Follow my blog with BloglovinBhabhi xxx story छत पर देवर ने भाभी को चोदा 1 Best Sex Story

Bhabhi xxx story छत पर देवर ने भाभी को चोदा 1 Best Sex Story

छत पर देवर ने भाभी को चोदा Bhabhi xxx story

Bhabhi xxx story: देवर भाभी सेक्स स्टोरी पढ़ कर मुझे भी लगा कि मैं अपनी भाभी की चूत चुदाई कर सकता हूँ क्योंकि भाई बहार रहते हैं तो भाभी की कामवासना तृप्त करने के लिए कोई लंड नहीं था.

मेरा नाम अंकित है. मैं यूपी का रहने वाला हूं. मेरे परिवार में कुल 6 लोग हैं. मेरे पापा बैंक में काम करते हैं. मैं सबसे छोटा हूँ. मुझसे बड़े दो भाई दो बहनें हैं.

मेरे बड़े भैया की शादी हो गयी है. वो आर्मी में हैं. मेरी भाभी का नाम प्रिया है. मेरी भाभी बहुत ही सुंदर है. वो थोड़ा शांत स्वभाव की है. भाभी सेक्स स्टोरी, चाची सेक्स कहानी पढ़ने के कारण मैंने भी सोचा कि अब मैं भी परिवार में किसी न किसी को चोद दूँ.

अब परिवार में मेरा देखने का नजरिया बदल गया था. मुझे भाभी बहन और माँ सब की सब मुझे माल लगने लगी थीं.

ये पिछले साल की बात है. मेरे दोस्त का नाम चंदन है. चंदन ने एक बार मजाक में कहा था कि साले तू अपनी भाभी को पटा ले … फिर उसे जब चाहे, तब चोद सकता है.

मैंने भी मन ही मन सोचा कि बड़े भैया की नौकरी बाहर होने के कारण प्रिया भाभी को भैया का ज्यादा साथ नहीं मिल पाता था. इससे शायद भाभी प्यासी हैं. ये सब सोचते ही अब मुझे भी भाभी को चोदने का मन बन गया.

अब मैं आप सभी को थोड़ा अपनी प्रिया भाभी के बारे में बता देता हूँ. मेरी भाभी बहुत ही सुंदर हैं. उनकी चूचियां बड़ी लाजवाब हैं. एकदम पके आम सी तनी हैं.

एक दिन की बात है. भाभी बाहर बरामदे में कुर्सी पर बैठी थीं … तभी उनका फोन बजा. वो जैसे ही फोन लेने उठीं, उनका साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया और मैंने पहली बार उनकी चूची का थोड़ा सा हिस्सा देख लिया. मेरा लंड एकदम से खड़ा हो गया. मेरा प्रिया भाभी की चूचियां पीने और दबाने का मन करने लगा.

Bhabhi xxx story

भाभी ने भी मुझे उस तरह से देखते हुए देख लिया और बगल में रखे फोन को लेकर रूम में चली गईं. घर में सबसे छोटा होने के नाते भाभी मुझे बहुत ही प्यार करती थीं. हालंकि आज उन्होंने जब मुझे अपनी चूचियां देखते हुए पकड़ लिया, तो शायद वे मेरे जवान होने के अहसास से कुछ सोचने लगी थीं.

अब मुझे सिर्फ भाभी को कैसे पेला जाए, यही दिख रहा था. मैं भाभी को चोदने को लेकर ही सोचता रहता था. लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी कि आगे कुछ करूं.

मेरी भाभी का सबसे अच्छा अंग, उनकी चूची और उनकी पतली कमर थी. मैंने बहुत बार कोशिश की कि उनकी चूची को दबा दूँ, लेकिन न मौका मिला और न हिम्मत हुई और मैं भाभी की चूचियां न दबा सका.

फिर लगभग 3 महीने बाद घर में एक छोटा सा कार्यक्रम था. कुछ लोग रिश्तेदारी से औऱ उनके मायके के लोग भी आए थे.

उस दिन भाभी रसोई में अकेली ही खाना बना रही थीं. मैंने सोचा यही सही मौका है कि कुछ ऐसा काम करूं कि भाभी को बुरा भी न लगे … और बात भी बन जाए.

मैं रसोई में गया और जानबूझ कर फिसल गया. भाभी मुझे फिसलते देखकर आगे बढ़ीं और मुझे सहारा देकर उठाने लगीं. मैंने उनके आगे से उनके कंधे को पकड़ा और तुरंत ही एक हाथ से उनकी चूची को टच करके दबा दिया.

मेरी हरकत पर भाभी कुछ न बोलीं, बस उन्होंने पूछा- चोट तो नहीं लगी?
मैंने ‘नहीं …’ में उत्तर दिया और वहां से बाहर आ गया.

आज उनकी चूची का स्पर्श पाकर मुझे बड़ा ही सुखद अहसास हुआ था. इससे मेरी थोड़ी हिम्मत भी बढ़ गयी थी.

Bhabhi xxx story

दो दिनों के बाद भाभी जब सो रही थीं, तभी इनवर्टर की बैटरी डिस्चार्ज हो गई. गर्मी का महीना होने के कारण गर्मी भी बहुत अधिक थी. वो गर्मी के कारण ऊपर छत पर सोने आ गयी और मेरे बगल में चटाई बिछाकर सो गईं.

मैंने सोचा कि इससे अच्छा मौका मुझे नहीं मिलेगा. मेरे बगल में ही मेरी बहन और मम्मी भी सो रही थीं.

कुछ समय के बाद मैंने देखा कि जब सभी लोग सो गए. मैं अपनी चटाई को खिसका कर भाभी के पास ले गया. मैंने अपना हाथ बढ़ाकर भाभी के पेट रख दिया. जब उनकी तरफ से कोई विरोध नहीं हुआ. तो कुछ मिनट बाद मैंने भाभी की चूची पर हाथ रख कर धीरे धीरे दबाना शुरू कर दिया.
उनकी चूचियां इतनी नर्म थीं कि क्या बताऊं.

कुछ मिनट तक भाभी के मम्मे दबाने के बाद मैंने उनके होंठ को चूमा. लेकिन तभी वो जाग गईं, मैं डर गया और एकदम से सोने का नाटक करने लगा.

भाभी ने मुझे देखा और कुछ न कहते हुए वे उठकर पेशाब करने के लिए बगल में चली गईं. ये मैंने आंख खोल कर देखा.

जैसे ही भाभी ने मूतने के लिए अपनी साड़ी उठायी, तो उनकी गोरी गोरी गांड को देखकर मुँह से आह निकल गई.

भाभी फिर से आकर सो गईं. लेकिन मेरा हाल खराब हो गया था.

जब मैंने मोबाईल में टाइम देखा, तो एक बज रहे थे. मैंने सोचा कि अब कुछ भी हो जाए … आज कुछ करना ही है.

कुछ ही मिनट बाद मैंने अपना हाथ भाभी के पेट रखा, लेकिन मुझे लगा कि भाभी जाग रही थीं.

Bhabhi xxx story

थोड़ी हिम्मत करके मैं अपना हाथ भाभी की जांघ पर ले गया और उनकी साड़ी को ऊपर की ओर खींचने लगा.

तभी भाभी बैठ गईं और मैंने अपना हाथ उसी जगह पर रखा छोड़ दिया. मैं अन्दर ही अन्दर डरने लगा कि भाभी अब पता नहीं क्या करेंगी.

लेकिन भाभी ने कुछ नहीं कहा और लेट गयीं. मेरा डर अब ख़त्म हो गया. भाभी के लेटते ही मैंने तुरंत ही अपना हाथ चूची पर ले गया और जोर जोर से दबाने लगा.

Bhabhi xxx story.

भाभी की सीत्कार निकलने लगी थी. मैंने भाभी के कान में कहा कि मुझे आपकी चूची पीनी है … और मैं जानता हूं कि आप जाग रही हैं.

उनकी तरफ से कुछ भी जबाव नहीं आया, तो मैंने ये उनकी स्वीकृति मान ली.

फिर मैं बेख़ौफ़ होकर भाभी के ब्लाउज को खोलने लगा.
भाभी धीरे से बोलीं- इस समय नहीं … कल पी लेना.
मैंने कहा- ठीक है.

मैं भाभी से लिपट गया और उनके प्यारे होंठों को चूसने लगा. भाभी भी मेरे साथ चूमाचाटी का मजा लेने लगी थीं. कोई दस मिनट तक भाभी के होंठ चूसने के बाद मैंने तुरन्त ही एक हाथ भाभी की पेंटी में डाल दिया. मैं उनकी चुत में उंगली डालने लगा.

भाभी धीरे धीरे आह आह करने लगीं और बोलीं- अपना वो निकालो.
मैंने कहा- आप ही निकाल दो.

Bhabhi xxx story

तभी भाभी मेरे लोवर में हाथ डालकर मेरी अंडरवियर में से ही मेरे लंड को सहलाने लगीं. भाभी के हाथ से लंड सहलाए जाने से मेरा लगभग 6 इंच का लंड सर उठाने लगा.

मैंने भी भाभी की पेंटी नीचे करके उतार दी और उनके ऊपर चढ़ गया. भाभी चुदास से भर गई थीं. उन्होंने भी साड़ी ऊपर कर दी और चुत चुदवाने के लिए खोल दी.

मैंने तुरन्त ही उनकी बुर में अपना लंड लगा दिया. भाभी ने लंड को हाथ से पकड़ कर चुत के छेद में फिट कर दिया. मैं लंड पेलने लगा.

Bhabhi xxx story.

भाभी कई महीनों से चुदी नहीं थी, उन्हें मेरे मोटे लंड से दर्द भी हो रहा था … मगर वो चीख को दबाए हुए लंड झेल रही थीं. मैं भी बार बार बगल में देख रहा था कि कहीं माँ न जग जाएं. Bhabhi xxx story

अत्यधिक उत्तेजना के कारण भाभी को दस मिनट चोदने के बाद मैंने उनकी बुर में ही अपना पानी गिरा दिया.

भाभी चुदने के बाद उठीं और पेंटी उठाकर नीचे चली गईं. मैं भी उनके पीछे पीछे चल दिया.

अब तक लाइट भी आ गयी थी. मैं भाभी के रूम में आ गया और भाभी से चिपक गया. भाभी मुझसे नजरें नहीं मिला पा रही थीं.

मैंने भाभी से कहा- भाभी मुझे आपकी गांड मारना है.
मेरे मुँह से ऐसे शब्द सुनकर वो शर्मा गयी.

मैंने भाभी को पूरी नंगी कर दिया.

भाभी ने कहा- गांड मारने से पहले मेरी चूत को चूसना होगा.
मैंने कहा- ठीक है.

भाभी ने अपनी चुत खोल कर उठा दी. मैंने भाभी की चूत को चूस चूस कर उनको बेहाल कर दिया.

Bhabhi xxx story - hindi saxy story - sax kahaniya Bhabhi xxx story.
Bhabhi xxx story

उसके बाद मैंने भाभी की दोनों चुचियों को बारी बारी से खूब चूसा और इतना दबाया कि उनकी गोरी चूचियां लाल हो गईं. मैंने उनके निप्पलों को खूब पिया.

Bhabhi xxx story

इसके बाद मैंने अपना लंड भाभी के मुँह में डाल दिया. भाभी ने मेरे लंड को चूस कर गीला कर दिया. जब मैं झड़ने वाला था, तो मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया.

फिर मैंने भाभी की चूत को खूब चोदा.

चुदाई का खेल खत्म होने के बाद मैंने भाभी से कहा- भाभी, मैं जब चाहूंगा, तब आपको चोद लूँगा और आपकी चूचियों को भी खूब मसलूंगा.
तब भाभी ने हंस कर कहा- ठीक है.

अब सुबह होने वाली थी, तो मैं तुरन्त अपने रूम में आ गया.

सुबह जब नींद खुली थी, तो 8 बज रहा था. भाभी जब मेरे रूम में आईं, तो मैं तुरन्त उनकी चूची को ब्लाउज के ऊपर से दबाने लगा.
भाभी ने कहा- बस करो … कोई देख लेगा.

उसके बाद फ़्रेश होने के बाद भाभी के पास रसोई में गया और पीछे से उनकी गांड को सहलाने लगा.

मैंने भाभी से पूछा- आपको कबसे पता चला कि मुझे आपको चोदने की इच्छा है.

भाभी ने कहा- जब तुमने जानबूझकर फिसलने का नाटक करके मेरी चूची को दबाया था, मैं तभी समझ गई थी कि मेरे प्यारे देवर को मेरी चूत चोदने का मन है.
मैं हंस दिया.

मैंने भाभी से कहा- आज आपकी गांड मारूँगा.
भाभी ने हंस कर हामी भर दी.

Bhabhi xxx story

उस दिन के बाद से मैं गाहे बगाहे मौक़ा मिलते ही भाभी को चोदने लगा. लेकिन मुझे उनकी गांड मारने का मौक़ा नहीं मिल रहा था.

फिर एक दिन मेरी दीदी अत्यधिक गर्मी होने के कारण शाम को बाथरूम से नहा कर आईं, तो मैं उन्हें देख कर हैरान रह गया. उनका शरीर एकदम मदमस्त लग रहा था. उनके गीले बाल उनकी खूबसूरती में चार चांद लगा रहे थे.

पहली बार मैंने अपनी बहन को गंदी नजर से देखना शुरू किया.

मैं अपनी सेक्स कहानी को आगे लिखूँ, उससे पहले मैं आप सभी को थोड़ा अपनी बहन के बारे बता दूँ. मेरी बहन का नाम प्रीति है, वो बीएससी थर्ड ईयर में पढ़ती है. वो भी एकदम गोरी है.

उस रात भाभी जब रसोई में खाना बना रही थीं, तो मैं रसोई में गया और पीछे पकड़कर अपना लंड उनकी गांड में दबाने लगा.

मैंने भाभी से कहा- एक बार अपनी गांड दिखाओ न भाभी.
भाभी मना करने लगीं- नहीं, ऐसे खुले में कोई देख लेगा.
मैंने कहा- मम्मी और दीदी अपने रूम में हैं … और पापा बाहर गए हैं. यहां पर कोई नहीं आएगा.
भाभी ने कहा- ठीक है … लेकिन बस देखना … कुछ करना नहीं.
मैंने कहा- ठीक है.

भाभी ने अपनी साड़ी उठाकर अपनी मक्खन गांड दिखा दी. उनकी दूध जैसी सफेद गांड को देखकर ही मेरा लंड खड़ा हो गया. मैं तुरंत भाभी की गांड से लंड सटा कर उनकी गांड में अपना लंड डालने लगा.

भाभी ने कहा कि यहां पर नहीं … जो कुछ करना, वो रूम में करना.
पर मैं कहां मानने वाला था.

मैंने तुरंत उनकी गांड पर दो तीन थप्पड़ मारे और गुस्से में आप से तुम पर आते हुए कहा- आज से तुम मेरी रखैल हो … मैं जब चाहूँ, तुम्हें चोद सकता हूँ … तुम्हें मना नहीं करना है. यदि तुमने मना किया, तो तुम समझ लेना कि मेरे लंड की सेवा तुम्हारी चुत के लिए बंद हो गई.

Bhabhi xxx story

मुझे मालूम था कि भाभी को मेरे लंड की आदत हो गई है. भैया की गैरमौजूदगी में भाभी को मेरे लंड का ही सहारा था.
मेरे मुँह से ऐसी बात सुनकर वो चुप हो गईं और मैं वहां से चला गया.

मैं सीधे बाथरूम में गया और मैंने भाभी की गांड के नाम की मुठ मारकर अपने आपको शांत किया. फिर अपने रूम में जा कर बिस्तर पर लेट गया.

मैंने सोचने लगा कि मैंने गुस्से में जो बात भाभी से कह दी थी, वो गलत कह दी थी. मुझे ऐसा नहीं कहना चाहिए था. मैंने सोचा कि भाभी को अपनी रंडी बनाना ही पड़ेगा … नहीं तो वो मुझे जो चाहिए, वो मुझे नहीं मिल पाएगा.

मैं अभी यही सब सोच रहा था कि मेरी दीदी मेरे रूम में आईं और बोलीं- अंकित तुम मुझे अपना इयरफोन देना.
मैंने अपना इयरफोन दीदी को दे दिया.

दीदी ने उस समय टी-शर्ट पहनी थी, जो बहुत पतली थी. मैं उनकी चुचियों को ही घूर रहा था. दीदी इयरफोन लेकर चली गईं.

मैं सोचने लगा कि काश मेरी बहन भी मुझसे पट जाए, तो मेरे पास अपने घर में ही दो रंडियां हो जाएंगी. मैं जब चाहूं तब किसी को भी चोद लूंगा.

मैं यही सब सोचकर अपना लंड सहला रहा था, तभी भाभी मेरे रूम में आईं और मुझे लंड को सहलाते देखकर हंसते हुए बोलीं- थोड़ा अपने बाबू का लंड तो देखूँ.
यह सुनकर मैं मन ही मन खुश हुआ कि भाभी गुस्से में नहीं है.

Bhabhi xxx story

भाभी ने मेरे लंड को हाथ में लिया और उसे सहलाते हुए बोलीं- मैं तुम्हारी रखैल हूँ … इस रखैल को तुम चाहे जैसे चोदो, मैं मना नहीं करूँगी.
मैंने कहा- भाभी से मैं तुम्हें नाम से बुलाऊंगा.
भाभी ने कहा- हां ठीक है.

मैंने कहा- तो प्रिया डार्लिंग … ये बताओ कि तुम शादी से पहले चुदी थी कि नहीं?
भाभी ने कहा- हां मेरा एक बॉयफ्रेंड था जो मुझे चोदना चाहता था, लेकिन चोद नहीं पाया. पर वो मेरी जवानी से बहुत खेला है. मेरी चुचियां उसे बहुत पसंद था. मैंने उससे कहा कि चोदने अलावा जो कुछ करना है … कर लो … लेकिन चोदना नहीं है.

मैं आपको अगली कहानी में बताऊंगा कि मैंने भाभी की गांड कैसे बजाई और उनकी मदद से अपनी सगी बहन को कैसे चोदा.

आपको मेरी देवर भाभी सेक्स स्टोरी पर जो भी कमेंट्स करना है, आपको खुली छूट है. मुझे आपके मेल का इन्तजार रहेगा.
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

Bhabhi xxx story.

Read in English

Chat par bhabhi ki chudai – Bhabhi xxx story

Bhabhi xxx story: After reading the Dewar Bhabhi sex story, I also felt that I can fuck my sister-in-law because brothers live outside, so there was no cocks to satisfy her sister’s sex.

My name is Ankit. I am from UP There are 6 people in my family. My father works in the bank. I am the youngest Two brothers older than me have two sisters then Bhabhi xxx story.

My elder brother is married. He is in the army. My sister’s name is Priya. My sister-in-law is very beautiful. She is a bit quiet. Bhabhi sex story, because of reading aunty sex story, I also thought that now I should also give a fuck to someone in the family.

Now my view of the family had changed. I started getting goods from sister-in-law and mother-in-law and Bhabhi xxx story.

This is a matter of last year. My friend’s name is Chandan. Chandan had once jokingly said that brother-in-law should get his sister-in-law… then he can fuck her whenever he wants to be Bhabhi xxx story.

I also thought in my mind that due to the elder brother’s job being out, Priya Bhabhi could not get much of her brother. It is probably sister in law. As soon as I thought of all this, I also got ready to fuck my sister-in-law.

Now let me tell you a little about my beloved sister-in-law. My sister-in-law is very beautiful. His Tits are very wonderful. The ripe mangoes are stretched on Bhabhi xxx story.

Once upon a time. Sister-in-law was sitting on the chair in the verandah…Bhabhi xxx story. then her phone rang. As soon as she got up to pick up the phone, her sari’s pallu fell down and I saw a small part of her nipple for the first time. My cock was completely erect. My beloved started to feel like drinking and pressing her sister’s pussy.

Bhabhi xxx story
Sister-in-law also saw me looking like that and went to the room with the phone next to her. Being the youngest at home, sister-in-law loved me very much. Although today, when they caught me watching their Tischi, perhaps they started thinking about my feeling of being young.

Now I was only seeing how to pay her sister-in-law. I used to think about bhabhi to fuck. But I did not have the courage to do anything further for Bhabhi xxx story.

The best part of my sister-in-law was her nipple and her slim waist. I tried many times to suppress his nipple, but neither got the chance nor the courage and I could not suppress the law in the Bhabhi xxx story.

Then about 3 months later there was a small program at home. Some people came from kinship and their maiden people too.

That day sister-in-law was cooking alone in the kitchen. I thought this is the right time to do such a thing that the sister-in-law should not even feel bad… and the matter should also be made about Bhabhi xxx story.

I went to the kitchen and slipped deliberately. Sister-in-law saw me slipping forward and started supporting me. I grabbed his shoulder from him and immediately touched his nipple with one hand and pressed it then Bhabhi xxx story.

Sister-in-law did not say anything on my action, just asked – did not it hurt?
I answered ‘No…’ and came out of there.

Today, I had a very pleasant feeling after touching his nipple. This gave me some courage.

Bhabhi xxx story
After two days when the sister-in-law was sleeping, the battery of the inverter was discharged. Due to the summer months, the heat was also very high. Due to the heat, she came to sleep on the roof above and slept by laying a mat next to me.

I thought that I would not get a good chance from it. My sister and mother were also sleeping next to me.

After some time I saw that when everybody slept. I moved my mat and took it to sister-in-law. I put my hand and put the sister-in-law’s belly. When there was no protest from their side. So after a few minutes I started pressing slowly by placing my hand on the sister’s nipple.
His Tits were so soft what to tell me about Bhabhi xxx story.

After pressing the mother-in-law for a few minutes, I kissed her lips. But then she woke up, I got scared and started pretending to sleep right away.

Sister-in-law saw me and saying nothing, she got up and went to the side to urinate. I saw this openly for Bhabhi xxx story.

As soon as the sister-in-law picked up her saree for mooting, her white blonde came out of her mouth on seeing the ass.

Sister-in-law came to sleep again. But I was upset.

When I saw the time in mobile, it was one o’clock. I thought that whatever happens now… something has to be done today but Bhabhi xxx story.

After a few minutes I put my hand on her belly, but I felt that her sister was awake.

Bhabhi xxx story
Daring a little, I took my hand on her thigh and started pulling her sari upwards.

Sister-in-law then sat down and left my hand in the same place. I started to get scared inside that I do not know what to do.

But the sister-in-law did not say anything and lay down. My fear is over now. As soon as the sister-in-law was lying down, I immediately moved my hand on the nipple and started pressing harder on Bhabhi xxx story.

The sister-in-law was starting to suffer. I said in law’s ear that I want to drink your nipple… and I know you are awake.

If nothing came from his side, I accepted this as his acceptance.

Then I began to open my sister’s blouse without any fear.
Sister-in-law said softly – not at this time… drink tomorrow.
I said – okay about for Bhabhi xxx story.

I hugged her sister-in-law and started sucking her cute lips. Sister-in-law also started enjoying Chumachatti with me. After sucking her sister’s lips for ten minutes, I immediately put one hand in her sister’s panty. I started putting finger in his pussy.

Sister-in-law slowly started sighing and said- Get out your own.
I said – you only remove.

Bhabhi xxx story
Then sister-in-law put my hand in my underwear and started caressing my cock. With the hand of the sister-in-law, I started lifting my head of about 6 inches.

I also removed the sister-in-law’s panty and climbed on top of them. Sister-in-law was filled with chudas. She also put the sari up and opened it for a kiss and enjoy Bhabhi xxx story.

I immediately put my cock in his bur. Sister-in-law grabbed the cocks and fit them into the hole of the pussy. I started sucking cocks.

Sister-in-law had not been kissing for many months, she was also having pain from my thick cock… but she was facing cocks while screaming. I was also repeatedly looking at the side so that mother would not wake up. Bhabhi xxx story
After ten minutes fucking Bhabhi due to excessive excitement, I spilled my water in her bur.

Sister-in-law woke up and picked up the panties and went down. I also followed them.

By now the light had also come. I came to the sister-in-law’s room and clung to her. Sister-in-law could not get eyes from me.

I told sister-in-law I want to kill your ass.
Hearing such words from my mouth, she blushed.

I bare her sister-in-law.

Sister-in-law said – before hitting ass my pussy will suck.
I said – okay.

Bhabhi xxx story
Sister-in-law opened her pussy. I sucked her sister’s pussy and made them suffer.

After that, I sucked both of her sisters’ nipples in turn and pressed them so much that their white nipples became red. I drank his nipples a lot.

Bhabhi xxx story
After this, I put my cock in her mouth. Sister-in-law sucked my cock and made it wet. When I was about to fall, I took out my cock.

Then I fuck my sister’s pussy a lot.

After the game of fuck, I told my sister-in-law, when I want, then I will fuck you and I will rub your tits too but Bhabhi xxx story.
Then sister-in-law laughed and said- Okay.

Now it was going to be morning, so I immediately came to my room.

It was 8 o’clock in the morning when sleep was open. When my sister-in-law came to my room, I immediately started pressing her nipple over the blouse.
Sister-in-law said – just do it… someone will see the Bhabhi xxx story.

After being fresh, Bhabhi went to the kitchen and started caressing her ass from behind.

I asked her sister-when did you know that I wanted to fuck you.

Sister-in-law said – when you deliberately pretended to slip and pressed my nipple, I only understood that my dear brother-in-law wanted to fuck me about Bhabhi xxx story.
I laughed.

I told sister-in-law, I will kill your ass today.
The sister-in-law laughed and agreed.

Bhabhi xxx story
From that day onwards, I started to fuck my sister as soon as I got a chance. But I was not getting a chance to kill his ass.

Then one day my sister took bath in the evening due to extreme heat, so I was surprised to see them. His body looked absolutely intoxicated. His wet hair was adding beauty to his beauty on the Bhabhi xxx story.

For the first time I started looking at my sister with dirty eyes.

Before I write my sex story further, let me tell you a little about my sister. My sister’s name is Preeti, she studies in BSc third year. She is also completely white the Bhabhi xxx story.

That night while sister-in-law was cooking in the kitchen, I went to the kitchen and held back and started pressing my cock in her ass.

I told sister-in-law, do not show your ass once.
Sister-in-law started to refuse – no, someone will see it in the open.
I said – Mom and sister are in their room… and dad has gone out. No one will come here.
Sister-in-law said – okay… but just watch… do nothing.
I said – okay.

Sister-in-law picked up her saree and showed her butter ass. Seeing his white ass like milk, my cock was erected. I immediately began to insert the cocks in her ass by licking the cocks with her ass.

Sister-in-law said that not here… whatever to do, do it in the room.
But where was I going to believe it? Bhabhi xxx story.

I immediately slapped his ass two or three and angrily coming at you and said – From today you are my mistress… I can fuck you whenever I want… You do not have to refuse. If you refuse, then you should understand that the service of my cock has stopped for your pussy.

Bhabhi xxx story
I knew that sister-in-law has got used to my cock. In the absence of brother, sister-in-law had the support of my cock.
On hearing such a thing from my mouth, she became silent and I left from there.

I went straight to the bathroom and I pacified myself by hitting the mouth of the sister-in-law’s ass. Then went to his room and lay down on the bed.

I started thinking that what I had said to my sister in anger, she had said it wrong. I should not have said that. I thought that the sister-in-law would have to make her prostitute… otherwise I would not be able to get what she wanted.

I was just thinking that my sister came to my room and said – Ankit, give me your earphones.
I gave my earphones to Didi.

Didi then wore a T-shirt, which was very thin. I was staring at his aunts only. Didi went with earphones.

I started thinking that if my sister also gets married to me, then I will have two prostitutes in my house. I will fuck anyone when I want.

Thinking of all this, I was stroking my cock, then sister-in-law came to my room and seeing me stroking the cocks, laughed and said – I should see my babu’s cocks.
I was happy to hear that sister-in-law is not angry.

Bhabhi xxx story
Sister-in-law took my cock in her hand and said while stroking her – I am your mistress… Whether you like this mistress, I will not refuse.
I said – I will call you by name in law.
Sister-in-law said yes it is fine.

I said- So Priya Darling… tell me that you were married before marriage or not?
Sister-in-law said – yes I had a boyfriend who wanted to fuck me, but could not get the fuck. But he has played a lot since my youth. She loved my pussy. I told him that whatever you want to do other than Chodane… do it… but it is not Chodna.

I will tell you in the next story how I played the ass of sister-in-law and with my help how to fuck my real sister.

Whatever comments you have to make on my brother-in-law sex story, you have an open hand. I will wait for your mail.
[email protected]

Read more hot sex story

group chudai stories भाभी की गांड मराई तीन लौड़ों से bhabhi xxx story

देवर भाभी की प्यार भरी चुदाई | real sex story -xxx bhabhi kahani

पंजाबी भाभी की चुदाई | hot punjabi bhabhi – bhabhi ki sex story

1 thought on “Bhabhi xxx story छत पर देवर ने भाभी को चोदा 1 Best Sex Story”

Leave a Comment