mom san xxx story सोती हुई माँ की गांड मारी 100% Real Sex

सोती हुई माँ की गांड मारी mom san xxx story

mom san xxx story: मेरी माँ बेटे की चुदाई की कहानी में पढ़ें कि वासना के वशीभूत हो मैं अपनी माँ के जिस्म को चाहने लगा था. सेक्स के इस गंदे खेल में माँ का साथ भी मुझे मिला.

दोस्तो, मेरा नाम अनुज है और ये मेरी रियल माँ बेटे की चुदाई की कहानी है.

मैं यूपी के एक गांव में रहता हूं और अभी एक कॉलेज स्टूडेंट हूँ. ये सच्ची कहानी आज से दो साल पहले की है जब में 19 साल का था. उस समय मुझे Masthindistory की गंदी कहानी पढ़ने का नया नया शौक लगा था. मैं ज्यादातर माँ बेटे की सेक्स कहानियां पढ़ा करता था और मुठ मार कर रात को सो जाया करता था.

मैं अपनी माँ के साथ ही सोता था, एक दिन एक माँ बेटे की चुदाई की कहानी पढ़कर मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गया. मैं रात को मुठ मार कर सोने लगा, लेकिन 5 मिनट बाद मेरा लंड फिर से तन कर रॉड जैसा हो गया. मैं बिस्तर पर ही लंड को हिलाने लगा.

मेरी माँ बाजू में सो रही थीं. उनकी गांड मेरी तरफ थी. कुछ ही देर मेरी उत्तेजना इतनी अधिक बढ़ गई कि मुझसे रहा नहीं गया. मैंने अपनी माँ के चूतड़ों से लंड सटा लिया. उनकी गांड बहुत ही ज्यादा गर्म थी. उनकी गांड की गर्मी मेरे लंड को मिल रही थी. धीरे धीरे मैं पागल सा हुआ जा रहा था. रूम में सिर्फ मैं और माँ ही थे, तो मैंने अपना लंड अपने लोअर से निकाल लिया और माँ की साड़ी को ऊपर करने लगा. मुझे डर भी लग रहा था कि कहीं माँ जग ना जाएं.

कुछ ही देर में मैंने माँ की साड़ी कमर तक कर दी और उनका पेटीकोट धीरे धीरे ऊपर करने लगा. इस वक्त मेरी सांसें बहुत ही तेज़ चल रही थीं और डर भी लग रहा था. मैंने उनका पेटीकोट घुटनों तक ही किया था कि माँ थोड़ा सा हिलीं और करवट बदल कर सो गईं. इससे उनकी साड़ी, पेटीकोट और भी ऊपर हो गए.

mom san xxx story

जैसे ही मैंने उनकी चूत के दर्शन किए, मैं तो पागल ही हो गया. मैंने धीरे धीरे हिम्मत करके अपना हाथ उनकी चूत पर रख दिया और उनकी तरफ देखने लगा. लेकिन मेरी माँ तो गहरी नींद में सो रही थीं.

मैंने धीरे धीरे अपना हाथ उनकी चूत की तरफ बढ़ाया और चुत पर उगी लंबी लंबी झांटों पर फेरने लगा. उनकी रेशमी झांटों पर मेरे हाथ को बड़ा ही सुखद लग रहा था. मैं धीरे धीरे चूत के चारों तरफ हाथ फेरने लगा.

इतना हो जाने पर भी जब माँ की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई, तो मेरी हिम्मत बढ़ गई.
अब मैंने उनकी चूत के छेद में उंगली लगा दी.

एक पल चुत की फांकों का जायजा लिया और धीरे से उंगली को चुत के अन्दर डालने लगा. जैसे ही मैंने माँ की चूत के छेद में उंगली डाली, मैं हैरान रह गया. उनकी चूत काफी ज्यादा टाइट थी. शायद वो सालों से चुदी नहीं थीं. मैंने उंगली काफी अन्दर तक कर दी थी. फिर मैं रुक कर माँ की साँसों को सुनता रहा.

जब एक मिनट तक मुझे किसी तरह का ऐसा अहसास नहीं हुआ कि माँ को दिक्कत हो रही है, मैंने उनकी चूत में उंगली करना चालू कर दी. मैं उंगली अन्दर बाहर करने लगा.

मेरी माँ की चूत बहुत ही ज्यादा गर्म थी. कुछ ही पलों में उनकी चुत ने रस छोड़ना शुरू कर दिया, जिससे मुझे ये समझ आ गया कि माँ को चुत में मेरी उंगली मजा दे रही है. मैं मस्त हुआ जा रहा था कि अचानक से वो हिलीं. मुझे लगा कि वो जाग गई हैं. मैं तुरंत उंगली निकाल कर सोने का नाटक करने लगा.

mom san xxx story

वो उठीं और उन्होंने मेरी तरफ देखा. मुझे नींद में देखकर वो फिर से सोने लगीं. सोने से पहले माँ ने अपनी साड़ी ठीक की और सोने लगीं.

मैं बहुत उत्तेजित था, लेकिन अब दुबारा से उनके मोटे मोटे चूतड़ों को छूने से मुझे डर लगने लगा था. कोई दस मिनट बाद मैं बाथरूम में गया. उधर मुठ मार कर वापस आ गया और सो गया.

इस घटना के दूसरे दिन से मैंने महसूस किया कि मेरी माँ मुझे कामुक निगाहों से देखने लगी थीं. उन्होंने मेरे सामने अपना अंग प्रदर्शन करना शुरू कर दिया था.
कभी कभी तो वे मेरे सामने सिर्फ पेटीकोट को अपने मम्मों तक करके बाथरूम से बाहर निकल आती थीं. उस वक्त उनका पेटीकोट एकदम गीला होकर उनके शरीर से चिपका हुआ रहता था, जिससे मुझे उनका पूरा नंगा शरीर दिख जाता था.

उस वक्त माँ मेरी तरफ देख कर हंस कर निकल जाती थीं.

एक दिन उन्होंने मुझे बाथरूम में ही अपनी पीठ मलने के लिए बुला लिया. उस वक्त माँ बिल्कुल नंगी बैठी थीं. उन्होंने अपने घुटनों से अपनी छाती और चुत को छिपा रखा था, लेकिन तब भी वो बड़ी कामुक लग रही थीं.

मैंने बिना कुछ बोले उनकी पीठ पर साबुन लगा कर मलते हुए शरीर को छूने का मजा लेना शुरू कर दिया.
माँ ने बिना कुछ कहे ही अपना बदन मुझसे खुल कर रगड़वाना चालू कर दिया था. मैंने भी मौक़ा देख कर उनकी चूचियों के किनारों तक अपने हाथों की पहुंच बनाना शुरू कर दी थी. माँ ने भी अपने शरीर को सीधा कर दिया था.

मैंने पीछे से हाथ को आगे लाते हुए उनकी चूचियों पर भी साबुन लगाया, तो माँ की हल्की सी आवाज निकलने लगी. उन्होंने मेरी टांगों से अपने जिस्म को टिका दिया था इस तरह से वे मुझसे टिक सी गई थीं. मैं खड़ा था, तो मुझे उनकी चूचियों का सिनेमा साफ़ दिखने लगा था. कुछ देर तक मैंने उनकी चूचियों को मला.

mom san xxx story

फिर जैसे ही मैंने अपना हाथ उनके निप्पल तक किए, माँ ने कहा- बस अब रहने दे.
मुझे समझ आ गया कि माँ मुझसे खुल नहीं पा रही हैं लेकिन वो मुझसे चुदवाने के मूड में हैं.
मैंने ये भी मान लिया कि ये शर्म और झिझक तो कुछ दिन में खत्म हो ही जाएगी, ज़रा इस तरह से भी सेक्स का मजा ले लिया जाए.

अब मैं हमेशा माँ के मम्मों और चूतड़ों को छूने की कोशिश करता रहता. माँ के लिए मेरी फ़ीलिंग चेंज हो गई थी. वो भी मुझसे रगड़ने का प्रयास करती रहती थीं.
वे आए दिन मुझसे अपनी पीठ की मालिश करवाने का कहने लगी थीं.

अब तो मैं बस उनकी चूत के छेद में उन्हीं की चूत से निकला लंड डालना चाहता था. इस घटना के बाद रोज़ दिन में बाथरूम में पीठ का मलना और रात को उनसे चिपक कर सोना, यही सब होने लगा था. मैं माँ की गांड से चिपक कर सो जाता. लेकिन पापा के साथ में सोने के कारण मुझे माँ के साथ कुछ करने से डर लगता था.

यूं ही धीरे धीरे कई दिन निकल गए, लेकिन मैं अपनी माँ को ना चोद सका. मैं अब तक उनके नाम की मुठ पता नहीं कितनी बार मार चुका था. मैं बस मौक़ा तलाशने में लगा था कि कब माँ की चूत फाड़ दूँ.

फिर हुआ ही ऐसा.

हमारे रिलेशन में शादी थी, सभी लोग उसमें गए थे. मेरे बोर्ड के एग्जाम होने के कारण मैं उस शादी में ना जा सका. मेरी माँ और पापा भी रुक गए.

मुझे तो सिर्फ मौके की तलाश थी. उसी दिन मेरी माँ की तबीयत थोड़ी ख़राब हो गई.

डॉक्टर के पास ले जाने पर डॉक्टर ने बोला- कोई घबराने की बात नहीं है, ये एक दो दिन में ठीक हो जाएंगी.
मैंने हां में सर हिलाया.
डॉक्टर ने दवा देकर कहा कि टाइम पर देते रहना.

मैं अब टाइम पर उनको दवा देता रहा. माँ पापा और हम सब पास पास ही बेड पर सोते थे.

mom san xxx story

दिन में पापा जॉब पर चले जाते और मैं और माँ ही अकेले रहते. दिन में माँ मुझसे कुछ नहीं कहती थीं, शायद दिन के उजाले में उनको अपनी बात कहना ठीक नहीं लग रही थी.

तीसरे दिन ऑफिस से पापा का फ़ोन आया कि वो 3 दिन के लिए दोस्तों के साथ टूर पर जाने वाले हैं.

माँ ने उनके जाने की तैयारी कर दी. मैंने माँ की मदद की और झट से पापा का बैग लगा दिया.

पापा के जाने के बाद मेरे सोये हुए अरमान फिर से जागने लगे थे कि तभी शाम को भाई का फ़ोन आया कि हम लोग घर वापस आने वाले हैं.

मैं उदास हो गया कि इतना अच्छा मौका हाथ से निकला जा रहा था. मैं अभी सोच ही रहा था कि क्या किया जाए. दस मिनट बाद फिर से भाई का फ़ोन आया कि इधर सब लोग जिद कर रहे हैं कि आज नहीं जाओ, तो अब हम सब परसों आएंगे.

ये सुनकर मैं ख़ुशी के मारे उछल पड़ा.

अब मैं माँ को चोदने का प्लान बनाने लगा. मुझे पता था कि माँ मुझे आसानी से चोद लेने देंगी.

जैसे तैसे रात हुई, मैंने देखा कि मेरी माँ आज बहुत खुश लग रही थीं. पापा के जाने के बाद शाम को माँ बाथरूम में चली गईं. मुझे लगा कि माँ की आवाज आएगी. लेकिन माँ ने मुझे नहीं बुलाया. वे कुछ देर बाद नहा कर निकलीं और अपने कमरे में तैयार होने घुस गईं.

एक घंटे बाद माँ जब बाहर निकलीं, तो मैं हैरान था. माँ ने एक बड़ी मस्त सी नाइटी पहनी हुई थी. उनकी मुस्कराहट मुझे सब कुछ साफ़ बता रही थी, लेकिन अब भी झिझक के चलते उन्होंने मुझसे कुछ नहीं कहा था.

रात के खाने के बाद हम दोनों बिस्तर पर आ गए.

mom san xxx story

अब मुझसे इंतज़ार नहीं हो रहा था. मैं यूं ही लेटा रहा, पर रात को 10 बजे मैं उठ गया.

मैंने माँ को हिला कर आवाज दी और बोला- माँ क्या आपको बाथरूम जाना है?
लेकिन वो नहीं उठीं.

मैंने उनको खूब हिलाया लेकिन वो गहरी नींद में सोने का नाटक कर रही थीं.

अब मैंने धीरे धीरे माँ की नाइटी को खोल दिया. उन्होंने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी. उनके दूध एकदम मुलायम मक्खन से चिकने थे. माँ के नंगे चूचे मेरे सामने फुदक रहे थे. उनके मम्मे मुझे चूसने के लिए बुला रहे थे. मैंने मम्मों को धीरे धीरे दबाया … आह क्या मुलायम दूध थे.

मैंने निप्पलों को अपने होंठों में दबाया और खूब चूसने लगा. मम्मों को चाटता रहा.

करीब 5 मिनट के बाद मैंने उनकी नाइटी को खोल दिया. जैसे ही मैंने उनका नंगा जिस्म देखा, तो मेरी आंखें फटी की फ़टी रह गईं.

मेरे सामने एक डबल रोटी जैसी फूली हुई चूत थी और कमाल की बात तो यह थी कि आज उस पर एक भी बाल नहीं था.

एकदम चिकनी चूत अपने सामने देख आकर मैं बौरा गया. मैं सीधे माँ की चूत की खुशबू सूंघने लगा. चूत के मदमस्त महक से मैं तो पूरा मदहोश हो गया था. मैं जिस चूत को चोदने के लिए तड़प रहा था, आज वो मेरे सामने खुली पड़ी थी

mom san xxx story

मैंने चूत को चाटना शुरू किया. मैं तो चुत के स्वाद से पागल ही हुआ जा रहा था. मुझे ऐसे लग रहा था कि जैसे ये कोई सपना हो.

मैं चुत के अन्दर जीभ डाल डाल कर रस को पीने लगा. मैंने माँ की चूत पर अपने होंठों की सील लगा दी थी. माँ की चुत एकदम पानी पानी हुयी पड़ी थी.

मुझसे रुका नहीं गया और मैंने अपना लंड निकाल कर लंड के सुपारे को चूत के छेद पर रखकर एक जोर का झटका दे दिया. मेरे लंड का सुपारा चूत में घुसता चला गया.

माँ की ग़ुलाबी चूत का छेद ऐसे खुल गया था, जैसे वो मेरे लंड का ही इंतज़ार कर रही थीं. मैंने एक और धक्का और इस बार मेरा पूरा लंड माँ की चूत में समा गया. माँ लंड घुसते ही थोड़ा हिलीं. मुझे लगा कि वो जाग गईं, लेकिन वो फिर आंखें मूंद कर सो गईं. मेरी माँ गहरी नींद में नाटक करते हुए मेरे लंड का मजा ले रही थीं.

mom san xxx story

अब मैंने उनकी चूत में अपने लंड की स्पीड बढ़ा दी. पूरे कमरे में फचा फच की आवाजें आ रही थीं. मैं माँ को चोदता रहा. कुछ देर बाद मैं झड़ने वाला था, तो मैंने अपना लंड निकाल लिया और बेड से नीचे उतर कर मुठ मार कर झड़ गया.

लेकिन कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से सख्त हो गया और अब मेरा मन माँ के बड़े बड़े चूतड़ों को देख कर उनकी गांड मारने का होने लगा.

मैंने उनको उल्टा करवट करके लिटा दिया. उनके चूतड़ बहुत ही बड़े बड़े थे.

मैंने चूतड़ों पर हाथ फेरा, क्या मुलायम चूतड़ों के पहाड़ थे.

mom san xxx story

मैं उनकी बड़ी से गांड देख कर दंग रह गया. गांड बहुत ही टाइट लग रही थी. मैंने अपने लंड को गांड के छेद पर रखा, तो मेरा लंड अन्दर ही नहीं जा रहा था.

मैंने थोड़ा थूक लगाया, लेकिन माँ की गांड मेरे लंड को एन्ट्री ही नहीं दे रही थी. मैं जल्दी से तेल लेकर आया और उनकी गांड और अपने लंड पर लगा लिया.

फिर मैंने एक झटका मारा, तो मेरे लंड की माँ चुद गई. लंड में काफी दर्द होने लगा था. लेकिन माँ की गांड को चोदने के आगे ये दर्द कुछ भी नहीं था.

mom san xxx story

एक धक्के में मेरा आधा लंड माँ की गांड में घुस गया था और मुझे बहुत ज्यादा दर्द होने लगा. तभी मैंने देखा माँ की गांड से खून निकल रहा था और तभी माँ भी जग गई थीं.

लेकिन मुझे उनके जागने से कोई डर नहीं लग रहा था. फिलहाल तो मुझे उनकी गांड ने अपना दीवाना बनाया हुआ था. मैं दो मिनट तक ऐसे ही रुका रहा. माँ को दर्द हो रहा था, इसलिए वे मुझे झटकने लगीं, लेकिन मैं नहीं उठा.

दो मिनट बाद मैंने लंड की स्पीड बढ़ा दी और गांड की तेज़ तेज़ चुदाई करने लगा.

अब माँ के मुँह से ‘आहह … आहह..’ की आवाज़ें आने लगीं. वो कहने लगीं- आह … और तेज़ कर बेटा … मजा आ रहा है.

वो क्या पल था, मैं आज भी नहीं भूल सकता. वो हर पल मुझे गाली देते हुए चुदवाने लगीं- आह चोद दे … मादरचोद … फाड़ दे माँ की गांड … बना दे अपने बच्चे की माँ … आह तेरा बाप तो मुझे चोदता ही नहीं है … तू ही मुझे चोद दे.

mom san xxx story

वो जोर जोर से आवाज़ें निकाल रही थीं. मैंने माँ के होंठों को अपने होंठों में कैद कर लिया.

दस मिनट तक गांड बजाने के बाद मेरी हालत खराब होने लगी थी.

तभी माँ बोलीं- आह मैं गईईई …
वो गांड मराने के साथ साथ अपनी चुत में भी उंगली करती जा रही थीं.

मैं भी झड़ने वाला था. मैंने अपने लंड की स्पीड तेज कर दी और गांड में ही झड़ गया.

मेरे लंड में बहुत जोर से दर्द होने लगा था. मैंने लंड को जैसे ही माँ की गांड से निकाला, मेरे वीर्य की धार गांड से बहने लगी.

मैंने देखा तो मेरे लंड की सील टूट गई थी. मैं समझ गया कि माँ की गांड से मेरे लंड का खून ही निकल रहा था.

माँ बोलीं- बेटा, ये बात किसी से न कहना कि तू मुझे चोदता है.
मैंने कहा- किसी से नहीं कहूँगा कि मैंने अपनी माँ को चोदा!

माँ को बहुत थकान लग रही थी, तो वो सो गईं.

फिर अगले दिन हमने 4-5 बार चुदाई की और हमेशा ही मौका मिलने पर चुदाई करने लगे थे. मैंने कई बार तो माँ को बाथरूम में भी चोदा.

मेरी 12 वीं के बाद आगे की पढ़ाई के लिए मुझे बाहर जाना पड़ा … और मैं यहां माँ को मिस करता हूँ. मैं जब भी घर गया तो अपनी माँ को चोदा हर बार!

आपको मेरी इस माँ बेटे की चुदाई की कहानी पर क्या कहना है, प्लीज़ मुझे मेल जरूर करें.
[email protected]

आपको मेरी यह सच्ची सेक्स घटना कैसी लगी मुझे Telegram पर ज़रूर बताये में आपके comment और message का इंतज़ार करूगा. इसके अलावा आप कहानी पर नीचे कमेंट करके भी अपनी राय दे सकते हैं.

mom san xxx story

Read in English

Maa ki gaand aur chut maari – mom san xxx story

mom san xxx story: Read in the story of my mother son’s sex, that I was beginning to love my mother’s body, to be influenced by lust. I also got the support of my mother in this dirty game of sex.

Friends, my name is Anuj and this is the story of my real mother son’s fuck.

I live in a village in UP and am a college student now. This true story is from two years ago when I was 19 years old. At that time, I had a new interest in reading the dirty story of Masthindistory. I used to read sex stories of mother and son mostly and used to sleep at night by hitting the mouth, mom san xxx story.

I used to sleep with my mother, one day I got very excited after reading the story of a mother son’s fuck. I started sleeping with a fist in the night, but after 5 minutes my cock became tan again like a rod. I started moving cocks on the bed itself, mom san xxx story.

My mother was sleeping next to me. His ass was on my side. In a short time my excitement increased so much that I could not keep up. I took cocks from my mother’s pussy. His ass was very hot. The heat of his ass was getting to my cock. Slowly I was going crazy. There was only me and mother in the room, so I took my cock out of my lower and started putting mother’s sari up. I was also afraid that mother might not wake up.

In a short while, I put my mother’s sari up to the waist and slowly started to put her petticoat up. At this time my breath was going very fast and I was also afraid. I had done his petticoat at the knees that my mother moved a little and went to sleep after turning. This made her sari, petticoat even higher.

mom san xxx story
As soon as I saw her pussy, I became mad. I slowly dared to put my hand on her pussy and started looking at them. But my mother was fast asleep.

I slowly extended my hand towards her pussy and started to move on the long jaunts growing on the pussy. My hand was very pleasant on his silky jaunts. I slowly started turning my hands around the pussy.

Despite this, when there was no response from my mother, my courage increased.
Now I put a finger in her pussy hole and mom san xxx story.

For a moment, I took stock of the chest and slowly put the finger inside the pussy. As soon as I put a finger in my mother’s pussy hole, I was shocked. His pussy was very tight. Perhaps she had not been fucking for years. I had put my finger deep inside. Then I stopped and listened to my mother’s breath and mom san xxx story.

When for one minute I did not feel any kind of feeling that mother was having problems, I started fingering her pussy. I started putting my finger in and out, v

My mother’s pussy was very hot. In a few moments, her pussy started leaving juice, which made me understand that my finger is enjoying my finger in my mother’s pussy. I was being excited that suddenly she moved. I thought she had woken up. I immediately began to pretend to sleep with my finger removed.

mom san xxx story
She woke up and looked at me. Seeing me asleep, she started sleeping again. Before sleeping, mother fixed her saree and started sleeping.

I was very excited, but now I was scared to touch his fat big pussy again. Some ten minutes later I went to the bathroom. On the other hand, Mutha came back after sleeping and fell asleep.

From the second day of this incident, I realized that my mother had started looking at me with erotic eyes. He started performing his part in front of me.
Sometimes she would come out of the bathroom in front of me just by putting the petticoat on her mother. At that time his petticoat was very wet and sticking to his body, which showed me his entire naked body, mom san xxx story.

At that time Mother used to look at me and laugh.

One day he called me to rub his back in the bathroom. Mother was sitting naked at that time. She hid her chest and pussy from her knees, but still she looked very sensual.

I started to enjoy touching his body while rubbing soap on his back without saying anything.
Mother had started rubbing her body openly without saying anything to me. Seeing the opportunity, I also started to reach my hands on the edges of her pussy. Mother had also straightened her body and mom san xxx story.

I also put soap on her cunts while bringing my hands forward from the back, then a slight voice of mother started coming out. They had kept their body with my legs, in this way they were stuck with me. When I was standing, I began to see the cinema of his Tischi. For some time, I rubbed her pussy.

mom san xxx story
Then as soon as I put my hands up to her nipple, mother said – just let it be.
I understood that mother is not able to open me but she is in a mood to fuck me.
I also assumed that this shame and hesitation will be over in a few days, just enjoy sex in this way.

Now I always kept trying to touch mother’s mums and herds. I felt changed for my mother. She too kept trying to rub me, mom san xxx story.
She had started asking me to massage her back the day she came.

Now I just wanted to put cocks in their pussy holes. After this incident, rubbing the back in the bathroom every day and sleeping with them in the night, all started happening. I used to sleep with my mother’s ass. But because of sleeping with my father, I was afraid to do anything with my mother.

Like this, several days passed slowly, but I could not fuck my mother. I do not know how many times his name was killed. I was just looking for an opportunity to tear my mother’s pussy.

This happened again.

There was a marriage in our relationship, everyone went to it. Due to my board exam, I could not attend that wedding. My mother and father also stayed, mom san xxx story.

I was just looking for opportunity. On the same day, my mother’s health deteriorated a bit.

When taken to the doctor, the doctor said – there is nothing to worry, they will be cured in a couple of days.
I nodded yes
The doctor gave the medicine and said that keep on giving on time.

I kept giving them medicine on time. Mother Dad and all of us used to sleep on beds nearby.

mom san xxx story
During the day Papa would go on job and I and my mother would live alone. Mother did not say anything to me during the day, perhaps in the daylight she did not feel right to say her words.

On the third day, Papa got a call from the office that he is going to go on a tour with friends for 3 days and mom san xxx story.

Mother made preparations for his departure. I helped my mother and quickly put my father’s bag.

After the father’s departure, my sleeping desires started awakening again that in the evening, my brother got a call that we are going to come back home.

I was sad that such a good opportunity was being missed. I was just wondering what to do. After ten minutes again, my brother got a call that here everyone is insisting that if he does not go today, then we will all come the day after tomorrow, mom san xxx story.

Hearing this, I jumped up in happiness.

Now I started planning to fuck my mother. I knew that my mother would let me take her easy.

As it happened at night, I saw that my mother looked very happy today. In the evening after father’s departure, mother went to the bathroom. I thought mother’s voice would come. But mother did not call me. After some time, she took a bath and entered her room to get ready.

I was shocked when my mother came out after an hour. Mother was wearing a very cool nighti. His smile was telling me everything clearly, but still because of hesitation he did not say anything to me.

After dinner we both came to bed.

mom san xxx story
Now I was not waiting. I kept lying down like this, but at 10 o’clock in the night I got up.

I shook my mother and said – Mother, do you want to go to the bathroom?
But she did not get up, mom san xxx story.

I shook them a lot but she was pretending to be fast asleep.

Now I slowly opened Mother’s Night. He did not wear a bra inside. Their milk was smooth with butter. Mother’s bare feet were whipping in front of me. His mother was calling me to suck. I pressed the mums slowly… ah what soft milk they were.

I pressed the nipples to my lips and started sucking a lot. Mummy kept on licking

After about 5 minutes I opened his nightie. As soon as I saw his naked body, my eyes got torn.

In front of me there was a puffed pussy like a double bun and the amazing thing was that today there was not a single hair on it and mom san xxx story.

I got mad after seeing a very smooth pussy in front of me. I started smelling the scent of mother’s pussy directly. I had become completely intoxicated due to the sweet smell of pussy. The pussy I was yearning to fuck, today she was lying in front of me.

mom san xxx story
I started licking pussy. I was going crazy with the taste of pussy. I felt as if it was a dream.

I put the tongue inside the pussy and started drinking the juice. I had sealed my lips on mother’s pussy. My mother’s pussy was full of water.

I was not stopped and I took out my cock and gave it a loud blow by placing the lump nut on the pussy hole. The lump of my cock went into the pussy.

Mother’s pussy hole was opened like this, she was waiting for my cock. I pushed one more time and this time my whole cock got covered in mother’s pussy. Mother cocks a little as soon as she enters. I thought she woke up, but she fell asleep again. My mother was enjoying my cock while pretending to be fast asleep, mom san xxx story.

Now I increased the speed of my cock in her pussy. There were voices of frown in the whole room. I kept fucking my mother. After some time, I was about to fall, so I took out my cocks and got down from the bed and fell on my face.

But after some time my cock became tough again and now my heart started looking at mother’s big big asses to kill her ass.

I turned them back on the opposite side. His butts were very big.

I turned my hands on the fawns, were there mountains of soft fists.

mom san xxx story
I was stunned to see his big ass. The ass looked very tight. I put my cock on the ass hole, so my cock was not going inside.

I spit a little, but mother’s ass was not giving entry to my cock. I quickly brought oil and put it on his ass and his cock.

Then I hit a blow, then the mother of my cock was Chud. There was a lot of pain in the cock. But this pain was nothing before fucking mother’s ass, mom san xxx story.

In one stroke, half of my cock was penetrated in the mother’s ass and I started feeling very much pained. Then I saw the mother’s blood coming out of her ass and then the mother also woke up and mom san xxx story.

But I was not afraid to wake him up. At the moment, his ass was made crazy by me. I stayed like this for two minutes. My mother was hurting, so she started jerking me, but I could not get up.

After two minutes, I increased the speed of the cocks and started fucking the ass very fast.

Now the voices of ‘Aaah… aahh ..’ started coming from the mother’s mouth. She started saying – Ah… and fast… son… is enjoying and mom san xxx story.

What was that moment, I still cannot forget. She started cuddling me every moment – ah chod de… madar chod… tear off the mother’s ass… make your mother’s child… ah your father, I don’t even have a fuck… you only give me a fuck.

mom san xxx story
She was making loud noises. I captured mother’s lips in my lips.

After playing the ass for ten minutes, my condition started getting worse.

Then mother said- Ah I went…
She was going to finger her ass as well as to ass.

I was also going to fall. I speeded up my cock and fell in the ass.

My cock was starting to ache very hard. As soon as I took the cocks out of my mother’s ass, the edge of my semen started flowing from the ass, mom san xxx story.

When I saw the seal of my cock was broken. I understood that the blood of my cock was coming out of the mother’s ass, mom san xxx story.

Mother said- Son, do not tell anyone that you fuck me.
I said – I will not tell anyone that I Choda my mother!

Mother was feeling very tired, so she fell asleep.

Then the next day, we had sex 4-5 times and always started getting sex when we got a chance. Many times I even fuck my mother in the bathroom.

After my 12th I had to go out for further studies… and I miss my mother here. Every time I go home, I fuck my mother and mom san xxx story.

Please tell me what you have to say about the story of my mother and son.
[email protected]

Read New Mom Sex Story-

दोस्त की मम्मी -Padosi Dost Ki Maa ki chudai – antarvasna maa

जंगल में माँ की गांड को चोदा | maa bete ki gandi kahani – mom son story hindi

मां की चुदाई की प्यास बेटे ने बुझाई | maa xxx story – maa beta hot story

अपनी माँ को चोदने का अहसास – mom ki chudai stories – hindi sex stories