vo bhee mastee mein apanee gaand ko hilaate hue chudane lagee.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

phir vo bolee- meree peeth par jhuk ja aur meree choochiyon ko dabaate hue meree choot ko chod Mast aunty ki chudai.
mainne vaisa hee kiya. mainne aantee kee choochiyon ko pakad liya aur usakee choochiyon ko dabaate hue choot mein land ka dhakka pel karane laga.

is pojeeshan mein chodate hue mujhe doguna maja aa raha tha. isalie jyaada der tak main tik nahin paaya aur mainne paanch-chhah dhakke lagaane ke baad hee apane land par niyantran kho diya aur aantee kee choot mein veery udel diya Mast aunty ki chudai.

phir main thak kar aantee kee ke oopar hee let gaya. aantee kee choochiyon par sir rakh kar main apanee saans ko saamaany karane laga. aantee ne mere soye hue land ko ek baar phir se sahalaana shuroo kar diya.

do-teen minat tak sahalaane ke baad aantee uth kar meree taangon kee or aa gayee. usane mere land ko masala aur usaka topa khol kar mere land ke supaare ko chaatana shuroo kar diya. mere land mein maja sa aane laga. aantee kee garm jeebh ka sparsh kaaphee aanand aur aaraam de raha tha Mast aunty ki chudai.

phir aantee ne mere land ko apane munh mein bhar liya. teen-chaar minat mein hee mere land mein tanaav aa gaya aur ek baar phir se mera land khada ho gaya. aantee tejee ke saath land par haath chalaate hue mere land kee muth maarane lagee.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

aantee ke honth tejee ke saath mere land par oopar neeche ho rahe the. jab mujhase ruka na gaya to mainne aantee ko neeche bed par patak diya aur usakee taangon ko phaila kar usakee choot mein land ko set kar diya.

dhakka lagaate hee aantee kee chikanee choot mein land ghus gaya aur mainne ek baar phir se aantee kee choot kee chudaee shuroo kar dee. abakee baar ka raund pandrah minat tak chala. aantee is beech mein jhad gayee Mast aunty ki chudai.

usake chehare par ab santushti ke bhaav alag se dikh rahe the. kuchh der ke baad mera veery bhee nikal gaya. phir ham donon shaant ho gaye. usake baad ham donon uthe aur hamane khud ko saaph kiya.

us din ke baad se aantee meree trenar ban gayee. jab bhee hamen mauka milata to ham donon chudaee karane mein lag jaate the. aantee ne mujhe chudaee ke kaee aasan sikhaaye. mujhe bhee aantee ke saath chudaee ka poora maja mila aur is tarah se main auraton ko khush karana seekh gaya.

ab jab bhee mauka milata tha aantee mere land ko masal kar turant khada kar detee thee aur hamaaree chudaee shuroo ho jaatee thee. ham donon jab bhee milate hain to aantee naye naye aasanon mein mujhase apanee choot chudavaatee hai Mast aunty ki chudai.

dosto, aapako meree ye aapabeetee kaisee lagee mujhe isake baare mein apane vichaaron se avagat jaroor karavaayen. mujhe aap logon kee pratikriyaon ka intajaar rahega.

Mast aunty ki chudai – kamvasna hindi story – desi xxx kahani

aap mujhe neeche dee gayee mel aaee par apana maisej bhej sakate hain. isake alaava aap kahaanee par kament karake bhee apanee raay de sakate hain. jaldee main kisee aur aapabeetee ko lekar aaoonga. dhanyavaad.
[email protected]

Join Telegram Group-

bhabhi Hindi sex story group

Read More Chudai Story-

xxx khaniya पहला सेक्स एक्सपीरियंस मौसी के साथ mosi sex story

kamvasna story – दोस्त की मम्मी को लंड चुसवाया | Dost ki maa ki chudai

Mother sex stories मैने मेरी स्टेप माँ की चूत का पानी पिया 0

4 thoughts on “Mast aunty ki chudai भाभी की मम्मी ने मुझे चोदना सिखाया1 fun”

Leave a Comment