Follow my blog with BloglovinAntarvasna Sister शादीशुदा बड़ी बहन की मज़ेदार चुदाई 1 best

Antarvasna Sister शादीशुदा बड़ी बहन की मज़ेदार चुदाई 1 best

शादीशुदा बड़ी बहन की मज़ेदार चुदाई Antarvasna Sister

Antarvasna Sister: बड़ी दीदी की चुदाई शुरू होने के बाद मैंने कई बार दीदी की चूत मारी. मगर जल्दी ही दीदी की शादी हो गयी. मैंने शादीशुदा चचेरी बहन को चोदा उनके घर में! कैसे?

नमस्कार दोस्तो, मैं अनुज एक बार फिर से अपनी बड़ी दीदी की चुदाई कहानी आपके लिए लाया हूं. आप इसे मेरी पिछली कहानी का आगे भाग भी मान सकते हैं. वैसे यह एक अलग घटना है जो मेरी दीदी की शादी के बाद हुई थी.

मेरी पिछली कहानी
बहन ने मुझे चोदना सिखाया
में मैंने आपको बताया कि दीदी की शादी से पहले मैंने दीदी को उसके यार पंकज के साथ चुदते हुए पकड़ लिया था. वहीं से दीदी और मेरे बीच में सेक्स संबंध बन गये थे.

मगर बड़ी दीदी की चुदाई का ये खेल ज्यादा दिनों तक नहीं चला. चाचा ने जल्दी ही दीदी की शादी फिक्स कर दी. पांच महीने के अंदर अंदर दीदी की शादी भी हो गयी. वो अपने ससुराल चली गयी थी.

उसकी शादी के बाद अपने ससुराल में वो अपने पति के लंड का मजा लेने लगी और मैंने यहां गांव में एक कमसिन कली पटा ली थी. मैं उस कुंवारी चूत को चोदने का आनंद ले रहा था.

मगर किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था. आगे की पढ़ाई के लिए मैं लखनऊ चला गया. वहां पर मैं किराये के रूम में रह रहा था.

अचानक काफी समय बाद दीदी का कॉल आया. उन्होंने बताया कि जीजा का ट्रांस्फर लखनऊ में हो गया है. लखनऊ में ही उन्होंने फ्लैट भी ले लिया है. मगर कुछ दिनों तक वो पुरानी जगह पर ही रह कर काम करेंगे.

दीदी बोली- तू यहां मेरे पास आ जाया कर!
मैंने बिना सोचे हां कर दिया.
वो बोली- ठीक है, कल तेरे जीजा सुबह ड्यूटी पर निकल जायेंगे. उसके बाद तू आ जाना.
मैंने कहा- ठीक है दीदी. मैं पहुंच जाऊंगा.

अगले दिन दोपहर में मैं दीदी के रूम पर जा पहुँचा. दीदी ने रूम का दरवाजा खोला तो मैं उनको देख कर हतप्रभ रह गया।
मैंने सरिता दीदी को जब साड़ी में देखा तो देखता रह गया. दीदी पहले से भी ज्यादा खूबसूरत दिखाई दे रही थी. शादी के बाद उनका बदन और भी खिल चुका था।

दीदी लाल रंग की साड़ी और ब्लाउज में थी. पैर रंगे हुए थे और पैरों में पायल थी. हाथों में मेहँदी लगी हुई थी और लाल रंग की चूड़ियां खूब जंच रही थी. गले में लम्बा सा मंगलसूत्र और होंठों पर लाल रंग की लिपस्टिक थी. मेकअप किया हुआ चेहरा, कानों में झुमके, मांग में सिंदूर के साथ दीदी बहुत ही खूबसूरत लग रही थी

मन तो कर था कि दीदी को तुरन्त बांहों में भर लूं और दीदी को चोद डालूं।
वो बोली- ऐसे क्या देख रहे हो?
मैंने कहा- देख रहा हूँ कि तुम कितना बदल गई हो.
दीदी ने कहा- क्यों अच्छी नहीं दिख रही हूं क्या?

मैंने कहा- नहीं आप तो पहले से भी मस्त माल दिख रही हो. जीजा ने आपके रंग और अंग को और ज्यादा निखार दिया है. मन तो कर रहा है कि अभी बिस्तर पर ले जाकर निचोड़ दूं और आपकी खिली हुई जवानी का पूरा रस पी जाऊं।

दीदी ने हँसते हुए दरवाजा बंद करते हुए कहा- अब मैं किसी और की अमानत हूँ. किसी और के माल पर बुरी नजर नहीं डालते।
मैंने दीदी का हाथ पकड़कर अपनी ओर खींचते हुए बोला- और शादी के पहले ये माल मेरा था. अब उसी माल को जीजा चोद रहे हैं.

उसने मेरे गालों पर हल्की सी चपत लगाते हुए कहा- नहीं, तुमने अपने जीजा के माल को उनसे भी पहले ही चोद लिया.
ऐसा कह कर वो जोर जोर से खिलखिलाकर हंसने लगी.

मैंने सरिता दीदी को अपनी बांहों में लेते हुए कहा- कहीं जाने के लिए तैयार हो क्या?
वो बोली- नहीं, कहीं नहीं जाना. पहले तुम ये बताओ कि क्या पीओगे?
मैंने दीदी को अपनी बांहों में कसते हुए बोला- अपनी प्यारी बहना के गदराए बदन पर चढ़ी हुई जवानी का रस।

ये कहते हुए मैंने दीदी के चेहरे को अपने हाथों में लिया और उनकी नज़र से अपनी नज़र मिला दी.
दीदी मेरी आँखों में देखती हुई बोली- तो फिर पी लो ना … रोका किसने है?

मैंने उनके दोनों होंठों को अपने होंठों के अंदर लिया और उनके होंठों से लिपस्टिक को अपनी जीभ से चाट गया। उसके बाद पता नहीं कितनी देर तक मैं दीदी को वहीं खड़े खड़े चूसता रहा. कभी मैं दीदी के होंठों को तो कभी दीदी मेरे होंठों को. कभी मैं दीदी की जीभ को तो कभी वो मेरी जीभ को चूस रही थी.

shadishuda badi behan ki chudai Antarvasna Sister

कुछ देर तक ऐसे ही एक दूसरे को चूमने के बाद मैंने साड़ी का पल्लू पकड़ा और दीदी के कंधे से पिन निकाल कर पल्लू को गिरा दिया. मैंने अपने हाथ नीचे ले जाकर दीदी की साड़ी को उनकी कमर में से निकाल दिया.

साथ ही मैंने दीदी की साड़ी को और पेटीकोट की डोरी को एक साथ खोल दिया. इसके साथ ही दीदी की साड़ी और पेटीकोट दोनों एक साथ जमीन पर गिर गए। अब दीदी ब्लाउज और पैंटी में मेरे सामने थी.

दीदी अब तक बिल्कुल गर्म हो चुकी थी. मैंने दीदी के ब्लाउज का हुक खोल कर ब्लाउज को निकाल दिया. अब दीदी लाल कलर की ब्रा और पैंटी में मेरे सामने थी। तभी दीदी ने मुझे धक्का देकर दीवार से सटा दिया.

फिर उसने मेरी शर्ट के बटन खोल कर मेरी शर्ट निकाल दी और फिर उसने मेरी बनियान को भी निकाल फेंका। अब उसने मेरे जिस्म पर चुम्बन करना शुरू किया. मैं पागल होने लगा.

उसने पहले मेरे होंठों को चूसना शुरू किया. बहुत देर तक चूसने के बाद उसने मेरे सीने को चूमना शुरू किया. वो मेरे निप्पल्स को बारी बारी से मुंह में लेकर चूस रही थी जिससे मेरे अंदर एक मादकता भरती जा रही थी.

उसके बाद दीदी ने मेरी चड्डी में हाथ दिया और मेरे लंड को सहलाने लगी। अब दीदी मेरे सामने घुटनों के बल बैठ गयी और मेरी लोवर के ऊपर से मेरे तने हुए लंड पर हाथ फिराने लगी. उसको मेरा लंड बहुत पसंद था.

अब दीदी ने मेरी लोअर को खींच कर नीचे कर दिया. मेरा लौड़ा मेरे अंडरवियर में तड़प रहा था. उसने अंडरवियर को आगे से गीला कर दिया था. दीदी ने मेरे अंडरवियर को उतार दिया और मेरा मोटा लंड बाहर निकल कर झूलते हुए दीदी के सामने फनफनाने लगा.

दीदी मेरे लंड को प्यास भरी नजर से देख रही थी. उसने मेरे लंड पर एक किस कर दी और फिर प्यार से मुंह खोल कर मेरे लंड को अपने होंठों के अंदर समा लिया. दीदी ने मेरे लंड को अपने मुंह में पूरा भर लिया और चूसने लगी.

तभी मैने इस खुबसुरत पल का फोटो खीच लिया जिसे आप नीचे देख सकते है.

shadishuda badi behan ki chudai Antarvasna Sister

क्या बताऊं दोस्तो, दीदी ऐसा लंड चूसती थी कि मैं शब्दों में उस आनंद का वर्णन नहीं कर सकता. मेरे लंड को ऊपर से नीचे तक दीदी ने अपने थूक में गीला कर दिया था. अब वो मेरे लंड के साथ साथ मेरे आण्डों को भी चूसने लगी थी.

मुझे इतना मजा आ रहा था कि मेरे मुंह से बहुत कामुक सिसकारियां निकल रही थीं- अह्हह … इशस्स् … आ्हह दीदी … उम्म … दीदी … ओह्ह.. क्या मस्त चूस रही हो। आह्ह् … बहुत मजा आ रहा है दीदी.

पांच मिनट में ही दीदी ने मुझे मेरी उत्तेजना की चरम सीमा पर पहुंचा दिया. मैंने दीदी के सिर को पकड़ लिया और एक दो धक्के उसके मुंह में दिये कि तभी मेरे लंड से वीर्य निकल पड़ा जिसको दीदी ने अपने मुंह में अंदर ही पी लिया.

फिर दीदी ने मेरे लंड को अपने मुंह से निकाला और बोली- अब तुम्हारी बारी है.
मैंने दीदी के कंधों को पकड़ कर दीदी को खड़ा कर दिया और अपने सीने से दीदी को लगा लिया. पीछे हाथ ले जाकर मैंने उनकी ब्रा का हुक खोल कर ब्रा को निकाल दिया. दीदी की चूची नंगी हो गयी. मैंने देखा कि दीदी की चूचियों का साइज अब पहले से काफी बड़ा हो गया था.

शायद जीजा जी दीदी की चूची खूब दबाते थे. दीदी को भी अपनी चूची दबवाना और पिलाना बहुत पसंद था. मैंने बड़ी दीदी को दीवार से सटा दिया और उसके गले में पड़े मंगलसूत्र को निकाल दिया.

अब मैंने दीदी की बाईं चूची का निप्पल मुंह में लेकर चूसना शुरू किया और दायीं निप्पल को अंगूठे और उंगलियों की सहायता से मसलने लगा. दीदी के मुंह से मादक आहें निकलने लगीं.

उन्होंने मेरे सिर को पकड़ लिया और मेरे बालों को सहलाने लगी. कुछ देर के बाद दीदी की दायीं चूची को मुंह में लेकर मैं बाईं को मसलने लगा. उनकी चूचियाँ जी भरकर चूसने के बाद मैंने दीदी के कंधों, गर्दन, उनकी कमर और पेट को चूमना शुरू कर दिया.

दीदी हल्की हल्की आहें भर रही थी और उनकी आँखें बंद थी। उसके बाद मैंने दीदी को घुमाकर दीवार से सटा दिया और उनकी पीठ पर चुम्बनों की बरसात कर दी. अब मैं उनकी पीठ को चूमते हुए नीचे की तरफ आने लगा.

अब मैं दीदी के पीछे घुटनों के बल बैठ गया और दीदी की पैंटी को निकाल दिया. अब दीदी के चूतड़ों पर मैं किस करने लगा. चूतड़ों को चूमने के बाद मैंने उनकी जांघों को भी चूमना शुरू कर दिया।

फिर मैंने दीदी को घूमने को कहा तो वो घूम गयी. अब मैं दीदी के बाएं पैर को हाथों में लेकर उनकी एड़ियों और पंजों को चूमते हुए उनके घुटनों तक गया. इसके बाद मैं दीदी के दायें पैर के पंजों एड़ी को चूमते हुए घुटनों तक गया।

अब मैं थोड़ा और दीवार की तरफ सटा और दीदी के दाहिने पैर को उठा कर अपने कंधों पर रख लिया. दीदी दीवार का सहारा लेकर मेरे सर को पकड़ कर खड़ी हो गयी. दीदी की चूत अब ठीक मेरे मुंह के सामने थी.

देर ना करते हुए मैंने दीदी की चूत पर अपनी जीभ लगा दी. उसकी चूत बहुत गीली हो चुकी थी. मैं बड़ी दीदी की चूत को चाटने लगा.

shadishuda badi behan ki chudai Antarvasna Sister

कभी जीभ अंदर देता तो कभी बाहर चाटता. कभी जीभ से उसकी चूत की गहराई नापता.

इतनी ही देर में दीदी लंड से चुदने के लिए तड़प उठी. उसके मुंह से कामुक चुदास भरी सिसकारियां निकल रही थीं- आह्ह आईई … आह्हह क्या कर रहा है … आह्हह क्यूं तड़पा रहा है हरामी … आह्हह … डाल दे अब।

मगर दीदी की चूत को चूसता ही रहा और वो अकड़ने लगी.
वो अपने हाथों से मेरे सिर पर दबाव बनाने लगी और मेरे सिर को अपनी बुर पर दबाने लगी।

थोड़ी ही देर में दीदी की चूत से रस की धारा निकल पड़ी. मैंने उसका सारा पानी पी लिया।

दीदी ने मदहोश होकर कहा- अनुज, आज यहां सिर्फ मैं और तुम हैं. आज मुझे ऐसे प्यार करो कि मैं कभी भूल नहीं पाऊं.

मैंने दीदी से कहा- आज अपनी प्यारी बड़ी दीदी की चुदाई ऐसी ही करूँगा, फिक्र मत करो।

अब मैंने खड़ा होकर दीदी को गोद में उठा लिया और उनको उनके बेडरूम में लेकर आ गया. आहिस्ता से मैंने नंगी दीदी को उनके बिस्तर पर लिटा दिया।

दीदी का गदराया बदन और दीदी की मस्त जवानी मेरे सामने नंगी थी. मैं खुद पर काबू नहीं रख पा रहा था. मैंने उसके पांव की उंगलियों को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगा. फिर उसके तलवे और एड़ियों को चूमने लगा।

उसके बाद दीदी के घुटनों को चूमते हुए उसकी बुर के पास आकर एक किस किया। अब दीदी के पैरों को फैलाकर मैं घुटनों के बल बैठ गया और मैंने ऐसे बैठ कर अपने लन्ड को दीदी की बुर पर सेट किया.

लंड को दीदी की बुर पर सेट करने के बाद मैंने हल्का सा धक्का दिया और मेरा लंड दीदी की चिकनी चूत में आराम से चला गया. दीदी की चूत उनके चूत के रस और मेरे थूक से एकदम लसालस चिकनी हो चुकी थी. इसलिए एक ही धक्के में लौड़ा दीदी की चूत में समा गया.

मेरे लंड को अपनी चूत में ठुकवा कर दीदी ने अपने पैरों को मेरी कमर पर लपेट लिया.
मुझे अपनी बांहों में कस कर भींचते हुए दीदी बोली- चोदो … चोद अब मुझे।

shadishuda badi behan ki chudai Antarvasna Sister

दीदी की चूत में मैंने अपने लंड से धक्के लगाने शुरू कर दिये. दोनों आनंद के सागर में गोते लगाने लगे. दीदी और मेरे मुंह से सिसकारियां निकल रही थीं.

गचागच दीदी की चूत चुदाई हो रही थी और दोनों को ही पूरा मजा मिल रहा था. दस मिनट तक मैं दीदी को उसी तरह उसी पोज में चोदता रहा. उसके बाद मैंने दीदी को घोड़ी बनने के लिए कहा.

दीदी घोड़ी बन गयी और मैंने पीछे से अपना लंड दीदी की चूत में डाल दिया. फिर उसकी कमर को पकड़ कर एक बार फिर से बड़ी दीदी की चूत की चुदाई शुरू कर दी. दीदी के चूचे हवा में लटके हुए आगे पीछे झूलने लगे.

कुछ देर तक धक्के लगाने के बाद जब मुझे लगा कि मेरी उत्तेजना ज्यादा हो गयी है तो मैं अपना लन्ड निकाल कर बिस्तर पर लेट गया और दीदी को मेरे ऊपर आने का इशारा किया।

दीदी तुरन्त मेरे ऊपर आ गयी. उसने मेरे लंड को हाथ में पकड़ा और अपनी चूत के मुंह पर लगा कर मेरे लंड पर बैठती चली गयी. बैठते हुए दीदी ने मेरे लंड को अपनी चूत में पूरा अंदर ले लिया और फिर झुकते हुए मेरे होंठों पर अपने होंठ सटा दिये.

मैं स्वर्ग में पहुंच गया. नीचे से दीदी की चूत में मेरा लंड धंसा हुआ था और ऊपर से वो मेरे होंठों को अपने होंठों का रस पिलाने लगी. फिर कमर हिला हिला कर दीदी मुझसे चुदने लगी.

कुछ देर इसी तरह चुदने के बाद दीदी बोली कि अब मेरा होने वाला है, तुम मेरे ऊपर आ जाओ.
दीदी ने चूत से लंड निकाल लिया और मैं उठ कर दीदी के ऊपर आ गया.

मैंने दीदी को झुका कर चूत में लंड पेल दिया और जोर जोर से बड़ी दीदी की चुदाई करने लगा. दीदी जोर जोर से चीखने लगी. उसकी चीखों में आनंद ही आनंद भरा था जो उसे मेरे लंड से अपनी चूत में मिल रहा था.

कुछ ही देर में दीदी की चूत ने पानी फेंक दिया. अब मैंने भी अपने धक्कों की स्पीड पूरी बढ़ा दी. कुछ देर धक्के लगाने के बाद मैं भी दीदी की चूत में ही झड़ गया.

दीदी पहले से ही निढाल थी और फिर थक कर मैं भी दीदी की बगल में ही लेट गया.
दीदी को बांहों में भर कर मैंने कहा- आपको चोदने में जो मजा आता है ना वो किसी और को चोदने में नहीं आता है.

वो बोली- मुझे भी जो मजा तेरे लंड से चुदने में आता है वो दुनिया के किसी और मर्द के लंड से चुदने में नहीं आ सकता है. यहां तक कि तेरे जीजा के लंड से भी नहीं. मगर ये बता कि मेरे जाने के बाद तूने किसी और को तो नहीं चोदा ना?

मैं बोला- दीदी, आपकी चूत की सील पंकज ने तोड़ी थी. इसलिए पंकज की बहन की चूत की सील मैंने तोड़ दी.
दीदी मेरी ओर हैरानी से देखने लगी और मैं मुस्करा दिया.

दोस्तो, ये थी शादीशुदा बड़ी दीदी के साथ मेरी चुदाई. अपनी कहानी के अगले अंक में मैं बताऊंगा कि कैसे मुझे इसी के चलते कई और भी मस्त मस्त चूत चोदने के लिए मिली.
तब तक आप थोड़ा इंतजार करें और गर्म गर्म सेक्स कहानियों का मजा लेते रहें.

बड़ी दीदी की चुदाई कहानी पर अपना फीडबैक मुझे भेजना न भूलें. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं. और सेक्स विडियो और new कहानी पढने के लिये telegram ग्रुप join कर सकते है.
[email protected]

shadishuda badi behan ki chudai Antarvasna Sister

Read in English

shadishuda badi behan ki chudai Antarvasna Sister

Antarvasna Sister: After the big sister started fucking, I kicked my sister several times. But soon Didi got married. I married a married cousin in their house! how?

Hello friends, I have once again brought you my big sister’s fuck story. You can also consider this to be a further part of my previous story. Well, this is a different incident that happened after my sister’s marriage on Antarvasna Sister.

My previous story
Sister taught me fuck
I told you that before Didi’s wedding, I caught Didi fucking her with her friend Pankaj. From there, sex relations were formed between Didi and me.

But this game of big sister’s fuck did not last long. Uncle soon fixed Didi’s marriage. Within five months, Didi got married inside. She had gone to her in-laws. on Antarvasna Sister.

After her marriage, she started enjoying her husband’s cock in her in-laws’ house and I had slit a kamasin bud in the village here. I was enjoying fucking that virgin pussy.

But luck may have had something else approved. I went to Lucknow for further studies. There I was staying in the rental room like Antarvasna Sister.

Suddenly after a long time, Didi’s call came. He told that the transfer of brother-in-law has been done in Lucknow. They have also taken a flat in Lucknow itself. But for a few days, they will work by staying at the old place.

Didi said- You come here to me!
I said yes without thinking.
She said – well, tomorrow your brother-in-law will go out on duty in the morning. You come after that Antarvasna Sister.
I said – okay sister. I will arrive

The next day in the afternoon I reached Didi’s room. When Didi opened the door of the room, I was shocked to see them.
When I saw Sarita Didi in a sari, I kept looking. Sister was looking even more beautiful than before. After marriage, his body had grown even more Antarvasna Sister.

Didi was in a red colored saree and blouse. The legs were stained and the legs were anklets. Mehndi was in his hands and red colored bangles were looking very well. There was a long mangalsutra around the neck and red lipstick on the lips. Didi looked gorgeous with a makeup face, earrings in earrings, vermilion in demand for Antarvasna Sister.

Wanted to fill Sister in arms immediately and add Sister to Chod.
She said – what are you looking like?
I said – see how much you have changed Antarvasna Sister.
Didi said- Why am I not looking good?

I said – no, you already see cool stuff. Brother-in-law has enhanced your complexion and body. I feel like going to bed now and squeeze and drink all the juice of your bloated youth.

Didi laughingly closed the door and said- Now I am someone else’s bond. Do not take a bad look at someone else’s goods Antarvasna Sister.
I said holding the sister’s hand and pulling towards me – and before marriage, this material was mine. Brother-in-law is now using the same goods.

Applying a slight slap on my cheeks, he said- No, you have taken the goods of your brother-in-law even before them.
After saying this, she started laughing loudly and laughing the Antarvasna Sister.

I took Sarita Didi in my arms and said- Are you ready to go somewhere?
She said – no, go nowhere. First you tell me what to drink?
I told Didi tightly in my arms – the youthful juices on the dead body of her beloved sister about Antarvasna Sister.

Saying this, I took Didi’s face in my hands and mixed my eyes with her.
Didi said looking into my eyes – then drink again… Who has stopped?

I took both of their lips inside my lips and licked the lipstick from their lips with my tongue. After that, I do not know how long I used to suck Sister standing there on Antarvasna Sister. Sometimes I have sister’s lips and sometimes sister does my lips. Sometimes I was sucking sister’s tongue and sometimes she was sucking my tongue.

After kissing each other like this for some time, I grabbed the pallu of the sari and dropped the pallu by removing the pin from Didi’s shoulder. I took my hand down and removed the sister’s sari from her waist like Antarvasna Sister.

Simultaneously I opened the sister’s sari and the petticoat cord together. Simultaneously, both Didi’s sari and petticoat fell to the ground. Now Sister was in front of me in blouse and panties on Antarvasna Sister.

Sister was very hot by now. I removed the blouse by opening the hook of Didi’s blouse. Now Sister was in front of me in a red colored bra and panty. Then Didi pushed me to the wall.

Then he unbuttoned my shirt and removed my shirt and then he also threw out my vest. Now he started kissing my body. I started going crazy for Antarvasna Sister.

He first started sucking my lips. After sucking for a long time, he started kissing my chest. She was sucking my nipples alternately with her mouth, due to which a drunkenness was being filled inside me.

After that, Didi gave her hand in my tights and started caressing my cock. Now Sister sat down on my knees in front of me and started waving at my trunk cocks from above my lower. He loved my cock very much Antarvasna Sister.

Now Sister pulled my lower down. My Aloda was yearning in my underwear. He had wet his underwear further. Didi took off my underwear and started flapping in front of my sister while swinging out my thick cock.

Sister was looking at my cock with a thirsty eye. He did a kiss on my cock and then lovingly opened my mouth and inserted my cock inside his lips. Sister filled my cock in her mouth and started sucking Antarvasna Sister.

Then I took a picture of this beautiful moment, which you can see below.

use
What can I tell friends, Didi used to suck such cocks that I cannot describe that bliss in words. Didi wet my cock from top to bottom in her spit. Now she was sucking my cocks along with my cock Antarvasna Sister.

I was enjoying it so much that my very sexy sissaries were coming out of my mouth – Ahhhh… Isshhh… Ahhh Didi… Umm… Didi… Ohhhh… what a great suck. Ahh… Sister is enjoying a lot.

Within five minutes, Didi brought me to the height of my excitement. I grabbed Didi’s head and gave a couple of blows in her mouth that only then semen came out of my cock, which Didi drank in her mouth Antarvasna Sister.

Then Didi took my cock out of her mouth and said- Now it’s your turn.
I held the sister’s shoulders and raised her, and placed the sister with my chest. Taking my hand behind, I opened the hook of his bra and removed the bra. Sister’s teat became naked. I saw that the size of Didi’s Tits had become much bigger now.

Perhaps brother-in-law used to press sister’s nipple a lot. Didi also loved pressing her teat and feeding. I took the elder sister close to the wall and removed the mangalsutra around her neck Antarvasna Sister.

Now I started sucking the nipple of Didi’s left nipple in the mouth and started rubbing the right nipple with the help of thumb and fingers. Alcoholic sighs started coming out of Didi’s mouth.

He grabbed my head and started caressing my hair. After some time, I took the right teat of Didi in the mouth and started rubbing the left. After sucking her Tischi, I started kissing Didi’s shoulders, neck, her waist and stomach Antarvasna Sister.

Sister was sighing lightly and her eyes were closed. After that I twisted the sister along the wall and showered kisses on her back. Now I started coming down to kiss his back.

Now I sat on my knees behind Didi and removed Didi’s panties. Now I started kissing on Didi’s pussy. After kissing the fists, I started kissing her thighs too Antarvasna Sister.

Then I asked Didi to roam, then she turned around. Now I took Didi’s left foot in her hands and kissed her ankles and feet and went to her knees. After this, I went to the knees kissing the toes of the right leg of the sister.

Now I sat a little more towards the wall and lifted sister’s right foot and placed it on my shoulders. Sister took hold of my head with support from the wall. Sister’s pussy was right now in front of my mouth Antarvasna Sister.

While not delaying, I put my tongue on Didi’s pussy. Her pussy was very wet. I started licking big sister’s pussy.

Sometimes the tongue would lick in and sometimes lick it out. Sometimes the depth of her pussy measures with the tongue Antarvasna Sister.

In the same time, sister woke up to fuck with cocks. Erotic cunts were coming out of his mouth – Ahhh IE… Ahhhhhhhhhhhhhhhh… Ahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh… ..

But Sister kept sucking her pussy and she started to jog.
She started pressing on my head with her hands and pressing my head on her head Antarvasna Sister Antarvasna Sister.

In a short period of time a stream of juice came out of Didi’s pussy. I drank all his water.

Didi sobbed and said- Anuj, only me and you are here today. Love me today such that I will never be able to forget.

I told Didi – today I will do the same thing to my dear elder sister, do not worry.

Now I stood up and took Didi in her lap and brought her to her bedroom. I lay Nangi Didi on her bed.

My sister’s body was naked and my sister’s youth was naked in front of me. I could not control myself. I stuffed her toes into my mouth and started sucking. Then he started kissing her soles and ankles Antarvasna Sister.

After kissing Didi’s knees, she came near his bur and did a kiss. Now I sat on my knees with my sister’s legs extended and I set my bed on the sister’s bur.

After setting the cocks on Didi’s Burr, I pushed a little and my cock went smoothly in Didi’s smooth pussy. Didi’s pussy was completely smooth with her pussy juice and my spit. So in one stroke, Aloda didi’s pussy for Antarvasna Sister.

Didi wrap my legs on my waist by slapping my cock in her pussy.
Didi bid me tightly in my arms, Didi said- Chodo… Chod me now.

I started banging with my cock in Didi’s pussy. Both started diving in the ocean of joy. Sister and sister were coming out of my mouth then start Antarvasna Sister.

Gachagach Didi’s pussy was getting fuck and both were getting full fun. For ten minutes, I kept fucking in the same pose as didi. After that I asked Didi to become a mare.

Didi became a mare and I put my cock in Didi’s pussy from behind. Then by holding her waist, once again started fucking big sister’s pussy. Didi’s feet started swinging back and forth hanging in the air like Antarvasna Sister.

After pushing for a while, when I felt that my excitement was over, I took my lund off and lay down on the bed and gestured to Didi to come over me.

Sister instantly came over me. He grabbed my cock in my hand and went to sit on my cock, putting it on my pussy. While sitting, Didi took my cock inside her pussy completely and then bent down and placed her lips on my lips about Antarvasna Sister.

I have reached heaven. My cock was embedded in Didi’s pussy from below and from above she started sucking the lips of her lips. Then Siddi shook her back and started sucking me about Antarvasna Sister.

After some time like this, Didi said that now I am going to come, you come on me.
Didi took the cocks out of her pussy and I got up and came over Didi then Antarvasna Sister.

I bended the sister and put cocks in her pussy and started fucking her big sister very loudly. Sister started screaming loudly. There was joy in his screams which he was getting from my cock in his pussy.

Shortly, Didi’s pussy threw water. Now I also increased the speed of my bumps. After hitting for a while, I also fell into Didi’s pussy like Antarvasna Sister.

My sister was already exhausted and then tired of lying down next to her.
I said by filling the sister in arms, you do not enjoy Chodne nor does it come in anyone else.

That quote- I too enjoy the fun with your cock, it cannot come with any other man’s cock in the world. Not even from your brother-in-law’s cock. But tell me that after my departure, you have not chosen anyone else for Antarvasna Sister.

I said – Didi, your pussy seal was broken by Pankaj. That’s why I broke the seal of Pankaj’s sister.
Sister started looking at me with surprise and I smiled.

Friends, this was my sex with married elder sister. In the next issue of my story, I will tell how due to this I got many more cool mast pussy for Chodne.
Till then you wait a bit and enjoy hot hot sex stories and much more Antarvasna Sister.

Don’t forget to send me your feedback on Badi Didi’s Chudai story. Apart from this, you can also give your opinion by commenting on the story below. And to read sex videos and new story, telegram group can join.
[email protected]

Read more chudai Story-

sleeping sister xxx बहन की कच्ची चूत Sister sex Hindi story

Sex stories bhai behan दीदी की चुदाई की तमन्ना भाई से 1 Fun

Cousin sex story चाचा की बेटी को चोदा 1 real Sex fun

Leave a Comment