Desi xxx kahani पति समझ माँ ने चुदाई की अपने बेटे से 1 best

पति समझ माँ ने चुदाई की अपने बेटे से Desi xxx kahani

Desi xxx kahani: हम भाई बहन की चुदाई में हमारे माँ बाप रुकावट ना बनें, इसलिए मैंने योजना बनाकर बाप बेटी की चुदाई करवा दी. अब माँ को रिश्तों में चुदाई के खेल में शामिल करना था.

बाप बेटी, भाई बहन की चुदाई कहानी के पहले भाग
बहन को भाई और पापा ने मिलकर चोदा
में अपने पढ़ा कि कैसे मेरी बहन के साथ मिल कर मैंने बाप बेटी की चुदाई करवायी और उसमें मैं भी शामिल था.
अब आगे:

तो दोस्तो, फिर मैं माँ के कमरे में चला गया और पापा पूर्वी के पास चले गए।

माँ के बारे में मन में सोच सोच के ही मेरा लंड खड़ा हो चुका था।

जब मैं माँ के कमरे में गया तो वो सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट में आँखें बंद करके लेटी हुई थी। माँ को पता नहीं था कि पापा की जगह मैं उनके बाजु में लेटा हुआ हूं.
मैंने थोड़ा सब्र किया।

मैं यह जानता था कि माँ ने भी काफी समय से चुदाई नहीं की है और वो मेरे मनाने से मान जायेगी।

माँ ने पीला ब्लाउज और पेटिकोट पहना हुआ था और वो दूसरी तरफ करवट करके सो रही थी।

मैंने 1 बजने का इंतज़ार किया ताकि माँ सो जाये. और सोचता रहा कि उधर तो पापा अपनी बेटी पूर्वी की चूत फाड़ रहे होंगे।

जब 1 बजा, मैं धीरे धीरे अपना हाथ माँ के पेट पर घुमाने लगा. मेरा मन तो कर रहा था कि हाथ थोड़ा और नीचे ले जा कर नाड़ा खोल दूँ और चूत में अपनी उंगली घुसेड़ दूँ. पर मैं जल्दबाजी नहीं करना चाहता था।

मुझे जब लगा कि माँ सो गई है, मैं ब्लाउज के ऊपर से ही उनके दूध दबाने लगा। उनकी इतनी उम्र होने के बाद भी ऐसा लग रहा था मानो जैसे 20 साल की लड़की के गदराए ताज़े ताज़े बोबे हों। मैंने एक एक करके ब्लाउज के सारे बटन खोल दिए. फिर पीछे से ब्रा का हुक भी खोल कर उनके स्तनों को पिंजरे से आज़ाद कर दिया और उन्हें ब्रा से बहार निकाल कर ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा।

तब मैं अपना खड़ा लण्ड पीछे से ही पेटीकोट के ऊपर से ही उनकी गांड के दरार में फंसाकर घिसने लगा।

पति समझ माँ ने चुदाई की अपने बेटे से Desi xxx kahani

कुछ देर में मेरा हाथ माँ ने पकड़ लिया. मैं डर गया पर माँ ने मेरा हाथ पकड़ उनके स्तन से हटाकर उनकी चूत में रख दिया।

मैं समझ गया कि माँ अभी भी जागी हुई है पर वो मुझे अभी भी पापा समझ रही है. पर मैंने अपना काम जारी रखा, उनके पेटीकोट का नाड़ा खोल कर उनकी काली रंग की पैंटी को नीचे सरका दिया और उनकी चूत में एक उंगली डाल कर आगे पीछे करने लगा।

माँ धीरे धीरे सिसकारियां लेने लगी, मैं उनकी तेज़ हुई साँसों की आवाज़ सुन सकता था।
फिर मैंने उनका पेटीकोट और पैंटी दोनों उतार कर नीचे फेंक दी। फिर उन्हें सीधा करके उनकी चूत के पास अपना मुंह ले गया और चूत की खुशबू सूंघने लगा। माँ की चूत बिल्कुल साफ़ थी. शायद आज ही शेव किया होगा।

माँ की चूत भी मेरी बहन की चूत की तरह ही चिकनी थी.

मैंने उनकी चूत की फांकों को खोला और उसमें अपनी जीभ डालकर उन्हें चूसने लगा.

पति समझ माँ ने चुदाई की अपने बेटे से Desi xxx kahani

इससे माँ की सिसकारियां थोड़ी तेज़ हो गयी और वो उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज़ करने लगी। उनकी चूत में से हल्का हल्का पानी निकल रहा था जो बहुत स्वादिस्ट लग रहा था.

मैं माँ की चूत को पूरा मुंह में भरकर चूस रहा था. तब तक माँ ने अपनी ब्रा और पैंटी भी निकाल दिया।

माँ इतनी जल्दी कहाँ झड़ने वाली थी। थोड़ी देर चूत चूसने के बाद अब बारी उनकी थी. मैं भी जल्दी से पूरा नंगा होकर लेट गया और वो मेरा लण्ड चूसने के लिये अपना मुंह मेरे लण्ड के पास ले आई. और धीरे से अपनी जीभ मेरे लण्ड के ऊपर वाले भाग पर घुमायी. फिर मेरा लण्ड पूरा अपने मुंह में भर लिया.

जैसे ही लण्ड को उन्होंने मुंह में लिया … मानो मैं खुद को जन्नत में महसूस करने लगा।
मेरे सुख का अंदाजा नहीं लगा सकते आप दोस्तो!

पर मेरा लण्ड चूसते ही उन्हें शक हुआ क्योंकि वो तो मुझे पापा ही समझ रही थी।
तो उन्होंने लाइट ऑन कर दी।

उस लाइट के उजाले में मैं और माँ दोनों नंगे एक दूसरे को देख रहे थे.
क्योंकि जो पिछले 15- 20 मिनट में जो हम कर रहे थे वो माँ बेटे के बीच सामान्यतः नहीं होता है।

माँ चौंक गयी थी.
फिर उन्होंने पेटीकोट उठाकर अपने आप को ढका और मुझसे डांटते हुआ पूछा- ये सब क्या है?
मैंने कहा- सॉरी माँ, पर मैं अपने आप को रोक नहीं पाया क्योंकि पहले आप एक औरत है फिर मेरी माँ हैं।
माँ ने कहा- कुछ भी हो पर एक माँ और बेटे के बीच ऐसा कुछ नहीं होता।

फिर मैंने उन्हें समझाया- माँ आप जानवरों को ही देख लीजिए. कैसे एक बार गांव में दादाजी ने बकरी को गर्भ करने के लिए अपने घर के ही एक बकरे के साथ सहवास करवाया था जबकि वह बकरा वही था जो उस बकरी ने 2 साल पहले जना था. इस हिसाब से तो वो बकरी उस बकरे की माँ थी न!

माँ ने संकोच करते हुए कहा- पर बेटा, वो जानवर है हम इंसान, ये सब गलत है।

फिर मैंने उनका एक हाथ लिया और अपने लण्ड पर रखा और कहा- अगर ऐसा नहीं होता प्रकृति में तो क्या ये मेरा लण्ड आपके लिए खड़ा होता? और क्या आपको फिर से गर्भ दिला सकता? बोलो माँ? अगर एक माँ बेटे के बीच ऐसा नहीं होता तो आपने जब तक मुझे नहीं देखा था तो क्या आप चुदाई नहीं करना चाहती थी?
“पर … बेटा!” माँ ने चिंता से कुछ कहना चाहा.

“पर वर कुछ नहीं माँ, अपनी माँ के साथ सेक्स नहीं कर सकते, ये सब मिथ्या है असल में ऐसा कुछ भी नहीं है।”
माँ ने कुछ सोचते हुए कहा- ठीक है. पर तू वादा कर कि बाहर किसी को नहीं बतायेगा।
“पक्का वादा माँ … मैं ये किसी से नहीं कहूंगा। चलो न अब देखो न ये कितना उछाल मार रहा है.” मैंने अपने लण्ड की ओर इशारा करते हुए कहा.

माँ हल्का सा मुस्कुराई और कहा- चल लेट जा।
और वो मेरा लण्ड चूसने लगी।
मैं बस उन्हें ही देखे जा रहा था और सोच रहा था कि मेरी माँ नंगी कितनी ख़ूबसूरत लग रही है. उनका गोरा गोरा जिस्म मेरे दिल को बहुत सुकून दे रहा था।

फिर मैंने कहा- माँ, आप उल्टी होकर मेरे ऊपर आकर लण्ड चूसो।
माँ ने कहा- ओह मतलब बेटा तुझे 69 करना है?
“हां माँ” मैंने कहा।

और वो मेरे ऊपर आ गयी.

माँ की चूत की खुशबू मुझे मदहोश किये जा रही थी. हमने ऐसे ही एक दूसरे को झड़ा दिया। मैं मेरी माँ का सारा माल पी गया. सच में बहुत टेस्टी था.

और झड़ने के बाद मैंने माँ को गले लगाया और शुक्रिया कहा।

उन्होंने कहा- बेटा, अभी तो जरूरी काम बाक़ी है।
वो मेरे लण्ड को सहलाती रही थोड़ी देर में ही लण्ड फिर से टनटनाने लगा।

मैंने माँ को सीधा लिटाया और और उनकी टांगों को फैलाया और माँ ने मेरा लण्ड अपनी चूत पर सेट किया.
उन्हें क्या पता था कि मैं पहले ही चुदाई कर चुका हूं वो भी अपनी बहन की!

मैंने एक ज़ोर के झटके के साथ पूरा लण्ड उनकी चूत में पेल दिया और उनकी चुदाई करने लगा।

पति समझ माँ ने चुदाई की अपने बेटे से Desi xxx kahani

उनके चेहरे पर खुशी साफ़ झलक रही थी। वो हल्की हल्की अह उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज़ निकाल रही थी।

फिर थोड़ी देर बाद माँ से मैंने घोड़ी बनने को कहा तो उन्होंने मना किया और कहा- बेटा तेरे पापा आ जायेंगे।
मैंने कहा- नहीं आएंगे माँ, वो सो गए हैं।
और मैंने खुद ही उन्हें पलट दिया, वो घोड़ी बन गयी.

फिर पीछे से मैंने अपना लण्ड सेट किया और चोदना शुरू कर दिया। फिर मेरा वीर्य गिरने वाला था तो मैंने कहा- माँ पियोगी क्या?
तो उन्होंने कहा- क्यों नहीं बेटा!
और मैंने अपना लण्ड उनकी चूत से निकालकर मुँह में दे दिया और झड़ गया. वो मेरा सारा माल पी गयी।
उस रात मैंने माँ की गांड भी मारी।

दिन के 11 बज चुके थे रात भर चुदाई की वजह से माँ और मैं लेट सो कर उठे. और यही नहीं, पापा और पूर्वी भी देर तक सो ही रहे थे. आखिर उन्होंने भी तो रात भर चुदाई की है।

माँ तैयार होकर दोपहर का खाना बना रही थी, मैं वैसे ही नंगा कमरे से बाहर आया, पूर्वी सो रही थी।
मैं रसोई में चला गया, माँ मुझे नंगा और मेरा खड़ा लण्ड देख चौंक गयी और बोली- बेटा पूर्वी घर में है, वो देख लेगी।
मैंने कहा- वो सो रही है.

फिर मैंने पूछा- क्या आपने नाश्ता किया माँ?
तो उन्होंने- नहीं बेटा, अभी नहीं।

मैंने अपने लण्ड की तरफ इशारा करते हुए कहा- क्या आप ये टेस्टी नाश्ता करना चाहेंगी?
तो माँ मुस्कुरा दी और और नीचे बैठ कर मेरा लण्ड चूसने लगी और चूसने के बाद मेरा रस पी गयी।

फिर माँ ने कहा- चल बेटा, अब जल्दी जा और कपड़े पहन ले।

मैं रात होने का इंतज़ार करने लगा. मैं आज रात को भी माँ को अच्छे से चोदना चाहता था।

शाम को जब पापा घर आये तो वो पूर्वी दोनों बहुत ही खुश लग रहे थे। पापा मेरे पास आये और कहा- आज रात तू सो जा पूर्वी के साथ।
अब उन्हें कहाँ मालूम था कि मेरी इच्छा क्या है।
लेकिन मैंने हाँ में सर हिला दिया।

रात को खाना के बाद माँ ने कहा- तुम सब मेरे कमरे में आना अभी!
यह सुनकर पापा डर गए की कहीं माँ को उनके और पूर्वी के बारे में तो नहीं पता चल गया।

पापा मेरी तरफ देखने लगे.
मैंने धीरे से कहा- मैंने कुछ नहीं बताया।

फिर बाद में मैं और पूर्वी माँ पापा के कमरे में गये। पापा के चेहरे पर डर साफ़ दिखाई दे रहा था साथ ही मैं ये सोच रहा था कि आखिर माँ ने बुलाया क्यों।

हम लोग सभी एक पलंग पर बैठ गए.

माँ ने कहा- पूर्वी, अब तुम अब बड़ी हो चुकी हो इसलिए तुम्हें सेक्स के बारे में बताने की जरूरत नहीं तुम जानती ही होगी।
पूर्वी ने हाँ में सर हिलाया।

“हम लोग एक प्यारा परिवार हैं, पर तब भी हम रिश्तों में उलझे हुए हैं और एक दूसरे से चुदाई नहीं कर पाते।”
पापा ने बन कर कहा- ये तुम क्या बोल रही हो शिवानी? आखिर ये कैसे हो सकता है कि एक बाप अपनी ही बेटी को चोदे।
माँ ने कहा- जी, जब दुनिया में पहली बार इंसान आये तो उनमें कोई रिश्ते नहीं थे और उनकी संतानों ने भी तो आपस में सेक्स किया ही होगा तभी तो और इंसान पैदा हुए।

मैं खुश था कि आखिर माँ कल रात की मेरी बात समझ चुकी है.

पूर्वी ने कहा- तो क्या माँ, भैया भी आप को चोद सकता है?
“सिर्फ मुझे ही नहीं बेटी, तुम्हें भी!” माँ ने कहा
पूर्वी- पर कैसे माँ?

मैंने माँ की साड़ी का पल्लू हटाया और ब्लाउज के ऊपर से ही उनके स्तन दबाने लगा।
माँ ने मुझे कहा- रुक जा बेटा अभी!
और पूर्वी का एक हाथ पकड़ कर पापा के लण्ड पर रख दिया। पापा का लण्ड पजामे में ही टनटनाने लगा।

फिर माँ ने पापा से कहा- क्या तुम्हारे अंदर वासना नहीं जागी? अगर प्रकृति रिश्ते नहीं देखती तो फिर हम कौन होते हैं।

पूर्वी ने कहा- आप सही कह रही हो माँ।
मैंने कहा- तो देर क्यों कर रहे हो? जल्दी से अपने अपने कपड़े उतारो सब।

हम सबने अपने कपड़े उतार कर नीचे फेंक दिए।

माँ ने कहा- पूर्वी बेटी, पापा बड़े है तो तुम्हें भाई से पहले उनका आदर करना होगा, तुम पहले उनका लण्ड चूसोगी।
मैंने कहा- माँ, तो तुम फिर मेरा लण्ड चूसो।
माँ मुस्कुरायी और कहा- हां बेटा, क्यों नहीं।

पूर्वी पापा का लण्ड बिल्कुल रंडी की तरह अच्छे से चूस रही थी और वो आप लोग जानते ही हो क्यों।
यह देखकर माँ ने मेरा लण्ड मुंह से निकाल लिया और बोली- पूर्वी तुमने ये कहाँ से सीखा?

तो मैंने माँ का चेहरा पकड़ा और उनके मुंह में अपना लण्ड डाल दिया और कहा- माँ, मैं आपको सब बताता हूं. जब आप लोग शादी में बाहर गए थे, तब पूर्वी और मैंने चुदाई की थी. और जब आप आपकी सहेली के साथ बाहर गयी थी तब पापा ने भी पूर्वी की चुदाई की।

माँ ने आश्चर्य से कहा- मतलब बेटा, कल रात जब तुम मुझे चोद रहे थे तब तुम्हारे पापा पूर्वी को चोद रहे थे?

तभी पूर्वी और पापा भी चौक पड़े कि ये जानकर कि मैंने और माँ ने भी चुदाई की हुई है।
अब सबके बीच सबकुछ साफ़ था।

काफी देर लण्ड चूसाई के बाद पूर्वी ने कहा- माँ, आप भैया का रस मत पीना. मैं भैया और पापा का रस साथ में पीना चाहती हूँ.
तो माँ ने हंस कर कहा- ठीक है।
माँ के मुंह से लण्ड चुसवाते मैं झड़ने वाला था और पापा भी।

पूर्वी पलंग से नीचे घुटनों के बल बैठ गयी तो मैंने कहा- माँ आप भी आ जाइये न!
तो माँ भी वहीं पूर्वी के बाजू में घुटनों के बल बैठ गयी.

पूर्वी दोनों हाथ से पापा और मेरे लण्ड को आगे पीछे ज़ोर से करने लगी और दोनों लण्ड मुंह में भर लिया.
और मैंने और पापा ने उसके मुंह में अपना अपना वीर्य गिरा दिया।

माँ ने कहा- मुझे भी मिलेगा या नहीं?
तो पापा और मैंने मुस्कान के साथ अपना थोड़ा माल माँ के मुंह में भी दे दिया.
माँ ने हम दोनों के लण्ड को चाट कर साफ़ भी कर दिया।

पूर्वी बोल पड़ी- वाह, बहुत स्वादिस्ट था ये तो!

माँ बोली- अब हमारी चूत भी तो बाकी है.

तो पापा ने कहा- उसके लिए तेरा बेटा है न … मैं तो मेरी परी जैसी बेटी की चूत चूसूंगा।
पूर्वी ने कहा- हाँ … और मैं सिर्फ पापा की परी हूँ।
तो मैं भी बोल पड़ा- और मेरी माँ परियों की रानी है.

माँ को लिटाया मैंने, उनकी टांगें फैलायी और उनकी चूत में मुंह डाल कर चूसने लगा. माँ ने मेरे बालों पर हाथ फिराया और कहा- सही कहा मेरे राजकुमार।

पति समझ माँ ने चुदाई की अपने बेटे से Desi xxx kahani

मैं माँ के स्तनों को भी दबाये जा रहा था. माँ के स्तन पूर्वी से बड़े थे पर पूर्वी के स्तन थोड़े छोटे होने की वजह से पापा तो उनको निचोड़े जा रहे थे.

कुछ देर बाद पूर्वी की एक टांग उठाकर पापा ने अपने कंधे पर रखा और अपना पूरा लण्ड एक बार में ही उसकी कमसिन चूत में पेल दिया और ज़ोर ज़ोर से चोदने लगे, पूर्वी भी खुल कर ज़ोर ज़ोर आवाजें निकाल रही थी।

बाप बेटी की चुदाई देख कर माँ ने उत्तेजित होकर कहा- बेटा, अब और मत तड़पा अपनी माँ को, फाड़ दे ये चूत मेरी!
मैंने कहा- ठीक है माँ।
और मैं पलंग पर लेट गया।

माँ समझ गयी कि उनको मेरे ऊपर आना है और वो आ गई।
उन्होंने अपने हाथों से मेरे लण्ड को उनकी चूत में सेट किया और वो उसपर बैठ गयी. मेरा माँ उछल उछल कर अपनी चूत चुदवाने लगी।
मैं भी पूरी उत्तेजना में पूरी ताकत से ज़ोर ज़ोर से अपनी गांड उठाकर उनको चोद रहा था।

माँ मेरे लण्ड पर उछल रही थी और उनके साथ उनके उछलते हुए स्तनों को मैंने अपने दोनों हाथों में थाम लिया और ज़ोर से मसलने लगा।

कुछ देर बाद पूर्वी बोली- माँ को भी डबल मज़ा तो दो।
तो माँ ने कहा- मतलब?

पापा ने बोला- आज तेरी चूत के साथ साथ गांड भी चोदेंगे।
तो माँ ने चौंक कर कहा- मतलब दोनों बाप बेटे एक साथ?
माँ थोड़ा डर गई और कहा- नहीं नहीं … मैं दो लण्ड एक साथ नहीं ले सकती।

तो मैंने कहा- बिल्कुल ले सकती हो माँ आप, अगर पूर्वी ले सकती है तो आप क्यों नहीं माँ!

माँ ने पूर्वी को आँखें बड़ी करके आश्चर्य से देखा।
पूर्वी बोली- हाँ माँ, और तो और इसमें मज़ा भी बहुत आता है।

मैंने माँ को अपने ऊपर लेटा लिया उनके स्तन मेरे सीने से ज़ोर से दबने लगें और मेरा लण्ड उनकी चूत में यूँ ही फंसा रहा।
पापा माँ के पीछे आ गये।

माँ पापा से बोली- देखो जी, आराम से करना आप।
फिर पूर्वी ने माँ की गांड में थूका और और पापा के लण्ड को अपने थूक से मलकर चिकना किया।

माँ ने आँखें बंद कर ली और मैं उनके होंठों को चूसने लगा. पापा ने धीरे धीरे अपना लण्ड उनकी गांड में पूरा डाला। कुछ देर हम ऐसे ही रुके रहे. फिर कुछ देर में पापा लंड आगे पीछे करने लगे और माँ ने आँखें खोल ली और उन्ह उन्ह उन्ह की आवाज़ करने लगी।

फिर मैं भी धीरे धीरे लण्ड आगे पीछे करने लगा और फिर पापा और मैं तेज़ी से माँ को चोदने लगे।
माँ ने कहा- बेटा, तुम दोनों भाई बहन भी तो एक बार मेरे सामने चुदाई करो।

मैंने कहा- क्यों नहीं माँ!
और फिर माँ मेरे ऊपर से हट गई और बाजु में लेट गयी.

पापा अपना लण्ड माँ की चूत में डालकर चोदने लगे।
मैंने कहा- चल आ जा मेरी प्यारी बहन, चल घोड़ी बन जा।
और वो बड़े प्यार से घोड़ी बन कर अपनी गांड मटकाने लगी।

फिर मैं पीछे से उसकी चूत में लण्ड डालकर ज़ोर से चोदने लगा।

अब हम सब चुदाई की अंतिम सीमा पर थे जिस वजह से पूरे जोश में चुदाई कर रहे थे।

कमरे में पूर्वी और माँ की चुदाई की कामुकता भरी आवाजें गूंज रही थी और वो दोनों भी खुलकर ज़ोर ज़ोर से आवाजें निकाल रही थी जो मेरी अन्तर्वासना को बढ़ा रही थी और मैं ज़ोर ज़ोर से पूर्वी को चोदे जा रहा था।

कुछ देर में माँ बोली- मैं झड़ने वाली हूँ।
और पापा भी बोले- मैं भी!
और दोनों झड़ के शांत हो गए.

लेकिन मैं अभी भी पूर्वी को चोदे जा रहा था और कुछ देर बाद हम भी झड़ कर शांत हो गए।
उस रात हमने मिलकर बहुत चुदाई की।

उसके बाद घर में हम नंगे ही घूमते और जब पापा ऑफिस जाते तब पूर्वी और माँ को मैं एक साथ चोदता।

हमें 4 महीने बाद पता चला कि पूर्वी और माँ दोनों पेट से हैं.
9 महीने बाद माँ ने एक लड़की को जन्म दिया और पूर्वी ने एक लड़के को।

जब हमने मेडिकल जांच कराई तो पता चला की माँ के पेट में मेरी बच्ची थी और पूर्वी के पेट में पापा का बच्चा था।
हम सब की खुशी का ठिकाना नहीं रहा और अब हम सब बहुत खुशी से मिल जुल कर रहते हैं। आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताए. और सेक्स विडियो और new कहानी पढने के लिये telegram ग्रुप join कर सकते है.

पति समझ माँ ने चुदाई की अपने बेटे से Desi xxx kahani

Read in English

maa beta xxx story – Desi xxx kahani

Desi xxx Kahani: We should not be hindered by our parents in the fuck of our siblings, so I planned and got the father daughter’s fuck done. Now mother had to be involved in the game of sex in relationships.

Father daughter, siblings first part of chudai story
Brother and father got fuck by sister
I read about how together with my sister, I got father’s daughter fuck and I was also involved in that.
Now further on Desi xxx Kahani.

So friends, then I went to mother’s room and Papa went to Eastern.

Thinking about my mind, my cock had been erected.

When I went to my mother’s room, she was lying down in a blouse and a petticoat. Mother did not know that I am lying on her side instead of my father.
I have some patience the Desi xxx Kahani.

I knew that my mother has not been fuck for a long time and she will agree to my persuasion.

Mother was wearing a yellow blouse and petikot and she was sleeping on the other side by turning.

I waited for 1 o’clock so my mother would sleep. And kept thinking that there father would be tearing his daughter Eastern’s pussy they Desi xxx Kahani.

When 1 o’clock, I slowly started to move my hand on the mother’s belly. I was feeling that by taking my hand down a little more, let me open the pulse and let my finger get into the pussy. But I did not want to hurry.

When I felt that my mother was asleep, I started pressing her milk from above the blouse. Even after being so old, it seemed as if a 20-year-old girl had fresh grabs. I opened all the blouse buttons one by one. Then, opening the bra hook from the back also freed their breasts from the cage and pressing them out of the bra pressed them harder like Desi xxx Kahani.

Then I got my standing LND from the top of the petticoat stuck in the crack of his ass.

After some time, Mother held my hand. I was scared but mother took my hand and removed it from her breast and put it in her pussy.

I understood that the mother is still awake, but she still considers me a father. But I continued my work, opened his petticoat’s pulse and shoved his black panty down and put a finger in his pussy and started moving back and forth on Desi xxx Kahani.

Mother slowly started taking Siskaris, I could hear the sound of her pounding breath.
Then I took both his petticoat and panty and threw it down. Then straightening them took his mouth near her pussy and started smelling the scent of pussy. Mother’s pussy was absolutely clean. Probably shaved today only for Desi xxx Kahani.

Mother’s pussy was also smooth like my sister’s pussy.

I opened her pussy slices and put my tongue in it and started sucking them.

Due to this, the mother’s sister got a little faster and she started making the voice of Ummh… Ahhh… Hah… Jah…. Light water was coming out of his pussy which seemed very tasty like Desi xxx Kahani.

I was sucking mother’s pussy with full mouth. By then Mother also removed her bra and panties.

Where was Mother going to fall so soon? After sucking pussy for a while now it was his turn. I too quickly got naked and lay down and she brought her mouth to my LND to suck my LND. And slowly turned my tongue over the top of my LND. Then filled my LND in my mouth then start Desi xxx Kahani.

As soon as he took LND in his mouth… it was as if I felt myself in paradise.
You friends cannot guess my happiness!

But as soon as I sucked my LND, he got suspicious because he was thinking of me as a father.
So they turned on the light like Desi xxx Kahani.

In the light of that light, both my mother and I were looking at each other naked.
Because what we were doing in the last 15 – 20 minutes is not normally done between mother and son.

Mother was shocked.
Then he took up the petticoat and covered himself and scolded me and asked – what is this all about?
I said – Sorry mother, but I could not stop myself because first you are a woman and then my mother like Desi xxx Kahani.
Mother said- Whatever happens, nothing happens between a mother and a son.

Then I explained to them – mother, you see only animals. How once in the village, Grandpa had cohabited a goat to conceive a goat while the goat was the same one that the goat had born 2 years earlier. According to this, the goat was the mother of that goat the Desi xxx Kahani.

Mother said hesitantly – but son, that animal is us humans, it is all wrong.

Then I took one of his hands and placed it on my LND and said- If this had not happened in nature, would my LND stand for you? And can you conceive again? Speak mother? If it did not happen between a mother and son, then you did not want to fuck me till you had not seen me?
“But… son!” Mother wanted to say something with concern the Desi xxx Kahani.

“But, nothing, mother, you cannot have sex with your mother, it is all false. Actually there is nothing like that.”
Mother said while thinking something – okay. But you promise not to tell anyone outside.
“Sure promise mother… I will not say this to anyone. Let’s not see now how much bounce it is hitting. ” I said pointing to my LND in Desi xxx Kahani.

Mother smiled a little and said – Let me go.
And she started sucking my LND.
I was just looking at them and thinking how beautiful my mother Nangi looked. His fair blonde body was soothing my heart.

Then I said – Mother, you vomit and come and suck LND.
Mother said- Oh you mean son, do you have to do 69?
“Yes mother” I said in Desi xxx Kahani.

And she came over me.

The scent of mother’s pussy was being plastered on me. We made each other fight like this. I drank all my mother’s goods. Was really very tasty.

And after the loss I hugged my mother and said thank you in Desi xxx Kahani.

He said – Son, the urgent work is still pending.
He kept stroking my LND and LND started tapping again.

I laid my mother straight and spread her legs and mother set my LND on her pussy.
What did they know that I had already been fucked by my sister too!

With a loud shock, I licked the whole lund in her pussy and started fucking her Desi xxx Kahani.

Khushi was clearly visible on his face. She was making a sound of light ah ummh… ah… hah… yah….

Then after some time I asked the mother to become a mare, then she refused and said – son your father will come.
I said – Mother will not come, they are asleep.
And I turned them over myself, she became a mare about Desi xxx Kahani.

Then from behind I set my LND and started fucking. Then my semen was about to fall, so I said- Mother will you drink?
So he said – why not son!
And I removed my LND from her pussy and gave it to her mouth and fell. She drank all my goods.
That night I also killed mother’s ass on Desi xxx Kahani.

It was 11 o’clock in the day, because of sex overnight, mother and I got up late. And not only this, Papa and Eastern were also sleeping for a long time. After all, they too have done sex overnight the Desi xxx Kahani.

Mother was getting ready for lunch, I came out of the room naked, sleeping east.
I went to the kitchen, mother was shocked to see me naked and my standing LND and said – Son is in the eastern house, she will see on Desi xxx Kahani.
I said – she is sleeping.

Then I asked – did you have breakfast?
So he- No son, not now.

I pointed to my LND and said- would you like to have this tasty breakfast?
So mother smiled and sat down and started sucking my LND and after sucking, I drank my juice in Desi xxx Kahani.

Then the mother said – son, now go quickly and put on clothes.

I started waiting for night. I also wanted to fuck my mother well tonight.

When the father came home in the evening, both of them seemed very happy. Dad came to me and said – tonight you go to sleep with Eastern.
Now where did he know what my wish was Desi xxx Kahani.
But I nodded yes.

After dinner, Mother said- you all come to my room now!
After hearing this, father was afraid that mother did not know about him and Eastern.

Father started looking at me like Desi xxx Kahani.
I said softly – I did not tell anything.

Then later I and Eastern Mother went to Papa’s room. Fear was clearly visible on my father’s face and at the same time I was wondering why mother had called.

We all sat on a bed.

Mother said- Eastern, now you are now grown up, so you do not need to tell about sex.
Eastern nodded yes.

“We are a loving family, but still we are stuck in relationships and are unable to fuck each other.”
Father became and said- What are you saying, Shivani? After all, how can it be that a father chooses his own daughter like Desi xxx Kahani.
Mother said- Sir, when humans came for the first time in the world, there was no relationship between them and their children must have had sex with each other only then more humans were born.

I was happy that my mother finally understood me last night.

Eastern said – So mother, brother can also fuck you?
“Not only me daughter, you too!” Mother said about Desi xxx Kahani.
Eastern- But how mother?

I removed the pallu of my mother’s sari and started pressing her breasts from the top of the blouse.
Mother told me – stop the son now!
And holding East’s one hand, put it on Papa’s Lund. Papa’s Lund started taunting in pajamas.

Then the mother said to the father- will not the sensuality awaken in you? If nature does not see the relationship then who are we on Desi xxx Kahani.

Eastern said- You are right, mother.
I said – so why are you late? Quickly take off all your clothes.

We all took off our clothes and threw them down.

Mother said- Eastern daughter, father is older, so you have to respect him before your brother, you will suck his LND first in Desi xxx Kahani.
I said – Mother, then you suck my LND again.
Mother smiled and said yes son, why not.

The eastern father’s lund was sucking it like a prostitute and you all know why.
Seeing this, mother took my LND out of her mouth and said- Eastern where did you learn this?

So I caught mother’s face and put my LND in her mouth and said- Mother, I tell you all. When you guys went out for marriage, Eastern and I had fuck. And when you went out with your friend, then father also fuck eastern the Desi xxx Kahani.

Mother said with surprise- means son, last night while you were fucking me, your father was fucking Eastern?

Then Eastern and Papa were also shocked to know that my mother and I had also done sex.
Now everything was clear among everyone in Desi xxx Kahani.

After Lund sucked for a long time, Eastern said – Mother, don’t drink the juice of brother. I want to drink brother and father juice together.
So mother laughed and said- Okay in Desi xxx Kahani.
I was going to suffer while kissing LND with my mother’s mouth and my father too.

When I sat down on my knees from the eastern bed, I said – Mother, you should also come!
So the mother sat down on her knees on the eastern side there and Desi xxx Kahani.

The father started pushing my father and my LND back and forth with both hands and filled both the LNDs in his mouth.
And my father and I spilled cum all over her mouth.

Mother said- will I get it or not?
So Papa and I gave some of our goods with a smile to Mother’s mouth.
Mother also licked both of us on Desi xxx Kahani.

Eastern speaking – Wow, this was a very tasty one!

Mother said – now our pussy is also left.

So the father said – you have no son for him… I will suck the pussy of my angel like daughter.
Eastern said – Yes… and I am just the father’s angel.
So I also spoke – and my mother is the queen of fairies the Desi xxx Kahani.

I lied to my mother, spread her legs and started sucking her mouth. Mother turned her hand to my hair and said- rightly said my prince.

I was also being pressed on my mother’s breasts. Mother’s breasts were bigger than the eastern, but due to the small breasts of the eastern, the father was squeezing them on Desi xxx Kahani.

After some time, after lifting one leg of Eastern, Papa placed it on his shoulder and put his entire LND in his cum in one go and started fucking loudly, Eastern was also making loud and loud noises.

Seeing the father daughter’s fuck, the mother got excited and said – Son, don’t torture your mother anymore, tear this pussy off me!
I said ok mother.
And I lay on the bed in Desi xxx Kahani.

Mother understood that she had to come over me and she came.
He set my LND in her pussy with her hands and she sat on it. My mother started bobbing her pussy.
In full excitement, I was also loudly raising my ass with full force and fucking him like Desi xxx Kahani.

Mother was jumping on my LND and I held her bouncing breasts with me in both my hands and started mashing loudly.

After some time Eastern dialect – let the mother also have double fun.
So mother said- Meaning?

Papa said – today your pussy as well as ass will fuck in Desi xxx Kahani.
So the mother said in shock – meaning both father and son together?
Mother was a little scared and said – no no… I cannot take two LNDs together.

So I said- mother can take you at all, if you can take eastern then why don’t you mother!

Mother looked at East with surprise.
Eastern dialect- Yes mother, and so much fun is also there.

I lay on my mother, her breasts started pressing down from my chest and my LND was stuck in her pussy like this.
Father followed mother.

Mother said to her father- Look, you are comfortable.
Then Eastern spit in Mother’s ass and licked Papa’s LND with his spit.

Mother closed her eyes and I started sucking her lips. Papa slowly put his LND in his ass. We stayed like this for a while. Then in a while, Papa started licking it back and mother opened his eyes and he started calling them and enjoy Desi xxx Kahani.

Then I slowly started to go back and forth and then Papa and I quickly started fucking mother.
Mother said- Son, both of you siblings also fuck me in front of me once.

I said – why not mother!
And then mother moved away from me and lay on her arm and got Desi xxx Kahani.

Father put his LND mother’s pussy and started fucking.
I said, come on, my dear sister, come on, become a mare.
And she became a mare with great affection and started licking her ass.

Then I put LND in her pussy from behind and started fucking loudly.

Now we were all at the last boundary of fuck, due to which we were doing sex in full swing like Desi xxx Kahani.

The sexist voices of Eastern and mother fuck were echoing in the room and both of them were also making loud and loud voices which was increasing my penetration and I was going to fuck Eastern with loud.

Mother said in a while – I am going to fall.
And Dad also said – Me too!
And both fell silent and enjoy Desi xxx Kahani.

But I was still going to Chode to the eastern and after some time we too fell down and calmed down.
That night we got a lot of fuck together.

After that we would roam around in the house naked and when Dad would go to office, I would fuck Eastern and Mother together on Desi xxx Kahani.

After 4 months we came to know that both Eastern and Mother are from the stomach.
9 months later, the mother gave birth to a girl and Eastern gave birth to a boy.

When we underwent a medical examination, it was found out that my mother had a baby in my mother’s stomach and father’s child in Eastern’s stomach the Desi xxx Kahani.
There is no place for happiness of all of us and now we all live very happily together. Tell me how you liked my story. And to read sex videos and new story, telegram group can join.

Read more Sex Stories-

xxx hindi story माँ को चोदा मेरे चचेरे भाई ने 1 free Sex

Chudi ki khani मसाज करके मां की चुदाई 1 Real Family Sex Fun

Maa beta kahani मॉम की चूत का रस पीकर चुदाई 1 Real Sex Fun

Leave a Comment