Follow my blog with Bloglovinsister xxx story | बड़ी दीदी भारती की चुदाई | hindisexstoris0

sister xxx story | बड़ी दीदी भारती की चुदाई | hindisexstoris0

बड़ी दीदी की चुदाई sister xxx story

sister xxx story: मेरा नाम राजेश है, मैं MastHindiStory का बहुत बड़ा प्रशंसक हूँ और सभी कहानियाँ पढ़ चुका हूँ। मैं अपनी कहानी कई दिनों से आपसे कहने की कोशिश कर रहा था सो आज लिख रहा हूँ।

मैं एक अच्छे घर-परिवार से हूँ। मेरी उम्र 25 साल, कद 6 फीट, मेरे लिंग की लम्बाई 6.5 ईंच और मोटाई 1.5 ईंच है। मेरे घर में मेरे

अलावा माँ और एक बड़ी बहन भारती हैं जिसकी उम्र 30 साल हैं। वो बहुत ही फेशनेबल है। मेरी दीदी की फिगर 24-36-24 बहुत ही मस्त हैं उसकी चूचियाँ भी मस्त बड़ी हैं। बड़ी दीदी की शादी कुछ चार साल पहले हुई थी पर अब वो विधवा हो गई हैं।

मुझे मेरी दीदी बचपन से ही बहुत चाहती थी क्यूंकि मैं घर में सबसे छोटा हूँ। हम दोनो एक ही कमरे में सोते थे और दीदी के 20 साल की होने तक तो हम एक ही बेड प़र सोते थे।

प़र एक दिन माँ ने हमे अलग-अलग बिस्तर प़र सोने को कहा। मैंने हमेशा से ही दीदी को चोदने की सोची थी और रात को दीदी के सोते समय उनकी चूचियाँ और चूत कभी कभी दबा लेता था। प़र डर के कारण आगे कुछ नहीं कर पाता था। हाँ, बाथरूम में मुठ ज़रूर मार लेता था। दीदी को चोदने को मेरा बहुत मन करता था।

sister xxx story

अब भारती दीदी वापस आ गई थी। सो मैं रोज उससे अच्छी अच्छी बातें करने लगा ताकि दीदी को किसी पुरानी घटना की याद न आये।

एक दिन भारती दीदी बाथरूम से नहाकर आ रही थी तो अचानक मेरी नज़र उन पर पड़ गई, शायद बाथरूम में तौलिया नहीं था, वो गीले बदन पर गाउन पहने थी। भारती दीदी के कपड़े शरीर से चिपके हुऐ थे और वो बहुत ही सुन्दर लग रही थी।

उस दिन फिर से मैंने मुठ मारी।

हम दोनों हमेशा कंप्यूटर प़र गेम और चैट करते रहते थे। एक दिन दीदी साथ वाले कमरे में सो रही थी। मैंने कंप्यूटर प़र जानबूझ कर masthindistory की एक कहानी ‘दीदी की चुदाई’ पढ़नी शुरू की। अचानक दीदी पास आकर बैठ गई और उसने वो कहानी पढ़ ली उसने मुझसे कहा- तुम यह सब पढ़ते हो क्या?

मैं चुपचाप उनको देखने लगा। मैंने मौका देख कर उसके होठों पर चूम लिया। भारती दीदी ने मुझे पकड़ कर अलग कर दिया और कहा- मार खाएगा तू !

sister xxx story

और दीदी वहाँ से उठ कर जाने लगी। जाते समय मेरी तरफ देख रहस्यमयी मुस्कान दी। मैंने भी मुस्कुराते हुए दीदी की तरफ देखा।

थोड़ी देर में दीदी ने मुझे आवाज़ दी और सोने के लिए कहा। मैं सोने आ गया। बातों बातों में दीदी ने मुझे hindi sex की कहानी के बारे में मुझे पूछा। मैने भी सब बता दिया।दीदी ने मेरी तरफ देखा, मैंने मौका देख कर फ़िर उसके होठों पर चूम लिया। भारती दीदी ने मुझे पकड़ कर अलग करने की कोशिश की लेकिन मैंने उन्हें छोड़ा नहीं और चूमता रहा।

मैं भारती दीदी के होठों को अपने होठों से चिपका कर चूमे जा रहा था, वो बेतहाशा पागल हो रही थी।

फिर मैंने दीदी के स्तनों की तरफ हाथ बढ़ाया। दीदी के स्तनों अग्र भाग को अपनी उँगलियों से चुटकियों से पकड़ कर गोल गोल घुमाया तो दीदी सिसिया उठी। मैंने दीदी के चुचूक पकड़ लिए थे। उनके चुचूकों को जोर से मींसा तो दीदी फिर से सिसिया उठी, मगर दर्द से। दीदी के चुचूक तन गए थे, जो ब्रा में उभर आये थे। मैंने उन पर अपनी उँगलियों के पोर को गोल गोल नचाते हुए छेड़ा, इसी बीच मैंने दीदी का गाउन उतार कर फेंक दिया। दीदी के कोमल गौर-बदन की एक झलक देखने को मिली।

अन्दर दीदी ने काले रंग की ब्रा पहन रखी थी। दीदी ने अन्दर सफ़ेद रंग की पैंटी पहनी थी। मैंने जिंदगी में पहली बार किसी लड़की को इस रूप में देखा था। भारती दीदी का पूरा शरीर जैसे किसी सांचे में ढाल कर बनाया गया था। काली ब्रा में उनके शरीर की कांति और भी बढ़ गई थी।

ब्रा के अन्दर दीदी के बड़े बड़े स्तन कैद थे, जो बाहर आने को बेकरार लग रहे थे। मैंने ब्रा के स्ट्रेप को कंधे से नीचे उतार कर स्तनों को ब्रा की कैद से पूरी तरह आजाद कर दिया। भारती दीदी को नग्न देख कर मेरी हालत खराब हो गई। मैंने कभी किसी के स्तनों को छूकर नहीं देखा था फिर से बड़ी बुरी तरह उन्हें मसला।

sister xxx story

फिर दीदी ने मेरी टी-शर्ट को ऊपर की ओर उठा दिया। दीदी ने अपने हाथों से मेरा अंडरवियर उतार दिया, फिर लिंग को पकड़ लिया। भारती दीदी मेरे लिंग को देखकर आश्चर्यचकित रह गई। दीदी ने लिंग को प्यार से सहलाया। दीदी के हाथ के स्पर्श से ही लिंग में कसाव बढ़ गया। दीदी ने मुस्कुराते हुए मुझको को चूमा। फिर दीदी तुरंत उसे चूसने लगी। दीदी को इस तरह से करते हुए देख मजा आ रहा था। दीदी ने बाकी लिंग को बाहर से चाट चाट कर चूसा तो मैं भी उत्तेजना से कांप गया।

sister xxx story - real sex story

मैंने उनकी जांघों के ठीक बीच में अपना हाथ फिराया और दीदी की पैंटी की इलास्टिक में उँगलियाँ फंसा कर पैंटी को उतार लिया और हाथों से हल्के हल्के दीदी के योनि प्रदेश को सहलाने लगा तो दीदी गुदगुदी के मारे उत्तेजित हो रही थी।

कुछ देर बाद भारती दीदी बहुत ही उत्तेजित हो गई थी हम दोनों ही अब काफी उत्तेजित हो गए थे। अब मैं दीदी की टांगों को फैला कर खुद बीच में लेट गया। मैंने भारती दीदी की योनि को सहलाया, उनके चूत की खुशबू मस्त थी। फिर उस पर पास में पड़ी बोतल से वैसेलिन निकाल कर लगाई। भारती दीदी की चूत का छेद काफी छोटा था। मुझे लगा कि मेरी प्यारी भारती दीदी मेरे लण्ड के वार से कहीं मर न जाये।

दीदी उत्तेजना के मारे पागल हो रही थी। दीदी ने मुझे लण्ड अन्दर डालने के लिए कहा।

sister xxx story

भारती दीदी की योनि को अच्छी तरह से वैसेलिन लगाने के बाद फिर से दीदी की टांगों के बीच बैठ गया। मैंने दीदी की कमर को अपने मजबूत हाथों से पकड़ लिया। मैंने कोशिश करके थोड़ा सा लिंग अन्दर प्रवेश करा दिया। दीदी हल्के हल्के सिसकारियाँ ले रही थी। फिर मैंने एक जोरदार झटका मारकर लिंग को काफी अन्दर तक योनि की गहराई तक अन्दर पहुँचा दिया कि दीदी की चीख निकल गई।

मैंने दीदी के चेहरे को देखा तो मैं समझ गया कि दीदी को दर्द हो रहा है। मैंने दोबारा वैसा ही झटका मारा, तो दीदी इस बार दर्द से दोहरी हो गई। मैंने यह देख कर उनके होठों पर चूम लिया वरना दीदी की आवाज़ दूर तक जाती।

दीदी एक मिनट में ही सामान्य नज़र आने लगी क्योंकि उनके मुँह से हल्की हल्की उत्तेजक सिसकारियाँ निकल रही थी। मैंने फिर से एक जबरदस्त धक्का मारा, दीदी इस बार दहाड़ मार कर चीख पड़ी। मैंने देखा कि इस बार दीदी की आँखों में आँसू तक आ गए थे। मैंने दीदी के होठों को अपने होठों से चिपका लिया और जोर-जोर से उन्हें चूमने लगा और साथ ही दीदी के स्तनों को दबाने लगा। दीदी भी उतनी तेजी से मुझे चूम रही थी।

sister xxx story

मैं हल्के हल्के अपनी कमर चला रहा था। अब दीदी धीरे धीरे सामान्य होती लग रही थी। मुझे इतना समझ आया कि जब दीदी को दर्द कम हो रहा है। दीदी ने अपने टांगों को मेरी कमर के चारों ओर कस लिया। मैंने ने दीदी के होठों को छोड़ दिया और पूछा- अब मज़ा आ रहा है क्या ? दर्द तो नहीं है ?

दीदी बोली- आराम से करते रहो ! मैंने एक जोरदार झटका मारकर अपना लिंग दीदी की योनि में काफी अन्दर तक ठूंस दिया। इस बार दीदी के मुँह से उफ़ भी नहीं निकली बल्कि वो आह.. सी.. स्स्स्स…सस… की आवाज़ें निकाल रही थी।

दीदी बोली- मुझे बहुत अच्छा लग रहा है !

यह देखकर तीन चार जोरदार शॉट मारे और लिंग जड़ तक दीदी की योनि में घुसा दिया और अपने होठों को दीदी के होठों से चिपका उनके ऊपर चित्त लेटा रहा।

अब झटकों की गति और गहराई दोनों ही बढ़ा दी। आधे घंटे त़क दीदी के रास्ते में मैं दौड़ लगाता रहा फिर दीदी ने अपनी टाँगें ढीली कर ली। दीदी स्खलित हो गई थी। कुछ ही देर में मेरा शरीर ढीला हो गया। काफी देर मैं दीदी के ऊपर लेटा रहा। दीदी मेरे होठों को बार बार चूम रही थी और आत्मसंतुष्टि के भाव के साथ मुस्कुरा रही थी। मैंने दीदी के कामरस को खूब पिया उन्होंने मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत में चिपका दिया था। भारती दीदी को रात में 3 बार चोदा। हर रात मजा कर रहा हूँ।

मेरी कहानी के बारे में mujhe jarur बतायें।

Read in English

Sister Sex hindi story | sister xxx story


sister xxx story: My name is Rajesh, I am a big fan of MastHindiStory and have read all the stories. I have been trying to tell my story to you for many days, so am writing today.

I am from a good family. I am 25 years old, 6 feet tall, my penis is 6.5 inches in length and 1.5 inches in thickness. In my house

Apart from this, there is a mother and an elder sister Bharti, who is 30 years old. He is very fashionable. My sister’s figure 24-36-24 is very cool, her tits are also very big. The elder sister was married some four years ago, but now she is widowed.

My sister has loved me since childhood because I am the youngest at home. We both used to sleep in the same room and we used to sleep on the same bed till Didi was 20 years old.

Then one day Mother asked us to sleep in different beds. I had always thought of fucking sister, and during the night, she used to sometimes squeeze her pussy and pussy while sleeping. Could not do anything further due to fear. Yes, Muth used to kill in the bathroom. My sister used to love Chodne very much.

sister xxx story
Now Bharti Didi was back. So I started talking good things to him everyday so that sister did not miss any old incident.

One day, Bharti didi was taking bath from the bathroom, then suddenly my eyes fell on her, maybe there was no towel in the bathroom, she was wearing a gown on her wet body. Bharti Didi’s clothes clung to her body and she looked very beautiful.

That day, I again killed.

Both of us were always playing computer games and chatting. One day, Didi was sleeping in the room together. I deliberately started reading a story of masthindistory called Didi Ki Chudai. Suddenly, Didi came and sat down and she read that story, she told me – do you read all this?

I silently started looking at them. I saw the opportunity and kissed her lips. Bharti Didi seized me and separated and said – You will kill me!

sister xxx story
And sister started getting up from there. Looking at me while leaving, gave a mysterious smile. I also looked towards Didi smiling.

After a while, Didi gave me a voice and asked me to sleep. I came to sleep In talk, Didi asked me about the Hindi sex story. I also told everyone. Didi looked at me, I saw the opportunity and then kissed her lips. Bharti didi tried to hold me apart but I did not leave her and kept on kissing.

I was kissing Bharti Didi’s lips with her lips, she was going wildly crazy.

Then I extended my hand towards Didi’s breasts. Didi’s breasts rotated round by holding her forearms with her fingers with fingers. I caught hold of sister. Sisia arose again, but painfully as his tears were loud. Didi’s nipples were tan, which emerged in the bra. I teased them with the tip of my fingertips, making a round and round, meanwhile, I took off my sister’s gown. Didi had a glimpse of her gentle body.

Inside, Didi was wearing a black bra. Didi wore white panties inside. For the first time in my life, I saw a girl in this form. The entire body of Bharti Didi was made like a mold in a mold. His body had increased in black bra.

Didi had huge big boobs inside the bra, which seemed desperate to come out. I removed the bra strap from the shoulder and freed the breasts completely from the captivity of the bra. Seeing Bharti Didi naked, my condition got worse. I had never seen anyone’s breasts touch them again very badly.

sister xxx story
Then Didi lifted my t-shirt upwards. Didi took off my underwear with her hands, then grabbed the penis. Bharti Didi was surprised to see my penis. Sister caresses Linga with love. The touch of Didi’s hand increased the tightness in the penis. Didi smiled and kissed me. Then sister immediately started sucking him. It was fun watching Didi doing it this way. Didi licked the rest of the penis by licking it from outside, so I trembled with excitement.

I stuck my hand right in the middle of her thighs, and fingered the sister’s panty elastic and took off the panty and started gently stroking her sister’s vaginal area with her hands, the sister was getting excited by the tickle.

After some time Bharti didi was very excited, both of us were very excited now. Now I spread the legs of the sister and lay myself in the middle. I stroked Bharti Didi’s vagina, the scent of her pussy was cool. Then he took out the vaseline from the bottle lying nearby. Bharti Didi’s pussy hole was very small. I felt that my beloved Bharti didi should not die from the blow of my LND.

Sister was going mad due to excitement. Didi asked me to put in LND.

sister xxx story
Bharti sat down between Didi’s legs again after applying her sister’s vagina well. I grabbed Didi’s waist with my strong hands. I tried and got a little penis inside. Sister was taking light Siskaris. Then I hit the penis with a strong blow and deep inside the vagina to the depth of the vagina that the sister’s scream came out.

When I looked at Didi’s face, I understood that Didi was in pain. When I struck the same blow again, Didi doubled over with pain this time. I kissed his lips on seeing this, or didi’s voice would go far.

Sister started appearing normal within a minute as lightly stimulating syphilis was coming out of his mouth. I again hit a tremendous blow, Didi roared and screamed this time. I noticed that Didi had tears in her eyes this time. I clutched Didi’s lips with my lips and started kissing them loudly and also pressing on Didi’s breasts. Didi was kissing me as fast.

sister xxx story
I was running my waist lightly. Now the sister was slowly becoming normal. I understood so much that Sister is getting less pain. Sister tightened her legs around my waist. I gave up Didi’s lips and asked- Is it fun now? Is there pain?

Didi said- keep it up! I thrust my penis into Didi’s vagina with a strong blow. Oops did not come out of Didi’s mouth this time, but she was removing the sounds of ah .. c ..

Didi quote- I feel very good!

Seeing this, he hit three to four vigorous shots and penetrated the sister’s vagina up to the penis root and stuck her lips against her sister’s lips and kept on her mind.

Now the speed and depth of the tremors increased both. For half an hour, I kept running on the way to Didi, then didi loose her legs. Sister was ejaculated. Within a short time my body became loose. I lay on the sister for a long time.

Didi was kissing my lips again and smiling with a sense of complacency. I drank a lot of Didi’s Kamaras, he grabbed my head and stuck it in my pussy. Chopped Bharati Didi 3 times a night. Having fun every night

Tell mujhe jarur about my story.

Read More Sex Story-

antarvasna 2 भाई ने बहन को लंड दिखा कर की मजेदार चुदाई

Mast aunty ki chudai भाभी की मम्मी ने मुझे चोदना सिखाया

hindi saxy story मेरी चूत का उदघाटन समारोह story of chudai

Follow and see Hot Wallpaper On

3 thoughts on “sister xxx story | बड़ी दीदी भारती की चुदाई | hindisexstoris0”

Leave a Comment