Bhabhi hindi Story 1 कामवाली भाभी की चूत की चुदाई free sex

कामवाली भाभी की चूत की चुदाई Bhabhi hindi Story Cudai khaniya

Bhabhi hindi Story Cudai khaniya: मेरा विवाह हुआ और कुछ दिन बाद ही मेरी बीवी मायके चली गयी परीक्षा देने. मुझे बीवी की कमी बहुत खली क्योंकि मुझे चुदाई की आदत लग चुकी थी. तो मेरा काम कैसे चला?

दोस्तो, मेरा नाम आशीष है, मैं उत्तराखंड का रहने वाला हूँ. मैं 28 वर्ष का एक शादीशुदा युवक हूँ। चार वर्ष पूर्व की बात है जब मेरा विवाह तय करने के समय मेरे पिताजी, मैं और कुछ लोग हमारे कुटुम्ब के विश्वसनीय पण्डित जी को लड़की वालों के घर लेकर गये थे। पण्डित जी ने मेरी तथा लड़की की जन्म कुण्डली देखकर बताया कि लड़के और लड़की दोनों की कुण्डलियां बहुत बढ़िया मैच हो रही हैं, लगभग 29 गुण मिल रहे हैं।

दोनों परिवारों के लोग खुश हो गए और रिश्ता तय हो गया. उसके बाद वहीं पर उसी समय पण्डित जी ने हम दोनों की शादी की तिथि और मुहूर्त भी निकाल दिया।

और तो और साथ की साथ उन पण्डित जी ने मेरी कुण्डली देख कर मेरा भविष्य भी बताना शुरू कर दिया. उन्होंने कहा- विवाह के करीब सवा साल बाद इसको पुत्र होगा और उसके बाद दूसरी संतान लड़की होगी।

सभी लोग पण्डित जी की बात सुन कर बहुत प्रसन्न हुए क्योंकि उन पण्डित जी की बतायी हुई सभी बातें हमने सदा सत्य सिद्ध होते देखी थी।

शादी की तिथि डेढ़ माह बाद की निकाली गई।

मेरा विवाह हो गया. शादी के 25 दिन बाद ही मेरी नवविवाहिता बीवी सुषमा की परीक्षा थी एम ए की. और परीक्षा केन्द्र भी मेरे ससुराल वाले शहर यानि मेरी पत्नी के मायके में ही था। मेरी पत्नी की परीक्षा 15-16 दिन तक चलनी थी.
तो परीक्षा से दो दिन पूर्व ही मैं अपनी बीवी को अपनी ससुराल छोड़ने के लिए गया.

मैं ससुराल पहुंचा तो खूब आवभगत हुई. रात को बीवी ने पढ़ाई का बहाना बनाकर मुझे अकेले कमरे में सुला दिया. मेरे साथ मेरा छोटा साला सोया और मेरी बीवी सुषमा अलग कमरे में पढ़ने लगी.

20-22 दिन तक रोज बीवी के साथ सोने और उसकी चूत चुदाई करने की आदत सी पड़ गयी थी मुझे तो उस रात मुझे बीवी की कमी बहुत खली.
खैर जो ऊपर वाले को मंजूर था. या मेरी बेरहम बीवी को मंजूर था, वही हुआ. मैं रात भर अपने लंड को मुट्ठी में लेकर लेटा रहा. मुझे नींद कहाँ आनी थी.

रात भर वहीं रुककर अगले दिन सुबह ही नाश्ता करके मैं अपने शहर वापिस लौट आया।

अपने घर आकर फिर वही हाल … पिछले तीन सप्ताह से मैं रोज बीवी के साथ बिस्तर में सोता था तो अब अगली 16-17 रातें अकेले काटनी कठिन काम लग रहा था।

हमारे घर में सफाई करने, बरतन मांजने और कपड़े धोने के लिए एक कामवाली लगी हुई थी पिछले दो वर्ष से वही आती थी. उसका नाम मीनाक्षी है. मैं उसे भाभी कहता हूँ। उसके विवाह को ढाई साल ही हुए थे. वो हमारी पहली कामवाली की बहू थी. उसकी उम्र 25-26 वर्ष के करीब रही होगी. वो अपनी शादी के कुछ माह बाद ही अपनी सास की जगह हमारे घर काम पर आने लगी थी.

वो दिखने में अच्छी है, रंग थोड़ा दबा हुआ है लेकिन शरीर की बनावट से भरी हुई है, लम्बी भी है. होगी करीब 5’8″ की … कुल मिला कर ठीक ठाक चोदने लायक माल है. लेकिन मीनाक्षी ने कभी मेरे साथ कुछ ज्यादा बात नहीं की और ना ही मैंने मीनाक्षी को कभी वासना की दृष्टि से देखा।

लेकिन मेरे विवाह के बाद हमारी कामवाली भाभी मीनाक्षी ने मेरे से और मेरी बीवी से ज्यादा बातें करनी शुरू कर दी. वो ऐसे बातें करने लगी जैसे वो हमारे परिवार का ही हिस्सा हो।

तभी मुझे पता चला था कि मीनाक्षी की शादी को ढाई साल होने को आये थे लेकिन अभी तक भी उसके कोई औलाद नहीं हुई थी. उसके पाँव भारी नहीं हुए थे. और चूंकि मीनाक्षी और उसका पति दोनों कम पढ़े लिखे थे तो वो डॉक्टर के पास भी नहीं गये थे।

मेरी पत्नी सुषमा के मायके जाने के पश्चात से हमारी नौकरानी भाभी मीनाक्षी अब मेरे साथ कुछ ज्यादा ही बात करने लगी।

मीनाक्षी हर रोज सुबह आठ बजे के करीब घर की सफाई के लिए आती है. मैं भी लगभग इसी वक्त पर सोकर उठता हूँ. मीनाक्षी के आने के बाद ही मेरी मम्मी नहाने के लिए बाथरूम में जाती थी।
एक दिन मीनाक्षी मेरे कमरे की सफाई कर रही थी कि मैं जाग गया और मीनाक्षी को अपने कमरे में देख कर मैं एक झटके से बिस्तर के नीचे उतरकर खड़ा हो गया।

मेरे इस तरह अचानक उठ खड़े होने से मीनाक्षी भाभी भी चौंक गई और मेरी ओर घूम कर मुझे देखने लगी. मैंने कैपरी टाइप लोअर पहना हुआ था. भाभी की नजर मेरे लोअर में खड़े लंड पर पड़ी तो वो उसे घूर कर देखें लगी और हंसने लगी।
मैंने नीचे अपने लोअर में खड़े लंड को देखा तो मैं भी शरमा सा गया और एकदम से बाथरूम में घुस गया।

अगले दिन मीनाक्षी फिर से मेरे रूम की सफाई करने आई. उस समय मैं सो रहा था. फर्श पर पोचा लगाते समय भाभी ने अपने एक हाथ से बेड का सहारा लिया तो उसका हाथ मेरे हाथ से टच हो गया.

मैं नींद में था तो रोज की आदत की तरह मैंने उसे अपनी पत्नी का हाथ समझ कर पकड़ लिया और साथ ही मेरी आंख खुल गयी। अपने हाथ में मीनाक्षी का हाथ देख मैं तो डर ही गया कि भाभी मुझे गलत समझ कर मेरी मम्मी से मेरी शिकायत करेगी लेकिन वो तो मुझे देख कर मुस्कुरा दी।

मेरी पत्नी सुषमा को मायके गए हुए अभी तीन दिन ही हुए थे और चुदाई के बिना मेरा हाल खराब था. मेरे लंड को चूत की सख्त जरूरत थी. मेरा रहना मुश्किल हो रहा था.

दो एक दिन और मैंने इसी तरह से जैसे तैसे बिता लिए।

एक दिन सुबह जब मीनाक्षी भाभी पोचा लगा रही थी, मैंने बड़ी हिम्मत कर के उसके गाल को छू दिया. मीनाक्षी शरमा गई और मुस्कुराने लगी.
अब तो मैंने यह सुनहरी मौक़ा हाथ से जाने ही नहीं दिया. मैं मीनाक्षी को अपनी बांहों में पकड़ लिया।

मुझे पता नहीं था कि मेरी मम्मी कहाँ होगी. वैसे इस समय पर वे बाथरूम में नहाती हैं और करीब आधा घंटा लगता है उन्हें बाथरूम में. तो मुझे नहीं पता था कि कितना वक्त था मेरे पास। लेकिन मैंने मीनाक्षी के गालों को चूमा, फिर उसके होंठों को चूमा और दोनों हाथों से उसके चूतड़ मसल दिए.

कामवाली भाभी की चूत की चुदाई Bhabhi hindi Story Cudai khaniya
Bhabhi hindi Story Cudai

इससे ज्यादा कुछ नहीं हो पाया क्योंकि मीनाक्षी मेरी बांहों से छुट कर बाहर चली गयी थी.
इसके पांच मिनट बाद ही मेरी मम्मी की बाथरूम से निकलने की आवाज आयी तो मैं समझ गया कि मीनाक्षी को मेरे साथ कुछ करने में कोई ऐतराज नहीं है पर शायद उसे अंदाजा था कि मम्मी जी आने वाली हैं तो वो मेरे कमरे से निकल गयी.

ये सब सोच कर मैं खुश हो गया कि काम भी बन जाएगा और यह भी अच्छा हुआ कि मम्मी के आने के अंदेशे से मीनाक्षी भाभी चली गयी.

अब अगले दिन की तो मैंने तैयारी कर ली थी. मैंने मोबाइल में साढ़े सात बजे का अलार्म लगा दिया और उसकी आवाज कम कर दी ताकि अलार्म बजे तो मम्मी जी को ना सुने.

अलार्म समय से बज गया और मैं भी जाग गया. उठ कर बाथरूम गया, ब्रश किया और फिर से लेट गया.

कुछ देर बाद मुझे दरवाजा खुलने की आवाज आई तो मैं जान गया कि मीनाक्षी घर में दाखिल हो चुकी है. उसके बाद मम्मी जी नहाने चली गयी और मीनाक्षी सीधा मेरे कमरे में आ गयी झाडू लेकर.

मैं सोने का अभिनय करता रहा. उसने झाडू फर्श पर डाली और मेरे पास आकर मुझे पास से देखने लगी.

मैं समझ गया था कि ये आज चुदने की तैयारी से ही आयी है. मैं एक झटके उसे बिस्तर पर ही उठ बैठा और मीनाक्षी को अपनी बांहों में लेकर अपने ऊपर गिरा लिया.
बस फिर क्या था … मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और उसके ऊपर आ गया. कुछ देर मैएँ उसके होंठों को चूसा, फिर उसका ब्लाउज खोल कर उसकी चूचियां चूसी.

kaamavaalee bhaabhee kee choot kee chudaee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya
Bhabhi hindi Story Cudai

फिर मैंने उसकी साड़ी पेटीकोट सहित ऊपर सरका दी तो उसकी चिकनी चूत मेरे सामने आ गयी. चूत एकदम साफ़ थी क्लीन शेव, जैसे आज सुबह ही साफ़ करके आयी हो.
अब ज्यादा फोरप्ले का समय तो मेरे पास था नहीं … तो मैंने मीनाक्षी की चूत में अपना किल्ला ठोक दिया.
मीनाक्षी भाभी को भी मजा आ रहा था लेकिन उसने अपनी सिसकारियां दबा रखी थी कि आवाज बाहर ना जाये.

पूरे पन्द्रह मिनट तक मैंने भाभी जी की टाँगें छत की ओर ताने रखी और अपना माल भाभी की चूत में ही छोड़ दिया.

kaamavaalee bhaabhee kee choot kee chudaee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya

फिर मैंने मीनाक्षी से पूछा- कैसा लगा?
वो शर्मा गयी और कुछ ना बोली.

उसने अपना ब्लाउज बंद किया साड़ी ठीक की और मेरे कमरे की सफाई में लग गयी.
उसके बाद जब तक मेरी बीवी मायके से लौट कर नहीं आयी, लगभग रोज ही मीनाक्षी की चूत की चुदाई हुई. शायद एक या दो दिन चुदाई नहीं हो पायी थी.

आठ दस बार मेरे लंड से चुद कर मीनाक्षी भी खुश लग रही थी. मुझे लगा कि शायद उसका पति उसे ठीक से नहीं चोद पाता होगा और इसी कारण वो माँ नहीं बन पायी होगी. तभी उसने मेरे ऊपर डोरे डाले.

मेरी पत्नी मायके से वापिस लौट आयी थी, मैं अपनी बीवी की चुदाई में खुश था.

करीब एक महीने के बाद मीनाक्षी भाभी ने आकर चुपके से मुझे बताया कि उसके पाँव भारी हैं. मतलब उसे गर्भ ठहर गया है.
मैंने उसे बधाई देते हुए कहा- वाह … बधाई हो! यह तो बड़ी खुशी की बात है. पर तुम ये सब मुझे क्यों बता रही हो? मम्मी जी को बताओ ना!
तो मीनाक्षी ने शक जताया- मुझे लगता है कि यह बच्चा आपका ही है.

मैंने कहा- मुझे क्या पता. तुम अपने पति के साथ भी तो सेक्स करती होगी. तुमको अपने पति से ही गर्भ रुका होगा।
फिर मैंने उसे कहा- तुम्हारे मेरे बीच जो भी हुआ, किसी को मत बताना, आज के बाद यह बात हमारे बीच ही रहेगी।

इधर मेरी बीवी के पाँव भी भारी हो गए थे. मुझे अंदाजा था कि मेरी बीवी की डिलीवरी मीनाक्षी की डिलीवरी के डेढ़ दो महीने बाद होगी.

फिर 5-6 महीने के बाद मीनाक्षी भाभी ने हमारे घर काम पर आना बन्द कर दिया और मेरी बीवी ने बताया कि मीनाक्षी डिलीवरी के लिए अपने मायके चली गई है।

तभी एक दिन मेरी पत्नी सुषमा से मुझे पता चला कि मीनाक्षी ने एक स्वस्थ पुत्र को जन्म दिया है।
यह सुन कर मैं अंदर ही अंदर खुश था कि बेचारी मीनाक्षी को औलाद का सुख मिल गया.

इसके बाद करीब डेढ़ महीने बाद ही मेरी बीवी भी डिलीवरी के लिए अस्पताल गयी और हमें भी बहुत प्यारी पुत्री का वरदान मिला।

लेकिन मेरी मम्मी सोच रही थी कि पण्डित जी की भविष्यवाणी गलत कैसे हो गयी. उन्होंने मुझे पहले पुत्र रत्न की प्राप्ति का बताया था. मेरी बीवी के दिमाग में भी यही बात थी कि पण्डित जी ने बताया था कि पहला बेटा ही होगा।

मैंने अपनी पत्नी सुषमा को दिलासा देते हुए कहा- वो तो पण्डित जी की भविष्यवाणी थी, वे एक इन्सान ही तो हैं; भगवान नहीं। उनकी भविष्यवाणी या उनकी गणना गलत भी तो हो सकती है।

मेरी पत्नी सुषमा डर रही थी उसकी सास लड़की होने पर खुश नहीं होंगी. किन्तु ऐसा कुछ नहीं था. मेरे घर वाले बहुत खुश थे परिवार में एक नए सदस्य के आगमन पर!
सबने मेरी बिटिया का खूब लाड़ किया।

अब मैं सोच में पड़ गया कि पण्डित जी की भविष्यवाणी सत्य तो नहीं हो गयी?
क्योंकि मीनाक्षी भाभी को पहले बेटा हुआ और बाद में मुझे बेटी।
इसका मतलब मीनाक्षी का शक सही तो निकला?
मीनाक्षी का बेटा मेरा बेटा है?

खूब सोच विचार कर मैंने यही निष्कर्ष निकाला कि पण्डित जी के कहे अनुसार मुझे पहले बेटा ही हुआ यह बात मैं जानता हूँ और कामवाली मीनाक्षी भाभी भी जानती है. लेकिन और कोई नहीं.

मीनाक्षी भी काम पर आने लगी थी।

अब जब भी कभी मेरी पत्नी सुषमा अपने मायके रहने जाती है तो मीनाक्षी भाभी खूब अच्छे से मेरा ख्याल रखती है।

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं. और सेक्स विडियो और new कहानी पढने के लिये telegram ग्रुप join कर सकते है

kaamavaalee bhaabhee kee choot kee chudaee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya

Read in English

kaamavaalee bhaabhee kee choot kee chudaee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya

Bhabhi hindi Story Cudai khaniya: mera vivaah hua aur kuchh din baad hee meree beevee maayake chalee gayee pareeksha dene. mujhe beevee kee kamee bahut khalee kyonki mujhe chudaee kee aadat lag chukee thee. to mera kaam kaise chala?

dosto, mera naam aasheesh hai, main uttaraakhand ka rahane vaala hoon. main 28 varsh ka ek shaadeeshuda yuvak hoon. chaar varsh poorv kee baat hai jab mera vivaah tay karane ke samay mere pitaajee, main aur kuchh log hamaare kutumb ke vishvasaneey pandit jee ko ladakee vaalon ke ghar lekar gaye the. pandit jee ne meree tatha ladakee kee janm kundalee dekhakar bataaya ki ladake aur ladakee donon kee kundaliyaan bahut badhiya maich ho rahee hain, lagabhag 29 gun mil rahe hain Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

donon parivaaron ke log khush ho gae aur rishta tay ho gaya. usake baad vaheen par usee samay pandit jee ne ham donon kee shaadee kee tithi aur muhoort bhee nikaal diya.

aur to aur saath kee saath un pandit jee ne meree kundalee dekh kar mera bhavishy bhee bataana shuroo kar diya. unhonne kaha- vivaah ke kareeb sava saal baad isako putr hoga aur usake baad doosaree santaan ladakee hogee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

sabhee log pandit jee kee baat sun kar bahut prasann hue kyonki un pandit jee kee bataayee huee sabhee baaten hamane sada saty siddh hote dekhee thee.

shaadee kee tithi dedh maah baad kee nikaalee gaee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

mera vivaah ho gaya. shaadee ke 25 din baad hee meree navavivaahita beevee sushama kee pareeksha thee em e kee. aur pareeksha kendr bhee mere sasuraal vaale shahar yaani meree patnee ke maayake mein hee tha. meree patnee kee pareeksha 15-16 din tak chalanee thee.
to pareeksha se do din poorv hee main apanee beevee ko apanee sasuraal chhodane ke lie gaya Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

main sasuraal pahuncha to khoob aavabhagat huee. raat ko beevee ne padhaee ka bahaana banaakar mujhe akele kamare mein sula diya. mere saath mera chhota saala soya aur meree beevee sushama alag kamare mein padhane lagee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

20-22 din tak roj beevee ke saath sone aur usakee choot chudaee karane kee aadat see pad gayee thee mujhe to us raat mujhe beevee kee kamee bahut khalee.
khair jo oopar vaale ko manjoor tha. ya meree beraham beevee ko manjoor tha, vahee hua. main raat bhar apane land ko mutthee mein lekar leta raha. mujhe neend kahaan aanee thee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

raat bhar vaheen rukakar agale din subah hee naashta karake main apane shahar vaapis laut aaya.

apane ghar aakar phir vahee haal … pichhale teen saptaah se main roj beevee ke saath bistar mein sota tha to ab agalee 16-17 raaten akele kaatanee kathin kaam lag raha tha Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

hamaare ghar mein saphaee karane, baratan maanjane aur kapade dhone ke lie ek kaamavaalee lagee huee thee pichhale do varsh se vahee aatee thee. usaka naam meenaakshee hai. main use bhaabhee kahata hoon. usake vivaah ko dhaee saal hee hue the Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

vo hamaaree pahalee kaamavaalee kee bahoo thee. usakee umr 25-26 varsh ke kareeb rahee hogee. vo apanee shaadee ke kuchh maah baad hee apanee saas kee jagah hamaare ghar kaam par aane lagee thee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

vo dikhane mein achchhee hai, rang thoda daba hua hai lekin shareer kee banaavat se bharee huee hai, lambee bhee hai. hogee kareeb 5’8″ kee … kul mila kar theek thaak chodane laayak maal hai. lekin meenaakshee ne kabhee mere saath kuchh jyaada baat nahin kee aur na hee mainne meenaakshee ko kabhee vaasana kee drshti se dekha Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

lekin mere vivaah ke baad hamaaree kaamavaalee bhaabhee meenaakshee ne mere se aur meree beevee se jyaada baaten karanee shuroo kar dee. vo aise baaten karane lagee jaise vo hamaare parivaar ka hee hissa ho Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

tabhee mujhe pata chala tha ki meenaakshee kee shaadee ko dhaee saal hone ko aaye the lekin abhee tak bhee usake koee aulaad nahin huee thee. usake paanv bhaaree nahin hue the. aur choonki meenaakshee aur usaka pati donon kam padhe likhe the to vo doktar ke paas bhee nahin gaye the Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

meree patnee sushama ke maayake jaane ke pashchaat se hamaaree naukaraanee bhaabhee meenaakshee ab mere saath kuchh jyaada hee baat karane lagee.

meenaakshee har roj subah aath baje ke kareeb ghar kee saphaee ke lie aatee hai. main bhee lagabhag isee vakt par sokar uthata hoon. meenaakshee ke aane ke baad hee meree mammee nahaane ke lie baatharoom mein jaatee thee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

ek din meenaakshee mere kamare kee saphaee kar rahee thee ki main jaag gaya aur meenaakshee ko apane kamare mein dekh kar main ek jhatake se bistar ke neeche utarakar khada ho gaya.

mere is tarah achaanak uth khade hone se meenaakshee bhaabhee bhee chaunk gaee aur meree or ghoom kar mujhe dekhane lagee. mainne kaiparee taip loar pahana hua tha. bhaabhee kee najar mere loar mein khade land par padee to vo use ghoor kar dekhen lagee aur hansane lagee.
mainne neeche apane loar mein khade land ko dekha to main bhee sharama sa gaya aur ekadam se baatharoom mein ghus gaya Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

agale din meenaakshee phir se mere room kee saphaee karane aaee. us samay main so raha tha. pharsh par pocha lagaate samay bhaabhee ne apane ek haath se bed ka sahaara liya to usaka haath mere haath se tach ho gaya Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

main neend mein tha to roj kee aadat kee tarah mainne use apanee patnee ka haath samajh kar pakad liya aur saath hee meree aankh khul gayee. apane haath mein meenaakshee ka haath dekh main to dar hee gaya ki bhaabhee mujhe galat samajh kar meree mammee se meree shikaayat karegee lekin vo to mujhe dekh kar muskura dee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

meree patnee sushama ko maayake gae hue abhee teen din hee hue the aur chudaee ke bina mera haal kharaab tha. mere land ko choot kee sakht jaroorat thee. mera rahana mushkil ho raha tha.

do ek din aur mainne isee tarah se jaise taise bita lie Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

ek din subah jab meenaakshee bhaabhee pocha laga rahee thee, mainne badee himmat kar ke usake gaal ko chhoo diya. meenaakshee sharama gaee aur muskuraane lagee.
ab to mainne yah sunaharee mauqa haath se jaane hee nahin diya. main meenaakshee ko apanee baanhon mein pakad liya Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

mujhe pata nahin tha ki meree mammee kahaan hogee. vaise is samay par ve baatharoom mein nahaatee hain aur kareeb aadha ghanta lagata hai unhen baatharoom mein. to mujhe nahin pata tha ki kitana vakt tha mere paas. lekin mainne meenaakshee ke gaalon ko chooma, phir usake honthon ko chooma aur donon haathon se usake chootad masal die Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

isase jyaada kuchh nahin ho paaya kyonki meenaakshee meree baanhon se chhut kar baahar chalee gayee thee.
isake paanch minat baad hee meree mammee kee baatharoom se nikalane kee aavaaj aayee to main samajh gaya ki meenaakshee ko mere saath kuchh karane mein koee aitaraaj nahin hai par shaayad use andaaja tha ki mammee jee aane vaalee hain to vo mere kamare se nikal gayee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

ye sab soch kar main khush ho gaya ki kaam bhee ban jaega aur yah bhee achchha hua ki mammee ke aane ke andeshe se meenaakshee bhaabhee chalee gayee.

ab agale din kee to mainne taiyaaree kar lee thee. mainne mobail mein saadhe saat baje ka alaarm laga diya aur usakee aavaaj kam kar dee taaki alaarm baje to mammee jee ko na sune Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

alaarm samay se baj gaya aur main bhee jaag gaya. uth kar baatharoom gaya, brash kiya aur phir se let gaya.

cript>

kuchh der baad mujhe daravaaja khulane kee aavaaj aaee to main jaan gaya ki meenaakshee ghar mein daakhil ho chukee hai. usake baad mammee jee nahaane chalee gayee aur meenaakshee seedha mere kamare mein aa gayee jhaadoo lekar Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

main sone ka abhinay karata raha. usane jhaadoo pharsh par daalee aur mere paas aakar mujhe paas se dekhane lagee.

main samajh gaya tha ki ye aaj chudane kee taiyaaree se hee aayee hai. main ek jhatake use bistar par hee uth baitha aur meenaakshee ko apanee baanhon mein lekar apane oopar gira liya.
bas phir kya tha … mainne use bistar par litaaya aur usake oopar aa gaya. kuchh der maien usake honthon ko choosa, phir usaka blauj khol kar usakee choochiyaan choosee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

phir mainne usakee sari peteekot sahit oopar saraka dee to usakee chikanee choot mere saamane aa gayee. choot ekadam saaf thee kleen shev, jaise aaj subah hee saaf karake aayee ho.
ab jyaada phoraple ka samay to mere paas tha nahin … to mainne meenaakshee kee choot mein apana killa thok diya Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.
meenaakshee bhaabhee ko bhee maja aa raha tha lekin usane apanee sisakaariyaan daba rakhee thee ki aavaaj baahar na jaaye.

poore pandrah minat tak mainne bhaabhee jee kee taangen chhat kee or taane rakhee aur apana maal bhaabhee kee choot mein hee chhod diya.

phir mainne meenaakshee se poochha- kaisa laga?
vo sharma gayee aur kuchh na bolee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

usane apana blauj band kiya sari theek kee aur mere kamare kee saphaee mein lag gayee.
usake baad jab tak meree beevee maayake se laut kar nahin aayee, lagabhag roj hee meenaakshee kee choot kee chudaee huee. shaayad ek ya do din chudaee nahin ho paayee thee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

aath das baar mere land se chud kar meenaakshee bhee khush lag rahee thee. mujhe laga ki shaayad usaka pati use theek se nahin chod paata hoga aur isee kaaran vo maan nahin ban paayee hogee. tabhee usane mere oopar dore daale Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

meree patnee maayake se vaapis laut aayee thee, main apanee beevee kee chudaee mein khush tha.

kareeb ek maheene ke baad meenaakshee bhaabhee ne aakar chupake se mujhe bataaya ki usake paanv bhaaree hain. matalab use garbh thahar gaya hai Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

mainne use badhaee dete hue kaha- vaah … badhaee ho! yah to badee khushee kee baat hai. par tum ye sab mujhe kyon bata rahee ho? mammee jee ko batao na!
to meenaakshee ne shak jataaya- mujhe lagata hai ki yah bachcha aapaka hee hai Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

mainne kaha- mujhe kya pata. tum apane pati ke saath bhee to seks karatee hogee. tumako apane pati se hee garbh ruka hoga.
phir mainne use kaha- tumhaare mere beech jo bhee hua, kisee ko mat bataana, aaj ke baad yah baat hamaare beech hee rahegee Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

idhar meree beevee ke paanv bhee bhaaree ho gae the. mujhe andaaja tha ki meree beevee kee dileevaree meenaakshee kee dileevaree ke dedh do maheene baad hogee.

phir 5-6 maheene ke baad meenaakshee bhaabhee ne hamaare ghar kaam par aana band kar diya aur meree beevee ne bataaya ki meenaakshee dileevaree ke lie apane maayake chalee gaee hai Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

tabhee ek din meree patnee sushama se mujhe pata chala ki meenaakshee ne ek svasth putr ko janm diya hai.
yah sun kar main andar hee andar khush tha ki bechaaree meenaakshee ko aulaad ka sukh mil gaya.

isake baad kareeb dedh maheene baad hee meree beevee bhee dileevaree ke lie aspataal gayee aur hamen bhee bahut pyaaree putree ka varadaan mila Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

lekin meree mammee soch rahee thee ki pandit jee kee bhavishyavaanee galat kaise ho gayee. unhonne mujhe pahale putr ratn kee praapti ka bataaya tha. meree beevee ke dimaag mein bhee yahee baat thee ki pandit jee ne bataaya tha ki pahala beta hee hoga Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

mainne apanee patnee sushama ko dilaasa dete hue kaha- vo to pandit jee kee bhavishyavaanee thee, ve ek insaan hee to hain; bhagavaan nahin. unakee bhavishyavaanee ya unakee ganana galat bhee to ho sakatee hai Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

meree patnee sushama dar rahee thee usakee saas ladakee hone par khush nahin hongee. kintu aisa kuchh nahin tha. mere ghar vaale bahut khush the parivaar mein ek nae sadasy ke aagaman par!
sabane meree bitiya ka khoob laad kiya Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

ab main soch mein pad gaya ki pandit jee kee bhavishyavaanee saty to nahin ho gayee?
kyonki meenaakshee bhaabhee ko pahale beta hua aur baad mein mujhe betee.
isaka matalab meenaakshee ka shak sahee to nikala?
meenaakshee ka beta mera beta hai Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

khoob soch vichaar kar mainne yahee nishkarsh nikaala ki pandit jee ke kahe anusaar mujhe pahale beta hee hua. yah baat main jaanata hoon aur kaamavaalee meenaakshee bhaabhee bhee jaanatee hai. lekin aur koee nahin Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

meenaakshee bhee kaam par aane lagee thee.

ab jab bhee kabhee meree patnee sushama apane maayake rahane jaatee hai to meenaakshee bhaabhee khoob achchhe se mera khyaal rakhatee hai Bhabhi hindi Story Cudai khaniya.

aapako meree yah sachchee seks ghatana kaisee lagee mujhe tailaigram par zaroor bataaye mein aapake chommaint aur maissagai ka intazaar karooga. isake alaava aap kahaanee par neeche kament karake bhee apanee raay de sakate hain. aur seks vidiyo aur naiw kahaanee padhane ke liye tailaigram grup join kar sakate hai

Read more Bhabhi Sex Story-

Gand ki chudai तेल लगा के पड़ोसन भाभी की मारी गांड 1 fun

Antarvasna Bhabhi नवविवाहित भाभी की रसीली चुत चुदाई1 fun sex

Desi gand xxx मेरी किराएदार भाभी की गांड चुदाई 1 best story

Leave a Comment

org/tools/popad.js">