बहन के चुचे चूस कर गांड चुदाई best antarvasna 2 cudai khaniya

बहन के चुचे चूस कर गांड चुदाई best antarvasna 2 cudai khaniya

best antarvasna 2 cudai khaniya: मेरी दूर की बहन घर आई, उसको कुछ पैसों की जरूरत थी. मैंने दे दिए. मैं पैसे वापिस लेने गया तो खाना बना रही थी. पसीने से भरी उसकी गोरी चूचियां मुझे ललचाने लगी.

हैलो फ्रैंड्स, मेरा नाम जय है. मैं 28 वर्ष का एक मारवाड़ी युवक हूँ. मैं राजस्थान जोधपुर से हूँ. मेरी हाइट 5 फुट 9 इंच है और मेरे लंड की साइज साढ़े सात इंच है.

Mast Hindi Story पर ये मेरी पहली कहानी है. वैसे मैं सेक्स के मामले में बहुत आगे हूँ. अब तक मैंने बहुत सी लड़कियों और आंटियों को बिस्तर पर चुदाई का सुख दिया है.

वो मेरी दूर की बहन लगती है तो उसका मेरे परिवार में आना जाना रहता था. मैंने पहले कभी उसको चोदने की नज़र से नहीं देखा था.
पर एक दिन अचानक वो मेरे घर आई, उसको कुछ पैसों की जरूरत थी. मैंने उसको पैसे दे दिए.
उसने कहा- मैं दो-चार दिन में वापस कर दूंगी.
मैंने कहा- ठीक है … कोई बात नहीं.

दो या तीन दिन बाद मुझे रात की ड्रिंक के लिए पैसे की जरूरत थी, तो मैंने इधर उधर कोशिश की. फिर मुझे याद आया कि मैंने अपनी बहन को दिए थे, उससे पैसे वापस ले लेता हूँ, तो मेरा काम बन जाएगा.

मैंने उसको कॉल किया.
वो बोली- ओके घर आकर ले जाओ … पर अभी आधे ही हैं.
मैंने कहा- कोई बात नहीं, इतने में मेरा काम हो जाएगा.

मैं उसके घर गया, तो देखा वो सब्जी रोटी बना रही थी और थोड़ी परेशान लग रही थी.
मैंने उससे ऐसे ही पूछ लिया- क्या हुआ … कुछ परेशान लग रही हो?
वो बोली- तेरे जीजा चार पांच दिन घर नहीं आएंगे … और मुझे अकेले रहने में थोड़ा डर लगता है.

वैसे उसके एक लड़का और एक लड़की है. वो दोनों दस बारह साल के हैं. फिर भी अकेली औरत तो अकेली ही होती है. वो गैस के पास बैठी बैठी गर्मी से पसीने से लथपथ हो गई थी.

तभी मेरी नज़र उसकी चूचियों पर गई. पहली बार मेरे मन में उसके लिए कामुक ख्याल आया था. मैंने ध्यान से देखा तो उसकी साइज़ बड़ी मस्त थो. उसके नैन नक्श देख कर वैसे तो हर कोई पागल हो सकता था. बस मैं भी फिसल गया.

तभी उसने मुझे अपने मम्मों को घूरते हुए देख लिया. उससे नजर मिलते ही मैंने अपना सर दूसरी तरफ कर लिया.

उससे कुछ देर बात करने के बाद मैंने कहा- मैं चलता हूँ, मुझे पैसे दे दो, आठ बजने वाले हैं.
वो बोली- पैसे किस लिए चाहिए?
मैं उससे बिंदास बोल दिया- आज ड्रिंक करने का मूड है, इसलिए.

उसने मुस्कुराते हुए पैसे दिए और बोली- किस जगह पर बैठ कर पियोगे?
मैंने कहा- कहीं बाहर ही बैठ कर पी लूंगा.
उसने कहा कि बाहर कोई देखेगा, तो अच्छा नहीं लगेगा. तुम मेरे घर आकर पी लेना और यहीं खाना भी खा लेना.
मैंने उसे देखते हुए कहा- ठीक है कोई बात नहीं. तुम क्या लोगी?
उसने बच्चों के लिए आइसक्रीम लाने की कह दी.

मैंने बहन से पैसे लिए और दुकान से मेरे लिए दारू और उसके बच्चों के लिए आइसक्रीम ले आया.
बच्चों ने खाना खा लिया था. वो बच्चों के साथ दूसरे कमरे में आइसक्रीम खाने लगी.

मैंने बाहर ड्राइंगरूम में बैठ कर अपना पैग बनाया और ड्रिंक करना चालू कर दी. मैं धीरे धीरे ड्रिंक कर रहा था.
तभी मैंने सुना कि बहन ने अपने बच्चों को बोला कि अब तुम दोनों सो जाओ, मैं और मामा दोनों साथ खा लेंगे.

बच्चे सोने चले गए और वो नहाने चली गई. मैं बाहर के कमरे में बैठ कर ड्रिंक का आनन्द ले रहा था.

मुझे थोड़ा सुरूर होने लगा था. लंड बेताब होने लगा था और कुछ देर पहले उसकी पसीने से भीगी चूचियां मेरे लंड को खड़ा करने लगी थीं. मैंने सोचा कि बहन को नहाते हुए देख लिया जाए.

बस मैं बाथरूम के पास जाकर उसको नहाते हुए देखने की कोशिश करने लगा. बाथरूम के गेट के ऊपर की जाली से मैंने मुश्किल से दो या तीन सेकेंड उसे देखा होगा कि उसकी नज़र मेरे पर पड़ गई. उससे नजरें मिलते ही मेरी तो समझो जान ही आफत में आ गई.

मैं सीधा रूम में आकर पैग खत्म करके बिना उसको बताए उसके घर से निकल गया. बोतल में जो बची हुई दारू थी वो बोतल मैंने उठा ली और बाहर सड़क पर आकर घूमने लगा.

तभी उसका कॉल आया- खाना क्यों नहीं खा कर गए … और बिना बोले क्यों चले गए?
मैंने सोचा कि ये घर बुला कर मुझे पक्का कुछ सुनाएगी.

मैंने सोचा, जो होगा देखा जाएगा. मैंने उससे कहा- मैं जरा सिगरेट लेने चला गया था, अभी आता हूँ.
फिर मैंने पान की दुकान से एक सिगरेट का पैकेट लिया और उसके घर आ गया.

वो नार्मल से कपड़े पहने हुए थी. उसने गेट खोला. मैंने बोला कि मुझे जल्दी है, तुम जल्दी से खाना दे दो, मुझे घर जाना है.

उसने मुस्कुराते हुए मुझे देखा और हम दोनों के लिए एक ही थाली में खाना लगा कर रूम में ले आई.
हम दोनों खाना खाने लगे.

खाना खाते समय उसने मुझे आखिर पूछ ही लिया- तुम मुझे बाथरूम में क्यों देख रहे थे?
मैंने बोल दिया- बस ऐसे ही.

उसने कुछ नाराजगी दिखाई और खाना नहीं खाने का बोल कर अपने रूम में चली गई. मुझे भी अच्छा नहीं लगा, तो मैं उसके पीछे चला गया. वो अपने रूम में रो रही थी. मैंने उसका हाथ पकड़ कर उसको अपनी कसम दिला कर खाना खाने का बोला.

वो मेरी तरफ देखने लगी, तो मैं उसका हाथ पकड़ कर वापस लेकर आ गया. वो मेरे साथ साथ बेमन से आ रही थी. बाहर आकर उसने मेरे साथ कुछ खाना खाया.

फिर मैं बोला कि ठीक है, मैं अब चलता हूँ.
वो मेरी तरफ देख कर बोली- आज यहीं रूक जाओ न!
मैंने कहा- घर पर क्या बोलूंगा?
उसने कुछ सोचते हुए घर पर फोन कर देने का कहा.

मैंने पापा को कॉल कर दिया कि दोस्त के घर काम है, मैं रात को उसी के घर रूकूंगा.
पापा से मुझे परमिशन मिल गई.

मैंने उससे बोला- ओके, मैं बाहर रूम में सो जाता हूँ, तुम बच्चों के पास सो जाओ.
वो बोली- ठीक है जब मुझे नींद आएगी, तब चली जाऊंगी.
मैंने उसे देखते हुए कहा- ठीक है.

मैंने सिगरेट जला ली. वो मुझे सिगरेट पीते हुए देखने लगी.
उसके साथ कुछ देर इधर उधर की बातों के बाद उसने वही बात फिर से मुझसे पूछ ली.
मैंने भी बोल दिया कि बस ऐसे ही देख रहा था.

मैं ऐसा बोल कर चुप हो गया. वो भी चुप हो गई.
मैंने उसकी तरफ देखा, तो उसके चेहरे पर हलकी मुस्कान सी दिखी.
मैंने पूछ लिया- क्या हुआ हंस क्यों रही हो?
उसने बोला- कुछ नहीं, मैं तो बस यूं ही हंस रही थी.

मैं उससे बोला कि अब तुम सो जाओ.
उसने बोला- मुझे नींद नहीं आ रही है … तुम सो जाओ.
मैं लेट गया. उसने मेरे सर पर हाथ रखा और बोला कि अब कभी ऐसा मत करना.
मैंने बोला- ओके ठीक है.
वो मेरे सर को सहलाती रही.

फिर मैंने बोला- तुम बहुत सुन्दर हो, मैं तुम्हें देखना चाहता था, इसलिए मेरा मन करने लगा था.
वो बोली- तो वो बोली कि बाथरूम में से क्या देख रहे थे, मैं तो बाहर भी दिख जाती हूँ.

मैं समझ गया कि इसके मन में भी कुछ चल रहा है. मैंने हिम्मत करते हुए उससे कह दिया- तुम आज एक बार अपने मम्मे दिखा दो, फिर कभी नहीं बोलूंगा.
मेरी इस बात से वो थोड़ा नाराज हो गई और मेरी तरफ आंखें तरेर कर देखने लगी.

मैंने कहा- ओके मत दिखाओ, मैं अब कभी तुम्हारे घर नहीं आऊंगा.
उसने बोला- यार वो बात नहीं है, यदि किसी को ये बात पता चल गई, तो क्या होगा.

मैंने उसकी इच्छा जान ली और बातों में लगा कर उसे मना लिया. उसने ऊपर के ब्लाउज के हुक खोल कर थोड़ा सा सीन दिखाया.
मैंने बोला- पूरा दिखाओ न!

कुछ देर नानुकर के बाद मेरी बहन ने अपना पूरा ब्लॉउज खोल दिया. मैंने उससे ब्रा भी खोलने का कहा, तो उसने मना कर दिया.

मैंने उसे पटाते हुए ब्रा ऊपर करने का बोला कि अच्छा खोलो मत … ऊपर कर लो.

वो मान गई. उसके मस्त रसीले मम्मों को देख कर मेरा मन ख़राब हो गया. उसके गोल मटोल बड़े बड़े दूध बड़े मादक लग रहे थे. उसके मम्मों पर काले निप्पलों को देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया.

use

मैंने उससे पूछा- हाथ लगा लूं?
वो हंस कर बोली- नहीं यार.
फिर भी मैंने धीरे से उसके एक दूध को हाथ से पकड़ कर दबा दिया.

उसने झट से अपना चेहरा दूसरी तरफ घुमा लिया. मैंने उसकी मर्जी समझते हुए धीरे धीरे उसके दोनों मम्मों को सहलाना शुरू कर दिया.

अब उसकी धड़कन और मेरी धड़कन बढ़ने लगीं. मैंने धीरे से एक मम्मे के निप्पल पर अपने होंठ रख दिए और चूसने लगा. उसने कुछ देर के लिए तो मना किया, फिर उसने कुछ नहीं बोला.

मैंने अपनी बहन के दूध चूसते हुए उसकी कमर पैरों पर अपना हाथ चलाना चालू कर दिया. जिससे उसने पहले मेरे चेहरे को ऊपर करके देखा और फिर मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए. मैंने भी होंठ चूसना चालू कर दिए.

अब रूम का माहौल कुछ गर्म हो गया था. मैंने धीरे धीरे हाथ को उसके पैरों के बीच में घुमाना चालू कर दिया और उसकी चूत पर चड्डी के ऊपर से सहलाना चालू कर दिया. बहन की चुत के पास बहुत ही गीलापन लग रहा था. वो चुदासी सी होने लगी थी.

मैंने उसे अपनी बांहों में खींच लिया. वो मेरे पूरे जोश में आ गयी थी. मैं हाथ नीचे ले जाकर उसकी चूत के दाने को उंगली से कुरेदने लगा, जिससे उसकी आंखें मस्ती से बंद होने लगीं.

use

कुछ देर बाद मैंने उससे कहा- मुझे नीचे चुत पर किस करना है.
पहले तो उसने मना किया, फिर बोली- मेरे मना करने पर तुमको मानना है नहीं … तुमको जो करना है, कर लो.

मैंने कपड़े ऊपर करके उसकी चड्डी को निकाला और अपनी जुबान से उसके चूत के दाने को चाट लिया. उसकी मादक कराह निकल गई. मैं उसकी पूरी चूत को जुबान से चाटने लगा, उससे उसके मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगीं.

use

अब तो वो खुद मेरे सर को अपनी चूत पर अपने दोनों हाथों से दबाने लगी. मैं जोर जोर से चुत की फांकों में जीभ चलाने लगा.
फिर अचानक उसने मेरे मुँह पर अपना पानी छोड़ दिया और एकदम निढाल हो गई.

मैंने फिर से गर्म करने के लिए उसके होंठों और मम्मों पर किस करना स्टार्ट किया, जिससे वो मुझे अपने ऊपर खींचने लगी.
मैंने अपनी पैंट उतार कर उसके हाथ से मेरा लंड सहलाने को बोला.
वो शर्माते हुए मेरे लंड पर हाथ लगाने लगी और बोली- तुम्हारा लंड बहुत अच्छा है.
मैंने बोला- तुम भी इसको चूसो न!

आप सबको पता है मारवाड़ी महिलाएं ये काम कम पसंद करती हैं. पर मैं भी जिद्दी हूँ. मेरे कुछ देर समझाने पर बहन मान गई.

मेरी बहन ने मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया. कुछ देर लंड चूसने के बाद उसने मना कर दिया.
मैंने उसको कुछ देर मसलने के बाद बोला- चलो अब वो काम करें, जिससे आग शांत हो जाती है.
वो शर्मा गई.

मैंने उससे बोला- तुम अपनी आंखें बंद कर लो.

उसने अपनी आंखें बंद कर लीं. उसके बाद मैंने अपना लंड उसको चुत पर सैट करके धीरे से पेल दिया. उसकी हल्की सी चीख निकल गई … मगर वो मेरे लंड को गड़प कर गई.

मैं धीरे अन्दर लंड चुत के बाहर करने लगा. उसकी सेक्सी सिसकारियां बढ़ने लगीं. मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और अपनी स्पीड को थोड़ा बढ़ा दिया. मेरे झटकों से उसकी हालत ख़राब होने लगी.

पन्द्रह मिनट बाद उसने बोला- जरा रुको.

मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और उसको किस करने लगा. मेरा लंड उसकी चूत उसके पानी से पूरी तरह गीला हो गया था. मैंने लंड को अपनी अंडरवियर से साफ़ किया और सीधा लेट गया. उसने मुझे लेटते देखा, तो वो मेरे खड़े लंड की तरफ लालसा से देखने लगी.

मैंने उससे ऊपर आने को बोला, तो वो मान गई. उसने मेरे ऊपर अपनी पोजीशन सैट की और मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चुत में ले लिया. अब मैं नीचे से जोर जोर से झटके दे रहा था और वो अपनी गांड उछाल उछाल कर मज़े ले रही थी.

use

कुछ देर बाद उसका शरीर अकड़ने लगा, तो मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी. बस अगले कुछ ही पलों बाद हम दोनों एक के बाद एक धराशायी हो गए. मैंने उसको अपने ऊपर सीने से चिपका कर लिटा दिया.

हम दोनों बेहद थक गए थे. हमारी कब आंख लग गई, हमें कुछ पता ही नहीं चला.

शायद तीन या चार बजे मेरी आंख खुली तो वो मेरे पास नहीं थी. मैं उसको देखने के लिए उसके कमरे में गया, तो वो औंधी सो रही थी.
मैं उसके पास जाकर बैठ गया और उसकी कमर और गांड पर हाथ फेरने लगा.

उसने मेरे हाथ पकड़ लिए और बोली- जाओ, बाहर सो जाओ.
मैंने बोला- यार आज मौका है तो आ जाओ … नहीं तो फिर कब मिलन होगा.
उसने भी मस्ती के चक्कर में हां कर दी और बोला- तुम बाहर रूम में जाओ … मैं आती हूँ.

मैं बाहर आकर बैठ गया. मैंने फिर से दारू का पैग बना लिया था और सिगरेट सुलगा ली थी.
दस मिनट बाद वो मेरे पास आई और मेरे से लिपट कर रोने लगी.
मैंने पूछा तो बोली- सच में आज जो मज़ा आया है, वो जिंदगी में कभी नहीं आया.
मैंने कहा- अभी सुबह होना बाकी है मेरी जान … देखती जाओ क्या क्या होता है.

उसके बाद मैंने उससे दारू के लिए पूछा, तो उसने गिलास उठा कर एक ही झटके में पूरा खींच लिया और मेरे हाथ से सिगरेट लेकर मुँह का स्वाद ठीक करने लगी.
इसके बाद हम दोनों ने एक एक पैग और खींचा.

नशा का मजा हावी होने लगा था. हम दोनों लिपट गए. मैंने उसके होंठों, गर्दन और मम्मों पर किस की बौछार कर दी.
वो सिसकारने लगी और कपड़े खोल कर चित लेट गई.

मैंने उसकी चूत पर हाथ घुमाया, तो उसने गांड उठाते हुए कहा- जैसे रात में चाटी थी, वैसे चाटो.

उसको लिटा कर मैंने बहन की चूत पर अपनी जुबान का जादू चलाना शुरू कर दिया. वो चुदास से छटपटाने लगी, उसकी चूत से रसधार बहने लगी. जिसको मैंने चाट चाट कर साफ़ कर दिया.

बाद में मैंने उससे लंड चूसने के लिए बोला, तो इस बार वो रंडी की राजी हो गई थी. उसने एक झटके में मेरा लंड मुँह में ले लिया और चाटने लगी. मैं समुन्दर के गोते लगाने लगा.

use

कुछ देर बाद मैंने उसको घोड़ी बनने को बोला, तो वो झट से रेडी हो गई.

मैंने उसको पीछे से पकड़ कर उसकी चूत पर अपना लंड सैट कर दिया और बहन की चुत चुदाई करने लगा. लंड की रगड़ से वो और जोर जोर से सिसकारने लगी.
मैंने उसे चिल्लाने के लिए मना किया कि जोर जोर से शोर मत करो.
पर उसकी सिसकारियां बंद नहीं हुईं. कुछ देर बाद उसने बोला- मैं पहले की तरह ऊपर आउंगी.

मैं नीचे लेट गया और वो ऊपर आकर जोर जोर से गांड उछाल उछाल कर मज़े लेने लगी. मैं उसके मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा, जिससे उसकी हालत और ख़राब हो गई. वो अकड़ कर मेरे लंड को अपने रस से गीला करने लगी.

मैंने उसको वापस घोड़ी बनने को बोला, तो घोड़ी बन गई. इस बार मैं काफी देर तक तो अपने लंड को उसकी चूत और गांड पर घुमाता रहा. वो कुलबुलाने लगी थी.
वो कहने लगी- लंड अन्दर करो ना!
मेरा उसकी गांड मारने का दिल कर रहा था तो मैंने बोला- थोड़ा पीछे करूं क्या?

पहले तो उसने मना कर दिया, बाद में मेरे कसम दिलाने पर मान गई. मैंने उठ कर किचन से जाकर घी लिया और वापस आकर उंगली से उसकी गांड और अपने लंड को चिकना कर दिया.

अब मैं बहन से बोला- थोड़ा दर्द होगा … पर बाद में मज़ा भी आएगा.
वो बोली- ठीक है … पर जब मैं बोलूं, तब रुक जाना.

मैंने हां कर दी और लंड को गांड पर सैट करके बोला- अब तुम गांड ढीली करो और धीरे धीरे पीछे को जोर लगाओ.

उसने ऐसा किया. इधर मैं भी बड़ी आहिस्ता से अपनी बहन की गांड में लंड डालने की कोशिश कर रहा था.

लंड का सुपारा घुसवाते ही उसे हल्का दर्द हुआ, मैंने घी टपकाते हुए गांड की चिकनाई बढ़ा दी. इसी तरह से धीरे धीरे करके मैंने पूरा लंड बहन की गांड में ठांस दिया और रुक कर उसके मम्मों को मसलने लगा.

use

उसकी चुत के दाने को रगड़ने लगा. उसका दर्द जाता रहा और वो गांड मराने के लिए खुल गई.

अब मैं धीरे धीरे अन्दर बाहर कर रहा था और एक हाथ से उसकी चूत भी सहला रहा था, जिससे उसका मज़ा दुगुना हो गया.

करीब दस मिनट बाद पूरा लंड अन्दर बाहर होने लगा था. मेरी बहन भी मस्ती से अपने भाई से गांड मरवा रही थी.

फिर एक जानदार चुदाई का अंत होने वाला था. मैंने अपने हाथ और लंड दोनों की स्पीड बढ़ा दी … और हम दोनों एक साथ झड़ गए. मैं उसकी गांड में और वो मेरे हाथ में.

उसके बाद उसकी सफाई करके उसके ऊपर लेट गया. मैंने घड़ी में टाइम देखा तो पांच बज रहे थे.

वो सो गई थी. मैंने उसको जगा कर जाने का बोला तो वो बोली- कल भी आओगे न?
मैंने उसको हां बोला और वापस अपने घर आ गया.

उसके बाद मैंने उसके साथ इन तीन महीनों में न जाने कितनी बार चुदाई की है, वो भी पूरे जोश के साथ मेरा इन्तजार करती है.

वैसे तो मैं मारवाड़ी जरूर हूँ, तो मुझे पता है कि मारवाड़ी बिस्तर में कैसे होते हैं.

ये मेरी पहली सेक्स कहानी है, बाद की कुछ याद भरी चुदाई की कहानियों के साथ मैं फिर मिलूंगा. मैं आपका जय आपसे जानना चाहता हूँ कि आपको मेरी बहन की चुत चुदाई की कहानी कैसी लगी. प्लीज़ कमेंट्स करके जरूर बताइएगा. और सेक्स विडियो और new कहानी पढने के लिये telegram ग्रुप join कर सकते है.
[email protected]

use

Read in English

bahan ke chuche choos kar gaand chudaee best antarvasna 2 cudai khaniya

best antarvasna 2 cudai khaniya: My distant sister came home, she needed some money. I gave When I went to get the money back, I was cooking. Her blond pussy filled with sweat tempted me.

Hello Friends, My name is Jai. I am a Marwari youth of 28 years. I am from Rajasthan Jodhpur. My height is 5 feet 9 inches and the size of my penis is seven and a half inches.

This is my first story on Mast Hindi Story. By the way, I am far ahead in terms of sex. Till now I have given many girls and aunts the pleasure of fucking in bed best antarvasna 2 cudai khaniya.

If she seems to be my distant sister, then she used to come to my family. I had never seen him before from Chodane’s eyes.
But one day she suddenly came to my house, she needed some money. I gave him money.
He said- I will return in two-four days.
I said – okay… never mind best antarvasna 2 cudai khaniya.

After two or three days I needed money for the night’s drink, so I tried here and there. Then I remembered that I had given it to my sister, I withdraw money from it, then my work will be done.

I called him.
She said – OK come home and take it… but it is half now.
I said – no problem, I will be done in this best antarvasna 2 cudai khaniya.

When I went to her house, I saw that she was making vegetable bread and looked a bit upset.
I asked him like this – what happened… Do you feel upset?
She said – your brother-in-law will not come home for four to five days… and I feel a little scared to be alone best antarvasna 2 cudai khaniya.

By the way, he has a boy and a girl. Both of them are 10 to 12 years old. Even then, a woman is alone. She was sitting near the gas, soaked with sweat from the heat.

Then my eyes went on her pussy. For the first time I had sensual thoughts for him. When I looked carefully, his size was very cool. Seeing his naan maps, then everyone could go mad. I just slipped best antarvasna 2 cudai khaniya.

Then he saw me staring at his mother. As soon as I saw him, I turned my head to the other side.

After talking to him for some time, I said – I will go, give me the money, it is eight o’clock.
That quote – what do you want money for?
I spoke to him boldly – today is the mood to drink, that’s why best antarvasna 2 cudai khaniya.

He gave the money smiling and said- Where will you sit and drink?
I said – I will sit somewhere and drink it.
He said that if anyone sees outside, it will not be good. You come to my house to drink and eat here too.
Looking at him, I said – OK, no problem. What will you have
He asked to bring ice cream for the children best antarvasna 2 cudai khaniya.

I took money from my sister and brought ice cream for me and Daru and her children from the shop.
The children had eaten their food. She started eating ice cream with children in another room.

I made my peg sitting outside in the drawingroom and started drinking. I was drinking slowly.
Then I heard that the sister said to her children that now both of you go to sleep, both me and uncle will eat together best antarvasna 2 cudai khaniya.

The children went to sleep and she went to take a bath. I was enjoying a drink sitting in an outside room.

I started feeling a little sick. Lund was starting to get desperate and some time ago her sweaty wet tits started erecting my cocks. I thought that the sister should be seen taking a bath best antarvasna 2 cudai khaniya.

I just went to the bathroom and tried to watch her take a bath. From the net above the bathroom gate, I must have seen him for two or three seconds that his eyes fell on me. As soon as I get my eyes on him, I understand that my life has come in trouble best antarvasna 2 cudai khaniya.

I came straight into the room and finished the peg and left his house without informing him. I picked up the bottle that was left in the bottle and started walking on the road outside.

Then his call came – why didn’t you eat the food… and why did you go without speaking?
I thought that she would call me home and tell me something best antarvasna 2 cudai khaniya.

I thought, whatever will happen will be seen. I told him – I went to get a little cigarette, I will come now.
Then I took a cigarette packet from the paan shop and came to his house.

She was wearing normal clothes. He opened the gate. I said that I am in a hurry, you give me a quick meal, I have to go home.

He looked at me smiling and brought food for both of us to the room.
We both started eating food best antarvasna 2 cudai khaniya.

While eating, he finally asked me – why did you see me in the bathroom?
I said – just like that.

She showed some displeasure and went to her room, saying no food. I also did not like it, so I went after it. She was crying in her room. I grabbed his hand and made him swear that he said to eat food best antarvasna 2 cudai khaniya.

She started looking at me, so I held her hand and brought it back. She was coming with me from restless. He came out and ate some food with me.

Then I said that okay, I will go now.
She looked at me and said- Don’t stop here today!
I said – what will I say at home?
Thinking something, he said to call the house best antarvasna 2 cudai khaniya.

I called my father that my friend has work, I will stay at his house at night.
I got permission from my father.

I said to him – Okay, I sleep in the room outside, sleep with you children.
She said – okay when I sleep, then I will leave.
I said while looking at it – okay best antarvasna 2 cudai khaniya.

I lit a cigarette. She started seeing me smoking cigarettes.
After talking with him here and there for a while, he again asked me the same thing again.
I also said that I was watching just like this best antarvasna 2 cudai khaniya.

I fell silent speaking like this. She too became silent.
When I looked at him, I saw a slight smile on his face.
I asked – what happened, why are you laughing?
He said – nothing, I was just laughing like this best antarvasna 2 cudai khaniya.

I told him that you sleep now.
He said – I am not sleeping… You sleep.
I lay down He placed his hand on my head and said never to do so now.
I said – Ok.
She kept stroking my head best antarvasna 2 cudai khaniya.

Then I said – you are very beautiful, I wanted to see you, so I started thinking about it.
She said – So what she was seeing from the bathroom, I can also see outside.

I understood that something is going on in his mind also. I told him daringly – show your mother once today, I will never speak again.
She got a little annoyed with this thing and started looking at me with eyes best antarvasna 2 cudai khaniya.

I said – do not show OK, I will never come to your house now.
He said – man that is not the case, if anyone knows this, what will happen.

I knew his wish and persuaded him by putting it in talk. She showed a little scene by opening the blouse hook above.
I said – show it all! best antarvasna 2 cudai khaniya.

After a while, my sister opened her entire blouse. I asked her to open the bra too, so she refused.

I told him to top up the bra that I do not open well… top it up.

She agreed Seeing his cool juicy mummies, my mind got upset. His chubby big milk looked very intoxicating. Seeing the black nipples on her mums, my cock was erect v

I asked her to touch
She laughed and said no man.
Nevertheless, I gently held one of his milk and pressed it.

He quickly turned his face to the other side. Considering her wish, I slowly started caressing her two moms best antarvasna 2 cudai khaniya.

Now his heartbeat and my heartbeat started growing. I slowly put my lips on a mamme’s nipple and started sucking. He refused for a while, then he did not say anything.

While sucking my sister’s milk, I started running my hand on her waist and legs. With which he first saw my face up and then put his lips on my lips. I also started sucking lips best antarvasna 2 cudai khaniya.

Now the atmosphere of the room had become somewhat warm. I slowly started to rotate the hand between her legs and started caressing her pussy on top of the tights. Sister’s pussy was feeling very wet. She was starting to become a cock best antarvasna 2 cudai khaniya.

I pulled him into my arms. She came in my full enthusiasm. I took my hand down and began to scrape her pussy rash with a finger, which caused her eyes to turn from fun.

After some time I told him – I have to kiss on the bottom.
At first he refused, then said- I do not believe if I refuse… do what you have to do best antarvasna 2 cudai khaniya.

I removed her tights by putting clothes on top and licked her pussy rash with my tongue. His alcoholic moan came out. I started licking her whole pussy with a tongue, alcoholic cicacias started coming out of her mouth.

Now she herself started pressing my head with her both hands on her pussy. I started to lick my tongue in the pussy.
Then suddenly he left his water on my mouth and became completely exhausted best antarvasna 2 cudai khaniya.

I started kissing on her lips and mummies to warm up again, so she started pulling me on top of her.
I took off my pants and asked him to caress my cock with his hand.
She started shaking her hand on my cock and said- Your cock is very good.
I said – don’t you suck it too best antarvasna 2 cudai khaniya.

You all know Marwari women like this job less. But I am also stubborn. After explaining me for some time, my sister agreed.

My sister started sucking my cock. He refused after sucking cocks for a while.
I said to him after sometime, let’s do the work now, which calms the fire.
She went shy.

I told him – you close your eyes best antarvasna 2 cudai khaniya.

He closed his eyes. After that, I set my cock on her pussy and slowly piled it. A slight scream came out of her… but she went to my cock.

I slowly started licking the cock inside. Her sexy giggles started growing. I put my lips on her lips and increased my speed slightly. My shaking started to worsen his condition best antarvasna 2 cudai khaniya.

After fifteen minutes he said – Wait.

I took my cock out and started kissing him. My cock was completely wet with her pussy. I cleaned the cocks with my underwear and lay down straight. When she saw me lying down, she started looking lustfully towards my standing cocks best antarvasna 2 cudai khaniya.

When I asked her to come over, she agreed. He set his position on me and took my cock and took it in his pussy. Now I was jerking very hard from below and she was having fun bouncing her ass.

After some time, his body began to stiffen, so I also increased my speed. Just a few moments later we both collapsed one after the other. I licked him by sticking him on my chest best antarvasna 2 cudai khaniya.

We were both very tired. When we caught our eye, we did not know anything.

Probably at three or four o’clock my eyes opened if I did not have them. When I went to her room to see her, she was sleeping blind.
I sat near him and started turning his hand on his waist and ass best antarvasna 2 cudai khaniya.

He held my hand and said- Go, sleep outside.
I said, man, if you have a chance today, come… otherwise when will we meet again.
He too said yes to the fun and said- You go outside to the room… I come.

I came out and sat down. I had again made a liquorice peg and smoked cigarettes.
After ten minutes she came to me and started crying with me best antarvasna 2 cudai khaniya.
When I asked, he said – the fun that has been enjoyed today, has never come in life.
I said – it is yet to be morning my life… go see what happens.

After that I asked him for a liquor, then he lifted the glass and pulled it completely in one stroke and took a cigarette from my hand and started to taste the mouth.
After this we both drew a peg.

The fun of addiction was beginning to dominate. We both hugged. I put kiss on her lips, neck and mummies best antarvasna 2 cudai khaniya.
She started giggling and opened her clothes and lay down.

I moved my hand on her pussy, then she lifted her ass and said – lick it like it was in the night.

By lying on her, I started playing the magic of my tongue on sister’s pussy. She started licking Chudas, juice started flowing from her pussy. Whom I licked and licked best antarvasna 2 cudai khaniya.

Later I asked her to suck cocks, so this time she agreed to pickup. He took my cock in his mouth in a jerk and started licking. I started planting sea dives.

After some time I asked her to become a mare, then she quickly became ready.

I grabbed her from behind and set my cock on her pussy and started fucking her sister. With the rubbing of cocks, she started giggling harder.
I told him not to shout, don’t make a loud noise best antarvasna 2 cudai khaniya.
But his siskaris did not stop. After some time he said – I will come up as before.

I lay down and she came up and started having fun bouncing ass ass loudly. I started pressing her moms hard, which worsened her condition. She started wetting my cock with her juices.

I asked her to become a mare, then she became a mare. This time I used to rotate my cock on her pussy and ass for a long time. She was starting to cry best antarvasna 2 cudai khaniya.
She started saying – Do cocks inside, right?
I was trying to kill his ass, so I said – what should I do a little bit back?

He refused at first, later agreed to my oath. I got up and took ghee from the kitchen and came back and smoothed his ass and my cock with finger.

Now I said to my sister – there will be some pain… but later on it will be fun too.
She said – okay… but when I say, then stop best antarvasna 2 cudai khaniya.

I said yes and set the cocks on the ass and said – now you loosen the ass and slowly push back.

that does it. Here I was also trying to pour cocks in my sister’s ass very slowly.

He got mild pain as soon as the cistern was inserted, I increased the smoothness of the ass while dripping ghee. In the same way, by slowly, I stuck the whole cocks in sister’s ass and stopped and started rubbing her mums best antarvasna 2 cudai khaniya.

He began to rub his pussy. Her pain kept on going and she opened up to kill the ass.

Now I was slowly making in and out of her hand and stroking her pussy, which made her enjoy double.

After about ten minutes the whole cocks started coming out. My sister was also getting her brother killed by fun.

Then a fatal fuck was coming to an end. I increased the speed of both my hands and cocks… and we both collapsed together. I in his ass and he in my hand.

After cleaning it, he lay down on it. When I looked at the clock, it was five o’clock best antarvasna 2 cudai khaniya.

She had fallen asleep If I asked him to wake me up, he said – will you come tomorrow too?
I said yes to him and came back to my house.

After that I have not known how many times I have sex with her in these three months, she also waits with full enthusiasm.

By the way, I am definitely a Marwari, so I know how Marwari are in bed best antarvasna 2 cudai khaniya.

This is my first sex story, I will meet again with some of the later missed stories of sex. I want to know from you how you liked the story of my sister’s kiss. Please tell me by commenting. And to read sex videos and a new stories, the telegram group can join.
[email protected]

Read more Brother Sister Sex Stories-

Real Chudai stories बुआ की बेटी की गांड चुदाई 1 best Sex

सगे रिश्तों में चूत चुदाई का आनंदमिये सुख Best antarvasna 2

Cousin Fuck Story 1 चचेरी बहन की सील तोड़ की चुदाई Real Sex

3 thoughts on “बहन के चुचे चूस कर गांड चुदाई best antarvasna 2 cudai khaniya”

  1. [url=http://sildenefil.com/]buy sildenafil paypal[/url] [url=http://aralen.us.org/]chloroquine phosphate buy online[/url] [url=http://ahydroxychloroquine.com/]generic plaquenil coupon[/url] [url=http://sildallis.com/]generic sildalis[/url] [url=http://femalecialis.com/]60 mg cialis online[/url] [url=http://chloroquine2020.com/]aloquin[/url] [url=http://erythromycin365.com/]erythromycin 2 gel[/url] [url=http://sildenafilt.com/]sildenafil 120 mg[/url]

    Reply

Leave a Comment