सगी बहन की सील तोड़कर मनाई सुहागरात 1 Best xxx desi kahani

सगी बहन की सील तोड़कर मनाई सुहागरात 1 Best xxx desi kahani

Best xxx desi kahani: बच्चे की डिलीवरी में मेरी बीवी की मौत के बाद मेरी 19 साल की जवान बहन ने मेरे बेटे को संभाला. मुझे अपनी बहन से ही प्यार हो गया. मैं अपनी बहन की जवानी को पाना चाहता था.

मेरे परिवार के लिए यह यादगार और एक सुखद घटना थी.

मैं शकील कुमार बैंक में मैनेजर के पद पर कार्यरत हूँ. अब्बू की आकस्मिक मृत्यु हो जाने के बाद अम्मी और छोटी बहन की सारी जिम्मेदारी मेरे ऊपर थी. परिवार में मेरे अलावा अम्मी, छोटी बहन और पत्नी साजिया थे.

शादी के 6 साल बाद मैं बाप बनने वाला था. घर में अम्मी और छोटी बहन नसरीन बहुत खुश थे. वे खुश होते भी क्यों नहीं, आज बहुत दिन बाद घर में हर्ष वा उल्लास का माहौल था क्योंकि नया मेहमान जो आने वाला था.

डेलिवरी का दिन आ गया. साजिया को हॉस्पिटल में भर्ती कर दिया गया. मगर दुर्भाग्य से केस बिगड़ गया. बच्चे के जन्म के साथ ही साजिया की मृत्यु हो गयी. बच्चे को डॉक्टरों ने बचा लिया.
इस घटना के बाद कुछ ऐसी परिस्थिति पैदा हो गयी थी कि मेरे बच्चे सलमान की देखभाल की सारी ज़िमेदारी अम्मी और नसरीन पर आ गयी थी.

ख़ास कर नसरीन जो अभी सिर्फ़ 19 साल की कमसिन लड़की थी. वो बारहवीं का एग्जाम देने वाली थी. पर बेचारी पर नयी ज़िम्मेदारी आ गयी थी. खैर … जैसे तैसे नसरीन ने बारहवीं का एग्जाम दिया और पास भी कर गयी.

समय बीतता गया और हालात ने करवट ले ली. सलमान की देख रेख करते करते कब मैं नसरीन की तरफ आकर्षित हो गया, कुछ पता ही नहीं चला. मासूम बच्चे की वजह से मैं नसरीन के काफ़ी निकट आ चुका था. अम्मी भी इन बातों से अंजान नहीं थीं. वो मेरी आंखों में नसरीन के लिए उमड़ते प्यार को समझ रही थीं. इन नज़रों में नसरीन के लिए एक भाई का जो प्यार और स्नेह होना चाहिए, वो बिल्कुल नहीं था. बल्कि मेरी आंखों में एक अलग सी चमक और अजब सी चाहत साफ़ दिख रही थी.

नसरीन अक्सर काम में बिज़ी रहती थी. मैं चोरी छिपी तिरछी नज़रों से उसके भरे भरे उछलते थिरकते नितंबों और चुचियों को बड़े प्यार और ललचाई नज़रों से देखता रहता. बेचारी नसरीन इन बातों से अंजान थी कि उसके अपने सगे बड़े भाई की नियत उसकी जवानी पर खराब हो चुकी है. वो इन बातों से बेख़बर अपने भाई और उसके बच्चे की सेवा निस्वार्थ किए जा रही थी.

इधर मैं नसरीन को लेकर अम्मी से संजीदगी से बात करना चाहता था. मैं नसरीन की भरपूर जवानी से खेलने के लिए बेक़रार रहने लगा था.

जब मैंने अम्मी से इस बारे में से बात की, तो अम्मी का रुख़ भी सकारात्मक था.
अम्मी बोलीं- बेटा, मैं तेरे जज़्बात और भावनाओं को अच्छी तरह समझती हूँ. मैंने तेरी आंखों में नसरीन के लिए भरपूर और बेइंतहा प्यार को देखा है. तेरे मन में उसको लेकर क्या क्या भावनाएं हैं, वो मैं सब जानती हूँ. मेरी भी हार्दिक इच्छा है कि वो बच्चे के साथ साथ तुझे भी अपना ले. बेटा मेरी भी दिली तमन्ना है कि मैं तुम दोनों को दामाद और बहू के रूप में देखूं.

तुम दोनों के मिलन से जन्मे बच्चों से मेरे नानी और दादी के दो रिश्ते हो जाएंगे. मैं तो यह सोच कर ही रोमांचित हो जाती हूँ. बेटा मैं एक बात कहूँ, तेरे बाप ने आज से 18 साल पहले मेरी कोख में अपना बीज डाला था, जो आज नसरीन के रूप में एक फलदार पेड़ तैयार हो चुका है. बाप के लगाए पेड़ का यह फल बहुत मीठा है … और मैं चाहती हूँ कि नसरीन के रूप में ये मीठा फल तू ही खाए.

अम्मी की बातें सुन कर मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा. नसरीन की जवानी का मीठा फल खाने का इशारा नसरीन की चुदाई से था. एक तरह से अम्मी मुझे हरी झंडी दे रही थीं. अम्मी की बात से मैं अन्दर ही अन्दर बहुत खुश था.

मैं पुराने दिनों में चला गया और मेरी आंखों के सामने वे दिन घूमने लगे. वो छह साल पहले की बात थी, उस वक़्त नसरीन छोटी थी. वो रविवार का दिन था नसरीन आंगन में लगे पानी के नल पर पूरी तरह निवस्त्र होकर नहा रही थी. मैं ऊपर की मंजिल से यह सब देख रहा था. नसरीन के नितंब और चुचियां आकार लेने लगे थे. अभी उसका पीरियड स्टार्ट तो नहीं हुआ था … लेकिन चुत में उभार आ चुका था. जो यह संकेत था कि 5-6 महीने के अन्दर ही उसका मेन्स स्टार्ट होना निश्चित है.

उस दिन उसे नग्न देख कर मैं बहुत गर्म हो गया था. लेकिन वाह री क़िस्मत, जिस चीज़ के लिए मैं उस दिन तरस रहा था … आज हालात ऐसे बन गए कि वो खुद ब खुद मुझे हासिल होने वाली थी. नसरीन जैसी सील पैक लड़की की चुदाई मेरे लिए सौभाग्य की बात थी.

मैंने अम्मी से कहा- अम्मी मुझे आशीर्वाद दीजिए कि मैं जल्द से जल्द आपकी यह इच्छा पूरी कर सकूँ.
अम्मी बोलीं- बेटा तुम निश्चिंत रहो, मैं इस सिलसिले में नसरीन से बात करूंगी. मुझे आशा है कि मैं उसे समझा बुझा कर तुम्हारे लिए तैयार कर लूँगी.

फिर एक दिन मौका देख कर अम्मी ने नसरीन से अपने मन की बात कह दी.
पहले तो नसरीन नाराज़ हो गयी और गुस्से से बोली- अम्मी आप ये क्या फालतू बात कर रही हो. तुम्हें क्या हो गया? यह कभी नहीं हो सकता. समाज क्या कहेगा … अम्मी यह पाप है. भाई के साथ … छी …

अम्मी ने उसे ज़माने की ऊंच-नीच समझाई. अगर समझाया कि शकील का दूसरा विवाह किसी गैर और अंजान लड़की से हुआ, तो वो बच्चे के साथ कैसा सलूक करेगी. सौतेली अम्मी सौतेली ही होती है.
नसरीन चुपचाप सुनती रही.

अम्मी उसे देखते हुए बोलीं- बेटी तू इस मुद्दे पर गंभीरता पूर्वक विचार कर. उसे बड़े धीरज से सब समझाया कि मुझे और शकील को जब कोई एतराज़ नहीं है, तो तुझे क्या आपत्ति है.

नसरीन यह सुन कर स्तब्ध रह गयी कि बड़े भाई उसी से दूसरा विवाह करना चाहते हैं. हालांकि उसके मन को चोट लगी … लेकिन अम्मी ने उससे बहुत समझाया कि क्या पता कोई दूसरी लड़की अगर शकील की पत्नी बनी, तो वो हमारे और शकील के बीच दरार ना पैदा कर दे. मेरा और तुम्हारा खर्चा उसी की आमदनी के पैसों से चलता है. तुम इस पर गंभीरता से विचार करो बेटी.

तब नसरीन ने अम्मी से निर्णय के लिए एक हफ्ते का समय मांगा. चार दिनों तक नसरीन ने कोई जवाब नहीं दिया.

इसी दरम्यान मैंने नसरीन को लैपटॉप चलाना सीखने की सलाह दी और उससे कहा कि आज के दौर में कंप्यूटर सीखना कितना जरूरी है.

यह कह कर मैंने अपना लैपटॉप नसरीन को दे दिया. मई रोज उसे एक घंटे लैपटॉप चलाना सिखाने लगा. मैं ख़ास तौर से उसे वीडियो देखना सिखा रहा था. किधर से वीडियो का फोल्डर खोलते हैं और कैसे कोई वीडियो को कान में ईयरफोन लगा कर देखते हैं.

इसी के साथ मैं उसके जवाब का बेसब्री से इंतज़ार कर रहा था. क्योंकि मैं नसरीन को हर हाल में पाना चाहता था.

फिर मैंने एक प्लान बनाया. उस दिन सुबह सवेरे 7 बजे मैं नहाने के लिए बाथरूम में घुसा और जानबूझ कर तौलिया नहीं ले गया था.

नहाने के बाद मैंने नसरीन को आवाज़ दी- ओ नसरीन … ज़रा मुझे तौलिया तो दे देना, मैं लाना भूल गया.

उस दिन अम्मी के पैरों में हड्डी का दर्द कुछ ज्यादा था.

नसरीन तौलिया लेकर आई और बाथरूम का दरवाजा खटखटा कर तौलिया लेने का कहा. मैंने दरवाजा खोल दिया. इस समय मेरे शरीर पर एक धागा भी नहीं था. नसरीन की नज़र जैसी ही मेरे 8 इंच के लंड पर पड़ी, वो अवाक और स्तब्ध रह गयी.

उसके मुँह से सिर्फ़ इतना ही निकला- बाप रे … इतना बड़ा.

मैंने साफ़ तौर पर देखा कि तौलिया देते समय उसकी नज़र मेरे लंड पर थी. मेरा लंड इस समय बंदूक की नाल की तरह तना हुआ था और अप-डाउन कर रहा था. फिर जैसे ही उसकी नज़रें मेरी नज़र से मिलीं … वो बुरी तरह झेंप गयी.

तभी मैंने शरारत से बोला- अरे यार नसरीन … मेरा ये छोटू तुमसे दोस्ती करना चाह रहा है.
नसरीन सिर्फ़ इतना बोल कर भाग गयी- धत्त भाईजान … आप भी ना … ये छोटू कहां है.

इस घटना ने आग में घी का काम किया. मेरा प्लान काम कर गया. अब नसरीन मुझसे नज़रें नहीं मिला रही थी. बल्कि मेरे सामने आने से कतरा भी रही थी.

दो दिन बाद मेरी आपा आने वाली थीं. अम्मी ने ही उन्हें बुलाया था. आपा भी हम दोनों की शादी के फेवर में थीं. आपा ने आने के साथ नसरीन को समझाना और मनाना शुरू कर दिया.

मैं जानता था कि आपा मेरे फेवर में आई हैं और वो नसरीन को मना ही लेंगी. नसरीन के भी मान जाने को लेकर मैं काफी पॉजिटिव था. क्योंकि मैंने बड़ी होशयारी से नसरीन को देखने के लिए लैपटॉप में पॉर्न वीडियो डाल रखे थे और उसे अपने फनफनाते हुए लंड का दीदार भी करवा चुका था. मुझे पता था कि किसी भी जवान लड़की की सेक्स इच्छा को उभारने के लिए यह सब करना ज़रूरी होता है.

हफ़्ता पूरा होने से पहले ही उसने अपनी सहमति दे दी. यह सुन कर मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा क्योंकि अब नसरीन की चुदाई करने का मेरा सपना पूरा होने वाला था. अम्मी और आपा ने काजी जी बात की. काजी जी ने दोनों के निकाह की बात मान कर दस दिन बाद शादी की तारीख दे दी.

इत्तफ़ाक़ से कुछ ही दिन बाद नसरीन भी मासिक पीरियड से निवृत होने वाली थी. मासिक पीरियड से निवृत होने के बाद लड़कियों की सेक्स करने की इच्छा पूरे उफान पर होती है. मेरा काम और आसन हो गया था. पीरियड से निवृत होने के दूसरे दिन आपा नसरीन को ब्यूटी पार्लर ले गईं. उसे उधर ले जाकर उसके पूरे जिस्म की वैक्सिंग करवाई. अंदरूनी बाल साफ़ करवाने के दौरान आपा ने नसरीन की चुत को गौर से देखा. ब्यूटीशियन ने आपा के इशारे पर चुत की दरार खोल कर नसरीन की वर्जिनिटी दिखा दी … जो पूरी तरह से सीलपैक बुर थी. ब्यूटी पार्लर से लौट कर आपा ने मुझे यह खुशख़बरी दी.

अब सिर्फ़ सील तोड़ने में ही मेहनत करनी बाकी थी.

आख़िर निकाह का दिन आ ही गया. निकाह की रस्म भी पूरी हो गयी.

उसी रात के 9 बजे सुहागरात के लिए आपा मुझे अपने साथ लेकर नसरीन के पास ले गईं और बोलीं- बेटा … देखो मेरी नसरीन बेटी बड़ी ही मासूम है, एकदम कच्ची कली जैसी है. इसे ज़बरदस्ती फूल मत बना देना. तुम जो करना, बड़े प्यार से करना.

उधर नसरीन आपा की बात सुन कर अन्दर ही अन्दर शर्माने के साथ डर भी रही थी. लेकिन उसकी मेरे लंड से चुत चुदाई करवाने की इच्छा भी थी. वो लैपटॉप पर पॉर्न फिल्म में एक साथ 3 मर्दों और एक लड़की की भंयकर चुदाई की कई वीडियोज देख चुकी थी. नसरीन मन ही मन अपने बड़े भाई (अब पति) के 8 इंच लंबे लंड से चुदने के लिए अपने आपको तैयार कर चुकी थी.

आपा कमरे से जा चुकी थी. मैंने रूम का दरवाजा बंद कर दिया और नसरीन के निकट आकर बैठ गया.

उसके मेहंदी लगे हाथों को अपने हाथों में लेकर चूमते हुए मैं बोला- नसरीन … मेरी जान. तुम मुझसे शादी करके खुश तो हो ना?

नसरीन ने नज़रें झुकाए हुए अपने सर को हां में हिला दिया. मैंने नसरीन की ठोड़ी को पकड़ कर उठाते हुए कहा- नसरीन … बोलो ना … आई लव यू … डू यू लव मी?
वो शर्म से सर झुकाए हुए खामोश थी.

जब मैंने उससे बार बार अपनी बात कही, तो वो शर्मा कर बोली- यस आई लव यू.

मैं नसरीन के चेहरे को ऊपर करके अपने होंठ नसरीन के होंठ पर रख कर किस करने लगा. वो मेरा साथ देने लगी, मगर अब भी उसकी अदा में झिझक थी. कुछ देर बाद मैंने एक हाथ बढ़ा कर नसरीन की एक चुचि को दबा दिया. नसरीन शर्म से लाल हो गयी. वो बुरी तरह से कसमसा रही थी. लेकिन मैं अपनी बहन जो अब मेरी बीवी बन चुकी थी, उसकी भरपूर जवानी का मज़ा लेने के लिए बेक़ाबू हो रहा था.

धीरे उसके जिस्म के हर हिस्से को सहलाते और रगड़ते हुए मैंने उसको पूरी तरह नंगा कर दिया. खुद के भी सारे कपड़े उतार कर नंगा हो गया. नसरीन अपने भाई के काले नाग की तरह फनफ़नाते हुए लंड को देख कर और गर्म हो गयी.

इधर मैंने नसरीन को लिटा कर उसकी चुत को सहलाना और रगड़ना शुरू कर दिया.

सगी बहन की सील तोड़कर मनाई सुहागरात 1 Best xxx desi kahani

धीरे धीरे नसरीन के मुँह से आहें और सिसकारियां निकलने लगीं. तभी नसरीन का हाथ अपने आप मेरे लंड पर आ गया. वो मेरे लंड को धीरे धीरे पकड़ कर सहलाने और मसलने लगी. मैं नसरीन की दोनों चुचियों के चूचुकों को बारी बारी से मुँह में लेकर बच्चे की तरह चूसने लगा. आख़िर में मैं नसरीन की चुत का रसपान करने लगा. उसकी चुत बेहद थिरक रही थी. चुत चूसे जाने के कारण उसकी गांड ऊपर को उठने लगी थी. उसकी शर्म ने उसका साथ छोड़ दिया था.

कुछ देर बाद मैंने नसरीन की दोनों टांगों को फैला दिया और मोर्चा संभाल कर पोजीशन में बैठ गया.

नसरीन की छोटी सी चुत की दरार गीली हो चुकी थी. मेरा 8 इंच का लंबा लंड तोप की नाल की तरह सीधा नसरीन की कुंवारी चुत की सील तोड़ने के लिए लपलप कर रहा था. मेरा लंड उसकी कुंवारी चुत के दरवाज़े को तोड़ कर अन्दर महल में घुसने के लिए तैयार था.

मैं यह जानता था कि किले का फाटक बहुत मज़बूत है, उससे ध्वस्त कर किले में प्रवेश करना आसान नहीं है. खून ख़राबा होना निश्चित था. नसरीन का यह फर्स्ट टाइम था, इसलिए वो बेचारी डर भी रही थी. नसरीन के चुत का दाना दरार से बाहर झाँक रहा था. नसरीन पूरी तरह गर्म हो चुकी थी, उसकी सांसें तेज़ चल रही थीं … दोनों चुचे ऊपर नीचे हो रहे थे.

यह सब देख अब मेरा और देर रुकना ठीक नहीं था. मैंने नसरीन के दोनों पैरों को और फैलाया और लंड का सुपारा गीली हो चुकी दरार पर रख ऊपर नीचे रगड़ने लगा.

सगी बहन की सील तोड़कर मनाई सुहागरात 1 Best xxx desi kahani

मेरे ऐसा करते ही वो बुरी तरह सीत्कारने व कसमसाने लगी. कुछ मिनट तक मैं नसरीन की चुत की दरार पर लंड घिसता रहा. इस दरम्यान नसरीन के जिस्म में कुछ झटके लगे और वो बिना चुदे ही झड़ गयी. झड़ते समय जो आनन्द की अनुभूति नसरीन को मिली, वो उसके चेहरे से साफ़ पता चल रहा था.

अब मेरी बारी थी. मैंने नसरीन की चुत पर अपने 8 इंच लंबे लंड को सैट करके हल्के से दबाया, तो वो दर्द के मारे कंप गई.

नसरीन मोटे लंड के अहसास से बोल पड़ी- बाप रे बाप … भाई … प्लीज़ मत घुसाओ … मुझे बहुत दर्द हो रहा है.

मगर मैंने उसकी चूचियों को सहला कर उसके दर्द को भुलाने की कोशिश की. मैं अपनी बहन की चुत को पहली बार में ही भोसड़ा नहीं बनाना चाहता था, इसलिए मैं बड़े संयम से काम ले रहा था.

इस तरह मैंने 5-6 बार लंड को धीरे धीरे अन्दर घुसेड़ने का प्रयास किया. मगर हर बार वो दर्द से छहटपटाने लगती.

वो हाथ जोड़ कर विनती करने लगती. लेकिन इतना तो मुझे पता था कि नसरीन भी लंड से चुदने की इच्छुक थी.

फिर मैं बेड से उठा और ड्रेसिंग टेबल पर रखे नारियल तेल को अपने लंड पर लगाता हुआ वापस बेड पर आ गया और और नसरीन की चुत पर तेल लगा कर मैंने दोबारा मोर्चा संभाल लिया.

इस बार मैंने मन में निश्चय कर लिया था कि इस बार जैसे भी हो, किले (नसरीन की चुत) के दरवाज़े को तोड़ देना है. यही सोच कर मैंने नसरीन की दोनों टांगों को पकड़ कर उसके पेट से सटा दिया. ऐसा करते ही चुत की फांकें खुल गईं.

मैंने तेल लगे लंड को चुत की दरार पर सैट करके नसरीन की पतली कमर को दोनों तरफ से पकड़ लिया. फिर अपनी कमर को आगे की तरफ एक शक्तिशाली झटका दे दिया. इससे पहले कि नसरीन के मुँह से चीख निकलती. मैंने अपने होंठ नसरीन के मुँह पर रख दिए. उसकी चीख मुँह में ही घुट कर रह गयी और मेरे लंड का सुपारा घचाक की आवाज़ के साथ चुत की सील तोड़ कर लगभग 2 इंच अन्दर घुस गया.

हालांकि नसरीन दर्द से छटपटा रही थी और अपने आप को मुझसे छुड़वाने का प्रयास कर रही थी. लेकिन मैंने उसे मज़बूती से जकड़ रखा था. मैं धीरे धीरे लंड का दबाव बनाते हुए अन्दर पेलने में लगा हुआ था. मेरा चिकना लंड धीरे धीरे सरकता हुआ नसरीन की चुत में घुसता जा रहा था. पहले 4 इंच तक लंड घुसा. फिर 5″ … 6″ … 7″ और आख़िर में नसरीन की दोनों चुचियों को पकड़ मैंने पूरा 8 इच लंड चुत में पेल दिया.

सगी बहन की सील तोड़कर मनाई सुहागरात 1 Best xxx desi kahani

पूरा लंड चुत में पेलने के कुछ मिनट तक मैं नसरीन के ऊपर लेटा रहा. फिर मैंने अपनी कमर को ऊपर की तरफ किया, तो लंड 2 इंच बाहर निकल आया. मैंने देखा कि मेरा लंड नसरीन की चुत की सील टूटने की वजह से खून से सना हुआ था.

सगी बहन की सील तोड़कर मनाई सुहागरात 1 Best xxx desi kahani

शुरू में मैंने चुदाई की रफ़्तार धीमी रखी, फिर जैसे जैसे आग बढ़ी, लंड ने रफ़्तार पकड़ ली. उधर अब नसरीन भी चुदाई में मेरा साथ देने लगी थी. मेरी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा, जब नसरीन ने अपनी बांहों से मेरी पीठ को जकड़ लिया. अब लंड चुत के जड़ तक घुसने लगा था. जब लंड अन्दर जाता, तो वो भी नीचे से हल्का धक्का लगा देती. जो इस बात का सबूत था कि वो भी चुदाई का भरपूर मज़ा लेने लगी है.

अब चुदाई धकापेल होने लगी थी. मैंने उसकी एक चूची को मुँह में दबा कर ताबड़तोड़ धक्के देना शुरू कर दिए थे. नसरीन भी पूरी मस्त होकर लंड का मजा ले रही थी.

चुदाई अपनी आखरी स्टेज में आ चुकी थी. नसरीन मेरे सीने और कंधे पर कई जगह अपने दांतों से काट चुकी थी. मैंने भी उसकी चुचियों और निप्पलों को दांतों से काट लिया था.

तभी मेरे लंड ने उबकाई करना चालू कर दिया और नसरीन भी मुझसे चिपक कर मेरे वीर्य की बौछार से अपनी चुत को ठंडा करने लगी थी. उसकी चुत ने इस चुदाई में तीसरी बार अपना रज छोड़ा था.

चुदाई के बाद हम दोनों तेज तेज सांसें लेते हुए एक दूसरे से लिपटे पड़े थे. मेरी बहन अब मेरी बीवी बन चुकी थी.

ये मेरी बहन की चुत चुदाई की सच्ची कहानी है, जो मैंने आपके सामने बिना किसी लाग-लपेट के पेश की. आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं. और सेक्स विडियो और new कहानी पढने के लिये Telegram ग्रुप join कर सकते है.

सगी बहन की सील तोड़कर मनाई सुहागरात 1 Best xxx desi kahani

Read in English

After the death of my wife in child delivery, my 19 year old young sister took over my son. I fell in love with my sister. I wanted to get my sister’s youth.

It was a memorable and enjoyable event for my family.

I am working as a manager in Shakeel Kumar Bank. After the sudden death of Abbu, all responsibility of Ammi and younger sister was on me. Apart from me in the family were Ammi, younger sister and wife Sajia Best xxx desi kahani

I was about to become a father after 6 years of marriage. Ammi and younger sister Nasreen were very happy at home. Even if they were not happy, today after a long time there was an atmosphere of joy and joy in the house because the new guest who was going to come Best xxx desi kahani

The day of delivery has arrived. Sajia was admitted to the hospital. But unfortunately the case got worse. Sajia died with the birth of a child. The child was saved by doctors.
After this incident, some such situation had arisen that the responsibility of taking care of my child Salman had come on Ammi and Nasreen Best xxx desi kahani

Especially Nasreen, who was just a 19-year-old girl. She was going to give the exam of twelfth. But the poor had a new responsibility. Well… just like Nasreen gave the exam of twelfth and passed.

Time passed and the situation took a turn. While looking after Salman, when I got attracted towards Nasreen, nothing was known. I had come very close to Nasreen because of an innocent child. Ammi was also unaware of these things. She was understanding the growing love for Nasreen in my eyes. In these eyes, the love and affection of a brother for Nasreen should not be there at all. Rather, a distinct glow and strange desire was clearly visible in my eyes Best xxx desi kahani

Nasreen was often busy with work. I would stare at her secretly filled slanting eyes with her full bouncing buttocks and nipples. Poor Nasreen was unaware of these things that the destiny of her immediate elder brother was spoiled on her youth. Unaware of these things, the service of his brother and his child was being selfless Best xxx desi kahani

Here I wanted to talk to Ammi with seriousness about Nasreen. I was left to play Nasreen’s youth.

When I spoke to Ammi about this, Ammi’s attitude was also positive.
Ammi said- Son, I understand your feelings and emotions very well. I have seen a lot of love for Nasreen in your eyes. What feelings do you have about him, I know all that. I also heartily wish that he should adopt you along with the child. Son, I also wish to see both of you as son-in-law and daughter-in-law Best xxx desi kahani

My grandmother and grandmother will have two relationships with the children born of the union of you two. I get excited thinking this. Son, let me say one thing, your father had put his seed in my womb 18 years ago, a fruitful tree in the form of Nasreen has been prepared today. This fruit of the tree planted by the father is very sweet… and I want you to eat this sweet fruit as Nasreen Best xxx desi kahani

Hearing Ammi’s words, I was not happy. The gesture of eating the sweet fruit of Nasreen’s youth was from the fuck of Nasreen. In a way Ammi was giving me the green signal. I was very happy inside myself with Ammi’s talk.

I went away in the old days and those days started to roam before my eyes. That was six years ago, at that time Nasreen was younger. It was Sunday, Nasreen was bathing completely on the water tap in the courtyard. I was watching all this from the floor above. Nasreen’s buttocks and nipples were taking shape. His period had not started yet… but there was a rise in the chat. Which was an indication that within 5–6 months his mens start is certain Best xxx desi kahani

cript>

I was very hot that day seeing her naked. But wow, luck, the thing I was craving for that day… Today the situation has become such that I was going to get it myself. Fucking a seal pack girl like Nasreen was a privilege for me.

I said to Ammi- Ammi bless me that I can fulfill this wish as soon as possible.
Ammi said- Son, you be relaxed, I will talk to Nasreen in this regard. I hope that I will convince him and extinguish it for you Best xxx desi kahani

Then one day, seeing the opportunity, Ammi told Nasreen about her mind.
At first, Nasreen became angry and said angrily – Ammi, what are you talking about. What happened to you? This can never happen. What would society say… Ammi is a sin. With brother… Yuck…Best xxx desi kahani

Ammi explained it to him. If explained that Shakeel’s second marriage to a non-male and unknown girl, how will she treat the child. Step mother is half step.
Nasreen kept listening quietly.

Ammi said while looking at him, daughter, you should consider this issue seriously. He patiently explained to me that when you and Shakeel have no objection, what objection do you have Best xxx desi kahani

Nasreen was stunned to hear that her elder brothers wanted to marry her. Although his mind was hurt… but Ammi explained to him that if any other girl became a wife of Shakeel, then she would not create a rift between us and Shakeel. My and your expenses run with the same income. You should consider it seriously, daughter Best xxx desi kahani

Nasreen then asked Ammi for a week’s time for a decision. For four days, Nasreen did not respond.

Meanwhile, I advised Nasreen to learn how to operate a laptop and told her how important it is to learn computers in today’s time.

Saying this, I gave my laptop to Nasreen. I started teaching him how to drive a laptop everyday. I was specifically teaching him to watch videos. Where do you open the folder of the video and how can someone watch the video with earphones Best xxx desi kahani

With this I was eagerly waiting for his answer. Because I wanted to get Nasreen.

Then I made a plan. That morning at 7 in the morning, I entered the bathroom for a bath and deliberately did not take a towel.

After bathing I gave voice to Nasreen- O Nasreen… Just give me the towel, I forgot to bring it.

On that day, bone pain in Ammi’s legs was more Best xxx desi kahani

Nasreen brought the towel and asked to take the towel after knocking on the bathroom door. I opened the door. At this time there was not even a thread on my body. As Nasreen’s eyesight fell on my 8 inch cock, she was speechless and stunned.

Only this much came out of his mouth – Father,… so big.

I saw clearly that his eye was on my cock while giving the towel. At this time my cock was like a gunpowder and was up and down. Then as soon as her eyes met my eyes… she blushed badly Best xxx desi kahani

Then I mischievously said, “Oh man, Nasreen… my younger brother is trying to befriend you.”
Nasreen ran away with just speaking – Dhata Bhaijaan… you too… where is this shorty.

This incident added fuel to the fire. My plan worked. Now Nasreen was not giving me eyes. Rather, I was shy of coming in front of me

Two days later my temper was about to arrive. She was called by Ammi. Apa was also in the favor of both of us. Apa started explaining and persuading Nasreen Best xxx desi kahani

I knew that Apa has come in my favor and she will convince Nasreen. I was very positive about Nasreen’s acceptance as well. Because I had put a porn video on the laptop to see Nasreen with great enthusiasm and had made her cuddle of cocks while she was pranking me. I knew that it was necessary to do all this to arouse the sex desire of any young girl Best xxx desi kahani

He gave his consent before the week was over. Hearing this, I was not happy because now my dream of fucking Nasreen was going to be fulfilled. Ammi and Apa spoke to Kazi ji. Qazi agreed to the marriage of both and gave the date of marriage after ten days Best xxx desi kahani

Incidentally, Nasreen was also to be retired from her monthly period a few days later. After the retirement of the monthly period, the desire of girls to have sex is in full swing. My work was more done. On the second day of retirement, Apa took Nasreen to the beauty parlor. Taking him there, got his entire body waxed Best xxx desi kahani

While getting the inner hair cleaned, Apa noticed Nasrin’s pussy. At the behest of Apa, the beautician opened her pussy and showed Nasreen’s virginity… which was completely sealpack bur. After returning from the beauty parlor, Apa gave me this good news Best xxx desi kahani

Now only hard work was left to break the seal.

Finally the day of marriage has arrived. The ritual of marriage was also completed.

At 9 o’clock in the same night, Apa took me with him to Nasreen for a honeymoon and said- Son… Look, my Nasreen daughter is very innocent, like a raw bud. Do not force it to become a flower. Whatever you do, do it with great love Best xxx desi kahani

On the other hand, Nasreen was afraid of listening to Apa and was embarrassed inside. But he also had a desire to get a fuck off my cock. She had seen several videos of 3 men and a girl being cuddled together in a porn movie on a laptop. Nasreen had already prepared herself to fuck her big brother (now husband) with 8 inch long cocks Best xxx desi kahani

Apa had left the room. I closed the room door and sat near Nasreen.

Kissing his henna with his hands in his hands, I said – Nasreen… my darling. Are you happy marrying me?

Nasreen bowed her eyes and nodded yes. I lifted Nasrin’s chin and said- Nasreen… Say it… I love you… Do you love me?
She was silent, bowing her head in shame Best xxx desi kahani

When I spoke to him again and again, he blushed and said – Yes I love you.

I started kissing Nasreen’s face by putting my lips on Nasreen’s lips. She started to support me, but still hesitated in her style. After a while I extended one hand and suppressed a touch of Nasreen. Nasreen turned red with shame. She was swearing badly. But my sister, who had become my wife now, was getting out of control to enjoy her youth Best xxx desi kahani

Gently rubbing and rubbing every part of her body, I completely undressed her. Got stripped naked too. Nasreen became hotter by seeing the cocks whirring like her brother’s black snake.

Here I lay down Nasreen and started rubbing her pussy and rubbing it.

Slowly, sighs came out of Nasreen’s mouth and hers. Then Nasreen’s hand automatically fell on my cock. Grabbing my cock slowly and started caressing and mashing. I took the nipples of both of Nasreen’s nipples alternately and started sucking them like a baby. Finally, I started to drink Nasreen’s pussy. Her pussy was trembling a lot. Due to being sucked, her ass started to rise up. His shame left him Best xxx desi kahani

After some time, I spread both the legs of Nasreen and sat in the position, holding the front.

The crack of Nasrin’s little pussy was wet. My 8-inch long cock was flapping straight like a cannon canal to break the seal of the virgin pussy of Nasreen. My cock was ready to break into the door of her virgin pussy and enter the palace Best xxx desi kahani

I knew that the gate of the fort is very strong, it is not easy to demolish it and enter the fort. The blood was sure to happen. It was Nasreen’s first time, so she was also afraid of poor things. Nasreen’s pussy was peeping out of the crack. Nasreen was completely hot, her breath was fast… both were moving up and down Best xxx desi kahani

Seeing all this, it was not right for me to stay longer. I spread both the legs of Nasreen and put the cocks supine on the wet crack and started rubbing it up and down.

As soon as I did this she started to hum and swear badly. For a few minutes I kept rubbing cocks on the crack of Nasreen’s pussy. In the meantime, Nasreen’s body got a bit of a shock and she collapsed without a hitch. At the time of the fall, Nasreen got the feeling of joy, it was clear from her face Best xxx desi kahani

Now it was my turn. I set my 8 inch long cock on Nasreen’s pussy and pressed it lightly, then she was shaken due to pain.

Nasreen spoke out of the feeling of thick cock – father, father… brother… please don’t make me… I am in a lot of pain.

But I tried to forget her pain by caressing her Titsi. I did not want to make my sister’s pussy Bhosda in the first place, so I was working with great restraint Best xxx desi kahani.

In this way, I tried to slowly insert cocks 5-6 times. But each time she started to flirt with pain.

She started pleading with folded hands. But I knew that Nasreen was also willing to fuck with cocks.

Then I got up from the bed and put the coconut oil on the dressing table on my cock and came back on the bed and I applied the oil again on Nasreen’s pussy Best xxx desi kahani.

This time I had decided in my mind that whatever happens this time, the door of the fort (Nasreen’s pussy) is to be broken. Thinking this, I grabbed both the legs of Nasreen and hugged her stomach. By doing this, the cleft of the pussy opened Best xxx desi kahani.

I set the oil cocks on the crack of the pussy and grabbed Nasreen’s thin waist from both sides. Then gave a powerful blow to his waist. Before Nasreen would scream. I put my lips on Nasreen’s mouth. His scream was choking in the mouth and the supra of my cock broke the seal of the pussy with the sound of ghachak and entered inside about 2 inches Best xxx desi kahani.

However, Nasreen was flirting with pain and was trying to extricate herself from me. But I held him firmly. I was slowly engaged in making the pressure of the cocks. My smooth cock was slowly moving into Nasreen’s pussy. Cocks entered for the first 4 inches. Then 5 ″… 6 ″… 7 ″ and finally caught both of Nasreen’s fingers, I licked the entire 8 inch cocks Best xxx desi kahani.

I lay on top of Nasreen for a few minutes after swallowing the whole cock. Then I turned my waist upwards, then cocks came out 2 inches. I saw that my cock was stained with blood due to the breaking of the seal of Nasreen’s pussy.

Initially I kept the speed of fuck slow, then as the fire grew, the cock caught the speed. On the other hand, Nasreen also started supporting me in Chudai. There was no place for my happiness when Nasreen grabbed my back with her arms. Now the cocks had started penetrating to the root of the pussy. When the cock went in, it would also push it lightly from below. Which was the proof that she too has started enjoying sex Best xxx desi kahani.

Now Chudai was getting busted. I started pushing one of her nipples in the mouth and pushing her. Nasreen was also enjoying the cock in full swing.

Chudai had reached her last stage. Nasreen had cut her teeth with several teeth on my chest and shoulder. I had also bitten her nipples and nipples with teeth.

Then my cock started boiling and Nasreen also started to cool her pussy with a shower of semen by sticking to me. His pussy left his clan for the third time in this fuck Best xxx desi kahani.

After the fuck, both of us were wrapped in sharp breaths. My sister had now become my wife.

This is the true story of my sister’s Chut Chudai, which I presented to you without any gag. How did you like my true sex incident, tell me on Telegram, I will wait for your comment and message. Apart from this, you can also give your opinion by commenting on the story below. And Telegram group can join to read sex videos and new story.

Read more Brother Sister Sex Story-

बहन के चुचे चूस कर गांड चुदाई best antarvasna 2 cudai khaniya

Sister Chudai Stories अपनी बहन की चुदाई कर मां बनाया 1 fun

Bhai Behan Sex Stories 1 चचेरी बहन ने मुझे चोदना सिखाया fun

Leave a Comment

org/tools/popad.js">