Follow my blog with BloglovinAntarvasnasex Stories होली में भाभी की टाईट चूत को खोला1 fun

Antarvasnasex Stories होली में भाभी की टाईट चूत को खोला1 fun

होली में भाभी की टाईट चूत को खोला Antarvasnasex Stories

Antarvasnasex Stories: यह सेक्स कहानी मेरी और मेरे पड़ोस में रहने वाली भाभी की है. भाभी 27 साल की हैं, दिखने में एकदम कड़क माल हैं. मैंने होली वाले दिन भाभी को कैसे चोदा?

दोस्तो, मेरा नाम आदित्य है. मेरी उम्र 22 साल है. मैं दिखने में ठीक ठाक हूँ. मेरा लंड 7.5 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है.

यह सेक्स कहानी मेरी और मेरे घर के पड़ोस में रहने वाली भाभी की है. भाभी की उम्र 27 साल है. भाभी दिखने में एकदम कड़क माल हैं. भाभी के बड़े बड़े चुचे, मस्त गांड, पतली कमर थी. वे हाई सोसाइटी में रहने वाली काफी खुले विचारों की एक आइटम थीं.

वो जब से यहां रहने आयी थीं, तभी से ही मैं उन्हें चोदना चाहता था. लेकिन कोई मौका हाथ नहीं लग रहा था.

यूं तो उनका परिवार अच्छा चल रहा था. भैया निजी कंपनी में जॉब करते थे. लेकिन उनकी शराब पीने की लत एक बुरी आदत थी. वे दिन भर काम करते और शाम को शराब पीकर आते और सो जाते … जिससे भाभी को वो सुख नहीं मिल पा रहा था, जो उन्हें उनके पति से मिलना चाहिए था.

मैंने इस मौके का फायदा उठाया.

होली के दिन मैं भाभी के घर उनको रंग लगाने गया. मैंने आज पूरा मन बना लिया था कि अगर मौका मिला, तो भाभी को चोद ही दूंगा और शायद उस दिन किस्मत भी मेरे साथ थी.

मैं घर पर गया, तो देखा भाभी रसोई में कुछ काम कर रही थीं और भैया बाहर शराब पी रहे थे. उन्होंने इतनी शराब पी ली थी कि वो कभी भी लुढ़क सकते थे.

मैंने भैया को रंग लगा कर उन्हें हैप्पी होली कहा और भाभी के पास रसोई में आ गया.
उस दिन भाभी ने हल्के गुलाबी रंग की साड़ी पहनी हुई थी. ब्लाउज़ भी काफी खुले गले का था जिसमें उनके चूचों की दरार साफ साफ दिख रही थी.

Antarvasnasex Stories

मैंने पीछे से बिल्कुल उनसे चिपक कर उनके गाल पर रंग लगाते हुए हैप्पी होली बोला.

वो अचानक हुई इस हरकत से थोड़ा घबरा सी गईं और पीछे होने लगीं. लेकिन पीछे मैं था और मेरा लंड पहले से तना हुआ था. जिससे मेरा खड़ा लंड भाभी की गांड की दरारों में जा लगा. जिसका भाभी को भी अहसास हो गया.

फिर वो मुझसे दूर हुईं और उन्होंने मुझे भी रंग लगा कर विश किया.

मैं भाभी से वहीं बात करने लगा, तो उन्होंने कहा- आज तुम अपने फ्रेंड्स के साथ होली नहीं खेलोगे क्या?
मैंने उन्हें जवाब दिया कि आज तो मैं सिर्फ अपनी भाभी के साथ खेलूंगा.
तो उन्होंने कहा कि अब नहीं … बस लगा दिया न रंग … बस अब मैं तुम्हें और रंग नहीं लगाने दूंगी.
मैंने कहा- आप नहीं लगाने दोगी, तो मैं जबरदस्ती लगाऊंगा. भाभी आज होली है … तो बुरा मानने वाली बात ही नहीं है.
इस पर उन्होंने कहा- अच्छा ऐसी बात है … तो रंग लगा कर दिखाओ.

ऐसा बोलते हुए भाभी रसोई के बाहर भाग गईं. फिर मैं भी उनके पीछे भाग कर उन्हें रंग लगाने लगा. वो भाग रही थीं और मैं उन्हें पकड़ रहा था. भैया तो पीकर टुन्न हो गए थे.

इसी पकड़म पकड़ाई में मेरे हाथ में भाभी की साड़ी आ गयी, तो मैंने वो खींच कर निकाल दी.

अब भाभी ब्लाउज़ ओर पेटीकोट में थीं. भाभी क्या मस्त माल लग रही थीं. भाभी को इस पर ग़ुस्सा आया, लेकिन उन्होंने कोई खास प्रतिक्रिया नहीं दी.

वो फिर भागने लगीं. पर अबकी बार मैंने उनको पकड़ लिया और रंग लगाने लगा. वो मुझसे छूटने की कोशिश करने लगीं.
इसी पकड़म पकड़ाई में मेरा हाथ भाभी के चूचों पर चला गया … और मौका देखते हुए मैंने उनके मम्मे दबा दिए.

Antarvasnasex Stories

हाय दोस्तो … क्या मुलायम चुचे थे भाभी के. भाभी को मेरी इस हरकत से ग़ुस्सा आ गया और वो मुझसे दूर हो गईं.
भाभी बोलीं- तू ये सब करने आया था यहां … रुक मैं तेरे भैया को ये सब बताती हूँ … आज तेरी खैर नहीं.

ये सुनकर मेरी तो हवा टाइट हो गयी. मैंने भाभी के पैर पकड़ लिए और बोला- सॉरी भाभी, वो रंग लगाने में हाथ वहां चला गया.
तो भाभी बोलीं- चल कोई बात नहीं लेकिन आगे से ध्यान रखना.

फिर भाभी भैया के पास बैठ गईं और शराब की बोतल हाथ में लेकर मुझे देख कर बोलीं- तू पियेगा शराब?
मैंने भी हां कर दी और भाभी के सामने वाले सोफे पर जाकर बैठ गया.

हालांकि भाभी हाई सोसाइटी में रहने वाली थी तो शराब और सिगरेट उनके लिए चलती थी, पर वो शराब बहुत कम मात्र में पीती थीं. इसलिए उन्हें जल्दी ही नशा चढ़ गया … और वे लार्ज दो पैग लगाने के बाद वहीं बेड पर पसर गईं. भाभी को नशा चढ़ गया था.

भाभी मुझसे हंस कर बोलीं- एक सिगरेट जला दे.
जब मैंने देखा कि भाभी पूरे नशे में हैं … तो मेरे अन्दर की वासना फिर जाग गयी. मैंने सिगरेट जला कर कश खींचा और भाभी की उंगलियों में फंसा दी.

भाभी बड़ी अदा से सिगरेट के छल्ले उड़ाने लगीं. भाभी इस समय बिना साड़ी के केवल ब्लाउज पेटीकोट में सिगरेट पीते हुए एक छिनाल रंडी सी लग रही थीं.

मैंने भाभी को उठाया और बोला- चलो भाभी, मैं आपको कमरे में सुला देता हूं.
भाभी मेरे गले में बांहें डाल कर मेरे शरीर से झूल गईं.

Antarvasnasex Stories

मैं उन्हें अपनी गोद में उठा कर उनके कमरे में ले गया और बेड पर सीधा सुला दिया.
मैंने भाभी से कहा- अब मैं आपको और रंग लगाऊंगा.

भाभी नशे में तो थीं ही … लेकिन फिर भी मना कर रही थीं.
मैंने अपनी जेब से रंग की पुड़िया निकली और भाभी के पास आकर बैठ गया और रंग हाथ में लिया.

पहले मैंने थोड़ा रंग भाभी के गालों पर लगाया … फिर गले पर, फिर ब्लाउज़ के ऊपर से ही चूचों पर लगाने लगा. फिर उनके एकदम सपाट पेट पर भी खूब रंग लगाया.

भाभी नशे में होने के कारण कुछ नानुकुर कर रही थीं … लेकिन उनमें इतनी ताकत नहीं बची थी कि वो मुझे रोक सकें. बल्कि अब वो ऐसे बुदबुदा रही थीं- साले कपड़ों पर क्या रंग लगा रहा है … अन्दर मेरे बदन पर लगा.

मैं भी इस मौके का फायदा उठा रहा था. उनकी बात सुनकर मैंने भाभी के ऊपर के कपड़े भी निकाल दिए. भाभी अब सिर्फ टू पीस बिकिनी में मेरे सामने पड़ी थीं. दोस्तों मैं शब्दों में बयान नहीं कर सकता, उस वक़्त में कैसा महसूस कर रहा था.

मैंने भी देर न करते हुए भाभी पर हमला कर दिया. मैं ब्रा के ऊपर से ही रंग लगाते हुए भाभी के चुचे दबाने लगा. उन्हें किस करने लगा. मैं पागलों की तरह उनके दूध चूस रहा था. भाभी को भी शायद बहुत समय से भैया ने चोदा नहीं था, इसलिए उनकी चुत ने भी पानी छोड़ना शुरू कर दिया था. भाभी भी जल्दी ही गर्म हो गईं.

मैंने उनकी ब्रा निकाल दी और उनके चूचों को बारी बारी चूसने लगा. मैंने एक हाथ पेंटी के अन्दर उनकी चुत पर रख दिया और उनकी चुत मसलने लगा.

Antarvasnasex Stories

होली में भाभी की टाईट चूत को खोला Antarvasnasex Stories

भाभी मचलने लगी थीं. तभी मैंने एकदम से अपनी बीच वाली उंगली भाभी की चुत में डाल दी. भाभी की सिसकारियां निकलने लगीं. भाभी की चूत पूरी गीली हो गयी. अब भाभी को चढ़ी शराब का नशा भी मजा देने लगा था. उनकी चुदास ने उन पर वासना का नशा चढ़ा दिया था.

मैं नीचे को हुआ और भाभी की पेंटी को निकाल कर अपना मुँह भाभी की मुलायम गीली चूत पर रख दिया. मैं भाभी की चुत पर जीभ फिराने लगा. इससे भाभी चिहुंक गईं और मेरा मुँह अपनी चुत पर दबाने लगीं.

दस मिनट तक चुत चुसाने के बाद भाभी का शरीर अकड़ने लग गया और कुछ ही पलों में भाभी ने पानी छोड़ दिया, जो मैंने चाट कर पूरा साफ कर दिया.

होली में भाभी की टाईट चूत को खोला Antarvasnasex Stories

भाभी एकदम शिथिल होकर पड़ी थीं, उनकी तो मानो दम ही निकल गई थी.

अब मैं खड़ा हुआ और अपने कपड़े निकाल कर पूरा नंगा हो गया. अब तक भाभी भी होश में आ चुकी थीं. भाभी मेरा 7.5 इंच का लंड देख कर चौंक गईं और बोलीं- ओ माय गॉड … तेरा लंड इतना बड़ा है.
मैंने लंड हिला कर कहा- क्यों क्या हुआ भाभी … बड़े लंड से डर गई क्या?
भाभी जरा हैरानी से मेरे लंड को देखते हुए कहने लगीं- हां … तेरे भैया का तो इससे आधा ही होगा.

उन्होंने आगे होकर मेरा लंड हाथ में ले लिया और उसे सहलाने लगीं. मैंने उन्हें लंड चूसने को कहा, तो उन्होंने मना कर दिया … लेकिन फिर थोड़ा जोर दिया … तो भाभी मेरा लंड चूसने लगीं.

Antarvasnasex Stories

मुझे भाभी से लंड चुसवाने में बड़ा मजा आ रहा था. भाभी भी मेरे लंड को पूरे मनोयोग से चूसने में लग चुकी थीं. कुछ ही देर में भाभी मेरी गोटियों को सहलाते हुए लंड को अपने मुँह में जितना अन्दर ले सकती थीं, उतना अन्दर लेकर चूसने में लगी थीं. मैं भाभी के दूध दबाता हुआ मजा ले रहा था.

होली में भाभी की टाईट चूत को खोला Antarvasnasex Stories

भाभी की आँखों में चुदास की वासना साफ़ दिखने लगी थी. फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए. वो मेरा लंड चूस रही थीं, मैं उनकी चुत चाट रहा था.

करीब 10 मिनट के इस फोरप्ले के बाद में खड़ा हुआ और मैंने भाभी को घोड़ी बनने को कहा.

भाभी की भी चुत में खुजली हो रही थी वे भी लंड लंड कर रही थीं. इसलिए भाभी ने तुरन्त घोड़ी की पोजीशन बना ली. मैं उनके पीछे आ गया और लंड को भाभी की चूत पर टिका दिया.

भाभी बोलीं कि आदि जरा धीरे धीरे डालना … मैंने आज तक इतना बड़ा लंड नहीं लिया है.
मैंने कहा- ठीक है.

मैंने लंड को चुत की फांकों में फिराया, तो भाभी फिर से बोलीं- आदी तेरा लंड बहुत मोटा है … कुछ क्रीम या तेल लगा लो प्लीज़.
फिर मैंने भाभी से ओके कहते हुए तेल का पूछा. उन्होंने बताया, तो मैं रसोई में से तेल ले आया.

Antarvasnasex Stories

अब मैंने भाभी की चूत पर और अपने लंड पर खूब ज्यादा सा तेल लगा दिया. फिर मैं भाभी की चूत पर लंड रख कर धीरे धीरे अन्दर धक्का देने लगा.

पहले एक दो बार तो चिकनाई की वजह से लंड फिसल गया … लेकिन फिर मैंने चुत की फांकों में लंड सैट करके एक झटका मारा, तो मेरे लंड का टोपा भाभी की चूत में घुस गया.
मेरा लंड काफी मोटा था, इस वजह से भाभी को दर्द हुआ. भाभी ने कराहते हुए बोला- उम्म्ह… अहह… हय… याह… दर्द हो रहा है यार.

होली में भाभी की टाईट चूत को खोला Antarvasnasex Stories

मैंने बोला- भाभी तुम कोई कुंवारी तो हो नहीं … बस एक बार ही होगा दर्द फिर मजा ही मजा आने वाला है.

मैंने दोनों हाथों से भाभी की कमर को कसके पकड़ लिया और पूरी ताकत से एक झटका दे मारा. तेल की चिकनाई की वजह से मेरा पूरा लंड भाभी की चूत में समा गया.

भाभी की जोरदार चीख निकल गयी. भाभी की आंखों से आंसू आ गए. इधर मुझे ऐसा लगा कि किसी गर्म भट्टी में लंड फंसा दिया हो.

बिल्कुल कसी हुई चुत थी भाभी की … एक पल के लिए तो ऐसा लगा कि बिल्कुल सील पैक चूत थी. लेकिन भाभी की चूत तो चुदी हुई थी तो चुत से खून नहीं निकला. अब तक छोटा लंड लेने की वजह से भाभी की चूत सही से खुली नहीं थी.

Antarvasnasex Stories

लंड अन्दर जड़ तक फंसा हुआ था … भाभी दर्द के मारे छटपटा रही थीं. वो मुझसे छूटने के प्रयास कर रही थीं. लेकिन मैंने भाभी को कसके पकड़ रखा था.

फिर कुछ देर ऐसे ही रुका रहा, तो लंड ने चुत में जगह बना ली और भाभी का दर्द कम होने लगा. उनकी गांड ने हिलना चालू किया, तो मैंने धीरे धीरे धक्के लगाना चालू कर दिए

अब मैंने भाभी की कमर को छोड़ उनके बड़े बड़े चूचों को मसलना चालू कर दिया. भाभी भी ‘ओह आह याह आहहहह..’ की आवाज से मेरा साथ दे रही थीं. कुछ ही देर में लंड आसानी से अन्दर बाहर होने लग गया और छप छप की चुदाई की मस्त आवाजें कमरे में गूंजने लगीं.

करीब दस मिनट इसी पोजीशन में चोदने के बाद मैंने भाभी को सीधा लेटाया और उनके ऊपर आकर एक ही बार में लंड उनकी चुत में घुसा दिया.
भाभी ने भी एक ‘आहहहहह..’ के साथ मेरा लंड अपनी चुत में समा लिया.

करीब 15 मिनट की धकापेल के दौरान भाभी 2 बार झड़ चुकी थीं … और अब मैं भी झड़ने की कगार पर आ गया. कोई 8-10 लम्बे धक्कों के बाद मैं भी भाभी की चूत में ही झड़ गया और भाभी के ऊपर ही गिर गया.

इसके बाद मैंने भाभी की गांड भी मारी और भैया को हमारे बारे में पता भी चल गया. फिर क्या-क्या हुआ … ये सब मैं आपको अगली सेक्स कहानी में बताऊंगा.
आपके मेल की प्रतीक्षा में आपका आदी. [email protected] और सेक्स विडियो और new कहानी पढने के लिये telegram ग्रुप join कर सकते है.

Read in English

Holi ke din bhabhi ki tight chut ki chudai – Antarvasnasex Stories

Antarvasnasex Stories: This sex story is of mine and sister-in-law living in my neighborhood. Sister-in-law is 27 years old, very tough in appearance. How did I fuck sister-in-law on Holiday?

Friends, my name is Aditya. I am 22 years old. I’m good looking My cock is 7.5 inches long and 3 inches thick.

This sex story is about me and my sister-in-law living in my neighborhood. Sister-in-law is 27 years old. Sister-in-law is very hard to see. Sister-in-law had very big legs, cool ass, thin waist. She was an open-minded item in high society Antarvasnasex Stories.

Ever since she came to live here, I wanted to fuck her. But there was no chance.

In this way, his family was going well. Bhaiya used to work in private company. But his alcoholism was a bad habit. They used to work all day and in the evening drinking and drinking and sleeping… due to which the sister-in-law could not get the happiness that she should have met her husband.

I took advantage of this opportunity on Antarvasnasex Stories.

On the day of Holi, I went to her sister-in-law’s house I had made up my mind today that if I get a chance, I will give a fuck to my sister-in-law and perhaps luck was also with me that day like Antarvasnasex Stories.

When I went home, I saw the sister-in-law doing some work in the kitchen and brother-in-law was drinking outside. He had drunk so much alcohol that he could roll anytime the Antarvasnasex Stories.

I painted the brother and called him Happy Holi and came to the kitchen near the sister-in-law.
On that day the sister-in-law wore a light pink color saree. The blouse was also very open-necked, in which the cleavage of her boobs was clearly visible.

Antarvasnasex stories
I said Happy Holi by sticking to them from behind and applying color on their cheeks.

She suddenly became a little nervous due to this act and started backing down. But I was behind and my cock was already taut. Due to which, my erect cocks got into the cracks of the sister-in-law’s ass. Which sister-in-law also realized the Antarvasnasex Stories.

Then she got away from me and she also wished me with color.

I started talking to her sister-in-law, so she said – today you will not play Holi with your friends.
I replied to him that today I will only play with my sister-in-law on Antarvasnasex Stories.
So he said that not now… just put no color… Just now I will not let you apply any more colors.
I said – if you do not put it, I will force it. Sister-in-law today is Holi… so there is no objection.
On this, he said- well there is such a thing… So show it by applying color.

Speaking like this, sister-in-law ran out of the kitchen. Then I also ran after them and started applying color to them. She was running away and I was catching them. Brother, he became weak after drinking the Antarvasnasex Stories.

In this pakam pakdai, my sister-in-law’s sari came, so I pulled it out.

Now the sister-in-law was in blouse and petticoat. Sister-in-law was looking very good. Sister-in-law was angry at this, but she did not give any specific response the Antarvasnasex Stories.

She started running again. But this time I caught them and started applying color. She started trying to get rid of me Antarvasnasex Stories.
In the same catchment, my hand went to the sister-in-law’s hands… and seeing the opportunity, I suppressed her mother.

Antarvasnasex Stories
Hi Friends… What was the law of Mulayam. Sister-in-law got angry with my actions and she got away from me for Antarvasnasex Stories.
Sister-in-law said – You came here to do all this… Wait, I tell all this to your brother… Today you are not well.

Hearing this, my air got tight. I grabbed the sister-in-law’s feet and said – Sorry sister-in-law, he went there to paint the Antarvasnasex Stories.
So sister-in-law said- no problem but take care from the front.

Then sister-in-law sat down with her brother and took a bottle of wine in her hand and said, looking at me, she said – will you drink alcohol?
I also said yes and sat on the sofa in front of her sister-in-law.

Although the sister-in-law was living in high society, alcohol and cigarettes were used for them, but she used to drink very little alcohol. So she got intoxicated soon… and after applying a large two pegs she fell on the bed there. Sister-in-law was addicted for Antarvasnasex Stories.

Sister-in-law laughed and said – light a cigarette the Antarvasnasex Stories.
When I saw that her sister-in-law was completely intoxicated… then the lust in me woke up again. I inhaled the cigarette and pulled it into the fingers of the sister-in-law.

Sister-in-law started blowing cigarette rings. Sister-in-law was smoking a cigarette in a blouse petticoat without a sari at this time on Antarvasnasex Stories.

I picked up the sister-in-law and said- Come on law, I put you to sleep in the room.
Sister-in-law put arms around my neck and swung from my body.

Antarvasnasex Stories
I took him in my lap and took him to his room and put him to sleep directly on the bed.
I told sister-in-law, I will add more colors to you.

Sister-in-law was intoxicated… but still refusing the Antarvasnasex Stories.
I came out of my pocket and came and sat next to her and took the color in her hand.

First I applied a little color on the cheeks of the sister-in-law… then on the neck, then started applying on hugs from above the blouse. Then he also put a lot of color on his flat stomach like Antarvasnasex Stories.

Sister-in-law was doing some nanukur because she was drunk… but she did not have enough strength to stop me. Rather now she was bubbling like – what color is applying on the clothes….

I too was taking advantage of this opportunity. After listening to them, I also removed the clothes above her sister-in-law. Sister-in-law was just lying in front of me in a two-piece bikini. Friends, I cannot say in words how I was feeling at that time the Antarvasnasex Stories.

I too attacked the sister-in-law without delay. I started pressing on the sister-in-law while applying color over the bra. He started kissing them. I was sucking their milk like crazy. Brother-in-law probably had not been fuck by brother for a long time, so his uncle also started releasing water. Sister-in-law also got hot soon like Antarvasnasex Stories.

I removed her bra and started sucking her nipples alternately. I put one hand inside the panty on his pussy and started rubbing his pussy.

Antarvasnasex Stories
This image has an empty alt attribute; its file name is Bahut-badi-chuchiyan.jpg
Sister-in-law was starting to rage. Then I immediately put my middle finger in law. Siskaris of law started coming out. Sister-in-law’s pussy became completely wet. Now the sister-in-law had started enjoying the intoxicating liquor. His Chudas had given him the addiction of lust Antarvasnasex Stories.

I happened to be at the bottom and after removing the panty of the sister-in-law, put my mouth on her soft wet pussy. I started to wiggle my tongue in law. This caused her sister-in-law and started pressing my mouth on her pussy on Antarvasnasex Stories.

After ten minutes of kissing, the body of the sister-in-law started to swell and within a few moments the sister-in-law left the water, which I licked and cleaned it completely for Antarvasnasex Stories.

use
Sister-in-law was lying very relaxed, as if she had died.

Now I stood up and removed my clothes and became completely naked. By now, sister-in-law had also become conscious. Sister-in-law was shocked to see my 7.5 inch cocks and said- O my God… your cock is so big the Antarvasnasex Stories.
I shook the cocks and said – why what happened sister-in-law… Was scared of big cocks?
Sister-in-law, looking at my cock with surprise, started saying- Yes… your brother will be half of it.

He went ahead and took my cock in his hand and started caressing it. I told them to suck cocks, then they refused… but then insisted a little… So sister-in-law started sucking my cock like Antarvasnasex Stories.

Antarvasnasex Stories
I was having great pleasure in licking cocks with sister-in-law. Sister-in-law had started sucking my cock with full pleasure. In a while, my sister-in-law was licking my cocks and sucking as much as I could in my mouth. I was having fun pressing my sister’s milk.

Chudas’ lust was clearly visible in her eyes. Then we both came into the 69 position. She was sucking my cock, I was licking her pussy on Antarvasnasex Stories.

After about 10 minutes of this foreplay, I stood up and asked my sister-in-law to be a mare on Antarvasnasex Stories.

Bhabhi was also itching in her pussy, she was also doing cocks. That is why sister-in-law immediately created a mare’s position. I came after them and put the cocks on the pussy of the law like Antarvasnasex Stories.

Sister-in-law said that pouring it a little slowly… I have not taken such a big cock till date.
I said – okay.

I stitched the cocks in pieces of pussy, then sister-in-law said again – Addicted to your cocks is very thick… Please apply some cream or oil the Antarvasnasex Stories.
Then I asked the sister-in-law to ask for oil. They told, then I brought oil from the kitchen.

Antarvasnasex Stories
Now I put a lot of oil on her sister’s pussy and on my cock. Then I put cocks on her sister’s pussy and started pushing in slowly.

First a couple of times because of smoothness, the cock slipped… but then I hit a blow by setting the cocks in the chest, then the top of my cock entered the sister-in-law’s pussy.
My cock was very thick, because of this the sister-in-law was in pain. Sister-in-law said while moaning – Ummh… Ahhh… Hahh… Yah… It is hurting man for Antarvasnasex Stories.
I said – in law, you are not a virgin… Just one time the pain will be fun again.

I grabbed the sister-in-law’s waist tightly with both hands and struck a blow with full force. Due to the smoothness of the oil, all my cocks got sucked into the sister-in-law’s pussy on Antarvasnasex Stories.

Sister-in-law’s loud scream came out. Tears came in her eyes. Here I felt that the cocks were stuck in a hot furnace.

Absolutely tight pussy was sister-in-law… For a moment it seemed that the seal was absolutely sealed. But the sister-in-law’s pussy was kissed, so no blood came out of the pussy. So far, because of taking small cocks, her sister’s pussy was not opened properly.

Antarvasnasex Stories
Lund was stuck in the root… sister-in-law was flirting with pain. She was trying to get me out. But I held her sister-in-law tightly.

Then it stopped like this for some time, then the cocks made a place in the pussy and the pain of sister-in-law started to subside. His ass started moving, so I slowly started to bang

Now I left the waist of her sister and started spicing her big boobs. Sister-in-law was also supporting me with the sound of ‘Oh ah yah ahahahah ..’. In a while, the cocks started getting out easily and the cool sounds of splash splash started echoing in the room.

After fucking in this position for about ten minutes, I brought her sister-in-law straight and came over and inserted cocks in her pussy at once.
Sister-in-law with a ‘Ahhhhhhh ..’ took my cock in his pussy.

During the 15-minute scuffle, the sister-in-law had collapsed 2 times… and now I am on the verge of loss. After some 8-10 bumps, I too fell into her sister’s pussy and fell on her sister-in-law.

After this, I killed my sister-in-law and brother also came to know about us. Then what happened… I will tell you all in the next sex story.
Your hooked on waiting for your mail. [email protected] and telegram group can join to read sex videos and new story.

Read more chudai Story-

Bhabhi ki Gand kahani | पहली बार पड़ोसन भाभी की गांड मारी Sex

devar bhabhi hot story मैं ऋषिता भाभी की चूचियों का दीवाना

Hot Bhabhi Hindi story | TV देखने के बहाने भाभी को चोदा

Leave a Comment