Follow my blog with BloglovinAntarvasna 2 भतीजी की चूत की सील तोड़ी Real Best Sex Story

Antarvasna 2 भतीजी की चूत की सील तोड़ी Real Best Sex Story

भतीजी की चूत की सील तोड़ी Antarvasna 2

Antarvasna 2: बड़े भाई की बेटी यानि मेरी भतीजी कमसिन जवानी के रस से भरी है. मैं उसकी चूत चुदाई करना चाहता था पर रिश्तों में चुदाई में डर लगता है. तो मैंने उसकी कुंवारी चूत कैसे फाड़ी?

मेरे Mast Hindi Story के पाठक दोस्तो, आप सभी को नमस्कार, मेरा नाम जयेश है. मैं मध्य प्रदेश का रहने वाला हूँ. कभी मैं भी आप सभी की तरह Mast Hindi Story का रेगुलर पाठक हूँ. आज मैं अपनी पहली सेक्स कहानी लिखने जा रहा हूँ. आशा करता हूँ, आप सभी मुझे प्रोत्साहित करेंगे.

मैं अपने बारे में बताते हुए इस सेक्स कहानी की शुरूआत कर रहा हूँ. मेरी लम्बाई 5 फुट 7 इंच है, रंग सांवला है, शरीर ठीक-ठाक है और मेरा लंड 6.5 इंच का है. चुदाई में मेरी ख़ास रूचि है. मैं अपनी मौसी को भी चोद चुका हूँ, जोकि इस बार की चुदाई का सबब बनी.

यह एक साल पहले की बात है, जब मैं अपने बड़े भैया के घर दिल्ली गया था. वो वहां नौकरी करते हैं. उनके घर में तीन लोग हैं, भैया भाभी और कमसिन देसी जवानी के रस से भरी मेरी जवान भतीजी सोनिया.
मैं उसके जवान सौंदर्य की जितनी तारीफ करूं, उतनी कम है. उस पर एक बार जिसकी भी नजर पड़ जाए, तो समझो वो उसके शरीर को पूरा निहारे बिना नहीं रहेगा.

उसके फिगर की यदि मैं कल्पना करता हूँ … तो ये 34-28-36 का होगा. मैंने कभी नापा नहीं है. सोनिया के मम्मे बड़े बड़े हैं, जो किसी को भी उत्तेजित कर दें. उसके तने हुए दूध टी-शर्ट के अन्दर ऐसे लगते हैं, जैसे अभी ही बाहर निकल कर आ जाएंगे. उसकी कमर माशाल्लाह … क्या तारीफ करूँ … देखते ही हाथ घुमाने का मन हो जाता है और गांड के बारे में तो सोच कर लंड फनफनाने लगता है. सच में यूं लगता है कि उसकी जीन्स फाड़ कर गांड में अभी लंड पेल दूं.

एक दिन दोपहर की बात है, जब भैया भाभी दोनों काम पर गए थे. मैं दोपहर में लेटा हुआ था और मेरी भतीजी सोनिया बाहर हॉल में टीवी देख रही थी.

Antarvasna 2

थोड़ी देर में उठकर मैं भी टीवी देखने चला गया. वो कोई सास बहु वाला सीरियल देख रही थी. हम दोनों एक ही सोफे पर बैठ कर टीवी देख रहे थे कि तभी अचानक हीरो हीरोइन के बीच एक अन्तरंग दृश्य आया, जिसमें हीरो हीरोइन बिस्तर पर लेट कर चुम्बन ले-दे रहे थे.

मेरे मन में भी ऐसा गरम सीन देख कर लड्डू से फूट रहे थे.

तभी अचानक मेरी कमसिन भतीजी सोनिया ने मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया. मेरे शरीर में मानो झटका सा लगा. मैंने आव देखा न ताव उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

मुझे ऐसा लग रहा था मानो मैं जिसे सपनों में चोदता था, आज उसे हकीकत में चोदूंगा.

मैं उसके होंठों को चूसने लगा, वो भी मेरे करीब आकर मेरा साथ देने लगी. उसके हाथ मेरी पीठ पर थे. वो मुझे कसके पकड़ रही थी. मैं उसे बेतहाशा चूमते जा रहा था. मैंने एक हाथ उसके बोबे पर रखा और दूसरे हाथ से उसकी गांड को मसलने लगा ताकि वो भी गरम होने लगे.

अब हम दोनों एक दूसरे में पूरी तरह खो चुके थे. उसने मेरी शर्ट उतारी और मेरी छाती के बालों को सहलाने लगी. मैंने भी उसकी टी-शर्ट उतारी और उसकी चुचियां देखने लगा और उन्हें दबाने लगा.

वो बोली- चाचू, इन्हें भी ऐसे चूसो, जैसे उस दिन मौसी के चूसे थे.
उसकी बात सुनकर मैं भौंचक्का रह गया. मैंने बोला- तुम्हें कैसे पता?
वो बोली- मैंने आप दोनों को उस दिन चुदाई करते हुए देखा था, तभी से मैं आपसे चुदना चाहती थी. यह जवानी मैंने आपके लिए ही संभाल रखी है, आज मुझे इतना चोदो कि मेरा जी भर जाए. चोद दो … मुझे चोद दो.

Antarvasna 2

मैं उसके बोबे चूसने लगा. वो सिसकारियां भर रही थी. आह आह आह्ह्ह …

भतीजी की चूत की सील तोड़ी Antarvasna 2

उसका एक हाथ मेरी पेंट के ऊपर घूम रहा था. वो पेंट के ऊपर से ही लंड सहला रही थी. वो मुझे चूमने लगी.

मैंने उसकी जीन्स को उतारा. अब मैं उसकी जांघों पर हाथ घुमाने लगा. वो तड़पने लगी. मैंने उसके बोबे चूसते हुए उसकी चूत पर हाथ घुमाया, वो कंपकंपाने लगी, उसकी सिसकारियों की आवाज तेज हो गयी- आह्ह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह्ह ओह्ह्ह्ह करो, चाचू मुझे करो.

अब मैंने अपनी जीभ उसकी चूत पर लगा दी और चुत चाटने लगा. वो सहन नहीं कर पाई और मुझे बांहों में कसने लगी और उसकी ‘आह्ह्ह आह्ह्ह …’ की आवाजों से हॉल गूंज उठा.

मैंने जीभ और अन्दर डाल दी.

भतीजी की चूत की सील तोड़ी Antarvasna 2

वो कराहने लगी- आंह चाचू छोड़ दो … मुझसे सहन नहीं हो रहा है … आह्ह आंह्ह ऊह्ह्ह माय गॉड आह्ह्ह.

उसकी कामुक आवाज से मैं लगातार उत्तेजित होता जा रहा था. अब हम दोनों का शरीर पसीने से भीगने के कारण चिपका जा रहा था. हम दोनों इन रोमांचक पलों का आनन्द ले रहे थे.

फिर मैंने उससे पूछा- मेरा लंड चूसोगी?
उसने ना बोला.

Antarvasna 2

फिर भी मैंने उसे चाटने के लिए राजी कर लिया. उसने जैसे ही मेरे लंड पर अपनी जीभ लगायी, मेरे अन्दर मानो एक लाख वोल्टेज का करंट दौड़ गया.

मेरे मुँह से सिसकारियां निकल उठीं- आह्ह्ह सोनिया चूसो … इसे पूरा मुँह में ले लो … मजा आ जाएगा … चूस डालो इसे केला समझ कर.

अब मैं उसकी चूत और वो मेरा लंड चाटने लगे. फिर मैंने उसे अपने ऊपर से उतारा और उसकी चूत में उंगली डाली … ताकि मैं अपना लंड उसमें घुसाने के लिए जगह बना लूं.

भतीजी की चूत की सील तोड़ी Antarvasna 2

उसकी चुत पानी से लबरेज थी. मेरी एक उंगली तो आराम से एक इंच अन्दर चली गई. मगर मैंने और अन्दर करने की कोशिश की, तो उसे दर्द होने लगा.

फिर मैंने उतनी जगह को ही ढीला करने का सोचा. कुछ देर उसकी एक चूची को अपने मुँह में भर कर उसकी चुत में उंगली अन्दर बाहर की.
उसकी चुत के दाने को दो उंगलियों में पकड़ कर मींजा, तो उसने अपनी टांगें खोल दीं.

फिर मैंने दो उंगलियों को अन्दर डाला, तो उसकी आंखों में दर्द का अहसास झलका, लेकिन वो उंगलियों का मजा लेती रही. कुछ ही समय में मेरी दो उंगलियों ने इतनी जगह बना ली थी कि मेरे लंड का सुपारा अन्दर घुस सके.

इतना काम करने के बाद मैंने खुद को तैयार किया. अपने लंड पर तेल लगा कर मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया. मैंने उसकी टागें चौड़ी करके उसकी चूत पर अपना लंड रखा.

Antarvasna 2

वो गांड उठाते हुए बोली- चाचू, आज मेरी सील तोड़ कर मुझे अपनी रानी बना लो!

मैंने फटाक से बिना देरी किये अपने लंड को धक्का मारा. लंड का टोपा ही अन्दर गया था कि सोनिया तड़प उठी.

उसकी आंखों की पुतलियां फ़ैल गईं. एक पल के लिए तो उसके गले से कोई आवाज ही नहीं निकली … मैं समझ गया कि इसकी चुत का भोसड़ा बन गया है.

तभी उसकी दर्द भरी आवाज निकल गई- आह … मैं मर गई … इसे बाहर निकालो … चाचू मुझसे सहन नहीं हो रहा है … आंह्ह्ह आआह आह्ह्ह बाहर निकालो इसे!

सोनिया की चुत सील पैक होने की वजह से वो इस दर्द को सहन नहीं कर पा रही थी. एक पल रुक कर मैं उसे सहलाने लगा और चूमने लगा. मगर वो बराबर छटपटाती रही. ये देख कर मैंने एक धक्का और दे मारा. इस बार आधा लंड चुत के अन्दर चला गया.

वो और जोर से चिल्लाने लगी. अब उसकी चीख इतनी तेज थी, जैसे उसकी जान निकल गयी हो- हाय चाचू, इसे बाहर निकालो आंह्ह्ह ऊऊह्ह ऊओह्ह हाय राम मुझसे दर्द सहन नहीं हो रहा है.

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को रखा और उसे चूमते हुए फिर से एक धक्का मार दिया. इस बार मेरा पूरा लंड अन्दर घुसता चला गया.

वो बेहोश सी हो गई. मैं भी लंड को रोक कर बस यूं ही उसके ऊपर चढ़ा रहा. मैं उसे चूमने और सहलाने लगा. शांत करने लगा. वो मेरे से चिपक गयी. कुछ ही पलों बाद उसकी छटपटाहट कम हो गई और वो शांत हो गई.

ये देख कर मैं धीरे धीरे धक्के लगाने लगा. इससे उसे दर्द के साथ मजा भी आ रहा था.

Antarvasna 2

उसकी ‘आह्ह्ह आंह्ह..’ की आवाज तेज हो रही थी. वो तेज तेज सांसों के साथ सिसकारियां भरने लगी थी. मैंने अपने धक्के मारने की स्पीड बढ़ा दी और एक हाथ से उसके बोब़े मसलने लगा ताकि उसे भी मजा आने लगे.

वो कुछ ही देर में मस्ती से चुत रगड़वाने लगी. करीब पचास धक्कों के बाद वो मेरे ऊपर आने का बोल रही थी. मैंने उसे कुछ इस तरह से उठाया कि लंड चुत में ही रहा और वो मेरी गोद में आ गई.

इस आसन में चुदाई का अपना मजा है. चूचियों से मर्द का सीना रगड़ खाता है तो लौंडिया को चुत में लंड लेने में बेहद मजा आता है.

फिर मैंने खुद को नीचे लिटाते हुए उसे अपने ऊपर ले लिया. वो मेरे ऊपर आ गयी. मैंने उसकी चूत में अपना लंड एडजस्ट किया और उसे ऊपर नीचे उछलने को कहा. वो धीरे धीरे ऊपर नीचे होने लगी. उसे लंड लेने में मजा आ रहा था.

मैं उसके मचलते बोबों को मसल रहा था, साथ में धीरे धीरे उसकी पीठ से उसे ऊपर नीचे होने में मदद भी कर रहा था. उसकी मादक सिसकारियों की आवाज से मेरे अन्दर उत्तेजना और बढ़ रही थी. वो जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगी. मेरा पूरा लंड उसकी चूत की दीवारों को रगड़ता हुआ उसकी चूत में जा रहा था.

‘आह्ह्ह ओह्ह ओह्ह्ह मर गयी..’ जैसे शब्दों से वो कुछ न कुछ बोले जा रही थी.
इस समय उसे चोदने में मुझे जो आनन्द आ रहा था … उसका ब्यान करना मुझे नामुमकिन लग रहा है.

मैंने अब उसे अपने ऊपर से उतार कर दीवार के सहारे टिका दिया और लंड पेल कर उसे रगड़ कर चोदने लगा.

मैं जोश में आकर जोर जोर से धक्के मार रहा था. उसके चिल्लाने से मुझे और मजा आ रहा था. मैं और जोर जोर से उसे चोदने लगा.

Antarvasna 2

फिर मैंने उसे पलट दिया और घोड़ी बनने को कहा. वो घोड़ी बनी तो मैंने उसके पीछे से लंड उसकी चूत में घुसाकर धक्का दे दिया.

वो चिल्ला उठी- हाय मैं मर गयी … आह्ह्ह आह्ह्ह ऊओह ओह्ह इतना दर्द प्यार में होता है … पता ही नहीं था.

मैं उसे घोड़ी बना कर चोदने लगा. मैंने एक हाथ से उसके बाल पकड़ रखे थे और दूसरा हाथ उसकी गांड पर रखा हुआ था. मैं जोर जोर से धक्के मारने लगा … वो जोर जोर से सिसकारियां भर रही थी.

वो बोली- आंह और तेज करो चाचू … मेरा पानी निकलने वाला है!

यह सुन कर मैंने अपनी गति बढ़ा दी और मैं तेजी से लंड अन्दर बाहर करने लगा.

भच्च भच्च भच्च की आवाज पूरे हॉल में गूंज रही थी. हम दोनों का पानी साथ में निकल गया और मैं उसकी पीठ पर ही लेट गया. इस तरह से मेरी भतीजी की सील पैक चुत चुद चुकी थी.

एक बार चुत ने मेरे लंड का स्वाद चख लिया था, तो ये तो जाहिर था कि वो बार बार मेरे लंड की सवारी करेगी.

सोनिया को कई बार चोदा. आज भी वो मेरे लंड के लिए मरती है.

आपको मेरी भतीजी की कुंवारी चूत की चुदाई की कहानी कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं. और नई सेक्स स्टोरी और video को देखने के लिये हमारा Telegram ग्रुप को join कर सकते है.
[email protected]

भतीजी की चूत की सील तोड़ी Antarvasna 2

Read in English

Bhatiji ki seal thod chudai – Antarvasna 2

Antarvasna 2: bade bhaee kee betee yaani meree bhateejee kamasin javaanee ke ras se bharee hai. main usakee choot chudaee karana chaahata tha par rishton mein chudaee mein dar lagata hai. to mainne usakee kunvaaree choot kaise phaadee?

mere mast hindi story ke paathak dosto, aap sabhee ko namaskaar, mera naam jayesh hai. main madhy pradesh ka rahane vaala hoon. kabhee main bhee aap sabhee kee tarah mast hindi story ka regular paathak hoon. aaj main apanee pahalee seks kahaanee likhane ja raha hoon. aasha karata hoon, aap sabhee mujhe protsaahit karenge Antarvasna 2.

main apane baare mein bataate hue is seks kahaanee kee shurooaat kar raha hoon. meree lambaee 5 phut 7 inch hai, rang saanvala hai, shareer theek-thaak hai aur mera land 6.5 inch ka hai aur Antarvasna 2. chudaee mein meree khaas roochi hai. main apanee mausee ko bhee chod chuka hoon, joki is baar kee chudaee ka sabab banee thi Antarvasna 2.

yah ek saal pahale kee baat hai, jab main apane bade bhaiya ke ghar dillee gaya tha. vo vahaan naukaree karate hain. unake ghar mein teen log hain, bhaiya bhaabhee aur kamasin desee javaanee ke ras se bharee meree javaan bhateejee soniya Antarvasna 2.
main usake javaan saundary kee jitanee taareeph karoon, utanee kam hai. us par ek baar jisakee bhee najar pad jae, to samajho vo usake shareer ko poora nihaare bina nahin rahega.

usake phigar kee yadi main kalpana karata hoon … to ye 34-28-36 ka hoga. mainne kabhee naapa nahin hai. soniya ke mamme bade bade hain, jo kisee ko bhee uttejit kar den. usake tane hue doodh tee-shart ke andar aise lagate hain, jaise abhee hee baahar nikal kar aa jaenge Antarvasna 2. usakee kamar maashaallaah … kya taareeph karoon … dekhate hee haath ghumaane ka man ho jaata hai aur gaand ke baare mein to soch kar land phanaphanaane lagata hai. sach mein yoon lagata hai ki usakee jeens phaad kar gaand mein abhee land pel doon Antarvasna 2.

ek din dopahar kee baat hai, jab bhaiya bhaabhee donon kaam par gae the. main dopahar mein leta hua tha aur meree bhateejee soniya baahar hol mein teevee dekh rahee thee Antarvasna 2.

Antarvasna 2 thodee der mein uthakar main bhee teevee dekhane chala gaya. vo koee saas bahu vaala seeriyal dekh rahee thee. ham donon ek hee sophe par baith kar teevee dekh rahe the ki tabhee achaanak heero heeroin ke beech ek antarang drshy aaya, jisamen heero heeroin bistar par let kar chumban le-de rahe the Antarvasna 2.

mere man mein bhee aisa garam seen dekh kar laddoo se phoot rahe the Antarvasna 2.

tabhee achaanak meree kamasin bhateejee soniya ne mere haath par apana haath rakh diya. mere shareer mein maano jhataka sa laga. mainne aav dekha na taav usake honthon par apane honth rakh die Antarvasna 2.

mujhe aisa lag raha tha maano main jise sapanon mein chodata tha, aaj use hakeekat mein chodoonga lakin Antarvasna 2.

main usake honthon ko choosane laga, vo bhee mere kareeb aakar mera saath dene lagee. usake haath meree peeth par the. vo mujhe kasake pakad rahee thee Antarvasna 2. main use betahaasha choomate ja raha tha. mainne ek haath usake bobe par rakha aur doosare haath se usakee gaand ko masalane laga taaki vo bhee garam hone lage Antarvasna 2.

ab ham donon ek doosare mein pooree tarah kho chuke the. usane meree shart utaaree aur meree chhaatee ke baalon ko sahalaane lagee. mainne bhee usakee tee-shart utaaree aur usakee chuchiyaan dekhane laga aur unhen dabaane laga Antarvasna 2.

vo bolee- chaachoo, inhen bhee aise chooso, jaise us din mausee ke choose the.
usakee baat sunakar main bhaunchakka rah gaya. mainne bola- tumhen kaise pata?
vo bolee- mainne aap donon ko us din chudaee karate hue dekha tha, tabhee se main aapase chudana chaahatee thee Antarvasna 2. yah javaanee mainne aapake lie hee sambhaal rakhee hai, aaj mujhe itana chodo ki mera jee bhar jae. chod do … mujhe chod do.

Antarvasna 2 usaka ek haath meree pent ke oopar ghoom raha tha. vo pent ke oopar se hee land sahala rahee thee. vo mujhe choomane lagee.

mainne usakee jeens ko utaara. ab main usakee jaanghon par haath ghumaane laga Antarvasna 2. vo tadapane lagee. mainne usake bobe choosate hue usakee choot par haath ghumaaya, vo kampakampaane lagee, usakee sisakaariyon kee aavaaj tej ho gayee- aahhh ummh… ahah… hay… yaah… ohh ohhhh karo, chaachoo mujhe karo Antarvasna 2.

Antarvasna 2 ab mainne apanee jeebh usakee choot par laga dee aur chut chaatane laga. vo sahan nahin kar paee aur mujhe baanhon mein kasane lagee aur usakee ‘aahhh aahhh …’ kee aavaajon se hol goonj utha Antarvasna 2.

mainne jeebh aur andar daal dee Antarvasna 2.

vo karaahane lagee- aanh chaachoo chhod do … mujhase sahan nahin ho raha hai … aahh aanhh oohhh maay god aahhh Antarvasna 2.

usakee kaamuk aavaaj se main lagaataar uttejit hota ja raha tha. ab ham donon ka shareer paseene se bheegane ke kaaran chipaka ja raha tha Antarvasna 2. ham donon in romaanchak palon ka aanand le rahe the.

phir mainne usase poochha- mera land choosogee?
usane na bola.

Antarvasna 2 mere munh se sisakaariyaan nikal utheen- aahhh soniya chooso … ise poora munh mein le lo … maja aa jaega … choos daalo ise kela samajh kar.

ab main usakee choot aur vo mera land chaatane lage. phir mainne use apane oopar se utaara aur usakee choot mein ungalee daalee … taaki main apana land usamen ghusaane ke lie jagah bana loon Antarvasna 2. usakee chut paanee se labarej thee. meree ek ungalee to aaraam se ek inch andar chalee gaee. magar mainne aur andar karane kee koshish kee, to use dard hone laga Antarvasna 2.

phir mainne utanee jagah ko hee dheela karane ka socha. kuchh der usakee ek choochee ko apane munh mein bhar kar usakee chut mein ungalee andar baahar kee Antarvasna 2.
usakee chut ke daane ko do ungaliyon mein pakad kar meenja, to usane apanee taangen khol deen Antarvasna 2.

phir mainne do ungaliyon ko andar daala, to usakee aankhon mein dard ka ahasaas jhalaka, lekin vo ungaliyon ka maja letee rahee. kuchh hee samay mein meree do ungaliyon ne itanee jagah bana lee thee ki mere land ka supaara andar ghus sake.

itana kaam karane ke baad mainne khud ko taiyaar kiya. apane land par tel laga kar mainne use bistar par lita diya. mainne usakee taagen chaudee karake usakee choot par apana land rakha.

Antarvasna 2 vo gaand uthaate hue bolee- chaachoo, aaj meree seel tod kar mujhe apanee raanee bana lo!

mainne phataak se bina deree kiye apane land ko dhakka maara. land ka topa hee andar gaya tha ki soniya tadap uthee.

usakee aankhon kee putaliyaan fail gaeen. ek pal ke lie to usake gale se koee aavaaj hee nahin nikalee … main samajh gaya ki isakee chut ka bhosada ban gaya hai.

tabhee usakee dard bharee aavaaj nikal gaee- aah … main mar gaee … ise baahar nikaalo … chaachoo mujhase sahan nahin ho raha hai … aanhhh aaaah aahhh baahar nikaalo ise!

soniya kee chut seel paik hone kee vajah se vo is dard ko sahan nahin kar pa rahee thee. ek pal ruk kar main use sahalaane laga aur choomane laga. magar vo baraabar chhatapataatee rahee. ye dekh kar mainne ek dhakka aur de maara. is baar aadha land chut ke andar chala gaya.

vo aur jor se chillaane lagee. ab usakee cheekh itanee tej thee, jaise usakee jaan nikal gayee ho- haay chaachoo, ise baahar nikaalo aanhhh oooohh ooohh haay raam mujhase dard sahan nahin ho raha hai.

mainne usake honthon par apane honthon ko rakha aur use choomate hue phir se ek dhakka maar diya. is baar mera poora land andar ghusata chala gaya.

vo behosh see ho gaee. main bhee land ko rok kar bas yoon hee usake oopar chadha raha. main use choomane aur sahalaane laga. shaant karane laga. vo mere se chipak gayee. kuchh hee palon baad usakee chhatapataahat kam ho gaee aur vo shaant ho gaee.

ye dekh kar main dheere dheere dhakke lagaane laga. isase use dard ke saath maja bhee aa raha tha.

antarvasn 2
usakee ‘aahhh aanhh..’ kee aavaaj tej ho rahee thee. vo tej tej saanson ke saath sisakaariyaan bharane lagee thee. mainne apane dhakke maarane kee speed badha dee aur ek haath se usake bobe masalane laga taaki use bhee maja aane lage.

vo kuchh hee der mein mastee se chut ragadavaane lagee. kareeb pachaas dhakkon ke baad vo mere oopar aane ka bol rahee thee. mainne use kuchh is tarah se uthaaya ki land chut mein hee raha aur vo meree god mein aa gaee.

is aasan mein chudaee ka apana maja hai. choochiyon se mard ka seena ragad khaata hai to laundiya ko chut mein land lene mein behad maja aata hai.

phir mainne khud ko neeche litaate hue use apane oopar le liya. vo mere oopar aa gayee. mainne usakee choot mein apana land edajast kiya aur use oopar neeche uchhalane ko kaha. vo dheere dheere oopar neeche hone lagee. use land lene mein maja aa raha tha.

main usake machalate bobon ko masal raha tha, saath mein dheere dheere usakee peeth se use oopar neeche hone mein madad bhee kar raha tha. usakee maadak sisakaariyon kee aavaaj se mere andar uttejana aur badh rahee thee. vo jor jor se oopar neeche hone lagee. mera poora land usakee choot kee deevaaron ko ragadata hua usakee choot mein ja raha tha.

‘aahhh ohh ohhh mar gayee..’ jaise shabdon se vo kuchh na kuchh bole ja rahee thee.
is samay use chodane mein mujhe jo aanand aa raha tha … usaka byaan karana mujhe naamumakin lag raha hai.

mainne ab use apane oopar se utaar kar deevaar ke sahaare tika diya aur land pel kar use ragad kar chodane laga.

main josh mein aakar jor jor se dhakke maar raha tha. usake chillaane se mujhe aur maja aa raha tha. main aur jor jor se use chodane laga.

antarvasn 2
phir mainne use palat diya aur ghodee banane ko kaha. vo ghodee banee to mainne usake peechhe se land usakee choot mein ghusaakar dhakka de diya.

vo chilla uthee- haay main mar gayee … aahhh aahhh oooh ohh itana dard pyaar mein hota hai … pata hee nahin tha.

main use ghodee bana kar chodane laga. mainne ek haath se usake baal pakad rakhe the aur doosara haath usakee gaand par rakha hua tha. main jor jor se dhakke maarane laga … vo jor jor se sisakaariyaan bhar rahee thee.

vo bolee- aanh aur tej karo chaachoo … mera paanee nikalane vaala hai!

yah sun kar mainne apanee gati badha dee aur main tejee se land andar baahar karane laga.

bhachch bhachch bhachch kee aavaaj poore hol mein goonj rahee thee. ham donon ka paanee saath mein nikal gaya aur main usakee peeth par hee let gaya. is tarah se meree bhateejee kee seel paik chut chud chukee thee.

ek baar chut ne mere land ka svaad chakh liya tha, to ye to jaahir tha ki vo baar baar mere land kee savaaree karegee.

soniya ko kaee baar choda. aaj bhee vo mere land ke lie maratee hai.

aapako meree bhateejee kee kunvaaree choot kee chudaee kee kahaanee kaisee lagee mujhe tailaigram par zaroor bataaye mein aapake chommaint aur maissagai ka intazaar karooga. isake alaava aap kahaanee par neeche kament karake bhee apanee raay de sakate hain. aur naee seks storee aur vidaio ko dekhane ke liye hamaara tailaigram grup ko join kar sakate hai.
[email protected]

Read more chudai Stories –

Desi xxx kahani जवान भतीजी की सील तोड़ी 1 Best Sex Story

Chudaistory चाची को चोद कर बच्चा किया 1 Real Best Sex Story

Bhabhi ki xxx story भाभीजान की गांड मारकर संतुष्ट किया 1 Sex

1 thought on “Antarvasna 2 भतीजी की चूत की सील तोड़ी Real Best Sex Story”

Leave a Comment